Skip to main content

Full text of "The Padumawati of Malik Muammad Jais"

See other formats


oe oe to ~~ 
Sy x Oy ey 





» x: “३, छः 
i “ जज हर 
कि ~% = 
, ० के 

् 


oad 
44 








— 


Ar 


Anas, |), के 
































BIBLIOTHECA INDIGA: 


OLLECTION OF ORIENTAL WORKS | 
nevi) i BY 


THE ASIATIC SOCIETY OF BENGAL. 





New Serres No. 877. 

































































OF 


MALIK MUHAMMAD JAISI 


EDITED, WITH A COMMENTARY, TRANSLATION, AND CRITICAL NOTES, 


wr BY 
6. A. GRIERSON,.C.LE., Px.D., 


w } | 
AND | 


MAHAMAHOPADHYAYA SUDHAKARA DVIVEDI, F.A.U. 


CALCUTTA: 
PRINTED AT THD BAPTIST, MISSION PRESS, 
AND PUBLISHED BY THB ASIATIC SOCIETY, 57, PARK STREET. 
896. 


& 














| |! 


| 


LIST OF BOOKS FOR SALE 


AT THE LIBRARY OF THE 


| fssiatic Society oF PENGAL, 
\ / fk ऐ No. 57, PARK STREET, CALCUTTA, 
| AND OBTAINABLE FROM 
है 7 rd THE SOCIETY’S AGENTS, ७४४४७. LUZAC & CO. 
7 46, Great Russert Srreet, Lonpon, W.C., anp Mr. Orro 
p Harrassowi?z, Booxsetter, Lurezic, Gurany. 


I35 V3 a 


रा Complete copies of those works marked with an asterisk * cannot be supplied—some 





“५-० ७-- 





oe 


of the Fasciculi being out of stock. 
————————————— 


BIBLIOTHECA INDICA. 


Sanskrit Series. 





Advaita Brahma Siddhi, (Text) Fase. -4 @ /6/ each = Rs. 4 8 
Ger) *Aoni Purana, (Text) Fase. 2-4 @ /6/each ... A 42400 7 
\\ Aitareya Aranyaka of the Re Veda, (Text) Fase. I-5 @ /6/ each 5.3७ aa 

Aitaréya Brahmana, Vol. I, Fasc. -5 and Vol. II, Fase. -5 Vol. III, 

Fasc.  @ /6/ nee ee as a een: | 2 
Anu Bhasyam, (Text) Fasc. -2 @ /6/ each 0 22 
Aphorisms of Sandilya, (English) Fase. l es [५ 0 6 
Astasahasrika Prajfaparamita, (Text) Fase. -6 @ /6/ each 2 4 
Acyavaidyaka, (Text) Fase. l-6 @ |6/ each ©... 3, Ae 0 bY 
Avadana Kalpalata, (Sans. and Tibetan) Vol. I, Fase. i-5; Vol. II. Fasc. 

-4. @ / each re he ats ees ees) 
*Bhamati, (Text) Fasc. 2-8 @ /6/ each 2 0 
Brahma Sitra, (English) Fasc.]_— ... 0 32 
Brhaddéyata (Text) Fasc. l-4 @ /6/ each oH ee eT 8 
Brhaddharma Purana, (Text) Fase. -5 @ /6/ each ak Mes tania i 
Brhadaranyaka Upanisad (English) Fase. 2-3 @ /6/ each ... y Oo iW 
Caitanya-Chandrodaya Nataka, (Text) Fasc. 2-3 @ /6/ each (60753 tj 
*Cankara Vijaya, (Text) Fasc. 2 and 3 @ /6/ each i RO 49 
*Caturvarga Chintamani (Text) Vols. IT, i-25; III. Part I, Fase. -8, 

Part II, Fasc. l-l0 @ /6/ each Re de ee te etn 2: 
*Chandogya Upanisad, (English) Fase. 2 प का Le 6 
Granta Sitra of Apastamba, (Text) Fasc. ]-8 @ /6/ each... Rs. 4 34 
* Ditto Latyayana, (Text) Fasc. 2-9 @ /6/ each... Sunt a 0 

Ditto Cinkhayana, (Text) Vol. I, Fase. -7; Vol. II, Fase. 

# -4, Vol. III, Fasc. -3 @ /6/ each... ob 4 
Gri Bhishyam, (Text) Fasc. ]-ह oe each Ry २५८ ae | 2 
*Hindu Astronomy, (English) ५ 2-3 @ /6/ each adele aio ke 
Kala Madhava, (Text) Fasc. l™:@ /6/each ... Sell 8 
Katantra, (Text) Fase. l-6 @ /2/ each Nes . 4 8 
Katha Sarit Sagara, (English) Fasc. l-l4 @ /2/ each . 40 8 
Kurma Purana, (Text) Fase. -9 @ /6/ each eee} 6 
*Lalita-Vistara, (Text) Fasc, 3-6 @ /6/ each l 8 

Ditto (English) Fase. -3 @ /2/ each 2 4 
Madana Parijata, (Text) Fasc. I-l] @ /6/ each... 4 2 
Manutika Sangraha, (Text) Fase. l-3 @ /6/ each 2 
*Markandeya Purana, (Text) Fasc. 4-7 @ /6/ each ॥॥ s 
Markandéya Purana, (English) Fase. l-4 @ ॥2 each 3 0 
Mimamsa Dargana, (Text) Fasc. 8-9 @ /6/ each 6 6 
*Narada Smrti, (Text) Fasc. l-3 @ /6/ ५० ॥। 2 
Nyayavartika, (Text) Fase. l-3 @ /6/ bie ~ २४४१ OF 2 
*Nirukta, (Text); Vol. III, Fase. |-6; Vol. TV, Fasc. -8 @ /6/ each. 5 4 


INTRODUCTION. 


(Temporary). 


The following is an attempt to give a correct text and translation 
of the Padumawati,' or Padmavati of Malik Muhammad of Jayas in Oudh. 
He flourished under Sher Shah in the year 540 A.D., and numerous MSS. 
of his great poem are in existence. ‘ 

The value of the Padumawati consists chiefly in its age. Malik Muham- 
mad is, we believe, the oldest vernacular poet of Hindistan of whom we 
have any uncontested remains. Cand Bar’dai was much older, but the 
genuineness of his Prithiraj Ray’sais denied by many competent scholars. 
Vidyapati Thakur, who lived in the year 400 A.D., has only left us a few 
songs which have come down to us through five centuries of oral transmis- 
sion, and which now cannot be in the form in which they were sung. 
The preservation of the Padumawati is due mainly to the happy accident 
of Malik Muhammad’s religious reputation. Although profoundly affected 
by the teaching of Kabir, and familiarly acquainted with Hind& lore, and 
with the Hindi Yoga philosophy, he was from the first revered as a saint 
by his Muhammadan co-religionists. 

He wrote his poem in what was evidently the actual vernacular of his 
time, tinged slightly with an admixture of a few Persian words and idioms 
due to his Musalman predilections. It is also due to his religion that he 
originally wrote it in the Persian character, and hence discarded all the 
favourite devices of pandits, who tried to make their language correct by 
spelling (while they did not pronounce) vernacular words in the Sanskrit 
fashion, He had no temptation todo this. The Persian character did not 
lend itself to any. such false antiquarianism. He spelled each word rigorously 
as it was pronounced. His work is hence a valuable witness to the actual 
condition of the vernacular language of Northern India in the ]6th century. 
It is, so far as it goes, and with the exception of a few hints in Alberuni’s 
Indica, the only trustworthy witness which we have. It is trustworthy, 
however, only to a certain extent, for it often merely gives the consonantal 
frame work of the words, the vowels, as is usual in Persian MSS., being 
generally omitted. Fortunately, the vowels can generally be inserted 
correctly with the help of a few Dévanagari MSS. of the poem which are in 
our possession. 

Besides its interest asa key toa philological puzzle, the Padumawati 
also deserves notice for its contents. In itself-it is a fine poetical work, and 
one of the few original ones, not dealing with either Rama or Krishna, with 
which we are acquainted in any Indian language. It is also remarkable for 
the vein of tolerance which runs through it,—a tolerance in every way 
worthy of Kabir or of Tul’si Das. The story of the poem has been a favourite 


l The author himself invariably spells the word thus. 


2 INTRODUCTION. 


one with eastern authors. Husain Ghaznawi wrote a Persian poem on the 
subject, entitled Qissae Padmawat. Rai Gobind Munshi in 652 A.D. wrote 
a version in Persian prose, called (after the chronogram of its date) Tukfatu-l- 
Kulib. Again Mir Ziyau-d-din ‘Ibrat, and Ghulam ‘Ali ‘Ishrat wrote a joint 
version in Urdi verse in 796 A.D. Malik Muhammad’s poem was written 
in 540 A.D. 

Concerning the author little is known. He tells us himself that he was 
the disciple of Sayyad Muhiud-d-in. He studied. Sanskrit Prosody and 
Rhetoric from Hindt Pandits at Jayas. He belonged to the Oistiya Nizamiya, 
that is to say, he was the eleventh disciple in descent from the well-known 
Nizamu-d-din, who died in 325 A.D. Muhiu-d-din’s teacher was Shaikh 
Burhan, who resided at Kalpi in Bundél’khand, and who is said to have died 
at the age of a hundred years in A.D. l562-63. The poet was patronized 
by Shér Shah. 

The only other fact which we know for certain is that he was blind of 
one eye. I have collected the following traditions about him. One of Shér 
Shah’s allies was Jagat Dév, (enthroned 527 A.D.: died 573 A.D.), 
Maharaj of Ghazipur and Bhoj’pur. He was present at the battle of Bagh’sar 
(Buxar) in which Shér Shah defeated Humayin. Malik Muhammad is said 
to have attended his court. Two of Malik Muhammad’s four friends, whom 
he mentions in his poem (22) were also patronised by Jagat Dév. These 
were Yusuf Malik and Saloné Singh (whom Malik Muhammad calls Miy& 
as if he was a Musalman). It is said that another attendant at Jagat Dév’s 
court was a Katthak, named Gandharv Raj, who was skilled in the art of 
singing. Malik Muhammad was greatly attached to him and gave him his 
blessing, prophesying that skill in song would always remain in his family, 
and, at the same time, begging him to take, asa sign of affection, his title 
of Malik. Ever since, Gandharv Raj’s descendants have called themselves 
Malik, and members of the family still live in Taluka Raipura and at Haldi 
in Baliya District, and are renowned singers. 

It is said that the Raja of Améthi was childless, but was granted a son, 
in consequence of the prayers of Malik Muhammad. When the poet died, 
he was buried at Améthi, and his tomb is still shown, and worshipped 
by believers. Malik Muhammad’s two friends, Malik Yusuf and Saloné, died 
in what is now the district of Gorakh’pur, from a surfeit of mangoes. Malik 
Muhammad was with them at the time, and himself narrowly escaped. The 
mangoes are said to have been infested by poisonous insects. 

The text of the Padumawati, being in the théth Hindi language, and 
written in the Persian character, is very difficult both to read and to under- 
stand. It has been frequently transliterated into the Nagari character, but 
the transcriptions, whether MS. or printed, are full of mistakes, generally 
guesses to make the meaning clear. The best transliterated edition is that 
by Pandit Ram Jasan of Banaras; but even in his case (putting instances 
of sanskritization out of sight) hardly a line is correct. There are several 
printed editions in the Persian character, but they too are all incorrect. 
We have been fortunate enough to become possessed of several old MSS. 
of the poem in the Persian character, and by diligent comparison we have 
endeavoured to reproduce, in the Nagari character, the actual words written 
by the poet. A glance at the critical notes will show the labour involved in 
the task. 


INTRODUCTION. 3 


For the purposes of these specimens, we have used the following MSS. :— 

A. MSS. in Persian character (marked collectively as P). 

(0) India Office Library, Pers. Cat. 0l8. Dated l07 Hij. =695 
A.D. (Ia). 

(2) Ditto No. 975. Vowel marks freely used. Correctly 
written. Dated l09 Hij.=697 A.D. (Ib). 

(3) Ditto No. 8l9. Vowel points inserted in red ink by a 
later hand. Dated l]4 Hij.=702 A.D. (Ic). 

(4) India Office Library, Urdu Catalogue, No. 3l30. Few vowel 
points. In two different handwritings. No date, (Id). 

‘All these Persian MSS. are very fairly correct. We have taken Ib. as 
the basis throughout. 

B. MSS. in the Dévanigari character (marked collectively as N). 

(l) India Office Library, Sanskrit Catalogue, No. 247l. A magni- 
ficent copy, profusely illustrated. Written by Thana Kayath 
of Mirzipur. No date. Spelling highly Sanskritized (Is). 

We must here express our thanks to the authorities of the India Office 
Library, for the loan of the above MSS. 

(2) A well written copy kindly lent me by the late Kaviraj Syimal 
Das, belonging to the library of the Maharaj of Udaipur. 
Spelling not so Sanskritized. Dated Sambat 895=838 
A.D. (U). 

C. MSS. in the Kaithi character. 

(l) A clearly written copy. With very irregular spelling: and 
many important variations in the readings. Written in 
Sambat 8l2=755 A.D. (K). 

(2) A well written correct copy, but incomplete. The commence- 
ment, and several portions in the middle are missing. It also 
contains several interpolations. Written in Sambat 758 
(A.D. 70l), at Vaitala-gadha, by Jaya-krsna Dibé, the son 
of Hari-ram. The last doha is numbered 739. (४६०). 

(3) A fairly correct copy. Complete. Contains several interpola- 
tions. Commenced in Sambat 4879 (A.D. 822). Writer’s 
name not mentioned. (४5). 

These three books are full of various readings, and owing to the use of 
the Kaithi character, the spelling is very irregular. All the readings of K® 
and K®, have not been inserted, but only those which illuminate doubtful 
points in the text. 

As might be expected in a work sometimes written in the Persian, and 
sometimes in the Déya-nagari character, the spelling of the MSS. is very 
capricious. In editing the text, we have adopted a system of spelling, and 
of representing grammatical forms, which, we believe, represents as nearly 
as possible the practice of the best copies. In a critical edition, a uniform 
system of spelling is absolutely essential, and as no single manuscript follows 
any rules on the subject we have allowed ourselves some latitude. The 
principal points are as follows :— 

Spelling :—Prakrit words are spelt as in the Persian copies. When the 
Persian copies give vowels, those vowels are adopted. When no vowels 
are given, we have used our judgment in adopting the vowels given in the 
Dévanagari and Kaithi copies. 


4 INTRODUCTION. 


On the other hand, for precisely similar reasons, we have generally 
adopted the spelling of Arabic and Persian words which is best vouched for 
by the Dévanagari and Kaithi copies. Such words are phonetically spelt in 
that alphabet. 

U and K uniformly write स as %. We have not followed them in this. 

The termination १७ xh, is capable of being read as equivalent to either 
the plural oblique termination *%, or to the singular oblique termination 
fe or fe. Unless the context showed that नह is required, we have trans- 
literated it हि. Even in the best Persian MSS. the nasal is inserted so 
capriciously, that itis at least doubtful whether it should be used in, the 
singular, and we have accordingly followed the best Dévanagari MSS., in 
omitting it, in this case, throughout. पे 

In Tadbhava words, a Sanskrit or Prakrit medial # becomes @ (Cf. 
Héma-candra’s Prakrit Grammar, IV. 397). Thus the representative of 
the Sanskrit कमल्तम्‌ is aa (not कँवल), and of स्मरणस्‌, सर्वरन. This q, at 
the end of a word becomes G, thus aT¥ (not नाँड), a name. When @or 
anusvara, however, forms the first member of a compound, the preceding 
vowel is nasalized. Thus ta (for Prakrit 4), a mango, संवारइ, (for 
संवारयति), he arranges. 

In the preposition 44, the व becomes ¥. Thus, Byatte, for आवगाहि, 
having bathed. In other cases after 4, U, or B, medial व remains unchang- 
ed. Thus पवन, wind, भवन, a house, सेवरा, a savage. After any other vowel, 
medial व is dropped. Thus ywa (for yaa), earth, जिआअना (for जिवना), life. 
A final व always becomes ¥. Thus जोड़ (for जौव), life. Similarly for 4, 
e.g. नयन. 


Scheme of transliteration adopted in this work :— 


So, आठ, Fi, Ti, GuGHs, Be, Ve, Bo, Mra. ~ 7, thus Fa, ata, 
<7,£ %,andsoon. — m. 

The following vowels occur only in a few Sanskrit words, % 7, ऐ ai, 
atau. In Tadbhava words % and gt do not occur. ¥z is transliterated 
ai and 4Z aw. In Nagari MSS. when # and ¥t occur, they are plainly steno- 
graphic signs for WE and अडऊ, This is frequently shown by the metre. 
There is no danger of confusing |X, WY, and रे, Ht, for they appear in 
distinct classes of words, 4z, WY, are always in Tadbhava words, or in 
corrupted Tatsama words, रे and $t occur only in words lifted bodily from 
Sanskrit :-— 

ak, @kh, ग 9, a gh, S 7. 

ac, Bch, ज |, Wijh, AR. 

Ztethsed, ढ 4४, an. 

at, थ th,ed, wdh, an. 

"Tp, फ ph, 4 0, भ bh, Hm. 

ay, २०, Bl. व १0, (or in Sanskrit words v). 
Us, 35, Gh, 

श्‌ only occurs in Persian words, representing the Persian (#, or in pure 
Sanskrit words. In the former case it is transliterated sh, and in the 
latter by ¢. 

Arabic and Persian letters. 


०३, ८% ८ 60, ५३७ 32 2 0 ७७० 8, ४१, $(, ४8, १ ५ ६४७७. shy. 


crt 


INTRODUCTION, 


Grammar, 


ScpsTANTIVES :=eThe oblique cases are all formed by adding f¥ or = for the 
singular, and f¥ or = for the plural, before which, a final long vowel is short- 
ened, Thus from राजा, a king, wé have राजहि or was, for the Instrumental 
(or Agent), Dative, Ablative, Genitive and Locative Singular. In the Plural, 
नह is sometimes substituted for f¥, thus ara-e (38, 2), in (their) ears. The 
Nominative Plural is usually the same as the Nominative Singular. Post- 
positions are not often used. We find, however, az for the Accusative and 
Dative, #8 for Instrumental and Ablative, @¥, TSI, Ye, and y= for the 
Locative, and others. The following postpositions are found for the Genitive 
aor के (fem. az), कर (fem. aft), HX (fem. Aft). At the end of a line we 
often have केरा (fem. केरो). 

Pronouns :—Ist Person; मई, or इज, obl. मोहि or मो, genitive a. Plural 

wa, ce. 

2nd Person: तुँ or qx, obl. तोहि or तो, genitive तौर or तोचह्र. Plur. qe, ६०. 

Demonstrative: 4 or Jes, case of Agent, Fz or YEE, obl. Wis or 
set: Plur., Nom. a¥ or 4%, Agent, 4%, Obl. ua. 

Relative: sit, Agent siz, Obl. Safe or जा, Genitive sg, &e. Plur. जे, 
siz, Agent a=, Obl. (including gen.) fare. जा is never used 
as an adjective. 

So also the Correlative सो or तेदू, 

Interrogative: को, who? का what? 


Indefinite, कोइ or ATS, anyone, obl. atx. faw, anything. 


Singular. Plural. 
Vurps :—Present:- l. देखज, I see. zafy, gaz. 
2. gale, टेखहि, tus. . Fag, Fay. 
3. देखसि, 2ufy, gaz, देख. zafe, faz. 
The forms in f¥ and f¥ are rather rare. 
Singular. Plural. 
Past : l. देखेज; zafe 
2. टेखंसि. टेखेक्ल. 
3. tafe, टेख (देखा) af. 
From देना, @tfs, he gave. So लेना. 
Singular. Plural. 
Future: l. @faey. देखिर्ई . 
2. देखिहदू. देखिरज. 
8. देखिहद. देखिहई . 


टदेखब, Fem. देखबि, may also be used for all persons of both numbers 
From देना, we have, 3rd. sg., दोचहदू. 
Pres. Part: देखत, Past, देख. 
Conj. Part: देखि, देखि az. From @atand Gat we have €% or देदू, and 
Mz ०० GE. है 
The past tense of a neuter verb is thus conjugated. 


6 INTRODUCTION. 


Singular. Plural. 
l. aBy, fem. गइज, I went. az, fem. गई. 
2. aGBY or गा, ATT. Do. 
3. GY or गा, AY. Do. - 


The above does not, of course, pretend to be a complete grammar. It 
is only meant to show the spelling of the principal forms. 


The metre of the poem consists of stanzas of seven caupais followed by a 
daha. In the latter, a matra@ is frequently omitted in the first half. Iy the 
caupdis, accent is frequently used instead of quantity, a short accented syl- 
lable being treated as a long one, especially at the end of a line. Malik 
Muhammad wrote long before Kécava-disa laid down the canons of Hindi 
metre. Such accented short syllables we have marked, in transliteration with 
an acute accent, thus,—niramdré (2, 3). 


TRANSLATION. 


Canto I. Tue Prerace. 


(4). Ibear in mind that one and only primal Maker, who gave life 
and made the world. First made He manifest the Light, then made He 
(for the Light) the mighty mountain Kailasa.!. He made the fire, the air, 
the water, and the dust, and, from them, made He forms? of varied hne. He 
made the Earth, and Heaven, and Hell; and He made incarnations in many 
persons. He made the mundane egg* with its seven® continents. He made 
the universe with its fourteen® worlds. He made the sun for the day, and 
the moon for the night; He made the asterisms and the systems of the 
stars. He made coolness, sunshine and shade; He made the clouds and 


lightning (that abideth) in them, 


l By ‘Light, the poet refers to Mahadéva, who dwells in Kailasa. Indian Musal- 
mans frequently consider Adam, the first man, as the same as Mahadévya. The fact that 
the poet expressly says that Kailasa was made ‘for’ the Light, shows that he cannot be 
referring to light, the first of created things. In the system of the Nanak-panthis, to 
which Kabir, from whom Malik Mahammad borrowed much, originally belonged, the 
Supreme Being is, in its essence, joti or light, which, though diffused into all creatures, 
remains distinct from them. The Human Soul is also this light, a scintilla anime divine, 
which has emanated from the absolute, and is itself immortal. See Trumpp, Adi 
Granth, pp. ci and ff. 

2 An Urdi gloss translates uréha by Us, design, stamp, drawing. I have noted 
it also in asa murata ké daz uréht, and in bhat uwréha puhwpa saba nama. In the 
second the Urdi translation gives और and in the latter, the whole line is trans- 
lated Eps L rs >* dst Ky Ky AF {i Gy (५० ays 45. The word is still used 
in Oudh and Bibar by women, in the sense of racand. It is derived from the Skr. ullékha. 

3 Apparently, incarnations in many castes. Alluding to the doctrine that incarna- 
tions have occurred in all religions in many parts of the world. Or it may, as the comm. 
suggests, only refer to the various avatars of Visnu. 

4 T. e., the universe, alluding to the well known tradition detailed in Mann. 

5 The seven horizontal divisions of the world, viz., Jambu, Plaksa or Gomédaka, 
Calmala, Kuga, Krauiica, Gaka, and Puskara. 

6 There are seven worlds (loka) above, viz., Bhir-léka, Bhuvar-l., Svar-l., Mahar-l., 
Janar-l., Tapar-l., and Satya-l. or Brahma-l., and seven below, viz., A-tala, Vi-tala, Su-tala, 
Rasa-tala, Tala-tala, Maha-tala, and Patala. According to Musalmans, there are seven 
regions ( (3२% ) above (these are heavens), and seven below (earths), 


l 


9 PADUMAWATI. [l—4 


All things are so made by Him, that naught is worthy to be compared 
with Him. First take I His name, and then in deep thought do I begin! 
my story. 

2. He made the seven? shoreless oceans, and He made the mountains 
of Meru and Kukhanda.* Rivers made He, and streams and springs; croco- 
diles and fish made He of many kinds. He made the oyster shell, and the 
pearl which filleth it; He made many flawless gems. Forests made He and 
roots; tall trees made He, palmyras and date palms. He made the wild 
animals® which dwell in the forest; He made the fowl which fly whither 
they will. He made colours, white and black; He made sleep, and hunger, 
and rest. He made the betel-leaf and flowers, and the pleasures of taste; 
many medicines made He and many sicknesses. 

He made them in less than the twinkling of an eye; allmade He in a 
single instant. He fixed the Heavens in space without a pillar, and without a 
prop. 

3. He made man, and gave him dominion; He made grain for his food. 
He made the king who taketh pleasure in his kingdom; He made elephants 
and horses for his array. He made for him many delights; some made 
He lords, and others slaves. Wealth made He from which cometh pride; 
He made longings which none can satisfy. He made life which all men 
ever desire ; He made death, from which none can escape. Happiness made 
He and myriads of joys; sorrow made He, and care and doubt, Some 
made He poor and others rich; He made prosperity and very deep adversity. 

Some made He weak, and others strong. From ashes made He all, and 
again turned He all to ashes. 

4. He made agallochum, musk, and the scented khas grass; He .made 
the camphors,—bhimaséni? and céna.? He made the snake in whose mouth 
dwelleth poison; He made the snake-charm which carrieth off the bite. He 
made the Water of Life, which giveth eternal life tohim who getteth it; He 
made the poison, which is death to him who eateth it. He made the sugarcane 
filled with sweet juice ; He made the acrid creeper with its manifold fruit. He 
made the honey which the bee stores in its home; He made the humble bee, 
the birds and winged creatures. He made the fox, the rat and the ant; He 
made many creatures which dig the earth and dwell therein. He made 
demons, goblins and ghosts; He made ghouls and Devas and Daityas. 


l Two Urdi glosses translate augahi by ¢9,% a meaning for which I can find no other 
authority. It means literally to plunge into water, hence to be immersed in anything, 
to have the mind fully occupied. 

2 These encircle the seven continents (dvipas) mentioned in ]. 6. Their names are, 
Lavana (or Ksara), Iksu, Sura (or Madya), Ghrta, Dadhi, Dugdha, Jala. The author, in 
the description of the seven seas, later on, gives a different enumeration, viz., Khara, 
Khira, Dadhi, Jala, Sura, Udadhi, Kilakila. 

8 Méru is the well-known mountain. It represents the northern hemisphere or pole, 
and is the abode of the Gods. Kukhanda is Kumeru, the southern hemisphere or pole, 
the region of the daityas or demons. The poet has mixed this up with Kiskindha, also to 
the south of Oudh, and has confounded the two names. 

4 Jari is a root used for medicine, and m#ri isa root used for food. 

5 Sduja is any animal used for food. 

6 Two Urdi glosses translate danda by re grief, but the dictionary meaning of the 
word is enmity (dwandwa). Here it means opposition of ideas, doubt. 

7 The Bhimaséna-karpira of Sanskrit. 

8 The Cina-karpira of Sanskrit. 


4—8] PADUMAWATI. 3 


He made eighteen thousand creations of varied kinds.! For all did He 
make meet provision, and thus gave food to all. 

5. He indeed is a master of wealth, to whom belongeth the universe ; 
to all He giveth continually, yet His storehouse minisheth not. To every 
creature in the world, aye, from the elephant even unto the ant, doth He day 
and night give its share of nourishment. His eye is upon all: none is forgotten, 
neither foe nor friend ; nor bird nor grasshopper, nor aught whether manifest 
or hidden is forgotten. He deviseth dainty food of many kinds. All doth 
He feed thereof, yet eateth not Himself. His meat and His drink is this— 
that to all He giveth nourishment and life. All have hope in Him at every 
breath, nor hath He ever (turned) the hope of any to despair. 

Afion after eon doth He give, yet never minisheth (His store). Yea, 
so doth He this with both hands, that whatever hath been given in this 
world, hath all been given by Him. 

6. Let me tell of Him as that great primal king, whose rule is glorious 
from the beginning to the end of things. Ever all-bounteous doth He rule, 
and whom He willeth, rule to him He giveth. He maketh umbrellaless him 
who hath the umbrella of royalty ; and He giveth its shade unto him who is 
without it; no other is there who is equal unto Him. The people all look as 
He upturneth the mountains, and maketh the ant (that crawleth from 
beneath them) equal unto the elephant. Adamant He maketh like unto straw 
and scattereth it, and again He maketh straw like adamant, and giveth it 
honour. For one created He food, and enjoyment and all happiness ; another 
striketh He with beggary and a home of poverty. No one understandeth 
what He hath done, for He doeth that which is beyond the power of mind 
and thought. 

All else is non-existent.# He alone is ever the same, whose wondrous 
creations are such as these. He createth one and destroyeth him, and, if 
He will, He formeth him again. 

7, Invisible, formless and untellable is that Creator; He is one with 3 
all, and all are one in Him. Whether manifest or hidden, He is all pervad- 
ing ; but only the righteous recognize Him, and not the sinful. He hath no son 
nor father nor mother, no family hath He, and no relations. He hath begotten 
none, nor is He begotten of any; but all created beings proceed from Him. 
All things, as many as exist, He made; nor was Hemade by any one. He 
was at the beginning, and He is now; He alone remaineth existent and no 
one else. All else that are, are mad and blind; for after but two or four 
days they do their work and die. 

Whate’er He willed that He did, He doeth that He willeth to do. No 
one is there to prevent Him, and, by his mere will, He gave life to all. 

8. In this manner know ye Him, and meditate upon Him, for so is 


३ There is no such enumeration of created beings in the works of Mnsalman doctors, 
but, in poetry, both Persian and Hiudistani, phrases like hizhda hazar ‘alm, the eighteen 
thousand created beings, are of frequent occurrence ;—more especially in the class of 
works called maulzd, which celebrate the Prophet’s birth. The expression merely means 
an enormous quantity, like our ‘ thousand and one.’ ; 

2 Urdi gloss wh, transient. 

8 The Urda gloss translates barata by ७४:०४ “near,” but I know of no authority for 
this meaning. Barat means batd hua, twisted as a rope is twisted, hence involved in, 
closely connected with. Compare Bihari 86086, 59, dithi barata badhi atani, twisting their 
(mutual) glances into a rope, they bind it from balcony to balcony, 


4 PADUMAWATI. [8—0 


the tale written in the holy book.! The Lord hath no life, and yet He 
liveth; He hath no hands, and yet He maketh all things, He hath no tongue, 
yet He telleth everything; He hath no bodily form, yet that which He 
shaketh,isshaken. Ears hath He not, yet heareth He all things; Heart 
hath He not, yet The Wise One discriminateth all things. He hath no 
eyes, yet all things doth He see; How can anyone discern as He doth ? 
No one hath a form like unto His; nor, like Him, is any one so incomparable. 
He hath no abiding place, yet He is not without an abiding place (for He 
is omnipresent). He hath no form nor mark, yet His name is Tue Pure. 

He is not indiscrete, nor is He discrete, yet so doth He dwell (within 
the universe), and fill it (with Himself). To those who can see, He is near, 
but He is far from the foolish blind. 

9. The simple-minded knoweth not the secret of the other priceless 
jewels which He hath given. He hath given us a tongue, and the pleasures 
of taste; He hath given us teeth, which brighten? a smile. Eyes hath He 
given us, to see the world; ears hath He given us with which to hear lan- 
guage. He hath given the throat in which dwelleth our speech; He hath 
given us fingers and noble arms. Graceful feet hath He given us with which 
we walk; that man knoweth the secret of all these blessings who hath none. 
Yea, it is the old who know the secret of youth; when they find not their 
young days though they (gobent forward) seeking them. The great man 
knoweth not the secret.of poverty; but the poor man knoweth it, to whom 
poverty is come. 

It is the sick man who knoweth the secret of the body, while the 
healthy man liveth careless ; but the secrets of all are known to the Lord, 
who abideth ever in every body. 

0. Very immeasurable are the makings of the Maker; no teller can tell 
them. If (all the writers of) the Universe took the seven heavens’ for 
paper, and filled the seas* of the earth with ink; if they took as many 
branches as cover ® all the forests in the world, and all the hairs and down 
(of animals), and all the feathers of birds; if they took the motes of 
dust and salt where’er they found them, and all the drops in the clouds 
and all the stars of heaven; and turned them all to pens and wrote, still 
then they could not write the shoreless ocean of his wondrous works. So 
hath He manifested all His skill, that even now not one drop of that ocean 
hath decreased. Think thou of this, and let not pride be in thy heart ; 
for mad is he, who, in his heart, nourisheth pride. 

Very full of holiness is the Lord. What He willeth, for Him that 
quickly is. So full of holiness can He make a man, that that man, himself, 
performeth countless holy actions. 


l Urdi gloss for purana, wots, the Qur’an. This is quite possible. It will be seen 
that Mallik Muhammad frequently uses Hindu words as Musalman technical terms. E. G., 
céla, xx, 4. 

2 Lit., are fit for. 

8 The seven Heavens, see note to i, 5. 

4 The seven seas of Hindu tradition, see ii, 4, The general idea of this verse is 
taken from the Kahf or Cave Sirah of the Qur’an. Verse l09 runs ‘Say, “ were the 
sea ink for the words of my Lord, the sea would surely fail before the words of my Lord 
fail; aye, though we brought as much ink again.” ? 

5 Bana-dhakha@, is equivalent to bana ké dhakhané-walé, (branches) which cover the 
forest. The subject of all these objects is sansarw in the fifth line, 


ll—2] PADUMAWATI. 5 


ll. Thus, made He oneman withouta blemish, named Muhammad, clori- 
ous as the full moon. It was his radianey that God first produced, and then 
for love of him He created the universe. He kindled that light and gave it 
to the world. The world became clear, and recognized its (true) way. If that 
bright man had not been, the dark path would not have been visible. 
The deity (Muhammad) wrote the second place (in heaven) for those who 
learned his ecreed.! For those who have not taken (refuge in) his name 
throughout his life, God hath prepared a place inhell. God made him His 
messenger to the world, and whoever hath taken his name passes safely 
across both worlds.* है 

God will ask of each his virtues and his vices, (when) there will be the 
(great) casting up of accounts. But he (Muhammad) will humbly bend 
before him, and will effect the salvation of the world. 

l2. Muhammad had four friends, who (followed him) in his place, 
and the four had spotless namesin both worlds. Ast Bakr Stppie, the Wise, 
who first truthfully (sidq) brought the faith (into the world). Then ‘Umar, 
who adorned the title (of Caliph); justice came to the world when he 
adopted the faith. Then ‘Usman, the learned and wise one, who wrote the 
Qur’an, as he heard its verses. Fourth came ‘Ati, the mighty lion; when 
he attacked, both heaven and hell quaked. All four had one mind, and one 
word, one path and one fellowship. Hach preached the same true word, 
which became authoritative, and read in both worlds. 

The very Qur'an *which God® sent down (to this world), that holy 
book they read; and they who (have lost their way) in coming (into the 
world), when they hear it, find the path.® 


l Lit., teaching. The Urdu gloss gives &JS, the Musalmin creed. 

2 The ihaloka and paraloka of the Hindis. This world and the world to come. 

3 Lit., brought. 

4 Here again we have purdna used for the Musalman sacred book. 

5 Here vidhi, a Hindu technical term. 

6 Aba Bakr ibn Abi Quhafa was Muhammad’s dearest friend and father-in-law, and 
one of his first converts. He enjoyed immense influence with his fellow citizens of Mecca, 
and earned by his probity the appellation of ‘as-siddig,’ ‘The True.’ He accompanied 
Muhammad in the Flight, and on his death (632 A.D.) he became the first Caliph. He 
died 634 A.D. 

‘Umar ibn Al-khattab was converted in the 6th year of the call (65 A.D.). His 
conversion carried with it so much weight that the Musalman traditions relate it with 
miraculous attendant details. Abi Bakr by his eloquence and address, and ‘Umar by his 
vigour and promptitude, supplied the want of the practical element in Muhammad’s 
character. ‘Umar set the example of public (instead of private) prayer, which was fol- 
lowed by other Muslims. He was the leading spirit of the Emigrants (muhdjira) who 
had left Mecca at the time of the Flight, and settled in Medina. He procured the nomina- 
tion of Abi Bakr to be first Caliph, and, as a matter of course, succeeded him as second 
Caliph in 634. He was murdered at Medina in 644. 

‘Usmin ibn ‘Affin was one of Muhammad’s first converts, and married his daughter. 
He was elected third Caliph on the death of ‘Umar. The Qur’an was compiled in its 
present form in his reign. He was killed at the age of eighty-two in 655, in the rebellion 
which arose in consequence of the movement, the ultimate aim of which was the deposi- 
tion of ‘Usman in favour of ‘Ali. 

‘Ali ibn Aba Talib was Muhammad’s cousin, and one of his first converts. He fol- 
lowed him to Medina three days after the Flight. He succeeded ‘Usman as fourth Caliph 
in 655, and was murdered in 660 A.D. + 

The first compilation of the Qur’’n was undertaken by Zaid ibn Sabit, who was ap- 


2 


6 PADUMAWATI. [l3 


3. Shér Shah is Sultan of Delhi, who warmeth the whole world! 
even asthe sun. His kingdom and throne beseem him well; low on the earth 
have all kings laid their brows before him. By caste a Sir? and with his 
sword a hero; wise is he and full of all skilfulness. In the nine regions 
the sun (or all heroes) hath set (or have bent low) before him,® and the seven 
continents* of the world have all bowed before him. All his kingdom he won 
with the might of his sword, as did Alexander, the Zi-l-qarnain.’ On his 


pointed to the work by the Caliph Abi Bakr at the instigation of ‘Umar. Zaid had been an 
amanuensis of Muhammad. This redaction had no canonical authority, and discrepancies 
in the text soon appeared. Accordingly, ‘Usman confided to Zaid and three other 
Quraishites the preparation of an edition which was to be canonical for all Muslims. This 
text is the one which is now extant. 

l Lit., the four quarters. The use of khanda is uncommon, but it is the only meaning 
which I can suggest here. An Urdii gloss gives G,b oy. 


2 Here, and in the following stanzas there is a series of puns on the word sda, which 
is not only the name of the Afghan tribe to which Shér Shah belonged, but also means a 
hero, and the sun. 

8 Lit. ‘In the nine regions there was a bending of s#ra,’ where, again, there is a pun on 
the word saa, ‘hero’ or ‘sun.’ According to the most ancient Hindu Geographers, 
India was shaped like an eight-petalled lotus. ‘These eight petals, together with the cen- 
tral division, formed the nine khandas or regions, viz., Paicala (central), Kalinga (8. E.), 
Avanti (S.), Anarta (S. W.), Sindhu-Sauvira (W.), Harahaura (N. W.), Madra (N.), Kaun- 
inda (N. E.). The Puranas give a different list of names, viz., Indra (E.), Kaséru (N.), 
Tamraparna, (? S.), Gabhastimat, Kumarika (Central), Naga, Saumya, Varuna (W.), Gan- 
dharva. See Cunningham’s Ancient Geography of India, pp. 5 and 66. The Comm. gives 
Bharata-varsa, Kinnara-varsa, Hari-vara, Kuru-varsa, Hiranmaya-varsa, Ramyaka-varsa, 
Bhadragva-varsa, Kétumilaka-varsa, and Ilavrta; ef. Visnu-Purana, ii, 2. 

4 See I, 5. 

5 Zi-l-qarnain, means ‘ The Master of Two Horns.’ Musalman tradition varies about 
this name. According to some, the Zu-l-qarnain was not Alexander the Great, but another 
saint, who lived at the time of Khwaja Khizr, and who was so called from his having two 
curls hanging, one from each side of his forehead, or because he reached both sides of the 
world, or because he was noble by descent from both his parents, or because he went 
through both the light and dark parts of the world, or because he died when struck on one 
side of the forehead, and then was restored to life, and again died on being struck on the 
other side of the forehead, and again came to life. 

Beale’s Oriental Biographical Dictionary (Ed. Keene), says ‘Master of Two Horns, 
a title of Alexander the Great, probably based on coins representing him in the character 
of Ammon.’ Alexander’s coins show his head adorned with two ram’s horns. They were 
widely current in the East, and the Muhammadans probably gave him that name after his 
coins. 

The Musalman idea of Alexander the Great is based npon legends contained in the Qur’- 
an and its commentaries. Thus, Burton, Arabian Nights, night cccclxiv, says, ‘Iskandar 
(i. e., Alexander) was originally called Marzban (Lord of the Marches), son of Marzabah, 
and, though descended from Yunan, son of Japhet, the eponymus of the Greeks, was born 
obscure, the son of an old woman. According to the Persians he was the son of the elder 
Darab (Darius Codomannus of the Kayanian or second dynasty), by a daughter of Philip 
of Macedon; and was brought up by his grandfather. When Abraham and Isaac rebuilt 
the Ka’abah they foregathered with him, and Allah sent him forth against the four quarters 
of the earth to convert men to the faith of the Friend or to cut their throats; thus he be- 
came one of the four world-conquerors with Nimrod, Solomon, and Bakht al-Nasr (Nabucho- 
donosor) ; and he lived down to generations of men. His Wazir was Aristi (the Greek Aris- 
totle), and he carried a couple of flags, white and black, which made day and night for him 
and facilitated his conquests.’ The Comm. gives a well-known legend about the title 
given to him‘in the text. Alexander concealed the fact of his having horns from the pub- 
lic, and it was known only to his barber. One day, owing to sickness, this barber sent 


i38—4] PADUMAWATI, 7 


hand is Solomon’s ring,! and, with it, he gave gifts to the world with full 
hand. Majestic is he, and a mighty lord of the earth; like a pillar he sup- 
porteth the earth and maintaineth the whole univérse. 

Muhammad blessed him and said, Reign thou from age to age. Thou 
art the Emperor of the World. The world is a beggar at thy door. 

l4, I tell of the heroism of this king, Lord of the world, the weight of 
whose array is greater than the world can bear, When his army full of 
horsemen advanceth, covering the earth, mountains crash and fly away in 
powder, night cometh from the clouds of dust which eclipse the sun, so that 
man and bird alike goeth home to bed. The land taketh flight, and goeth up 
into the firmament; earth-dust covereth each continent,—yea the world, the 


his son Babban Hajjam as.his deputy. After the hair-dressing was finished Alexander warn- 
ed Babban, that if he told any one about the horns he would lose his head. The secret burnt 
within the wretched man so that he was like to burst, till he relieved his feelings by whis+ 
pering it to an old Jack-tree. The Jack-tree, unable to tell the secret, withered and died, 
and a carpenter bought it and made two fiddles and a drum out of the wood. These were 
bought for a concert at the palace, but when people tried to play them before Alexander, 
all that one fiddle could be got to say was, # stg, sig (horn, horn, horn), all that 
the other kin, kin, kin (who told ? who told? who told?), and all that the drum, Bab- 
ban Hajjam, Babban Hajjam, Babban Hajjam. The secret was thus divulged. Compare 
the story of Midas. Another well-known legend (referred to in the Padumawati) is that 
he made friends with Khwaja Khizr, the Green Prophet, (see note to xx, 5) and was 
guided by himto Zalmat, the Land of Darkness (called the Kajjal?-ban by Hindi), where 
exists the Fountain of Life. He was, however, unable to drink of this Eternal Spring, and 
returned disappointed. His unsuccessful quest for the Water of Life has formed the basis 
of many stock poetical similes. 

3 This is the famous ring with which Solomon ‘ was wont to imprison Jinns, Marids and 
Satans in cucurbites of copper, and to stop them with lead and seal them.’ It was made 
of stamped stone and iron, copper and lead. According to others it consisted of four 
jewels, presented by as many angels, representing the Winds, the Birds, Earth (including 
sea), and Spirits, and the Gems were inscribed with as many sentences: () To Allah 
belong Majesty and Might; (2) All created things praise the Lord: (3) Heaven and Earth 
are Allah’s slaves; and (4) There is no God but the God, and Muhammad is his messenger. 
This ring gave Solomon power over all supernatural beings, and hence endowed him with 
unending wealth,—in fact the whole secret of his power lay in it. Solomon conquered the 
King of Sidon and married his daughter Jizadih. She so incessantly mourned for her 
father, that Solomon commanded the Jinns to make an image of him to console her, and 
to this she and her maids used to pay divine honours. To punish him for encouraging 
this idolatry, a Jinn named Sakhr one day obtained possession of the ring which Solomon 
had entrusted to his concubine Aminah, while he had gone out for a necessary purpose. 
During his absence the Jinn transformed himself to Solomon’s likeness, and came in and took 
jt from her. Solomon also was changed in form and was not recognized by his subjects, and 
wandered forlorn about the world for forty days (the time during which the image had 
been worshipped in his house), while the Jinn reigned in his stead. At the end of that 
period the demon flew away, and flung the ring into the sea, where it was swallowed by 
a fish, which was afterwards caught and brought to Solomon who by this means recovered 
his kingdom and power. Solomon then imprisoned Sakhr in one of his cucurbites, and 
cast him into the lake of Tiberias where he still lies. This recovery of a ring by means of 
a fish is common to many legends. Compare those of Polycrates of Samos and of Gakuntala. 

This Sakhr was the Jinn who brought Solomon the throne of Bilkis, the Queen of 
Sheba. She was a worshipper of the sun, and Solomon converted her to the worship of 
the true God, by this, and by his wisdom in answering her hard questions. He played one 
trick on her which is well-known all over the East. He heard that she had legs hairy 
like a goat, but could not ascertain the truth. So he made her walk over glass under- 
neath which was water with fishes swimming in it. Believing that she had to wade 
through deep water, she tucked up her petticoats, and revealed to Solomon that the report 


8 PADUMAWATI. [l4—6 


whole creation and the universe.! The Heavens tremble, and Indra quaketh 
in fear ; the snake-god Vasuki fleeth and hideth himself in the lowest Hell.? 
Meru sinketh down, the oceans dry up, the forests break and are mingled 
with the dust. (When his army marcheth toa halting place) some of his 
advance-guard may receive a share of water and of grass for their horses, but 
for none of his rear-guard is there even sufficient mud. 

Citadels which have never bowed to anyone, when he advanceth all 
become dust,—when the Lord of the World, Shér Shah, the Sun of the 
Universe attacketh them. 

i5. I tell of his justice, how itis upon the earth. Not even toa 
crawling ant doth anyone (dare to) give pain. Naushirwan* was called 
‘The Just,’ but even he was not equal to the justice of Sher Shah. He did 
justice like unto ‘Umar,® for the shout of praise to him was (heard over) the 
whole world. No one dareth even to touch a nose-ring lying fallen on the 
ground, (mach less to pick it up and appropriate it). On the very highways 
do men cast about gold (yet no one snatcheth it). The cow® and the tiger 
walk together on the same road, and both drink water together at the same 
landing-ford. He straineth milk and water (mixed together) in his court, 
and separateth the one from the other. He marcheth with piety, justice 
and sincerity, and the weak and the mighty he keepeth on even terms. 

The whole earth blesseth him, folding its hands continually, and crying, 
May that head endure immortal as long as there is water in the Ganges and 
the Jamuna. 

6. Again, how can I describe his comeliness, for all the world desireth 
the beauty of his countenance. His comeliness surpasseth in brightness 
even the full moon which God created. Sin abandoneth those who reverently 
gaze upon him, and the whole world maketh obeisance and blesseth him. As 
when the sun blazeth over the world, so, before him, all things hide their 
comeliness (in shame). Thus did the Sun7 become a spotless man, with ten 
times more’ beauty than the sun itself. No one can look upon him face to 
face, and if anyone see him, he remaineth with bent head. His comeliness 


was true. Solomon begat a son upon her, who the Abyssinians say was Menelek, the 
founder of their royal race. She was not a very estimable character before her conyersion. 
Sa‘lab?, in his History of the Prophets, gives an entertaining account of her wrong 
doings. She introduced the worship of the sun into her dominion, and when she 
was married to her first husband against her will, she treacherously slew him on her 
wedding night. It required a mighty man like Solomon to tame so independent a young 
person. Much of this note is taken from Burton’s Arabian Nights, and from Palmer’s 
translation of the Qur’an. 

l The 4/ mand has two meanings, either ‘to adorn * (mandana) or ‘to crush,’ (marda- 
na). The passage here is corrupt in all MSS., and the reading is very doubtful. 

2 See note to line 5 of the first stanza. 

8 This reference to Shér Shah’s justice (‘adal) may have a complimentary reference to 
his son ‘Adal. See J. A. 8. B., Pt. I, 890, 9. 67. 

4 The celebrated king of Persia, surnamed ‘Adil, or the Just. Heascended the throne 
59 A.D. He was the Chosroes of the Greeks. Muhammad (8. 57l) used to boast of his 
good fortune in being born when so just a king reigned. He died 579 A.D. 

5 The second Caliph in succession to Muhammad. See note tol2, 

6 Goru is properly any domesticated herbivorous animal. 

7 Here again the word s#rais introduced with a threefold meaning, hero, sun and 
proper name. 

8 Agari means ‘ excellent.’ 


l]-6] PADUMAWATI. 9 


increaseth by a quarter, day by day, the Creator formed his beauty above 
the world. 

Comely is he with a jewelled (tiara) on his brow, and the moon waneth 
as he waxeth; while the earth, craving to see him, standeth and humbly 
offereth its praises. 

7. Again God hath made him so greatly generous, that none in the 
world hath ever given gifts like unto him. Bali! and Vikramaditya? were 
famed for their generosity, and Hatim Tas* and Karna* were described 
as lavish; but none of them equalleth Shér Shah, for the very ocean and 
even Mount Méru, are ever minishing (as they give up their jewels and gold), 
The kettle-drum of his generosity soundeth at his court, and the fame thereof 
hath gone even across the ocean. The world touched this Sun,5 and became 
of gold compact, so that poverty fled and went beyond the borders of his 
kingdom. He who but once approacheth him and asketh, for all his life is 
free from hunger and from nakedness. Even that (King of old) who per- 
formed ten horse-sacrifices,° —even he gave not holy gifts like him. 

So generous hath Sultan Shér Shah been born upon the world, that none 
hath e’er been like him, or will be, nor doth anyone give such gifts. 


l The well-known Daitya, who gave Visnu his famous three and a half paces of ground. 

3 ‘Clarum et venerabile nomen.’ The well-known king of Avanti, many legends of 
whose generosity are given in the Simhasana Battisi. 

8 Familiar to readers of the Bagh-o-Bahar (story of the second Darwésh). His 
liberality continued after his death. His tomb was surrounded. by stone images of 

. girls, which each night used to burst out into lamentations for so good a man. King 
Zi-l-kara‘a camping near there one night, hearing the wailing, asked the reason, and was 
told it was the tomb of Hatim Taé. He then cried out in jest, ‘O Hatim Taé, we are 
thy guests, and hungry.’ Shortly afterwards one of his camels became violently ill 
and (9७8 they say in Ireland) to prevent its dying, they killed it, and then, to make the 
best of a bad job, had a good feast on its flesh. Next day, while they were on the march, 
they were met by Hatim’s son bringing a she-camel. He explained that his father had 
appeared to him on the preceding night, and said ‘ Zu-l-kara‘a sought hospitality from me 
last night, and I had nothing to give him; so perforce I killed his camel, and do thou now 
give him one in exchange for the one I took.’ History does not relate how the son appre- 
ciated his father’s vicarious hospitality, but he certainly did accept the responsibility. 

4 The famous Hero of the Mahabharata. The son of Kunti by Strya. He was famous 
for his generosity. Yudhisthira once asked Krsna, who was the most generous member of 
his family. To his mortification Krsna replied ‘Karna.’ The following is an example. A 
poor Brahman woman had a child born to her, and her husband went to Yudhisthira and 
begged for some wood to make a fire to warm her, Yudhisthira ordered his steward to 
supply the fuel, but on the latter reporting that there was none just then available, he told 
the Brahman to go away, and to come again in an hour or two, when he could be supplied. 
The Brahman went on to Karna and made a similar request. It happened that, here too, 
the supply of fire-wood was temporarily deficient, and the steward asked Karna to tell 
the man to come again in an hour or two (as Yudhisthira had done). ‘ Fool,’ replied Karna, 
‘shall I leave the poor woman to die of cold, while you are searching for fuel? Break up 
my beds till the Brahman has enough wood for to-day, and tell him to come to-morrow 
for more.’ ‘This,’ said Krsna to Yudhisthira, ‘is the difference between you and Karna. 
Had you no beds to break up?’ The above legend is sung by the Vyasas at the passage in 
Maha-bharata where Karna divested himself of the ear-rings and armour (with which he 
had been born), and gave them to Indra, (See Maha-bharata, Adi-parvan, Adhyaya 67, 
Clokas 4l-43). 

5 Again the triple pun on the word s#ra. Shér Shah is compared to a philosopher’s 
stone which changed all that touched it into gold. 

6 This is a reference to Brahma, who completed ten Acva-médh2 sacrifices at Benares. 
The site of the Sacrifice is the well-known Dagagva-médha ghat in that city. 


3 


0 PADUMAWATI. [6-22 


8. Saiyad Ashraf (Jahangir)! was an elect saint, and he it was who 
threw light upon my path. He lit the lamp of love within my heart; the 
light burned up, and my heart became pure. My way had been dark and 
invisible, and lo! it became bright and I understood. He cast my sins into 
the salt ocean, and making me as his disciple took me into the boat of virtue. 
He grasped my rudder firmly, and I reached the landing place on the far 
bank. If a man hath such asteersman,* he graspeth him and bringeth to 
the other side. He is a protector, and one who succoureth in time of trouble, 
and, where (the water) is fathomless, there giveth he his hand. 

His family title was Jahangir, pure like the moon. He was the Holy 
Master of the World, and I am the slave of his house. 

9. In his house was a spotless jewel, Haji Shaikh by name, fulfilled 
with good fortune. In his house were two bright lights, whom God created 
to show the way. Shaikh Mubarak glorious as a full moon, and Shaikh Kamal 
spotless in the world. Both were stedfast, unmoveable like pole-stars, exalted 
even above Méru and Knukhanda.* God gave them beauty and glory, and 
made them pillars of the world. On these two pillars supported He the 
earth, and under their weight the universe remained firm. Whoever saw 
them and reverently touched their feet, his sins were lost and his body be- 
came pure. 

O Muhammad, there is the road secure, where a saintly teacher beareth 
company. O my soul, when he hath a boat and a rower, a man quickly 
gaineth the other side. 

20. Muhiu-d-din was my preceptor, my steersman, and I served him. 
He crosseth speedily who hath him upon the ferry. Before him was Shaikh 
Burhan, who brought him on the path and gave him knowledge. His spiri- 
tual guide was the good Alhadad, who in the world was a light and beauteous 
in the faith. He was a disciple of Saiyad Muhammad and even perfected men 
enjoyed® his fellowship. To him did Daniyal point out the path,— Daniyal, 
who consorted with Hazrat Khwaja Khizr.6 The Hazrat Khwaja was pleas- 


4 Saiyad Ashraf was one of the founders of the line of spiritual preceptors, whose 
representative in the first half of the l6th century (Muhiu-d-din) taught the poet. For 
full particulars see note to stanza 20. 

2 This is a difficult passage. Karid is the same as kadi, an iron ring, or a beam, hence 
arudder. Either meaning will do here. Other MSS., and printed editions have unha mora 
kara bidata kai gaha, he grasped my hand as Iwas sinking. Pédhi kai means ‘firmly.’ 

8 Kanahara or kanadhara is the Sanskrit karnadhara. 

+ See line l of the second stanza. 

5 Lit. sported in his company. 

6 Khwaja Khizr, the Green Prophet, is a well-known figure in Muhammadan legends. 
He has been identified by some with Elijah and by others with St. George. He is said 
to be still living, and sometimes aids travellers who have lost their way. As stated in 
the note to xiii, 5, he conducted Alexander the Great to the Land of Darkness, when 
the latter was searching for the Water of Life. He usually appears on horseback, dressed 
in green (hence his name). In India he is looked upon asa saint not only by Musalmans 
but also by Hindiis. Lal Bégi Mihtars pay him divine reverence. Their first pir is Jesus, 
the Lord of the Wand, their second Khwaja Khizr, the Master of the Water-cup, their 
third Muhammad, the Great Interceder, and their fourth Lal Bég, the man of the Wild- 
flowing Tresses (see Greeven, Knights of the Broom, 45). Temple’s Legends of the Panjab 
are full of references to him. He is, in India more especially a water-god, or the 
god of the Flood. Under his special protection is the well at Safidam in the Jind state, 
which contains the Water of Life. Musalman traditions make him out to have been a 
true believer in the Islam of his day and to have been Wazir of Kai Qnbad (6th century 


PADUMAWATI. il 


ed with him, and brought him (asa disciple) to Saiyad Raji Hamid Shah. 
From him (Muhiu-d-din) did I win all my (good) deeds. My tongue was 
loosened, !* and, a poet, (I learned to) tell my tale.'* 

He was my master and I his disciple, evermore do I bow before him 
as his slave. Through him did I obtain a sight of the Creator. 


B. C.), the founder of the second or Kayanian dynasty of the kings of Persia, and ninth 
in ascent before the Darius, who was conquered by Alexander. In the text, all that 
is meant is that Khwaja Khizr appeared to Daniyal, and performed his customary office 
of guide. 

2 Lit. uncovered. 

I8 The following account of Malik Muhammad's spiritual ancestors is taken partly 
from what the poet himself tells us, and partly from the Urdi gloss and other sources 

He belonged to the Cishtiya Nizdmiyd, that is to say he belonged to the spiritual 
descent which took its name from the celebrated Nizimu-d-din Anliya, the teacher of 
Amir Khusr6, who died about 325 A.D. His disciple was Siraju-d-din, whose disciple 
was Shaikh ‘Alau-I-haqq. ‘Alau-l-haqq’s son and disciple Shaikh Nir Qutb ‘Alam, the 
date of whose death is usually given as 444 A.D. Chronologists, however, vary as to this; 
some say A. H. 808, i.e., A. D. 405, others A. H. 83, i.e., A. D. 40, others A. H. 88, 
t.e., A.D. 45, others A. H. 848, i.e., A.D. 444, and others again A. H. 85], ie., A. 0. 
447. Mr. Beveridge in J. A. S. 8. lxiv, Pt. I, 207, considers A. H. 8l8, A. D. 45, as the 
true date. He lived at Pandua in Maldah, and another disciple was Saiyad Ashraf Jahangir 
(see 8, .) Ashraf’s most famous disciple was Shaikh Haji, whose disciples were Shaikh 
Mubarak, and Shaikh Kamal. Shaikh Nir Qutb ‘Alam and Saiyad Ashraf Jahangir 
were fellow disciples (pir bhai) and from them eighth in descent came Malik Muhammad 
(Fl. 540 A. D.) 


The full genealogical table is as follows : — 
Nizamu-d-din (d. 825 A. D.) 
Seve din. 

Shaikh ‘Alan-l-haq. 


Shaikh Nir Qutb ‘Alam of Pandua, and Saiyad Ashraf Jahangir (vide xviii, l), (son of 
preceding.) 


| 
Shaikh Hashamu-d-din of Manikpur. Shaikh Haji. 


| 
Saiyad Raji Hamid Shah. Shaikh Mubarak and 
Shaikh Daniyal (d. 486 A. D.). Shaikh Kamal. 


Saiyad Muhammad. 

Shaikh Alhadad. 

Shaikh Pee 

Saiyad Muhiu-d-din (vide xx, ). 


Malik ees, (4540 A.D.) 

From this it follows that the poet was not an actual disciple of Saiyad Ashraf 
Jahangir, as might be assumed from xviii, ] and ff. Malik Muhammad merely refers to 
him and praises him as his spiritual ancestor. A tradition makes him the poet’s mantra- 
guru, while Mubio-d-din was his vidyd-guru, i.e, the one initiated him, and the other 
taught him, which agrees with Malik Muhammad’s own language. Shaikh Dariyil, the 
fifth in the line before the poet, appears to have claimed to have had for a friend 
Khwaja Khizr, who introduced him to his preceptor, Saiyad Raji Hamid Shah. Shaikh 
Burhan, Malik Muhammad’s spiritual grandfather resided at Kal’piin Bundél’khand, and is 
said to have died at 00 years of age in A.H. 970, or A.D. 562-68. See Rep. Arch. 
Sur. Ind. xxi, 3]. 


2 PADUMAWATI: 


2l. Muhammad was skilful, though he had but one eye,' and every 
poet who heard him was entranced. Eyenas God created the moon for the 
universe, so He put a dark spot upon her, while He made her bright. With 
that one eye the poet saw the whole world,? shining bright like Venus 
brilliant among the other stars.° Until there come black spots upon a 
mango-fruit, it hath no fragrant scent. God made the water of the ocean 
salt, but nevertheless He made it immeasurably boundless. Mount Méra 
was destroyed by the trident, and then it became a mountain of gold,* and 
reached to heaven. Till black firestains defile the crucible (the ore) remain- 
eth unsmelted, and becometh not pure gold. 

The poet hath but one eye, but it is (bright) as a mirror, and that 
mirror’s nature is pure. (Though he is uncomely), all that are beautiful 
clasp his feet, and with desire look upon his face. 


As the prophet Muhammad (see xii, ) had four friends, so also had the poet Malik 
Muhammad. He tells us their names were Malik Yusuf, Salar Khadim, Miya Saloné and 
Shaikh Badé. Concerning these, see the introduction to this edition, and xxii, ] and ff. 

The Urdi gloss concludes (we insert dates and other particulars in parentheses), 

Those who consider that Hazrat ‘Abdu-l-Qadir Jilani (b. 078, 6. 66) (God’s merey be 
upon him) is descended from Saiyad Muhiu-d-din, and that Saiyad Raji Qattal (d. 403) 
is descended from Saiyad Raji, are far from being in the right. It is clear that the line 
of Qadariya’s is descended from Hazrat ‘Abdu-l-Qadir Jilani. His preceptor was Hazrat 
Abu Saiyad. 

‘Saiyad Raji Qattal was full brother of Hazrat Saiyad Jalalu-d-din of Bukhara (who 
was known as Makhdim Jahaniyan Jahan (Gasht Shaikh Jalal), and was his disciple). He 
was a Suharwardiya by sect. 

‘Another disciple of Hazrat Nizamu-d-din (the founder of Malik Muhammad’s line) 
was Shaikh Ruknu-d-din Abi-l-fath Ma’asir (fl. 3I0), who was also disciple of his own 
father Shaikh Sadru-d-din (‘Arif, d. 309). This last was disciple of his father Shaikh 
Bahau-d-din Zikariya (d. 266) of Mul’tan, who was disciple of Shaikh Shahabu-d-din 
(Suharwardiya, d.234), who travelled from city to city as missionary (peace be upon 
him).’ 

Makhdim Jahiniyan was a disciple of Ruknn-d-din abovementioned. The Suhar- 
wardiyas form a branch of the followers of the ¢#fz sect, and are named from Suharward, 
a town near Bagdad, the birth place of the founder Shahabu-d-din above mentioned. 

l According to tradition this was the result of an attack of small-pox, which not only 
destroyed the sight of one eye, but dreadfully disfigured his features. It is said that 
some Raja once saw him, and loudly scoffed at his ugly face, not knowing who he was. 
Thereupon the poet said, ‘scoffest thou at me, or at the Potter who fashioned me?’ Struck 
by his reply, the Raja repented, and became his disciple. The poet still, however thanks 
God for all His mercies, and points out that every great and good thing in Nature has 
some detraction. 

2 That is to say other folk with two eyes can see but a short way, but the poet's single 
eye ‘in a fine frenzy rolling, can glance from heav’n to earth and earth to heay'n.’ 

8 Cukra, the regent of the planet Venns, had but one eye. He lost it this way. He 
was guru of the demon Bali, who gave Visnu, in his dwarf-incarnation, the famous three 
and a half steps‘of ground, Qukra, to prevent the success of Visnu’s stratagem, came and 
hid in a water-vessel. When, at the time of making the formal gift, water refused to 
flow from the vessel, Visnu, under pretence of clearing out the spout with a stick, pierced 
Cukra’s right eye. 

* According to tradition, mountains had once wings, and used to fly about. When 
they alighted after flight, they used to crush people under their weight, so Indra cut off 
their wings with his thunderbolts. The first to suffer amputation was Sumérn. It was 
a mountain of gold (Visnu-purana, ii, 2). The poet has substituted Civa’s trident (trigala) 
for Indra’s thunderbolt (vajra). This confusion between Civa and Indra is constant 
throughout the poem. 


22-24) PADUMAWATI. 43 


22. The Poet Muhammad! had four friends, and by gaining their 
friendship he raised himself to equality with them. One was Malik Yusuf, 
the learned and wise, who first of all knew the secret meaning of words. 
The next was Salar Khadim, the discreet, whose arms were ever raised either 
in (wielding) the sword or in (distributing) gifts. The third was Miya 
Saloné, a lion amidst unsurpassed heroes, a fighter with the sword in the battle- 
field. The fourth was Shaikh Badé, famed as a sage. Yea, even sages 
thought themselves honoured by performing his commands.? All four 
were learned in the fourteen’ branches of knowledge, and God himself 
created their association (with the poet). Let a tree but dwell near a 
sandal-grove, and let but the odour of the sandal permeate it, and, lo, it 
becometh sandal-wood itself. 

Muhammad, when he had found these four friends, became of one soul 
with them. When he hath accomplished their companionship in this world, 
how can they be separated in the next ? 

23. The city Jayas is a holy spot: there came the poet and told his lay. 
There humbly waited he upon Hindi scholars, and prayed them* to correct 
and mend the broken (metre) and arrangement (of his song). Iam a fol- 
lower of poets, and I go forward saying my say, and beating the drum with 
the drum-stick to proclaim it. My heart is a treasure-house, and it holdeth 
a store of precious stones. I made my tongue the key of my palate and 
opened it. I spake words, —jewels, and rubies; sweet, filled with the wine 
of love, and priceless. He who is wounded by the words of love,6— What is 
hunger or sleep or shade tohim? He changeth his appearance, and becometh 
a hermit, like a jewel covered and hidden in the dust. 

O Muhammad, the body which love hath, hath neither blood nor flesh. 
Whoever seeth the face of such a man laugheth, but when the lover heareth 
the laughter tears come (into his eyes).7 

24. It was the year 947 (of the Hijra),3 when the poet began to tell 
this tale in words. Of Ceylon and Queen Padmavati, whom Ratna-séna 
brought to Citaur castle; of ‘Alau-d-din, the Sultan of Delhi, and how 
Raghava-caitanya told him of her. How the Emperor heard, and besieged 
the castle, and how there arose the war between the Hindis and the 


l So also had the Prophet Muhammad, see l2,I. Regarding these four men, see 
introductory remarks. 

% Adésa also means the initiation of a ९06, or disciple, by a guru, or spiritual preceptor. 

3 The 4 Vedas, the 6 Vedangas, the Puranas, the Mimamsi, the Nyaya, and Dharma. 

7" 4 Bhaja or Bhaja, is equivalent to bhrdja, $.०., prakagita kiz, ‘made manifest;’ hence 
‘presented’ a petition. . 

5 Ddg@isadrum-stick. The poet means that he is impelled to publish his lay by 
beat of drum, so to speak, ४.९., as loudly as possible, in order that other poets and learned 
men may hear it, and correct his mistakes. A simpler rendering is obtained by amending 
the text to kichw kahi calata bola dei daga, ‘saying my say, I progress, setting down the 
feet of language;’ in which language is metaphorically compared to a foot, or step (daga). 

6 Here we have the first instance of the poet’s use of the word biraha. He uses it 
to mean loye, especially unhappy love. In countless places it cannot possibly have the 
usual meaning of ‘separation from a beloved one.’, Ghayd is translated in the Urdi Gloss 


by (596? ‘full of.’ We can find no authority for this. 

7 The worldly imagine the distraught lover to be mad, and langh at him. He, on the 
other hand, knowing that no jewel is 8० precious as the love which he has conceived, 
weeps at their madness. 

8 540 A.D. 

4 


4 ile PADUMAWATI. [24-25 


Musalmins. From beginning to end, just as the story runs, so wrote he it 
in the language of the péople, and told it in verse. The poet, the bard,! 
and the lotus full of nectar, are near to what is far and far from what is near. 
That which is near is yet far, like the flower and the thorn (so near and yet 
so different), and that which is far is near, like sugar and the ants (who 
dwell so far from it, yet find it out). 

So the bee? cometh from the (distant) forest, and findeth the odour of 
the lotus-nectar, while the frog ne’er findeth the odour, though he dwelleth 
(in the pond) close to (the flower). 


CANTO II. 
SmHaa. 


25. Now sing I the tale of Simhala-dvipa,? and tell of the Perfect 
Woman.* My description is like an excellent mirror, in which each form 
is seen as it really is. Happy is that land where the women are lights,® 
and where God created that (famous) Padmini (Padmavati). All people 
tell of seven lands, but none is fit to compare with Simhala. The Diya-land® 
{or land of lamps) is not so bright as it. The land of Saran? cannot 
bear comparison with it. Isay that Jambi-land® is nowhere like it, and 
that Lanka-land cannot even fill (the excellence of) its reflection. The 
land of Kumbhasthala® fled to the forest (before it), but the land of 


t Kabi is one who makes poems, bidsa (0१68०) is one who recites them. 

2 I.e., a prophet has no honour in his own country. The author means that he is 
aware that his own country-folk, and his own people (the Musalmans) will not care for 
his poem, for it is in a Hindu dialect and not in Urdii; but, on the other hand men of 
distant lands and of other religions (the Hindis) will be attracted by it, as the bee is 
attracted by the distant lotus. There is a tradition that Malik Muhammad commenced 
the composition of the poem in his own village, where it was not thought much of. One 
of his disciples wandered to Jayas and began to sing there the particular canto (Nagmiati’s 
song of the twelve months), which he had been taught. The Raja of Jayas was so 
pleased with what he heard, especially with the daha commencing kawala jo bigasata 
manasara, binw jala gaeu sukhai, that he invited Malik Muhammad to his city, and 
encouraged him to complete the work. 

3 Ceylon. The word dvtpa means both island and continent. 

$ A Padmini is one of the four classes of women and is supremely the best. The 
Singhalese women are all supposed to be Padminis, omne ignotum pro mirifico. 


6 Here there is a pun on the word (dipa=dvipa), a continent or island, and dzpaka, 
a light. 


6 The poet now proceeds to compare Simhala, not with the seven continents of tradi- 
tion, referred to in line 4, and catalogued in the note to stanza i, 5, but with half-a-dozen 
imaginary continents named after parts of the human body. Diyd-dtpa, the land of lights, 
means the land of fair women’s eyes. Sarana-dipa (¢ravana-dipa) means the land of their 
ears. Jambi-dipa, Rose-apple-land, is the land of their raven hair, to which the black rose- 
apple is often compared. Layka-dipa, is the land of waists. Kumbha-sthala, jar land, is the 
land of their rounded breasts; a. v. l. is gabha-sthala (garbha-sthala) the land of wombs; 
and finally mahu-sthala (madhu-sthala), is the land of secret parts. Under this highly 
figurative language the poet signifies that the women of Simhala surpassed all these 
imaginary lands, each in its own peculiar excellence. 

7 The poet does not seem to be aware that Sarana-dipa (Saran-dip, Serendib) is 
actually Ceylon itself. Here, as pointed out above, the words also mean ‘ ear-land.’ 

8 Hindistin, or bosom-land. 

9 Or perhaps Gabhasthala, one of the nine divisions of Bharata-varsa (India); here 
used as equivalent to garbha-sthala, the land of wombs. The forest whither the bosoms 
fled is, of course, the necklaces, bodices, &c., under which they lay concealed, 


25-28] PADUMAWATI. 5 


Mahusthala! had destroyed mankind (and how therefore can I compare it 
with Simhala-dvipa), 

In the whole universe, in the world are seven lands, but none of them 
is excellent beside the land of Simhala. 

26. Gandharva-séna was a fragrant? prince, He was its king, and 
that was his dominion. I have heard of King Ravana in Lanka;* greater 
even than his was his majesty. Fifty-six times ten millions formed 
his battle-array, and over all were princes and commanders of forts. Sixteen 
thousand horses were in his stalls, black-eared and gallant steeds.* Seven 
thousand Singhalese elephants had he, each like the mighty Airavata® of 
Kailasa.® He is called the crown of lords of steeds, and with his goad he 
causeth to how low the elephants of lords of elephants. Over lords of men 
IT call him asecond Indra, and in the world I also call him the Indra’ of 
the lords of earth. 

So universal’ a monarch was he, that all the earth feared him. All 
men came and bowed their heads before him, no one dared to emulate him. 

27. When aman approacheth this land, ’tis as though he approacheth 
Kailasa the mount of heaven. Dense mango-groves lie on every side, rising 
from the earth to the very sky. Lach tall tree exhaleth the odours of mount 
Malaya,’ and the shade covereth the world as though it were the night. 
The shade is pleasant with its Malaya-breeze; e’en in the fiery month of 
Jyéstha! “tis cool amidst it. It is as though night cometh from that shade, 
and as though from it cometh the greenness of the sky.!! When the way- 
farer cometh thither, suffering from the heat, he forgetteth his trouble in his 
blissful rest, and whoso hath found this perfect shade, returneth ne’er again 
to bear the sun-rays. 

So many and so dense are these groves, that I cannot tell their end. 
The whole six seasons of the year'!* do they flower and fruit, as though it were 
always spring. 

28. The pleasant thick mango groves bear fruit, and the more 
fruit they bear, the more (humbly) do the trees bow their heads. On the 


l Or Méwasthila. 

2 There is here an alliteration between Gandharva, and Gandha, scent. Some of the 
MSS. have Séni for Séna throughout the poem. This would lead one to restore the word 
to the Sanskrit Sainya, or Cyéna ( wa = A hawk, used like Simha) were there not a strong 
tradition in favour of Séna. 

3 The identification of Lanka with Ceylon is a very modern idea, ९. g., Varaha-mihira, 
Brhat-samhitd, xiv, ll, 5, mentions Lanka and Simhala as different countries. 

4 Cyama-karna, black-eared, is a technical name for a horse. It is the kind used in 
sacrifices. Tukh&ra means ‘horse.’ 

8 The name of Indra’s elephant. 

6 Civa’s heaven. Here taken for Indra’s heaven, Indra-puri. 

7 Here Indra is referred to in two aspects. First he is the mighty king of the lower 
gods, and hence supreme over lords of men; and secondly he is the storm-god giving 
refreshing showers to the earth, and hence an object of worship to everyone who lives 
by cultivation. 

8 Cakkawai=Cakravartt. 

9 The Western Ghauts (ghd@ts), famovs for their growth of sandal trees. 

0 The hottest month in the year, May-June, with its pitiless burning blue-grey sky. 

lL This is an example of the rhetorical figure utpréksd, or Poetical Fancy, with the 
word expressing comparison omitted. The poet fancifully states that this shade is so 
dark, that from it is produced all night, while the green shade of the sky is its reflection. 

i2 Hindis divide the year into six seasons of two months each. 


6 PADUMAWATI. [28-30 


main branches and trunks! of the jack trees, the jack fruit ripen, and fair 
appeareth the barbal? to him who looketh, The khirni® ripeneth, sweet 
as molasses, and the black wild plum,* like black bees (among its leaves). 
Cocoanuts ripen and ripeneth the khurhur;* they ripen as though the 
orchards were in Indra’s heaven. From the Mahua® doth such sweetness 
exude, that honey is its flavour, and flowers its scent; and in these princes’ 
gardens are other fruits, good to eat whose names I know not. They all 
appear with nectar-like branches, and he who_once tasteth them remaineth 
ever longing for more. 

Areca? and nutmeg, all fruits, are produced there Iuxuriantly. On 
every side are thick groves of tamarinds, of palmyras, and of date-palms. 

29. There dwell the birds, singing in many tongues, and sporting 
joyfully as they look upon these nectar-branches. At dawn the honey- 
suckers are fragrant, and the turtle-dove cries out ‘ tis thou and only thou.’® 
The emerald-parroquets® sportively rejoice, and the rock-pigeons ery kurkwr, 
and fly about. The hawk-cuckoo! crieth for its beloved, and the skulking 
warbler shouteth taht khi. Kuht kuht ever crieth the cuckoo, while the 
king-crow!! speaketh in many tongues. ‘Tyre, tyre’ crieth the milkmaid- 
bird, !2 while the green pigeon!® plaintively telleth its tale of woe. The pea- 
cock’s ery ki kii soundeth sweet to the ear, and loudly caw the crows. 

Filling the orchards, sitteth every bird that hath a name, and each 
praiseth the Creator in his own tongue. 

30. At every step one cometh upon a well or reservoir,!* adorned with 
seats and steps. Many are the springs scattered about, one named after 
every holy place of pilgrimage. Around them are built convents and 
temples, where devotees sit in austerity and mutter prayer. Here are 
great saints,!® Sannyasins, devotees of Rama, and Masavasins; Mahéevaras, 


l The jack fruit grows only on the stems and main branches of the trees, not on the 
younger shoots. 

2 Artocarpus lakoocha, Roxb., A sweet-acid fruit, yellowish red and nearly round. 

8 Mimusops hexandra, Roxb. 

4 Bugenia jambolana, L. 

5 Ficus cunia, Ham. 

6 Bassia latifolia, Roxb. 

Gud and supa? are varieties of the areca or betel nut. 

8 Its ery is éka-i ti-hi, ‘ one alone, only thou.’ 

9 The sérau is a bright green parroquet. 

30 The Papiha or Hawk-cuckoo, (Hierococcye varius, Vahl) is not a sparrow-hawk as the 
dictionaries say. Its cry is piu’piu, ‘beloved, beloved.’ The ordinary native tradition is 
that it says % kaha@ ‘ where is my beloved.’ It is the ‘ Brain-fever bird’ of Anglo-Indians. 

ll The Bhrygaka or Racket-tailed Drongo (Dissemurus paradiseus, L.), is not a sparrow- 
hawk, as the dictionaries say. It is a sort of king-crow, it is an excellent talking-bird. 

38 The mahari is said to be a bird like the mahokha (cuculus costancus, Roxb.), but 
smaller. Its ery is dahi, dahi, ‘tyre, tyre, and hence it is also known as gwélini or ahirint 
i.e, milkmaid. 

38 The cry of the h@ril or green pigeon (crocopus phenicopterus, Latham) is ha hari gat 
“alas I have lost.’ It lives in the various fig trees of India. It is said never to rest on the 
ground. When it descends to drink, it sucks up water, from a short distance aloft, through 
astraw. When it dies, it falls to the ground with its feet in the air, rather than allow 
them to touch earth. 

l4 A bawari is a large masonry well with steps leading down to the water. 

35 Many of the sects mentioned iu this list are described in Wilson’s Religious Sects of 
the Hindus. The Commentary also gives a full account of them, Sannydsins (W. p 32) 
consider themselves dead to the world and go through a funeral ceremony in their life 


80-37] PADUMAWATI. i7 


Jangamas, Yatins, worshippers of the left-hand and of the right-hand Dévi. 
There are .Brahmacarins, and there are Digambaras to whom it seemeth 
good to go naked. There are Santas, Siddhas, Yogins, and Pessimists 
seated on the path of hopelessness. 


Sévaras, and the like, Vana-prasthas, Siddhi-sddhakas, are all seated 
there, mortifying their earthly frames. 

3l. What can be compared to the water of the Manasarddaka lake, full as 
the sea and as unfathomless? Its water clear as spotless pearls, like ambrosia 
scented with camphor. From the isle of Lanka have they brought the lapis 
lazuli,! and with it built the landing stages. On each side have been made 


time. They lay aside the brahmanical cord and carry a staff (danda) which they never lay 
upon the ground, and which they consider as a witness of all their actions. They are hence 
also called Dandins (W. 43, 9l). Réama-yatins are Vaisnaya mendicants, who worship | 
Rama, like the Vairagins of AvOdhya. MJdsa-vdsins, are those who abide for a month in 
one place, and then wander on. Mdahécvaras are mendicants who cover themselves with 
ashes, and adopt the traditional appearance of Giva, whom they worship. Jangamas 
(W. 29) are ever on the move. They usually worship Vira-bhadra, who destroyed 
Daksa’s famons sacrifice. This legend is a favourite subject of sculpture at Elephanta 
and Ellora. As regards Yatins see W. 387., They are Jains who have taken orders. 
Dévi is the object of worship of the v@ma, or left-hand Caktas, and Sati of the daksina or 
right hand ones. See W, 240, 254, 250. A Srahmacdrin isa religious student, living 
under the supervision of his spiritual preceptor (W. 237). Digambaras are naked vagrants, 
such as Paramahamsas, Nagas and the like. Some Vaisnava sects call themselves Digam- 
baras, but wear white clothes. Jainas are divided into Digambaras (naked) and (@vétam- 
baras (white-dressed) (W. p. 276). Santas are merely religious people generally. Siddhas 
are YOgins who have arrived at supreme perfection (adepts). They have eight supernatural 
powers (siddhi), viz., anima, the power of becoming infinitely small, mahimé, that of 
becoming infinitely great, laghimd@, of becoming infinitely light, garima, of becoming 
infinitely heavy, prapti of reaching infinitely far, prakamya, of obtaining at once whatever 
is desired, icatva, of infinite sovereignty, vagitva, of infinite power of subjection. Ydgins 
are Caiva mendicants claiming spiritual descent from Goraksa-nitha. They claim the 
power of acquiring, even in life, entire command over elementary matter by means of 
certain ascetie practices (W. 205). An adept Yogin (or Jogi) isa Siddha above described. 
Readers of the poem will have much todo with Ydogins, for king Ratna-séna and his 
followers become such. A Viydgin is a pessimist, soured by unhappy love. Viydga, lit., 
dis-union, in this poem is specially used to mean the condition of a lover who is separated 
from his beloved. Sé@varas (the word is a corruption of the Sanskrit Cabara) go about 
in troops, with matted hair, and red-ochre-colonred garments. They call themselves 
Caivas. To mark their triamph over sensual desires, they affix an iron ring and chain to 
the male organ, which they also mutilate. Wilson (236) calls them Kara Liygins. They 
extort money by pretended miracles, such as wringing Ganges-water ont of their dry 
matted hair. Khéwaras are a sub-variety of the Séwara’s They carry skulls. One of their 
tricks is to turn spirituous liquor into milk, and then to drink it. Another is to rub the 
palms of their apparently empty hands together, till they bring forth Wheat, Gram, and 
the like. The name is a fanciful one, derived from Séwara. A* Vana-prastha is a Brahmana 
of the third order who has retired from domestic life to the forest. A Siddhi-sadhaka is 
the same as a Siddha. An Avadhita is a man who has shaken off restraint. Thus 
Ramananda called his Vaisnava disciples Avadhita, because they had shaken off the ties of 
caste and personal distinction. So Qaiva mendicants, such as Paramahamsas who go about 
naked are Avadhitas. Hach of these ascetics is represented as mortifying his bhatatman or 
body considered as composed of grosser elements, into which it must ultimately be dissoly- 
ed. The five grosser elements are earth, water, fire, air and ether. Hence pajicatva, or the 
condition of being five, is used to mean death. By mortifying these elements, the soul 
acquires ultimate release from the round of transmigration. 

l The lapis lazuli is the stone of Lanka. It is popularly supposed to be the conglo- 
merate ashes of that city after it was burnt by Rama, the gold spots in it being the relics 
of the ornaments which weré burnt at the same time. 


5 


]8 PADUMAWATI. [3l-3 4 


winding steps on which the folk ascend and descend on all sides. The 
lotuses bloom there beautiously scarlet, with their clusters of thousands upon 
thousands of petals.!| The swans overturn the shells, from which pearls 
fall out, which they pick up and sport as they doso. Beautiful swim these 
golden birds,? looking as it were statues cast in gold. 

Above around lie the banks, with ambrosial fruit on every tree. He 
who hath but once seen the fairness of these lakes, loseth for aye both 
thirst and hunger. 

32. The maidens come to draw the water, each in form and figure a 
Padmini. Their limbs are odorous of the lotus (padma), and the black - 
bees hover round them as they come. Waisted like lionesses, and with eyes 
like lotuses,* swan-like in their motions, sweet-voiced as the cuckoo. In 
numbers they come, row upon row, charming the eye with varied gaits. 
Over their moon-faces shine their golden jars,’ as, in joy and sport, they 
come and go. Struck, as it were by a dagger, by her coquettish eyes, is he on 
whom the glance of one of them is fallen. The black cloud of her hair falleth 
from her head to her feet, from behind which flasheth the lightning of her 
teeth. 

Like images of the God of Love® are these nymphs? of matchless charm. 
If these water-maidens are so beauteous, how lovely must be their queen! 

33. To tell of the lakes and lakelets is more than I can do. So broad 
are they that vision cannot cross them. How many are the lilies that 
bloom there, like stars risen in the sky. The clouds come down to them, 
drink their water and ascend, while within the fish (carried up into the 
air) gleam like lightning. Happily with each other swim the feathered 
fowl upon the surface, white are they and yellow, and red of varied hue. 
There sport the ruddy goose and his mate, whose lot it is to wake the night 
apart, and meet by day. There joyfully sporteth the Indian crane, (re- 
membering that, not like the ruddy goose) he liveth and dieth in the com- 
pany (of his spouse).? There are the lotus, the gold crane, the stork, and 
the /éd7,'! and countless fishes piercing the waves. 

There, in those lakes, lie priceless jewels, shining, e’en by day, like 
lamps; and he who diveth therein, findeth the pearl-oyster. 

34, On every side are ambrosial gardens, filled with* perfect fruit, and 
carefully watched. There are the fresh coloured! lime and the pretty 
orange-citron, the almond, and figs of various kinds. Elephant lemons 


l The excellence of a lotus depends on the number of its petals. 

% The Golden Swan. 

3 The best of the four classes of women. The Padmini, Citrint, Caykhini, and Hastini. 
In a later portion of the poeta, Raghava-caitanya, describes them to ‘ Alau-d-din. 

4 Saraga is like Mark Twain’s zug. It may mean almost anything. Here it means a 
lotus or a deer. 

5 The sun is often compared to a golden jar. 

6 Maina=Madana= Kama-deéva. 

7 Achari=apsaras. 

8 The fable about the cak’wa and cakai is one of the commonplaces of Indian poetry. 

3 The legend is that a pair of these birds cannot bear to be separated. If one dies, the 
other dies also. 

i0 A fish-eating bird which I have not identified. Itis the Ardea sibirica, the same 
as the sdras above translated by Indian crane. 

ll Not identified. It is a fish-eating bird. 

\2 Or perhaps nau-raga may be for naraygi orange. 


34-86] PADUMAWATI. १9 


and citrons are ever ripe, and the glowing oranges are full of juice. Raisins! 
and apples with fresh leaves, pomegranates and vines delight the sight. 
Pleasant appeareth the Indian gooseberry, and the clusters of plantains are 
humbly bent (by their excessive weight). There fruit the mulberry, the 
averrhoa, and the red currant, the corinda, the jujube and the cirdnji-nut.? 
There is the sorrel,* and the date, and other edible fruits both sweet and sour. 

They lead the water from the wells through irrigation channels with 
mapy a dam,* and with the pulleys of the Persian wheel, water they the 
black currants. 

30. Again, all around are flower-gardens, with trees imbned with sandal- 
odour. There bloometh the ghana-valli,® with its many blossoms, the fragrant 
screw-pine, the fragrant yellow-flowered campaka,® and the Indian and Arabian 
jasmines.? Beauteous are the basils, the kudums,? and the kija-roses,® and 
scented are the Abelias, which only king Gandharva offered at the time -of 
worship. The rose-chesnut, the marigold, the jasmine and the weeping- 
nyctanthes are in these gardens.” The oleaster and the dog-rose bloom, the 
ripa-manjari,!! and the clove-scented aganosma.!# There do men plant 
bunches! of the Spanish and of the Indian jasmine, and the flowers of the 
roseapple lend their charm. The maulasiri!* creeper and the citron, all 
these bloom in varied hues. , 

Blessed and fortunate is the man whose head is crowned with these flowers. 
Fragrant do they ever remain, like spring and its (fragrant) festival. 

36. Whena man seeth Simhala’s city, and how it is inhabited, he crieth 
‘ Blessed is the king whose kingdom is so fair.’ High are the gates, high 
are the palaces, high as Kailisa!> the abode of+Indra. In every house each 
one, great or small, is happy, each one appeareth with a smiling face. They 
build their sitting platforms with sandal, and plaster them with aloes, meda!® 
and saffron. Each pavilion hath its pillars of sandal, and therein sitteth, 
reclining, a lord with his councillors. Fair is the sight, as a council of the 
gods, as though a man gazed on the city of Indra. All the councillors are 
experient, wise, and learned, and all the words they utter are «in the Sanskrit 
tongue. 

Fairies build the roads, so that the city is bright as the heaven of Civa, 

.and in every house are fair Padminis, whose beauty enchanteth the vision. 


l The poet does not seem to be aware that raisins are dried grapes. 

2 Buchanania latifolia, Roxb. Its kernels are eater like almonds. 

3 The Gaykha-drava 

4 See Bihar Peasant Life, § 99 

The dictionaries give Ghana-valli as a synonym of Amrta-sava. The latter they say 

is‘a certain plant.’ Dr. 6. King suggests that it is probably the Tinospora cordifolia, 
Miers. Its blossoms are small in size, but numerons, as the poet says. 

6 Michelia champaca, L. 

T Jasminum pubescens, Willd. (kunda), and the jasminum sambac, Ait. (camélé). 

8 Anthocephalus cadamba, Miq. 

9 Kaja is a kind of rose, Rosa Brunoniana, Lind. 

0 Abelia triflora, Br. 

lL Not identified. 

2 Aganosma caryophyllata, Don. 

3 Bakucd means a bundle ora bunch, and bakucanha is its obl. plur. 

4 Mimusops elengi, L. ; 

l6 Again, Civa’s heaven is confused with Indra’s. 

l6 A root like ginger. 


20 PADUMAWATI. [87-39 


37. Again I saw the markets of the city, all stocked with the pros- 
perity of the nine treasures.! The golden markets are plastered with saffron, 
where sit the great merchants of the isle of Simhala. They cast the silver 
and hammer out the ornaments, and carve out images in countless shapes. 
Gold and silver lie abundantly scattered about, and the house-doors are hung 
with glistening curtains. Jewels and gems,? rubies and pearls, set in the 
doors, give forth a fine sheen, and the shops are filled with camphor, scented 
khas grass, musk, sandal and wood of aloes. What gain would any market be 
to him who bought not here ? 

Some there are who buy, and some who sell. Some come there and 
make a profit, some come there and lose their capital. 

38. Again the mart of beauty® is a prosperous place, where sit the 
painted courtezans,—their lips red with the betel leaf, and their forms 
hidden ’neath safflower-coloured veils. From their ears hang jewel-stud- 
ded earrings ; with lute in hand they entrance the very deer. Who heareth 
their songs becometh enchanted, nor can he ‘move his feet. Their brows are 
bows, their eyes are skilful archers, and, sharpening them on the whetstones 
of their glances, they discharge their arrows. On their cheeks swing pen- 
dent curls as they smile, and men’s lives take they with each side look 
that they throw. The twin bosoms ‘neath the bodice are two dice which 
they cast as it were upon the game-board,* as each, in her (wanton) nature, 
letteth her bosom-cloth slip aside. Many a gambler hath lost the game 
with them, and, wringing his*hand,° hath gone away with broken heart. 

Magic use they to captivate the heart, so long as the purse-knot in the 
swain’s waistband is not untied. When once it is untied, beggared doth he 
wander forth and take the road, for no more do they recognize him or allow 
him to resort unto them. 

39. There sit the flower-girls with flowers and their neatly arranged 
rows of betel unsurpassed. The perfume sellers sit with their goods, tying 
plenteous camphor and catechu.® Here, are learned men reading holy books, 
and telling the people of the path of virtue. There, are others reciting 
stories, and elsewhere men dance and leap, Here, buffoons bring their 
sights, and there, puppet-showmen make their dolls to dance. Here, is 
the sweet sound of singing, and there, actors and magicians show their . 
skill. Here some practise the lore of thags, and there (other villains) drug 
men, and drive them mad. 


l The nine mystic treasures of Kuyéra, the God of wealth. They are named Padma, 
Mahapadma, Gaykha, Makara, Kacchapa, Mukunda, Nanda, Nila and Kharba. It is not 
at all clear what they are. They are possibly auriferous ores. See, however, Wilson’s 
translation of the Mégha-dita, note to v. 534. : 

2 Paddratha, a gem, usually means, in this poem, a ruby (Ux), but here it is evidently 
used in its general sense. 

3 The Courtezans’ quarter. 

4 Caupar or sara is a game very like backgammon. As in that game, a man by itself 
is a blot, and can be taken up by the opponent. When two men of the same player 
come together on the same place, it is called juga, ४. ¢., the blot is covered, and the move 
is a decidedly winning one. The game is played with dice as in backgammon, 

६ When a gambler is bankrupt, it is etiquette for him to wring his hands to show that 


they are empty. 
6 Khirauri are pills of catechu wrapped up with other spices in betel leaf for chewing. 


39-42.] PADUMAWATI. tle श़ 


Agile thieves, knaves, robbers and pick-pockets all are there and 
dance their dance; and only the pockets of those escape, who are wide awake, 
and look ahead in this bazar. 

40. And then a man approacheth Simhala’s fort; how can I describe 
what seemeth to reach to the sky? Below, it reacheth down to Vasuki’s ! 
back; above, it gazeth upon Indra’s heaven. Surrounded is it by a deep 
and zigzag moat, so deep that no one dareth to peep (over its edge) or his 
limbs will tremble. Impassible, deeper than one can see, its very sight 
causeth fear. Who falleth therein, down down to the seven Hells will he go. 
Nine crooked gate-ways hath the fort, and nine stories. Who climbeth the nine 
will approach (the limit of) the mundane egg.? The golden bastions are 
studded with glass, and look like lightning filled with stars. That castle 
seemeth taller than that of Lanka, and wearieth the sight and soul that 
gazeth on it 

The heart cannot containit. The sight cannot grasp it. It standeth 
upright like Mount Sumern. How far can I describe its height? How 
far shall I tell of its cireumference ? 

4], The sun and moon (cannot go over it but) make a circuit round it, or 
else the steeds and their chariots would be broken into dust. The nine gate- 
ways are fortified with adamant, anda thousand thousand foot soldiers sit 
at each. Five captains of the guard* go round their watch, and the gate- 
ways tremble at the trampling of their feet. At each gateway of the fort 
is a molten image of a lion, filling the hearts of kings with fear. With great 
ingenuity were these lions cast, in attitude as if roaring and about to leap upon 
thy head. With lolling tongue they lash their tails. Elephants are filled with 
terror at them, lest they should fall upon them witha roar. A staircase 
fashioned of gold and lapis-lazuli, leadeth up into the castle, which shineth 
above, up to the very sky 

The nine stories, have nine portals, each with its adamantine gates 
Four days’ journey is it to the top, to him who climbeth honestly (without 
gainsay) 

42. Above the nine portals is the tenth doorway, at which ring the 
hours of the royal water-clock®. There sit the watchers and count the hours, 
watch by watch, each in hisownturn. As the clock filleth he striketh the gong 
and ‘the hour, the hour,’ it calleth forth. As the blow falleth, it warneth 
the whole world, ‘Ye earthen vessels,’ it crieth, ‘why sleep ye void of care ? 


l King of the serpents. He lives in hell. 

2 The universe, shaped like an egg. 

8 In the preceding stanza, the poet has compared the fort with Suméru, the central 
mountain peak round which the heavenly bodies revolve. He now carries the simile 
further. 

4 In the esoteric meaning of the poem, this city means the human body. The nine 
gates are the nine openings of the body, the mouth, the eyes, the ears, the nostrils, and the 
excretory organs. The five guardians are the five vital airs, the prana, the air expired, 
up-wards, apéna, that expired downwards, sam@na, that which circulates round the navel 
and is essential for digestion, vydna, that which is diffused tkrough the body, and udana, 
that which rises up the throat and passes into the head. The adamantine gates are the 
bones, the warriors are the downy hairs of the body, and the King is the soul, 

5 Akind of clepsydra. It is an empty bowl of a fixed weight and specific gravity, 
with a hole of a fixed size in its bottom. Itis set floating in a larger vessel, gradually 
fills, and sinks after the lapse of a ghar? or twenty-four minutes, A gong is then struck. 
On the expiry of each pahara (of eight ghar?) a chime (gajara) is rung. 


22 PADUMAWATI. [42-48 . 


Ye are 9ए 50% clay, still mounted on the Potter’s wheel. Still whirl ye 
round (in the circle of existence) nor can ye remain steadfast. As the clock 
is fulfilled, your life diminisheth. Tell me, why sleepest thou secure, 
O wayfarer? Yea, watch by watch, the chimes ring forth, yet your hearts 
are careless, and no soul awakeneth.’ 

Saith Muhammad, Life is but the filling of water, as in a clock or ina 
Persian-wheel. The hour cometh, and life is filled. Then itis poured forth, 
and all man’s days are gone. 

43. In the fort are two rivers, the Nira and the Khira, .each endless 
in its flow like unto (the store of) Draupadi.! Also there is a spring which is 
built of crushed pearls, whose water is nectar, and whose mud is camphor. 
Only the king drinketh its waters, which give him continual youth so long as 
he liveth. By it is a golden tree, like unto the wishing tree in Indra’s palace.? 
Deep down to hell go its roots, and up to heaven go its branches. So 
life-giving a tree, who can reach it? Who can taste it? Its leaves are 
like the moon, and its flowers like the stars, so that by it is the whole city 
illumined. Some by austerities obtain its fruit, and eating it in old age 
obtain renewed youth. R : 

Kings have made themselves beggars when they heard of its ambrosial 
delights. For he who hath obtained it becometh immortal, nor suffereth 
pain or disease. 

44, Above the fort dwell only captains of castles, captains of horses, cap- 
tains of elephants, captains of land, captains of men. All their palaces are 
decked out with gold, and each is as aking in his own house. Handsome - 
wealthy, and fortunate, their very portals are overlaid with philosophers’ 
stones. Ever enjoying happiness and magnificence*.no one ever knoweth 
what is sorrow or care in his life. In every palace is there the game of 
caupar, * and there the princes sit and play upon the boards. They throw the 
dice, and fine is the game, each without an equal in his sword and in his 
generosity. Bards sing of glorious deeds, and receive as their gift elephants 
and horses of Simhala. . 

In every palace is a garden, odorous of perfumes and of sandal. There 
nighé and day is it spring, through all the six seasons and through all the 
twelve months. ४ 

45. Again went I forward and saw the royal gateway; (so great a 
crowd surroundeth it that) aman might wander round and round and not 
find the door, At the gate are tied elephants of Simhala, standing up- 
right like unto living mountains. Some of them are white or yellow or 
bay ; others sorrel or black as smoke. Of every hue are they, like clouds 
in the sky, and there they sit like pillars of that sky. My tale is of Simhali 
elephants of Simhala, each one mightier than the other, Mountains and hills 
can they thrust aside; trees do they root up, and shake, and thrust into 


! From their names we may assume that one flowed with water and the other with 
milk. According to the Mahabharata (Vana-p.. 3. 72-74). Draupadi, the wife of the five 
Pandavas was a tnodel housewife. No matter how little she cooked, it was always exactly 
enough to satisfy her five husbands, and it was impossible to empty her store room. As 
soon as she had eaten her meal, after her husbands, the store room was found empty for 
the time being. रे : 

3 Again Indra’s heaven, Amariyati, is confused with Civa’s. 

8 Bhoga means pleasures of the senses, vildsa external magnificence. 

* See verse xxxvi, The board on which the game 'is’played is called sera, 


45-48. ] PADUMAWATI. 23 


their mouths. Must ones, wild with fury, bellow in their bonds, and night 
and day their drivers sit upon their shoulders. 

The earth cannot bear their weight;.as they put down their feet it 
trembleth. The shell of the mundane tortoise cracketh, the hood of the serpent 
of eternity is split, ! as these elephants proceed. 

46. Again, there are fastened horses at the king’s gate, but how qn I 
tell the glory of their colours ? The paces of the iron-grey, the dun, are famous 
in the world. The bay with black points,? the jet,®*and the dark-brown,* do 
I tell of. I tell of the sorrel, the dark bay,® the liver chestnut of many kinds, 
the strawberry roan, the white, and the yellow-maned® in rows. Spirited 
horses were they, fiery, and graceful; eagerly curveting, they rear without 
urging. Swifter than thought, shake they their reins, and snort and raise 
their heads to heaven. As they hgar their riders’ voices they run upon the 
sea. Their feet sink not, and across they go. Stand still they cannot ; 
in rage champ they their bits ५ they lash their tails, and throw up their 
heads. 

Such appear the horses, like the charioteers of thought. In the 
twinkle of an eye do they arrive where their rider would have them 2०.7, 

47. Isaw the royal-council seated there, and like Indra’s council did it 
seem. Blessed is the king who hath sucha council, which is glorious like 
unto a blooming garden.* There sit the princes with diadems on their heads, १ 
each with an army whose drums loudly sound. Comely is each with jewels 
shining on his brow, as he sitteth on the throne with sunshade o’er his head. 
Tis as though the lotuses of a lake have flowered, so entrancing is that 
council. It is filled with fragrant odours of betel, of camphor. of méda !0 
and of musk. Throned on high, in the midst sitteth king Gandharva- 
sena. 

His sunshade reacheth to the sky; and as he giveth forth heat like the 
sun, the lotuses of his council all do bloom at the might of his countenance. 

48. The king’s palace is mighty as Kailasa,!! of gold throughout from 
floor to roof. Seven stories high is it, only such a king could build it. The 
bricks are diamonds, and the mortar camphor; adorned with precious stones 
isit built up to heaven. Nach painted design that is there designed, is 
marked out with jewels of each kind of colour. Varied are the carving and 
the sculptures arranged in rows. Rubies shine along the pillars which, e’en 


l It is on these that the universe is supported. 

2 The hasul is a bay (kwmét) with black feet, 

8 The Jhawar or mushk? is black. 

4 The kiah is described as of the colour of the ripe fruit of the palmyra palm. 

5 The kurayg isthe same as the nila kwmét. 

6 The bulazh (Sky. vollzha) is a horse with light yellow mane and tail. 

The names of these various kinds of hor§ts has presented some difficulty. We have 

consulted many kind friends, more experienced in the veterinary lore of England and 

India than weare. For the curious in such matters, we may refer to, the Sanskrit book 
on Veterinary Surgery, the A¢va-vaidyaka of Jayaditya, quoted in the Commentary. 

8 The poet alludes to the brilliant effect of the many-coloured garments of the 
courtiers. 

9 That is to say they did not venture to remove “their head-dresses in the presence 
of Gandharya-séna. They were great, but he was greater. ह 

l0 Méda comes from the Népal Tarai. It is a well known fragrant medicament —a 
root of cooling properties. 

ll Giva’s heaven. Here probably, as tisual, confused with Indra’s, 


94. PADUMAWATI. [48-49- 


by day, blaze like luminants. The very sun, moon and stars hide themselves 
before the glory of the palace. 

As we have heard tales of the seven heavens,! so were arranged the 
seven stories, each separately, one above the other. 

49. I. would tell of the women’s quarter of the palace, like Kailasa ® 
filled with nymphs. Sixteen thousand queens, all Padminis, * are there, 
each more beauteous than the other. Very lovely are they and very, tender, 
living on betel and on flowers. Above them all is Queen Campavati, the 
chief quetn of exquisite loveliness. She sitteth upon her throne in all her 
grace, reverenced by all the queens. Ever varying in her moods and brilliant 
is she,—in her first prime, * without a rival. Chosen from: all lands was 
she, amongst them all a perfect sun.® Res 

Maidens with all the thirty-two ९ ae of excellence are there, and 
amongst them all is she matchless. very one in Simhala telleth the 
tale of her beauty. 


. 

3 See v. i, 5.. 

2 Again, it is Indra’s heaven, not Giva’s which is filled with houris. 

3*See v. xxv, 9. 3. 

4 According to Hindu rhetoricians heroines are of three kinds, the mugdhéor the 
Artless, the madhyd or the Adolescent, and the praudha or pragalbha, the Mature, perfect 
in form, and experient in all the arts of love. Campavati was a praudhd. 

5 The 2 kindy, refer to the twelve digits (kal@) of the sun. She was the sun in 
all its twelve digits, i.e., complete. 

6 The thirty-two points of a woman will be found described in the commentary. 
Some of them will not bear translation into English. 


CRITICAL NOTES. 


l. 2. Kinhesi, so apparently Ib, which seems to vocalize the final (७. The word 
may, however, be also read kinhisa for kinhesa. The other copies in the Persian character 
simply have rey, which which may be read either kinhesi, kinhasa, or kinhasa. Is 
and K haye kinhegi for kinhesi. U has kinhasa. Throughout the poem a short e is 
inserted to form the past tense. Thus dékhasi, he sees; dékhesi, he saw. Ia tinhahi priti 
kabilasz, Ibe parabata kabilasz, Id parabata kailasz, Is téhi priti ka bilast, U tiki parabata 
ka bilasz. In the Persian character oy 53 and ey and pels and ७2५४ are easily 
confused. In each case it is a question of a dot. There can be no doubt about the form 
kabilasz for kailas&z being right. The word is of frequent occurrence in the poem and is 
invariably spelt thus in the best MSS. It is a curious corruption, and has puzzled all 
copyists with Sanskrit predilections. 3. Ib has pawana agini, K agni pauna, Is bahutai, 
UK bahuté, P give noclue. 4. Is awatari. 

6. Ia kinhesi sapata dipa brahamandé 

Ib ” »  loga » 

Tomer; sata saraga yy 

Td ~ (illegible) ? séta péta mahi bhanda 
Is kinhesi sata sata brahamanda (sic) 

U kinhasa sata saraga 

K kinhesi ,, dipa हे 

Two printed editions follow Ia, except having mahi instead of dipa, Ia is adopted 
as making the best sense. 6. Ib duniara, U dinakara, K dunia. Printed editions dinésa. 
7. Is kinhesi stta ghama. 8. Id kinhasi saba asa. Ias dusarahi, U dusarahu. 9. Ia ta 
kara nat, K karaté kai nat let, Ia kathaé kahat, Id ४४), Is arigahi, printed editions and 
K wragahu. 

2.. Sata-u, so Ib, Ia U K have héma (U reverses the order of the two hemistichs), 
Is hiwa, Ie sato with hémaasay.l.on margin. Id sdta (also Ram Jasan), Ic? bdawara; 
KS (Sanskrit fafeiar for GSW) evidently puzzled the Nagari transcribers. Is has 
khanda khanda, U kinhasa parabata méru apara. The P copies are undecided between 
khikhinda and khikhinda. The former is probably the correct reading. 2. K mdcha, 
3. U wahu bharé, K jehi bhdlé, niramdlé. 5. U rahai, céhai, Nudai. 7. U phila au, 
Id K aukhadha. 8. Ia gogana antaricha, Ic gagana antarikha, Ib khabha, U lagai, rakhai. 
K nimikhi, karata tehi sabhai kinha chana éka, Ias have ohi, Ibed U waht. 

3. The order of these sets of cawpds 78 different in different copies. The above is 
the order of Iab U K, Icd begin 4, 3, and then go on as above. Is begins 5, 6, and then 
3, 4, &c., like Ia. 4, Icd dihest bada; Iac tehi pa, Id tehi khaz, Is tinha ja. 2. Ib 
bahwu sajuz, Ic tehi saju. 3. Iac U K bilasz, U K koufor kot. 4. Iacs U gehihoi. 5. Id 
transposes l]. 5and 6. Is jw sada sukha, U jiyana sada tinha K jiwa sada saba, U kon, 
6. Id U koti, Is bahw dandz; Id dhandw, U K amanda, dandéd. 7. U kou, Ia ati ghani, 
Id K puni ghdni, Is saga ghdnt, U ju ghant. 8. Ukou forkot. 9. Iacd ché@rahi, Is tinha 
chara, K bahuri kinha saba, 

4, Icds bhiwdséni, U bhimasainiya. 2. P mukha, which spoils the metre. 3. Id 
makes this line the sixth, Is amiya, Ibd jiwna jehi, Ibd tehi, Iads U K paé, khaé. 4, K 
karwi nimi jo phdri. 5. K lawai jo makhi, Icd K bhawara patdga, Is bhawara naga. 6. 
Ia K indura, Icd doubtful, Ibs N clearly wndura, Iacd rahahi. 7. So Iacd K, Ibs kinhasi 
rakasa déwa daétad, kinhasi bhokasa bhita paréta, U similar except . . . déwa dayanté, . 
bhita paranta. 9. Icd K dihisa, Ib U sabahi. 

5. l. Ias U ohi, K dhanaita hai jehi ké san°; Is U kd; Phaveka; Iad sabai, J nahi 
ghatai. 3. K sabhanha, U kou. 4. Is puts verse 4 after verse 5, U paragati gupati. 6. 


2 हे PADUMAWATI. [5-l0 
Ib khawawai, U dpuni khat, K dpuna khai, P might also be read thus. 6. K whai, lads 
86 67, Ic sabahi bhuguti dé aw giana ; Is K sabahi वक्ष, U saba kaha déhi. 7. Ia sabahi 
so ta kari hérai asa | ohi na kahu, &e. Is hari sdsa, ohi, U sabai, ta kara, 8686, ohi na kahu kt 
asa, K sabhai asa ta kari hari phért | ohi nahi asa ahai kehw कहर ||. 8. Tac ghatata, U K 
ghatai, U ubhai, tasi. 9. Id jo déta, U K dehi, K sabha té kara, 

6. l. Id addi éka baranat sd raja; K adi anadi karata jehi chaj@. 2. hed kardi, dai 
Tacs K jehi, tehi. Ibced achata, Is chatrahi achata nachatrahi, U nichatriya, K chatra 
nichatra nichatrihi; K ddsara koi na sarabari. 4. Is dékha, U K dekhu, P give no clue 
a third person singular seems required by the sense, Is lég@, ३6०96, Is cithihi, Ib karahi. 
U sajogz. 5. Tac K trina, trinahi, U udhdi, tinhat bajara ka deéhi badha, K tori u(?a)dar, 
6. kaha bhitkha bhikha dukha, Ia bhikha (?) bahuta, U dukha bhara, K bhauna bhikha dukha 
bhara. 7. Ibs K karai so jo mana cinta na hé?, la karai so jo mana cintd hor; K karat soi 
jo ohi mana hoi. 8. U asthir@ (which makes the metre right), Ias U jehi, K tehi. 9. U 
aru bhajai, K tehi bha>. 

प्‌. . Id reverses the order of ll. l and 2. U baranau s0, Ib saba ohi sa&% waha saba 
maha barata, K oha saba s6 saba mé waha baratd, Is has saw. 2. Is K jo saraba, U paragata 
guputi, Ta cinha na cinhata, Id cinha na cinhé. 3. Tana ohi saga, Id na kor saghata, U na 
kou saghata. 4. Ic na koi wahi jana, Is na waha koi jana, U na kow wé jana, K 0 ki sirajdna. 
5. [88 reverse order of ll. 5 and 6, K waha saba, Ib wahu na kinha, Is oha kinha, K unha 
nakinha. 6. Ia huté so pahilahi so hai 86, Is aw hai aba 86, K huta pahilahi aba hai soz 
Te sé puni rahai rah ai na na ko, U so puni, K rahai rahihi nahi kov. 7. Ia auru jo hohi, 
U aura kahai sd, K aura je rahai se ba, Ia marahi kai, K marai kari. 8. U jo wai cahas, 
Kkinhasi, K jo oha caha so kinhasi, lak karaht, U karahi ju cahahi kinha. 9. U nakaz, le U 
sabai cahi, K sabhai oahahi, U jiya. . 

8. l. Id लक jo, K cétahu, Ib purdna mé, Is gidnd, bakhind. 2. Teds jiu nahi, K jia 
nahi or jia nahi, la kara naht pai sabahi karahi, Is karai sawai, U karahi samdi, K karai 
sahurdai (7). 3. Ta reverses the order of ll. 8 and 4, Tb jo dolawe so dala, Id jo doldwahi 
dola. 4. Ic reverses the order of ll. 4.and 5, Is has 8876, gina, la U hiya nahi, Id hiyé 
nahi pai guna saba gind, U guning. 5. Ic ए bhati so’ jaz. 6. Ib कद koi ahi na ohi ké 
rapa, Ic om. this line. Tas om. hoi, U na kow hai ohi, K na kdi hoi hai ohi, la na@ kahit 
asa rapa anipa, Id nd ohi ka asa taisa anipda, Is na@ oha kdhu asa taisa saripa, U na kot asa 
taisa anipa, K na oha kahw asa rupa an apa; possibly Ta fits in best with the rest of the 
passage. 4. K na binw ohi that, Ie ripa rékha nahi, के niraguna naw. 8. Ie K na hat 
mila na bichura, U na hai mila na waihara. 9. U andhi murakhi kaha dari, Ibid mara- 
khahi. 

9. . Ic pwni jo dinhesi ratana amila, Is sabahi jo dinhesi, U dinhasi, K janahi 
Throughout, Is K have dinhesi and U dimhasa, cf. I. 2, n 2. Is bihis?, U bihasé, K dasana 
bihasi mukha jogz, lab logu for jogu. 4. Iac U jehi maha, U tihi maha, Ic reverses the 
order of Il. 4 and 5. 5. Iads 3867 jana jehi dinhesi nahi, K sd pai marama janai jehi nahi. 
6. Id jana ho, Is jana hoi, K jébana marama na jénai midhd, la mild nahi tarundpa 
dhiidha, Ie saba dhadha, K cahai na tarunapa cahai dhadha (sic), Is has midhé and dhudhé. 
7, Id sukha kara marama, this makes better sense, and is also the reading of Ram Jasan, 
K jehi ké dukha b@. 8. K bhdgi rahai anacinta. 9. Ib saba kara marama janw karaté, K, 
ghata raha ninta, 

JO. l. Ib karaté ké karanz, K karata kai karani, Tad barani na kot pdwai barand, Ic 
barani na par kahw kai barana, Is barani na kor jo parai karand, U barani na jai ahi bahw 
barand, K barant na kahw parar jo barant. 2. Ib saragasdta, Ia 8660 saraga kagada [०४ ka, 
To kagada hit, Is K jaw kagada, Ie hit for bharat, K dharati sata saraga ma”, U has karahi, 
bharahi. 8. Ic makes this line the sixth,.Ib transposes ll. 3 and 4, Ib roma, U jawata 
késa roma au pakha. 4 Ia réha kheha, Icd U khéha réha duniydi, Ib bina, K nakhata tara. 
5. U likhai sansara, Ic ati sami’, Is kabi ama, U bidhi carita apara, K kabi carita apart 
eS is evidently a misreading of wS. 6. Tacds éta guninha saba guna, U au saba guni- 
yana guna paragdta, K aba guna para’, Ib téhi samiida budahi nahi ghdtd, Ia bunda, Id 
aba-hu samiida maha bundana ghdtd Is aba-hw samiuda tehi bunda na ghdta, U aba-hi bada 
samiida nahi ghdta, K asin text, except nira for biada, 7. K garaba na utha, K garaba 
karai 86 baurajhitha. 8. Ib bahu guna’, U asa guna®, Tac 86 hoi tehi, Ib cahai sd tinha ho 
béga, U 86 hé tehi, K karai 86 cuha tehi béga, Ram Jasan cahai sawarai béga. 9. Id jd guna 
karahi anéga, Is jo guna cahai, U karai na nega. हे 


l]-I6 | PADUMAWATI. 3 

ll. . Ia nat, U K nama; U K niramala, kala; Id pind U pinou, K puniu 
2. Ia unha kai, Is tinha kaha, U joti tinha ki bidhi, K ta kara, Is tinha priti. 3. Iab U 
dipaka aisa, U bha a(a)jora. 4. bed ja na hota asa purukha ujyara. 5. Id nai, U that 
dat K thawa dad, Is likhé......sikhé, K likhd...stkha. Ta parhata, K bhaw dharami bhaw 
pandita sikhé. 6. Isjei nahi, Ia ohi nai, K janamabhara. K dinha naraka maha. Icd 
transpose ll. 6 and 7. 7. Ia ohikinhad. Ibds U kinhé...linhé. K utima basttha dinha oi 
kinha, Ibs U K dui, Iced do. Is U K juga; Id U K tarai nama. Ted ohi instead of jai, Is 
UKunha. 8. K aiguna, Ia pichiht, U ho kai. 9. Tac ohi, Is U unha, Id binawata, K 
tnha agé hama binaiba, Id karata, 

42, l. Ja caht dinha,Icd cahu ké duhit. 2. Ia taba dné, Ie wei ané, Is sidika daiya 
unha mané, K wni ané, U dina oi jané. 3. Ibe U puni jo. Id puni tehi, Ia jaba dé, Ib ohi 
dé, Is jai ७2, K jinha jaga adala dina kaha laé. 4. Yb bahu एक, ld bada pandita gini, U 
punt usi maha bada pandita. Ia U K likhé kuréna, The correction is evidently a scribe’s 
improvement. 5. Ia bariard, K bala té ka@pai. Ias sathi na koa raha jujhara (Is° rit). 7. 
K paramana. 8. K. kurdna for purdna,...sdi likhé kari grantha. 9. Is té saha, K té 
suthi. 


3. l. OU séra sdha, K séra saha, U sulatané......... bhand. Ia carihi, Ie cari-u. 
2. Ib transposes ll. l and 2. Ib ohi kaha chaja chatara aw pata, Is chaja chala au. 
U ohi chatra sdju au, K ohi pai chaja chatra au, Ila J K paté...... lilata. Ib rajai, Ic sabha 


vaja, Id sabha (or sabahi) rajanha (or rajahi), Is K saba r@janha, U saba rajanu (?); 3. Ia 
K gunawanta, Iced sabahi, Ib bidhi pura, Is nidhi para. 4. Ig nawai nawa khaduhu, K 
ndwa nau khadahi. The final word of the half line (63 may be transcribed either bha? or bhaé. 
All N give the former, but printed editions give the latter. So also (= may be either na? or 


naé, We prefer bhaz and na? as giving the best sense. Iad s@tahi. U dipa dunia, Is dipa dunia 
sira. 6. Ibds taha lagi. Ia kharaga bala, Icds kh? para; Ia jala karana na kinhd (uF Ja 
wkiS), Tb ७+४०४)- Icd ७॥)४४|५५, U julikandhara एके... 6, Tb déwai jabahi bhara 
mitht, U juga kaha jiwa dinha, K joga kaha jiti linha gah¢ mith?. Ia puhwm|| bhdra saba 
linha samhari || Ghi sakai puhwmipati bhari || K puhwmi bhara ohi éka sabhard a tau thira 
rahai sakala sansar@\| 9. la pa@dashaha, Te bédashaha, K tuha jaga para jagé tohara. 

4. 3. Idsdsaja. 2. lIahai ki rénu, Is hai gai saina. U hai maimanti calai. Ia 
parabata phtti hoi same dhurt. Ib uthahi hoi, Is parabata phuti, K tati jhikati. 3. Ia sara 
rainu hot dinahi garasé Ib parahi rainu, Is K raini rénu, Id omits this line. 3. K paa- 
chi. 4. Iac U K apara hoi chéwai brahamandaz. Ia délai dharati au brahamanda, U nawa 
khadi dharati sakala brahamanda, K khandai dharatt bhaw sata khanda. 5. Ia transposes 
this and the next line. U patdlahi jh@pa, lac K patarahi. jhapa. 6. Is bhai jahi. 7. U 
ghara bata. K kharha kata. Ia pachai paréd sd kadai, Id kaha nahi, K kuha kddaw nahi Gta. 
8. Ia giri tariwara kahi na rahé calata hota saba céira. Id hohi 86 curv. Is saina calata giri 
tariwara héhi sabai sata cura. U jo gadha naai na कक calata hohi té cara. K jo giri tarai 
na kahu té calata hoi sabha cura. 9. Tas U K jaba-hi. Ia calai. 

5. In Is this is No. 3. Ch. . Iabs jasa prithimi hor. J jasu. K kasa hoz. Icd 
cata. Is cifé, K bata calata dukhawai nahi kot, 2. U ddila aha, K a@dila kah@. Ib sama 
sdu. Usd wnt raha. K sari jaja na téha. 3. Tab adala jo kinha wumara. Tab bhai ani, 
U sigari, K kiridnd puhwmi jaha tai. 4. U kow. Ib suna. Icd mdnusa sat ujiara. 5. Is 
U gai siygha K gae séra. Is dua-w (? dita-w) pani, U dond. K dunaw pani pr. Ia chira, 
Ib K chanaht, Ischani. Ia hoi ningra, Ibed karai nira@r@a. K pani छठ karahi ninaré. 7 
Tb barihi, Ie waht sama, Id 049 di-hi sama. Is dubare baria dua-w, U baria éka, K dabara 
bali éka. 8. Icd saba prithimi asisai, Is sabai prithimi astsa2, U saba prathim? mili asisai, K 
sabhai prathimi asisa déi. Ia lai lai bhut matha, Ie dui hatha Id kara hatha U jora jora dou 
hatha. 9. Ia gaga jamuna, Ibd gaygana jamuna, les gaga jaune jaw lahi jala. U gayya 
jamuni jala jaw lahi, K ganga jawna jaw lagi jala. Ib ammura natha, Is J ammara matha, 
U tau lagi, Id amara to matha. 

6. In Isthisis No. 4 l. Ib kaha, caha. Idsabahi,K muha. 2. U caudasi cada 
dai sawara. Iabe U dai, Is daiya. UK tahu, Ic cahi adhika ai. 3. K jai papa. Is 
papa ghatai jat, U K jo, P jo orjau. U jagata juharai déi. 4 Ic K sabhui. 5. Iced 
purukha stra niramara. Is bha asa sitra pu’. U asi bhaye stra purakhi naramdla (sic). 
K asa ohi stra ndwa niramdlé Tbe daha. U kala. K का agar kdla. 6.° U héru. Ia 
jaa jat dékha rahai, Ib jo dékhai so rahai, U jo dékha@ so raha lubha?, K jo dékhai s6 raha 


4 PADUMAWATI. [ l6-22 


sharamai. 7% Ie sabaapara. Ib sur#pa. Other Ps doubtful, N sarzpa. Is darapawanta. 
9. Is K médani darasa lobhant. U médina darasi W. 

7. Here Is resumes the correct numbering. l. Tabe U daz, Is:daiwa, U daa. U 
badi, asi dani. 2. Icd K transpose ahé and kahé. Iced U Bali aw Brekrama dani, K Balé 
au Karna data bada. Is Hétama, U Hatama, K Heétima. 3. U sara-piji, Is K ghatai, 
U suméru bhadari doz. 4. Is dika dina, U dana dayka, Ia samida kai, lb U samundara 
para, 5. U kafcana barasi stra kali. K kaitcana barisa sara kali. 6. Ia bara eka maga. 
Other P 3 bira or biri. Iac janama na hii bhikha au naga. U janama hoi nahi 
bhakha naga. 7. bes jo kinka. U K dasi asiméda jagya jo. Ta tinha-hu swrasari dana 
na dinha, Ib dana punna sari tahu na dinha. Id sari sathi. Is sé-u na U sé uni cinha. 
K unha sabha ké dinha. 8. UK jagawpara, 9. U kow dai asi. 

8. l. Ia jehi (or jinka) mohi, Is tinha mohi, U té. P (exe.Ia) tinha or teht. 2. Ta 
lésé-hi eka péma. Ibd U K préma, Is pirama ‘sic). Ib wahi joti, U ohi jota, Id bhai 86 jote 
bha, Ic bhai niramala, K bhaw niramala. 3. Ib huta adhéra sé siijha, Ic huta jo adhéra 
asujha, Id illegible, Is ma@raga hato ddhiara so sajha, so U but adhéra, K ma@raga andha hota 
sd sujha. Ib bha wjéra, Ie U jaga jana, Id para sujha saba jana. 4. K rakhwu kai. 5. 
Nwunhi, P ohi or wnha. Ia bys Ie kar?, Id ohi kava méra po. Is poha kai, U paudhi 
kai, K unha mori kairihara (2) paudhi kai géhi......ghdta jaha rahi. Ia jaha dha, U ghati. 6. 
Tb ja ké, Ic ja kara aisa hohi, Id U K ja kara hohi aisa, Ia gaht béga let lawai para, Ib K 
turita bégi sd utarai, Is twrita bégi so pdwai. U turita हो lai lawai. 8. Is ot cist?, K rupa 
jai se jaga cada. K oi ati badé jagata maha. Ic hamaunha. Ic unha kara. 

9. l. Id ohi or unha. Is U unha, K tinha, U K niraméla, bhala. Tad ee Ibe &Sise 


Tb so bhagai, Ic sabha guna, U sabai guna. K sabhaga. Is U tinhaghara. K tinha ké ghara 
dui dipa, Ie aijidra, sdwarad. Is daiya sa°. K dad sa. 3. Tad = Ibe &&w, U sékha 


muhammada, Ia U K kdld, niramdla. 4. Is khanda khanda. U khakhanda tahu, K, 
khikhida tah?. 5. Is khabha, U jaga ki naz. 6. Ia téka, Is teku taba. U duht ke bhara 
sristi thira rahi | dona-hi kara tékt saba mahi, K tau tehi bhara jagata thira. 7. Is jinha 
darasyau au parasyau, K jinha darasé parasd unha payd. Is bhau, K bha. 8. K nicinta 
rahu. 9. All copies insert karia@ before khéwaka, except U jehi 76 nadwa hai kariyd, and K 
jehi ré néwa kariyaa@. The omission of either karia@ or khéwaka is required by the metre 
but, except U and K, all copies have both. K bégi so ldwai tira. 

20. l. Umohi dai kh@. K guru mahiudi kaha eka mai séwa. Iad ja kara, U tinha 
kara, K jinha mohikhéwa. 2. K dgé, Iad ee re Ibe 4६...५ U badahénai ; Ic U mohi dinha 
3. U K tinha ké 968, Tad >> 3७ Ibe ye ~ Is K surukhwu ra, U swrakhu rt. 4, Tas 
siddhanha purukhanha jehi saga khéla@ (Is has jyati), Ic jai ré siddha purukha saga khéla. 
K jinha siddhya purukhanha saga khéla. 5. U lagaé, K daniara......dekhalaé, Ibe U jehi 
paé, K mana ldé. All Pgive a5, N khidira. 6. Ia U K tehi haj?. Is jé haj?. U ani 
milaé saiyada, K lau lagde lei saidz rajé. 7. Id jo pai karanz, N saba karanz, P jibha para- 
ma (?) (er ), ऐ kath@. 8. tehi ghara ka hati céla, Id tehi guru ké hat, K waha ré guru, 
U K hwai céra. 9. Ia ohi tai, U jehi tai, K dékhana. 

2l. . K kali, K kali pani. 3. Ids asa, K ua stra. 4. U K abadabha nahi. Ram 
Jasan’s edition gives basdyana 867 but all P give (५१४० els 5. Ia taw suthi, Ib taw asa, 
Tec taba ati, Ids taw ati kinha, K taw waha, bhaeu. 6. Tas 3०४७. 7. K kdew hoi kattcana ke 
kéra@. 8. U tasa niramala tehi bhau. 9. K rupavanta bandwahi, Ila ripawanta gahi joahi, 
sé karahi gahi pau. Ib mukha cahahi kai, J mukha cahai kai. K mukha dékhana ke cau. 

22, l. Py U sira, K ora. 2. Ia yusufa mallika pandita gydani, Ib bahu gya, Td 
bada 9४०), K jo pandita gy@. All N have isaphafor yuswpha, Iac K pahilahi, K pahilé 
3. Tac wolf, Ib we, Id wy: Is kandana. Ib khadahi, U ubhai, K uthai job@. 4. U 
apard, jujhara, Ia khéta au, K briga sitaraini (?) jo kharaga joharé. 5. Iabe BSaw, Id 
2२५ Ib K bakhani, jant (K mani), Iabd bada jana. Is s@dhunha. 6. Ia catura guna dasa 
wei, Ib K dasau guna. U card catwra aw dasi guna (sic), Iced aw sdga joga, K aw saba joga 
Is repeats the last line by a mistake of the copyist. Printed editions have simha joga. 
7. Ibjo répahi, U jo upajai. K purukha jo apé (ut for weet ). K jau bédhai basa. 
8. Iced bhd. 9. Ia satha nibaha. U yaha jaga dra nibaha, K satha jiwana bha ( (६:४७)३- 
for [g ०३३२ for [gai y=), Ia U bichwrahi. 


23-27] PADUMAWATI. 5 


23. . Ibd tahawa bahu, Ie taha una kabitanha kt. Is tah& awara, K tahd awani. 2. 
Ibs U aw bi, Id binatt kara. U kabitanha. K aw pandita so binati bhdja Ib bhakhé ... 
sakhé, Is bhaja@ ... sajd. Jad mérehu. Is meraehw. U titi mirdi sdwarahw sdja. K tutala 
sadwaraba aw merabai sijd. 3. N panditanha, U pachilagé ... daga. Is gai dagd K kichu 
kat cahau katha kara aga. 4, Tajo kachu piji, U hiyé bhadara ahi naga piji. Is khdlu, U 
lai ku. Is tara kt. K khélau, tala aw ki®. 5. Is U tolébo.° K bolaw bo°. Ia K péma 
rasa, Ids U péma mada. 6. Sola. Ib kaha tehi bhikha kaha tehi kaya, Ic kaha tehi rapa 
kaha kai kaya, ld kaha tehi bhikha kaha tehi maya. Is ka tehi bkakha nida ka maya. ए 
kaha tehi ripa kaha tehi maya. 7. Ia laut bhésa. 8. kaya, so UK. It makes good 
sense. P kabi 6 préma ka. Is kabi jo pirama ké bha tana rakata. 9. Ic sund to, Is 
sund ta. ; 

24. l. Tadhd... kaha. K ahi... kahit. All texts agree in giving the date (A. H.) 
as 947, Ram Jasan’s edition gives 927 which is certainly wrong. Ia tahi dina, kaha. 2. 
sént, 80 Is K. J has saina. 3. Ia swratdni. Is dhili sulitana, K dili, cétani,so allN. 4. 
N have séha not sahi, which is the usual spelling elsewhere. 5. Is katha dhi. Ia katha 
jo ahi, K adi anta kathd asi ahi ...... kaht. U bhakha mai caupa kaht. 6. Ic K bidsa jasa. 
la duri jo niarahi niaré dari, les dirihi niara niara bha dart, Id durihi niara jo niarahi dirz. 
U dari 88 niaré niaré dirt. 7. Ids saga kd, U samaka’. Ic K duri niara jaisai gura. 
Ids duri jo niaré sd gura, U diri so niaré jasa. 8. Ic-U K khanda tai. Is khandahw. Id 
U ki basa, Is kai basa. Ib U pdwah?. 9. Ib jo achat ohi paisa. Id K sada jo adchai pasa. 
Is dchahi. 

25. l. Is K gawau, sundwau, U gawo, sundwo. ld aw bahu padumini, J barana. 
2. U niramala darapana, K badana kudana (?) jasa bhdnu bisékha, Ia jo jehi bhati. Ib 
jehi jasa rapa sot tasa dékha, Id jo jehi, Is jo jasa rapa, U taisahi, K jehi jasa rapa so taisahi 
dékha. 3. Id dhani waha dipa. Is dhanya désa jehi dipaka. K dhanya dipajehi. Ia dai 
aware, Ib au bidhi padwmini autar?, Ia aw jo padwmini dat sdwéart, Is daiya sdwarz, U asa 
padumini dat autar?, K 6७ padumint dad autar?. 4. Icds saba baranai (Is baranahi) logit. 
Ibe K tehi sari. Id waha sari. 5. Ib wasa nahi wi’, U nahi asa, K tasa nahi. U trans- 
poses ll. 5and6. Is sarada-dipa, U saraga-dipa, K sara-dipa. 6. U sari nahi. Ia layka- 
dipa 860५ pija na taht, Ib layta-dipa nahi pijai chaht. Ic layka-dipa pijai parichahi. Ta 
layka-dipa puja parichaht. U layka-dipa na pitjai chahi, K layka-dipa na puja parichahi. 
7. Kumbhasathala, so Iab U, Ic k-s-th-l; Id, k-s-sa-h-l; Is kugasthila, K kdsathila. Is U 
para, hard, K ara bakhana@. Ia mahasthala, lb mai asthala, Ie mahusthala, Id U méwasthala, 
Is mahusthila, K méwasthila. 8. Is K prithim?, U prathyumi, Ia aw sdta-u saba dipa, Ib aw 
saba sata-u dipa, U aura ju sato, K au yaha sata-u. 9. lana upama, Ib na upara, Ie na 
pau, U uttama, K dipa tehi sari. 

26. l. Is K séni, U Gandharpa saina sukha hhandi, Ia dhana raja. Is raja aw ta. 
2. UK raja...saja. U (क्र cahi badi, Ktahi. 3. Ibe U K dala. K céraw disé& kataka, 
Au gadha is very doubtful. Uragahi is a possible reading of the Persian Character. The 


following are the readings of the various MSS. Iab 458 Jy! Ie as’ ॥ Id ( BS ,, yo ) Is 
oragé raja, U ghara ghara raja, K o raygana raja. All printed editions have aw gadha-raa. 
4. U sorahi sahasa, Id sahasa, K soraha laccha. Ib sawa karana baka tu°, Ic jasa baka, Id 
syama karana baka tumhara, Is séwa karana caliko torakhara (sic), U bara gané tu, K syama 
karana twradkt jo (sic) tokha@ra, The text has no difficulty if the technical meaning of 
gyama-karna is remembered, andif it is recognized that twkhara means ‘horse.’ 5. Id 
aru kailasa, Is imi kapila airdpati, U janu ka bildsa airdpati, K saké bandhi rautapai (sic) 
ati bali. 6. Ia sohdwai, Is asa-pati, U asu-pati ka, gaja-pati kd, K asu-patinha, K gaja- 
pati sira aykusa gaja nawat. 7. Ta nara-pati kahaw jo ahi narindi, Ib nara-pati ka au 
kahat, Is U nara-pati ka kahawa, K nara-pati maha kahalawai indz, Ta bhi-pati ka maha, 
Is bhua-pati, K bhua-pati jaga para ddsara ind&. 8. Jas U bhai hdi, K mo hoi. 9. K 
sabhai. % 

27. l. Ib johu (8), niarawé, Icd jo wahi dipa, K jo wahi dipa ké niaré jm. Ia 
bhau @, Iabds U kabilasa, K kailasa tinha niaré pa. 2. U K ghani 6०००७, U uthi bhami, 
K uthai bhami, Is laga. 3. U tariwara wcé sabai suhdd, K taruari sabhai milé ohi ja, Ib 
bhai tasi chaha, Ic sitala chaha, U raini kai aé, K ho jaga chaha raini bhai a. 4. Ta soha- 
wana. 5. U abu jamu chdha, K au asi chaha raini bha. 6. Ia jak sahi awai ghamu, U 
panthika cali dwai sahi. K panthika pahticai sahi kai ghama@ Ibs K, ghama, bisrama, U 
bisarai bhai sukha bisramd, K bisarai chana kai bisrdma, 7. Is K jinha waha, U jo pawar 


2 


6 PADUMAWATI. [27-3l 


waha chéha, Ia 86 dhipa, Io dukha dhitpa, Id tehi dhupa. 8. U asi 60076 suh@wani, K asi 
bara saghani ghani, Id parai, Is parahi. 9. Ie cahw disa, K philahi pharahi chaau, U 
manahu. 

28. Id ambha ( ? aaj} ), K ama. Id U swhaé. The“suha. Is K sohaé. Ia aura jo. 
2. Id péda mai paké. Id N Ia ati anzpa phala takai Ib badahari phara कूल Ie badahara 
séu. U awtadihari anipa suthi také. 3 Is pakalad jamu jo paki Is jabu jo paka. 
4, Iacds pharai phart K pharé au phart khajuri. Id pharahi janu. Ib sada@ janu. 5. Ia 
mahud cuai so adhika Ic puni mahu cuaiso Id cuai jo mahud so adhika Is punt madhu 
cuai so U puni mahud 85 bahuta K inhamé cuai madhura mithasti. Ia asa mithi—asa 
basz. Ib tasa basz. Id asa mithi. Is mitha. 6. Is dwana, U atidala bhaw. K anawana 
nai. Ia saba sdbhata. Ic Sabha. Id K jasarauna. U dékhé. K2 awra khawahajaé anawana 
nai, dékhi sabai rawanika abarad. K8 awara rukha jo awa na nau dékha sabai soha@wana that. 
7. Ia rasa ambrita. Is laga@. K lagd Ia jat cakha. Is koi ३०४७ cakhad U jai 76 cakha, K 76 cahai 
eakha. 8. Ic lavaga swparz, la U K jaiphala. Ic sabha. U au phara lagu apira. K phala 
pharé. 9. K abili. 

29. l. Ta K paachi. Ic karata. 2. Ib U K hota bélahi. Is K panduka. Ics tuht 3. Ia 
s6 raha. Je sora bahw karahi, Is rahasa karéhi, U stga@ sarod 6७ kurarahi, K rahasya karahi. 
The latter half of the line runs as follows in the different MSS. 


Ta ७३४9) ७४ 7६७ 92 92 ०७७४ 
Th erty ४ ७२२ ४ 
ieee, 


2 
Te ०४७ 9555 920२ Urs 


Td एस) 95 3 ७०२ rey 
is Sefe परेवा अऊ कुरुरेछों ॥ 
ए atts पषोह्मा पिड fas weet ॥ 
K ब्रोलह्ि परेवा BE गुरुशाहौं ॥ 


The verb 4/ karawar=kalabala is frequently used inthe poem. It must be some form of 
it which should stand at the end of the line. 4. Ib U make this the 6th line. Ia karahi, 
K karat lagé. Ia gudurd, Ib kiha@, Is kaha gu° Is khehd. K kai guru jo kaha. 5. Tac 
bah bahz. Is bahod baho, K bahaw bahau. lacs koili kai. 6. Ib dahiwdahiu 7. UK 
kuhukai, Is kikuhé. U kagawara karahi baithi so kagd. K kagurt karahi pukadrahi kaga. 
8. Ia paichi ahai saba, les pankhi jagata ké, U pankhi ahi jaga, K paichi kahi sravana, 
basahi sabhai abarau. 9. Is apani apani bhakha 

30. l. K kia kulawar?. Ia sa@jz. Ia au cawpatiri. Is sajé pinthi kaha jo pawart. K 
au cawpari. 2. Icds kunda bahu. Ic sabha Js tinha kara U sabake. 3. Iads K mandapa 
4, Iac U K kéi (U kow) rikhésura. Is koi visécvara. Tacs U K ko¢ rama. Icds U jen 
Tad koi bisuas? Ibe kot m s w ast Is K masawast U koi dast. 5. Iacs U K koi (U kou) 
mahésura. Id jégt jatt, Ib kot pu° Id koi sd. 6. Ia °caraja sé la°, Is brahmacarja U 
brahmacara K brahmacart. Iacs U K koi (U kou) कह, 7 This line has many variants, Ib 
is however clear. Jad koi sarasut? siddha, Is koi sunata, U kou sati santa siddha, K kot 
mauni suani jogi. U K pada. K gahé ७४, 

8. The various readings are 


la siura khiwra bana sabha sidha sadhaka abadhita, 
Ib siura khéra nanaka panthi snk adhika audhita, 
Ic siura khiund bana sikha sadhaka aw audhita, 

Id siura khiund sarasutt sikha sadhaka audhita, 
Is seward khewara bana para sidha sadhaka abadhuta, 
U jégi jati sannyast bahuta digambara dita, 
K seward hond banaspati sikha sadhaka abadhata, 


9. Ia jaigama jati sannyds? siurd au awdhita, Ib baithi saba mandapha paca ६, Id K 
paca at? 

Bl. . Iadékhat Is K baranati U manasaréwara ati augcha. \b pala hara(?) Ie K jasa ati 
Ids asa ati U jaha wara para nahi thaha 2. Ia jala méti, la U ambritawana Ib ambritabana 
Id ambrita nira K umbrita pani khira su.° 3. Las mdgai Ic? 8 dau ma K sara sila. U 
kanaka sila gadhi sidhi la Is so ghata sohai U badhdi, 4. Ia sidhi wpara, Ib bahutéri, U 
caht disi sidhi. Icd U K utarai cadhai, Is utarai laga 5. Id U phila raha. rati so Ib, all 


3-88] PADUMAWATI. 7 


others rata. U kamala. Ja pata. 6. Ia chitaraht K ulathaht moti manika hiré Icds cunahi. 
U cakai cakawa kéli. K dakha dékht mana rahai na third. 7. Ic lond, Is K paurahi, la U 
sdwaré soné, Icd kinha saba, Is likhad saba, K. likha@ gadhi. 8. Ib para, K beli cahi, Ib, 
suphalaskh n bahu raikha Is K phala U suphala pharai saba 9. K harai pydsa. 

32. . Ibe bharahi, Ib su-padwmini. 2 U paduma basa, Ia sahba sayga, K sayga udahi 
8. Is sdéraga baini. 4. Ia bahu patinha, U dwai 86 saba patinha. U. barana barana au 
bhatinha. 5. Ids K interchange lines 5 and 7, Ta 5 and 6. 5. Ia rahasi kidi saba dwahi. Ie 
rahasi kuda sat, Is U rahasa kéda sat, K rahasa kéli karata saba jahi. U ja saw cakhu 
hérahi paniharit. U K hanai. 7. Ia K. sira pa tai, Is sira yo tat. U meghawara, pai na tai. 
8. Is a@chari, U achat rapa antpa. Is U wé panihar?, lab té rani. 

33. U omits the whole of this stanza. l. Iad talé@wara barani, Is K tald@u barani nahi. 
Ia jehi nahi, K kachu naht 2. Ia phailai kawala kwmuda, K gagana para. 3. Is maccha 
kaccha kt. K camakahi mégha 4. Ics K bahw raygd. 5. Iskaréhi K camakahi cakawa. Ib 
nisi bicharaht au dinahi. Ic bichoha so, Id bichdhu jo, K nisi bichaha raha dibasa mi.° 6, Ta 
karaht hulasd. Is kwrurahi. Ie jétaht muat rdhaht eka, K mue-hu na bichurai hohi saga 
pasa. Ib gives yv.]. jiuna muai achat eka pasa. 7. For the first word we have adopted, kéwa, 
a lotus, which however gives bad sense. Some fish eating bird is referred to. We can make 
nothing of P. Iahas ? kn y 06, Ibnkthd,Icbnséornb sd. Idis entirely illegible. Is 
baka 8. Ibunha, K uha sarawara. K barahi joti jasa 9. K hoi parai 86 pawai mote sipa. 

34. l. UK lagi. 2. Is turwija jabhira, lcd U jabhira. Ia aw badama bédana. Ibd 
badama b2da, Is béda. U béra, K badama jo péda, 3. Is gagala suraga, U gala gala tuta, 
K naragi rakata raté. 4. Is naubara......mana tara. U nau-bata. IaU K darima. 5. Ta 
sohawana harapd, Ib haraphd, Is sohai su harapd, K alaga soha@_harapha. Is K aunai rahi, 
U unhai. Ia K kélanha, Is kérd. 6. K kamarayga newaji, la ditha. Ib rai sugandha cho?. 
K stkha dau U has an altogether different couplet, viz. 


पडनारी at aga मिठारू | 
मधु जसु मौठि Wey जसु बारू ॥ 


35. . K candana ké basa. Is phara aw phila, K pahupa phala lagé gha®. 2. Ics keola 
3. K kunjd, Is bikawra, K bakdwart, 4. satibaraga, so N. It is the Persian ors 3५2 which 
is so speltin P. 5. K sdna basana. Is sewat?. Is rapa-majari aw malati jati. All other 
MSS. have similarly a m@tra missing at the beginning of the second half-line. Accent must 
be used for quantity. 6. Is K bahuta suda®. 7. maulasart (mimusops elengi),—whenever 
this word occurs in the poem the MSS. vary between bdlasari and maulasar?. Ia maulasari 
jo béli, Ibe bolasart bélaé aw. Id bélasari 0९, Is mélasar?7. U maulisir? 007 K maulasarz 
an béili. Icd K sobhai K phula lagai 960७. 8. U badi bhaga. 9. U sugandhi wé, K sabhai 
subasa lai. K jasa basanta, 

36. I. Ia tasa basd, Is phiri basd, U jo ४458७, K siyghala dékhi adpuniu bdsd. 
3. Ids U K rayka. K 56 saba hasa-miikhi, 4. U makes this line the last of the 
stanza and has cv? ...... kastéivt. Id ract raci sdjai candana khabhad, thayghi sabha-pati 
baithai sabha. 5. K 86706 khambha—sabha, Ic. khabha—sabha, Id mixes up lines 4and 5. U 
omits this and repeats 4 with slight variations. 8. dhakd, so Iads, Ib ddhika Ic na&haka 
U K aw asi panthi. Ia sdbhata kala anipa. Is jasa si°, U janw kabildsa ani, K séwahi 
léga anzpa, Ia sabha darasana saba ripa, Iced U saba acharinha ké ripa. 

37. K has following order of verses 39, 40, 37, 88, l. K puni baranaw. 2. Ia kumakuma 
Ie kithikitht, Id kumakuhi, U hata kuykwma sé lipi, K kuykuma lipa dipa, Is baitha, U 
baithi, K baisu. 3. Ia hatd racai saba ripai, K raca hata sabha ripanha. U citara bicitara. 
4. Is rzpa saba bha?, U bhala para pa®. Is dhavala-sri. U pata khirawari, K patabahu kha. 
5. 8७ anawana, So labds K. The vowel points are carefully giveninIb. Ic hird@ lala pn 
sana bahu jott, U hira lala suanimanu. 6. K agara daund raha pirt. Ia gat isa hata na linha. 
Id U kinha, K (6 na hata tehi, Ia nahi laha@, Is kasa lahd, U K kata. 8. U kou throughout 
Ta K labha lai. Jab U K mila. 

38. l. Iahatakai, U K have kai siygara dhani baithi (K bais? 9609) 0686 ॥ mohai 
darasana rayka (K ripa) narés@ || Ie saba batthi. Iced sira cra, U 6७ civa, 3. K bénu, Ia 
mohita hohi paiga nahi jahi. Icds U nara mo, Is guna paigu. U nara pai?, K nara paraga 
na. 4 lasdniwat. 5. K phasi déhi. U K katacha jiw hari léhi. 6. K ménahi, Is 
tari, U K dai. 7. Ja kété kéli rahi tehi. U kité kha? K kété chaila rahahi, Ia ghari kai. 
8. K cadhé turd ruhahi wahi taw lagi jau lagi gatha raha pheta, Ia gatha hoi, U jaba 





8 PADUMAWATI. [88-46 


lagi. 9. This line is very corrupt. Ja uthi bhagahi, Ic om. ४८/७७, Id sathi nathi bhéti na 
pawat, U sathi nathi hwai calai batau, K sata nighaté uthi bhaew batau. The reading 
given in the text is that of Ib, The metre is however wrong. U puni pahicani. 

39. l. Ia K baithi singara hata phulawart. Ib phulahari. Id reverses the order of the 
two halves of the cawpd. Ic pana aniipa jo dha? K dhard. 2. Is U gandhi. K baisu. Ia K 
buhuta ka°, Ib méli kapira, Ic U phila ka®, Is U Kkhirauré. 3. Ia U K purana— 
bakhand. Ib dharama papa. Is dharama rasi. 4. K katha kabitta kaha kav, K bahu hor 
6. Ibndda béda dhuni bhdla. Is cétaka cdla 7. Ic thagaurit lai, Is kataht kanha thaga, 
U katahi thaga thaga 0४. Ia manukha. 8. U vrahahi té naca. 9. Is jo tehi néaca. 
All MSS exc. U insert agamanu after rahai. The word is superfluous and spoils the metre. 
Ta s6 baca, Id tai 860७, Is wai baca, U pai baca, Is U K gatha. The reading of this doha@ is 
very doubtful. 

40. 2. Kuruma. P give no vowel marks, Is kuribha. U janahi kurama. K 
taréhi rambha ba. Printed editions have karéht which is a possible translitera- 
tion of P RS for 2७.४ ए paraidi. 3. Ia khada phéra caha’, U carau disi baka. 4. Id parai 
jo, Is parai to. 5. Ia U 76 wnhi cadhai, Ic tinha ki ca°, Is K nau-hti jo cadhai jai. 6. Tb 
bharz naraka taha disa, Is U bharé, asi disda, K asa. 8. All MSS insert pahicai, after nahi. 
The word is superfluous and spoils the metre. U lagi suméru. 9. U kaha lagi karat buddi. 

4.. K has following stanza order. 36, 39, 40, 37, 38, 43, 44, 45, 46, 47, 48, 4], 42, 49, 
50. U om. 4l. Ia nahito hot. 3. Iateht bha?. K té छक्के, The latter half has an 
instant too many in all MSS. except Ic, Iad pdi. Ic jata for capata, Is kapai jagha. K kapat 
jagha dékhata khana pa>. 4. Ia rdw. Ie darapahi hati. K darahi guinda dékhi wnha tha?. 
6. K raté puchi. Is K jth@. The second half varies greatly. Ia Jilé lihd. Icd gunjari 
kinha. Is kajala Wha. K dékhi oi stha. All P have jtbhd in the first half, which, how- 
ever, does not rhyme. 8. K nauu paurt bhau khanda tehi. Id aw teht nau kéwara. 

42. l. Tanau-unha, Ic U K nau paurt. K dasama. K té para 2. Ia ghari jo. Ic ghart 
ghart so ganahi, Ia paharahi pahara so, Ie pahara pahara para, Ids pahara so apani 
apant bar7, U pahara so apan? apan?, K om. the latter half of this cawpa and the former 
half of the next. 3. Ia pzja taba mara. 4, U para su-dadi. Ic K kara, Id khara. 
Is mat? bhadé U kati nicinta. 5. Ic tumha to. K taba tehi. Ia bhaen so phéri nahi 
thira bacé, U rahé na jama té thira. 6. Ie tumha jaz, U jo bajai ghatai, K ghari jo 
ghatai. ghatai. Ia ka nicinta aba 866 ba®, Ib séai, Is nicinta hwai sdahw ba°, U kati nicinta, 
K nicinta bhai rahai bataw. 7. Ia hid basana ka jt guna 86, Is hia na suga@i, U hiya bajara 
pai j@, K hud na suna nishé jagata koi. K adds jaw lagi déva asta na ho? | taw lagi céta 
karahw nara 76 || Ib also inserts this on the margin. 8. Ia taja marana, K jiana dina 
bharana, Ia jaisa rahati ki riti. Ib kawnai rahati ki, K rahai gharz. 9. Ia छा marana ki, 
Teds ghar? so @. U jala bhar?, K bhart so dhar?t phiri bhar?. Ia U K janama gaeu taha biti. 

43. . Iagadhatara. U nira chira. 49 janahi 6४९, U pani bharai dwai drau- 
padi. 3. U ja sugandhi pani waha pid 4. The latter half of the verse has an instant too 
much if we spell indra as indara. U has kalapa braksa janw hai kabilasd, K kalapa tarw 
indra kabilasa. So Is has indra kabilasa. 5. Ia saraga ko sd. Ib saraga tehi sa. Id 
mira. Ic asa pau, Id kow paw na c@. Is U pawai ko ca. 6. Is cada pata. Id U 
jagata jaha, K nétra jaha. 9. U sati guru milai to pawai j6 sadhai tapa joga. 

44, . Is cari gadha°, U jara gadhi-pati. 2. Ib U saba ké. Is K dhaurahara, Tb apané 
apané saba ra’. Id K suba apané apané. 3. U ritpawanta saba basahi sabha®. 4. Icd N 
bildsa, Is sabai kaw ma°, K sabai sudha, Id koi nahi j@, Is kow kahti na ja. 5. U taha 
khe. 6. U pasa sara khéla taha kor, la K khéli bahu, U kharaga gahé sara pijani kor. 
7. U barandwat k°, U hasti-dana siy®. 8. U achiri baitht pasa. 9. Ib khata ritu, U 
chadi basanta aurw nahi khati ritu, Sc. 

45. l. Mahi ghiibia the reading is very doubtful, Iab have (५७०१ 55 2g 80 also Ic, 

ना 


omitting diacritical marks. Id ee 35 ten, Is mahi khubai, U mahi khidé. K mahi- 


pati jhurt na pawahi part. 2. K hathisi®, 3. Ic K koi-kor. U dhimaré karé. 4. U 

barana 86 janahu mégha. Ia bhara baithi gagana, Ibe gagana baithi, Ids U K gagana pithi. 
5. Is U baranau, U janu airapati kuali balt, Ia pahara parabata kaha pé, Id paha@ra panni 
kaha, Is pabaigahi pé°, U painasé 26), K palaw gahi pée°. Is U upari. K ucari ghéli. 
7. Icds K mata nimata saba. 8. Ic mahi hali. U kurama uthd hia sala. 9. Iac bhiit pha’, 
U jabahi calai gayandawé jagata parai bhai cala, K kurama pithi puni phatai wnha hastinha 
ké cali. 


ओजानकोवललभो विजयते। 


—o Qi 00 —— 


अथ सुधाकर-चन्द्रिका लिख्यते। 


दोचह्चा | 


लखि जननो के गोद विच 
होत मनोरथ सुफल सब 
जनक-राज-तनया सहित 
राजत कोशल-राज लखि 
fares निज जन जानि जो 
मिले हरखि निज बंधु ज्याँ 
का दुसाधु का साधु जन 
WEE सुधाकर-चन्द्रिका 
मलिक quae मति-लता 
जोरि जोरि सुवरन वरन 


मोद करत रघु-राज | 
धनि रघु-कुल सिरताज॥ 
रतन-सिंहासन आज | 
BAA ACE सब ATI 
SHI नोच तजि ara | 
ताहि भजहु हित जान॥ 
का विमान संमान | 
करत प्रकाश समान ॥ 
कविता aaa वितान। 
घरत सुधाकर सान॥ 


र्‌ प्रदुमावति | १ | असतुति-खंड | [१ 


aa पदुमावति लिख्यते। 
मूल ॥ 
अथ असतुति-खंड | 


चडपाई | 
सवरर्ड आदि wR करतारू | जेइ fae She ate dare ॥ 
arefa प्रथम जेति परगारू atefa afe परबत कबिलारू॥ 
कोन्देंसि अगिनि पवन जल खेहा। alefa बहुतइ रंग उरेहा | 
कोन्देसि धरतो सरग पतारू | alefa ata बरन Bue ॥ 
कोन्हदेसि सपत दोप ब्रहमंडा । कौन्देंसि qua चडदह-उ खंडा ॥ 
atefa fea fefanc ससि रातो। कौन्देंसि नखत ata पाँतो॥ 
कौन्हेसि ate धूप अड afer कौन्हेसि मेघ बोजु तेहि ater 
दोच्चा | 
ars HIT अस जा कर देसर छाज न काहि। 
पहिलइ afe कर als लेइ कथा करड अडगाहि ॥ १॥ 


टोका ॥ 


असलुति-खंड = स्तुति-खण्ड | 

यद्यपि खण्ड खण्ड में ग्रन्थ को रचना करना ग्रन्थ-कार के लेख से नहों' पाया जाता, 
तथापि बहुत पुस्तकाँ में खण्डाँ के नाम होने से अनुमान होता है कि De से लोगों ने 
इदूस ग्रन्थ का पुराणवत्‌ आदर करने के लिये पद्म-पुराण, स्कन्द-पुराणादि के ऐसा, इस 
में भो अनेक खण्ड कर डाले। इस खण्ड में इश्वर ओर गुरु को ग्रन्थ-कार ने ata कौ 
=i इसो लिये दस का स्तुति-खण्ड नाम पडा॥ 

wats -- सुमिर्ं । जोति-"ज्योति:ः। परगास्त्‌ "-प्रकाश । कबिलास्‌ "८ कैलास । 
ae = धूलि। उरेहा = उल्लेख, रचना । दिनिअर = दिनकर, GA! AIA = तारा-गण। 
सौउ 55 शोत | बौजु 55 विद्युतु, बिजुलो | अडगाहि 55 अवगाहन कर, डूब कर ॥ 


tia] सुधाकर-चन्द्रिका | 3 


में सबसे आदि ओर एक (अद्दितोय) जो कर्त्तार (कर्त्ता 5 परत्रह्म ) है उसे aca 
करता हूँ। जिस ने जोव दिया ओर संसार को किया ॥ जिस ने पहिले *ज्योति:-खरूप 
( महादेव ) को प्रकाश किया ओर faa के लिये कैलास पवत को किया। ( मुसलमानों 
में कहावत हैं कि हिंदुओँ का महादेव हमारे लोगों का आदम है )॥ जिस ने अग्नि, 
पवन ( वायु ), जल ओर Be (ia, धूलि) को किया । t( मुसल्‍्मान लोग आकाश को 
am नहों मानते cay लिये यहाँ पर चार-हो asi का नाम कहा है )। eek चारो 
तक्ताँ से बहुतइ (बहुत प्रकार के) रंगाँ का ste (रचना) किया अर्थात्‌ wel चारो 
तत्ताँ से अनेक प्रकार के पदार्थों का रचना किया॥ जिस ने धरतो (घधरित्नो ८ vad), 
ara (wat), आर पतार (पंताल) को किया। जिस ने ava awa (तरह तरह) का 
अवतार धारण किया। मत्य, HH, are, नृ-सिंह इत्यादि wag ईश्वर के अवतार 
पुराणों में प्रसिद्ध हें ॥ जिस ने सपत (सप्त) ato और ब्रह्माण्ड को किया। पुराणों में 
जम्बू दौप, शाक, WA, कुश, ay, गो-मेदक ओर पुष्कर ये सात दौप प्रसिद्ध हैं। 
जिस ने खण्ड खण्ड vice भुवन को किया। पुराणों में wala, भुवरलेक, खर्लेक, 
महलेक, जनलोक, तप- और सत्य- ये सात ऊपर के लोक, आर अतल, वितल, सुतल, 
रसातल, तलातल, मचह्दातल और पाताल, ये सात नोचे के लोक, प्रसिद्ध हैँ । दोनों सप्तकों 
के मिलाने से aes भुवन होते हैं । कभों aay खर्ग-लोक, areata, और पाताल- 
लोक ले कर कवि लोग तोन-हो भुवन कहते हैँ ॥ जिस ने दिन में रू ओर रात्रि मेँ 
( प्रकाश के लिये) शशि (चन्द्र) को किया। जिस ने नक्षत्र आर तारा-गण को पड्डि को 
किया ॥ जिस ने ats (शोत) धूप (घाम) ओर ate (छाया) at किया। जिस ने 
मेघ (बादल) और faa के Rie (मध्य) विद्युत्‌ को किया ॥ 

ऐसा सब कुछ जिस का किया है दूसरे में काहि (wel भो) जिस का गुण शोभित 
नहों, पहले उस का नाम ले कर (स्मरण कर ) कथा को अडगाहि (ध्यान में डूब कर ) 
करता S| आगे कौ चोपाइयाँ में भो सवेत्र “ जिस ने ” का योजना करना चाहिए ॥ १ ॥ 

चडपाई | 


कौन्देसि सात-उ समुद अपारा। atefa मेरु खिखिंद पहारा ॥ 
कोन्हेंस नदौ AIT HE झरना। कौन्‍्हेसि मगर मच्छ बहु बरना॥ 





न्हकपन्थिये es 


* मान्हकपन्थियोँ के मत में ज्योतिःखरूप से परब्रक्न लेते = | 
+ फारसो में कानूनचा नाम पुस्तक के ९ शष्ठ में लिखा है कि अग्नि, वाय, जल arm ये हो चार वक्ष है | 


8 प्रदुमावति । ५ | ऋअसतुति-खंड | [र्‌ 


कौन्हेसि atu माँति afe भरे। कौन्‍न्हेंसि agaz नग निरमरे ॥ 
कोन्देसि बन-खंड ae aft att) atefa तरिवर तार wat ॥ 
कौन्देंसि सांडंज आरन रहही। कोन्‍न्देसि पंखि vefe जह weet ॥ 
area बरन सेते अड aarti atefa नोद ae बिसरामा॥ 
कौन्देसि पान फूल रस aT कौन्हेसि बहु आखद बहु रोगू॥ 
ater । 
निमिख न लाग करत ओआहि सबह्दि aS पल एक | 
ama sate राखा बाजु a faq Sai Vi 

aqe— समुद्र fafde—fafeen, gee, जिस के ऊपर दक्षिण ya है। इसे 
ज्यौतिष में gaa भो कहते हैं facat— निर्मेल । बनखंड — sean में वन-रूपो खण्ड 
(विभाग )। तरिवर = तरूवर, Tat FH ast) साउज 55 way, मार कर खाने लायक 
जन्तु RITA = अरण्य, Fa | पंखि-- Val सेत — श्वेत । सामा 55 श्योम | tas = औषधि | 
अंतरिख = अन्तरिक्ष । बाजु = वजेथिल्रा | टेक = आधार ॥ | 

(जिस ईश्वर ने) अपार सातो समुद्र" at far) Ae Bre fafena पहाड at 
किया ॥ नदो, नारा ओर झरने को किया । (पहाड के तल से वा किसो बडे ताल से 
जो निकले sa नदो, किसो ग्राम से नल-रूप हो कर aed aed किसो नदो में मिले 
उसे नारा (नल), ओर पहाड के Set से धोरे PT जो पानो बचता है उसे झरना 
कहते हैं )। बहु (अनेक) बरन के मगर ओर मच्छ को किया॥ so को किया 
faa में माँतो भरे हैं | बहुत प्रकार के निमेल नग को किया ॥ vat में बन-खंड 
(वन-रूपी विभाग), जडो, और मूरि को किया। प्रायः जडो औषधि के ओर ale 
खाने के काम में आतो है। टला में बडा ताड और खजूर को किया ॥ साउज (खाने 
लायक जन्तुआँ) को किया जो कि aca (वन) में रहते हैं feat at किया 
जो कि जहाँ चाहते हैँ तहाँ उडते हैं ॥ श्वेत और श्याम वर्ण को किया। संसार में 
श्वेत और श्याम-हो वण मुख्य हें, दस लिये vel दोनों में Gear समझ, cel दोनों का 
ग्रहण feat) भूख, ate और विश्राम (आराम ) को किया ॥ पान, फूल, रस और भोग 
को किया | अनेक Safe Mx अनेक रोग को किया ॥ 


* ait, दुग्ध, दधि, Ua, इचत-रस, मद्य, SE He, इन के सात समृद्ध पुराणों मे प्रसिद हे | परन्तु इन खे 
भिन्न ग्रन्थ-कार ने कई एक नाम लिखे हे जो कि cade at सिंधक्त-यान में मिल्लेंग | 





२-१२] सुधाकर-चन्द्रिका | | 4 


पलक Wa A जो काल लगता हे, उसे fay कहते हैं at sife (उस at) 
करने में एक निमेष न लगा। एक-हो पल में सब को किया। यहाँ पल से निमेष का 
पल लेना चाहिए । vel तो जो पल प्रसिद्ध है, ae निमेष से बडा है तब पूर्वापर ग्रन्थ में 
असड्भति Stn) निमेष का साठवाँ भाग निमेष का एक पल होता हैं। 

sated में खंभा को ay (वर्जन कर अर्थात्‌ ate at) विना आधार के गगन 
(आकाश ) को Tat हैं। मुसलमानों के मत से आकाश भो, ओर पदाथों के ऐसा, एक 
पदार्थ है। परन्तु हमारे लोगों के मत से आकाश शून्य है॥ २॥ 

चडपाई | 
कोन्लेसि मानुस se ae atefa अन्न भुगुति az पाई॥ 
कोन्देस राजा aT राज | atefa हसति घोर तेहि साज ॥ 
कोन्देसि तेहि कह बहुत facta | कोौन्तसि काइ ठाकुर कोइ दारू ॥ 
arefa ea गरब sfe होई। atefa लोभ अघाइ न कोई ॥ 
कौन्देंसि जिअन सदा सब चहा। abefa aly न कोई रहा॥ 
कोौन्देसि सुख ay क्रोड अनंदू। atefa दुख चिंता ay दंदू॥ 
कौन्देसि काइ भिखारि काइ धनो। कौन्देसि सपति बिपति बहु घनौ ॥ 
दोचा | 
area as निभरोसौ कौन्हेसि काइ बरिआर। 
छारहि az सब कौन्ठेसि पुनि कौन्देंसि सब छार ॥ ३॥ 

मानुस = aaa | भुगृति = भुक्ति 5 भोजन | जद = भोग करता है । राजू -- राज्य । 
हसति -- eat । घोर "- घोटक 55 घोडा। बिरारू्‌ -- fame! दरव द्रव्य । गरब 5८ गवे। 
BONE = BAT जाना = WUT जाना = Za et जाना । जिश्नन 55 जोवन। मोचु ₹- र्वत्यु । 
ate = करोड 5 कोटि । दंढू 55 इन्द । निभरोखो = जिस को किसो का acter न हो 5८ 
अत्यन्त दुबेल। बरिआर 5” बलिष्ट | छार = भर 55 राखो ॥ 

wae at किया ओर sa बडाई fears wife ईश्वर को रूृष्टि Haase सब से 
बडा गिना जाता है। अन्न को किया जिसे तिस मनुय्य ने भोजन के लिये पाया॥ राजा 
को किया जो कि राज्य भोगता है। श्र fae के साज के fea हाथो ओर घोड़े को 


& पदुमावति । ५ | असतुति-खंड | [३-४ 


किया ॥ faa राजा के लिये aga विलास को किया, (a4, सिंहासन, सुन्दर भोजन 
आदि अनेक सुखोपभोग विलास हैँ )। किसो को ठाकुर (मालिक ) ओर किसो को 
दास किया ॥ द्रव्य को किया जिस को हो कर (पा कर ) a9 (अभिमान ) होता =I 
लोभ को किया जिस के कारण कोई अघाता नहों (ge vel होता)॥ जोवन को किया 
जिस को सदा (सर्वेदा) सब कोई चाहता Fi म्ठत्यु को किया जिस से कोई नहों 
रहता है अर्थात्‌ ay aa को मार लेतो है॥ सुख ओर करोड आनन्द को किया। 
दुःख, चिन्ता और ay अर्थात्‌ ममत्व को किया ॥ किसो को भिचुक ओर किसो को 
घनो किया। सम्पत्ति ( पुत्र, पौच, गो, धनादि वेभव) ओर अति घनो ( कठिन ) विपत्ति 
को किया ॥ 


किसो को अति दुबेल किया ओर किसो को बलो किया। सब ay को SITET 
से किया और अन्त में फिर सब को are कर दिया॥ ३॥ 
चडपाई | 
कोन्हसि अगर कसतुरो aati atefa भौससेनि ay चेना॥ 
atefa नाग मुखइ faq बसा। atefa मंच etx जो sat | 
area sat जिआअइ sfe पाई। atefa fag जो aly afe खाई॥ 
arefa ऊख मौठ रस भरो। atefa avez बेलि बहु फरो॥ 
कौन्हेसि मधु waz लेइ aati कोन्देसि भवर पंखि ae diet i 
atefa लोवा उंदुर चाँटो। कौन्देसि बहुत cefe खनि माँटों ॥ 
कोन्देसि waa ya परेता। कौन्देंसि भोकस देव swath 
दोहा | 
कोन्हेसि सहस अठारह बरन ata उपराजि। 
भुगुति ats पुनि सब कह सकल साजना साजि॥ ४ ॥ 
अगर 5८ सुगन्धित एक Za) कसतुरो 5 करू्ूरो 5 म्टगमद | बेना "5 वेण 55 खस | 
भोमसेनि 55 भोमसेनो कर्पूर। चेना "८ चौन देश का कपूर | मुखद्द 55 मुखे -- मुख में । 
wat = We | पाई = पान कर । HAE = कटु। मधु — शहर | माँखो = मज्षिका = Arey | 
Hat = भ्रमर । पंखि "5 पच्चो । पाँखो "5 जिन जन्तुओँ को ऋतु-विशेष में पर उत्पन्न हो 


8-9४] - सुधाकर-चन्द्रिका । © 


जाता है। जैसे वर्षा ऋतु में दौंवक को । लोवा — लोमडो । उंदुर — मूसा । चाँटी — FHA) 
राकस 55 राक्षस | परेत 55 प्रेत। भोकस -- बुभुच्ु "5 भुक्वड । दएता 55 देत्य। उपराजि +- 
उत्पन्न कर ॥ 

अगर, कस्तरो, ओर wa को far) भौमसेनो ओर चोनो कपूर को किया ॥ 
नाग (सर्प) को किया जिस के मुख में विष बसता हैं। मन्त्र को किया जो cB हुये 
विष को हर लेता Fu waa को किया जिस को पान कर (प्राणे ) जीता हैं। विष 
को किया, जो तिस को खाता है ay रूत्यु को प्राप्त होता है। यहाँ “aly” के स्थान 
में “ar” यह पाठ होने से सुन्दर अर्थ लग जाता है। जो तिस को खाता है वह 
मर जाता है ॥ ऊख को किया जिस में Mart रस भरा रहता है। कडुई बेलि को 
किया जो कि बहुत फरतो है॥ मधु को किया जिस को ले कर मक्‍्यो (Sa को) 
लगातो हैं। भ्रमर, Tal, आर पाँखों को किया ॥ MAS, मूसा, ओर BVA को किया। 
बहुत ऐसा किया जो azt को खन कर रहते हें ॥ राक्षस, wa और प्रेत को किया। 
yaas, देवता, और देत्य को fear. i | 

तरह तरह उत्पन्न कर अठारह हजार को fear) (हमारे यहाँ चौरासो लाख 
योनि है परन्तु ग्रन्य-कार ने अठार-हो हजार लिखा है। “मुसलमानों मत में अठार-हो 
हज़ार योनि हैं )॥ सब तरह को साजना (तयारो ) साज कर (बना कर ) aT को भोजन 
दिया | अर्थात्‌ जिस को जैसा चाहिए वैसो सब सामग्रो समेत भोजन को दिया ॥ ४॥ 


चडपाई | 
धनपति ues जेहि a संसारू। सबहि देइ fafa घट न भंडारू ॥ 
जावत जगत हसति AT चाँटा । सब कह भुगुति राति दिन बाँटा ॥ 
ता करि दिसिटि सबहि sorry) faa सतरु काइ बिसरइ ast ॥ 
u@t पतंग न बिसरइ कोई। wae गुपुत जहाँ लगि होई॥ 
भोग-खुगुति बहु भाँति उपाई। सबहि खिआवइ ary न खाई ॥ 
ता कर TET जो खाना पिअना। सब कह देइ सखुगुति अड जिअना ॥ 
सबह्चि आस ता aft हर साँसा। ओहि न are कइ आस निरासा ॥ 








* मुसलमानों के एक मौलूद में लिखा हें कि “ fewe हजार wren” अर्थात्‌ थठारद हजार येनि हैं | बहुत 
से लौग ava हैं कि यहाँ wares eat से अनन्त समभना चाहिण। 


प्रदुमावति | १ | असतुति-खंड | [४-६ 


eter | 
जुग जुग देत घटा नहीं TAT हाथ तस कौन्ह | 
अउरु जो दौन्द जगत AE सो सब ता कर दौन्ह ॥ ४॥ 


fafa = नित्य । जावँत = यावत। चाँटा 5 चोंटा fefafe— दृष्टि । मितर 55 मित्र । 
wae = शत्रु । परगट --प्रगट | गुपुत = Ya) आस INT) साँसा = खास | जुग = युग | 
SUT = उभय ॥ 

घनपति aet ईश्वर हैं जिस का कि यह संसार है। जो सब को नित्य ( सब कुछ ) 
देता हैं, परन्तु उस का भण्डारा नहों Beat जगत में हाथो से ले कर se तक 
जितने प्राणो है, सब को रात दिन भोजन बाँटा करता है॥ तिस को दृष्टि सब के ऊपर 
है। ऐसा कि faa wa feet को vel ear) (जो लोग ईश्वर से विम्रुख हैँ, वे-हो 
इश्वर के 0g हैं )॥ vat ओर vag (फतिंगे, घास में जो छिपे रहते हैँ ) किसो को 
नहों wear) जहाँ तक कि प्रगट ओर गुप्त हैं । यहाँ प्रगट में ut और गुप्त में 
Gfat को क्रम से ग्रहण किया हैं॥ अनेक. प्रकार के उपाय से अनेक भोग-भोजन सब 
at खिलाता हैं, परन्तु आप कुछ नहों Gat! (जो रुचि लायक भोजन है, उसे भोग- 
भोजन कहते हें )॥ faa ईश्वर का यहो खाना पोना =, जो सब को भोजन Bx 
aaa देता है। अर्थात्‌ जैसे लोग खाने पोने से aa होते हैं, उसो प्रकार और लोगों 
को भोजन ओर जोवन देंने में ईश्वर aq होता su सब किसो को हर एक we में 
तिसो (ईश्वर) को आशा 2) परन्तु ae ईश्वर किसो के आशा से नेराश्य नहीं है॥ 

faa प्रकार से उभय (दोनाँ) erat को किया है, अर्थात्‌ फैलाया है, कि युग 
युग से देता चला आता है, (परन्तु भण्डारा घटा नहों )। जगत्‌ के बोच और जो 
कुछ दिया हुआ (देख पडता) है, सो सब oat का दिया हुआ हें। (संहिता-कारोंँ 
के मत से ४३२०००० सौर वर्ष का एक युग होता है, ज्यौतिष वेदाज़् के मत से 
४ सौर वर्ष का युग होता है) ॥ ५॥ 

चडपाई | 

आदि सोइ बरनउ ae राजा। आदि-हु अंत राज जेहि छाजा॥ 
सदा सरबदा राज करेई। अड जेहि Wer राज तेहि देई॥ 
छतरि अछतरि निछतरहि छावा। दोसर नाहि जो सरबरि पावा॥ 


रू] सुधाकरु-चन्द्रिका | Qe 


waa sife eq सब लोगू। चाँटहि करइ हसति aft जोगू॥ 
बजरहि faa ag मारि उडाई। तिनहि बजर az देइ बडाई॥ 
काहुहि भोग quia सुख सारा। काहुहि We भवन-दुख मारा॥ 
ता कर aE न जानइ कोई। ATE सोइ मन चित्त न होई॥ 
दोच्चा | ४ 
सबइ नास्ति वह असथिर अइस साज जेहि केरि। 
BR MAL अड HAT WEE सवारइ फेरि॥६॥ 


सरवदा = Hag = सब कुछ देने-वाला। छतरि 5-८ sal = जिस को wa अर्थात्‌ पर- 
परित्राण (दूसरे का पालन करना ) शक्ति है। अछतरि --बिना क्षत्र का कर के ।* 
निछतरहि = विना क्षत्र-वाले को । सरिबरि 55 बराबरो | बजरहि -- वज्ञ को | तिन 5 ढण। 
सारा = रचना किया = बनाया। भवन-दुख = घर का दुःख। असथिर 55 fat) भाँजद = 
Hy करता है -- तोडता है। Bats — रचना करे ॥ 


सोई बडे राजा का अर्थात्‌ ईश्वर का पहले वर्णन करता हूँ। रूृष्टि के आदि से अन्त तक 
जिस का राज शोभित हैं॥ सब कुछ देने-वाला ae ईश्वर सदा राज करता है। और 
जिस को awe faa को राज देता है॥ जिस को aes उसे विना azar कर, विना 
चच-वाले को (sat wy से) छावता है। दूसरा कोई नहीं हे जो उस कौ बराबरो 
को पावे अर्थात्‌ बराबरी कर सके॥ लोग देखते S कि waa को ser कर, एक Hs 
को हाथो के समता योग्य करता है। ae को SU कर मार कर उडा देता है। au 
को ay कर बडाई देता है अर्थात्‌ eu को श्रेष्ठ बना देता है ॥ किसो के लिये भोग 
भोजन Sx सुख रचना किया। किसी को fara और घर के दुःख से मार डाला॥ तिस 
ईश्वर का किया कोई नहीों जानता । जो बात मन ओर चित्त में नकों होतो ww 
करता है ( मन ओर चित्त के लिये ६५ वेँ दोहे कौ टोका देखो) ॥ 

संसार में wag कुछ नहीं हे, अर्थात्‌ सब wee हैं, उत्पन्न हुई, और नाश 
हुई, परन्तु वह ईश्वर सर्वदा स्थिर है। ऐसा जिस ईश्वर का सब साज है, वह एक को 
साजता है, और दूसरे को बिगाडता है, ओर चाहे, तो फिर (बिगडे हुए को) रच 
डाले, अर्थात्‌ जेसा का तेसा बना डाले ॥ ६॥ 





— 





* क्षच्रौ के स्थान में छत्रो अर्थात्‌ जिस के fx पर छच (छाता) हो, ऐसा कर देने से, यहाँ दूसरा अथ AS जाता है। 
2 


UW ugarafa | | असतुति-खंड | [s 


चलपाई | 
अलख BET अबरन सो करता । वह सब VT सब ओआहि ay azar 
परगट गुपुत सो सरब बिआपी। ual ste sie नहिं aati 
ना ओहि yaa पिता न माता। ना ओहि कुदुँव न काइ संग नाता॥ 
जना न AE न AE ओआहि जना। जह लगि सब ता कर सिरजना ॥ 
az सब ate जहाँ लगि कोई। वह न ale काह्ू कर होई॥ 
हुत पहिलइ अड अब हद सोई। पुनि सो Tex Tes नहिं कोई ॥ 
अउरु जो BE सो बाउर अंधा। दिन दुइ wail मरइ aE धंधा॥ 
दोहा | 
जो AL चहा सो Aleta ATT जो चाहइ Als | 
बरजन-हार न कोई सबहि चाहि जिड stein 


अलख = HUW!) अबरन = Baw — विना CH का, वा अवणष्थे -- वर्णन के योग्य नहों | 
बरता = Fat हुआ है। बिआपो 5 व्यापो। सिरजना 55 रचना किया Sat) Sa = था) 
बाउर = बौरहा। AT -- कर के | धंधा 55 ara) चाहि = चाइना कर 5 इच्छा से ॥ 

वह जो कर्त्ता परत्रह्म ईश्वर हैं सो अलख, wey और अवरन ( विना TH का, वा Faw) 
है। ae सब से, आर सब कोई उस से, बटे हुये हैं (रस्सो को तरह ) ॥ वह Hel प्रगट 
रूप से, कहीं गुप्त रोति से, aaa व्याप्त है। परन्तु जो धर्मों हैं वे लोग तो इस Sar 
को पह्चानते हैं, ओर पापो नहों Saad ॥ न उस को पुत्र, न पिता, न माता है। 
न उस को कुटुख है, और न fret के संग उस का नाता (war) है॥ वर किसो को 
नहों जना (उत्पन्न किया), आर न उस को कोई उत्पन्न किया। परन्तु जहाँ तक सब 
है, वह सब gal का रचा हुआ हैं॥ जहाँ तक जो कुछ हे, सब sat का किया हुआ 
है, परन्तु वह किसो का किया नहों है॥ पहले भो वह था, ओर अब भो ME ईश्वर 
हैं। फिर (आगे ) a ast रहता है, आर उसे छोड कोई नहों रहता॥ ओर जो होता 
है (संसार में ) सो बौरहा और अंधा है। दो चार दिन धंधा (कार्य) कर मर जाता है ॥ 

जो उस ने चाहा सो किया, ओर जो करने चाहता है सो करता है। उस को कोई 
बजेने-वाला नहों हे, सब को अपनो इच्छा से जोव दिया Fon . 


=] z सुधाकर-चन्द्रिका । UL 


चडपाई | 
ofe विधि Whey करहु गिआनू। जस gua ae लिखा बखानू॥ 
जौड नाहि oz fase गोसाई। कर नाहों oz करइ सबाई॥ 
जौभ नाहिं ux सब किछ बोला। तन नाहीँ जो डोलाउ सो डोला॥ 
aaa नाहि ve सब fg सुना। fea नाहों गुननाँ सब गुना॥ 
नयन नाहि uz सब faa देखा। aaa भाँति अस जाइ बिसेखा॥ 
ना कोइ होइ Ss ओहि के रूपा। ना ओहि अस कोइ अइस BAT 
ना ओहि ठाउं न ओहि बिनु ठाऊं। रूप te faq निरमर asl 
tet | 
ना वह मिला न बेहरा अइस रहा भरि पूरि। 
दिसिटिवंत कह नौअरे अंध मुरुख कह दूरि॥८॥ 


शिआनू = ज्ञान | सबाई = सब को । डालाउ - डोलाता है = चलाता है | खबन ८ 
अवण 5८ कान । we बिसेखा "5 विशेष रूप से वर्णन किया जाय। बेहरा5८ अलग | 
fefafeaa  दृष्टिवन्त | 

इस प्रकार से चोन्हों और ज्ञान करो, Fer कि (उस ईश्वर का) पुराण में वखान 
( वर्णन) लिखा हैं॥ जोव नहों है, पर ae गोसाई (गो-स्ामो 5 सब इच्दियाँ का पति) 
Rat हैं। उस को कर (हाथ) नहों है, पर सब को करता हे॥ “उस को” का 
सर्वत्र योजना करना चाहिए। जोभ नहीं हे, प्र सब कुछ बोलता हैं। तन (तनु -- 
शरोर ) नहों है, पर जो डोलाता हैं वहो डोलता है। अवण नहों हैं, पर सब कुछ 
gaat हैं। fea (हृदय ) नहों हैं, पर सब गुनना (विचार ) को गुना (विचारा) 
करता Zu aaa ( नेच "- आँख ) नहों हे, पर सब कुछ देखता है। किस प्रकार से 
ऐसे का विशेष रूप से aug किया जाय ॥ उस के रूप के ऐसा न कोई होता हैं और न 
कोई है । आर न उस के ऐसा कोई है ओर न कोई ऐसा अनुपम हैं। यहाँ देहलो Ag 
ara से यदि “कोई” का दोनाँ ओर अन्वय किया जाय तो ग्रन्थ लग जाता =! 
अथवा “aga” के स्थान में “होड़” प्राठ किया जाय, तो उस के ऐसा कोई अनुपम 
नहों होता हैं, यह ठोक wa az जाता है। ऐसा न करने से “अस” ओर “अदूख” 


रैर्‌ पदुमावति | १५ | असतुति-खंड | [८-६ 


दोनाँ शब्द एक-हो अथ के बोधक एक के अपेक्षा एक BI us जाते हैं ॥ न उस को 
स्थान है, आर उस के विना कोई स्थान-हो नहों हे, अथात्‌ वह was व्याप्त है। रूप 
ओर रेखा (चिन्ह) के विना वह है, इसो से उस का fade, मल कर के रहित, अर्थात्‌ 
सच्चिदानन्द नाम ust SU 

न वच्द किसो से मिला हे न किसो से अलग हे, (संसार में) ऐसा भरा पूरा हो 
रहा है, कि देखने-वालों के तो नोअरे (नगोच) है, आर aa मूखे को दूर ॥८॥ 

चडपाई | 

BIE जो Steefa रतन अमोला | ता कर ATA न WAT भोला ॥ 
दौन्हेसि रसना ay रस भोगू। दौन्होंसि दसन जो विहसइ जोगू॥ 
दोन्देंसि जग देखइ कह नयना। दौन्तेंसि AIA सुनइ कह बयना ॥ 
दौन्देस az बोलि जेहि माँहा। etefa कर-पल्लनड at बाँहा॥ 
दौन्देसि चरन अनूप चलाही। सो पइ मरम जानु जेहि नाहो॥ 
जोबन ATA जानु UE ast! मिला न तरुनापा जग ढूँढा॥ 
दुख कर मरम न जानइ राजा। दुखो जान जा कह दुख TM ॥ 


दोच्चा | 
कया RATA जानु पद रोगो भोगों cee नि्चित। 
सब कर ATA गोसाई जानइ जो घट घट ae निंत ॥ € ॥ 


रतन 5 रत्न | अमोला = अमूल्य । भोला 5" सौधा आदमो, भोलना | रसना = जिक्ला। 
दसन = दशन 55 TA । वयना 55 वचन | AC VAT — ACI — Ayal | बर श्रेष्ठ । 
बाहाँ 5 बाहु । WI Wed हैं । तरुनापा--जवानो। बाजा शब्द किया वा 
बजनो किया 5-5 लडाई किया। कया काय "5८ शरोर | fafia— निश्चिन्त 55 विना 
चिन्ता at) निंत -- नित्य । 

ओर उस ईश्वर ने (इच्द्रिय-रूपो) अमूल्य रत्न को जो दिया हैं, सोधा आदमो 
उस के aa को नहों जानता ॥ ( देखो) fast को दिया, और उस के भोग के लिये 
अनेक रस को दिया। दाँताँ को दिया जो हंसने के योग्य हैं ॥ संसार को देखने के 
लिये नेत्र को feat वचन को सुनने के लिये कान at fear) कण्ठ को दिया जिस 


€- १०] सुधाकरु-चन्द्रिका | Ww 


के बोच में बोलो रहतो है। अंग्रलो ओर श्रेष्ठ बाह् को दिया॥ अनुपम चरण को 
दिया जो कि चलते हैं । इन सब का aA सोई जानता है, जिस को कि ये सब नहीं 
हैं ॥ जवानो का aa निश्चय कर के ( पद”-अपि -- निश्चय) ger जानता है। क्याँकि 
उस ने जग में sel परन्तु जवानो न मिलो। बढे कौ कमर झक जातो है, इस लिये 
वह veal al ओर दृष्टि कर चलता हैं। कवि कौ sae है, कि नोचो दृष्टि कर के 
जो बूढा चलता है, वह जवानों को es रहा है, जो कि फिर नहों मिलतो॥ राजा 
दुःख का मर्म नहों जानता। दुःखो जो प्राणो है, जिस के ऊपर दुःख ने चढाई किया 
है, वह दुःख का मर्म जानता है॥ यहाँ “सुख” पाठ अच्छा है क्योंकि राजा सुख का 
wa नहों जानता, कि उस में क्या आनन्द है। जिस पर दुःख ने चढाई किया है, वह 
दुःख निदत्त होने पर सुख का पूरा अनुभव करता है । राजा का तो खस कौ ZA 
नोचे THe हुआ है, वह उस के सुख को केसे जाने । Fs कौ TEA झुलसा 
हुआ यदि aa के टट्टो को छाया में आवे, तब उस को जान पडेगा, कि खस के ZH 
को छाया में क्या आनन्द है ॥ 

TOT का aa रोगो जानता है, ओर att तो निश्चिन्त रहता 3, अर्थात्‌ बे- 
फिकिर हो अपनो-हो शरोर के ऐसा सब का शरोर समझता है। गोसाई, जो ई:्वर, 
नित्य सब के घट घट में रहता हे, ae सब का मम जानता Su इस दोहे में कई 
मात्रा बढो हुई हैं Say प्रकार इस ग्रन्थ में दोहाओँ को मात्रा प्रायः घट बढ है । 
दोहाओँ के मात्राआँ का ठोक न रहना, ओर was सात सात चौपाई के अनन्तर दोहे 
का रहना, इन सब का कारण २१ वे दोहे में लिखा जायगा ॥८ ॥ 

चडपाई | 
अति अपार करता कर करना। बरनि न पारइ AR बरना॥ 
सात सरग AT AAS करई। धरतो सात समुद मसि भरई॥ 
जावंत जगत साख बन-ढाँखा। saa केस Ta wie पाँखा॥ 
aaa खेह te जह ताईं। मेघ ae अड गगन तराई॥ 
सब लिखनो az लिखु dare लिखि न जाइ गति समुद अपारू ॥ 
अइस abe सब गुन परगटा। Bee समुद बूंद नहिं घटा॥ 
asa जानि मन गरब न होई। गरब ATE मन बाउर सोई॥ 


Ww पदुमावति । १ | असतुति-खंड | [१०-११ 


दोहा | 
ae yada गोसाई wee सो होइ त्रेहि बेग | 
AI AI Tat संवारइ जो गुन करइ अनेग ॥ १०॥ 


पारदइ 55 पार हो सकता =F) ars बरना 5 किसो भाँति ८ किसो प्रकार | साख ८ 
शाखा | बन-ढाँखा 5 वन के ढाँकने-वाले, अर्थात्‌ gai केस केश 55 बार | Ta= 
रोम | पाँखा 55 पक्ष । लिखनो = लेखनो = कलम | अनेग 55 अनेक ॥ 

कर्त्ता (परब्रह्म) का करना (करण, अर्थात्‌ ara) अति अपार S| Ha प्रकार वर्णन कर 
पार नहों हो सकता॥ सात BA आर धरतो को यदि कागद करे, ओर सात समुद्र में 
मसि (स्थाहो) at wt जगत में जितने get al शाखा। जितने ( मनुय्याँ के) बाल 
ओर रोम, जितने पक्षियाँ के पक्त॥ जितनो जहाँ तक fat आर te) Fa के बूंद, 
और आकाश के तारे है ॥ सब को कलम बना कर संसार (संसार भर के लिखने-वाले ) 
लिखे। at भो उस ईश्वर को समुद्र के ऐसो अपार जो गति हे, वह लिखो न जाय ॥ 
tar faq ने सब qui को प्रगट किया है (कि उन में आज तक Tal भर भेद नहों 
हुआ, ata at बने हैं, इस पर समुद्र का एक दृष्टान्त दिखाते हैं )। आज तक 
समुद्र में एक बूंद THY घटा, अर्थात्‌ जेसा का तेसा बना हैं॥ ऐसा जान कर मन में 
nq न होना चाहिए। जो मन में गव॑ करता है at बौरहा है ॥ 

ae गोसाई ऐसा गुनवन्त (गुण से भरा हे) हैं, कि जिस के लिये जो चाहता है, 
faa को at बेग (aie) होता हैं। आर ऐसा gel को बनाता है, जो Ba अनेक 
qu करता है, अर्थात्‌ जिस at ea ऐसी शक्ति हो oat है, कि अनेक गुण को 
बनावे | ऐसा Sat ने किस को बनाया है। इस का सम्बन्ध अगलो चोपाई में लगा कर, 
ग्रन्थ-कार ने परनत्रह्म का वर्णन समाप्त किया ॥ १० ti 


चजलपाई | 
atefa gee एक निरमरा। नाउ मुहम्मद पूनिड करा ॥ 
प्रथम जोति विधि afe az साजो | ay तेहि प्रौति सिसिटि उपराजो॥ 
दोपक लेस जगत कह ster भा निरमर जग मारग चौन्हा॥ 
जड नहिं होत yee उजिआरा। रूझि न परत पंथ अंधिआरां ॥ 


११) सुधाकर-चन्द्रिका | १४ 


दोसरे ठाउ दई वेइ लिखे। भण्न धरमौ Fe wea सिखे॥ 
ag afe wee जनम aft नाऊं। ता कह aS नरक AS ठाऊं॥ 
जगत बसोठ दई ओहि कौन्हा। SE जग तरा ATS जेइ ST ॥ 
दोहा | 
qa अडगुन बिथि पूछब होइहि लेख ay जोख। 
ae बिनडब आगइ SIE ATT जगत कर MIT ११॥ 

पूनिड करा 55 पूर्णिमा कौ कला । लेसि -- बार aT) पाढत -- पाठ । बसौठ दूत । 
अजडगुन = अवगुण | पूछब - पूछ गे । हाइहि ८ होगा। बिनउब 5- बिनतो करेंगे। करब -- 
करंग। मोख - ata ॥ 

उस faq ने मुहम्मद नाम पूर्णिमा के चन्द्र के कला, ऐसा एक निर्मल पुरुष को किया ॥ 
fafa ( ब्रह्मा) ने सब से पहले fae को ज्योति at war ओर fad के years 
रूृष्टि को उत्पन्न किया ॥ (ब्रह्मा ने) जगत को दौपक बार कर दिया, अर्थात्‌ जगत में 
qeag को दोपक के ऐसा प्रज्वलित किया। इसो लिये संसार (संसार के लोग ) निर्मल 
हो गया (=ar), और art को Tess लिया ॥ यदि ऐसा उंजियारा पुरुष न होता, 
तो अंधियारे में wa (राह) न Ga eat i वह दई ( मुहम्मद देव) उन लोगों को 
दूसरे स्थान में लिखे, जो लोग कि उन के पढाये हुये पाठ को सिख लिये॥ ओर 
जिन लोगों ने जन्म भर (उन के पढाये हुये पाठ का) नाम तक नहों लिया। उन के 
लिये नरक में स्थान किया॥ पिछलो चौपाई में दूसरे स्थान से खर्ग लेना चाहिए। 
: मुसलमानों में प्रसिद्ध है, कि धर्मों के लिये qa आर पापियाँ के लिये नरक लिखा 
जाता हैं। sal लेख के अनुसार प्रल॒य में विचार किया जाता है॥ देव (ईश्वर) ने 
जगत सें उस को ( मुहम्मद at) अपना दूत किया ( बनाया )। इस लिये faust ( gene 
at) नाम लिया, वह दोनाँ जग (यह लोक और परलोक ) को at गया। Feast का 
नाम लेने से, इस लोक में quae को कृपा से ge, और परलोक में, ईश्वर के दूत 
होने से, Sax के यहाँ उस पुरुष को मुहस्मद ने जो प्रशंसा को, इस से सुख ॥ 

(aaa के समय में) ब्रह्मा गुण अवगुण yaa, और लेखा (हिसाब) जोखा (ate) 
होगा। wel मुहब्मद आगे हो कर बिनतो करेंगे, और जगत का मोक्ष करेंगे ॥ यहाँ 
ग्रन्थ-कार ने विधि (ब्रह्मा) और ईश्वर में अभेद माना हैं ॥१९१॥ 


९६ पदुमावति | ५ | असतुरति-खड [aR 


azure | 
चारि मौत जो मुहमद ठाऊ। Wea Te जग निरमर नाऊ॥ 
अबा aat सिद्दोक सयाने। पहिलइ सिदिक दौन Fe आने ॥ 
पुनि सो उमर खिताब सोहाए। भा जग अदल दौन जो आए ॥ 
पुनि उसमान पंडित बड गुनो। लिखा पुरान जो आयत सुनो॥ 
चडथइ अलो fag बरिआरू। चढइ तो AE सरग पतारू॥ 
चारिड एक मतइ प्रक बाता। wR पंथ BAT WR सघाता॥ 
बचन wa जो सुनावहिं साँचा। भा परवॉन Te जग बाँचा॥ 
दोहा | 
जो पुरान बिधि पठवा सोई पढत गरंथ। 
अउरु जो भूले आवतहि तेहि सुनि लागहि पंथ ॥ १२॥ 


मोत = faa) मतइ = aa = मत में । सघात = संघात = साथ । परवान = प्रमाण ॥ 

मुहम्मद के स्थान में जो चारो मित्र थे, उन wet का iat जगत में निर्मल 
नाम है ॥ पहले का नाम अबा बकर सिद्योक (अबू बक्र सिद्दोक) था, वह बडे सयाने 
(चतुरे) थे, उन्हों ने (संसार में) सिद्दोक Aa (सत्य धर्म) को आने, ले आये, अर्थात्‌ 
प्रगट किया ॥ फिर दूसरे जो थे, खो उमर नाम के थे, जिन को कि (खलोफा को) 
पदवो शोभित at । जो कि (जब मुहम्मद के) Wa में आए, तब- जगत में न्याय हुआ, 
अर्थात जगत न्याय से ara गया ॥ फिर उन के अनन्तर, तोसरे उसमान नाम के थे, जो 
कि बडे पण्डित और गुणो थे, FATA ने कि उस Gua (कोरान) को लिखा, Sar कि - 
आयतेँ (मन्‍्लाँ) को (ईश्वर से) खुना ॥ चौथे wel नाम के सिंह के ऐसे बलिष्ट थे। जब बे 
लडाई करने को VS, तो GA आर पाताल aaa लगे ॥ चारो मित्र एक मत, एक 
बात, एक राह और एक साथ में रहते थे॥ चारो जो एक सत्य वचन को Yard हैं, 
ae (सर्वत्र) प्रमाण की गई, और Stat जगत में बाँचों गई, अर्थात आदर से पढो गई । 
qual उस वचन का (जिस को) प्रमाण हुआ, वह stat जग से बच गया ॥ 

age ने जिस पुराण (कोरान) को भेज दिया था, vat ay को वे लोग पढते 
=) और लोग (ईश्वर के यहाँ से) आवने में जो (ईश्वर को राह को) wa गये हैं, 
सो faa ग्रन्थ को सुन कर पंथ (ईश्वर कौ राह) में लग जाते हैं ॥१२॥ 


३२-१३ ] उधाकर-चन्द्रिका | Vw 


इस प्रकार से अपने मत के आचाये का वर्णन कर श्रब अपने समय के राजा का 
बन ग्रन्य-कार करता है। 
चडपाई | 
सेर साहि दंहिलो सुलतानू। चारि-ड खंड तपद जस TAI 
ओआहो छाज राज AT TZ) सब राजद YE धरा fee 
जाति रूर ay खाँडर रूरा। ay बुधिवंत सबइ qa पूरा॥ 
ecaas नवो खंड भई। सात-उ दौप gat सब नई॥ 
ae लगि राज खरग बर लोन्हा । इसकंदर जुलकरन जो RET I 
हाथ सुलेमाँ केरि अंगूठो। जग कह जिअन She तेहि मूठो ॥ 
az अति गरू पुहुमि-पति भारौ। टेकि gefa aa सिसिटि aaa ॥ 
- दोच्चा | 
ee असौस मुहम्मर॒ aty जुग हि जग राज । 
पातिसाहि तुम्ह जगत के जग तुम्हार मुहताज॥ १३ ॥ 


भानू = भानु = रूये। we = ve = सिंहासन । लिलाटू = ललाट = मस्तक | खाँडद — 
wis HH तरवार में | रूर = बहादुर | बुधिवंत — बुद्धिमान्‌ । रूर-नवाई = बहादुरों। कौ 
झुकावट अर्थात्‌ ater होना। दुनो --दुनिया -5प्राणा लोग। नई झुक गई+-नौचे 
पड गई | खरग -- GF! बर 55 बल | इसकंदर = fant) जुलकरन 55 दो सोंगवाला | 
सुलेमान seal एक बादशाह । पुहुमि-पति 5 एथ्वोपति । पातिसाहि बादशाह | 
gears = भिखमंगा = faa | 

feat का सुलतान (बादशाह) शेर शाह (wat के) चारो (खण्ड) भाग में अर्थात्‌ 
ua, पश्चिम, उत्तर, दक्विन ऐसा तपता है जैसे रूये॥ sat को (शेर शाह st) राज्य 
ओर सिंहासन सोचता है, (उस के आगे ) सब राजाओं ने पृथ्वी में अपने मस्तक को धरा 
अर्थात्‌ रख दिया (हार मान कर प्रणाम करने में शिर को झुंका लिया )॥ वह बादशाह 
जाति में ax अर्थात्‌ रूरबंश का हैं (at एक अफगानों के जाति का नाम है। उसो 
जाति में शेर शाह उत्पन्न हुआ था) ओर तलवार में भो रूर अर्थात्‌ बहादुर है। 


और बुद्धिमान और सब गुणों में पूरा है॥ जखूदौप के नवो खण्डों (भारतवर्ष, 
3 


UG पदुमावति | ९ | असतुति-खंड | [९३ 


किन्नरवर्ष, <fcas, quay, हिरण्सयवर्ष, cana, भद्राश्ववष, केलुमालकवष और 
carga) में (उस के आगे) बहादुरों को नवाँई हुई अर्थात्‌ बहादुरों को नोचा खाना 
पडा । और (उस के आगे) सातो दोप ( जखूदोप, शाक, शाल्मल, कुश, aly, गोमेदक 
और पुष्करद्दौप at सब दुनिया (प्राणी) aa गई (झंक गई, अर्थात्‌ सब कोई उस के 
शरण में आ गये )॥ उस् ने अपने खड़ के बल से तहाँ तक राज्य ( अपने अधिकार मे ) 
ले लिया, जहाँ तक कि दो सोंगवाला सिकन्दर बादशाह ने किया था ॥ 

fanart के fact में ata का होना परम्परा से प्रसिद्ध हे। कद्दावत हैँ कि एक 
दिन बोमार पड़ जाने से fant के हजाम ने बाल बनाने के लिये अपने पुत्र बब्बन 
हजाम को भेजा। बाल बनाने के अनन्तर fat ने डॉट कर बब्बन से wer कि 
खबरदार मेरे शिर में सोंग का होना किसो से न कहना, नहों तो शिर कटवा लूँगा। 
उस का कहे विना पेट फूलने लगा, तब मनुग्यों से न कह कर, एक THT में, जो 
बडा पुराना HAZEL का US था, उस से कह, अपने पेट को हलका किया (as 
weet किस से जा कर कह्ठे?)। निदान विना AS va का भो यहाँ तक पेट फला 
कि कुछ दिनों में रूख गया। एक aed ने उसे मोल ले कर, उस को दो सारंगो ओर 
एक सुन्दर तबला बनाया। AeA ने उन सुन्दर सारंगियों को और aga को मोल 
ले कर सिकन्दर के दर्बार में गाना सुनाने को गये। उन लोगों ने लाख उपाय किया 
परन्तु उन से कोई शब्द न निकले केवल एक सारंगो ia ata दूसरो किन किन 
कहे । इस पर aaa से आंवाज निकले कि बब्बन हजाम | इस का भेद बादशाह को 
खुल गया। बब्बन को बुला कर एकान्त में पूछा कि तुम सच कहो मेरे शिर में 
aia का होना तुम ने किसो से कहा? । श्रभय-दान पाने पर बब्बन ने कटहर से 
कहना कहा । अन्त में जान पडा कि उसो कटहर को ये सारंगियाँ और तबला है ॥ 

(शेर शाह के) हाथ में सुलेमान को अंगूठो थो, तिसों zat से (जिस में अंगूठो 
ay) जग को (जगत भर के प्राणियों को) जोवन दान दिया॥ 

कहावत है कि जिस के हाथ में सुलेमान को अंगूठो हो, वह रात दिन लोगों 
को रुपया war देता रहे, परन्तु उस को ast खालों न हो ॥ 

ओर ae भारो प्रथ्वो-पति (बादशाह ) अत्यन्त गुरु था, अर्थात्‌ भारो था, कि 
vat को टेक कर (रोक कर ) सब Ble को संभार लिया, अर्थात्‌ ele में जितने 
प्राणो थे सब का बोझा (पालन, AreRreatfe का) अपने शिर पर उठा लिया॥ 


१३-१४ | स॒ुधाकर-चन्द्रिका | Ww. 


qzuaz ने आशोर्वाद दिया कि तुम युग युग राज करो, (युग के लिये wa 
@zs at Slat देखो) तुम जगत भर का बादशाह हो, We सारा जग (संसार ) 
तुन्हारा Heats हो, अर्थात्‌ सब कोई तुम से माँगने को आशा करे, और तुम सब के 
दाता कहावो। यहाँ मुहम्मद से मुसल्मानो मत के आचाय और इस ग्रन्थ का कवि 
दोनों का ग्रहण करने से अर्थ में भेद नहों पडता tie si 

इस चोपाई में ग्रन्थकार जो शर शाह को गुरु बनाया। उस का समर्थन अगलो 
चोपाई में हैं ॥ 

चडपाई | 


बरनड et पुहुमि-पति राजा। पुहुमि न भार aes जहि साजा ॥ 
हय-मय सेन चलइ जग yt! waa टूटि उड॒हि होइ yt 
रइनि tq हाइ cfafe गरासा। मानुस पंखि लेहि फिरि बासा॥ 
yz उडि अंतरिख गइ faa मंडा। खंड खंड धरति सिसिटि ब्रहमंडा | 
डोलइ गगन इंदर डरि काँपा। बासुकि जाइ पतारहि चाँपा॥ 
He AMAT समुद सुखाहों। बन-खंड टूटि खेह मिलि जाही॥ 
अगिलहि ate पानि खर बाँटा। पछिलहि are न ares आँटा ॥ 
दोहा | 
जो गढ ae नहिं काहुहौ Wea होहि सब चूर | 
safe चढइ पुहुमौ-पति सेर साहि जग-रूर ॥ १४॥ 
हय-मय = घोडे से भरी । रइनि -- रात्रि -- रजनो । tq = रेण -- धूरो। रबिहि - 
रवि को = रूये को। गरासा -5ग्रास किया। बासा = वास-स्थान -- बसेरा। faa 5 म्हत्‌ 5 
म्त्तिका 5 मद्ठो । मंडा 5- माँड दिया 55 मर्दन कर डाला। इंदर "इन्द्र । बासुकि 5 
वासुकि = एक प्रकार का BU जो एथ्वों के नोचे रहता है। चाँपा ”- चंपाया -- दबाया। 
घसमसद् = धेंस जाता हैं। बन-खंड -- वन-खण्ड -- वन-विभाग । अगिलइ -- आगे को 
खर = ढण 55 घास | काँदउ = काँदो = कौचड | आँटा 55 पूरा पडा | नफ्न् -- झंका | 
उस at जाति वा बहादुर We vat के पति राजा (शेर शाह) का ata करता 
= अर्थात्‌ केसा गुरु राजा है उसका ala करता हूं। जिस राजा के साज (aad) 


= पदुमावति | १ | असतुति-खड | [१५०७-१५ 


का भार vat नहों सहतो Su (जिस समय ) घोडे Bad सेना जग को पूरा कर 
अर्थात्‌ vat भर में फैल कर weal है, (उस समय ) Waa टूट कर धूर हो कर उड़ने 
लगते हैं ॥ धूर रात्रि हो कर रूर्य को ग्रास लेतो है, श्र्थात्‌ छिपा लेतो है, waa 
और पक्षी (रात समझ at) फिर कर (लौट कर) बसेरा लेने लगते हैं ॥ भूमि 
ee कर भन्तरिज्ञ को चलो गई, म्वत्तिका ने धरतो के खण्ड खण्ड ( प्रत्येक विभाग ) 
at, ( विधि को ) रूृष्टि (ara) को ओर ब्रह्माण्ड को asa कर डाला, अर्थात्‌ सर्वत्र 
yt aa हो गई, घूर छोड और कुछ ae दिखाई देता है॥ आकाश घूमने लगता 
है, इन्द्र (देवताओँ का राजा) डर कर काँपने लगता है, वासकि जा कर पाताल को 
चाँपता है॥ ae (देवताओं का पवेत) नोचे धेंस जाता हैं, समुद्र रूख जाते हैं 
वन-विभाग टूट कर, अर्थात्‌ faa भिन्न हो कर, Hel में मिल जाते हैं ॥ शअगे के | 
(घोड़ों कौ) fant किसो at पानो ओर घास बाँटा गया, (परन्तु) पिछले में faa 
(घोडों ) को काँदों तक न अंटा, अर्थात्‌ न पूरा पडा ॥ 

जो गढ aay भो नहीं झुंके थे, वह सब जब wat ar पति जग का बहादुर 
शेर शाह चढाई करता है (उस समय सेना के) चलते-हो चूर हो जाते हैं, अर्थात्‌ ऐसा 
गुरु ( भारी) राजा है, कि उस के भार को कोई नहों संभार रूकता ॥१ ४॥ 


asus | 


अदल AES YEA जस होई। Biche waa न दुखवइ कोई॥ 
नउसेरवाँ जा आदिल कहा। साहि अदल सरि सोड न अहा॥ 
अदल SS उम्मर कइ नाई। भइ आहा सगरोौ दुनिआई॥ 
ud नाँध WE FAT AUT! मारग मानुस सोन उदारा॥ 
me सिंघ tafe va बाटा। gas पानि पिअहिं oa घाटा ॥ 
नोर खोर छानइ दरबारा। दूध पानि सब करइ निरारा॥ 
धरम निआउ चलइ सत-भाखा। FIT Tt WH सम राखा॥ 
Stet | 
qgeat सबइ असौसई जोरि जोरि कइ हाथ । 
ait जडन जल जब लगि. तब लगि अमर सो ATT १४॥ 


१५-९६] सुधाकर-चन्द्रिका | RY 


अदल = न्याय । नउसेरवाँ = नौशेरवाँ = एक बादशाह | आदिल — ATG | BET = 
waa} = वाह वाह - प्रशंसा | दुनिआई — दुनिया में | नाँथ —aa— स्त्रियों के नाक 
का एक AIT) पारा -- सकता SF) सोन 55 सोना 55 at) उछारा 55 उछालते हैं = 
ल्ोकाते हैं । गोरू -- गाय बेल इत्यादि a, fe पाल कर लोग चराते हैं । Tafs— 
ta हैं -- चलते हैं। नोर -- जल। खौर 5 ज्ञौर -- दुग्ध । निरारा 55 अलग । निआउ 5८ 
न्याय । बरो = बलो | गाँग 55 AT । ASA = यमुना ॥ 

(शेर शाह के समय में) val में जेसा न्याय होता हैं उस को wear हूं, कि चलते 
में कोई चोंटे को at नहीं दुःख देता है॥ जो कि नौशेरवाँ न्यायो कहा गया है, शाह 
(शेर शाह ) के न्याय को बराबरो में वह भो नहीं है, अर्थात्‌ शेर शाह नोशेरवाँ से भो 
अधिक न्यायो Fu उमर (जिस को चर्चा १२ वें दोहे में कर आये हैं ) के ऐसा 
(शेर शाह ने) न्याय किया। सगरो (सब) दुनियाँ में आहा आहा हो गया, अर्थात्‌ 
जहाँ देखो avi शाह के न्याय के प्रशंसा को ध्वनि हो रहो Tu (राह में) पडो 
(गिरो ) हुई नथ को कोई (उठाना तो दूर रहे ) छू नहों सकता । माग में Ata लेग 
wa के उछालते हैं, अर्थात्‌ Wa के Brad हुये चलते हैं, परन्तु किसो को सामथ्ये 
नहों कि छोने॥ ate ओर सिंह एक-हो वाट (राह) में चलते हैं, अर्थात्‌ बादशाह 
के न्याय के भय से आपस का बैर भाव सब छोड दिये हैँ । Bat (ate Ant सिंह) 
एक-हो घाट पर पानो पोते हैं ॥ (शेर शाह) दर्बार में पानो और दूध को कान 
करता हैं, (ऐसा छान करता है कि) दूध पानो सब अलग अलग कर देता है, अर्थात्‌ 
जेसे दूध में पानो मिल जाने से दूध-हो ऐसा समझ पडता है, val प्रकार जिस मेकदमे 
में झूठ और सच दोनाँ मिल कर सब ag हो समझ पड़ता है, वहाँ भो GT छान कर 
झूठ और सच्च अलग अलग कर डालता है॥ wa न्याय ओर सत्य-भाषा (सत्यवचन ) 
से चलता है। saa आर बलो के एक सा रखता है॥ 

सब vat (val पर के सब लोग) हाथ जार जार कर आशोर्वाद देतो है, कि 
जब तक WET MT यमुना में जल रहे तब तक वह ST माथ (सब के मस्तक के VET) 


है से अमर रहे ॥ १५ ॥ 
चडपाई | 


पुनि रुपवंत बखानड काहा। जावँत जगत सबइ मुख चाहा॥ 
ससि चडउदसि जो दई सवाँरा। As ule रूप उजिआरा॥ 


bad पदुमावति । १ | असतुति-खंड | [१६ 


पाप जाइ जउ दरसन दौसा। जग weft az देइ असौसा ॥ 
जइस भानु जग ऊपर तपा। सबइ रूप ओहि आगइ छपा॥ 
अस भा रूर पुरुख निरमरा। रूर चाहि दस आगरि करा॥ 
ase दिसिटि az हेरि न miei जेइ देखा सो रहा सिर नाई॥ 
रूप सवाई fea दिन चढा। fafa सुरूप जग ऊपर गढा॥ 
दोच्चा | : 
रूपवंत afa माँथइ चाँद घाटि ओहि afe | 
मेदिनि दरस लोभानो असतुति बिनवइ ठाढि॥ १६॥ 


रुपवंत = रूपवान्‌। काहा = क्या | चाहा = चाहता है। चउदसि 55 चलुदशो । चाहि ८ 
चय कर 55 बढ ALI दौसा -- देखा । जुहारि 55 प्रणाम -- सलाम | आगरि - अग्रा 5 श्रेष्ठ 
सउंह--साँह -- सम्मुख | हेरि८देख। माँथद्र -माँथे में। चाँद--चन्द्र । मेदिनिर- 
मे दिनो = gato 

फिर (ae) ऐसा रूपवान हें, कि क्या बखान Fe! जगत में जितने Gra हें, सब 
(उस के) मुख को चाहते हैँ ॥ ब्रह्मा ने चलुदंशों के चन्द्रमा का जे बनाया है ( पूर्णिमा 
के चन्द्रमा में विशेष कर के wee देख पडता है इस लिये यहाँ उसे छोड दिया है) 
तिस से भो बढ कर (उस का ) उज्ज्वल रूप है ॥ यदि दर्शन दौख एडा, अर्थात्‌ उस के 
रूप का दशन हो गया तो पाप चला जाता है। जगत (जगत के सब GIT) सलाम 
कर कर के (SB) आशोर्वाद देता है ॥ जेसे जग के ऊपर रूये agar है (sat प्रकार 
यह at तप रहा हें, cat faa) उस के आगे सब रूप छिप गया ॥ ऐसा (ae) ar 
जाति वा बहादुर अथवा ee निर्मल पुरुष हुआ, कि रूर से बढ कर दश गनो 
(उस में) श्रेष्ठ कला है ॥ ( पहलो चौपाई में जिस |x को ग्रहण करना वहीं दूसरो में 
भो क्रम से लेना चांहिए )। सामने दृष्टि कर (ae) देखा नहों जाता। जिस ने देखा 

ae शिर qat कर रह गया॥ (उस का) दिन दिन सवाई रूप चढता है। ब्रह्मा ने 
ga का सुन्दर रूप जग के ऊपर गढा है, अर्थात्‌ wa से बढ कर बनाया है ॥ 

ऐसा रूपवान हैं कि (उस के) aia में मणि (ज्योति) है। (जे बहुत रूपवान्‌ 
होता है, उस का ater ऐसा चमकता हैं, wai उस में मणि है)। उस के (रूप के ) 
बाढ के आगे चाँद घट गया। 


१५६-९१७ ] स॒धाकर-चन्द्रिका । Xz 


मेदिनो (vat oe के लोग) (उस के) दशन के लिये war गई, ast हो कर 
(saat) ofa को विनय करतो है, अर्थात्‌ बडे विनय से उस को स्तुति करतो है ॥१ ६॥ 
चलपाई | 


पुनि दातार दई बड कौन्हा। अस जग दान न ATH ST I 


बलि बिकरम ert बड अहे। हातिम करन fant azn 
' सेर साहि aft पूज न कोऊ। समुद सुमेरु घटहिं निति दोऊ॥ 
दान डाक बाजइ दरबारा। कौरति गई समुदहो पारा ॥ 
कंचन परसि at जग wa afte भागि दिसंतर गण्ऊ॥ 
AS कोइ जाइ WH बेरि माँगा। जनमहु AST न भूखा नाँगा॥ 
दस असमेध जग्ग sz alert! दान ga aft सोड न ster 
दोहा । 
अइस दानि जग उपजा act साहि सुलतान। 
ना AA VT न होइहौ ना कोइ SE अस दान ॥ १७॥ 


बिकरम = विक्रम, saat का प्रसिद्ध दानो राजा, जिस का संबत्‌ चलता हैं। हातिम 5८ 
मुसलमानों में प्रसिद्ध दानो। करन "5 कण, भारत का प्रसिद्ट दानो | तिआगो =a 
Sith = SET | fedat = देशान्तर | असमेध = अगश्वमेध | जग्ग 5 यज्ञ । पुन्न ८ पुष्य ॥ 

फिर ईश्वर ने (उस का) बडा भारो दाता किया। ऐसा दान जग में किसो ने 
नहों दिया ॥ बलि (पाताल का राजा जिस से भगवान्‌ वामन-खरूप हो कर ag ala 
aq wfa aint यो) Are विक्रम बडे दानो थे (—aB)i हातिम Be aa Fr भो 
arm त्यागो अर्थात्‌ बडे दानो कहे हें ॥ परन्तु शेर शाह को बराबरो में WE नहों 
पहुंचा । ( जिस के दान के आगे) समुद्र और सुमेरु Wat नित्य घटते हैं, अर्थात्‌ wai 
के दान से समुद्र, We Bat के दान से सुमेरु, नित्य घट रहे हैं ॥ दर्बार में दान का 
SEI बजता है, ओर समुद्र के पार alfa (उस को ) चलो गई ॥ उस रूर के परसि 
(qi कर) संसार aga (सेना) Bt गया, इस लिये दरिद्र भाग कर देशान्तर में 
चला गया, अर्थात्‌ इस के राज्य से निकल कर दूसरे राज्य में चला गया॥ यदि कोई 
जा कर (उस से) एक AT A माँगा, at फिर वह जन्म भर भूखा ओर नंगा न हुआ ॥ 


२४ प्रदुमावति । | असतुति-खंड | [१७- १८ 


जिस ने दश अश्वमेध यज्ञ के किया है, से भो ( उस ने भो ) दान पुण्य में इस को aa 
नहीों दिया, अर्थात्‌ नहों किया ॥ 

शेर शाह सुलतान (बादशाह ) संसार में ऐसा दानो उत्पन्न हुआ, कि इस के ऐसा न 
कोई हुआ, न काई Brn, We न Ak ऐसा दान देता है (दंढ -- देता है) pon 

चडपाई | 
सइअद असरफ ait पिआरा। az मोहिं पंथ aes उंजिआरा i 
aa feax ta कर दोआ। उठौ जोति भा निरमर होआ॥ 
मारग EA अधेर अरूका। भा अजोर सब जाना बुझा॥ 
WT BAST पाप मोर Aart बोहित धरम whe az चेला॥ 
BE मोर करिअ पोढि कइ AST! US तौर घाट जो अहा॥ 
जा कह होइ अइस कनहारा। ता कह गहि लेइ लावइ पारा॥ 
दस्तगोर We AT AM! जह अडगाह देहि तह erat a 
दोहा | 
जहाँगोर ax चिसतो निहकलंक wa चाँद। 
वेइ मखदूम जगत के ET WE के घर बाँद॥१८॥ 

सदुअद -- eae । असरफ 55 अशरफ । पिआरा कत्प्यारा | पेम ८ प्रेम । दौआ 5८ 
Aya) saa) समुदर 5-समुद्र । मेला --डाल दिया। बेाहित ८ बडो 
नाव । चेला -- fra । करिअ 5 कडो जे। नाव को खोंचने के लिये नाव में लगो teat 
है, ast के बदले मज्ञाह लोग छोटो नाव में खोंचने के लिये tah भो लगा लेते हैं 
जिसे ata aed हैं । आज कल लेग उस Sts के करवारो कहते हैँ, St कि खेने के 
लिये नाव के अगल बगल में ater रहता है। Uris az -- Ye कर के -- मजबूत कर के । 
गहा 55 पकडा । कनहारा = कणंधार = पतवार को पकडने-हारा | दस्तगोर = हाथ 
पकडने-वाले HLA करने-वाले | HITS = अवगाह = अगाध = अथाह | हाथो = हाथ। 
जहाँगोर = एक पदबो । चिसतो -- एक मुसलमानों को जाति | निहकलंक — fae | 
सखदूम = मालिक —arat | बाँद = बिना तनखाह का टइलुआ ॥ 

बादशाह को ईश्वर का अंश समझ कर, कवि ने पहले बादशाह का awa किया, 
अब अपने गुरु-वरों का वर्णन करता = Il 


१८-१८] सुधाकर-चन्द्रिका | RY 


Baz AUTH Be We (गुरु) थे, तिन्‍हों ने qa को उच्चल oa दिया, अर्थात्‌ 
ईश्वर को सचो राह में प्रदत्त किया (At) हृदय में (ईश्वर के) प्रेम का दौया बार 
दिया, ( जिस से) ज्योति sat ओर इदय निर्मल हो गया॥ जो मार्ग waa ओर 
Sa था, ae Ga हो गया, ( में ) सब कुछ जान गया ओर समझ war |) 

(उन्हों ने) मेरे पाप को खारे समुद्र में डाल दिया, ओर (मुझे) चेला कर के 
अर्थात्‌ fra बना कर धम्म-रूपो नाव पर ले लिया, अर्थात्‌ चढा लिया ॥ get ने मेरे 
(नाव कौ) कडो को मजबूत कर के पकडा, (जिस कारण) में तौर (तट) को पाया 
जहाँ कि घाट ar जिस को ऐसा कणे-धार हो, at ae ature faa को पकड कर, 
ले कर पार लगा देता है॥ वह हाथ पकडने-वाले और MS के (संकट समय के ) 
साथो हैं । ओर जहाँ अयाह है तहाँ हाथ देते हैं, अर्थात्‌ डूबती समय अपने हाथ को 
फैला देते हैँ, जिस के आधार से डूबने-वाला बच जाता है ॥ 

उन को पदवो जहांगोर ओर जाति चिस्तो है। वे ऐसे निष्कलइझः हैं, जेसा कि चन्द्र 
(दुइज का ) | वे जगत्‌ के खामो हैं में उन के घर का faa रुपये पेसे का टहलुआ 
हँ॥ १८॥ 

चडपाई | 
तेहि घर रतन णक निरमरा। हाजों aq सुभागइई भरा ॥ 
afe घर gz दौपक उजिआरे। पंथ देइ कह दई संवारे ॥ 
सेख मुबारक पूनिड करा । सेख कमाल जगत निरमरा॥ 
दुअड अचल yA डोलहिं नाहो। मेरु खिखिंद तिन्ह॒हु उपराहों ॥ 
ae रूप अड जोति गोसाई। athe du gg am कइ ताई ॥ 
qe खंभ tat सब ast । दुहुके भार सिसिटि थिर रहौ॥ 
जो दरसइ AVI परसइ पाया। पाप हरा निरमर भइ काया॥ 


Stet | 


मुहमद avi निचिंत पंथ जेहि संग मुरसिद पौर । 
जेहि रे नाउ अड खेवक बेगि use at तौर॥ १८ ॥ 


Sg = सुभाग्य । प्रुव ANT | ae = fae fee स्थिर | पाया 5 पर । 
4 


रद्द पदुमावति । १ | असतुति खंड | [१६-२० 


हरा 5- हर गया 5 नष्ट हो गया। मुरसिद गुरु | पोर 5 महानुभाव। नाउनाव। 
खेवक = खेने -वाला | 

faa के (Faz अशरफ के ) घर में, एक निर्मल Ta, सुभाग्य से भरे, शेख हाजो हुए ॥ 
faa के (शेख हाजो के ) घर में, देव ने (ईश्वर ने) (जगत्‌ को) पन्थ देंने के लिये दो 
प्रजजलित दौपक बनाया, अर्थात्‌ उत्पन्न किया wa का नाम शेख मुबारक, जिन को 
पूर्णिमा के चन्द्र के ऐसी कला (शोभा) थो। दूसरे शेख कमाल, जो जगत्‌ में निर्मल थे, 
अर्थात्‌ जिन में एक भो अवगुण नहों था॥ दोनों ya के ऐसे अचल (स्थिर) डोलते 
नहों थे, अर्थात्‌ चलायमान नहों होते थे। मेरु जिस के ऊपर उत्तर ya, आर खिखिंद, 
कुखण्ड, जिस के ऊपर दक्षिण भव हैं, तिन दोनोँ पहाडोँ के भो ऊपर हैं ॥ गोसाई 
(ईश्वर) ने (दोौनाँ को) रूप और ज्योति दिया, आर faa Stat को जग का खंभा 
किया ॥ (ईश्वर ने) set दोनाँ खंभाँ से सब महो (gah) को रोक Tra, TAY 
दोनाँ के भार लेने से ele स्थिर रहो है॥ जो दशन करे ओर (इन के) पेर को 
EU, उन का (जानो) पाप नष्ट हो गया, ओर काया ( शरोर ) निर्मल हो गई ॥ 

ह मुच्म्मद कवि ava हैं, कि जिस के संग में (ऐसे ) महानुभाव गुरु हाँ, (aE जहाँ 
हो) तहाँ-हो निश्चिन्त पंथ है, अर्थात्‌ उस को राह में किसो बात का डर नहों। 
क्योंकि (रे मन) जिस को नाव ओर खेने-वाला है, सो (ae) Te तौर को पाता है, 
अर्थात्‌ me पार हो जाता Sy यहाँ रे नोच-सम्बोधन है। ओर गुरु को खेवक WT 
धर्म को नाव समझना चाहिए ॥ इस दोहे ओर इस के पिछले दोहे से स्पष्ट है, कि dae 
अशरफ मलिक मुहम्मद के मन्त्र-गुरु थे ॥ १० ॥ 

azure | 
गुरु माहिदी खेवक मई सेवा। चलइ उताइल जंहि कर Var ॥ 
अगुआ we Ae बुरहानू was जेहि as गिआनू॥ 
अलहदाद भल तेहि कर गुरू। sa gat रोसन सुरुखुरू ॥ 
सइञअद मुहमद के az चेला। सिद्ध पुरुख संगम जद खेला ॥ 
दानिआल गुरु पंथ लखाए। हजरत खाज खिजिर az पाण॥ 
wo Uta ओआहि हजरत खाजे। लेइ AW He सइअद राजे॥ 
Sife as मई पाई जब करनो। उघरो जोभ कथा कबि बरनो ॥ 


2°] सुधाकर-चन्द्रिका | Xo 


दोच्चा | 


az सो गुरु ee चेला fafa बिनवड भा चेर। 
Sife ga देखइ पाप््ड॑ दिरिस Trans केर ॥२०॥ 


उतादल = WT!) खेवा 5 बोझ से भरो नाव। अग्रुआ 5- आगे | पंथ 5 राह 5 मत। 
Wa = अच्छे 55 श्रेष्ठ 5 भले | रोसन 5 प्रसिद्ध । सरुखुरू -- सब के fea) परसन 5- प्रसन्न । 
मरए = मिलाए। करनो - करणो = योग्यता 55 लियाकत | उघरो 55 खुलो । बरनो = 
auq किया । चेर 55८ चेला 55 दास । दिरिस दृश्य 5- देखने-योग्य रूप ॥ 

खेवक रूप जो मोहिदों (मुहिउद्दोन) जिन का खेवा बहुत wie चलता है, में ने 
उन कौ सेवा किया ॥ मोहिदौ के aga, अर्थात्‌ wa (qa), शेख बुरहान हुए, fart 
ने जिस को (मोहिदों को) (अपने ) पंथ (मत) में लगा कर ज्ञान feat faa के 
( शेख बुरहान के) अच्छे गुरु अलहदाद ( अल्हदाद) थे, जो कि Aa (wa) में अर्थात्‌ 
aa के विषय से दुनिया में रोशन (प्रसिद्ध) और सर्व-प्रिय थे ॥ वे ( अलचहदाद ) सेयद 
मुहब्मद के चेले थे, जिन्‍्हों ने सिद्ध-पुरुषों के aya (समाज ) में खेल किया था, अर्थात्‌ 
बडे बडे fast at भो अपनो सिद्धाई से छका दिया था ॥ उन को (सेयद मुह्मद को ) 
दानियाल गुरु Ady (aa) को दिखाया, fat ने (दानियाल ने) हज़रत खाज 
खिज़िर को पाया, अर्थात्‌ उन से दानियाल को भेंट हो गई ॥ हज़रत aa खिज़िर उन 
से (दानियाल से ) प्रसन्न हुए, ओर जहाँ सेयद राजो (सेयद राजो हामिद शाह ) थे, वहाँ 
' ले जा कर (उन से) मिलाया, अर्थात्‌ दानियाल को सेयद राजो का fae बनाया ॥ 
इस प्रकार कौ UR परम्परा में जो मेरे गुरु मोहिदो हैं, उन से जब में ने योग्यता को 
पाई, तब जोभ खुलो, wt कवि (में )ने कथा का ada किया॥ अर्थात्‌ उन के प्रसाद 
से कवि हुआ, ओर कथा (पदुमावतो का दत्तान्त) बनावने को शक्ति हुई ॥ 

वे मोहिदो जो F, सो मेरे गुरु हैं, में (उन का) चेला हू, नित्य (उन का ) दास 
हो कर विनय करता हूं, अर्थात्‌ प्रत्यह उन कौ स्तुति किया करता हूँ। Get से, अर्थात्‌ 
उन को जो कृपा थो, उसो के प्रसाद से, ईश्वर का दृश्य रूप देखने पाया, अर्थात्‌ wey 
के अनुग्रह से में भो सिद्ध हो गया ॥ 

मुसल्यान लोग मलिक मुहम्भद को निज़ामुद्दोन आलिया के fire परम्परा में कहते 
हैं । इसो लिये afea मुहम्मद को चिस्तिया निज्ञामिया कहते हैं । निज्ञामुद्ोन आलिया 


Rs परदुमावति | १ | असतुति-खंड | [Re 


मोर खुसरो का विद्या-गुरु था। यह सन्‌ १३२४ ई० में मरा है। इस का चेला 
मिराजुद्दोन, और सिराजुद्दौन का चेला शेख अलाउलहक्क था। अलाउलहक् का पुत्र 
और fra, पण्डोई का नूर कुलुब आलम था, जो कि सन्‌ १४१४ ई. में मरा हैे। 
अलाउलइहक का दूसरा faa सेयद अशरफ जहांगोर था जिस कौ चर्चा ९८ वें दोहे 
में कवि ने किया है। सेयद अशरफ का बडा प्रसिद्ध शिव्य शेख wat था। शेख 
हाजो के दो शिव्य थे एक का नाम शेख मुबारक, दूसरे का शेख कमाल। शेख नूर 
कुतुब आलम और सेयद अशरफ जहांगोर दोनों गुरुभाई थे, आर इन दोनोँ at 
आठवों Rat में मलिक मुहस्मद हुए हैं ॥ 
मुसलमान लोग इस प्रकार से इन के गुरु परम्परा को लिखते हैँ ॥ 


निजामुद्दौन औलिया ( जो सन्‌ १३२५ ई० में मरे) | 
सिराजुद्दौन । 


शेख अलाउल TH | 








— A... a 
A हांगोर 
पण्डोई का शेख कुतुब आलम | संयद अशरफ ज । 
मानिक Ut का शेख इहृशासुद्दौन | Te ert | 
A 
संयद-राजो Stas WE | Qe मुबारक !। शेख कमाल | 


शेख दानियाल (जो सन्‌ १४८६ Fo में AS) | 
सेयद मुहम्मद | 

TE अल्हदाद | 
ie । बुरचह्धान | 

शेख मोहिदो (मुद्िउद्दौन ) | 
मलिक gem ( जायस के ) | 

इस गुरु परम्परा से ओर ग्रन्थ-कार के लेख से बहुत भेद है। लेख से तो स्पष्ट है 
कि मलिक मुहम्मद के मन्त्र-गुरु सेयद अशरफ ओर विद्या-गुरु AAS थे ॥ 


कालपौ जो कि बुन्देल-खण्ड में है, वहाँ के रहने-वाले शेख बुरहान थे। ऐसा सुना 
जाता है, किये सौ वर्ष के हो कर ८ ७० हिजरो सन्‌ (स.१४६२९-६२६०) मेँ मरे हैं ॥ 


२०-२१ ] सुधाकर-चन्द्रिका | Re 


गुरुआँ के प्रसाद से जब मलिक मुहम्मद प्रसिद्ध कवि हुए, तब अपनो प्रशंसा .लिखने 
को तयार हुए, नहों तो अपनो प्रशंसा करना केवल अभिमान-रूचक है ॥२ of 


चजलपाई | 


wa aaa कबि मुहमद गुनो। ats बिमोहा जेइ कबि सुनो ॥ 
चाँद जइस जग बिधि अउतारा। She कलंक ates उजिआरा ॥ 
जग रूफा VAT नयनाँहा। उआ रूक जस नखतन्ठ माँहा ॥ 
जउ लहि safe डाभ न होई। तड लहि सुगंध बसाइ न सोई ॥ 
ate समुदर पानि ag खारा। av अति ws Be अपारा ॥ 
जउ सुमेरु तिररल बिनासा। भा कंचन गिरि लागु अकासा i 
जड लहि at कलंक न परा। काँचु हाइ नहिं कंचन करा॥ 


Stet! 


एक नयन जस दरपन «ay afe निरमर arg | 
सब रुपवंतइ UIs गहि मुख जोहहि कइ चाउ ॥ २१॥ 


बिमोहा 55 मोहित हो गया। अउतारा "८ अवतार feat) नयनाँहा--नयन से - 
आँख से। उआ 55 उदय हुआ। झूक 5 शुक्र ग्रह। माँहा "5 मध्य 5" बोच | आँबहि -- आम 
में । डाभ-- दर्भ 5- कुश के ऐसा att वा BA | बसाइ -- बासा जाता है। तिरसख्ल -- 
चिशूल। चाउ = चाह = इच्छा Il 


( यद्यपि) मुहम्मद कवि को एक-हो नयन है, (तो भो) (मुहम्मद) ऐसे गुणो हैँ, कि 
जिस कवि ने (इन को वाणों को) gat सोई मोहित हो गया। कवि का अभिप्राय 
है कि यद्यपि में दोषो = (काना होने से ), तथापिं val दोष के साथ मेरे में यह 
बडा भारो गुण है, कि AT कविता को जो सुनता हे atk आनन्द से मोहित हो जाता 
है tar परम्परा से प्रसिद्ध है कि शोतला माता के निकलने से इन को एक आँख 
सारो गई, ओर चेहरा भो खराब हो गया। एक वार एक राजा ने इन को न पहचान 
कर, महा कुरूप मुख को देख कर, बडे GI से कुछ By बचन सुना कर Lar, इस पर 
wey ने बडे घेये से उत्तर दिया कि “मोहिं का cafe fH कोहरहि,” अर्थात्‌ मुझे 


३० पदुमावति | १ | असतुति-खंड | [RR 


हंसते हो, या कोहार at ( जिस ने AO ऐसो-हो गढनि गढो है), इस पर उस राजा 
को ऐसा ज्ञान हो गया, कि उसो-क्षण इन का fra हुआ ॥ 

ब्रह्मा ने (qeaz को) जग में Ser चाँद है ऐसा-हो अवतार दिया है, कलझ 
दिया तो उज्ज्वल at किया (जिस के प्रकाश से जगत्‌ उज्ज्वलित होता हैं), कवि का 
अभिप्राय है, कि जेसे चन्द्रमा में कलइ-रूपो दोष, sat प्रकार काना होना मेरे में दोष | 
faa प्रकार जगत्‌ को प्रकाश करना यह चन्द्रमा में गुण, sat प्रकार मेरो कविता-द्वारा 
जगत्‌ को जो आनन्द होना, यह मेरे में गुण हे॥ (qa) एक-हो आँख से जग (भर) 
रूझ पडा, अर्थात्‌ लोगाँ को दो आँख होतो है, वे दो कोश तक A sah at नहों 
देख सकते, WC मे एक-हो आँख से जग भर को देख fear जेसे नचतरोँ के बौच में 
शुक्र उदित है (उस्ो प्रकार में संसार के लोगाँ के बोच में उदित हू)॥ वामन भगवान 
को जब बलि ae ala पर भूमि दान देता रहा, उस समय उस के गुरु शुक्र fan करने 
के faa जल को झारो में आ aa । संकल्प करतो समय ard से जल न गिरे, तब 
algal भगवान्‌ ने कुशा से झारो के टोटो को साफ करने के व्याज से श॒क्र को feat 
आँख ats दिया, यह प्रसिद्ध कया है ॥ 

शुक्र की उपमा से जान पडता हैं, कि कवि को ceat आँख met ati कवि का 
अभिप्राय हैं, कि जेसे सब नक्षत्रों के बोच काना शक्र-हो अधिक प्रकाशवान है, gat 
a में सब से प्रसिद्ध Sl जब तक आम में बौर (मज़्रो) नहों 
होता, तब तक वह आम Bay से नहों बासखा जाता ॥ आम के सब अंग को छेद Se 
कर बौर उत्पन्न होते हैं। इस लिये छेद हो जाना यह दोष हुआ, at उसो के साथ 
ara से बास जाना, यह गुण हुआ ॥ (ब्रह्मा ने) जो समुद्र का पानो खारा किया, 
(तो उसो के साथ) समुद्र अत्यन्त was ओर अपार हुआ (जिस के समान कोई नहों 
हैं)॥ जो चिशूल से सुमेरु नष्ट किया गया, अर्थात्‌ उस का पक्ष काटा गया, at gat के 
साथ वह सोने का पहाड हो गया, और (इतना ऊँचा हुआ कि) आकाश में लग गया ॥ 
Guat में कया है कि पहले पहाडाँ के चिडियाँ के ऐसा पक्ष होते थे। उन से वे उड कर 
जहाँ चाहते थे तहाँ जा कर गाँव के लोगों को was कर देते थे। इस पर इन्द्र Aa_ 
से सब के Gai at काट डाला। सब से पहले सुमेरु का पक्ष काटा गया, और उस के 
अनन्तर उस ने ast बडाई पाई। इस लिये सुमेरु-हो का ग्रहण कवि ने किया है। ae 
में aq का नाम समावेश न होने से ज्िशल-हो को रख दिया ॥ 


प्रकार जगत के लोगो 


२९५- २२] सुधाकर-चन्द्रिका | ३९ 


( इन खब दृष्टान्तों से यह स्पष्ट होता हैं, कि) जिस ast तक wae ( किसो प्रकार 
का एक दोष ) ae) पडता, तब तक काँच ( बे-गुण का मनुय्य ) खोने के रूप (आदरणोय 
रूप) नहों होता ॥ 

(मेरो wa आँख ऐसो हे Far दर्पण (आईना), ओर तिस cau का निमेल 
भाव है, अर्थात्‌ जेसे निर्मल दर्पण का खभाव हे, कि पण्डित वा चाण्डाल जो उस में देखे, 
सब का प्रतिविम्ब Sar का तेसा देख पडता है, तिसो प्रकार मेरे नेत्र में सब लोगों 
का रूप जैसा का तेसा देख पडता Su (यद्यपि में काना हूँ तथापि) सब रूपवान्‌ लोग 
मेरे पेर को पकड़ कर इच्छा कर के (मेरे) मुख को जोहा (चुप चाप देखा) करते 
हैं ॥ कवि का सिद्धान्त हैं, कि विना एक दोष हुए गुण नहों उत्पन्न होता। इसो लिये 
इस ने अपने ce ग्रन्थ में भो चोपाइओँ को दो चोकडो के बंदले, लंगडा कर, सात-हो 
पैर Tal, आर STS के मात्रा को भौ प्रायः घट बढ कर fears इस में ग्रन्थ-कार का 
यह आन्तरिक अभिप्राय है, कि मेरे भक्त लोग तो मेरे ay at आदर से पढे-होंग, 
परन्तु इस प्रकार का ग्रन्थ में दोष रहने से मेरे प्रतिस्यद्धों लोग भो हास्थ-बुद्धि से इसे 
पढेंगे। इस प्रकार मेरे ग्रन्य का सखवंत्र प्रचार हो जायगा ॥ २९॥ 


asus | 


चारि मौत कबि qeaz पाए। जोरि मिताई aft पहुचार ॥ 
युसुफ मलिक पंडित अड ग्यानो। पहिलइ भेद बात वेइ जानो ॥ 
पुनि सलार कादिम मति-माँहा | खाँडइ दान उभइ fafa बाँहा ॥ 
fast ama सिंघ ame! बोर खेत रन खरग FAME ॥ 
सेख बडे बड़ fag बखाना। az wea fags ae माना ॥ 
चारिड चतुरदसा qa पढे। अड संजोग गोसाई we 
बिरिख जो safe चंदन पासा। चंदन होहिं बेधि तेहि बासा ॥ 


Stet | 


मुहमद चारि-ड मौत मिलि भप् जो एकइ faq! 
ofe amt साथ at निबहा ओहि जग बिछुरहि कित्तु ॥२२॥ 


मति-माँहा = मतिमान्‌। उभइ = उभडतो हैं = उठतो है। खेत 5८ Fa) रन 55 TUE 


a प्रदुमावति | ५ | असतुति-खंड | [R= 


सड्भगम | जुझारू = WEI= युद्ध करने-वाले । अदेंस "5 आदेश 55 आज्ञा। wreat— 
aden 5 चौदह। संजोग -- संयोग 5-5 सड़्र । बिरिख 5 ठ्च । आकहि 5-८ अच्छा । बेधि 5८ 
fag हो at) बाखा = gaa कित्तु -- कुतः = क्याँ ॥ 

qeae कवि ने चार मित्र को पाया, ( जिन से ) मिताई (मित्रता) at sits कर 
(अपने को) उन को बराबरी में पहुंचाया॥ प्रथम मित्र मलिक यूसुफ, after और 
ज्ञानो थे, ( ऐसे वे ज्ञानो a कि सब से) पहले arat का भेद जान जाते थे ॥ फिर 
दूसरे मतिमान्‌ (बुद्धिमान) wet कादिम थे, जिन को aie नित्य खाँडे में 
( तलवार चलाने में ) और दान में (दान देने में ) उभडतो है अर्थात्‌ उठती है॥ 
तोसरे सलोने भियाँ थे, जो अपार वोरों में सिंह थे, आर cada में खड़-योड्धा थे, 
अर्थात्‌ तलवार से लडने-वाले थे। उन के ऐसा कोई तलवार नहों चला सकता aii 
aa मित्र शेख बडे थे, जिन को लोग बडा सिद्ध बखानते हैं, जिन के आदेश 
(आज्ञा ) को कर के सिद्ध लोगों ने भो (अपने at) बडा माना ॥ चारो मित्र eet 
गुण (विद्या ) को पढे थे (चार वेद, छ वेदाड़, पुराण, मोमांसा, न्याय, और ware 
ये-हो चौदह विद्या हैं ), ओर ईश्वर ने चारो का एक संयोग (aF) गढा था, अर्थात्‌ 
बनाया था॥ पहलो चोपाई में जो लिखा है कि में ने उन से मित्रता को जोड 
कर, अपने को उन al बराबरो में पहुंचाया, इस से उनके समान होने में अपना 
सामथ्ये wiz हुआ, उस का निराकरण करने के लिये यह पिछलो चोपाई लिखा 
है, कि मेरे में कुछ सामथ्ये नहों, कि उन के बराबर Vs, किन्तु जो za अच्छा 
(afeat) चन्दन के पास होते हैं, वे चन्दन के ara से बिध कर आप चन्दन हो 
जाते हैं। इस में चन्दन का गुण है, न कि gaat कवि का अभिप्राय है, कि 
Sat प्रकार उन चारो चन्दन-रूपो मित्रों के पास रहने से, में भो vel लोगों के 
tart हो गया ॥ 

चारो मित्रां से मिल कर qeae जो एक चित्त हो गये, अर्थात्‌ उन चारो के 
चित्त में अपने चित्त को मिला लिया, इस लिये ( जिन का) इस जग (लोक) में जो 
साथ निबच्द गया तो (3) उस जग में कहाँ बिकुडते हैं, भ्र्थात्‌ wai बिकुडेंगे ॥ २२॥ 


aq yay से अपने ग्रन्थ के बनाने का स्थान कदते हैं ॥# 


२३] सुधाकर-चन्द्रिका | 22 


चडपाई | 
TPR नगर धरम-असथानू | तहाँ आइ कवि ate बखान॥ 
az बिनतो पंडितन्ह as भजा। टूट संवारह मेरवहु सजा ॥ 
ee सब कबितन्ह कर पछ-लगा। faa कहि चला तबल Zz डगा ॥ 
हिआ भंडार नग Her जो पूँजी। खोलो जोभ तारु कइ FAT 
रतन पदारथ बोलो बोला | सुरस ta मधु भरो अमोला॥ 
जेहि az वोलि face az घाया। कह तेहि ae ate कह छाया ॥ 
tz भेस रहद भा तपा। धूरि लपेटा मानिक छपा॥ 

दोच्ा | 


मुह्मद कया जो पेम कद aT afe रकत न Aig | 
az मुख देखा तेइ हइसा सुनि afe as आँसु ॥ २३ ॥ 


असथानू -- स्थान। भजा = सेवा किया। टूट 55 टूटा हुआ चुटि । मेरवह्ठ -- मिला- 
दये | सजा = साज = शोभा-योग्य पद । कबितन्ह = कवित्त बनाने-वाले = कवि | पछू-लगा 
-- पौछे लगने-वाला = Te चलने-वाला = अनुगामों। तबल — तबला — Seat | डगा = 
डागा = डुग्गो बजाने कौ wast पूंजो -- मूल-धन। ATE तालू वा ताला। कूंजी = 
gat= चाभो ॥ ँ 

जायस नगर जो धर्म का स्थान हैं, तहाँ पर आ कर कवि ने (इस कथा का) बखान 
किया ॥ पण्डिताँ से विनतों कर के (उन कौ) सेवा किया, (और कहा कि) टूटा 
अचर बनादये, ओर इस में साज (शोभा-योग्य पद) को मिलाइये ॥ में सब कवियाँ 
का अनुगामों हूँ, Sat a ऊपर wast को दे कर, अर्थात्‌ eat at बजा कर कुछ 
कह War =, अर्थात्‌ न मुझे आग्रह और न पाएण्डित्य का अभिमान हैं, इस लिये सब 
पण्डित और कवि लोगों को में अपनो कविता सुनाता हूँ, आर वे लोग जहाँ अनुचित 
कहें उसे में सुधारने Wo wens! यहाँ ‘fae ate चलत बोल deem’ ae पाठ 
अच्छा हैं। यह पाठ उपलब्ध पुस्तकाँ में नहों है, किन्तु मेरो कल्पना हैं तनिक पदे के 
हेर फेर से ऐसा हो सकता Si इस का तब “ में बोल (वाक्य ) रूपो डग (पैर ) दे कर कुछ 
कह चलता हूँ”, यह अर्थ है॥ इदय-रूपो भण्डार में जो नग पूंजो है, जोभ को तालु कौ 

5 


३४ परदुमावति । ९५ | असतुति-खंड | [२३ 


HAM बना कर उस UT को (में ने) खोला | यहाँ पर कवि ने अपने eee को भण्डारा, 
उस में जो अनेक पद पदार्थ भरे हैं, उसे नग (रत्न) जो कि आगे को चोपाई से स्पष्ट है, 
तालु को उस भण्डारे का ताला AIT उस ताले की FSI (चाभो ) जोभ को बनाया है। इस 
प्रकार से यहाँ रूपकालझ्वार है॥ 

अनेक जो बोलो बोला (कहा) है, वेई रक्न-रूपो aera हैं । वे बोलियाँ केसो हैं ? 
कि प्रेम-रूपी जो सुरस (Gare रस) मधु (शहद) उस से ad हैं, दसो लिये 
अमूल्य है ॥ 

प्रेम में ऐसो क्या बात है, जो कि अमूल्य है? ऐसो कदाचित्‌ wet हो, तो उस के लिये 
Aa प्रेम का माहाक्य कहते हैं ॥ जिस at face के बोलो का, अर्थात्‌ प्रेम का, घाव 
लग गया, faa को कहाँ we, कहाँ ae, और कहाँ छाया (विश्राम) Fy ae पुरुष 
अपने ae (ag) को फेर लेता है, अर्थात्‌ अपने खरूप को छिपा लेता है, आर तपसौ 
(-तपा) हो कर रहता है। (उस को) ऐसो दशा हो जातो है, जैसे धूर से लपेटा 
माणिक्ा छिपा हो ॥ यहाँ कवि का यह अभिप्राय हैं, कि जो प्राणे प्रेम-मय हो गया, 
qe माणिक्य Tq के ऐसा है। वह रत्न न खो जाय, इस लिये वह संसार से विरक्त हो, 
बेष बदल कर, AVS Fa कर रहता FI 

qeaz कवि कहते हैँ, कि जो प्रेम कौ कया (काय -- शरोर ) है, faa में न रक्त 
है, न माँस है, अर्थात्‌ अस्थि-मात्र है, क्योंकि ऊपर लिख आये है, कि प्रेमो को न ae, 
न नोंद, न विश्राम, कुछ भो sey होता। इसो लिये शरोर का रक्त माँस गल जाता है। 
केवल अस्थि रह जातो है। sat लिये जिस ने उस ,प्रेमो का मुख देखा, तिस ने हंस 
feat) हँसने का तात्पये यह, कि लोगों ने उस को बौरहा समझ लिया है। (उन के 
हास्य at) सुन कर, faa प्रेमो को ata (aq) आ जातौ है, अर्थात्‌ उस प्रेमो को दृष्टि 
तो सवेदा उस प्रेम-हो को ओर हैं; केवल कान से उन लोगों का Tere वचन को सुन कर, 
ae रोने लगता है, कि हाय जगद्दिचित्र हैं, जिस में प्रेम wey ae भो कोई पुरुष है। 
सो उलटे ये बौरहे मुझो को बौरहा समझ हंसते हैं ॥ यहाँ प्रेम से ईश्वर के चरण में 
अनुराग होना हे। अथवा तिस प्रेमो का auld सन कर, कि यह ईश्वर-चरणानुरागो 
पुरुष है, पोछे से उस हंसने-वालाँ को ग्लानि से ey आ जातो है, कि हाय हाय विना 
समझे में ने ear, अर्थात्‌ हँस कर अपने WOT को कलुषित किया nee 


२४ | स॒धाकर-चन्द्रिका | ३५४ 


चडपाई | 
सन ay सइ सइंतालिस He) कथा अरंभ बयन कबि करे॥ 
सिंघल-दोप पदुमिनों cali रतन-सेन feast ae stat | 
अलउदौन देहिला सुलतानू। राघउ-चेतन ale बखानू ॥ 
सुना साहि गढ fat आई। हिंदू gqeae wt amt ॥ 
आदि अंत sa गाथा अहो। लिखि भाखा चडपाई कहो ॥ 
कवि वबिआस रस कवला git) टूरि सो निअर fat At ea 
निअरहि git फूल जस काँटा। git जो निअरहि जस गुर चाँटा ॥ 


Stet | 


HAT आइ बनखंड AT BT कवल रस बास। 
दादुर WA न पावई भलहि जो आछइ पास ॥ २४ ॥ 


इति असतुति-खंड ॥ १॥ 


ay सद् -"नव से। सदतालिस--सेंतालोस | BB—F | गाया — कथा -- दृतिहास । 
बिआस = ब्यास 55 जो कि कथा पुराण बाँचते हैं | Haw = कमल । गुर 55 ग़ुड। भवँर 5 
भ्रमर। दादुर 55 ददुर 5 मेघा। भलहि - भलो-भाँति से” अच्छो तरह से । आछद +- 
शोभित हैें। पास  पाश्व = निकट ॥ 

जब कथा के आरम्भ का वचन कवि ने कहा, अर्थात्‌ जब कवि ने कया का आरम्भ 
किया, उस समय हिजरो सन्‌ नव से सेंतालिस था (सन्‌ १४५४० ईशवो)॥ अब रंक्षेप 
से वाल्मोकि-मूल-रामायण के ऐसा कथा को भूमिका लिखते हैं, कि सिंघल-दोप F 
जो पदुमिनो ( पद्मिनो 55 पद्मावतो ) रानो at, उसे रतन-सेन (राजा रल्न-सेन ) चितडर 
(चिचवर ) गढ में ले आया॥ राघव-चेतन (एक afH) ने उस पद्मावतों के रूप का 
वर्णन feat के सुलतान (बादशाह) अलाउद्दोन से किया ॥ शाह (अलाउद्योन) ने 
प्रशंसा को सुना, आर आ कर (पद्मावती के लेने के लिये) गढ ( चित्तौर-गढ ) को SH 
(aq) लिया। fee तुरकाँ में ast हुई ॥ इत्यादि आदि से अन्त तक जैसो कथा 
थो, सब भाषा चौपाई लिख कर कहा है। कोई “लिखि दोहा चौपाई करो ऐसा 


85 पदुमावति । १५ | असतुरति-खंड | [२४ 


पाठ कहते हैँ ॥ भाषा से, कवि के देश को भाषा समझना, जिसे हम लोग आज पुरानो 
अवध को भाषा कह सकते हैँ ॥ जन्म-स्थान छोड कर, जायस नगर में कवि का आना, और 
वहाँ पर कथा का प्रचार करना, इस पर दृष्टान्त दिखलाते हैं, कि कवि, व्यास आर रस से 
पूरी (भरा EM) कमल, इन से जो दूर हैं वे निकट, We जो निकट में हैं वे दूर 
हैं, जैसे काँटा फूल के निकट-हो है, परन्तु दूर है, अर्थात्‌ फूल के गुण को वह THT 
नहों जानता, नहीं तो फूल में लपट कर रहता। इस लिये मानोँ वह फूल से दूर है। 
और जेसे set 7s के दूर रहता है, परन्तु निकट-हो है, अर्थात्‌ Wer गुड से अन्यत्र 
कहों दूर अपनो विल में रहता है, परन्तु वायु-द्वारा Js का Gra पाते-हो निकट हो 
जाता है ॥ निकट रहने पर दूर और दूर रहने पर भो जो निकट है, इस पर ओर 
एक दृष्टान्त दिखाते हैं, कि देखो wat वन-विभाग से, अर्थात्‌ बहुत दूर से, आ कर, 
कमल का बास लेता है, परन्तु ददुर जो भलो भाँति से कमल के पास-हो शोभित है, 
उस कमल के बास को ASL पाता॥ कवि का भाव है, कि अवध को भाषा में काद्य होने से 
यद्यपि मुसलमान लोग अनादर करेंगे, तथापि हिन्दू जो मुझ से बहुत दूर हैं मेरे काव्य 
का आदर ALA! Tat प्रकार यह At कवि का भाव है, कि मेरे जन्म-स्थान के लोग 
जो दिन रात WO कविता को सुना करते थे, qa At आदर न किये; और जायस 
जो कि दूर है, वहाँ के लोगों ने बहुत-हो आदर किया ॥ इस विषय में परम्परा से 
ऐसा प्रसिद्ध है, कि मलिक मुहम्मद पहले अपने जन्म-स्थान-हो में रह कर, पदुमावति के 
दो चार खण्डाँ को बना कर, गाया करते थे। इन के साथ साथ Va लोग भो गाते गाते 
Sa खण्डाँ को अभ्यास कर लिये | एक चेला रमते Tad जायस में पहुंचा, आर जो 
खण्ड उसे अभ्यास था, उस का गाना आरम्भ किया। वहाँ का राजा उस खण्ड को 
कविता पर ऐसा मोहित हुआ, कि उस चेले के साथ अपने सरदार को भेज, बडे आदर 
से मलिक मुहम्मद को अपने यहाँ बुलाया, ओर पूरो कथा बनाने के लिये प्रार्थना 
किया | बहुत लोगों से यह भो सुना जाता है, कि उस चेले को नागमतो का बारह 
मासा याद था, AT Bat को उस ने गाया था। Bal पर वहाँ का राजा मोच्चित हो 
गया, विशेष कर बारह ATA के इस दोहे पर ‘aaa जो विगसत मान-सर, faq जल 
73S GAT ॥ २४ ॥ 


इति स्तुति-खण्डं नाम प्रथम-खण्ड समाप्तम्‌॥ १ ॥ 


zy] उधाकर-चन्द्रिका | 20 


ay सिंघल-दौप-बरनन-खंड ॥२ ॥ 


>> 4.७ BV 


चडपाएश | 
सिंघल-दौप कथा अब aay | अड सो पदुमिनि बरनि सुनावड॥ 
बरनक दरपन भाँति बिसेखा। जो जेहि रूप सो तइसइ देखा॥ 
ufa सो दौप se दौपक att | अड सो पदुमिनि दइ agate ॥ 
सात दौप बरनइ सब लोगू। was दौप न ओहि aft जोगू॥ 
दिया-दौप afe aa उजिआरा। सरन-दौप aft होइ न पारा ॥ 
जंबू-दौप aes तस नाहो | लंक-दौप पूज न परिछाहो ॥ 
दौप-कुंभमथल BTA परा। दौप-महुसथल  मानुस-हरा ॥ 


atet | 


सब संसार पिरिथुमाौ आर सात-ड दौप। 
णएक-उ दोप न ऊतिम सिंघल-दौप समोप ॥ २५ ॥ 


पदुमिनि = पद्मिनो = पद्मावती । बरनक = वर्णक = वन | धनि 5 धन्य । कुंभसथलल 
>> कुम्भस्यल | मह्ुसथल -- मधुस्थल | ओर जब गभसथल यह पाठ है, तब गर्भसथल 5८ 
mea | पिरिथुमों ८ पएथिवों । ऊतिम 5८ उत्तम ॥ 

कवि कहता हैं, कि अब (स्तुति-खण्ड के अनन्तर ) सिंघल-दौप के कथा को गावता 
हुं, अर्थात्‌ weal हूं, आर उस पद्मिनो (के दत्तान्त को ) वर्णन कर के सुनाता हूँ ॥ वर्णन 
करने में, यथार्थ बात Tel प्रगट होती. Vat यदि कोई wer करे, avi कहते है , कि 


से परदुमावति । | सिंघलदौप-बश्नन-खंड | | (2% 


वर्णन एक विशेष cou के भाँति हैं, इस लिये जो जिस रूप का है, सो तेसा-हो (उस 
दर्पण में ) देख पडता है ॥ विशेष caw कहने का यह भाव = कि बहुत से ऐसे भो 
zum होते जिन में छोटे बडे रूप देख पडते हें । उन सबाँ का निराकरण करने 
के लिये विशेष पद दिया॥ धन्य सो (ae) दोप हैं जहाँ नारो (स्त्रो-लोग) दोपक हैं, 
अर्थात्‌ दोप के शिखा सो उज्ज्वल हैं, ओर जहाँ पर देव (ईश्वर) ने उस पद्मिनो का 
अवतार fear सब लोग सात Sta का वणन करते हें, (परन्तु) उस दौप के समता 
योग्य एक भो ato नहों है॥ दिया-दौप अर्थात्‌ aed यवतो का नेच, तेसा उज्ज्वल 
नहों Sl सरन-दोप (अवण-द्वोप ), अर्थात्‌ सुन्दरो का au, उस ( सिघल-दोप ) के aw 
होने को समर्थ नहीं है | wal, अर्थात्‌ सुन्दरो के केश पाश, को भो कहता हूँ, कि 
तैसा (सिंघल-दौप सा सुन्दर) नहों है। लंक-दोप, श्रर्थात्‌ सन्दरो को कटि, ( सिंघल- 
aia at) परिछाहों (छाया) को समता को नहों पूजतो, अर्थात्‌ vel पाती ॥ कवि 
कहता है कि कुम्भस्यल-दोप, अर्थात्‌ सुन्दरो का पयोधर, अरण्प (aga) में पडा है, 
अर्थात्‌ छिपा हुआ हें, इस लिये ae क्या समता करेगा। अरण्य से मुक्ताहार, वस्त्राज्ल 
इत्यादि समझना चाहिए। और मधुस्थल-दोप, श्रर्थात्‌ सुन्दरो का गुक्याज्ञ, मनुय्य को 
नाश करने-वाला हे (क्याँकि संसार उसो विषय-ढष्णा में पड कर, वार वार मरा करता 
2), इस लिये ऐसा दुष्ट पापो ay क्या समता करेगा ॥ जब गभसथल पाठ है, तब 
गर्भस्थल से Bett का Get लेना, जिस में वार वार Has वास करता हैं, इसो लिये 
qe उदर AAD को हरने-वाला, अर्थात्‌ चोराने-वाला हुआ, तब वह चोर इस दोप को 
क्या समता करेगा ॥ कवि का अभिप्राय है, कि सुन्दरियाँ के सब उत्तम aE जब उस 
Sy al समता asl कर सकते, तब वहाँ को दौफ-शिखा सो जो नारो =, उन कौ 
समता इतर सुन्दरियोाँ से करना असम्भव हैं, अर्थात्‌ उस Sto कौ नारो ओआर उन के 
He अनुपम हैं ॥ HB, कथा aT way बेठाने के लिये, पञ्मतन्त्रादि में कर्पर-दौप इत्यादि 
नाम कल्पना कर लिये हें, sat प्रकार जिस में By हो (अर्थात्‌ दो अथ हो ), ऐसा समझ 
कर, कवि ने दिया-दौप, सरन-दोप, कुम्भ-स्थल, ओर मधु-स्थल, ऐसा नाम कल्पना कर लिया 
है। जम्बू ओर UE में आप-हो gy हें इस लिये इन को ares ले लिया ॥ 

संसार में सब प्रथिवों भर सातो द्वोप आये हैं, अर्थात्‌ aa हुये हैं, ( परन्तु ) 
सिंघल-दौप के समोप (fanz), अर्थात्‌ उस के साथ तुलना करने में एक दौप भो 
नहों उत्तम ठच्दरता है॥ २५॥ 


रद | सुधाकर-चन्द्रिका | डर 


चजपाई | 
गधरब-सेन सुगंध CATE । सो राजा वह ता कर देरू ॥ 
लंका सुना जो रावन राजू। ते-हु चाहि बड ता कर साजू॥ 
छप्पन AS कटक STAM | सबइ छतर-पति अड गढ राजा ॥ 
सोरह सहस घेर घोर-सारा। साव-करन अड बाँक quer i 
सात ava vant सिंघलो । aq कबिलास इरावति aut ॥ 
असु-पतौ क सिर-मउर कदहावइ। गज-पतोौ क आँकुस गज नावइ | 
ATU AAT HEY नरिंदू। wuat क जग दोसर इंदू ॥ 

Stet | 


अइस चकवइ राजा We खंड wa Bz 
waz आइ सिर नावहीं सरिबर करइ न कोइ ॥ २६॥ 


गंधरब-सेन = गन्धवे-सेन | ALA = नरेश। रावन राजू Waa राजा। छतर-पति = 
छत्रपति । सहस 55 सहस्त = हजार । घार-सारा 55 ats को शाला न८"घोटक-शाला । 
साव-करन = श्याम-कणए = जिन के सब AE श्वेत केवल कान काले Bi बाँक 5 वक्र 5८ 
तेज | AST "" घोडा | असु-पतौ 5 अश्वपति 55" घोडे पर चढने-वालोँ में श्रेष्ठ । सिर- 
मउर = शिरो-मयूर = शिर पर मथूर के ऐसो टोपो। गज-पतो = गजपति — हाथो पर 
चढने-वालों मे श्रेष्ठ; नर-पतो = नर-पति = राजा afte = नरेन्द्र aa = भ्-पति = 
प्रथ्वो के पति -" जिमौदार लोग, जिन के अधिकार में केवल जोतने बोने के लिये भूमि 
हो । इंदू ८ इन्द्र । चक्कदद = चक्रवत्तों । सरिबर 55 बहस 5 सवाल जवाब ॥ 

गन्धवे-सेन जो BAA ( सुन्दर गन्ध से भरा, अर्थात्‌ जिस के शरोर से Quay महकतो 
है) राजा, सो ( वहाँ का) राजा है, और ae ( सिंघल-दौप ) तिसो (राजा) का देश 
हैं ॥ wate st रावण राजा सुना हैं, तिस से भो बढ कर तिस का ( गन्धवे-सेन का ) 
बडा साज (तयारो) है ॥ छणप्पन करोड कटक-दल (सेना का समूह ) साजा हुआ हें, 
सब (छप्पनो करोड) छत्रपति आर (एक एक) गढ के राजा हैं ॥ ( जिन के चलने में ) 
सेवक उन के शिर पर छत्र लगाते हुए चले | (पहले बडे A को यह प्रतिष्ठा प्राप्न 





(१) तौसरे Se at eat’ चौपाई eT) 


४९ पदुमावति | २ | सिंघलदौष-बरुनन खंड | [२६-२७ 


होतो थो।) (उस के) घोड-सार में सोरह हजार ate हैं, (जिन में बहुत से) श्याम- 
कर ओर बाँके घोडे हें ॥ सिंघल देश के सात हजार हाथो हैं, wat केलास ( शिव- 
go, परन्तु यहाँ इन्द्र-पुरो ) के बलो ऐरावत हाथो हैं । ( ऐरावत श्वेत हाथो होता है, 
और उस पर देवताओँ का राजा इन्द्र चढता है) ॥ (ae राजा) अश्व-पतियाँ का शिर- 
मौर कहाता है, गज-पतियोाँ के गज (हाथो) को अद्भुश से नवा देता है (gar देता 
है), और (में उसे) राजाओं का ate (मन॒य्यों में इन्द्र) और wast का दूसरा 
इन्द्र कहता SN इन्द्र वर्षा का पति है। ऋू-पतियाँ को अन्न होने मे वर्षा-होौ का 
भरोसा हैं। वह विना इन्द्र कौ कृपा से नहों होतो। इस लिये इन्द्र बनाया हैं ॥ 
« नर-पती क Hes ws afte’, इस पाठ में, यति-भन्जनः दोष है। यदि “कह-उं-अड ? 
ऐसा शब्द को काट कर Ala बनावें तो शब्दाबध दोष होता FU 

ऐसा चक्रवत्तों राजा है कि चारो भाग में (पूर्व, प. उ. द.), (उस का) भय 
होता हैं, wa कोई आ कर (उस के सामने ) शिर को aaa F (झुंकाते हैं ), आर 
(उस के आगे ) कोई सरबर नहों करता है ॥ २६ ll 

चडपाई | 
जब-हि atu निअरावा जाई। जनु कबिलास निअर भा आई॥ 
घन Bas लाग We पासा। उठे पुहुमि हुति wy अकासा ॥ 
तरिबर सबइ मलय गिरि ae) we जग are रइनि होइ छाई॥ 
मलय समोर सोहाई छाँहा | As जाड लागइ तंहि माँदा ॥ 
Sr aie रइनि हाइ आवइ। इहरिअर सबइ अकास देखावइ॥ 
पंथिक as ups सहि घामू। दुख बिसरइ सुख होइ बिसरामू ॥ 
जेइ वह पाई aie अनूपा। agit न आइ aefe यह धूपा ॥ 
दोहा | 
अस BUS सघन घन बरनि न पारउ अंत । 
फूलइ फरइ छव-उ रितु जान सदा बसंत ॥ २७॥ 

निअ्रावा 5 नगौच किया । घन 5 झुण्ड "ढेर का ढेर । अबराउ = आस्र- राज = 
अच्छे जाति का आम | जेठ 5- ज्येष्ट महोना । पंथिक 5 पथिक 55 Tel! सघन = गज्िन । 
छव-उ = छवो । जानउं -- जानो = मानोँ ॥ 


२७- २८ ] सुधाकर-चन्द्रिका | Br 


जिस ast किसो ने जा कर (सिंघल ) दौप at नगोच किया, अर्थात्‌ जब कोई 
सिंघल के नगोच पहुंचा, (उस ast ऐसा समझ पडता हे) wat (वह) आ कर 
HAI के नगोच हुआ ॥ चारो ओर (चहुं War) आम्र-राज के झुण्ड लगे हैं, जो प्रथ्वो 
से उठे हैं, आर आकाश से जा कर लगे हुए हैं॥ सब तरूवरोँ में (जानाँ) मलय- 
गिरि ( मलय-चन्दन ) लगाया हुआ हैं। (उन zai से) जग में छाँह हो गई, ओर 
(waa ae छाया) रात्रि हो कर छा गई ॥ वह छाया मलय-समोर ( मलय-चन्दन-सहित 
वायु ) से ( ऐसी ) शोभित हुई है, कि तिस के मध्य Se महोने में भो जाडा लगतो 
है॥ (कवि कौ उत्परेच्ा = fa निश्चय समझो) sat छाया से (संसार में वार वार) 
रात हो आतीो हैं, और (set छाया) सब आकाश को हरिअर (हरा) दिखलाती है, 
अर्थात्‌ sat छाया का प्रतिबिम्ब asa से सब आकाश हरे au का हो गया है॥ यदि 
ara को सह कर कोई पथिक (वहाँ) पहुंच जाय, तो (उस aT) दुःख we जाता हैं, 
सुख होता है ओर खस्यता (विश्राम) Vat है॥ जिन्हाँ ने उस अनुपम छाया को 
पाया, वे फिर (वहुरि) (इस संसार में ) आ कर इस धूप को नहों सहते हैं॥ 

ऐसा Was का गज््मिन aw है, जिस का वर्णन कर के अन्त तक Tey पार 
हो सकता si कवि का अभिप्राय है कि जिन adi के छाया वर्णन में सात चौपाई 
हो गई उन के वणन में तो संभव हैं, कि एक ग्रन्थ तयार हो जाय ॥ छवो ऋतु (वहाँ) 
फूलतो फरतो हैं, wat (उस ala में ) सवेदा aa ऋतु है। ऋतुओं में aan ऋतु 
राजा है, इस से aaa का ग्रहण किया हैं॥ २७॥ 


चडपाई | 


Gt Bia अति सघन सोहाए। Be जस wt अधिक सिर ary 
कटहर डार Utes सर पाके । बडहर सो अनूप अति ताके ॥ 
खिरनों पाकि wis असि मोठो। जाउंनि पाकि wat असि डोठौ॥ 
नरिअर Gt फरो फरुहरो | फरो जानु इंदरासन-पुरो ॥ 
पुनि aga ya अधिक मिठारू। मधु जस als FEI जस वारू ॥ 
अउरू खजहजा AIT न नाऊ | देखा सब WIA अवंराऊं ॥ 


लाग सबइ wa अंब्रित AQT! रहइ Aas सोइ जो चाखा॥ 
6 


BR पदुमावति | २ | सिंघलदौप-बरुनन-खंड | [Re 


ater | 
गुआ सुपारों जाइफर सब फर wt अपूरि। 
आस पास घनि इविंलो AT घन तार WAT NRE I 


ऑब Wa) Waa हैं । पोड--पेंडो। ताके--देखने में । जाउँनिर- 
जामुन = gq । Sat =a पडतो है। फरुहुरो = फरहरो = छोटे छोटे मेवे के sa 
दूँदरासन = इन्द्रासन | चुत्र TAT है । USI पुष्य । वास्त्‌ -- वास -- Gray | खजहजा 
-- खाद्य ga, जिन के फल खाये जाते हैं । BATH = अमरावतो = इन्द्र के बगोचा सा 
श्रेष्ठ बगोचा | Hea = Basa) JAI = एक प्रकार को पूर्वों सोपारो। इबिलो = अमिलो ॥ 


अत्यन्त सघन ( गज्िन) ara at हैँ और शोभित हैं । आर (जो आम) Far 
(अधिक ) फरे हैँ, तेसा-हो अधिक शिर झुकाये हैं | तात्यये यह कि फल से भरे भो 
हैं, तौ-भो अभिमान से रहित हो कर ag हो गये हैं (fre पुरुष के ऐसा) ॥ 
कटहर डार और पेंडो से लग कर पके हुए हैं । (इस saa यहो खभाव है कि डार 
ओर पेंडो में फरता है )। बडहर जो हैं सो देखने ( ताके) में अति अनूप ( अति सुन्दर ) 
हैं। (इस का फूल ett में ऐसा gat रहता है, कि देखने में बडा मनोहर जान 
पडता है )॥ vat खिरनो wis ऐसो मोठो है। पको जामुन भाँरा सो (कालो) देख 
पडतो हें ॥ नरियर we है, फरहरो (सब) फरो Fl (इस प्रकार से ) फरो (वाटिका) 
ऐसी शोभित हैं, wat इन्द्रासन-पुरो अर्थात्‌ अमरावतो Fu फिर अत्यन्त Aer महुआ 
चू रहा है। (ae), जेसा मधु (TEE) मौठा होता है, वेसा Alar, और, जैसा gay में 
वास होता हैं, वेसा (उस में ) वास (amar) है ॥ और जितने anes (मेवे के दक्ष 
हैँ, जिन का नाम नहों आता, उन सब को राव wa कौ अमरावतो (वाटिका) में 
देखा ॥ शाखाओँ में सब (फल) ऐसे wi हैं जेसे waa, (उन को) जो चखता है 
सोई लोभाय रहता हैं ॥ 

Tat, BUT, और जायफर सब (दत्त ) अपूर (भर पूर) फरे हें॥ आस पास 
(aa ara) घनि ( गज््िन ), अर्थात्‌ बहुत, अमिलो ओर बहुत तार, खजूर ( लगे) हैं ॥ 
वाटिका के भोतर इन को शोभा नहों होतो, इस लिये किनारे पर लगना लिखा है ॥ 

चौथो चौपाई का “नरिअर wt भरो खुरुहरो। फरो जानु इँदरासन-पुरो ॥? 
ऐसा पाठ उत्तम जान पडता है, तब “नरियर फरे हैं (उन में) खुरुह़रो ad है। 


२८-२८] सुधाकर-चन्द्रिका | ४३ 


( वाटिका ऐेसो फरो हे) जानों इन्द्रासन-पुरो (अमरावतों) फरो Ez हे”, यह ae 
करना चाहिए ॥ गरो दो प्रकार कौ होतो है, एक कडो ओर खाने में नोरस। दूसरो 
aa ओर खाने में मोठो, ऐसो Mat ओर ada को ‘WEA’ कहते F ॥ २८॥ 
चडपाई | 
बसहि पंखि बोलहिं बहु भाखा। acfe हुलास देखि az साखा॥ 
भोर होत बासहि चुहिचूहों। बोलहि पांडुकि waz aet ॥ 
सारड सुआ जा रहचह करहो। कुरहि परेवा अउ करबरही॥ 
पिड fas लागइ करइ पपौहा। gel get afc गुडुरू खोहा ॥ 
कुछ कुछ aft कोइलि राखा। ay भंगराज बोल बहु भाखा॥ 
दहो दहो कद महरि पुकारा। हारिल बिनवद आपनि हारा ॥ 
कुहुकहि मोर साोहावन लागा। होइ कोराहर बोलहि कागा ॥ 
atet | 
जावँत पंखि aelaa ase ufc wats | 
आपनि आपनि भाखा लेहि दई कर AIT ॥ २८ ॥ 


BAW = Fae = आनन्द | बासहिं 55 फलों के सुगन्ध से वास जातो हैं । सारउ 5८ 
सारा = gat = ga | रद्चचचह = चच्चचचह -- आनन्द के शब्द | कुरहिं -कुरकुर करते हैं । 
परेवा = कबूतर = पारावत | करवरहौ = कलबलाते = इधर से Guy उड़ते है । 
भंगराज = म्टड्रराज | काराहर = कोलाहल | अवंराउं = अमरावतो ॥ 

उस अमरावतो में पत्नो aad हैं, जो बहु भाषा (अनेक तरह को बोलो ) बोलते 
हैं। ओआर शाखा को देख कर (जिन में पहले कह आये हैं कि ‘ar सबद जस 
afaq साखा ? अर्थात्‌ waa फल लगे हैं) हुलास (मन में आनन्द ) करते हैं ॥ भोर 
(aaa) होते-हो qfeget ( फूल के रस को खाने-वालो चिडिया इस प्रान्त में 
प्रसिद्ध है, जिसे बहुत लोग फुलचुहो वा फुलसंघो कहते हैं) फूल के रस के सुगन्ध से 
बास जातो हैं | ओर पाण्डुको (पेंडुकौ जो कबूतर के तरह होतो है । यह भो इस 
प्रान्त में प्रसिद्ध हैं) ‘uns wet’? ‘uaz दूछो ” बोलतो हैं । इस ust को बोलो 
में ऐसो-हो धुनि जान पडतो Sn सारड, ga के ऐसे जो सुआ (शुक) हैं, अर्थात्‌ बडे 


88 प्रदुमावति | २ | सिंघलदौप-बरुनन-खंड | [Re 


मनोहर मरकत के ऐसे जो Wa हें, वे Teas करते हें (आपस में कज्नोल कर के 
बोलते हैं ) | परेवा (कबृतर ) कुरकुर करते हैं (इन at बोलो में at कुरकुर धुनि 


aw 


जान पडतो है । कोई घुरघुर धुनि बतलाते हैं, उन के मत से घुरहिं यह पाठ हैं), 
और कलबलाते हैं, अर्थात्‌ इधर से उधर उडते हैं ॥ पपौषह्ा पोड पोड करने लगे हैं । 
(ams को बोलो से पोड As धुनि निकलतो है )। ase तुच्चों Tet कर के, खोहा, 
अर्थात्‌ खो खो, करता है। अर्थात्‌ इस को बोलो में “तुष्टों खो” ‘al खो” यह 
धुनि निकलतो Fu यह पक्षो हमारे प्रान्त में नहों प्रसिद्ध Fu कोयल qe कुछ 
कर wae, अर्थात्‌ कुछ कुक बोल रहे हैं (कुह कुछ कोयल के बोलो को धुनि 
है )। और म्टड्गराज अनेक भाषा को बोलता Su (इस का ऐसा खभाव हैं, कि जिस को 
बोलो सुने, वेसा-हो बोलने लगे । यह बहु-मूल्य और yas को तरह प्रसिद्ध पक्षी है। 
धनो लोग बोलो सुनने के लिये पालते भो हैं )॥ महरि cet cet कर के पुकारतो 
है। (eet दहो इस के बोलों को घुनि है। इस को asa लोग ग्वालिनि वा 
अहिरिनि wea हें। यह महोखे से कुछ छोटो, get जाति को इस देश में प्रसिद्ध 
है)। हारिल अपने हारे हुए को बिनतो करतो है, अर्थात्‌ इस को बोलो से यहो 
धुनि निकलतो है कि “हा हारि गई? “हा हारि गई?। (यह पक्षी सुग्गे को 
तरह हरे रंग का होता है, और बहुधा, बर, पोपर ओर पाकर पर रहता है। wat 
पर नहों उतरता। यदि wat DA के लिये उतरना पडा, at wea eu लिये हुए 
उतरता है, ओर Gat के आधार से पानो पो कर पेंड पर चला जाता है। yal पर 
अपने पेर को नहों रखता | tat कहावत है कि मारने से भो जब afa पर 
गिरता हैं, तब पेर को ऊपर किये हुए रहता हे। इस देश में प्रसिद्ध हैं। खाने- 
वाले इसे खाते भो हैं )॥ मोर कुह्कते हैँ, जो ( कुह्कना ) सोहावन ( अच्छा ) लगता है, 
(इस at बोलो से ge धुनि Stat है), और (जब ) काग ( कौए) बोलते हैं, (aa) 
कोलाहल हो जाता है, अथवा तब कोराहर होने लगता है, अर्थात्‌ कर कर होने लगता 
है। (कौए को बोलो को कर कर घुनि है) ॥ 

जितने ott कहे हैं, अर्थात्‌ प्रसिद्ध हैं, सब अमरावतो भर बेठे हैं | ओर अपनो 
अपनो भाषा में सब देव (ईश्वर) का नाम लेते हैं ॥ 

तोसरो चोपाई में बहुत लोग “सारो सुआ जा रहचरह ATE)’, यह पाठ करते हैँ, 
परन्तु खब पुस्तकाँ में सार यहो पाठ मिलता है। सारो (--सारिका 5-5 पहाडो Far) 


Re - ३०] सुधाकर-चन्द्रिका | By 


वाटिका का vat नहों है। यह पहाड़ों में वा ऊँचे सखुए के aati में बसतो हैं । 
इसो लिये जान पडता है कि कवि ने छोड दिया है ॥ २८ ॥ 


चडपाई | 


UEt UST कूआँ बाउरों | साजे बइठक अड OMT ॥ 
अउरू कुंड सब sisfe ठाऊ | सब तौरथ ays fae के नाऊँ॥ 
मठ HSH WE पास Hat | AW BW सब आसन मारे | 
कोइ सु-रिखेसुर काइ सनिआसोौ। कोइ सु-राम-जति काइ मसबासो ॥ 
काइ सु-महेसुर saa sat | are sR परखइ 2A सतो॥ 
कोई ब्रहमचरज पंथ लागे | कोइ सु-दिगंबर arafe नाँगे॥ 
कोई संत सिद्ध me जागौ। कोइ facia पथ बइठ बिओगी॥ 


दोच्चा | 


सेवरा खेवरा बान सब सिधि-साधक अउघूत | 
आसन मारे बइठ सब जारहि आतम-भ्ूत ॥ ३० ॥ 


पढ्ग 55 पग 55 प्रग 55 पद 55 पेर । कूआँ 55 कूप। ast -- बावलो 55 वापो । asa 
=u 55 दार वा Het) मठ -- जहाँ विद्याय्यों वा साधु-लोग रहे | मंडफ़ -- मण्डप, 
जो चारो ओर खुला रहे, केवल ऊपर छाया रहे॥ TI "5 तपस्तोी, जो पद्माप्मि तापे, वा 
aa में उलटे टंग कर धूम पोए, वा ओर प्रकार से शरौर को कष्ट दे॥ aT =a 
करने-वाले, जो faat देंवता को वश करने के लिये उस के मन्त्र को, आसन लगा कर, 
जपते हैं ॥ सु-रिखेसुर = सु-ऋषोश्वर = ऋषियों में Fe) जो मनुय्थाँ की शक्ति को sara 
कर जाते हैं, इन में साधारण योग्यतानुसार, ऋषि, wale, महर्षि, राजर्षि, ag 
और देवषि, ये भेद हैं । वसिष्ठ आर विश्वामित्र को लडाई मेँ, ast तपस्या से, तब 
क्षत्रिय विश्वामित्र ब्रह्मषि हुए हें । इस को कथा वाज्ष्मोकि-रामायण बालकाए्ड में 
प्रसिद्ध है ॥ सनिआसो = saat, जो जोते-हो अपना कर्मे-न्यास कर डालता है, अर्थात्‌ 
मरने पर जो गति के लिये क्रिया aa किया जाता हैं, at वे लोग NaS कर 


डालते हैं, और शिखा Ga त्याग कर एक दण्ड धारण ALAS | BA दण्ड को जीवन 


४६ प्रदुसमावति | 2 | सिंघलदौप-बरनन-खंड | [३० 


पर्यन्त wat पर गिरने नहों देते, आर अपने सब कर्म का Tat Gal दण्ड को समझते 
हैं। इन्हें दण्डो भो कहते Fy कोई कोई Ta दण्ड धारण करते हैं | मरने के समय, 
अशक्त होने पर, जो GTA S, उसे आतुर wale Head है Ga को जो ग्रहण करता =, 
उसे Mat स्थ्यारों कहते हें ॥ राम-जति 55 राम-यति, जो राम को उपासना में 
विरक्त हो कर रहे, जेसे अयोध्या के वेरागो लोग॥ मस-बासो = Asal, जो एक स्थान 
पर मास भर वास करें, फिर दूसरे स्थान पर जा कर वहाँ भो एक मह्ौना रह कर 
डसे भो छोड Hart, चौथे इत्यादि पर बसते रहे ॥ सु-महेसुर = स-माहेश्वर, जो अपनों 
आहृति महादेव (ASAT) के ऐसो बनाते हैं, अर्थात्‌ जटा, चन्द्र, ears इत्यादि धारण 
करते हैं, आर घर से विरक्त हो शिव का पूजन करते हैं ॥ yea, st एक जगह न 
रहे, सवेदा Far At | प्रायः ये लोग वोरभद्र्‌ (जो कि दक्ष के यज्ञ को fase किया 
था ) को उपासना करते हैं ॥ जतौ -- यति, जो daa अर्थात्‌ आचार से रहे। जेनियाँ 
में बहुधा यति होते हैं, ओर Fae भो होते हैं ॥ देबो -- वाम-देवो ॥ सतो 
-- दक्षिण देवों ॥ ब्रहमचरज - ब्रह्मचये, जो यज्ञोपवोत होते-हौ,---- सन्ध्या गायतो 
इत्यादि नित्य क्रिया हैं,--इस क्रिया को करतें, गुरु के घर में रह कर, बेद को पढता 
है, उसे ब्रद्मचारो कहते हैं ॥ दिगंबर -- जिन का दशोदिशा-हो अम्बर (वस्त्र) है, जेसे 
परमहंस, नागा इत्यादि । वेष्णवाँ में भो दिगम्बरो ओर निर्वाणे, निर्मोच्तो, इत्यादि 
HAS हैं। परन्तु इन ABSIT के साध अब श्रेतवस्त्र धारण करते हैं ॥ जेनियाँ में 
भो दिगम्बर होते है ॥ सन्त 5 जो भगवत्कथावार्त्ता का प्रेमो हो॥ सिद्ध -- जिसे अणिमा 
( छोटा हो जाना ), महिमा (बडा हो जाना ), लघिमा (saat हो जाना ), गरिमा (गुरु 
हो जाना ), प्राप्ति (चाहे जिसे छ ले, जेसे अंगुलो से चन्द्रविम्ब को), प्राकाम्य (जो Batra 
हो, सो Te हो जाय), ईशत्र (चाहे जिस का प्रभु हो जाय) ओर afsa ( चाहे जिसे 
वश ata), ये आठटो सिद्धि वश में हो ॥ योगो 55 जो योग जानता हो, समाधि लगाता 
हो ॥ वि्ओोग -- वियोग = किसो के वियोग से जो विरक्त हो गया et सेवरा 5८ यह 
झण्ड के झण्ड चलते हैं fae पर जटा ओर वस्त्र गरुआ रखते है | अपने को Fa कहते 
हैं । अपने मूर्वेच्रिय कौ am को ais डालते हैं। आर उस में (मूत्रेन्रिय में va 
पौतल को सिकडो बाँधे रहते हैं । अपनो चमत्कारों से रूखो जटा में से way 
निकाल देते हैं, ओर कहते है कि गड्जा-जल है॥ खेवरा, सेवरा-हो के एक भेद हैँ 
(जैसे Wass में eas, gas, way, निरज्ञनो, इत्यादि भेद हें )। हाथ में aus 


३०-३२] सुधाकर-चन्द्रिका | yo 


लिये रहते हैं, ओर, गोरख-नाथियोँ के ऐसा, मद्य के सब के सामने दूध बना कर 
पो जाते हैं । खालो हाथ से केवल हथे लियाँ को मल मल कर VAT, We इत्यादि निकास 
कर लोगों को दिखलाते हैँ ॥ वान = वान-प्रस्थ, जो स्त्रो-पुरुष साथ वन में जा कर तपस्या 
करते हैं, अर्थात्‌ जो ब्राह्मण विद्या पढने के अनन्तर, विवाह कर, फिर स्त्रो के साथ वन 
में रहता हैं। इस का वन मनु ने मनु-स्ूथति में किया है ॥ सिधि-साधक = सिद्धि-साधक 
=a सिद्धि के साधने-वाले ॥ अडघूत 55 अवधूत, जो संसार के व्यवहार से अलग हो 
जाय | परमहंसेोँ के ऐसा, प्रायः अवधूत भो मौन रहता है, और yt लपेटे रहता है। 
गोरख-नाथ को लोग सच्चा अवधूत कहते हैं ॥ आतम-भ्ृत = आत्म-भ्वत = अपना wa, 
अर्थात्‌ अपने पाञ्चभौतिक (शरोर ) को ॥ 

उस अमरावतो में पेर पेर पर कूएं आर बावलो हैं, (जिन पर विश्राम के लिये) - 
aaa सजे हैं, आर सोढियाँ wt हैं ॥ ओर स्थान स्थान पर जो ag कुण्ड हैं वे 
सब तोथे (तोर्थ-खरूप ) हैं, आर faa के नाम भो हैं, अर्थात्‌ राम-कुण्ड, लक्ष्मण-कुण्ड, 
सौता-कुण्ड, द्रौपदो-कुण्ड, इत्यादि, उन के नाम wae SUS ॥ चारो तरफ (उन Het 


av 


के) मठ AT मण्डप बनाये गये हें, जिन में aget आर जपो सब आसन मारे 
( आसन को लगाये) हैं ॥ कोई सु-ऋषोश्वर, कोई सत्यासो, कोई राम-यति, कोई 
मास-वासो, कोई सु-माहेश्वर, कोई AFA और कोई यति S । कोई एक देवी (वाम-देवो ) 
को परखता है (acter करता हें), अर्थात्‌ वामोपासना मे प्रदत्त है, आर कोई सतो 
देवो (दक्षिण-देवो ) को परखता है, अर्थात्‌ शक्ति को उपासना करता है ॥ कोई 
ब्रह्मचय पथ में लगे हैं | कोई सुन्दर दिगम्बर हें, जो ag होने पर भो अच्छे लगते हैँ 
(आकहिं) ॥ कोई सन्त, कोई सिद्ध, कोई योगो हैं। और कोई वियोगो प्रेमी) 
निरास पथ (नेराश्य मार्ग प्रेम-मागं) में बेठा है ॥ 

सेवरा, BIT, aa (वान-प्रस्थ ), सिद्धि-साधक, और अवधूत, सब आसन मार कर 
बैठे हैं, आर सब अपने शरोर को जराते हैं ॥ ३० I 


चडपाई | 
मानसरोदक देखे काहा । भरा समुद जल अति अडगाहा ॥ 
पानि मोति afa निरमर ata! अंब्रिव आनि कपूर सुनवारू ॥ 
लंक-दौप कद सिला अनाई। बाँधा सरबर घाट बनाई ॥ 


४८ परदुमावति | २ | सिंघलदौप-बर्नन-खंड | [३९ 


खंड खंड wat भई aA उतरहिं चढहि लोग VE फेरो ॥ 
फूले कवल रहे होइ राते। सहस सहस welts कइ छाते | 
उलथहिं सोप मोति उतराहीं। चुगहिं हंस अड केलि कराहों ॥ 
कनक पंख पइरहि अति wa) sas चितर कौन्ह गढि सोने ॥ 

| दोहा | 

ऊपर पाल wes दिसा अंब्रित फर सब रूख । 

टेखि रूप सरबर कर aE पिआास AT भूख ॥ ३१ ॥ 


मानसरोदक = मान-सर का पानो | अडगाह = अवगाह = BITE | सिला 5८ fae 
अनाई =a कर । A = गले के ऐसे --घुमोआ | राते 55 रक्त 5" लाल । उलथहिं 
-- उलटते हैँ । उतराहों-"- उतराय आतो हैं । पदरहिंत"-पौरते हैँ =a F । 
चितर = चित्र । पाल 55 पालि 55 wel 55 तट = किनारा । पिआस = प्यास = पिपासा ॥ 

उस अमरावतो के सरो-वर के जल को देखा क्या, जानाँ अति Ware समुद्र के ऐसा 
जल भरा =) जिस का wat Atal के ऐसा faaa हैं, मानाँ aaa को ला कर 
(आनि), कर्पूर से सु-वासित किया है॥ लझ्ञा-द्दोप at शिला तअर्थात्‌ खुवण को शिला 
HM कर, उस सरो-वर का घाट बना कर (सुन्दर रचना कर के) बाँधा गया है ॥ 
खण्ड खण्ड (प्रत्येक भाग) में घुमोआ सोढो भई है, अर्थात्‌ लगो है, जिन से चारो 
ओर (लोग ) उतरते BSA हैं ॥ उस सरो-वर में कमल Ga हैं, आर लाल हो रहे 
हैं । ऐसे कमल हें जिन में हजार हजार wea के wa (aa) हैं। (जिन कमल 
के फूल में ave पखुरियाँ होतो हैं वस्तुतः बे-हो कमल हैं | अमरकोश में भो लिखा 
है कि 'सहस्तर-पत्तं कमलं, Ww कुशेशयम्‌', अर्थात्‌ जिस मे हजार पत्र हो वह कमल, 
और जिस में at पत्र हो वह कुशेशय कहलाता है ॥ 

हंस सोप को उलटते हैं, ( जिस से) मोतो उतराय आतो हैं। ओर उन मोतियाँ 
को चुगते हैं, आर ( आपस में ) केलि को करते हैं ॥ (वे हंस) अति सुन्दर (अति 
ait) सोने के पक्त (पंख) से पेरते हें । जानाँ गढ कर सोने में चित्र, अर्थात्‌ विचित्र 
रूप, किया हैं। ( कवि लोग सुन्दरता के लिये प्रायः सुवर्ण रूपो हंस को ग्रहण करते 
है । नेषध के प्रथम सगे में भो लिखा है कि ‘a तत्र चित्र विचरन्तमन्तिके face - 
इंसमबोधि नेषधः” ) ॥ 


३५-३२] स॒ुधाकर-चन्द्रिका | घर 


उस सरो-वर के पालो (az) के ऊपर, चारो fem में, सब दक्ष (रूख) अम्दत फल 
के लगे हें va सरो-वर का रूप देख कर, प्यास भर wa गई, अर्थात्‌ चलो जातो 
हैं ॥२१॥ 
चउपाई | 
पानि भरइ आवहिं पनिहारों। रूप सरूप पदुमिनौ art ॥ 
पदुम गंध fare अंग बसाहोँ। wat लागि fare संग फिराहों ॥ 
लंक-सिंधिनो सारंग-नयनों | हंस-गाविनोी कोकिल-बयनों ॥ 
safe we सु uifafe पाँतो। waa सोहाइ सु भाँतिहि ara ॥ 
कनक-कलस मुख-चंद दिपाहों । रहसि केलि as आवचहि जाहौो | 
जा सउ वेइ ह्वेरहिं we at! बाँक नयन जनु Eafe कटारौ॥ 
केस मंघावरि सिर ता पाई । चमकहिं दसन बोजु az नाई ॥ 
दोहा | 


मानड मयन मूरता अछरो बरन अनूप। 
safe az असि पनिहारोीं सो रानौ कंहि रूप ॥ ३२ ॥ 


लंक 55 लझ् +5 कटि 55 कमर | सिंघिनो -- सिंहिनो । सारँग 55 ate = कमल | 
गाविनो = गामिनो | दिपाहों = दिपते हैं = चमकते हैं । रहसि - हँसो ठट्टा। a= 
चचु 5 नेच । इनच्िमारतो हैं। मेघावरि 55 मेघावलि "- Fa के पट्डिः के Far) ता 
पाई -- पेर तक । बोजु "5 विद्युत fase ॥ मयन 55 मदन 55 काम-देव । अछरौ ८८ 
BUTT ॥ 

(at) पनिदहारों पानो भरने आतो हें, उन के रूप का खरूप (आकृति) पद्मिनो 
नारो के ऐसा हैं, Wife २५वें दोहे में ae आये हें कि “धनि सा दोप ws दोपक 
नारो ! ॥ faa के अज्ज पद्म-गन्ध (कमल के सुगन्ध) सा गमकते हैं (बसाते हैं ), अर्थात्‌ 
faa के अज्ग से पद्म के Que का ara आता हें। ( जिन नारियों के aE में पद्म का Tay 
हो, उन्हें पद्चिनो wea हैं । नारियाँ का विस्तार से लक्षण, अलाउद्दोन से राघव-चेतन 

» ने जहाँ नारियाँ का वर्णन किया है, तहाँ पर किया जायगा )। (जिस कारण से ) भ्रमर 
लगे हुए तिन के रंग फिरा करते हैं ॥ वे पनिहारियाँ we-fefen (सिंहिनो के 
7 


ng पदुसमावति । ९ | सिंघल-दौप-वरनन-खंड | [३२ - ३३ 


afe सौ जिन को afe हो), सारड्र-लनयनो ( कमल सा जिन के नयन Br), हंस-गामिनो 
(हंस कौ गति सो जिन कौ गति हो )। और कोकिला-वयनो (कोकिला सो जिन कौ 
बोलो हो ) हैं ॥ (Bay पनिहारियाँ) झुण्ड को झुण्ड सुन्दर पड्लि पह्कि में art हैं, 
अर्थात्‌ zm em ate बौस का a, एक साथ पाँतो लगा कर, पानो भरने के लिये 
आतो हैं | उन का सुन्दर भाँति भाँति का (तरह तरह का) way (TAA= We) 
सोहाता हैं ॥(शिर पर) सोने के कलस से चन्द्र-छपो मुख (ओर ) दिपते हैँ (चमकते 
हैं)। (आपस में ) eat और केलि से, अर्थात्‌ eat और विनोद करतो हुई, आतो 
जातो हैं ॥ वे नारो (पनिहारियाँ) जिस से आँख लडातो हैं (हेरहिं), wat (उसे 
अपनो ) ata नयन (तिरछो आँख) से कटारो मार देतो हैं (हनहिं), अर्थात्‌ Tera 
के चोट से जो मन को दुःख होता है, वेसा-हो उन के देखने से जो हृदय से मदनाप्नि 
उत्पन्न हो जातो है, उस से ae के मन को दुःख व्याप्त हो जाता है॥ कालो घटा 
को पाँति कौ तरह (मेघावलो कौ तरह) शिर से पेर तक केश हैं। उस में (उस 
कालो घटा में ) दशन (दाँत) विजलो को तरह चमकते हैं ॥ 

(वे पनिहारियाँ) माने काम al aha हैँ, आर उन का aw अश्यरा से भो अनुएम 
(उत्तम) है। जिस cat को tal पनिहारियाँ हें, (नहो जानते कि) वह wat 
(पद्मावती ) किस रूप को होगो ॥ ३१२ ॥ 

चडपाई | 
ताल AMS सो बरनि न जाहों । रूझइ वार पार तेहिं नाहों ॥ 
Ga कुमुद केति उंजिआरे। जानर्ड उए गगन मंह तारे ॥ 
safe मेघ चढहि लेइ पानो। waafe aa बौजु az बानो ॥ 
uate पंखि सो संगहिं संगा। सेत पौत wa सब Cat ॥ 
चकई चकवा केलि कराहों। निसिक बिछेहा दिनहिं मिलाहों ॥ 
कुरलहिं सारस भरे हुलासा। जिअन हमार मुअहि sa पासा॥ 
केवा सेन ढेंक aT Ut | Te अपूरि मौन जल-मभेदों ॥ 
दोहा | 
an अमोल fas तालहिं दिनहिं बरहि aa दौप। 
जो मरजोआ होइ afe सो पावइ वह सौप ॥३३॥ 


३३] सुधाकर-चन्द्रिका | घर 


ताल 5- जो Rat तक लम्बे होते हें, ओर किसो के खोदे नहों होते, किन्तु zat 
के नोचो पड जाने से होते हैँ । तलाव "5 तडाग । वार -- जिधर देखने-वाला खडा हो, 
उधर जो किनारा हो। पार =e का दूसरा किनारा। Afa= कितने | He — बडे 
AQ | बानो = वर्ण = सदृश | कुरलहि = alsfe= क्रोडा करते SF RAT = कमल | सोन, 
Sa, और लेदो प्रसिद्ध ताल के पक्षो हैं, इन को बहुधा छोग खाते हैँ । बग "5 वक 5 बकुला। 
Ala = मछलो ॥ मरजोआ 5 मर कर जो TAS, अर्थात्‌ जो समुद्र में रत्न निकालने 
के लिये गोता लगाते हैं (गोता-खोर )। ये जब Mat लगातें हैँ, तब Mat मर जाते 
= | फिर जब उतराते हैं, तब मानों जो जाते हैं । इसों लिये मरजोआ कहते हैं ॥ 

उस अमरावती में जो ताल के ऐसे तलाव हें, वे बरने नहों जाते। faa का वार 
पार (कुछ भो) नहों रूझता Fu उन में कितने उज्ज्वल कुमुद (कोई ) फले हैं va 
को शोभा tay है, जानाँ गगन (आकाश ) में तारे gu हैं ॥ (उन मे पानो लेने के 
लिये) Fa उतरते हें, आर wat ले कर ( फिर आकाश को) We जाते हैं। उस 
समय wat के साथ जो मेघ-मण्डल में बडे बडे मत्य चले जाते हें, वे बिजलो के सदृश 
चमकते हैं ॥ उन तालावो में सेत (श्वेत), Da, ओर राते (लाल) सब TE Fas 
ay uy में पेरते हें (ata हैं )॥ चकई और चकवा (आपस में ) क्रोडा करते 
ये दोनाँ निशि (राजि) के faster (वियोगो) हैं, इस लिये दिन-हों में मिल लेते 
हैं । (यह कहावत हैं, कि सन्ध्या होते-हो चकई (= चकवा को स्त्रो ) आर WHA ( चक्र ८- 
चक्रवाक ) मे वियोग हो जाता हैं, ताल के इस पार एक दूसरे पार दूसरा एक एक के 
शोक में रात्रि भर चिज्लाया करते हैं )॥ सारस उल्लास (आनन्द) में भरे आपस में 
क्रीडा करते हैं। और (aed हें कि var) जोना हम लोगों का हैं, जो एक साथ 
(ara) मरते हैं | (सारस के जोडे मे Tal परस्पर प्रोति होतो हे, कि यदि एक पकड 
लिया जाय, तो दूसरा आप से आप उस के पास आ जाता EF) इस लिये एक के मरने 
पर दूसरा Gat स्थान पर आ कर अपना At प्राण mat देता हैं)॥ केवा (केमल ), 
ata, ढेंक, वक, Sal, और जल को भेदने-वालो, अर्थात्‌ जल के भोतर रहने-वालो 
Hatt, ये सब (उन तालाबों मे ) भर पूर (अपूरि) रहे हें, अर्थात्‌ भरे पडे हैं ॥ 
उन तालों मे अमूल्य an (wa) भरे हें, वे दिन-हो मे ऐसें ava हैं, (चमकते 
#हं ) जेसे Ao उन तालाबोँ में जो मरजोआ (गोता-खोर ) हो, खो उस सोप को 
qa, जिस से वे नग रहते हैं ॥ ३१ ॥ 


घर प्रदुमावति | २ | सिंघल-दौप-बरनन-खंड | [३8 


चडपाई | 


पुनि जो arg बहु अंब्रित बारी । फरो अनूप हेोइ रखवारों ॥ 
नउ-रंग MNS सुरंग Balt | अडउ बदाम बहु Fe Bat i 
गलगल तुरुंज सदा-फर फरे। नारंग अति राते रस भरे ॥ 
किसिमिसि सेउ फरे ay पाता। दारिउ दाख देखि मन राता ॥ 
लागु साहाई इहरिफा-रेडरो । vas रहो केला कइ TIT ॥ 
फरे AA कमरख BI नउंजो। राइ-करउंदा बेरि चिरज्जों॥ 
संख-दराउ छोहारा डोठे | अउरु BASH खाटे मौठे ॥ 
Stet | 


पानि fe खंडवानों कुअंहि wie बह मेलि। 
लागो घरो रहंट कइ सोचहि अंब्रित बेलि॥ ३४ ॥ 


नउ-रंग ag । नो -- fr । जंभोरो 55 ज्बौर । गलगल = एक प्रकार का 
fam तुरुंज = तुरंज = fag | | सह्टा-फर 5 सवेदा फरने-वाले। ATA = ITT | सेउ ८८ 
सेव। दारिउ ""दाडिम ८ अतार | दाखन  द्राक्षा = AEX | हरिफा-रउरों = हालफा- 
रेवडो। GIT = घौर ATH = BAT GTS | राइ-करउंदा = राय-करोँदा | संख-दराड 
-- शद्भ-द्रावक -- संख को गला देने-वाला fag, , यह set रोग के लिये बडे काम का 
है । खजहजा - मेवे के Ta (₹प्वें ढोह़े कौ eat चौपाई को देखो )॥ खंडवानो ८ 
गडुआ -- झारो, यहाँ पर हजारा जिस से फूल, Us, सोचते FT) घरो “छोटो wat 
गगरो | Tes --चक्राकार जल निकालने का यन्त्न = एक प्रकार को पुरवट = BITES 
(रुंसछत में) ॥ | 

पुनः (फिर) और जो बहुत wea (HTH) बारो (बगोचा) लगो हैं, सो 
अनुपम (उत्तम) फरो हें, और उन को रखवारो होतो Fu उन में नव-रज्, ate 
और HAT fg हैं, आर बदाम और वहुत भेद के, अर्थात्‌ तरह तरह के, अज्ञौर हैं ॥ 
गलगल, तुरंज (Aa = faq, , इसे बिजौडिया कहते हैं, दवा में बहुधा काम आता 
=), और सदा-फर फरे हैं, नारंग at हैं, जो रस भरे अति wa (qa सुखे )# 
हो गये हैं॥ किसमिस ओर सेव नये पत्ते से भरे फरे हैं। (कोई az पाता से 


३४ - ३५] सुधाकर-चन्द्रिका | 42 


नाशपातो लेते हें, परन्तु यहाँ कवि का यहो अभिप्राय जान पडता हैं, कि किसमिस 
(महुआ के ऐसा) चार सेव (अमरूत के ऐसा ) नया पत्ता लेते-हो ata हैं )। दाडिम 
(अनार) AIT दाख ( ART) को देख कर, (डन में) मन रक्त (राता) हो जाता हैं, 
अर्यात्‌ लग जाता हैं। wet मन चाहता हें, कि इन्हें देखा कौजिए ॥ हालफा-रेवडो 
जो लगो है, वह अत्यन्त श्रोभित हैं। आर केले का घौर (मारे बोझोँ के) झूंक (gaz) 
रहा Sl Ga, HATS, नउंजों, राय-कराँदा, बेर, ओर चिराँजो ये सब at हैं ॥ 
संख-द्राव आर छोहारा भो (उन बगोचों में ) देखे जाते हैं, अर्थात्‌ हैं, आर खट्टे Ae, 
जितने waest (मेवे के Za) हें, खब वहाँ पर देख पड़ते हैं, अर्थात्‌ ऐसे मेवे के 
कोई Za नहों जो वहाँ पर न लगे STI 
( मालो लोग ) Hat में खाँड डाल कर (मेलि), ENT से (इन मेवे के Zeit में) 
पानो देते हैं । आर रहंट को घडो लगो हुई हैं, जिन से अम्ठत-रूपो जो बेलि ( वज्लौ = 
wat) =, उन्हें सोंचते हैं ॥ २४ ॥ 
चडपाई | 

पुनि फुल-वारि लागु चहु पासा। बिरिख बेधि चंदन भट्ट बासा॥ 

बहुत फूल wet घन-बेइलो। कंवरा उंपा कुंद चवेइलो ॥ 

सुरंग गुलाल कदम अड HRT! सुगंध-बकाउरि गंधरब gar | 

नागेसर सतिबरग नेवारों । ay सिंगार-हार फुलवारों ॥ 

सोनिजरद फूलो सेवतों | रूप मंजरों अउरु मालतो ॥ 

जाहो जूहो बकुचन्ह लावा। पुष्प सुदरसन लागु सोहावा॥ 

मउलसिरो बेइलि अड करना। WAR फल GE बहु बरना॥ 

दोचा | 
तेहि सिर Guach az जेंहि arate मनि भागु। 
Bate सदा सुगंध WE जनु बसंत AT फागु ॥३४ ॥ 
घन-बंइलो, कंवरा (= केवडा ), चम्पा, कुन्द, चर्वेदलो (--चमेलो ), सुरंग; गुलाल, 


+ कदम (55 कदम्ब ), कूजा, सुगंध-बकाउरि (5८ सुगन्ध-वकावलौ = गुल-बकावलो ), नागेसर, 
खतिवबर॒ग (5-खदबरग ), नेवारो, सिंगार-हार (= हरसिंगार -- पारिजाता ), खोनिजरद 


4s परदुमावति | 2 | सिंघल-दौप-बरनन-खंड | [Ra 


सेवतो (= ata सो पोलो Baal, वा सोनि-जरद ओर Baal), SrABA, मालतों, 
Te, TA, GM, मडलसिरो (5 मौलसिरो), बेइलि (= ser), आर करना, ये 
सब फुलों के नाम हैं ॥ 

फिर उस ante के चारो ओर फुलवारों लगो हे, जो (अपने ) वास (सुगन्ध) से 
gat at Fa कर चन्दन हुई हे, अर्थात्‌ उस के qua के लगने से सब aa सुगन्धित 
हो गये हैं, इस लिये फलवारी wea हो गई है, (चन्दन का गुण धारण करती है। 
क्याँकि चन्दन में यह गुण हे, कि उस को ara लगने से, ओआर दत्त भो वेसा-हो 
सुगन्धित हो जाते हैं )। घन-बेलो बहुत फूल Tat हुई है, आर उस फुलवारो में, केवडा, 
चम्पा, कुन्द, चमेलो, सुरंग, गुलाल, कदम्ब, और कूजा लगे हैं, सुगन्ध-वकावलो भो है, 
जो कि राजा गन्धवे-सेन के पूजा-योग्य हैं, अर्थात्‌ केवल राजा गन्धर्वे-सेन के यहाँ उस 
के फूल पहुंचते हैं, दूसरे को Tey हैं ॥ फुलवारो में नागेसर, *सदवरग, नेवारो और 
ecfame (भो) हैं ॥ stand, सेवतो, वा पोलो सेवतो, ease, चर मालतो 
फूलो हुई हैं ॥ जाहो ओर जूहो ढेर के ढेर (बकुचन्द), अर्थात्‌ बहुत, लगाई हैं । 
(इस फल का धमे है, कि एक लगाने से कुछ दिनों में esti हो जाते हें )। सुदर्शन 
फल at लगा हुआ शोभित है॥ मोलसिरो, बेला, ओर करना aa हैं, ओर अनेक 
वण के फल फले हैं ॥ 

वे फूल तिस के शिर wea हैं, जिस के are में मणि (कान्ति) ओर भाग्य हो । 
( वहाँ ) खवेदा अच्छो BM भई हे, अर्थात्‌ हो रहो हे, जाने (सर्वेदा) aa और 
फाग हे ॥ 

बेला at साधारण चार जाति है, सुंगरा, मदन-वान, मोतिया, और बेदलि। 
मुँगरा के फूल में asa पत्तियाँ होतो हैं । मदन-वान का फूल लम्बा और कुछ 
नोखोला होता है । मोतिया का फूल मोतोौ के ऐसा होता हैं। और बेदलि के फूल 
में पत्तियाँ अलग अलग होतो हैं । मुंगरे को घन-बेदलि भो कहते हैं | ea 
चार प्रकार को Stat है, दो गुलाबी, एक लाल, We एक Aa) श्वेत बहुत मिलतो 
है, आर ala बहुत कम। करना एक प्रकार का faq हैं, इस के फल में Qua भो 
होता हैं। करने का BAT कान में छोडने से, कान को Tier weet हो जातो है । 
(६०वें दोहे को देंखो ) navn 








© फारसो सद (oe) ->सौ। aa (Sy) = पन्नो । जिस में सो पत्तियाँ हाँ, चर्थात्र हजारा ॥ 


Re ] सुधागर-चन््रिका | 44 


चडपाई | 


सिंघल नगर देख yfa बसा । धनि राजा असि जा aft eat ॥ 
ऊंचो watt ऊंच अबासा | जनु कबिलास Fer कर बासा ॥ 
Us राँक सब घर घर सुखों। जो दौखइ सो हंसता-मुखीो i 
रचि wa साजे चंदन चडउरा। पोते अगर मेद AVI ase) 
सब चडपारिन्ह चंदन wari Bieta सभा-पत्ति बइठे सआ ॥ 
HAS सभा देओतन्दहि ART! परइ fefafe इईंदरासन पूरो॥ 
aa गुनो पंडित ay ग्याता। संसकिरित सब के मुख बाता॥ 


Stet | 


आहक पंथ संवारई जनु सिड-लोक अनूप। 
घर ata पदुमिनो मोहहि दरसन रूप ॥ ३६॥ 


पवरो = TT} 55 डेवढी | अबासा = आवास = निवास-स्थान | रॉक 5८ w= दरिद्र 
चडरा = चौतरा | मेद -- कर्ूरो | गउरा 55 गोरोचन | चडप़ारि = चलुः-शाल। — बैठ क, 
जिस में चारो ओर Waa रहे। carafe = देवताओं । ग्याता = ज्ञाता। संसकिरित = 
aaa |) ASR = हाहा = गन्धवे-विशेष ॥ 


फिर लिंघल-नगर बसा देखा गया S| (उस बसने को देख कर यहीो कहा जाता है, 
कि) धन्य वह (गत्धवे-सेन ) राजा है, जिस को ऐसो दशा है, अर्थात्‌ भाग्योदय F | 
(जिस स्थान पर राजा रहता हे), उस को डेवढो (दरवाजा) Bet है, आर निवास- 
स्थान at ऊचा हे। ऐसा ऊंचा निवास-स्थान, wal ox का वास-स्थान केलास हैे। 
( इन्द्र से यहाँ महेश से ae हैं, क्याँकि महादेव का वास-स्थान केलास हे)॥ क्या 
UST, WI TH, सदा (अपने ) घर घर Gal हें, आर जो देख पडता है, सब हंसता- 
मुखो ( प्रसन्न वदन) है॥ सब कोई रच रच कर चन्दन का चऊतरा VHS, अगर, 
AUT आर गोरोचन (उस चऊतरे A) पोते Foy जितने agar (चलु:-शाला) है 
सब में चन्दन के खम्भे लगे हैं, जिन में (खम्भे में) aise (लग ) कर सभा मेँ ( चतुः- 
शाला में) सभा-पति लोग बेठे Sy (उस ast ऐसो शोभा है), जानो देवताओं कौ 


ug प्रदुमावति | २ | सिंघल-दोप-बरुनन-खंड | [१६-३७ 


सभा जुटो (Ft), श्र्थात्‌ लगो, है, (Are उस चतुः-शाला पर दृष्टि पडने से यहो 
जान पडता हैं), जाना इन्द्र के आसन (बेठक) को पुरो (अमरावतो) पर दृष्टि 
पडतो Su सब गुणो, पण्डित, और ज्ञाता (विज्ञ) 2) सब के मुख में daa कौ बात 
हैं, अर्थात्‌ सब कोई संस्कृत बोलता है ॥ 
आहक (हाहा नाम का Aa) TY (पथ "-राह) को बनाता है, जाना अनुपम 
शिव-लोक हे ( वह सिंघल नगर )। ओर वहाँ घर घर पद्मिनो wat है, जो अपने रूप के 
दर्शन से, अर्थात्‌ रूप को दिखा कर, सब को ate Sat है (मोहतो हे) ॥ zen 
चडपाई | 
gfa देखों सिंघल az हाटा। नड-उ fafe लछिमौ सब पाटा॥ 
HAR हाट सब कुंकुंहि लोपो। बइठ महाजन सिंघल-दोपी ॥ 
wife waver रूपहि att चितर azis अनेक संवारों॥ 
सोन रूप भल wT पसारा। धवर-सिरो पटवन घर-बारा॥ 
रतन पदारथ मानिक मोतौ। हौरा waft सो अनवन sat ॥ 
BZ कपूर बेना कसतूरो। चंदन अगर रहा भरि get 
az न हाट ole लोन्द बेसाहा। ता कह आन हाट faa लाहा॥ 
दोहा | 


कोई करइ बेसाहना ATH At fants | 
कोई चलइ लाभ AS कोई AT WAT so tl 


हाटा = हाट = HII 5 बजार ॥ कुंकुद्दि -- कुंकुमा से -- एक प्रकार को TAA, 
हतउडा = हथौडा; जिस से सोनार-लोग आम्दषण बनाते है । रूपहि--रूप को, अर्थात्‌ 
खरूप ati चितर "5 चित्र | कटाउ "5 कटाव "5 काट काट कर, अनेक फूल पत्ते को 
रचना | सोन 55 सोना 55 at) रूप 55 रूपा -- रोप्य 5- चाँदो | पसार -- प्रसार -- फैलाव । 
घवर-सिरो = धवल-ओ = उज्चल शोभा। पटवन = पट-बन्ध = पर्दा | पव॑रि "5८ डेवढो । 
अनवन = जो बनने के योग्य न हो, अर्थात्‌ अनुपम, वा अन्य अन्य" अनेक । जोती 5 
प्रकाश | बेना = खस-हण | अगर  अगुरु, एक सुगन्पित काष्ट । बंसाहा "- खरोदा। 
कित = Ga: = कहाँ | लाहा = लाभ ॥ बंसाइना = खरोद को वस्तु | सूर न मूल-धन ॥ 


३७-३८ ] सुधाकर-चन्द्रिका | 4s 


फिर सिंघल के हाट को देखा। जहाँ नवो निधि को सब wat पटो है॥ पद्म, 
महापद्य, WE, मकर, कच्छप, For, are, नोल, ओर खरे, ये नवो निधि हैँ । सोने 
को बाजार सब Hagar से लोपो हुई हे। उस में सिंघल-द्ोप के महाजन aa है ॥ 
(aia में) खरूप (afi) at ढार कर, तरह तरह के चित्र आर aera को 
बना कर, TUS से (पोट Fe कर, जहा कुछ कसर रह गई है, उसे) बनाते हैं ॥ 
(उस हाट में) सोने ओर wal का अच्छा फेलाव हुआ है, अर्थात्‌ Fa के लिये, 
जहाँ देखो, तहाँ सोने रूपे के खेलोने दत्यादि फेलाये हुए है। घर के बार, 
अर्थात्‌ द्वार, में पर्दे लगे हैं, जिन को उच्ज्वल शोभा हैं, अर्थात्‌ श्वेत वर्ण के सब परे 
शोभित हैं ॥ Ta के पदार्थ, माणिक्य, मोतो, ओर At डेवढियाँ में as हैं, जिन कौ 
ज्योति अनुपम हैं। (कोई अनवन का अनेक अर्थ करते हैं, अर्थात्‌ जिन कौ अनेक 
प्रकार कौ ज्योति है) ॥ और कपूर, खस, HAC, Wea और अगर (हाट में ) पूरे तौर 
से, अर्थात्‌ चारों ओर, भर रहे हैं faut देखो, faut सुगन्ध से हाट महमह महक 
wel Sy feet ने इस हाट में नहो ade किया, उन को दूसरो हाट मेँ कहाँ 
लाभ, अर्थात्‌ ऐसा कोई पदाये नहों, जो इस ele में न बिकता हो, ओर जो पदार्थ 
इस में नहों है, सो फिर दूसरो हाट में कहाँ लाभ हो, क्योंकि सब हाटाँ से बढ कर, 
यह हाट हैं ॥ 

कोई खरोद कर रहा है, किसो का ( पदार्थ ) बिक रहा हैं। कोई लाभ उठा कर, 
और कोई at को भो गवाँ कर, वहाँ से चलते हैं ॥ ३७ ॥ 


चडपाई | 


पुनि सिंगार हाट धनि देसा। az सिंगार ae seat बेसा॥ 
मुख aaa तन चोर कुसुंभी। AE कनक जराऊ Git | 
हाथ ata सुनि मिरिंग भ्ुलाहों। सुर atefe सुनि पदग न जाहों ॥ 
ase धनुख frre नयन अहे रो। मारहि aa सानि as फेरो॥ 
aaa कपोल डोलु हँसि देहों । लाइ कटाछ मारि जिड Bey ॥ 
कुच कंचुकि जानऊँ जुग atti अंचल देह सुभाक-हि ety 
aa खेलार हार fae पासा। हाथ झारि ete चलहि निरासा॥ 


8 


bet पदुमावति | 2 | सिंघल-दौप-बरनन-खंड | [as 


दोहा | 


aza लाइ हरहिं मन ae लहि af हाइ फेंटि । 
साँठि-नाँठि उठि as azts ना पह्िचानि न भेटि ॥३८॥ 


झिंगार = sagt) Ww) बेसा वेश्या । तंबोल- ae | तन ८ तनु 5 
शरोर, वा पतला | N= वस्त्र । कुसुभो -- Haat = Feary का। खुंभो 5 खुंभिया 
5 काँप। बौन "- वौणा । मिरिग 5 म्ट॒ग। सुर 55 al) WA 55 पग 5८ प्रग 5 पद। ASE 
4 अहेरो = ABT करने-वाला | सानि = ara = शाण, जिस पर ary, क्रो, इत्यादि 
faut कर चोखें किये जाते हैं । अलक "-लट। कपोल 55गाल। कटाकछ "5कटाक्ष । 
agfa—agat = चो लिया " चोलौ । जुग --युग -- दो । सारौ 55 wer चेटक 5ः 
चटक मटक से टोना लगा देना, वा ga) fs ग्रन्थों -- गठरो (रुपये पेसे को) | 
फेंटि -- फेट -- कमर में लपेटा हुआ वस्त्र। साँठि-नॉठि८ बे पेसे ais) के Biz GE 
को कहते हैं, ओर ais नष्ट का win है, अर्थात्‌ वह ऊख, जो कि नष्ट, अर्थात्‌ 
नोरस हो गई हो, यह शब्दाथ है। अब निधेनो के अथे में प्रचलित हैं। बटाऊर- 
बाट चलने-वाला = राहो ॥ 

फिर श्टज्ञार al हाट, अर्थात्‌ जहाँ रूप बिकते हें, वह धन्य देश (स्थान) है। 
तहाँ sagt किये वेश्यायें बेठो हैं ॥ मुख में ताख्बूल (पान) खाये हैं, wae में कुसम- 


Ny Av 


रड् का वस्त्र पहिने हें, वा HQa-TH का पतला वस्त्र पहिने = ( जिस में ऊपर से 
अंग का झलक देख पडे )। कानोँ में जडाऊ (नग से जडो हुई) सोने को arg, वा 
क्ण-फूल, पहिने हैं ॥ हाथ में stor को लिये हैं, जिन के शब्द को सुन कर aM 
(हरिण) भूल जाते हैं। ओर उस के AT को सुन कर ऐसे ate जाते हैं कि एक 
पैर नहों चलते, अर्थात्‌ चित्र से खडे रहते हैं ॥ उन को आँखें शिकारो Weed 
घनुष से, सान पर फेर कर, वाण को ATA हैं । यहाँ दृष्टि-पात को ara, और 
कटाक्ष को aa समझना चाहिये, और दधर उधर पुतलियाँ का फेरना, मानाँ उस 
दृष्टिपात-रूपो वाण पर सान फेरना हैं ॥ MMT पर जो we लटकतौ हैं, aE उन के 
हँस देने पर डोलने लगतो हैं, अर्थात्‌ डोल कर पथिकों को अपने पास aerate । 
वे amr ( पथिकों के wae होने पर) कटाक्ष को लगा कर, अर्थात्‌ अपनो बाँको 
चितवन से, जोव मार लेतो हैं, अर्थात्‌ मूक्तित कर Say Fy Stel के WaT उन के 


३८-३८] सुधाकर-चन्द्रिका । ue 


कुच (स्तन) oat दो wa हैं, जिन को खभाव-हो से अंचल ढार देते हैं, अर्थात्‌ 
मेदान में Ga देते हैं । कवि का यहाँ पर ऐसा आशय है, कि पथिकों को लुभाने 
के faa वेश्या खभाव-हो से क्षण क्षण पर जो AAW कुच पर से हटा aM हैं, दस 
से पर्थिकों के दृष्टि-गोचर वे कुच हो जाते हैँ, सो मानों अंचल ने पथिकों के सामने 
कुच-रूपो पासाओँ को wa दिया, कि यदि खेलाडो हो, तो आओ, ate ca mat से 
Get ॥ fre wet से कितने खेलाड़ो हार गये हैं । Are हाथ are कर निरास हो 
कर चले जाते हैं, अर्थात्‌ ऐसे जादू के वे पासे है, कि उन से, यदि कोई खेले, तो 
वेश्याओं से प्रत्यच् में हार जाय। जुआरो जब हार जाता है, तब हाथ को साफ करने के 
लिये, are देता है, aga: वह झाडता नहों किन्तु मन में पछता कर हाथ मलता है॥ 

जब तक कमर में गंठरो (रुपये पेसे को ) रहती हैं, तब तक चटक मटक से टोना 
सा लगा कर, वा दूत को लगा कर, मन को UT SAT हैं| और जब निधेनौ हो जाता 
हैं, तब tat चेष्टा करतो हें, जानों न कभों को He न पहिचान हैं। दस लिये वह 
बेचारा उठ कर, बटाऊ हो जाता है, अर्थात्‌ अपने कतंव्यता को भोचता, वहाँ से चलता 
होता है ॥ 

यहाँ दोसा के स्थान में, तुक मिलाने के लिये, यदि कवि ने देसा किया हो, ऐसा मानो, 
तो पदलो चोपाई का wa “फिर RIX ere को धन्य, अर्थात्‌ विचित्र, देखा,” यह करना 
चाहिए ॥ सातवों चौपाई में ‘fare पासा” का faa (वेश्याओँ ) के पास ( निकट ) कितने 
खेलाडो हार गये, यह At WT कर सकते Wiss ii 


चडपाई | 


लेइ लेइ फूल ase Gea! पान अपूरब धरे wart ॥ 
साँधा wax बइतु लेइ गाँधो । बहुल कपूर farsa ait 
ave पंडित ucfe पुरानू wa da कर करहिं TET ॥ 
ais कथा aes fag कोई। कतहूँ नाँच कोड we हाई॥ 
कतहुं छरहटा पेखन लावा | aay wel काठ नचावा ॥ 
कतहूं AS सबद VE भला। Ade नाटक-चेटक-कला ॥ 
कतहुं काहु ठग बिदिआ लाई। ang लेहिं मानुस seuss 


६० प्रदुमावति । ९ | सिंघल-दौप-बश्नन-खंड | [xe 


दोच्चा | 
चरपट an गंठि-छोरा मिले cefe तेहि नाँच। 
जो afe wiz सजग रहइ गंठि ता करि पइ बाँच ॥ ३८ ॥ 

फुलवारो = फूल-वालो न्‍्फूल बंचने-वालो | अपूरव = अपूर्व । Vier = सुगन्ध-द्रव्य 5 
अंतर फुलेल | TH} = aa} = अंतर फुलेल बेंचने-वाला | बहुल -- बहुत | खिरउरौं — 
खिरोरो 5 मसालेदार खेर कौ गोलो, जिस से पान में विशेष खादु उत्पन्न होता है। 
हमारे प्रदेशों में बहुत प्रसिद्ध है, जेसे अज्ञनों में मूंग, तिल, भर ates, इत्यादि से 
“मुंगौरो', 'तिलोरो', ATV’, इत्यादि शब्द बने हैं, उसो प्रकार खेर से “खिरौरौ? 
हुआ है। कोड 5 कूदन 55 AEA | छरहटा = नकल करने-वाले = VT (HH) लपेटने- 
वाले । पेखन -- प्रेक्षण "5 दृश्य 5 मेला । पखंडो -- west == कठ-पुतलो नचाने- 
वाला । नाटक-कला 55 नट लोगों कौ बाजो-गरो। चेटक-कला = चटक मटक से टोना 
लगा देने-वालो कला, fre से मनुय्य विवश हो जाय। बिदिआ 5-८ विद्या । बडराई८- 
ATCT ॥ WIS = WIS = 4S, ST जबरदस्तो अपने जोर से दूसरे को चौज को छोन 
ले | गंठि-छोरा 5 गठरो को छोन लेने-वाले, = चाई । सजग = सज्जित = सावधान । पद 
<+ अपि 5 निश्चय से ॥ | 

(उस हाट में ) फूल बेंचने-वालो मालिन फूलों को ले ले कर sap हैं | और बना 
कर (संवारि) अपूर्व (जो कि पहले न देखा गया हो) पान को धरे हुई हैं ॥ TAH 
सब Qa FY At ले कर, और बहुत कपूर के साथ खिरौरो बाँध कर बैठा है । ( यहाँ 
“बहुल” के स्थान a 'मेलि' यह पाठ अच्छा हे। तब ‘Tal सब सुगन्ध द्रव्य को ले 
कर sar} Bre कपूर डाल कर (मेलि) खिरौरो को बाँधा है, अर्थात्‌ बनाया है)॥ 
कहीं पण्डित पुराण को पढते हैं, ओर धमे-पथ का वर्णन करते हैं ॥ HEY पर कोई 
कुछ कथा कहता है। कहीं पर अच्छी तरह नाँच ओर कूद हो रहा है॥ कहीं पर 
नकल करने-वाला मेला लगा Tea हैं। कहो पर कठ-पुतलो नचाने-वाला काउ-हछो 
को (काठ कौ पुतलियोँ at) नचा रहा Su कहीं पर (वाद्य का) नाद हो रहा हैं, 
जिस का भ्रव्द भला (जान पडता) है॥ Ae पर बटाँ का खेल, ओर wear का 
हथ-फेर सम्बन्धो खेल हो रहा Fu कहो पर ठग ने किसो के ऊपर (उसने के लिखे) 
अपनो विद्या को लगाया है। wel पर लोग (अपने Ga मन्त्र से) aaa को बौरहा 
कर लेते है ॥ 


३&६-४० | उधाकर-चन्द्रिका | aX 


जबरदस्त, चोर, ओर चाई उन नाँचों में मिले रहते हैं, अर्थात्‌ ऊपर जो कह आये 
हैं, कि wey कहों अच्छो तरह से ate कूद हो रहा है, वहाँ पर उसो नाँच कूद में 
ये सब भिले रहते हैं । इस लिये जो कोई faa हाट में सावधान रहता है, तिसो को 
निश्चय कर के asd बचतो है ॥ १८ ॥ 

चडपाई | 
yfa आए सिंघल-गढ पासा। का बरनउ जनु लागु अकासा ॥ 
तरहि कुरुम बासुकि ae Tati ऊपर इंदर-लेक पर AR ॥ 
परा are ue fefa तस बाँका। काँपइ जाँघ जाइ नहिं झाँका ॥ 
ama अरूझ देख डर wet we सो सपत पतारहि जाई॥ 
az पडउरो बाँको AT खंडा। नड-उ जो चढइ जाइ ब्रहमंडा ॥ 
कंचन कोट जरे कड सोसा। aware att बोजु sq दौसा॥ 
लंका चाहि aa ae aati निरखि न जाइ दिसिटि मन थाका॥ 
दोहा | 
fea न समाइ दिसिटि नहिं may ste सुमेरु । 
ae aft aes उचाई कह लगि बरनड फेरु ॥ ४० ॥ 

कुरुम = FA = कच्छप। TA = वासुकि-नाग | खोह = Gs | AI 55 कद्द-छ = 
कई ॥ 

फिर सिंघल-गढ के पास जो आए, (तो देखने से बुद्धि थकित हो जातो है)। 
उस का क्या वन करू । (इतना ऊंचा है), जानाँ आकाश में लगा हुआ हे ॥ तले 
(तरहि) तो (ae) कूमे ओर वासुकि के De तक चला गया है, ओर उस के ऊपर 
देखने से इन्द्र-लोक पर दृष्टि पडतो है, अर्थात्‌ इस को नोंव कूम और वासुकि के पौठ 
पर है, और ऊंचा इतना है, कि उस पर से इन्द्र-लोक देख पडता है। (Ha आर वासुकि- 
नाग प्रथ्वो के आधारों में से हें । पुराणों में कथा है, कि Ha, We, शेष-नाग, 
वासुकि-नाग, आर दिग्गज, ये aq vat at धारण किये हैं, जिस से यह नोचे को 
नहीं जातो। कभों HAT ये लोग जब बोझे से थक AT AIG Ga हैं , तब भू-कम्प होता हैं)॥ 
Rat कठिन (बाँका) उस गढ के चारो ओर waa पड़ा है, कि झाँका नहीं जाता, 


aX पदुमावति | २ | सिंघल-दौप-बरुनन-खंड | [8० 


झाँकने से जाँघ कंपने लगतो हैं॥ अगम्य ओर WEA उस UA को देख कर, ऐसा डर 
(aa) उत्पन्न होता हैं, कि ae भय (शरोर ) खाने लगता हे। (यदि) कोई उस में 
पड जाय (गिर जाय ), तो ae सातवें पाताल में चला जाय, अर्थात्‌ waa कौ गहराई 
सातवें पाताल तक चलो गई हैं। अतल, वितल, सुतल, तलातल, मचझ्भातल, रसातल, और 
पाताल ये सात नोचे के लोक हैं, जिन में सातवाँ पाताल हैं (भागवत, पञ्चम-स्कन्ध, 
२ ya) अध्याय के oF ata को देंखो ) । उस गढ में नव खण्ड हैं, ओर बडो दुर्गम ( बाँको ) 
नव डेवढो हैं । नवो डेवढियों पर जो चढ जाय, ae (STAT) ब्रह्माण्ड पर चढ गया, 
अर्थात्‌ वह गढ नव-महला है, प्रत्येक महल पर चढने के लिये एक एक डेवढौ है। नवो 
को लाँघ कर, तब ऊपर पहुंचना होता है, ऊपर पहुंचने पर जान पड़ता है, कि 
ब्रह्माण्ड के ऊपर पहुंच गये | सिद्धान्त शिरोमणि मे भास्कराचार्य ने लिखा है fa— 


केटिपैनंखनन्दघट्टनगभभ्रूद्भुजज्ेन्दुमि १८७१७६८९२०००००००० 
ज्यों तिःशास्त्रविदों वदन्‍्ति नभसः कक्षामिमां ate: | 
तद्‌ब्रह्माण्डकटाहसम्पुटतटे केचिज्जगुर्वेष्टनं — इत्यादि 


अर्थात्‌ जिस ages के भौतर wal, ग्रह, नचचादि, और सब लोक हैं, वह दो कराहे 
Hume ऐसा है, जिस का घेरा १८७१७६८२०००००००० योजन है॥ वह 
कोट (ae) सोने का है, और उस में कई प्रकार के सौसे लगे हैं । उस से उस को ऐसो 
शोभा है, wat नकत्रों से भरो बिजलो देख पडतो है॥ Bau बिजलो, ओर सोसे 
aga के सदृश समझो | उस गढ को WET से भो Ga देखा । face ae} जाता, 
निरखने से ( निरौक्षण करने से) दृष्टि आर मन थक जाते हैं ॥ 

(उस गढ को सब रचना ) न ead समातो, Aca दृष्टि में समातो wa 
पडता हैं कि गढ TA, सुमेरु VaR Ger है। कहाँ तक उस कौ उंचाई कह, और 
कहाँ तक उस के फेर (परिधि) का वर्णन करू॥ कवि का आशय हे, कि जब वह मन 
और दृष्टि से बाहर हैं, आर उन में समाय नहों सकता, तब कहाँ तक उस का वर्णन 
हो सकता है ॥ सुमेरु BAG का yaa है, आर उस के चारो ओर ass gaat हैं, दस 
लिये aaa का उपमा देना योग्य Fu ३६-४० दोहे में गावने-वाले अपने मन से 
कई पद मिला दिये हैं, जिन को में ने निकाल दिया है, क्योंकि छन्दो-भज्ञ दोष. 
पडता था ॥४ ०॥ 


8९] सुधाकर-चन्द्रिका | ह््हे 


चडपाई | 
fafa गढ बाँचि चलइ ससि रूरा । नाहि a होइ बाजि रथ चूरा॥ 
Ustl ATT बजर FZ ATH | सहस सहस तह aes ast i 
farfe पाँच काटवार सो भवेरों। काँपइ पाउ चँंपत as पडरो॥ 
usfefe पडरि सिंह afe काढे। डरपहि cre देखि fare ठाढे॥ 
age विधान वेइ नाहर गढे। जनु गाजहिं चाहहि सिर चढे ॥ 
टारहिं पूछि पसारहिि जोहा। कुंजर डरहिं कि गुंजरि लोहा ॥ 
कनक-सिला afe सौढो we | जगमगाहि as ऊपर ताई ॥ 


जज | 


नड-उ खंड aT पउरोौ अड तंहि बजर Rac 
चारि बसेरे ay WE सत सड चढइ जो पार ॥ 8१ ॥ 


बाँचि 55 बचा at! ससि 55 शशि 55 चन्द्रमा । झूरा ८ सझूर ८ रूये। बाजि ८ वाजों 5८ 
घोडा । चूरार-चूर --चूणे। वजर--वज्ञ । पाजो  पत्ति - see सिपाहों - योद्धा | 
काटवार = कोट-पाल -- कोतवाल | भवरो = भ्रमण 5 फेरा । रादइ =U) ATET= 
fae | टारहिं -८टारते F cur उधर हिलाते हैं । पसारहि -- फेलाते हैं । जोहा र- 
fast = जोभ | कुंजर = weal । गुंजरि = Tat A= शब्द कर | लोहा "लेता है॥ 
बसेरा = निवास-स्थान | पार = समर्थ = कुशल ॥ 

चन्द्रमा ओर रूये उस गढ (गाढ दुर्ग - किला ) को बचा कर नित्य चलते हैं, 
नहों तो उन के घोड़े आर रथ चूर हो जाते (गढ के ठोकर से | (इस से अत्यन्त गढ 
कौ उंचाई सिद्ध हुई, कि aa चन्द्र को कक्षा भो उस के अधो भाग-हो में हें, Ax 
पुराणों में' कथा है, कि Fe के चारो ओर चन्द्र, रूये घुमते है । पिछले दोहे में az 
को सुमेरु कहा है, इस लिये पूर्णापमा यहाँ पर हुई)॥ नवो डेवढो वज्ञ को सजो हुई 
है, तहाँ हजार हजार योद्धा लोग बेठे हैं ॥ ओर पाँच कोतवाल जो हैं सो भवंरों 
फिरा करते हैँ, अर्थात्‌ दिन रात कोट के चारो ओर फेरा किया करते हैं। इस लिये 
उन पौरियाँ पर पेर चंपते-हो कंपता हैं ॥ पौरो पौरो पर fae as कर ae F, 
अर्थात्‌ बनाये गये हैँं। जिन्हें खडे देख कर राजा लोग (war fae समझ कर) डरते 


a8 प्रदुमावति । ५ | सिंघल-दौप-बरनन-खंड | [8१- ४२ 


हैं asa विधान (विधि) से वे fee ae हुए हैं, अर्थात्‌ सच्चे fae से उन से कुछ 
मेद नहों समझ पडता SF) वे ऐसे जान पडते हैं, oat गरजते हैं, और शिर पर चढा 
चाहते हैं ॥ वे पूँछ को हिलाते हैं, और जोभ को फेलाते हैं (<a चेष्टा को देख कर ) 
हायो डरते हैँ, कि ये fae गुज्ञार कर अब लिया चाहते हैं ॥ सोने को शिला 
को गढ कर (गढ में ) सोढो लगाई गई हें, जी कि गढ के ऊपर तक जगमगातो- 
हे ॥ 

नवो खण्ड में नव डेवढियाँ हैं, और faa में aq के केवाडे लगे हैं । जो कोई 
सत्य से, अर्थात्‌ निष्कपट व्यवहार से, चढने में समर्थ हे, वह चार दिन बसेरा कर 
(टिक at), तब (उस गढ पर) Vat हे, अर्थात्‌ जिस को उस के सत्य व्यवहार से 
चढने को आज्ञा मिलतो है, उसे गढ पर चढने में चार दिन लगते हैं ॥ 

यहाँ पर गढ को WAT, ओर दो आँख, दो ala, दो नासिका के पूरे, ओआर दो 
qafea ये नव पौरो, और प्राण अपानादि पाँच वायु को कोतवाल, दड्डियाँ को aq 
कपाट, रोमादिकोँ को योद्धा, AT अन्तःकरण-स्थ Beal को AS का राजा मानने से, 
अर्थान्तर हो सकता हैं ॥ gel 


चडपाई | 


नवड पडरि पर gay दुआरा। तेहि पर बाजु राज-घरिआरा ॥ 
घरो सो asfa गनइ घरिआरो। पहर पहर से। आपनि बारो॥ 
safe घरो पूजइ वह मारा। घरो att घरिआर पुकारा॥ 
परा जो डाँड जगत सब sitet! का fafa माँटो के भाँडा ॥ . 
तुम्ह तेहि चाक we He काँचे। awe farsa थिर होइ बाँचे॥ 
घरो St भरइ घटइ qe आऊ। का निचिंत सेअह रे बटाऊ॥ 
पहरहि wet ast fafa हाई। feat निसोगा जागु न सोई ॥ 
tet | 


मुहमद जोअन जल ATA Tez घरो कइ रौति। 
घरो जो आइ जोअन भरो ढरो जनम गा बौति ॥ ४२ ॥ 


8२] सुधाकर-चन्द्रिका | ay 


राज-घरिआरा = UH का घण्टा। इस को पहले Bra घरियार (जल-यन्त्न) के 
ऐसो होतो ati इसो लिये इस का घरियार नाम हुआ । घरो ८ घटो = जल-घटो | 
पहले यह दश पल Te को REE ऊंची, ओर बारह अज्जुल विस्तृत गोलाड्ध के 
आकार को ऐसो बनतो wl, जिस मे साठ पल पानो ati इस के नोचे Aa मासा 
MT एक मासे को तिहाई सोने से जो गोल चार spa लम्बा तार बने, उस से छेद 
किया जाता था, उसो छेद से कुण्ड में वा जल-पूर्ण पात्र में घटो को छोड देने से, 
साठ पल वा एक ast (नाडो) में वह भर जातो थो । ऐसा-हो ज्योतिष खिद्धान्त सें 
श्रौपति ने, जो कि ८ ६९ war (१५०३८ So) में थे, लिखा है,-- 
“शुल्बस्य दिग्मिविहितं पलेयत्‌ षडस्डलोचं दिगुणायतास्थम्‌ | 
तदस्भसा षष्टिपले: प्रपूर्य पात्र घटाडुंप्रतिमं घटो स्थात्‌ ॥१॥ 
सत्यंशमाषत्रयनिर्मिता या Sa: शलाका चलुरज्ुला स्थात्‌ | 
fag तया प्राक्तनमत्र पात्र प्रपूथते नाडिकया AT AT ॥२॥ 
घरिआरी = घण्टा बजाने-वाला। पहर = प्रहर । TD) = वार = क्रम = पारो। Sis = 
ST = घण्टा बजाने को लकडो | डाँडा 5-८ डाँटा "5 डप्रेटा । निचित 5- fafa = बे- 
फिकिर। भाँडा = arg = वत्तन | चाक = चक्र, कोहार aT काँचे — कच्चे । थिर -- स्थिर । 
आऊ 55 आयु | गजर 55 गज्जर 55 गजल | frat = निशोक 55 निश्चय कर के जिसे शोक 
हो, अर्थात्‌ अभागा | सोई "-सो कर ॥ रहट 5८ पुरवट 55 आरघट | जौश्वन 55 जोवन 5८ 
जिन्दगो वा जल ॥ 
नवों पोरो के ऊपर एक दशवाँ द्वार है, faa पर राजा का घण्टा बजता है ॥ 
घण्टा बजाने-वाला जो है, सो बेठ कर घडो को गिना करता है। ऐसा वे बजाने-वाले 
पहर पहर पर अपनो अपनी पारौ में करते हैं, अर्थात्‌ पहर पहर पर पहरा बदला 
जाता है। तब एक एक को पारो आतो है ॥ जब घडो ('जल-घडो ) भरती है (gaat 
है ) तब वह बजाने-वाला (घण्टे पर लकडो से) चोट मारता है, (इस प्रकार से) 
घडो घडो पर घण्टा पुकारा करता है॥ घण्टे पर जो डण्डा पड़ता हैं, Bt (जानो) 
सब जगत (सब Hae) को डॉटता हैं, कि हे मद्गों Rada क्या निश्चिन्त हो ॥ (aw 
नहों मालूम कि) तुम कच्चे हो कर faa ईश्वर के awa पर VS हो, (इस लिये) तुम 
(इधर से gut) fart के लिये आये हो । स्थिर हो कर बँच नहों सकते॥ और 
ज्याँ ज्यों घडो भरतो है, ai ai तुन्दारो आयु घटतो हैं, (इस प्रकार जब तुन्दारो 
9 


eq पदुसमावति | २ | सिंघलदौध-बर्नन-खंड | [४२-४३ 


खराबो हो रहो है, तब) अरे मुसाफिर (बटाऊ) qa क्या निश्चिन्त सोते हो ॥ कवि 
कहता है, कि आश्चर्य हे, कि लोगो को सावधान करने के लिये vex पहर पर नित्य 
गजल हुआ करता है, (परन्तु ) यह निसोगा (अभागा ) इदय सो कर जागता नहों So 

मुहस्यद कवि कहते हैँ, कि पुरवट और ast में Sa जल भरने को रौति है, 
वेखा-हौ यह (aaa का) जोवन है। जो घडो आ कर जोवन को UD, वह्दो फिर 
ढर गई, अर्थात्‌ खालो हो गई, (ऐसा-हो करते करते कई ) जन्म बोत गये ॥ एक 
au में घडो से शरौर, ओर जोवन से जिन्दगो, दूसरे में ast से जल-घडो, ओर 
जोवन से जल समझो ॥ ४२ ॥ 


चडपाई | 
me पर att खौर दुइ नदौ। पानि भरहिं जइसे दुरुपदोौ ॥ 
Bye कुंड प़्क Mat wel wat अंब्रित कोचु कपूरू ॥ 
ओहि a पानि राजा पद पौआ। बिरिध Hs नहिं जड लहि जोआ॥ 
कंचन बिरिख एक तेहि पासा। जस कलप-तरु इंदर कबिलासा॥ 
मूल पतार सरग ओहि साखा। अमर बेलि को VS को चाखा॥ 
चाँद WA अड फूल तराई। होइ उंजिआर नगर जह ताई॥ 
वह wt पावइ तपि ae कोई। बिरिध खाइ ay जोबन होई ॥ 
दोच्ा | 
राजा aw भिखारों सुनि ओहि अंब्रित भोग । 
जेइ पावा सो अमर भा न किछु बिआधि न रोग ॥ ४३॥ 
Acasa) खोर --क्ञौर से पका चावल । दुरुपदौ द्रौपदी | पट 5८ परन्तु | 
बिरिध८टठद्ध । बिरिख 5 छत्त । कलपतरू = कल्प-तरू = FAVE | पतार = पाताल | 
सरग-स॒र्ग । साखा--शाखा। बेलि्-वज्ञो -लता। जोबन "-योवन। बिआधिर- 
व्याधि ॥ 
गढ पर नौर ओर खोर नाम को दो नदियाँ हैं | अर्थात्‌ एक का wat तो पानो- 
हो है, दूसरे का पानो खोर हैं। ये नदियाँ अपना aaa पानो भरतो हैं, श्र्थात्‌ 
वहाँ के लोगाँ को देतो हैँ, जैसे ट्रोपदो पाँचो पाण्डवाँ को al! । ( महाभारत में कथा 
है, कि gaat थोडा भो भोजन बना कर, सब किसों को खिला देतो a, और 


8३-४8] सधाकर-चन्दिका । दर 


भण्डारा नहों खालो होता था। जब ae खा लेतो थो, तब Awe खालो हो जाता 
था ( महाभारत, TAT, ९ अध्याय का ७ २-७४ ala देखो ) । कवि का अभिप्राय 
है, कि दोनाँ नदियाँ में भो द्रोपहौ का सा धर्म है, कि सब लोग Tr Ae AT 
को यथेच्छ रात दिन पोआ करते हैं, परन्तु घटतो नहों | (नदियाँ ज्याँ की at उन 
से भरो रहतो हैं) ॥ . आर एक मोती के चूण का बना कुण्ड है, जिस का ates 
कपूर ओर पानो waa Sn परन्तु (जेसे सब के लिये Sat नदियाँ सुलभ हैं, Fat 
यह कुण्ड नहों )। इस का पानो केवल राजा-हो पोता है । इसो कारण जब तक Rar 
है, ag नहों होता fae कुण्ड के पास एक waa (सोना) का as हैं, (उस कौ 
wa शोभा है), FR राजा इन्द्र के यहाँ Fara में कक्ष्य-टक्ञ शोभित हो॥ यहाँ भो 
.केलास से अमरावतो समझना चाहिए। उस saat मूल (HS) पाताल, और शाखा 
खग तक (चलो गई) है । ऐसो अमर-करने-वालो वेलि (वेलि के फल) को कौन 
aa आर कौन wae, अर्थात्‌ अत्यन्त काउिन्य से कोई भाग्यवान्‌ पावे तो Way उस 
ga के पत्ते (पात--पत्र) चन्द्रमा, आर फूल तारा-गण हैँ, (इसो कारण रात को) 
जहाँ तक wet है, तहाँ तक उसो से उजेला होता हैं॥ कोई तपस्या कर के (तपि) 
उस फल को पाता हैं। उस फल को SE खाय, तो उस का भो नया यौवन हो जाय ॥ 
उस waa भोग (फल) को सुन कर (कितने) राजा भिखारौ हो गये, अर्थात्‌ 
राज-पाट छोड दिये। जो ( उस फल को ) पाया, वह अमर हो गया, (फिर ) et को 
न कुछ व्याधि हो ओआर न रोग ॥ यहाँ व्याधि से शरोर के बाहर का रोग, और रोग 
से आधि, अर्थात्‌ शरोर के भोतर का रोग, समझो ॥ ४ at 
चडपाई | 
me पर बसहि wife गढ-पतो। असु-पति गज-पति भ्रू-नर-पती ॥ 
सब के धडरहर सोनइ साजा। अउ अपने अपने घर राजा॥ 
रूपवंत yaad सभागे । परस-पखान पडउरि fare लागे॥ 
भोग बिरास सदा सब माना। दुख चिंता कोइ जनम न जाना ॥ 
afet मंदिर सब के चडपारी। बइठि कुअर सब खेलहिं सारो॥ 
पासा ढरइ खेलि भलि होई। खरग दान at पूज न कोई॥ 
viz बरनि कहि कौरति भलौ। पावहिं घेर इसति feet ॥ 


a5 प्रदुमावति । 2 | सिंघलदौप-बरुनन-खंड | [88 


tet | 
मंदिर मंदिर फुलवारी ara चंदन aa | 
fafa fea रहइ बसंत ae छवो रितु बरहे। मास ॥ ४४ ॥ 


झारि = बराय कर = IS कर = केवल — खालो । असु-पतौ = अश्व-पति | UST 
हर = धरहरा = भुवच्र = भ्रुव के ऐसा ऊँचा स्थान। परस-पखान = स्पशे-पाषाण = पारस | 
बिरास = विलाख । चडपारो = चलुः-पाट = चलुः-शाला = बेठक । सारों = पासा | खरग 
= «ay । सिंघल = सिंघल का ॥ बरहो = बारहो ॥ 

गढ के ऊपर HX कर के, अर्थात्‌ केवल, गढ-पति, अश्व-पति, गज-पति, भ्-पति 
और नर-पति लोग बसते हैं । ओरेोँ को अधिकार नहों कि गढ के ऊपर बसे ॥ 
जिन के अधिकार में vary गढो हो, वे गढ-पति कहलाते हैं । जिन के अधिकार में 
कुछ घोड़े आर हाथो Bi, वे क्रम से अश्व-पतिं आर गज-पति as जाते हैं । जिन के 
अधिकार में कुछ ufa ओर कुछ मनुय्य अर्थात्‌ सिपाहो Bi, उन्हें क्रम से भ-पति और 
नर-पति कहते हैं । सब लोगों के धरहरे ( उच्च-स्थान) सोने से सजे हैं, ओर वे सब 
अपने अपने घर में राजा-हो के ऐसे हें, अर्थात्‌ राजा जिस प्रकार का सुख भोगता 
है, वेसा-हो ये लोग भो भोगते हैँ ॥ सब लोग waar भोग और विलास-हो को 
मानते =, अर्थात्‌ भोग विज्ञास-हो में समय को gata करते हैँ, कोई जन्म भर से 
भो दुःख ओर चिन्ता को नहीं जानते, कि क्या ert हैं ॥ इन्द्रियाँ को खुख-साधन 
सामग्रो को भोग कहते हें, ओर बाहर कौ शोभा को fawa कहते हैं ॥ सब के 
मन्दिर मन्दिर में बेठक (चडपारो) हैँ, वहाँ (गढ-पति , अश्व-पति इत्यादि के) कुअर 
( बालक ) सब FS कर पांसा (सारो) खेलते हैं ॥ पासा ढारा (Hat) जाता है, आर 
अच्छी तरह से खेल होतो है। यह न कोई समझे, कि वे कुअर केवल खेल-हो में 
दिन बिताते =, इस लिये अगलो stort में वर्णन करते हैँ, कि we ( चलाने ) और 
दान (देने) में उन कुअरां को बराबरो में कोई नहों पहुंचता (पूजा), अर्थात्‌ वे 
SI Ge चलाने में ओर दान देने में बडे बहादुर हैं ॥ भाँट लोग उन कुअरोँं को 
वर्मा कर, ओर अच्छो तरह से ( कविता ax), उन को कौत्ति HE कर, BIS आर 
सिंघल के हाथो पाते हैं | अर्थात्‌ gar लोग ऐसे उदार हैं, कि एक एक प्रशंसा में 
We ओर हायिआ्राँ से भाँटाँ को ware कर देते हैं ॥ 


88 - ४५] सुधाकर-चन्द्रिका | ee 


मन्दिर मन्दिर में फुलवारो से चोआ और चन्दन के वास आते हैं । तहाँ पर छवो 
ऋतु, और बारहो महेोने में, रात दिन aa wa रहतो हैं ॥ केवल छवो ऋतु-चहो 
के कहने से बारहो मच्चौना का बोध हो जाता है। प्थयक्‌ Ala का कहना sata 
: हैं। अर्थात्‌ अपने अर्थ को पुष्ट करने के लिये, महोनेँ को भो पथक्‌ कहा है ॥४ ४॥ 


« चडपाई। , 


पुनि चलि देखा राज-दुआरू। महि gaa पाइअ नहिं बारू॥ 
हसति सिंघलो बाँधे बारा | जनु सजोड सब ठाढ पहारा॥ 
कवन-उ Ha Va Tat | कवन-उ हरे धूम AI कारें॥ 
बरनहिं ata गगन जनु मेघा। ay तेहि गगन पौोटि जस Zar 
सिंघल A बरनउड सिंघलों | va oa चाहि wa oa बलो॥ 
गिरि पहार हसतो सब tafe बिरिख varie फारि मुख मेलहि ॥ 
aia निमते गरजहि बाँधे । fafa दिन cefe महाउत काँधे ॥ 


Stet | 


YIN भार न अगवई Wy धरत उठ हालि। 
कुरुम टूट फन फाटई = fae हसतिन्द के चालि॥ ४४ ॥ 


SAT = द्वार = दरवाजा। महि = महौ = vat! घूर्वित्र = घूमिये। पादअ = पाइये। 
बारू -"बारा 5" बार 55 द्वार । सजोउ 55 सजोव । कवन-उ 5 कश्चन 5 को $पिच८" कोई । 
सेत 55 श्वेत । पोत 5 पौला । रतनारे "5 रक्त "लाल | हरे "८ हरित । ठेंघा 55 आधार । 
पेलहिं = ढकेलतो हैँ Aid = मत्त 5-मस्त। निमते = विना मत के, बे-समझ, जो कहना 
न माने | महाउत 55 महामात्र = पोलवान्‌ ॥ धरनो = धरणो wat । Way 5 wRT- 
कार करतो है --सहतो है। कुरुम - FA — कच्छप ॥ 

फिर चल कर राज-द्वार को देखा, जहाँ सब प्रथ्वो घूमिये ( परन्तु) द्वार न पादये | 
अर्थात्‌ इतनो भोर चारो ओर से डटों Teal है, जिस से समझ नहों पडता, कि किस 
ओर द्वार हे ॥ द्वार पर सिंघल के हाथो बाँधे हैं । वे ऐसे जान ast हैं, जानें 
सहित ata के (जिन्दा BT aT) सब पह्दाड खड़े हैं ॥ कोई Aa, कोई Da, कोई 


७० परदुमावति | २ | सिंघलदोप-बर्नन-खंड | [8५- ४६ 


लाल, कोई हरे, कोई GTS, आर कोई काले हैं ॥ (पोले, लाल, हरे रंग के हाथो 
नहों देखने में आये है । रंग से रंग देने से रंग बदल जा सकता हें)। HAT गगन 
(आकाश) में वर्ण वर्ण (रंग-रंग) के मेघे (बादल) हैं । ओर तिस आकाश में उन 
को पोठ tH जान पडतो है, जेसे Sar (आधार )। तर्थात्‌ वे weal इतने ऊंचे हैं, 
जानाँ अपनो Te से आकाश को रोके हुए हें ॥ सिंघल के हाथियाँ का वर्णन करता 
हूँ, कि एक से एक बढ कर, ओर एक से एक बलो हैँ ॥ सब हाथो गिरि और पहाड 
को ढकेल देते हैँ, ओर gaat sare कर (उचारि), और उन्हें फाड WS कर, 
मुख में डालते हैं । (यहाँ गिरि से बडा पहाड, ओर पहाड से साधारण पर्वत लेना 
चाहिए। यदि गिरि के स्थान में “गिर? पाठ हो, तो अच्छा aa चोपाई का अर्थ 
“सत्र emt (जब) ढकेलते हैं, (तब) पहाड गिर पडता हैं”, ऐसा करना चाहिये) ॥ 
मस्त हाथो बे-समझ हो कर, TY हुए गरजते हें, (TST कारण उपद्रव के भय से ) उन के 
aa पर रात दिन महावत रहते है ॥ 

ad के घरते-हो, vat उन के भार को नहों सह सकतो, fea gaat हैं। उन 
हाथियाँ के चाल से ga at पौठ टूट जातो है, और शेष का फण फट जाता है ॥ ४ ५॥ 


asus | 


पुनि aid रजबार -तुरंगा । का बरनड जस उन्ह के रंगा॥ 
लौले ससुँद चाल जग जानें | हाँसुल wat किआह बखाने॥ 
हरे कुरंग asa बहु भाँतो | ATT काकाह बुलाह सो पाँतो ॥ 
ate तुखार wife az बाँके। acute तवहि नाँचि faq हाँके ॥ 
मन az अगुमन डोलह्चि aati ea उसाँस गगन सिर लागा॥ 
पावहिं साँस waz पर धावहिं। sea पाउ पार हाइ आवहि॥ 
far न रहहिं fra लोह चबाहों। भाँजहि पूंछि ata उपराहो॥ 


दोहा | 


अस तुखार सब देखे जनु मन के रथ-बाह। 
नयन पलक पहुंचावहीं जहं पहुचइ BE चाह ॥ ४६॥ 


8६] सुधाकर-चन्द्रिका | QV 


तुरंग 5घोडा । लोले = नोले रंग का घोडा, आज कल भो दसो नाम से प्रसिद्ध है 
( नौलो tera vary इति जयादित्य-छते 5श्ववैद्यके i समुँद = समुद्र के फेन सा जिस ate 
का रंग हो, इसे आज कल कोई समंद कोई बदामो Hear Jil हाँसुल -- कुमेत-हिनाई, 
अर्थात्‌ Feet के UF सा सब बदन हो, ओर चारो पेर कुछ काला लिये॥ भवंर 5- 
Hit का सा रंग, जिसे आज कल Gat कहते हें ॥ किआह —( कियाह ) जिस घोडे 
का रंग पके ATS के फल के ऐसा हो, ( पकतालनिभो वाजों कियाहः परिकौत्तित:-इति 
जयादित्य-छते SATA) )॥ हरे ८८ हरे रंग का घोड़ा, इस TH का घोडा दुलेभ है नहीं 
मिलता। पुराण में कथा हैं, कि रूये के रथ में हरे ate हैं । कवि ने प्रशंसाये लिख 
दिया है॥ कुरंग 55 कुलंग -- लाखो रो, जिस का रंग we के ऐसा हो, इसे नोला gaa 
कहते हें ॥ महुअ 55 महुए के ऐसा जिस का रंग हो ॥ गरर 5८इसे आज कल लोग 
गर्रा कहते हैं faa के एक रोएँ लाल, ओर एक सफेद, खिंचडो हो ॥ कोकाह -र- 
कोका, सफेद घोडे को कहते हैं, (Za: कोकाह इत्युक्त:-इति जयादित्य-छतें casas) | 
बुलाह 5 वोज्ाह, जिस के गर्दन WT se के वाल Da हो (वोल्लाइस्वयमेव स्थात्‌ 
पाण्डकेशरवालधिरिति हेम-चन्द्र:)। इन घोडोँ के लिये सन्‌ १८८६ में छपा नं० ६७४ 
agra एशियाटिक सोसाइटो के अश्व-वैद्यकम के तौसरे अध्याय के १० ०-१ १० ata 
ओर टोका देखो॥ तोख - तोच्छ्ण 55 तेज | तुखार -"घोडा । चौडि 5-८ चण्ड -- प्रचण्ड = 
बडे बलों | बाँके "- व -5टर 5 कठिन | तरपह्निं "-तडपह्ििं -- तडपते हैं aafs— 
aufe "5 तपते हैँ, जेसे आग के ऊपर पेर पड जाने से, Ge को छन छन पटकते हैं ॥ 
अगुमन 55 अगाडो 5 पहले | डोलहिं"८डोलते हें "-चलरते हें । wus, जिसे 
पकड कर घोडे को vind हैँ, जो कि लगाम में लगाई mat है, हिन्दुस्ताती रूत 
कौ, बिलायतो was को, Stat है । (इसो बाग में जो घोडे को बाँधने के लिये डोरो 
लगा देते हैं, उसे बाग-डोर कहते हैँ se -- उच्छास "5 यहाँ, Ws के चलाने के 
लिये “हुं”, ऐसा दशारा॥ साँस = Ae, यहाँ द्शारा ॥ रिस "८ रोष से | लोह 5८ लगाम । 
चबाहों = चबाते हैं । भाँजहिं 55 भाँजते हैं = फेरते है । Be = शोषे 55 शिर ॥ उपराचों 
= ऊपर-हो = ऊपर ॥ रथ-वाह = रथ हाँकने-वाला = Ga = कोच-वान = गाडौ-वान ॥ 
पलक -- पलक ae में जो काल ॥ 

फिर राज-द्वार पर घोडे बंधे हैँ, उन के RAE हैं, उन का क्या ata FEI 


कोई Wa ओर age हैं, जिन कौ चाल को जग (जगत्‌ के खब लोग) जानता है, 


R परदुमावति | 2 | सिंघलदौप-बर्नन-खंड | [४६-४७ 


कोई viga कोई wat और कोई किआह बखाने जाते हैं, अर्थात्‌ as जाते हैं ॥ 
बहुत प्रकार (भाँति) के हरे, कुरंग (gaia) ओर asa हैं, (इन PST के हलका 
और गहिरा tH हो जाने से अनेक भेद होते हैं ), aT gare, ओर बुलाह जो हैं, सो 
पाँतो के पाँती हैं, अर्थात्‌ एथक्‌ waa एक एक कतार में बंधे हैं ॥ ऐसे ea, प्रचण्ड 
ओर बाँके घोडे हैँ, कि विना हॉके-हो ais (ate नाँच) कर तडपते और तपते हैं ॥ 
बाग से, अर्थात्‌ बाग को लेते-हो, मन से भो आगे चलते हैं, अर्थात्‌ मन को गति से 
भो अधिक गति हैं। इशारा देते-हो आकाश से (उन के) fat लग जाते हैं, अर्थात्‌ 
ऐसे उड़ते हैं, कि उन के fat आकाश मे लग जाते हैं ॥ जब इशारा पाते हैँ, तब 
समुद्र पर दोडते हैं। (इस तेजो से दौडते हैं, कि) पेर डूबने नहों पाता, आर पार 
हो जाते हैं ॥ स्थिर नहो रहते, रोष से (हर ast) लगांम चबाया करते हैं, ओर 
शिर के ऊपर पूंछ फेरा करते हैं ॥ 
( वहाँ पर) ऐसे as देखे, जानाँ मन के हॉकने-वाले हैं । ओर जहाँ कोई पहुंचना 
चाहे, तहाँ नयन (आँख) के पलक भंजने में पहुंचाते हैं ॥४६॥ 
चजपाई | 

राज-सभा पुनि देख बईठो। इंदर-सभा जनु परि az डोठो ॥ 

ufa राजा असि सभा watt) sags फूल रहो फुलवारो॥ 

मुकुट बाँधि सब asd राजा। दर निसान सब fare के बाजा ॥ 

रूपवंत मनि दिपदद लिलाटा। माँथद छात बइठ सब पाटा॥ 

माँनउ कर्वल सरो-बर फूले। सभा क रूप देखि मन भूले ॥ 

पान कपूर मेद कसतूरी । सुगंध बास सब रहो अपूरो॥ 

माँक ऊच इंदरासन साजा। गंधरवब-सेन बइंठ तह राजा॥ 

ater | 
SAT गगन लग AT कर रूर तवइ जस AT | 
सभा Hae अस बिगसइ माँथइ बड परतापु॥४७॥ 


दर 55 दल = सेना | fara = निशान = Sart | मनि "5 सणि । दिपद = दिपता है ्- 
बरता हैं। लिलाटा 55 ललाट 55 मस्तक । माँयद *- माँथे में | छात 55 छच्च | पाटा नर पट्ट 


50-5] | PADUMAWATI. 25 


CANTO III 


THE BIRTH OF PADMAVATI. 


50. Her who created Camp§avati’s perfect form, now desireth to make 
Padmavati incarnate within her. <A tale of fairness is there shortly to be, 
for who can wipe out what is written in the book of fate? Simhala was 
called the isle (dipa) of Simhala, because such a light (dzpa) shone there. 
The light! was first created in the heavens, and next took form as a jewel, 
the head of the father. Then entered it the mother’s body, and in her womb 
received honour.? As the months of pregnancy were fulfilled, day by day 
did she become more manifest in her mother’s heart. As a candle shaded 
behind a thin cloth, so in her heart did the hidden glory manifest itself. 

The people (in their joy) adorned their palaces with gold, and plastered 
them o’er with sandal; as the light-(dipa)-like jewel of Civa’s world was 
being born in the isle (dzpa) of Sithala. 

5l. Ten months were fulfilled, and the hour came,—the maiden Padma- 
vati beeame incarnate. She was as it were drawn from the rays of the sun, 
for they lost their glory as she increased. Though it was night, it became as 
clear as day; yea, the whole (world), like unto mount Kail aca* was rendered 
luminous. Such beauty of form was manifested, that the full moon itself 
grew lean and waned. She waned and waned until she became but the new 
moon, and, for two days, in shame hid she herself behind the earth. Then, 
when she again rose, she was but the humbly bent moon of the second day, so 
God (in his mercy) made her pure and holy to console her.? The odour 


l It must be remembered that in the esoteric interpretation of the poem Padmavati 
represents wisdom. 

2 According to Indian tradition the brain is the ultimate seat of procreative power. 
See Hindi comm, for details, 

$ i. e., was appropriately nourished. 

# Civa’s heaven. Probably, as usual in the poem, Indra’s heaven, Amarayati, is meant. 

6 There are no markings visible on the moon when it is two days old. It is hence 
considered pure, and is worshipped when in that condition, For the same reason, the 


7 


26 PADUMAWATI. 5 [52-53 


of lotuses (padma) (was exhaled from the new-born child, and) pervaded the 
earth, and bees and butterflies came round her on every side. 

Such beauty had the maiden, that no other could be compared with her. 
Happy is the land where so fair a form is born. 

52. The sixth! night came with its happy sixth night service, and with 
joy and dancing did it pass. When dawn appeared, came the pandits, who 
drew out their holy books? and interpreted her birth. ‘ At the most propitious 
hour hath she been born. A moon hath risen which hath illumined the whole 
sky. The moon (in the sky) hath risen upon the world in the sign of the 
Virgin, and hence her name must be called Padmavati.? The sun* hath, as 
it were, met the philosopher’s stone, and from its rays hath been born a 
diamond more glorious than they, and worthy of the diamond hath been born 
a still more perfect spotless jewel (ratna).6 She hath been born in Simhala- 
dvipa, and will go to death’s abode from Jambii-dyipa.” 

‘H’en as when Rama was born in Ayodhya, with the thirty-two? lucky 
marks; as Ravana was fascinated when he saw Rama; so all when they see 
her will be fascinated, as the moth is by a candle.’ 

53. The astrologer had written the proper horoscope, and having blessed 
her returned home; and when the damsel was five® years old, they taught 
her to sit, as a pupil, and to read the purdnas. Thus Padmavati became 
wise and learned, and the kings of all the world १ heard of it. ‘ A girl is 
in the king’s house at Simhala, very beautiful hath God made her incarnate. 
In the first place is she a Padmini, and, in the second, a Pandit. We wonder 


moon on Mahidéva’s head is always represented as two days old. The full moon, on the 
contrary, is covered with marks, and is not so much worshipped as being impure. Com- 
pare note 9 on next page. Note that the poet treats the word 568४, moon, as feminine, 
contrary to Hindu custom. 

l See Bihar Peasant Life.§ 406. It is believed that, on the sixth night after birth, 
Brahma writes on the child’s forehead its future fate, Hence, on this night, astrologers 
are called to prepare the infant’s horoscope. The occasion is one of much rejoicing, and 
the greatest care is taken that no demon or ghost should approach the mother or child, 
and that nothing unlucky should happen. It is said that on the sixth night Yacoda held 
Krsna crookedly to her breast, and that, in consequence, Krsna squinted all his life. 

2 A Sanskrit MS. is usually kept wrapped up in a cloth. Hence the expression 
‘drew ont.’ 

8 According to Hindi astrologers each naksatra, or lunar asterism, has certain syllables 
allotted to it. The sign of the Virgin includes a portion of the asterism of Uttara-phdlguni, 
the whole of the asterism Hast, and half of the asterism Citrd, of which the syllables, in 
order are fo, pa, pi, pit, 8a, na, ta, pé, pO. Padmiavati must have been born in the third carana 
of Uttara-phdlguni, i.e., when 3 amgas, 20 kalas of the sign of the Virgin had been passed 
by the moon, and hence her name had to commence with Pa. 

4 The sun is Gandharva-Séna, her father; the philosopher’s stone, Campavati, her 
mother; and the.diamond, Padmavati, herself, 

6 The ‘ Jewel’ (ratna) is, of course, Ratna-séna, who was to woo and win Padmayati. 

6 Jambu-dvipa here means India. 

7 Regarding the thirty-two marks, see p. 24, note 6, 

8 According to the Jyautiga-phalita, a child should commence the alphabet at tho 
commencement of its fifth year. 

9 Literally ‘ of the four quarters.’ 





54-55] PADUMAWATI. 27 


meet for what mate hath God created her thus. He in whose house fate 
hath written that Lakshmi! will be there, will get this learned fair one,’ So 
suitors came from the seven continents, and bent before (the king), but they 
obtained no favourable answer, and went home one by one. 

The King saith in his pride, ‘I am Indra and my kingdom is Civa’s $ 
heaven. Whois my equal ?? With whom shallI discuss marriage relations ?’ 

54. The Princess became twelve years of age, and when the King 
heard that she was full grown and fitted for a mate, he gave her for a dwell- 
ing his seyen-storied palace,* and for her fellows did he give her maidens 
with whom she might sport in her happiness. All of them were young 
virgins, nor had any e’er lain with a man. They were like waterlilies 
blooming by the lotus. 

Padmayati also had a parrot, a great Pandit, Hirdé-mani by name, God 
had given the bird such glory, that his eyes were like precious stones, and 
his face as it were rubies and pearls. Golden was the colour of this beauteous 
parrot. Yea, he was, as it were, gold that had been melted with borax.® 

Together ever remained they. Together read they the holy books and 
the Vedas. When Brahma heard their reading so did it pierce his heart, 
that he himself nodded approval. 

55. The child Padmavati was now of full age, and (God) had made her 
young limbs (straight as) glistening standards.’ The scented odour of her 
limbs pervaded the universe, and the greedy bees came round her on all sides. 
The sandal breeze of Malaya invaded her dark serpentine locks,’ and on her 
forehead sat the new-moon® two days old. Her brows were bows from which 
she aimed the arrows (of her coquettish glances) ; her eyes were like those of 
the large-eyed antelope, lost, and gazing (for its mates). Her nose was like 
unto a parrot’s, and her face bloomed like the lotus; the whole universe was 
charmed as it gazed upon her form. Her lips were rubies, her teeth were 


l Laksmi is, of course, the goddess of Good Fortune. 

2 Again the confusion between Indra and (iva. 

8 According to the proverb ‘bibah, bair, aur prit?, saman mé séh’ta hai,’ marriage, 
enmity, and love, are only proper with an equal. Bardka is for barékh2, the vara-pariksa, 
or testing of the bridegroom. When a marriage is arranged, a sum of money is given to 
the bridegroom, and then he is bound to carry out the agreement. This ceremony has 
various names, such as barékh?, baracchd, saga, or chéka, and is equivalent to a betrothal, 

4 i.e., a safe place, fit for a zandnd, to which men conld not approach. This is im- 
portant in the Jater portion of the story, when she is wooed by Ratna-séna. 

6 The expression Pandit should be noted. The parrot, we shall see subsequently, was 
a Brahmana. 

6 Borax is the usual flux for gold, and its use is said to improve the colour of the 
metal, 

7 Here there are puns. The word ba? means either a young girl, ora garden, Kart 
means properly a young shoot, and can be metaphorically applied to mean limbs. The 
verse may, hence, be also translated, ‘ Padmavati, like a garden, was now full grown, and 
God had made its young shoots straight, &c.’ In the next verses the metaphor is carried 
en. The garden is supplied with bees (lovers), and snakes (her raven tresses), and go on. 

8 Mount Malaya is celebrated for two things, its sandal trees, and its snakes. 

9 An emblem of purity. See note 5 on page 25. 


28 PADUMAWATI. [56-57 


diamonds, and her heart rejoiced "neath her golden breast-oranges. Her 
waist surpassed the lion’s and her gait that of the elephant; gods and men 
alike laid their heads in the dust when they saw her.! : 

No such was e’er seen upon the earth. The Apsarases (first learned to) 
gaze with unwinking eyes (through gazing at her).? For her did Yégins, 
Yatins, and Sannyasins undergo austerities.® 

56. [One day the princess Padmavati said to Hiramani the parrot ; 
‘Hear, O Hiramani, and give unto me advice. Day by day cometh the God of 
Love and tortureth me. My father doth not push on the matter (of my 
marriage), and out of fear my mother cannot address him on the subject. 
From every land come suitors, but on none will my father cast his eye.4 
My youth hath become (irresistible) as the Ganges, and in every limb doth 
the bodiless’ Cupid wound me.’ Then replied Hiramani,—‘ What is written 
by fate cannot be wiped out. Give me the order, and I will go forth and 
wander over all lands, and seek for a king worthy to be thy spouse. 

‘Until I return to thee, keep in restraint thy heart and thy thoughts.’ 
There was there some wicked man, who heard the parrot, and, who after 
consideration, went and told the king].® 

57. The kivg heard that (Padmavati’s) countenance had become chang- 
ed, because that the cunning parrot had given her knowledge (of good and 
evil). He gave his royal command to kill the bird, ‘for he is talking of the 
sun (ie., a husband) where the moon (Padmavati) has risen.’ The parrot’s 
enemies were the barber and the torch-bearer,’? and when they heard the 
order, they ran upon him as if they were a cat; but the princess hid him 
so that the cat could not find him. ‘My father’s command,’ she cried, ‘is 
upon my head (and binding), but go ye and tell him my supplication with 
folded hands. No bird is a reasoning creature. He knoweth but how to eat 


l They recognized her as an incarnate deity. In the esoteric meaning of the poem 
she is Wisdom. 

3 The Apsarases are the nymphs of Indra’s heaven. According to tradition they are 
unable to close their eyes. This is the way they grow. The poet puts forward the conceit, 
that they acquired this habit from staring at Padmavati. The passage, literally translated, 
is ‘The Apsarases kept their eyes in the ether (akaca)’. I.e., they kept staring down from 
heaven, throngh the ether intervening, to see Padmavati. 

8 Similarly, it is the poet’s conceit that the holy men mentioned really performed all 
their austerities, not to obtain salvation but, to obtain a view of Padmavati’s countenance. 
Regarding Y6gins, Yatins, and Sannyasins, see note, on p. 47. 

4 i. e., approve of : akhi lagana, to fall in love with, is a common idiom. 

5 Kandarpa, the Indian Cupid, was destroyed by Giva, for endeavouring to excite his 
passion. (iva turned his terrible third eye upon him, and burnt him to ashes. Ever since 
Cupid has had no bodily form. 

6 This set of verses is almost certainly an interpolation, and has been added to explain 
what follows. Some sort of explanation is necessary, but the interpolation is clamsy enough. 
The language is not Malik Muhammad’s, and the presence of the wicked male in the zan@na 
portion of the palace, is not explained. 

3 The traditional enemies of every Brahmana; as he does not require their services as 
match-makers before his marriage. Na# bar? might possibly be translated ‘a damsel of the 
barber caste.’ 





58-59 | PADUMAWATI. 29 


and how to fly. That which a parrot reciteth is but what he hath been 
taught. How much sense hath a creature whose soul hath no eyes ? 

‘If he see rubies and pearls, his soul knoweth them not. He fancieth 
that they are but pomegranates and grapes, and so doth he fill his beak with 
them.’ 

58. So they returned to the king with this reply, and the parrot did 
humbly address Padmavati, eating fear within his heart. ‘ Princess, mayst 
thou live happily for ages, but give unto me leave to betake myself to a forest 
home. When once the beauty of a pearl hath been fouled, how can its water 
e’er again be pure?! No safety is there for that servant, whom his master 
in his heart ® is determined to kill. How can even the name of birds exist in 
the house where the death-cat danceth ? In thy rule have I seen great 
happiness, so much that it could not be written if I were asked to recount it. 
Whate’er my heart desired, I ate, and I depart lamenting that I have not 
served thee (more). 

‘He killeth luckless ones, who feareth not his own faults. What sport 
can the plantain have, that dwelleth near the (thorny) jujube’ १8 

59. The princess then said in sorrow, ‘If my life go, how can my body 
survive ? Hiramani, thou art the dove of my life, nor have I ever found thee 
wanting in thy service. I fain would not sift parting into thy service ;* may 
I ever keep thee in the cage of my heart. I am human, and thou art my 
darling bird. Our love for each other is a pure one, and who then, can dare 
kill thee? What (a mean) love is that which fadeth in the body !§ That 
alone is love which departeth with one’s life. Take thou the burden of my 
love and there will be no sorrow in thy heart, whether on the path of 
(that) love there be good or there be evil? How can that mountain-load 
of love upon thy shonlder be destroyed, for it is bound unto my life ?’ 

The parrot would not stay, for it still feared in its soul that soon that 
death would come ; ‘for,’ thought he, ‘if a man’s steersman be his enemy, he 
will some time sink the ship.’ 


! Pani=ab, the ‘water’ of a jewel. 

% Anta=antahkarana. 

8 If the plantain sportively fiung its leaves about, they would be torn by the jujube’s 
thorns, 

4 A difficult sentence. If not corrupt, to be translated as above. An dkhd is a sieve, 
hence gkhnd means to sift. Padmavati means that she wishes to avoid sifting the bad 
flour of separation into, and mingling it with the good flour of long and faithful service. 
Akhnd, may be derived from dkhyan, and may mean ‘to speak.’ The line would then mean 
‘if thou desirest to abandon thy service, I say thee nay.’ 

6 i. e., while the body yet lives. 


30 PADUMAWarTI. [60 


CANTO IV. 


Tae MANASARODAKA LAKE. 


60. One day, on the full moon festival, Padmavati went to bathe in the 
Manasarodaka lake.! She called all her fellows, and, like a garden went they 
all.2 Some were campakas,? and some companions were Indian jasmines,* 
others sweet fragrant screw-pines,’ or citrons,® or honey-plants.? Some 
were sweet basils,’ or red rose-apples,® and others posies!° of smiling abelias.!! 
Some were sweet maulasiris,!* glorious with blossom. Others were the 
Spanish !8 or the Indian jasmines!4 or dog-roses.!5 Some were oleasters,!® and 
some were safflowers.'7 Others were weeping-nyctanthes!§ flowers, and others 
rose-chesnuts.!® Some were ktja-roses,*” marigolds*! and the Arabian jas- 
mine,?*. Others were kadambas,** and sweet honey-plants.** i 

They all went along with the Aganosma,” and the lotuses and the water- 
lilies?® bloomed. And the fragrance of their joy-(giving) nectar*7 penetrated 
the hearts of Gandharva-séna’s servants (who guarded them). 


l See xxxi, l. ' 8 Michelia champaca, Linn, 

2 Compare the list of flowers in xxxv. 4 Jasminum pubescens, Wild. 

5 Kétaki or Kedrad=Pandanus odoratissimus. 

6 Citrus medica, Linn. 8 Ocimum basilicum L. 

१ Hoya lanceolata, Wall. 9 Eugenia jambos, Linn. 

!0 Bakucana is obl. plur. of bakuca, a bundle; cf. xxxv, 6. 

ll Abelia triflora, Br. \8 Nyctanthes arbor tristis, Linn. 
2 Mimusops elengi, Linn. 49 Mesua ferrea, L. 

38 Jasminum grandiflorum, L. 20 Rosa brunoniana, Lindl. 

ls Jasminum auriculatum, Vahl. 4l Calendula officinalis, L. 

5 Rosa glandulifera, Roxb. 42 Jasminum sambac, Ait. 

6 Hlwagnas conferta, Roxb. 23 Anthocephalus cadamba, Miq. 
I7 Crocus sativus, Linn. 24 Hoya lanceolata, Wall, 


25 Aganosma caryophyllata, Don. The clove-scented aganosma or Mdlati, which here 
represents Padmavati. 
26 i.¢., the Companions, #7 Or ointments. 





6-63] PADUMAWATI. 3l 


6]. Sporting went they forth to the Manasarddaka lake, and stood upon 
its bank, As they looked at it frolicked they, and cried to Padmavati, ‘ My 
Princess, consider in thine heart, but a few days more have we to wait in our 
fathers’ homes. If thou must sport, sport thou to-day, for thou can’st but 
sport while thou art a maiden in thy father’s kingdom. On the morrow must 
we all depart to our husbands’ dwellings,—then where will we be, and where 
the bank of this fair lake? Where will be our liberty of going and coming 
at our own sweet will, and where shall we meet together and sport? The 
husband’s mother and sister will kill us with their (jealous) speeches, and his 
stern father will not let us slip out of doors. 

‘I know that my Love will be beloved and over all, but what can he do 
against them? Keep he us in bliss or in sorrow, still we must live with him.’ 

62. Frolicking do they meet, and mount the swing, and happily do the 
artless damsels rock themselves therein. ‘Swing away while thou art in thy 
parent’s house; for, once married, our Lords will no longer let us swing. He 
will (jealously) guard us in our father-in-law’s house, (and put us) where we 
shall not e’en be able to wish for our parents’ homes. Where will then 
be this sunshine, and where this shade? We shall ever remain indoors, 
and without our young friends. Some day he will consider and ask questions 
(of us) and blame us (for to-day’s sport) : what answer, what release, shall we 
obtain? How often will our mothers-in-law and our sisters-in-law con- 
tract their brows, and we shall remain shrivelled up, with both hands humbly 
joined ? Where again shall we come to frolic thus ? In our husbands’ houses 
shall we have sorrow to bear till our deaths, 

‘ How seldom shall we return to our parents’ homes. How seldom will 
there be this sport in our husbands’ houses. Each of us will be herself to 
herself, as a bird fallen into a fowler’s basket.’ 

. 63. To the shore of the Jake came the Padmini; and she untied her 
head-knot, and let her hair fall o’erherface.! ’Twas as though black serpents 
concealed and inhaled her moonface and the Princess’s sandal-fragrant limbs. 
"Twas as it were a black cloud which descended and o’ershadowed the 
world, or like the demon of eclipse coming to the moon for refuge. It was as 
though the sun were obscured by day, and the moon had taken the stars and 
appeared;,by night. The very partridge® turned his eyes upon her face in 
error, for he thought that it was the moon shining through a fleece of clouds. 
Her teeth were the summer lightning, and her voice the cuckoo, her brows 
were the rainbow shining in the sky. Her eyes, two khafjan* birds, sported 
in the air, and bees imbibed the nectar of her orange-breasts. 

The lake was troubled at her beauty, and his heart surged up (erying), 
‘May I but attain to touch her feet;’ and with this pretext he.advanced 
(upon the shore) his waves. 


l When a woman bathes, she undoes her hair and lets it fall over her face, as she 
cleans it (her hair). 

2 The night is her black hair; the moon her face ; and the stars her companions. 

8 Fabled to be enamoured of the moon and always gazing at it. 

4 Motacilla alba, a kind of wagtail, whose quick motion is often compared to the 
glances of a damsel’s eye. 


32 PADUMAWATI. [64-66 


64. The damsels laid their bodices and veils upon the bank, and entered 
into the lake. Like jasmines, they reached the water, sporting and playing 
the play of love,! Their black? hair floated on the water like poisonous 
snakes, which bore lotuses in their mouths, and met the waves.§ Up rose they 
like tender shoots on pomegranates or vines. Yea, it was as if the very 
branches of love aplifted themselves. They were, as it were, tendrils pre- 
pared by the new spring, and become manifest, full of nectar. The lake could 
not contain the whole universe, for the moon had entered it with all the stars 
to bathe. Blessed was the lake in which Luna and the stars had risen; now, 
who will look at mere lotuses and lilies P 

The very Ruddy goose® in solitude crieth out, ‘ Where can I find my 
love? By night there isa moon in the sky, and, by day, another in the 
water.’ 

65. They began to sport in the flool; the very swans in shame sat 
vanquished in grace upon the banks. Then, for their game, set they Padma- 
vati to one side, and cried, ‘ Be thou, O moon, the umpire between the stars.’ 
They agreed upon a bet, and commenced their sport. Whoever lost should 
give her necklace as the stake.?7’ Dark with dark, and fair with fair, each of 
the maidens took her fellow. ‘Understand ye the game and play together, 
that thy necklace may not go into another’s hand. When shall we play 
to-day’s sport again? When the sport is over, where will any of us sport?’ 
‘Happy’ (saith Muhammad) is that game which is played with love. (As 
the proverb saith) ५ Mastery and happiness (are rare companions).”’ ! $ 

Muhammad saith, ‘If the ocean of love please thee, sport thou in it, 
(but so sport thou that), even as when flowers and oil are mixed, there may 
become a scented unguent.’ 

66. One of the damsels knew not the game? and became distraught 
because her jewelled necklace! was lost. She helplessly grasped a lotus stalk 
erying, ‘'l’o whom shall I lament my condition? Why I came here with 


l i.e, the sportive actions by which Love conqners the world. 

2 Karila may mean either black, or may be equivalent to karila, the shoot of a bamboo. 
Either meaning will suit. The snakes are poisonous, because they carry death to the heart 
of man, not by biting, but by their mere look, 

8 The lotus are, of course, the maidens’ faces. 

4 The Pomegranates and Vines are the maidens, the Shoots are their ornaments. 

6 Which is separated from its mate at night. See note 8, p. 8. 

6 Tarayana, here, is a pun. It means both ‘stars,’ and ‘ divers.’ 

7 The game they played is still common. Two women agree to play it, and one throws 
some small object into the water. They then both dive for it, If the original owner gets 
it, the match is a drawn one; if the other gets it, she keepsit. Then the other throws, and 
soon. Sometimes a third person throws an article into the water, and two dive for it. If 
neither gets it, the article is of course lost. 

8 Ie., in playing a game, unless love is an ingredient, the winner alone is happy and 
the loser is unhappy. 

9 She forgot to warn her partner that she was about to throw the necklace, so the 
latter conld not find it. 

}0 The stanza is full of puns on the double meaning of héra, a necklace, and hara=hal, 
condition, 


ee 


| 


9 
fs) 


66-67] PADUMAWATI. 


७. 


these to sport, that I have lost a necklace from my hand?! When I return 
home, all will ask me what hath happened, and with what answer shall I man- 
age to gain entrance to my house P’ Her shell-like eyes filled with tears, which 
fell as though they were a shower of pearls. Her friends cried, ‘O simple 
Kokila,* where was there ever water without air commingled with it ?* 
Why dost thou weep so at losing thy necklace? Search for what is lost until 
thou find it.’ 

They all began to search, diving and diving together. Some came up 
with pearls in their hands, and some with only cockle-shells. 

67.4 Said the lake, ‘ What I have desired, that haveI found. A philoso- 
pher’s stone hath touched me down to here.6 My waters have become clear 
with the touch of their feet, and, seeing their beauty, have I too, become 
beautiful. My body hath become fragrant with the odour of a sandal breeze. 
It hath become cool and its fever is extinguished. I know not what breeze 
hath brought this fragrance, my condition hath become pure and my sins 
have disappeared.’ Immediately he gave up the necklace ; and, as the damsels 
took it, the moon-face smiled. The lilies bloomed at beholding the digit of 
the moon, and a glory shone where’er it was seen. Hach received the image 
(in its heart) which it had longed for, and the moon-faces all appeared re- 
flected in them as in a mirror. 

As the lotuses saw her eyes, their bodies in the water became pure like 
them. When the swans? saw her smile (their forms became pure white), 
and when the jewels and diamonds saw her teeth, they became all bright 
and glorious.? 


l Here we have a rare occurrence of a post-position preceding, instead of following 
its noun, sai hatha, for hatha sai. Compare note 9, p. 43. 

2 i.e, one who hath a voice sweet as that of a Cuckoo (kdkila). 

3 i.e, one can always remain longer under water than one would imagine. 

4 The MS. Ia inserts two stanzas here, which serve as an introduction to this one. 
According to them Padmavati laments the loss of the necklace, and her friends to comfort 
her call upon the lake (called only here saméda, ocean) to give it up. The stanzas are 
evident interpolations. 

5 Down to its inmost depths. A philosopher’s stone converts everything it touches 
to its own substance: hence, the pure bodies of the girls had converted the lake to purity. 

6 In stanza lxv Padmavati is named the moon, and the companions the stars. 

7 A pun on the word hamga, swan, and has’na, to smile. 

8 The poet makes each peculiar virtue of the lotuses, the swans, and the diamonds 
in the lake, due only to some virtue of Padmayati, and borrowed from it. 


34 PADUMAWATI. [68-69 


Canto ९५. 


Tre Parrot, 


68. While dear Padmavati sported thus, the parrot descried a eat 
within the palace.! Said he to himself, ‘Let me haste away while I have still 
feathers on my body;’ so with his bare life he fied till he saw trees of the 
forest.2. He fled with his bare life to the forest tract, where the birds met 
him, and showed him great honour. They all brought and laid (food) 
before the branch (on which he sat); for, so long as (God) prepareth food 


for man, it never faileth.* He ate the food and his soul was pleased, and all 


the sorrow which had been his he forgot. O God, great is thy protecting | 


power, Thou who givest food to every living creature. Even the insect 
amongst the stones Thou hast not forgotten; and where Thou hast remem- 
brance, there Thou givest food 

The sorrow of separation lasteth but so long as the belly is not filled 
Then is it all forgotten and becometh but a memory: yea (the meetings of 
former years) are become like a meeting in a dream. 

69. The house-keeper came to Padmavati (at the lake), and told her 
that a cat had entered into the house. ‘The parrot which would give answers 
when asked hath flown away, and the empty cage no longer speaketh.’ When 
the Princess heard this her soul did dry up. “T'was as though night fell, and 
the day had set. An eclipse had seized the effulgence of the moon, and the 


l Here one or two printed editions insert a long account of the reason for the 
parrot’s flight. He sees a maidservant stealing Padmavati’s flowers, and remonstrates 
with her. The maidservant in a fury, plucks him, thrusts him into a pot, and throws him 
down a well, from which he escapes by the aid of a friendly fig tree. The whole is written 
by a bad imitator of the real author, and is plainly not original. 

2 Regarding the meaning of bana-dhakha, see page 4, note 5. 

8 Wild birds usually attack and kill tame ones; but, such was Hira-mani’s virtue 
that they came forward to receive him and showed him honour. 


4 ie., wherever a man may go will he find that God has placed food ready for him 


there, 


69-7] PADUMAWATI. 35 


sky became filled with stars'—her tears. *I'was as though the dyke of the 
lake had burst (with a spring tide), and the waters had begun to flow away. 
The lotuses sank beneath the flood, and the hovering bees fled away. The 
star-tears fell and dropped, as though, deserting heaven, they rose from the 
lake which now they filled. Her necklace of pearls broke and its pearls were 
scattered. They fell and repaired the flood breaches in the banks of the lake.* 

‘Whither hath this parrot’ flown? Seek, friends, for itsabode. Is it on 
earth or in the heaven, for the wind itself cannot overtake it?’ 

70. Her fellows stood all around, comforting her and saying, ‘ Thy 
parrot is gone. How can we now find him?® So long as he was in the cage, 
so long was he thy slave, and did serve thee continually. But now he is re- 
leased from his bonds, and how will he again come back unto his prison? He 
ate the flying-fruit on the day that he became a bird, and found wings to his 
body. He hath left the cage to her to whom it did belong, and is gone, and 
each hath got his own. "T'was a cage with ten doors,’ and how could he escape 
the cat? How many such hath this earth not swallowed up? So strong- 
bellied is it, that it never looseth them again. 

‘Where there is nor night nor day,> where there is nor air nor water, in 
that forest doth thy dear parrot dwell. Who can bring him back to thee P’ 

7. The parrot passed ten days there in happiness, when one day came a 
fowler hidden behind a screen of leaves. Step by step he came, weighing heavy 
on the earth, and when the birds saw it their hearts became filled with fear. 
‘See,’ cried they, ‘this wonderful, this ill-omened sight. A tree walketh 
along towards us. All our lives have we lived in this forest, nor ever have 
we seen a tree to walk. If to-day a tree doth walk, it bodeth no good. Come, 
let us flee, and leave this forest.’ So all the birds flew away, and sought for 
another forest, only the learned parrot mistook (the portent) in the weariness 
of his soul. He gazed upon the branches round him, and fancied them his 
kingdom. He sat there secure while the fowler approached. 

The gin® had five forks, each smeared with bird-lime. These became en- 
tangled in his body and his feathers.!° How did he escape without being killed ? 


lA Innar eclipse can only occur at full moon, when the stars are not visible till 
rendered so by the darkness of the eclipse. 

2 i.e., her lotus face was drowned in tears, and her bee-like eyes were hidden. 

8 The poet first says that her tears caused the lake to overflow and burst its banks. 
Then, to explain how the neighbouring city was not washed away, he adds that the pearls 
of her necklace fell and filled up the breaches. 

4 The ¢@ in suata is a diminutive of endearment. 

5 There is a double meaning throughout this stanza. The parrot is taken to represent 
the human soul ; the cage, the body; and the cat, death. है, 

6 The एक्काब-ककक, is a fruit which confers the power of flight. It is eaten by 
every bird. 

ग A reference to the ‘nine doors’ or orifices of the human body, through which 
breath is expired at the moment of death. The poet counts ten by counting, instead of 
the mouth, the two orifices of the throat divided by the uvula. The ordinary list is the 
mouth (), the two ears (3), the two eyes (5), the two nostrils (7), the organs of excretion 
and generation (9). The friends now suggest that the Parrot is dead. 

8 The abode of the soul after death. 

9 See Bihar Peasant Life, § 38l, where the whole process is described. 

30 Literally, his body filled with feathers. 


36 PADUMAWATI. [72-74 


72. Captured thus was the parrot in the midst of his delight, and the 
fowler broke his feathers and thrust him in his basket. Thereupon many 
birds became distressed, lamenting among themselves. ‘How can grapes pro- 
duce such poison seeds, by which hath come his death, and his crushed frame 
and wings? Had he not had a desire for food, why should the bird-catcher 
have entered (the forest) with his lime, and hidden himself. By this poison- 
food hath Hira-mani’s wisdom been deceived, and death hath come with his 
(limed) stick in hand. This false illusion of the world hath led us astray, 
and hath broken our wings, even as our body began to swell (with egoism). 
This heart is hard that dieth not at once when struck; and, intent on seeing 
food, seeth not the net.! 

‘Hating thus this poison-food, we have lost our wisdom; but thou, O 
Parrot, wast a pandit, how didst thou become entangled १ ! 

73. The parrot said, ‘I also thus went astray. The cradle of my pride, 
in which I swung, broke down. I took up my dwelling in a plantain forest, 
and there fell into companionship with jujubes (or enemies). My food, 
eaten happily in the home of my tribe, became poison when the fowler 
approached. Why did the tree of pleasure bear such fruit, so that from 
behind it asa screen he hath caught birds? Secure I sat behind the screen, 
and knew it not till the gin struck my heart. Happy and secure men count 
their wealth and deeds, and have no care that in front of them is death. So 
also I was led away by that pride, and forgot Him from whom I had received 
these things. 

‘When there is no anxiety in eating, then only is eating pleasant. Now 
that the noose is on my neck, what good is there in weeping.’ 

74. On hearing his reply they wiped away their tears, and said 
‘Who fixed wings on things with feeble wisdom such as birds? Brilliant 
is not the wisdom of birds, or how could a cat seize a learned parrot? 
Why doth the partridge thrust forth its tongue in the forest, and why doth 
it utter the call which placeth the noose upon its neck.4 On the day on 
which our feathers first grew and our name of “ bird” 8 was invented, on that 
day also was born the hunter to take our lives. Greed with covetousness 
hath become our disease. We see the food but see not the hunter. Because 
of our lust he spread the bait: because of our pride he desired to slay us. 
Because we were secure he came stealthily. What fault was the hunter’s ? 
Ours was the sin. 

‘Why shouldst thou do that sin, in the doing of which thou givest thy 
life? Now there is naught to be said, and, O king of birds, silence is the 
best.’ 


L All this is Védantik philosophy. 

2 Here there is a series of elaborate puns. Bai? means an enemy, and also the jujube 
tree, which is covered with thorns. 

3 Kuraara is for kuldlaya. Pharahuri is the same as pharulw? in xxviii, 4, and means 
trees which bear small fruit. The translation ‘khurhur’ on p. 26 isa slip of the pen, 
based on a reading since discovered to be incorrect. 

4 Fowlers track the partridge by its loud evening and morning cry. Cf. xcix, 9. 

6 Literally, feathered one. 

6 Here there is the play upon the word biddha, a hunter, and biadhi, disease. 


७०9 
~~ 


75] PADUMAWATI, 


Canto VI. 


Tue Birr or Ratna-sEna. 


75. Citra-séna! was King of Citra-pura (Citaur), who built a fortress and 
a castle, decorated as a picture. In his line was born the illustrious 
Ratna-séna. Blessed was the mother that gave birth to such a boy. Pandits 
calculated according to the lore of body-marks and looked upon him. They 
gazed on his beauty and found his special stellar conjunction. Said they, ‘ In 
Ratna-séna,? have many gems taken bodily form. Brilliant is his form as a 
jewel. On his head gleameth the precious stone (of good fortune). A thing 
glorious as a gem is written as his mate.* Glorious will they be, as the sun 
and moon together. As the bee is distraught apart from the jasmine, so will 
he be for her, and become an ascetic. To Simhala will he go, and there 
obtain her, and having become successful in his quest,® to Citaur will he bring 
her. 

‘Ben as Bhodja® enjoyed delights; e’en as Vikrama? founded an era, so 
will he.’ Thus having tested Ratna, the jewel, like jewel-testers, did they 
write down all his marks. 


3 Some Mss. have séni. See 9. 5, note 2. 

2 Citaura is a corruption of Citra-pura, the picture-fort. We shall henceforth use the 
more familiar name of Citaur. 

8 Ratna means ‘ jewel.’ 

4 Throughout the poem, the comparisons of Ratna to a diamond, and of Padmayati 
to a ruby are of frequent occurrence. 

5 Or perfected in spiritual knowledge. There is a double meaning here. 

6 Bhoja was the celebrated king of Dhara in Malwd, in whose reign (about the 
l0th or llth Century A.D.) the civilization of India is traditionally said to haye reached 
its culminating point. 

7 Vikrama or Vikramaditya,—see page 9, note 2. The well-known sambat-era is 
referred to him, It is considered the height of glory to be the founder of an era, and 
such eras are temporarily founded at the present day. For instance an era is used by 
some people dating from the Poet Harigcandra of Benares, who died the other day. It 
is called the Hariccandra-sambat. 


38 PADUMAWATI. [76-77 


Canto VII. 


Tue MERCHANT. 


76. A certain merchant of Citaur went to Simhala to trade, and there 
wag avery poor Brahmana who went thither with him when he set forth. 
From some one did he borrow money in the hope that perchance by 
going thither he might increase it. The way was hard, and much toil did he 
pass through, and finally he crossed the ocean and arrived at the Isle. He 
gazed at the markets, so vast that he could not see the other side, and of every 
thing was there much and of nothing little. But very high is the trading 
there. The wealthy man getteth what he wanteth, but the wealthless can 
only gaze in wonder. Things were sold there by myriads and by millions; 
to things worth thousands did not any one bend himself. 

All (his companions) bought and returned to their home. What would 
the Brahmana get there, for very small was the money in his poke. ! 

77. (He lamented, saying), ‘Dried up do I stand. Why did I come? 
I have got no merchandize and naught has remained to me but regret. I 
came here to market, expecting a profit, and by walking on that road, I have 
lost even my capital, Why have I learned the lesson of dying? I am come 
to die, for death was written in my fate. While I had still power to move, I 
made a foolish bargain. I see no profit, but only the loss of my capital. Did 
I sow parched grain? in a former life, that I am come and have eaten even 
the savings of my house? The merchant with whom I did my business,—if 


l 6600 is the knot in a man’s waist band in which he carries his money. For sathi, 
see xxxviii, 9,comm. The word literally means sugarcane. Sathi-nathi, means crushed 
sugarcane, whence all the juice has been expressed. It!is hence used to mean ‘ squeezed out,” 
hence ‘ without wealth.’ From this idiom s@fhi-has come to mean ‘ wealth.’ 

2 He refers to his karma, or (good) actions in a former birth. These he compares 
to seed which he then sowed, and of which he should now be enjoying the fruit. He 
now says, he must have sown parched seed ($,९., have done something to nullify his karma), 
which has produced no fruit. 





77-80] PADUMAWATI. 39 


he wait at my door for payment of my debt, what am I to give him? How 
am I to enter my house empty? What answer am I to give him if he ask 
me? 

_ ‘My companions are gone. My fair fame (will be) destroyed. Between 
us are oceans and mountains. Hopeless of hope do I return. O God, give thou 
unto me subsistence. 

78. Just then the fowler came up with the parrot, all golden in its 
colour and matchless in its beauty. He offered it for sale in the market, 
where the price of jewels and rubies was settled.! But who would buy 
the parrot, the fly of a Madara tree,? which was looking intently to see where 
it was to goP The Brahmana came up and asked himself, ‘Is this parrot 
Possessed of wisdom, or wisdomless and empty?’ Said he, ‘Tell me, thou 
mountain-born, if wisdom be with thee, and conceal it not within thy heart. 
Thou? and ॥ are both Brahmanas, and everyone asketh another his caste. If 
thou art a pandit, then recite thou the Véda; for without asking is no 
essential attribute discovered. 

‘Tam a Brahmana and a learned man. Tell me thine own wisdom. For 
if a man recite before him who is well taught, the gain is two-fold.’ 

79. The parrot replied, ‘Sir, I once had wisdom, when I was a bird 
escaped from the cage. Now what wisdom doth thy disciple possess, for he 
is a prisoner, thrust into a basket and brought for sale. Learned men are 
not brought to market. But I wish to be sold, and therefore is all my learning 
forgotten. Two paths* see I in this market: along which of them will God 
drive me? Weeping blood my countenance hath become red, and my body 
pallid. What tale can I tell? Red and black upon my throat are two 
collar-like marks. They are as it were nooses, and I fear for my life exceed- 
ingly. Now have I recognized these nooses on my throat and neck. Let us 
see what these nooses are about to do 

‘Much have I read and studied, and that fear is still before me. I see the 
whole world dark. All my knowledge have I lost, and I sit bewildered.’ 

80. When the Brahmana heard these words he entreated the fowler, ‘ Be 
merciful and slay not birds. O cruel one, why dost thou take another’s life ? 
Hast thou not fear of the guilt of murder? Thou sayest that birds are food © 
for men, but he is cruel who eateth other’s flesh. Weeping dost thou come 
into this world, and with weeping dost thou depart; yet, natheless, dost thou 
sleep in enjoyment and happiness. Thou knowest that thine own body will 
suffer destruction, still nourishest thou thy flesh with the flesh of others. If 


l According to verse lxxvi, prices ruled high, 

8 The Madara or Arka (Asclepias gigantea) isa plant used as medicine. It is of 
little acconnt, except that its flowers are offered to the mad God Mahadéva. This in fact 
is one reason for its light estimation. A bright green fly.settles on it, which, of course, 
is of still less value, and to it the bright green parrot is compared. The parrot is anxiously 
looking to see what its fate is to be ’ 

3 The Parrot is the Brahmana of the bird tribe. 

4 One to the east, the ‘other to the west. 

5 Male parrots, when full-grown, have two ring-like marks, one red and the other 
black round their neck. These are often compared to nooses. Compare 507, 6, and xcix, 7. 


40 PADUMAWATI. ji [80-82 


there were not men so greedy of others’ flesh, why then would fowlers capture 
birds? So the fowler who continually captureth birds, selleth them, nor 
desireth them in his own heart.’ 

The Brahmana.bought the parrot, when he heard its knowledge of the 
Vadas and Holy books. Then joined he his fellow travellers and started for 
Citaur. 

8l. In the meantime King Citra-séna had gone to Civa’s (paradise) and 
Ratna-séna had become monarch of Citaur: and behold there came a report 
to him: ‘O King, merchants are come from Simhala. There are pearl oysters 
filled with elephant-pearls, and many goods of Simhala’s isle. A Brahmana 
hath brought a parrot, all golden in its colour, and of matchless beauty. 
Red and black upon its neck are two (lines like) necklets, and its wings 
and shoulders! are all inscribed with scarlet. Its two eyes glow like rubies, 
ruby-coloured is its beak, and its speech is nectar-like. On its forehead is the 
caste-mark, and on its shoulder a Brahmana’s thread. ’Tis a poet like unto 
Vyasa, and ’tis learned like unto Saha-déva.? 

‘What words it speaketh have meaning: and those who hear it wag their 
heads in admiration. So priceless a parrot should be in the King’s palace.’ 

82. Forth went the King’s command, and they sent men running, 
who quickly brought the Brahmana andthe parrot. The Brahmana gave his 
blessing and began his supplication: ‘Never would I separate myself from 
this parrot, which is like my soul ; but this belly is a devourer of the uni- 
verse, before which bow, yea, all ascetics and devotees. If a man hath no 
coverlet or bed, he can lay himself upon the ground with his arm beneath 
his neck. A man’s eyes may refuse to see, and then he is but blind. His 
mouth may refuse to utter words, and then he is but dumb. His ears may 
cease to hear, and then he is but deaf: but this belly never loseth its pecu- 
liar function. Many and many a time® is it continually at fault, and must 
go begging from door to door, or else it is not satisfied. 


l Patha or pattha is the joint of the wings with the body. 

2 Vyasa was the celebrated composer or arranger of the Maha-bhirata. Saha-déva was 
one of the five Pandaya brothers, heroes of the Maha-bhirata, and was celebrated for his 
learning. 

3 The word bara has rhany meanings, owing to many Sanskrit words having phonetic- 
ally developed into it. The following story illustrates this. © 

Sara-dasa, the celebrated blind poet and singer once sung the following verse in 
Akbar’s court. 

Jasuda bara bara yaha bhakhai | 
Hai kow hité hamaré Braja mé calata Gopalahi rakhai || 

The Emperor asked the meaning of the words bara bara. Some said it meant ‘ repeat- 
edly’ (Skr. vdram-varam) ; others that it meant ‘at every door’ (dvdram-dvaram); others 
“to all the children’ (balam-balam) ; others ‘to all the girls’ (balam-balam); others ‘stop- 
plug continually’ (varja varja kara); others ‘may I be sacrificed’ (balaiyd lé lé kara) ; others 
‘lighting lamp after lamp’ (dipaka bara bara kara); others ‘with water water’ (Skr. vari 
vari), ie, weeping; others ‘day by day’; others ‘raving’ (varvara), At length the 
Emperor asked the poet, and he explained that the verse meant ‘every hair (Skr. dala bala) 
of YaSoda cries out, “is there any friend in Vraja, who will take care of Gopila (the infant 
Kysna) as he crawls about,”’” 





82-84] PADUMAWATE. 4l 


‘This is that which calleth me here, and which bringeth me hunger and 
thirst. If there were no enemy such as this, what unsatisfied desire of aught 
would any have ? ? 

83. The parrot gave a blessing, promising mighty pomp, mighty prowess, 
and an unbroken rule. ‘Full of fortune hath God created thee. Where there 
is good fortune, there beauty standeth reverently in attendance.! Some men 
come to a man in the hope (of obtaining a favour), while he who is without 
hope sitteth silent on his seat. Others without being asked say their say ; and 
when they speak, their say, as clay, is worthless. When a man is learned and 
educated, and knoweth the mind-secrets of the Védas, then, when he is spoken 
to, he replieth like unto Saha-déva.? No learned man praiseth himself, but if 
he is brought for sale, he desireth to speak; for so long as his virtues are not 
made manifest, so long no one knoweth the secret concerning them. 

‘ (Therefore say I) “I am a pandit learned in the four Védas. Hira-mani 
ismy name. With Padmavati did I sport, and there used I to serve her.” ’ 

84. Ratna-séna recognized Hira-mani as a learned bird, and bought 
him from the Brahmana for a hundred thousand rupees. So the Brahmana 
gave his blessing and departed, and the parrot was brought into the royal palace. 
How can I describe this parrot’s speech? Blessed be he that first dubbed 
him Hirad-mani (or the diamond-jewel). Whene’er he spake, he looked 
towards the King, and his words were like the pearls of the necklace which 
has the hearer’s heart for its thread. All that he spake was rubies and coral, 
otherwise he remained silent like one that isdumb. (He would tell tales of 
love, and), as it were, strike (his hearers) dead, and then would he revive 
them with words of nectar. He became a spiritual guide, and the whole 
world became his disciples. _He used to tell the tale of the sun and 7000, 
and with the story of passion did he ravish all hearts. 

All who heard him wagged their heads (in admiration), and the King’s 
love for him became unfathomable. (They would ery): ‘ So wise a parrot is 
there not aught other. Whom will he drive distracted ?’ 4 


l i.e., Thou art not only fortunate but beautiful. 

2 See note 2 on p. 40, above. 

3 A side reference to Ratna and Padmavati. The tale of the sun and moon seems 
to mean that he gave lectures in astronomical physics. He used to combine instruction 


with amusement. 
+ i,e., some day, he will drive some one to distraction with his tales of love. 


42 PADUMAWATI. [85-8 


Canto VIII. 


NAGAMATI AND THE Parrot. 


85. When five or ten days had passed, the king departed somewhither 
to hunt. Nagamati, his beauteous queen, was the chief of his harem. She 
adorned herself, and took a mirror in her hand; and, as she looked at the 
reflection, she became filled with vanity. Smiling went the Lady to the 
Parrot, and offered to him a touchstone of polish.! ‘ Parrot,’ she said, ‘Thou 
art worthy and the beloved of my Lord. In the whole world is there any 
so fairas I? ‘Test thou the colour (of my beauty). How fair is this gold, 
and how fair is thine Isle of Simhala? How fair to look upon are the 
beauties there? Am I the more fair tosee, or is the Padumani (Padmavati) ? 

‘Parrot, if thou tell me not the truth,—I adjure* thee by the King. 
Is there any on this earth so fair as IP’ 

86. When he thought of the beauty of Padmavati, the parrot laughed 
and looked the queen in the face. Replied he, ‘ In the lake to which the swan 
cometh not, there the paddy bird in the water is called a swan. God so 
perfectly did make this world, that every creature excelleth® another (in 
some beauty). Vanity becometh no one’s soul. The very moon waneth and 
is devoured by Rahu.* Who can call a woman fair or unfair? Fair alone 
is she, who is beloved of her lord. Why asketh thou me concerning the 


l So literally. It means that she called upon the parrot to apply the touchstone of 
beauty to her. Opan@ is polish, and awpana-wart means that which gives polish, or which 
shows the true polish of the gold which is being tested. There is a pun in the werds 
so nari, ‘the Lady” They may also be translated as sondrin ‘the goldsmith’s wife,’ who 
owns the gold to be tested. 

2 Ana equals the Skr. ajnd. 

3 Agara= Agrya, excelling. 

+ We are unable to trace any legend of the vanity of the moon being the cause of its 
waning or of its eclipse. Rahuis the demon of eclipse who swallows the moon on that 


occasion, see note to ४. xcviil. 


—— 


a 


86-88] PADUMAWATI, 43 


women of Simhala, for the dark night cannot be compared with the day. 
Their bodies are fragrant as flowers, Why should I describe their feet,! to 
which every head (is bowed). 

Compounded are they of gold and fragrant essence. Filled are they 
with beauty and good fortune?’ When the queen heard this she was enrag- 
ed, as if salt had been thrown upon her heart.? 

87. (Cried she) ‘If this parrot remain in the palace, he may sometime 
tell this unto the King, If the King hear he will became enamoured, He 
will desert his kingdom and become anascetic. By storing poison it becometh 
not grapes. See that this chanticleer of love give not forth his note.’ She 
called her quick-running maid-servant, and no longer able to restrain her 
anger in her heart, gave unto her the parrot. ‘See this parrot. He is an evil- 
worker. He doth not even belong to her who cherished him. With his 
mouth he sayeth one thing, and in his belly dwelleth another; and for this 
fault hath he been sold in half a score of markets. Keep not a bird that 
speaketh such evil things. Take him and kill him where no one can see thee. 

‘This is the day-time, that I ever dreaded. In the night, have I hid my 
sun.® He desireth to give (the sun) to the lotus, and to be to me a peacock,’”® 

88, The maiden went off with the parrot to kill him, but, while she consi- 
dered, wisdom came into her heart. ‘ The parrot,’ quoth she, ‘giveth ease unto 
my lord. He whom the master loveth should not be killed. He is a pandit 
with his passions all subdued, and blame leth at the door (not of such, but 
at the door) of him who looketh not before him. She who understandeth not 
a woman’s actions, falleth into error and afterwards lamenteth. Nagamati 
hath but the wisdom of a serpent,’ and no parrot ever hath become a peacock. 
What hope can there be in the arm of a woman that obeyeth not her Lord ? 
Perhaps when the King returneth at nightfall, the bird will be sought for, 
and then will the horse’s disease fall upon the monkey’s head.3 

‘Two things, murder and sin, cannot be kept hidden, even though a man 
try to hide them. In the end they cause destruction, themselves bearing the 


witness.’? 


3 The humblest part of their body. ‘Ex pede Herculem.’ 

2 Her heart was like a blazing fire, which crackled ominously when salt was thrown 
upon it. 

8 The cock-crow of love will awaken the king, and warn him to search for the day of 
Padmavati, now that the night of Nagamati is past. 

4 4.९., He deserted his late mistress. 

5 Nagamati was black but comely, Padmavati fair as the day. Nagamati has kept 
her beloved (her sun) devoted to the night (herself). Now he will leave the night, and 
seek the day. 

6 The peacock eats snakes. Nagamati refers to her name, in which ndya means 
‘snake.’ The lotus is Padmavati. 

7 Again a pun on the name, see note to last stanza. A serpent cannot distinguish 
between good and evil, and bites every one (good and bad) indifferently. 

8 i.e., The punishment due to the queen will fall on me. According to tradition, if 
you wish to keep your horses well, keep a monkey in the stable. It is believed that all 
diseases, to which horses are liable, leave them and fly to the monkey. 

9 Here again the postposition (sai) precedes the noun (6७७) to which it belongs, 


Cf, 7, lxvi, 3. 


Ad PADUMAWATI. [89-90 


89. So the maiden made up her mind and put the parrot (in a place of 
safety) ; and at even, when the King returned, he sought for him. The Queen 
replied in angry tones, ‘A cat hath carried off thy parrot. I asked him about 
the Padmini of Simhala, and he replied ५ What art thou, O Nagini? She 
is like the day and thou art as the dark night. Where spring is ever bloom- 
ing, who (careth for) a garden of the thorny kartla?! What is thy husband 
but the king of the night? Doth an owl know the nature of the day time है? 
So, what is that bird but a pawn in a fort,? whose little tongue speaketh such 
mighty words? Whene’er he speaketh, he distilleth blood. Whether he 
eat or be without food, his face is red.? 

‘Set not a parrot on thine head, even though it be exceeding fair. Why 
shouldst thou wear a golden earring, if it tear thine ear ?’4 

90. The king heard these words and became desolate, as Vikrama?® 
lamented in his heart. ‘That Hira-mani, was my scholar-parrot, from whose 
mouth distilled nectar when he spake. A scholar whose sorrows have been 
subdued, of blameless life. A scholar from whom fell no guile. A scholar 


3 Capparis aphylla, Roxb., a thorny leafless plant which grows in the desert. 

2 Got, which I haye translated ‘pawn,’ is a wooden or stone back-gammon piece, 
or such like. Ina great castle, such a petty thing is of no account. 

8 Alluding to the red colour of the parrot’s face. His face is ever red, whether yoa 
feed him or not. A red face implies anger. Hence he is angry even when you treat him 
kindly and feed him. 

4 This is a well-known proverb, phata paré waha snd, jehi sé tuté kana. 

5 Regarding Vikrama, See vv. xvii, and Ixxv. The story of Vikrama and the Parrot 
js as follows.—He had a parrot named, like the parrot of the text, Hira-mani, who one day 
obtained leave to take a holiday in the forest, promising to bring back an ‘amara-phala,’ 
or fruit of the Tree of Life, the eating of which prevented old-age and death. The leave 
was granted, and after a time, the parrot returned from his travels with an amara-phala in 
his beak, which he presented to his master and mistress. The king gave it to his gardener, 
with instructions to plant it and grow a fruit-bearing tree from it. This the gardener did, 
and in time it sprouted, and began to bear fruit. The king gave orders that as soon as 
a fruit ripened and fell from the tree, it was to be given to his queen. It happened that, 
at length, one night, a ripened fruit did fall, and, that attracted by its scent, a poisonous 
snake approached it and licked it all over. The fruit thus became poisoned, and 
lost its own property. In the morniug the gardener picked it up and presented it to Her 
Majesty. As it was a new kind of fruit, she first fed a dog experimentally with it. There- 
npon, the dog, there and then, fell down dead. The queen enraged with the parrot for 
bringing so poisonous a fruit into the house, had the bird killed at once, and told the king 
what had occurred. Some time after, the old wife of the gardener had a quarrel with him, 
and determined to commit suicide. As the easiest way of doing this, she decided to eat a 
fruit of the terrible poison tree, the seed of which had been brought by the parrot. She 
went and ate one, and immediately became young and beautiful. Her old husband went out 
searching for her, and at length found her under the tree, and, to his amazement, entirely 
changed in appearance. She told him what she had done, and what the consequences had 
been, so he took another fruit himself, and equally immediately, became young and hand- 
some. Afterwards, when he brought the customary morning basket of fruit to the king, 
the latter noticed his good looks, and asked and was told the reason. Then the king knew 
that his parrot Hira-mani had, after all, been faithful, and that he had been unjustly put to 
death by the queen. 'Therenpon, he lamented so much that the phrase ‘ Lamentations like 
those of Vikrama’ has become a proverb, 


9]-93 ] PADUMAWATI. 45 


whose tongue and mouth were pure. Ascholar who ne’er said a foolish word, 
A scholar, who gave me wisdom and who led me on The Way. ‘Tis the 
way of evil that such a scholar loveth not. A scholar wise hatha lovely! 
countenance. Itis a murderer whose contenance seemeth red as blood. 
Hither, Nagamati, bring thou me back the life of my body, or else go thon, 
and with the parrot immolate thyself.’ 

(Saith Muhammad), ‘ Think not that, by committing sin, there will be 
a reign of bliss within thy palace. When once a husband’s command hath 
been broken, then who hath aught result but misery ?’ 

9l. Bea Lady as glorious as the moon, natheless is she eclipsed by her 
beloved’s wrath. She could not carry out perfect happiness (by consoling 
her Lord), for when she failed in her devotion misery alone was born. So 
great a fault had she committed that her Beloved was wroth, so that though 
she call him her own, ’twas false. With such vanity let no one err: she, alone 
is the greatly beloved one who feareth her husband. The queen approached her 
maid, her hope in the silk of the cotton tree of the parrot. Inthe midst of 
the (molten) gold of my love hath fallen lead. The gold is scattered, and will 
no more combine. Yea, naught but the dark mark of the lead is visible. 
Where is there a goldsmith that I may go to him, to apply a flux and unite 
the gold together.* 

‘Trusting in my beloved’s affection, I showed vanity in my heart. Through 
his anger have I obtained but despite; for I, O clever maid, have made my 
beloved wroth.’ 

92. Then answered wrathfully the maiden, ‘From anger doth one’s 
own wisdom (become an ogress) and eat other unoffending ones.* Lady, 
I said unto thee, “ Be not enraged, who hath not been ruined by this anger?” 
Thou wast full of anger, nor didst thou look before thee. In anger, for whom 
hath ever wedded bliss been born? Upon anger is born dis-loye and discord, 
but no one beateth him who beateth down his own wrath. She who hath 
anger, to her, meetly, love cometh not; and without love she becometh yellow 
as turmeric.s Therefore let her not create anger and wrath,® from which 
she dieth; and let her not abandon love, from which she liveth. The love of 
a husband cannot be gained by a mere wish. She only obtaineth it, who 
hath fixed her heart upon him. 

‘She who obeyeth the behests of her mate, and humbly offereth her 
service, appeareth like unto a spotless moon, and her life hath no stain.’ 

93. 7The queen felt in her heart like unto a gambler who hath gained 


l Rata means both red and beantifal hence the allusion. 

3 I.e., she was hopeless. The simal or silk cotton tree is the proverbial example of 
disappointed hope. It is beantifal to look upon, but its fruit is only fluff. 

3 A pun on the word sohag, which means both the flux borax, and wedded happiness. 

$ This stanza is a series of puns in the words risa ‘anger,’ and raza, ‘love,’ both of 
which are written similarly in the Persian character, thus wo. 

5 The jaundiced gaze of jealousy. 

6 Risa means inward anger, of which krodha, wrath, is its outward expression 

प The maid must be presumed to have given the parrot to the Queen. 


46 PADUMAWATI. [93 


once more what he hath lost, and she brought the parrot and gave it to the 
king. ‘Heed thou my words; I was not vain. I but wished to test thine 
affection, O my love. Wouldst thou destroy for so small a fault one who 
hath faithfully been thy slave from year’s end unto year’s end. (So pitiless 
art thou, that) even though one humbly bend his neck before thee, thou dost 
not dismiss him without an order for his death. Even when I meet thee, 
thou art as it were far away: and hence, O dear one, is my heart full of 
fear (that thou lovest me no longer). I thought that thou dost pervade me 
alone, yet now I look and see that thou art enshrined in every heart. 
Whether Queen, or whether slave-girl, she alone is good, on whom thou 
showest mercy. 

‘No one can conquer thee. The Bhodja! and Vara-ruci are defeated 


before thee. But one doth not learn to seek for thee, till after one hath 
lost himself.’ $ 


3 Regarding Bhéja. see v. lxxv. Vara-ruci, the celebrated grammarian, was one of 


the ‘ Nine jewels, who attended his court. 
2 4.९., Had seen that I was not an individual, but only an emanation from the Supreme. 


The well-known YVédantik theory. The whole verse may be interpreted throughout in a 
Védantik sense. 


94-95 ] PADUMAWAILI. 47 


Canto IX. 


Tue KiInG AND THE Parrot. 


94, The King said, ‘O Parrot tell me truly. Without truth unto what 
art thou like? Thou art (useless) like unto the fluff of the silk-cotton tree,! 
From speaking truth the face acquireth beauty. Where there is truth, there 
virtue is its companion. Creation itself hath been composed in truth. 
Laksmi? herself is the handmaiden of truth. Where there is truth, daring 
gaineth success, and the speaker of truth is known as “the truthful man.” 
For the sake of truth doth she who becometh suttee® prepare her funeral pyre, 
and for truth (at the marriage ceremony) do women put four fires (round the 
couple). They who cling to truth pass through this world and the next, and 
beloved of the Almighty are they who speak the truth. He who abandoneth 
truth, destroyeth virtue. (So tell me Parrot), didst thou form in thine heart 
a truth destroying thought, (when thou didst tell the tale of the Padmini) ? 

‘Thou art a learned scholar, speak not that which is false. Tell thou me 
now the truth, to whom hath injustice been done ?’ 4 

95. “0 King,’ quoth the parrot, ‘I will tell the truth; and may my life 
depart, but still I will not speak untruth from my mouth. My truth was all 
that I brought with me to this country, or else should I have been in the king’s 
palace in the isle of Simhala. Padmavati is the king’s daughter. The Creator 
in her hath made incarnate a moon of lotus-odour. Her face is ike the moon, 
and her limbs are odorous of,sandal. Scented gold is she, and perfect in all 
her parts.° Many are, the Padminis in the isle of Simhala, but in fragrance 


4 See note to stanza xci. 

2 The Goddess of Prosperity. 

3 Suttee is literally sat?, the base of which word is the same as the base of the word 
satya truth. 

$ i.e., Has Nagamati told true or false stories about you when she said that you had 
spoken evil of me. 

5 Compare the modern Hindi bérah bani, accomplished, perfect, possessing the twelve 


48 PADUMAWATI. [95-98 


and in beauty, they are but her shadow. I, Hira-mani, was her bird, and in 
her service did I become full grown.! Thus did I gain the speech of men; 
otherwise what would I have been but a bird,—a fistful of feathers. 

‘As long as I live, night and day, do I e’er bear her name in memory, 
and, (as Ido so), I die (of shame, that I serve her no more). My face is 
red, and my body green, and them will I carry with me in both worlds, (for I 
speak the truth.)’ 

96. As Hiramani described the lotus, the king, like the fabled bee,? 
became enamoured. ‘Come hither, my bright bird. This island hath killed 
the serpent. Thou, who hast dwelt in the home of golden fragrance, how 
art thou not well named Hira-mani?* Who is the king? How lofty is 
that island, at the mere hearing of which my soul hath become a moth 
enchanted by a candle.6 When I hear it mine eyes become agitated like the 
Kilakila Ocean.6 Tell me of the spotless fragrance of the lady. Hath she 
found a bee for a companion, or is she still but a bud, and not an opened 
flower? And tell me also of the beauteous Padminis there, and how the fate 
of each is in her own abode. 

‘Come, tell me all the tale of them. I long to see that isle, My desire 
hath arisen at hearing thy recital.’ 

97. ‘O King, how can I tell all that? The isle of Simhala is like unto 
Kailasa.7_ | Whoe’er hath gone there hath been fascinated, and ages may 
pass, but none hath e’er returned. In every house are Padminis of the thirty- 
six castes,? and it is ever spring both day and night, With whatever here 
a flower-garden bloometh, there, of that colour, flowereth a fragrant damsel. 
Gandharva-séna is there the mighty king—created by God like Indra amidst 
his heavenly nymphs. This Padmavati is his daughter, glorious amongst 
all lights. Suitors from all lands have bowed themselves for her, but to all, 
in his pride, the king refuseth an answer. ; 

‘Even as when the sun riseth, the moon concealeth herself in his glory, 
so there all hide themselves before Padmavati’s beauty.’ 

98. When Ratna, the Jewel, heard the name of the Sun, his face became 
flushed.? ‘Tell me, Learned One, again this tale. Thou hast told me of her 


colours, or the twelve different kinds of brilliancy. There are twelve A’dityas or forms of 
the sun, each of which lends a different kind of brilliancy. 

l Literally, the two lines (black and red) round my throat, which indicate full growth, 
appeared. Cf. Ixxix, 6 and xcix, 7. 

2 The love of the bee for the lotus is one of the common-places of Indian poetry. 

8 This is impossible to translate literally. It has two meanings. It may mean either 
‘this light (dipa) which has hitherto killed merely small moths, has killed me, the great 
serpent.’ Or it may mean ‘this (description of the) island has killed the snake (i.e., Naga- 
mati), and I cease to care for her! 

4 Diamond-jewel. 

5 Here again, there is a pun on the two meanings of the word dipa, an island, anda 
light. 

6 One of the seven Oceans, with a particularly stormy sea. Vide p. 2, note 2. 

7 Qiva’s heaven. The poet, as usual, confuses it with that of Indra. 

8 The castes are usually enumerated in a catalogue of thirty-six. See Hindi Comm. 

9 Or, if we take Ratna as meaning ‘a jewel,’ especially the gem called swrya-kanta, or 


46-53] PADUMAWATI. 9 


46. . Tce wjidratu. 2. U lila samundra jati saba jané. K samuda jaradé gaja. 
wane, K karaha. 3. Ta swrayga. U kuraygama bahu bahu bhakhi | kararé koki bora rasa 
pakhi || K kara kokaha calaka turati, 4. Ia téja binu, Ic tai binu, Id nawait binu, Is taja 
binu, U talaphé tabai tai ani haké, K jahibinu. 5. Ia dola na baga, Ic déla turdga, Is raja. 
U chalaté pantha na délai raga. K dola turayg@, Ia U léta u®. 6. Is gagana kaha dhawah, 
U asa tukhara samundra para dhawai. K bané turayga barani nahi jahi' sobhdwaita (?) sobha 
tinha pa ||. 7. U badhe rahé risa. U dhdwata pichi. 8. K aura tukhara. 9. U naina 
mataki jaha jai kow. 

47. . baithi, so N. Ib dékhé baith?. U sabha 86 dékhi, Ta pari so dith?, Ib jurt so dithi, 
Is K gau, U ditht. 2. U has here janahi sabha déwatana kai jit ' baithé saba indrasana- 
24772, || las K matuka. Ia niséna nita sabha ké, Ib dudra nisana nita jinha ké, Ic dala nisana, 
U tinha ké, K ghana nisdna dara jinha, 4. Ia rapawanta dhanawanta li?, U manu barai lij 
Ia nita pa, Ibs U K chatara. 5. Ic manahit kaiila jo sarawra. Ia ripa deota manu, Is U 
saba bhilé K 5०006 sarupa. 6. Ib sugadha basané rahi bhari part, U basa sugandhi rahi 
bhari part, K raha. 8. Ib gagana asa td. 9. Is jimi biga®. 

48. Ta madira-raniwasi, Is madila-raniwasu. U raja-madira jand kabilasi. K mddila 
kabilast. Tabd U K have all kabilds#, Ia puhwmi awdsi#. Is dharati akasi, U bhumi 
akast, K madila aka. 3. Ia, second half, malaya-giri candana saba lawa, 4. Is is 
defective for the rest of this stanza. K sdwaja sabhai. U jawata bhauna wré®. K laga@ 
saréh?. 5. Ib bahwanawana, U 56 anawana, K sabha bhatinha bhati, Tac citara katau so pa’, Is 
citara goti ka. 6. U khambha saba ma@. Ib janahi diya raini dina baré, Ie achahi dhadré, U 
nisu dina dipa rai janw dharé. K dchahi dhadré. 7. aU straau. 9. Ibe zpara chata. 

49. l. Ia ra@jé kara rani? Is K mandila. Iabds U have kabildsz, as elsewhere 
2. K éka té sughara sayani. 4, K saba apara. U has second half saba ranina maha rapa 
bakhant. 5. Is 9608, 6. Ia suraygama hoz. K ati nau®. U sara piiji na kot. K prita 
manahi tehi sarabart hot. 7. U sata dipa té cuni, K singhala dipa, Id siyghala dipa maha 
cun? 86 rani Ib maha kaiicana ba@. 8. Ia K lachin?. Is kiariwanta su-lachan2. K aru saba 
rupa anipa. 9. Ia K sarahahi ripa. U saba té maha anipa, 

50. l. Ia Campawati rupawanti maha] padmumawati ki joti mana chaha ||. Ib 
Campawati jai ripa mana maha | padwmawati so tehi kt chaha||. K Campawati tehi 
nama sohi@ | padumawati bhaw ta ki jai. || K* Campawat? ripa ati maha | padwmawati kt 
joti ०७ chaha. || ॥ 2 Campawati jo rapa stwart | padumawati cahai autari. || 2. Ia kania 
ati loni. Is kath@ jasi, U hoi jasahéni. 8. Is di& dipa tehi, U jo asi dipaka bhatiht 
thaa, K jaw asa naga upaja tehi thau, || Ias U prathamahi, K prathayna joti so gagana 
samai | puni so mata ké ghata छ,|| 5. K jaba waht mata ké ghata ai | taba té ati 
adara tinha pai. \| 6. Ib bha masz | Is rapa hd tasz, U bha audhdna duija sama tas | 
dina dina adhika hai. K hiati karai par® 7. K jasa anjuli mi chapadi did. 9. Ia U 
dia mana sia. U wpajad, K sd wpani whi dipa. 

5l. l. Ia pari aba ghadri. 2. Ia UK té for huti. 3. Icds maha dina ka para?. 
4. Ia pinit kala khi, Ic jo khi?, K sasi bhai oha ghdt?. 5. K has second half, té dina 
duiji laji chapi gat. 6. Id puni jo duija wthai hoi jott| nahi kalayka bidhi sasi niramoti 
(sic), Ia puni jo wi 6७६7० kt nai, K nikalayka tasa sasi dekharai. 7. U padama sugandhi 
bédhi, K gandha bing rasa basa, U bhawra ai lubadhé caht. K bhauré paykhi léhi udi basa. 
8. U K ati sarapa. 

52. l. Is U K kéda for kida, both readings are possible in ?, 2. Is K pandita 
jana, U bha bisuna pandita. Ib kadhi grantha, U patra kadhi. 3. Is dipai, K ud jasa soha 
akasz. 4. Ib kinhd@............dinhd, nai 6808, Icds jasa diya, Id padumini rasi naw. 5. 
Is bhaew kirtra, U karira, K tehi hoi kirtra, U ratana-joga wpaja nalga) hira, K kirini 
janu wpaja. 6, U kala, and second half, s#ra kirana cada niramala. 8. U K réma ju. 

53. l. Is jo lékkh?. U yahai jan®, jasali®. K raha jan®, tasa l?. Ibek phirai 70°. 
2. Ia barisa kt. Ib béda purana. 4. Is K daiya auta?. 5. Ta gosat gadhi. Ib U dat 
s6 ga,° K ohi gadhi. 6. Ic U asa hone. K so pawai oha padhi saloni. 7. Ibe bara jo 
aunahi, Is barékhi dwaht, U sata dipa, K sata dipa nripa bara ohi awahi | Is phiri phirt 
ight utara nahi pawahi, K pawahi phéri sidhawahi.|| 9. U ko asa méré joga ha, K k6 asa 
moré jogata. 


]0 PADUMAWATI. [54-62 


54. l. K barakha kai bhai, UK rajai kaha, 2. U padumawati kaha. 2. U sakhi sayani 
—rasa jant. 8. Ia nisi dina karahi, U 56. saba karahi kéli rasa jant. K jehi 8696 karat 
sahaja rasa-kéli.| 4, K kawala satha jasa wpajai hoi. 5. UK raja ké thaw, K pandita 
padha की. 6. Is daiya di,° UK hirdai buddha hiramani jott. 7. U 86 puni dinha sua 
salond. K sé dinhad saba guni salénd. 8. K padhahi so sastara, 9. K sunata bata rasa- 
bhéda. 

55. . unanta,soIc K. The word has puzzled all copiests. Ia has ananda, Ib dno gf 
with marginal ए. l. utapati, Ids utapati, U sayana,| U dhuja dhawrahar kart. U dhaja 
aicalu bica kali. 3. N pithi.........2th?, (U baitht.) 4, K kurayga citauna hért. 6. Ia K 
dasana naga hi. U darima dasana damaka jasu hire. 7. U bhiidaré. 8. K na lawat, 
U kow drishti.........acharz chapi akasa. 9. K tapa tapahi tehi. 

56. This set of cawpdais is wanting in all MSS. except K, from which it is taken. It 
is inserted, as necessary to understanding the story. Stanza 57 is unintelligible without 
it. Most probably it is not genuine, but is a clumsy insertion by a later bard. 

57. l. U kubudhi बल, | K kumati déi. 2. Ia stra suni, Ic swra suna, U stra na au, 
K sara na ud. 8. I nduni bart. Is tau lahi........ jaw lahi. K taw lagi......jau lagi, P jaba 
lagi...taba lagi, Is jaw lahi bya@dhi sua paha awa. 6, Ia paykhi na hd kahe hoi. Ic paykhi 
na katahii hoi, U jo tuha paykhi dinha parawand | cahai bhugati ki caht udana. के jehi 
paiichihi dinhaé tuha danu | janai bhuguti, &e. 7. Ia om. jaha, Is tehi kata jibha hié ho 
naind. U hié kati naind. K (शाह kata budhi andha jasa naind. 9. Ia amahu phori gahi 
lai. Ib dba thora, Is abahi thora, gahi léi. 

58. l. Icd K sud 2. Iced sukha pad, K sira ait, Ie 2०६ paykhi bana-basa kaha jau, 
Ic basa gahi ja,° K haw aba calau basa gahi pat, 3. U moti malina hoi jo kald......... niramala, 
K kala| bahuri na paniya hoi niramala. 4. Tad U séwaka kara, Ic waha séwaka K kauna 
ubara. 5. K paachi ndma na jiu so bdcad. 6. K tua raja, Uk jaw magahu dai jai. 7. Ib 
bhau pachi, Is bha. 8. Is mar? sdi na suata, K marai sai jo suatahi. 

59. 2. K dokha na tora kichu nahi déwa. 3. Ia tohi séwaka bichurata nahi akhat | 
Ib tohi ké bichurana hat nahi akhati | Ic tumha séwa bichurana ka (or ga) akhat | 
Tds tohi séwa bichurana nahi akha& | U tohi sa& hat bichurana nahi akhat | K tohi séwaka 
bichurana kimi bhakhat | Ids U ghali tohi rakhat, K hié méli kat. 4. K dharama bica 
taha tohi ko. 5. Ia U badaz. U kauna priti, Ia priti soi yie sathahi jai, Iced jeht sathaht 
ia, U jiu saygahi jat, K priti soi. 7. las 86 kita, U tehi kata chada ana jiu badha, K teh. 
kata chora lai. 9. Iced jeht karata. 

60, l. Iacs kawni-u tithi. U kauna-w ti,° K kawand ti,? Ia UK manasaréara. 8. 
IsK koi kétuki karand. 4. Ic om. bakauri, Iad have b. kau, Is bik@u, U bakau, K bakawari 
kaca bi,’ U bihisat?, cf. शहर, 3. 5. Id bdlasari, Is mélasari. 6. Ia jama késari, Ibds 
jarada jyat késari, Ie janw ké,° Is késari...nagésari. 7. Iacd sadabaraga, Is UK kunda 
sati?, K °baraga sahél?, Is su-rasa rasa-kéli. 8. U cali sabai mila gohané. K cali sabhai jo 
malati. §&. kumdda, so we vocalize the word, taking it as equivalent to kwmud. All have 
kamoda which, however, gives bad sense, the word being the name of a drug not of a 
flower. 

6l, l. Iads UK manasaréwara. 2. Ia U sar6wara hasanhi kéli. Ib dékhi sardwara 
hasaht kulél?, Id sardwara karahi jo kéli, Is dékhi sarawra hdsanha kai kélz, K dékha 
sarawara hasanha kélz. 4. U jaba lagi uhai, K jaw lagi. Icds U ahai pita. Is khélahw 
khéli khéeli lehw aja. 5. U kalhi...... palhi, Ie saraura-tali, 6. Ia duba, Ib hald......sata 

kata khélana puni ..... | kata khélai duba 6 satha, K kai tuha_hama khélaba ९४७ satha | Ics 
na awai déhi, Id na atara déhi, UK na adwana déhi. 8. Ia sé daht& karai kaha, U 86 
dhat karahai kahu, K s6 dahu kara puni kaha. 9. Tab kai sukha. 

62. Iacd U om. thisstanza, l. IsK hiddlé—bhélé, Ia léhu sakhi balé, K léhw saba bali 
2, Ia puni kata jhilana, K phiri kata jhae 3. Ib naihara pauna na, K nisari jaé na. 4. 
K kaha yaha dhapa. Yb rahaba so kaisé mandira, K rahaba sabhai puni mandira, 5. K 
kauna pacha bola eha dokha | kauna utara kata pauba mokhz || lb is unintelligible here. 7. 
Ib kita mili rahasa can asa karana. K kata naihara j6 4609. 





62-67] PADUMAWATI. ll 


Ta substitutes for 62 following— 

Cau.|| suni sdsura padwmawati dirt | jala binu sakhi kawdla kai keri || 
aba lagi sakhz sravana nahi sina | darapa jiu hié maha gina || 
haha karat sakhi tora cért_ | kahw phiri bata sakhi piu ४675 || 
ekasara jaba ki dosart sayga | subhara pantha ki ahi karayga || 
thai dipa sakht chiki dia | thai stra ki désara aia || 
kaisa nagara kaisana basagiti | kahu aba taha kaisi hai riti || 
cakhu ghabarat dharaka sé hiya | dat mana tarahéli tiya || 

Dé)| kasa re milana kasa @dara kaisa nagara kara 7696 | 
kaisa pantha daht kanta kasa kaisa milai sukha bhéga ||62|॥| 

Cau.|| kaha sakhi khélata saga Ghat | aba so bata padumawati kdhai || 
jasa naihara sasura hai कैदी | jarana jharana ahai nija tahé || 
séwa 86 saswra pada 90598 | jauna so kanta to sada sohagi || 
séwa sasu nanada basa kariye séwa mana sauti kara hariyé || 
saiijama sawara basahi bhala hot | dewara jétha dara boli na ko | 
sajana parawa hdihi apané| nathara hdihi rain? sapana || 
kaha tumha rani kaha hama sakhia | jhuri jhuwri maraba na dékhaba akhia || 

706| kaha khéli kaha sarawara kaha sakhi kaha rani | 
sakhi bujhawahi 69७ kaha samajhi so sabai to ani ||62a || 

63. 2. U malai-giri bdasd......caht% pasé. Ta has for second half kanaka su-gandha 
duadasi ban?. K léhi soghrani. 3. Iacadaki sarana. U canda ko pachu linha. K cada 
ke pachu lagu janu. 4. Ta chapiga. Kchapi gau. K bhaw nisi nakhata dipa para.” 5. 
Ta dishti mana. Is U ghata tara. Is cada. “K ghata jasa céda capawa. 7. K naina kaula. 
This makes better metre. 9. Iabd laharai léi. K tehi niti laharai. 

64. l.- Ibeds saba cuni kai sa.° 2. Ia pani nira janu. Ibe pat tira janu. Icd pa 
nira janu, U pai nira janahé rasa béli. K pawa nira jaba sabai sahéli | hulas? kéli karama 
ki bélz.|| 3. Ia UK kutila késa. K bikhidhara bisi bharé. 4. Ib bhai atapati paréma, Is 
pirama kai. 5. Ia K basanta saba bat kart, U basanta kamala mukha kari. Ia N 
paragata cahai rasa. 

65. l. Is kérikarai, Ids U baitha hoi tird. 2. Iad kantaka kara, Is K kautuka kaha. 
U kautuka kai. Utardini. 3. Is K khéda pasara. 4. U K s@wari sdwari gdrt gorit. The 
second half varies much in different MSS. Iad jo jehi joga so tehi kai, (Id té kara) jor. 
U linhasi jor7, K cuni cuni léhi so apant jort. 6. Ib kita both times, U kati. 7. Id N 
kasala, Iabe quite clear. 8. Is bari pirama ka. U bara ju prémaké, K muhamad khéli 
préma kt, 9. U sayga mila. K téla phil jat& sayga hoi. 

66. l. Id cita acéta bhai hava gawand. 2. Ib dara sd bhai. Is dara kaha bhaw bi,° 
UK gahi bhaw bi. Iac UK ka sat pu° but this spoils the metre, Ib kasu, Id kahw (?°hi 
?°ha,) Is kagu. 3. tehisathd, U yaha sa, K inha sa,° Iacds gawai calez sai hatha. 4. Ia 
U jaba hari, Ib kaha haru, Id bahu haru, K paisata. 5. Ic (second half) stpa bahuta jami 
moti jhadré. U moti giré tasa dharé. K manahu méti girai hia dhdré. 6. K (second half) 
niramala nira pauna jau milé. Ib paudi paudi eka, U diba diba eka. 

67. . Ia K cahi, Id kaha@ manasara jaha so pani | parasa ripa aha eka rani, U kaha 
maénasara ripa sohai, la pawa awa, Ja iha@ sd &, U iha@ lahi ai, K ihé cali @. 38. Tas 
U sitala tana tapani, K tapani batai (for buta). 5. tata khina. 6. Ia 086 taha rapa haré 
jat dékha, Ibd bhai taha ripa jaha. 7. Ia teht tasa ripa jaisana jat caha. U pawa rapa 
rapa ké darasé | sasi-mukha darapana bhiti ké parasé. K pawa ritpa joti jasa cdhi......... 
edhi. 8. Ia U dékha kawala bha, Is dékhe hansa bhae. 9, Ia U dékha@, bha. K hérata 
nira samira. 

Ta inserts the following two stanzas— 





Cau|| jehi kara stpa cadhé 36 hdsé | ghogha sewara pau 86 nasa || 
padumini sabai sakhinha sat pucha | kehi sai labha phira ko chitcha || 
héri hara saba karahi tawand | jo jehi ahi so taha@ bhuland || 
Lahwu na sijha sarawara tala | janu bikha bujha ai ura sala || 


2 PADUMAWATI. {67-68 


murachi part padumawati rant |  sakhi jagau méli mukha pani || 
pichahi sakhi nari kara tot | aukhada 86 jo biadhi na ho? || 
naga amola harawa maha dha | campawati puchai ka kaha || 
Dé\| roai rani padwmawati har hara ehi that | 
sabai sakhi rahi mana saz hati kubuji ehi gat ||66(a) 
Cau|| bolahé sakhi sabai eka bant| jo dukha tumhahi hamahi 86 rani || 
tumha réahu gandhrapa ki bart | hama kuariht kehi mana bicar? || 
cadara phara rani taba jhakhi | manata nahi bujhawata sakhi || 
khélata maha mai samida roawa | koi rowai koi karahi bujhawa || 
twmha janahu jani hamari hara| twmha sat hamaht hoi dukha bhara ॥ 
saba mili kai kara jori pukara | déhi harw aba saméida hamare || 
sabai khéli aba bha kura khéla|  sukha sanéha hama dukha kai méla || 
Dél| kaha 366 ka paht kahaw harw samida mora linha | 
héri kawala jala mina paht na jana ka kinha ||66(b)|| 
68. () Id U khéla dhamar?, Is khéla duart, K khélw piare. Te part ma? U dékhi ma? 
(2) Is K kahesi. U kahisa. K bana sakha. (8) Ibs darw linhé. (4) Ia bhala sakha. Id 
bhara sakha. Is bahu sakha. UK phala sakha. Ia jaba lagi rakha, Ids méta jaw lahi bidhs 
rakha. K inserts tana between lahi and rakha. (5) sukkha. This doubling of the final 
consonant is required by metre. Is K have saukhya. U has sukhya. Neither of these is 
supported by P. Dukkha is also required by the metre. Icd have péchila dukha bisars. 
Is dukha which will not scan. (6) Ia jzw sabhani. Ib saba ka Is jawata jaga saba kara. 
K jaha lagi jiw saba ké bhakha. 4. jahad tahad. 8. Tas taba lagi. Id jaw lahi. UK tau 
lagi. Ia K jaba (K jaw) lagi bharai na peta. (8) Ia punt sawarana bh@ bichwrana, U puns 
paché bha sumarand. K punt bichwrana bh swmirana, 
The Urdi printed edition inserts the following :— 


Cau || Padwmdwati taha khéli dhamari | 
céri katahit jai wrajhani | 
linhesi rani ke phila tabola | 
ta kara puhwpa chuasi ré ८९5 | 
pana phila teh? satipa na kor | 
pana phila Iyiyé to paeé | 
ka jané dahit hiya ki moka | 

Do || sua kahé ré cér? | 
lihisa phila rani ké | 

Cau || cért aw dd mana dbiraga | 
bauri andhi piriti kara lagi | 
sunaté hié mana anabhai | 
bha nisi 90679 koha mukha khola | 
sud jo aha pitjara sukha bhar | 
curisa paykha mirorisa giwa | 
sid paykht pai budhi och | 

796 || stsa dhuné tasa sola | 
rahati éka tariwari cadhi | 

Cau || kachw na basadi bhuli ga padhé | 
sataruhi koi paw jo badha | 
bairt dawa pau jo kar | 
jau ri sayana hoé (6 bacé | 
agit dékhi karat tehi kaja | 
budhi citi parabata lé kadha | 
aba budhi karé to bacé sia | 

D6 || haré sai nisota | 
harakha na bisamaw janai | 
Cau || bhdda aé khanda jaha ua | 


sud madira maha part majar? || 
tahd so bhéga jai rasa mani || 
bald sua taha eka bala || 
jilanihara hai jehi kért || 
jo tit lobhi hai ko hai || 
aw na dijiyé hatha paraé || 
ko tehi pana phila ४६ dhoka || 
bawrt bhat akaja | 
tohi mana awa na laja, || 68 (I) | 
sua ka boli janah& bikha laga || 
86 na dhasi nahi sijhi agit || 
yaha ki ghali kia ghara rai || 
ta tamacira rahé anabéla || 
dharisa ai janu dharisa majar? |} 
ehi bidhi bidhi né rakha jiwa || 
linhesi bhada khdla ki kochi || 
bha bhéjana sukha thaz 
cadhat saba abarai || 68 (2) || 
baraht pat jo j6dha caédha || 
chadi niripa kaha karai biyadha | 
[696 ghata rahar puni 865 || 
hde aydna to bihasi ke nacé || 
daré britha apai mana laja || 
budhi ké hina hasti 96 badhd || 
jiata jo maré na maré mia || 
darai jo kaja akaja | 
duh niwarai laja || 68 (8) || 
kahesi mari mélat aba sia || 


a 





68-70] PADUMAWATI, 3 


déekhata pae so agumana tani | kud méli kai bahuta risani || 

paykhi na dolé ékau naind | para kipa maha kahi taba baind || 

kahesi tohi sutrat hat éka | jina maha gagana atara ka téka || 

agina maha rakha jina sauré | kua para té rowat baura || 

dhart jalandhara jogt khdca | bikarama saraga hut? kara 0606 || 

karihat nahi dahana na pakha | rahat kiipa maha rakas rakha || 
Dé || ३6 prabhu rakha caha sé | tuta na ékau roa | 

nahé to ka m6 jugati | j0 bhawé 56 héa || 68 (4) ॥ 

Cau || jau niccat sutrat bidhi nati | taha@ kaha téka duhit jaga that || 
ka dekhé tariwara ko maha | pipara tira aw sitala chaha || 
paraté kahesi dara 36 sia | bha kailasa bisara ga kaa || 
phara sé tariwara dékhé sakha | bhuguti na métai jaw lahi rakha || 
bisara dukha paykhana kara cura | 96 86 5696 bhila bhé pura || 
kachu na’basde bhila 96 padha | naina maha bhari dinha so cadha || 
pahana maha na patanga bisara | kasa na kida mitha parabasa cara || 

76 | ghart éka ké sukkha mé | bisara gai saba jhaykha | 
phara gai dishti sua kara | jaba lai apané paykha || 68 (5) || 
Cau || pakha kuriara ke dékhé suria | paykhi kinha paykha kara kuria || 


kahasi calat jaw lahi tana pakha | &c., as in 69 (2) 

The above is an evident interpolation by a later hand. The language is quite different 
from that of the rest of the poem. 

69. (0) Ic padwmawati taha. U pahi K paha dhaibha®. U kahisa K sua mandila 
maha dékhu majart. (2) Io déta huta. Is déta taha U dai taha K déta tuha pi. Ia udi 
96 hansa pinjaraé chuché. (8) Iced U sukha saba gaew U sunatahi Is suzkhi taba. K rani 
jabaha caha asa pat | janu dina mdjha raini 086 @\| (4) Iu dsu tehi nakhata gagana saba 
bhara@ || (metre incorrect). K dsu nakhata asa nainanha jhara|| (5) lac tuti tuti part | 
pali para lagt U dsu titi pala para lagé. K bahi bahi nakhata pdali bahi lagé. U kamala 
diba. (6) U 68७ naina té ०8 | Uk sarawra maha tié. K saraga chadi. (7) Ib janahit 
tata motinha Ic jharahi euaht mo° Is cira cuai U cihura cuai jyak mote mala K moti jase 
mala. Va sakéta kai badhahw bala || Id puni hama phéri bddha ९०१४६ bala Is sakéta badha 
caha balé U aba hama phéri badha cahai bala K hama aba phéri badhai cahai bala. 

70. () K caraw pasa bujhawaht. Ia kaha so pai udi ga pakhi | Id ga so kah& pat aba 
pakhi. Is K paiaga U so pai ga aba pakhi| (2) Iajaba lahi pijara K jaw lagi pijara raha 
paréwa. Ia banda Ic aha bada Id K aha badhi Is aha bandi U rahé banda. (8) Ia tahi 
banda té chiz.° Ibed U insert jo before chutai which spoils the metre. Is téhw bandi huti 
K téhi bandi saw chutai jo pawa. Ibe phiri 0606 Id bhada (sic.) Is phiri bandi K puni so 
bandi hoé kaha dhawa.| (4) Ib udana bahw pharahari kha Io phara tehi dina (2) khaé 
K 86 udana phara tei waha khawa. Ictanaaé. Id U tana laé. K jehi bhé......tana pawa. | 
(7) The second half line is very corrupt in all copies, The various readings are as 
follows :— 

Ta aisa gadhi ८8०४७ nahi dhilé || 

Ib asa bada-péta laga hé dhila || 

Teds tasa peta-gadha bahuri nahi dhilé || 

U aisa péta gahi bahwri na dhilé || 
K asa pata-gadha na nisaré dhilé || 

K2 asa kai pakaré bahwri na dhilé 

K3 yehi dharatt asa kétika lilé | tasa bada gadha bahuri nahi mila || 

8. Here again there is much corruption in the second half :— 

Ia tahu na pauna na khana | 
Ib taha piuna nahi khana | 

Icd jahé na pauna na pani | Id gives a marginal correction to the same 88 Ib. 
Is jahd pauna na lei araghani | 
U jahd pauna nahi pani | 
K jahi na pauna na ghrani | 


i4 PADUMAWATI. [70-77 


9, Ia tehi bana sua-té cali basé U bana waha sua-ta K bana bhai sua-ta. 

7, l. Ic jae bigdha. 2. Icd U dékhi sabanhi da. Is sabahi, K sabhai. U dari 
khawa. 8. Is acarija U acaraju ika bhdla. Id éka jo awata cdla U ek dwé taha cdla 
K awata janu cdla. 4. Ib dékhi. Allothers dékha. All N have calata, The vowel point 
is not given in P. 5. Ia tarwari ajw calaé bhala nahi | U ajuso. K taruari ayu (sic.) 
calata bhala nahi. Ib aba hama yaha bana. 6. Ia K ana bana K bhili raha thaka. 7. Ia 
rah@ nicinta, U raha acéta cala K bhaé nicinta. 9. Ias K bhara. 

72. l. Is mélesi, U mélisa. K phada sua karata rasa-kéli | pakhi curi méla dukha 
déli | 2. Ia pachi, Uk rédana, P rédana or roana, The MSS. are not clearly legible. 
In 33); the third letter may be read eitheras waw orasdal. 3. Ia bikha cara. Is 
akiré, U akaré. Ibe ६9७७, other P doubtful. K kata daia suré|Iad daina. Is daina 
bidhi ०६९, U daina dhai cx° K daina dukha cu°. 4. Ia K ciriméra Ies carihéra U 
cirahara, 5. U ubhakala. 7. Tas U K gala na dé. Is U dékhi dékhi. Ia dékhai dékha 
cara. 8. Ias U hama to kubuddhi. Is kubuddhi gawawa U kubuddhi kama. 9. Is tiha 
suata asa pandita iha kata bajhehu ai || Ia sd kata bajhehu ai Id kata rat phada ai U kasi 
tu phadé ai. K tu kata bhilei ai || 

73. l. Ia K tasa bhulé. K [एक daina garaba. 2. Tas kéra. Ics U bairt keéra. 
3. Ia U sukha kurigri K sukha niruara kuruhari Ias K bha tabaht U bha jabahi. 4. Ia 
oS ses Ib kahe ka bhitla bi? Icd kahe kaha. Is K kahé bhaga U kahé phila bi? Ib ude lai. 
5. Ia kécd jiba ga, Uk jand jaba khéca gada. 

6. The various readings are :— 

Ia sukht nicinta joré bidhi karana | 

Ib sukha kai cinta dinahi dina karané | 

Ie saba ké jz jorana dhana karand | 

Id sukhi nicinta joré dhana karané | 

Is sukha nicinta jorata dhana karand | 

U sukha cinta jord dhani karana | 

K sukha cinta jo bandhana karana | aba nicinta paché dukha bharana|| 
7. U 8 bichura. 8. Ia kinha taba jaba cara sukha. 

74. . Gsw tasa po Ibd K dst taba po’. Id Uk badha Is bacé budhi. U K kauna. 
2. Ia paykhinha budhi jaw hota wi Id jaw budhi hota Ishou. Is K kata. In Ib the 
vowel points are clearly marked as kita. 3. wghélé, so in all copies except Is which has 
ughélé. kita, so again plainly Ib. N have kata. 4, K, second half udi na saka@ so 
paichi paréwa. 5. Ia bha byadha trishné mana khiidhi. Ic phira bia’ U bhai agadhi 
trisnd. 6. Id hama lobhi......hama garabt. 7. K 6688 na byadhahi 6656 apanég. 9. U 
pachiraja. : 

75. l. IsKséni. Uséna. P give no indication. Ia kofi layka sama sajé. Icd citra 
sama sajé@ K citra sabha. 2. Is K séni. U séna, asin line one. Icd dhani 86 jehi janamda. 
3. Is rapa au lakhana K lakhana cinha saba rupa bisekhahi. 4. The MSS. differ greatly, 
as follows :— : 

Ia Ratana séni 30 kula niramara | 
Tb Ratana séni bahu naga autare | 
TOM २२४६४०४००-०८८ YANG ४7४ ४:०० ०३५ 
26708 ५» ०२२० 37 0० 2: naga autara | 
Is U bara K jara (sic). 5. Ia jasa jagata ajort. 7. Iacitauragadhadwa. 9. U lagana. 

76. l. Ids gadhikaéka. 2. Iabe nashtha, Is nisatha, K nishta. 3. rini, so Is K. 
Urina, 5. Uk dékhu......sijhi. Ia kachu ahina, Is kachuhai nahi thora. 9, Ia K gathi 
duma suthi. 

77. ., Ia jhurawai thadhi kaha mai awa | 

Tb jhurai thadhi kahe ka hat awa | 
Ie jhurawai thadhi kahe ka mat awa | 
Id eevee Kah hog awa | 


—" 


77-82 | PADUMAWATI. 5 


Is jhitrai thadha kahe kaha awa | 
U jhurawai thadhi hat kahé awa | 
K jhurawai thadha kaha mai awe | ; 
Tb banija na laga. 2. U eh satha | mila gawdi calé use hatha|| 4. Ib kinha ganz. Is 
calata je kinha. U ju kinha. Ia bha@ hani. Ibed bhai hani. 5. Ia bow janame ehi Is 
jarama sé bhujt. UK ka mai baya janama waha bhiy?. 7. Is utara pauba tinha. 9. Is 
K déhi K déhi ahara, 
78. l. Ias Uk tabahi biadha. 3, The various readings of the first half are 
Ta sua kawna pacha pataga madari | 
Tb ..... KO ..seeeeeeese padhaka mana dat | Marg. note, padhaka or padhika= 
civimar, a fowler. 
Tod tise nes piichahi pataga madaré | Ic has marg. v. ). (?) anéka maré. 
TS ,.,,७०० 27606... ... »-«--० Madre | 
U sua ko dékh? pataga milareé | 
K suaht puchai mataga ninaré | 
5. K guna na chapawahw. 7. Ia ahahw sundwahu. bd pandita hé to. Uk piché nahi 
paia bhéda. (9) K dund labha hoi || 

79. l. Ia U jaba pijara té Ib pifjara maha aha paréwa Is pinjara saw che? K 
Pijaré md raha paréwa. 2. Ia banda maha ana. Is aba guna bandi kawana jaja° U guna 
kauna banda K kawna bandi. U bécahi. 3. Is pandita 86 jo hata. Iacahat bikai. 4. 
Tad U da? ca® Ia daiya ca°. K daé ca®. 5. Ib tana bha pita. 6. K syama cinhad dui. 
Ta tehi dara adhika dari so jiwad Id taha dui cinha darat. U té dui adi dara& K té suthi 
darai dékhi kat jiwad. 7. Ia abaht Ids phdda git U phada kai K phada kara. Is dah kai 
bandi caha U K daht karatara cahai kd. 9. N have dhandha. Ia jagata jiu jani U baithi 
rahew budhi. 

80. I. Iscariharé U cirahart K caraihadrt. Tac crmaru K puni babhana. U kara. 
K pajichinha Ia daya na mart, 2. Ia jiu hatasi pardwa Is kata re U kati re K kasare...... 
badhahi. 3.+Ia khadhuka mana lawad. Ib manawa Is kahesi...... manawa U kahisa jo 
paykhi byadhi manawa K kahesi paykhi kha manawa, Ia U nithura soi Iced nithwra te kahaht 
je (Id jo) para? Is nithura 36 jo K nithura jiu tai kebahi na khawa || 4. Ia roané Is U 
rowana K dwahi vdwana ja ké rowana. Ia tajahu 97696 sukha soand. Is U sOwana K 
bahutanha taja@ 90696 sukha sowana. 5. Ia aw tehi jana kara hoihi. Ib au jand. U janahi 
hoihai tana nasi Las pokhahi 6.9७ paraé U pokhé. 6. Tacs U K jaw na hota Ibd jaw na hohi. 
Ib dharé. U kata K kata parchinha, 7. las jo byadhé U jata paykht byadha saba 
dharat | s6 bécati mana lobha na karai || K jata paccht byadha niti dharai | 86 bécata mana 
etc.,,asin U. 8. Ia suni pandita beda grantha, 9. Is mildi kai sdthinha bha UK mila 
ai kati bha sathinha bha. 

8l. l. U citra-séna K taw lagi U ratana-séna. 2. K jai bata unha agé. Tas K aé 
sig’ Ib duru bahuta banija siy?. 8. Ib U K hai gaja° U bharé té sipt K bharé naga sipr 
Ta U bastu saba 8797. 4. Id brambhana. U baémhana K bramhana. K cetaka barana. 5, 
la raté thora kantha dui kantha U K kantha dwi rékha K rata. Ia raté daina likhé saba 
panthé. U raté daina likha saba pekha K vata &0., 88 U. 6. Ids K raté thora Is K amia. 
7. Ia mdthai tika. 8. Is sd 866 Ia 886 saba dola K sunata sabhanha sira dola. 9. Ta 
mandila U cahiyé Ia aisana sua amola, 

82. l. Ib jana dui dui dhaé U bhai rajdisi K bhaiw rajaesa Id brahmana, 2. K 
asisa aw binai johara | las U K ninara Ib sud janama nahi U sua na jiu té karat. 3. Ibd 
peta maha bi? Ia U jina naé 3606 tapa. Ic jai saba ndwaé Id jai saba nawaé Is jehi saba 
nawa K jaw saba nae. 4. Lad U K dara séja Is jehi hai nida séja jat nahi K dara séja jeht 
ké nahi Is giw baht U gala bahi K gale baht. 5, Ia andhé rahai so jehi nahi naina U je 
sijha na K andha Ib mukha kahai na U mukha bole na. 6. Ia bahira rahai sarawana 
nahi sund. Is has for ll.6and7. The following— 

dékha raja bahuta sukha pawa | caraw béda padhata subha awa || 
haré barana katha raté rékha |... 29०६ syama maha bi jasa dékha (sic) || 


6 PADUMAWATI. [82-86 


7. U phéri anta bahu pokhi K kai kai bara anta jaw pokhi| U nisa tokh?. K bara bara 
bharié na sa°. 8, Ia U mohi lié phirawai. Ic jo mohi. 9. Is hota asa patita Ia kita kaha 
Is t6 kou kahit ka na asa (sic) U tau kahu ki dsa K koi na kahu ka asa. 

83. l. Iads sud asisa K sajz————raja, 2. Ib bidhi budhi autara Is bidha jehi 
autara K bidha nai autard, 3. Iad ko kehu. Is U kow kehu U jo nirasa tehi asa déna 
K jo nirdsa tehi dswaw (sic) daing. 4. Ia anapichai boli jo bila Id binw picha Is kow binu 
pucha U kou binu puché Is U hohi bola mati ko mola K hoé bola. 5. Is béda huti 0७४6४. 
6. Ia om. this line. Is kawnu koi jo adpu, U kow Is jaiso. 7. K jaw lagi......tau lagi 
Ia makes this line No. 6, and has for No. 7. 

suai so apana guna darasawé | hiramani taba nau kahawé || 
8. TIaca@ri béda. 9. Is padwmawati kara suata. K padumawati yaha hotié Ta saba that& 
Id jehi thad Is ohi that K séwa karat gahi pau. 5 

84. 4, Ia hirdmani linha Icds éka lakha babhana U éka lakha bamhanw K laccha taka 
brahmana, 2, Ia astsana minati audhéra. K bha data darida kinha payana Is K madila. 
3. Ic baranad kahu su@ Ie K dhani 86 ndéma see note tol. 7. The readings of the second 
half line are as follows— 

Ta K cuai méti hie hara paréa 
TDG. ७७०08 «००१ ०१००० २०००००००५०४ 
Is manika moti maga parda 
U cwni cuni moti hara paroa. 
5. Ias U K bélai tau manika Id bélai sd ma. Ib K badhi hé giga Id badhi hue Is nahite 
pauna badhi hd. 6. Ib cahai thari mukha Is jibha cari mukha Ta guru 90६ apu Is guru 
bhat U guru kwai kinha 679७ jaga K bha guru dpu. 7. Ia cada stra kai katha jo kahé 
K cada suruja &., as Ia. Is péma ka gahana K préma ka lubudha lagi cita raha U om. this 
line, and inserts after l. 3. 
hiradai budhi hirémani jot | naina ratana mukha manika mote. 
8. Ia sunai sisa dhunai. Iaprtkh hui augaha Id prtk hui agzha Is sunata péma hoi 
tahi U priti ka hoi agaha K priti kahai augaha. 9. Ia gunawanta sua bhala nahi U guna- 
wanti su suata Is asa gunawantd nahi bhala baura &c. K asa gunawanta bhala suata. The 
reading given is that of Ibed, which however is bad metre. Ia U bawra kinha jo chaha K 
baura kid jo. ; 

85.' l. Ia K bhaew......gaeu. 2. Ias raniwadsa. 3. Iacds jiya kinha. 4 Ib a 

nart Is ai so bar?. The readings of the line are as follows— 
Ia bhalat sud hat ३6 pii(?)nahd | moré rapa ko asa jaga maha || 


Ib bhalahé ... ०४ 9४67६ ... ... ... ..« | méraht riipa kot jaga ...000 || 
MGW जब पाए २.0७ ०८०००००००००० | MOTE vedsasesactsanstsdecssteatsvss if] 
DT का 3 wounee | 7207 0062 टन शत न । 
Is bhaleha sohdi pidri............ | शाह ripa ki koi Jaga see. || 


U bhalé su aura 
छू bhaleha 80 .....५५५५०५०००००००००० | Moré rupa sama ké Jaga ws « || 





«० | NOTE eee cevess 3 


6. Ia sua bani dahu kasa sdna | 
Ibe sua bani kasi k(?g)ahw kasa snd | 
Id . dahi k(?g)ahu kasa sdna | 
Is sua@ bana dékhi kasa sona | \ 0, 
U sud bana dah gahu kasa séna | 
K sua bata dahu kasu kasa sona | 
K2 sua barana kahu dahu kasa 8676 | 
K3 sué barana dékhi kasa soni | J 
7. Ias kaunu sisti moré rupa mani K kawnu 7४.6 térz. 
86. l. U sdwara(i) rapa. K sauri rapa. 2. Ia bakuld tehi sara Is bakula tehi sara 
U baguli K tehi sara bakulé hansa. 8, Is daiyékinha. 4, K pai mana garaba. Ia cada 
ghaté jama lag? rahv. U Klaga. 5. Ia koi kihad. K lonibiloni. 6. Ib pichasi Ids bari 
for nari Is dinahi ki pijai K dewasa na pijai, 7. Icd ka kaga Is puhupa su-basa so K 


89 - 8८] सुधाकरं-चल्लिका | ‘OR 


=a 5- सिंासन । Ae=ae— म्टग-मद । अपूरो ८८ भर-पूर | माँझ ःमध्य। ऊंच 
उच्च | इंदरासन "८ ट्न्द्रासन | बिगसइ -- बिकसतौ है ॥ 


फिर बेठो हुई राज-सभा को (जो) देखा, (तो समझ पडा, कि) जाने ( देव-राज ) 
इन्द्रसभा के ऊपर दृष्टि ( At) पड गई ॥ wa वह राजा है, जिस ने tay} सभा को 
रचना कौ । जान पड़ता है, कि फुलवारी फूलो हेै। लाल, Ta, हरे, इत्यादि 
विचित्र विचित्र वस्त्रां से ah हुए सभ्य राजा लोग, जो बेठे हैं, वे सभा-रूपो aa 
वारो के फूल ऐसे जान पडते हैं ॥ सब राजा मुकुट बाँध कर बेठे हैं । ( मुकुट बाँधने 
* से गन्धवें-सेन कौ प्रतिष्ठा रूचित etal है, अर्थात्‌ उस सभा में किसो को अधिकार 
नहों, कि मुकुट के विना प्रवेश करे )। जिन सब के (साथ) सेना है, ओर Sar बजता 
हैं॥ ओर बडे रूपवन्त हैं, ललाट कान्ति (मणि) से faa रहा हैं, ara पर (राज) 
aa हैं, ऐसे सब राजा (अपने अपने ) oe ( सिंहामन ) पर बेठे हैं ॥ (उस घडो ऐसो 
शोभा जान पडतो है ) मानोँ सरो-वर में कमल fea हैं । (सभा सरो-वर, ओर 
SSA सभ्य कमल समझो» | ऐसे सभा का सखरूप देंख कर मन भूल जाता 
है, अर्थात्‌ आर arat को छोड कर उसो के दर्शन में sea जाता है ॥ (उस सभा 
में ) पान, कपूर, और म्टग-मद (Hz) जो करूरो, इन कौ ama (बास) सर्वत्र भर 
गई है॥ सभा के मध्य (सब से) ऊंचा इन्द्र के आसन सा आसन ( सिंहासन) सजा = | 
faa पर गन्धव-सेन राजा बैठा हैं ॥ 

faa का (गन्धवे-सेने का) छच आकाश में लगा है, आप |e जेसे as, तेसे 
तपता है, और (उस रूये के तेज से) सभा कमल सो feat हुई है। ( राजा के) ate 
में बडा प्रताप (ast afar) है gon 


UTE | 


साजा राज-मंदिर कबिलारू। सोनइ कर सब yefa aaa | 
सात खंड धडराहर साजा.। TEE संवारि सकइ अस राजा ॥ 
Sta ईटि कपूर गिलावा । ay नग लाइ सरग लेइ लावा ॥ 
 जञावत सबइ उरेह Bel | भाँति भाँति नग लागेड TH ॥ 


भा कटाउ सब अनवन भाँतो। चितर होत गा पाँतिन्द पाँती ॥ 
40 


3४ पदुमावति |e | छ्लिंघल-दोप-बरनन-खंड | [ex 
लाग खंभ afa मानिक जरे। sq दौआ fea arate बरे॥ 
देखि धडरहर az उंजिआरा। हछूपि गा चाँद सुरुज अउ तारा॥ 

दा . 


सुने सात बइकुंठ HA TA AR खंड सात | 
बोहर MST AIS तत खंड खंड ऊपर जात ॥ ४८॥ 


गिलावा 5" गारा। डरेह-- उल्लेख -- चित्र - मूत्ति। कटाउ ”-कटाव। Tet TET 
=Fa अलग। भाउ "5 भाव ॥ । 


राज-मन्दिर (राजा का मन्दिर) केलास के ऐसा सजा है । उस को afa (A 
का तल ), और SA (ऊपर का भाग 5 आकाश ), wy सोने को Sil ( उस मन्दिर में ) 
सात खण्ड (सात-मजिला ) का UTE (प्रुव-हर ) खजा हें। वच्ो ऐसा राजा है, कि 
ऐसा (ACEI) बना सकता है ॥ वह धरचरा होरे को Te, और कपूर के गारे से 
बना है, और नगों को लगा कर उस धरहरे को ले कर GT तक लगा दिया है, 
अर्थात्‌ बडा ऊँचा बनाया है ॥ जितनो हाथो, ats, पशु, पक्षी, देवता, इत्यादि कौ 
मृत्ति हैं, wa उस में उरेहो हैं (atest हुई हैं ), ओर उन में (वे-हो) तरह तरह 
के (जिस जिस ap में जिस जिस awk उचित हैं ) नग लगे हैं ॥ (उस घर॑हरे में ) 
ओर भो अनुपम वा अनेक (३७वें दोहे को yal चौपाई को: देखो) भाँति के कटाव 
va =, जिन aera से पाँतो पाँतो में चित्र होते गये हैं ॥ माणिक्य-मणि (लाल 
मणि ) से जडे da लगे हैँ | (उन से ऐसा प्रकाश है), wat दिन में अच्छो तरह 
से दोया (दौप) बरते Fy धघरहरे का प्रकाश (उंजेला = उंजिआरा ) देख कर, चन्द्र, 
रूये, आर तारा छिप गये, अर्थात्‌ लब्जित हो कर कभों चन्द्र, कभों रूये, आर 
कभों तारे अस्त के बहाने मुंह छिपा लेते हैं ॥ | ह 

जेसे सात वेकुण्ठ सुने जाते हैं, तेसे-हो उस धरहरे में wat aw az हैं, ओर 
AaB खण्ड खण्ड में ऊपर जाते अलग अलग भाव हैं, अर्थात्‌ सातो wei में भिन्न 
भिन्न सजाव, ओर भिन्न भिन्न ( देखने से) आनन्दानुभव होता है, Sar कि सातो 
बैकुण्ठ मे 3) (यहाँ age से wala, भुवर्लाक, खरलेक, महलेक, जनलोक, तपो- 
ज्ञोक ओर सत्यलोक समझो, न कि केवल विष्णु का स्थान, जो कि एक-हो है)॥ 


85 — 86] * - सुधाकर-चचन्धिका 4 ‘eK 


चौथौ चोपाई के उत्तराद्ध में, 'नग लागंड वे-हो? के स्थान में; लेखक-प्रमाद से 
“नग लाग जबेहो” यह अशुद्ध पाठ समझना चाहिये॥ ‘sas’ कोई fea. 
विशेषण शब्द नहों हें । यदि vasa (= wat को उलचना) क्रिया से भूत काल में 
उबाहो के स्थान में an मिलाने के लिये saat मानें, तो sulegfa होतो 
है ॥ ४८॥ 

| चजपाई | 

बरनर्ऊ राज-मंदिर रनिवाँर्ू | अछरिन भरा जानु कबिलारू ॥ 
ace wea पदुमिनी cat | शक एक तई रूप बखानौ॥ 
अति सु-रूप az अति ERAT पान फूल के रहह्दि अधारौ॥ 
fae ऊपर चंपावति wat । महा सुरूप पाट परधानों॥ 
uz बइठि रह किए fame | सब रानो ओहि करहिं जोहारू | 
fafa नंड रंग सुरंग में सोई। परथम बयस न सरबरि कोई॥ 

सकल दौप मुँह चुनि चुनि आनौ। तिन्द ae दौपक बारह बानौ ॥ 
| 2 ater | 
gate बतोस-उ लविखनो अस सब ATE अनूप । 
जावंत सिंघल-दौप He सबइ बखानहि रूप ॥ ४८ ॥ 


इति सिंघल-दौप-बरनन-खंड ॥ २॥ 


रनिर्वांस्‌ = रनिवास = रानियाँ का निवास-स्थान | अकरिन 5” sath का बहु-वचन; 
wed 55 अप्रा । पदुमिनो 55 पद्मिनो । se 5 सु-कुमारो | अधारो आधार । 
चंपावति = चम्पावती । परधानो = प्रधान,। जाहारू --जौव हार, NM हार" हे हार 
Ae, अर्थात्‌ हे गले के हार आप aha, यहो जोव We हार दो मंस्तत re मिल 
at feat का यह जोहार बना है, जिस का अब प्रणाम अर्थ है। में "- सेन ae । 
परथम = प्रयम। बयस = वयः = अवस्था । बारह बानो = वारंह वर्ण = TET रू के व, 
अर्थात्‌ दादशादित्य कौ कला। See = कुमारो। wisest = लक्षणों ॥ 

राज-मन्दिर में जो रनिवास है, उस का at करता ह्ू। जानें अप्सराओं से भरा 
Sera हैं ॥ उस रनिवास में, सोरद् हजार पद्मनों wel हैं, जो कि एंक के एक 


न पदुमावति | २ | सिंघलदौप-बरुनन-खंड | [ee 


(बढ कर) रूप में बखानो oat Fy) वे रानियाँ अत्यन्त सुन्दरों ( सु-रूप) Ix अति 
aia (gaia) हैं, ( केवल) पान Ax फूल के आधार से रहतो हैं, (अन्न नहों 
way) i तिन सब के ऊपर Tat wad है, जो कि महा सु-रूपवतो Wt पाट 
( सिंहासन ) में प्रधान है, अर्थात्‌ प्रथम-विवाहिता है, जिसे अधिकार है, कि राजा के 
संग सिंहासन पर बैठे ॥ वह एरज्ञार को किये अपने आसन पर बैठी रहती है, ओर 
सब रानियाँ उस को प्रणाम (जोहार) करतो हैं ॥ वह (सोई) नित्य नये TH GCE 
में ven है, अर्थात्‌ नित्य नित्य नये नाच रंग में आनन्द करतो J) उस को प्रथम 
अवस्था है, अर्थात्‌ वह प्रौढा है, ओर उस को बराबरो में (सदृश) कोई नहों Fu 
राजा गन्धर्व-सेन सब दोपों में से जिन जिन रानियाँ को चुन चुन कर ले आये हैं, 
faa में (चम्पावतो) दादश aw दोपक है, श्र्थात्‌ प्रज्वलित दोप-शिखा सो है ॥ 

वह gift ( चम्पावतो) बत्तोखो लक्षण से युत हैं, आर इस प्रकार से सब रानियोँ 
' में अनुपम है, च्रार सिंहल-दोप मे जितने लोग हैं, सब उस के रूप का बखान करते 
Fugen . 

weafear के स्त्रौ-लक्षण अध्याय में feat के ये वत्तिस लक्षण लिखे है ।---- 

पैर का AG तामे के ऐसा १। Wess FA के पृष्ठ सदृश २। गुल्फ (yet) सुन्दर 
गोल देखने लायक ₹। पेर कौ अन्लूलियाँ आपस में सटो हुई ४। पाद-तंल ( तरवा ) 
कमल के ऐसा wale, उस में अछुश, ae, श्रसि इत्यादि के चिन्ह हाँ ५। THU ( पेर 
के ऊपर के भाग) दोनों बराबर, और गोल जिन में नंस ऊपर न उभड आई Be 
जानु ( जडःघ के ऊपर के भाग ) Sat बराबर और सुढार ७। ऊरू (जानु के ऊपर के 
भाग जो नितम्व से मिले रहते हैं) आपस में सटे हाथो के de ऐसे ८। ww 
पोपल के पत्र ऐसो ८ | Ge (भग के ऊपर का भाग) कूम-एष्ठ के ऐसा ऊंचा yo 
भग के As का भाग fast Say! fa (चूतर) फेले, मांस से भरे स्थूल ९२ । 
नाभी TANT और दहिनो ओर घूमो हुई ९३। नाभो के ऊपर का भाग विना रोम का 
और तोन वलि से संयुत ye! स्तन, समान, गोलं, घन We कठोर १५ । पेट, ae विना 
रोम का १६। Gar (Tat) WEF के ऐसो २१७। ओठ जपा ( उडहुल ) फूल के ऐसे लाल 
MT पुष्ट १८। दाँत कुन्द के कलो से. १८ । बोलना, स्पष्ट आर Alar २०। सुन्दर 
नासिका जिस के दोनों पूरे बराबर हो २९ आँख नोले कमल सो ee AIF द्वितोया 
के चन्द्र zat जो आपस में मिलो न Bi eel विना रोम का ललाट, अधचन्द्र के 


ae] हे सुधाकर-चन्त्रिका | 99 


सडुश न नोचा न ऊंचा २४। कान कोमल, पुष्ट और दोनों समान Rul बाल चिकने, 
नोले ओर घुघुराले २६। fat चारो ओर से सुडौल २७" हथेलो, mg, छत्र 
इत्यादि J aa es) कलाई gee और पतलो २८। aE खिले कमल से चमकोले 
३० । मणिवन्धन, जहाँ कझ्कण पहिना जांता है, कुछ नोचे कौ ओर दबा हुआ ३९। 
हाथ कौ अल्जलुलियाँ पतलो जिनके पोर सुडोल Bae ° 


योग के gai में, विशेष कर के गोरखनाथियों के ग्रन्थों में, आर-हो महा-पुरुषों के बत्तोस 
° 
wau लिखे हें, वे wau feat में” भो होने से महा-भाग्यवतों wl कहातो हैं ॥ 


उन बत्तोसाँ के नाम Ty लिखे हैं । » 


निरालम्ब १। निर्भम २। निर्वास ३। निःशब्द ४। ज्ञान-परोच्षा. मे॥ निर्मोह ५। faaare! 
निःशइः ७ । निर्विषय ८। विवेक-परोच्ा में ॥ सर्वाज़्री «८ | सावधान २ ०। सत्य २९ । सार- 
ग्राहो २९। विचार-परौक्षा में ॥ निःप्रप्च ९२३। faces! ee २५। fea .१६ | 
निरालम्ब-परोक्षा में ॥ अयाचक २७। अद्गच्छक YT अमान १८ | स्थिर २०। सन्तोष- 
Gera में ॥ झुचि eq संयमो २२। शान्त २३। ओता २४। शौल-परोचा में ॥ सुछत्‌ 
२५४। शोतल २६ । सुखद २७। VAT २८। सचहज-परोक्षा में ॥ लय २८। लक्ष्य ३० | 
ध्यान ३९ । समाधि ee) Wawa में॥ वनारस सरंस्तत-कालेज के पुस्तकालय में 
गोरक्ष-ःत ग्रन्थ के GUIS A By पत्र में ये वत्तोखो लक्षण लिखे हैं ॥ 


इंति सिंहल-दौप-वर्णनं नाम द्वितौय॑ खण्ड समाप्तम्‌ ॥२॥ 


कैद प्रदुसावति । ३ | जनस-खंड | . [ue 


अथ जनम-खंड ॥ ३ ॥ 


चडपाई | 


चंपावति जो रूप dart) पदुमावति चाहइ avant i 
az ures असि कथा सलेनो। ० मेटि न जाइ लिखो जसि होनी ॥ 
सिंघल-दौप wes तब नाऊं। जोअस दिआ ses afe ठाऊँ॥ 
प्रथम सो जोति गगन निरमई। पुनि सो पिता माँथद मनि भई॥ 
पुनि वह जोति मात घट आई। तेह्दि आदर आदर बहु पाई ॥ 
जस ATTY WT भा ara | दिन fea fears होइ परगारू॥ 
जस अंचल MAT aE दोआ। तस उंजिआर Saaz होआ ॥ 


दोहा | 


सेनइ मंदिर संवारहों अड चंदन सब लौप। 
feat जो afa सिउ-लेक ae उपना सिंघल-दौप ॥ ye ॥ 
सलोनो = may = सुन्दर | दिआ 55 दोप । जोति ८ ज्यो ति:-खरूप +- देवी कला a 
निरमई - निर्माण किया | मात = माता । घट 5 शरोर । ओदर 55 उदर 55 पेट | अछ- 
धानु = saya = गर्भाधान = गर्भ-स्थिति । परगारू -- प्रकाश। झौनइ -झौने T= 
पतले में "5 मंहोन में = gat) उपना 5 उत्पन्न हुआ ॥ . 


५०- ५१ | ै सुधाकर-चन्द्रिका | * Oe. 


जो (जिस) ईश्वर ने चम्पावतो के रूप at बनाया, ast पद्मावती को अवतारने 
(उत्पन्न करने) चाहता Sn Are (जिस पद्मावतो के कारण) TA सलोनो कथा at 
चाहतो हैं, कवि कहता हें कि, कहाँ पद्मावतो का स्थान और कहाँ उस .के कथा का 
प्रचार, यह आश्चर्य है, सो Hat होनो (aa में ) लिखि हे at मिटाई नहों जातो, 
अर्थात्‌ ae अमिट है॥ ईश्वर ने जो तिस स्थान में ऐसा fear (दौपक ) few, तभो 
सिंहल-दोप का नाम wat (हुआ ), अर्थात्‌ पद्मावतो के जन्म से तब वह प्रसिद्ध Sari 
प्रथम ईश्वर जो है, सो आकाश में उस ज्योति (प्रकाश-रूप देवो कला) को निर्माण 
किया (बनाया) | फिर वह ज्योति ( शरौर में वायुद्वारा प्रवेश कर ) पिता ( राजा aa 
सेन) के माथे. में मणि (वोये) हुई । भारतवर्षोय विद्वानाँ के मत से ae का स्थान 
मस्तक है॥ फिर वहीों ज्योति (मैथुन द्वारा) माता (चम्पावतो) के शरौर में आई, 
ओर तिस के (माता के) उदर में (ae ज्योति) बहुत आदर को पाई (अनेक 
सुखोपभोग से ), अर्थात्‌ सुन्दर अन्नपानादि के सेवन से ae ज्योति ye हुई ॥ जैसा 
जेसा faa का (पद्मावती का) गर्भाधान पूरा होने लगा, तेसा तेसा दिन दिन ( चम्पा- 
at के) ea में प्रकाश होने लगा॥ जैसे झौने बस्ताझल में दौये का उंजेला 
झलकता है, तेसे-हो (माता के) हृदय मे वह ज्योति उंजेले को देखातो है ॥ | 

सब (मिंहल के वासखो) (अपने अपने) मन्दिर को सोने से संवारते हैं, ओर 
चन्दन से लोपते हैं । जो शिवलोक (Awa) में मणि-रूपो Aa (aq) था, सो 
. (आकर ) झिंहल-दौप में उत्पन्न हुआ ॥ ५ ० ॥ । 


Sure | 


w za मास uft भइ atti पदुमावति कनिआ अडतरौ॥ . 
जानऊ सुरुज किरिनि हुति काढठो । रूरुज करा. घाटि वह बाढो॥ 
भा fafa we दिन कर परगारू। सब - उंजिआर wy कबिलारू ॥ 
इते रूप मूरति परगटो। पूनि् ससि सो खौन हाइ घटो ॥ 
घटतहि घटत अमावस भई। gx दिन लाज गाडि aE गई ॥ 
पुनि जो उठो gia होइ atl. निहकलंक विधि ससि निरमई ॥ 
पदुम-गंध Fat जग बासा। भवँर पतंग भए चहुं पासा॥ 


= ; परदुमावति | ३ | जनम-खंड | । [ur 


दोहा | 
wa रूप भद कनिआ जेंहि aft पूज न REI 
धनि सो देस रुपवंता जहाँ जनम अस STE ४१॥ 


कनिआ -- कन्या 5" लडकी । किरिनि--किरण। करा--कला। इते ८ इयत्‌ ८ 
इतने । पूनिडं ८ पूर्णिमा। खोन-क्ञषोण । अमावस -अमावस्था। दुइज८द्वितोया। 
नई 5 झुंक गई 55 a8 हो गई -- नय गई। निहकलंक -- निःकलझ्ः =F दाग का॥ 


(जब) em welt हो गये ओर ash (जन्म को ast) पूरो हुई, उस समय 
पद्मावती कन्या ने अवतार लिया (जन्म लिया) ॥ (उस को ऐसी कान्ति थो) जानों 
ea के किरण A काढो गई हे, अर्थात्‌ किरणाँ-हो से बनाई गई 3) उस के 
आगे रूये को कला (तेज) घट गई, ओर वह (कन्या) (उस से ) बढ गई ॥ राति में 
(जिस as} उस ने जन्म लिया) दिन का प्रकाश हो गया, अर्थात्‌ ga कौ कान्ति से 
दिन हो गया। सब जगह कैलास सा उँजिआर हो गया, अर्थात्‌ केलास कौ ज्योति 
जो जग में आई, तो सब जग उज्ज्वेल हो कर कैलास हो गया ॥ इतने रूप को वह 
. मृत्ति प्रगट हुई कि (उसे देख कर ) पूर्णिमा का शर्शि जो है सो sa हो कर घटने 


:. wat यहाँ तक घटा fa घटते घटते अमावस्या तिथि at गई (अमावस्या को 


चन्द्र कौ सब कला नष्ट हो जातो है), फिर दो दिन तक (अमावस्या और प्रतिपदा 
इन दो दिनों में चन्द्रमा नहोँ देख पडता) wor से भूमि में mst गया॥ फिर 
जो (भूमि से) उठा तो दुदइज (द्वितौया को फिर चन्द्रमा देख पडता हैं) हो कर, 
अर्थात्‌ Sea का चाँद कहा कर नय गया (दुइज का चाँद हंस॒ओ के ऐसा झुँका 
रहता हैं), अर्थात्‌ शोच से झुंक गया कमर टेढों हो गई। (ऐसो चन्द्र कौ Sear 
देख कर तब) ब्रह्मा (विधि) ने (उस दुइज के) चन्द्र को नि:कलइः बनाया (निर्माण 
किया) ॥ दुदज के चन्द्रमा में HAG नहों देख पडता, cal से लोग इसे पवित्र समझ 
आदर से दर्शन करते हैँ, आर हाथ sis sts शिर झुकाते हैं Say कारण 
महादेव जो ने भो अपने ललाट पर दुंइज-हो का चन्द्र धारण किया है। ओर 
पूर्णिमा के उन्द्र में उस का सब AME देख पडता हैं, इसो लिये इस का उतना 
आदर नहों है॥ शज्ि शब्द मलिक महस्मद के मत से स्त्रोलिज्ञ' है। इस लिये सर्वत्र 
स्त्रोलिड्र का प्रयोग किया Fu उस पद्मावतो के शरोर में जो पद्म-गन्ध (कमल के TH 


४९-५२] | सुधाकर-चन्द्रिका | bat 


सुगन्धि) है उस ने वेध कर, अर्थात्‌ जग के सब बखओं में प्रवेश कर, जग (सब ) को 
ava fear) उस के (पद्मावती के) चारो ओर (ae पासा) Be ओर waz (Guay 
लेने-वाले कौट मधु-मक्वी इत्यादि ) हो. गये, अर्थात्‌ qua लेने के लिये वे सब चारो 
ओर से पद्मांवती को घेर लिये ॥ 

इतने रूप को (वह) कन्या हुई कि उस को बराबरो में कोई पूरा नहों पडता। 
धन्य वह रूपवान (रूप को खानि) देश हैं, जहाँ कि ऐसा (पद्मावतो सा) जन्म 
होता Suu | 


चडपाई | 


HE afs tifa छठो सुख मानो । रहसि He ae cst बिहानौ॥ - 
भा बिहान पंडित सब आए। काढि yaa जनम अरथाण॥ 
ऊतिम घरो जनम भा तारू। चाँद उआ Be. दिपा अकारू॥ 
कनिआ Ufa उदय जग feat) पदुमावतौ ना भा दिआ॥ 
रूर परस ay wy गुरौरा। किरिनि जामि उपना नग होरा॥ 
तेहि ax अधिक पदारध करा। रतन जोग उपना निरमरा॥ 
सिंघल-दौप wes asa) जंबूदोप जाइ जमुआरा॥ 


दोहा | 


TAT a अजूधिआ लखन बतौस-उ संग | 
Waa रूप सब भूले दोपक TA पतंग ॥ ४२ ॥ 


छठि -- षछो। रदसि 5- क्रोडा -- खेल | रदनि -- राजि -- रजनी । विहानो -- बीती । 
fae aaa) अरथाए "5 अर्थ किये। ऊतिम 5८ उत्तम । दिपा ८ दिप गया 5८ 
. प्रकाशित हो गया | कनिआ 5 कन्या । = Gal परस "5 पारस पाषाण। गुरौराउ्- 
गुरेरा तर देखा देखो 5 संयोग । जामि 55 जम कर । उपना = उत्पन्न SW! जमुआरा = 
यमालय = मरने का स्थान | रामा = राम | अज्ूधिआा = अयोध्या । लखन -- लक्षण । 
हि 


rR प्रदुमावति | ३ | जनसम-खंड | । [ar 


(जन्म के अनन्तर) set al रात = | (लोगों ने) a at सुख मनाया। 
(ज्यौतिषियाँ के मत से ब्रह्मा may ar mama कर्म छट्गों के दिन लिखता हैं, 
इस लिये उस के प्रातःकाल से तब ज्योतिषों लोग बालक के Raa का विचार 
करते हैं | 

ललाटपड़े लिखिता faurat पष्टोदिने या (ज्रमालिका च। 
at जन्मपत्नो प्रकटोकरोति दौपो यथा वस्तु घनान्धकारे ॥ 

यह ata जन्मपत्रों कौ प्रशंसा मे प्रसिद्ध है)। खेल कूद से ae रात sat 
(छट्टी के दिन feat रात भर गाना बजाना करतौ हैं, ओर बच्चे को माँ ast 
सावधानों से रहतो है, जिस में wa प्रेत इत्यादि कौ बाधा बच्चे को न हो। यह 
, कहावत प्रसिद्ध#हैं, कि कृष्ण कौ माता यशोदा ने छछ्गीं के रात कुछ facet रख कर 
कृष्ण को दूध पिलाया, इसो से कृष्ण को एक आँख fatal हो गई)। प्रातःकाल 
हुआ, पण्डित लोग आये, पुरान (फल कहने कौ पुस्तक ) at are at (निकाल ax) 
‘sa का wa faa, अर्थात्‌ केसो ast में जन्म हुआ इस का विचार करने लगे ॥ 
(विचार से जान पडा, कि) faa का (पद्मावतों का) उत्तम घड़ो में जन्म हुआ। 
( पण्डितों ने कहा, कि) कन्या नहों हुई, भूमि मे चन्द्र का उदय हुआ, जिस से 
आकाश ay हो गया (उज्ज्वलित हो गया)। जग में (ब्रह्मा ने) कन्या राशि का 
उदय किया हें, अर्थात्‌ इस के जन्म समय मे चन्द्रमा कन्या राशि में था, इस लिये 
इस का दिया हुआ नाम, अर्थात्‌ meats राशि-नाम “agra” ऐेसा हुआ ॥ ( कन्या 
राशि में उत्तरफाल्गुनो का ata चरण, हस्त आर चित्रा का आधा होता हैं, जिन के 
क्रम से टो, प, पो, पू, ष, ण, ट, पे, पो ये war हैं। पकारादि नाम होने से 
SAAT नक्षत्र के तोसरे चरण में कन्या राशि का तौन अंश बोस कला बौत 
जानें पर पद्मावती का जन्म BAT) | मानों रूय ओर पारस-पाषाण से संयोग हुआ, 
za लिये किरण जम कर (किरण समेत) हौरा नग उत्पन्न हुआ। (ea राजा 
गन्धवे-सेन, पारस चम्पावतों दोनोँ के संयोग से किरण समेत, अर्थात्‌ कान्तियुत हौरा नग 
पद्मावती हुई)। faa से (पद्मावती से) at अधिक (ज्योति में) पदार्थ कौ कला, 
अर्थात्‌ उत्तम पदार्थों का तक्त रूप अंश, योग्य (जोग), और निर्मल रतन उत्पन्न हुआ 
है। ( रतन से ज्यौतिषियाँ ने asa से रत्न सेन को बताया।) पिंहल-दौप में zu का 
अवतार हुआ, भैर जम्बू-दौप में जा कर यमालय में जायगो, भ्र्थात्‌ मरेगो ॥ 


४२-४३] सुधाकर-चन्द्रिका | : ce 


पष्डित लोग कहते हैं कि, यह कन्या सिंहल-दोप में I-A उत्पन्न हुई हे 
जेसे वत्तोसो लक्षण के साथ अयोध्या में राम। जेसे रूप ( राम के रूप) को देख कर 
रावण wT गया sat प्रकार इस पद्मावति के रूप को देख कर सब ww गये, जेसे 
दौपक को देख कर VaR ॥५२॥ १९ सो लचण के लिये ४८ वें दोहे को 
टोका देखो। 


चजपाई | 


Bet जनम-पतरो. से feat: zz gata बहुरे जोतिखो॥ 
पाँच बरिस we भई ara ase पुरान पढइ बइसारो॥ 
uz पदुमावति पंडित गुनौ। we खंड के use aati 
सिंघल-दौप राज घर बारो। महा yea दई ava) 
oa पदुमिनि अड पंडित ual! ze az जोग दई असि गढौ॥ 
जा कह लिखो aie घर होनी। से। असि ure पढों ae Brat ॥ 
सपत दौप के बरइ ओनाहौं। उतर न पावहिं fate फिरि sey 
Stet | 


राजा ACT WI aT est ser सिउ-लेक। 
at aft मो सर्ज पावई का AS ATS बरोक॥ YS | 


अहो = आसोत्‌ 55 थो । ज़्नम-पतरौ = जन्मपत्नो, | AST = fat -- लौटे । जोतिखो 
-> ज्यौतिषो =a) बरिस "5 वर्ष । बारो -- वालिका 5- कन्या । बदूसारों -- वैठाया | 
दहु - क्या जाने -- देखें । लच्छिछ -- लक्ष्मी । लोनो = लावष्यता से HO = Gea | | बरद'-- 
वर लोग = विवाह करने-वाले। उतर 5-छत्तर | बरोक = बरेखो.-- बरच्छा — वरपरौक्षा 
= जिस से विवाह करना होता हैं, उसे कुछ दे कर, ओर विवाह का नियम कर, उसे 
वचन-बन्ध करते हैं; फिर विवाह WS जब हो, परन्तु वह दूसरो जगह विवाह नहीं 
कर सकता | यह रोति विवाह में सब से पहले भारतवर्ष में क्या नोच क्या उच्च कुल 
waa Stat हैं। देश विशेष से इस रोति के बरेखो, वरच्छा, सगाई, छंका इत्यादि ये 
अनेक नाम हैं ॥ 


ty . “प्रदुमावति | | जनमू्खंड । [१३-१७ 


Sat saa यो at ज्यौतिषियाँ ने लिखा, क्र असोस ( आशोर्वाद) दे कर 
( अपने घर) लौट गये॥ जब वह (सो) कन्या पांचर्वे वर्ष में हुई, अर्थात्‌ जब _ 
पंद्मावतों को पाँचवाँ वर्ष लगा, तब पुराण पढने के लिये ( गुरु के यहां) बेठाय दिया 
(उन के पिता ने) । ज्यौतिष-फलित कौ आज्ञा है कि बालक को जब पाँचवाँ वर्ष लगे 
तब अचरारन्भ कराना चाहिए, इसौ लिये कवि ने पाँचवें वर्ष का नाम लिया है ॥ 
(seat %) चारो खण्ड के राजाओं ने सुना कि, पद्मावती (पढ लिख कर) पण्डित 
और गुणो हुई ॥ सिंदहल-दोपं के राजा के घर में देव (ईश्वर) ने महा सुन्दरो कन्या 
(बारौ) का saat दिया॥ एक तो (ख्रयं वह) पद्मिनो, दूसरे पढो uftea, क्या 
लाने tac ने ऐसी BRO को किस के योग्य गढा (रचा) है॥ जिस के घर में 
लक्ष्मों का होना (कर्म में ) लिखा हैं, सो tat पढो Axe ved (लोनो) at 
पता हैं॥ सातो aly के वर लोग (विवाह करने के लिये) झुंकते हैं (ओनाहों ), 
परन्तु उत्तर नहों पाते हैं, (लाचार हो कर घर) फिर फिर जाते हैं ॥ 

राजा (गन्धवे-सेन) गवे से कहता है कि, अरे में शिव-लोक का इन्द्र (शिव) हू, 
मुझ से कौन समता (सरि) को पाता है, श्र्थात्‌ मेरो बराबरो कौन करता हैं; 
किस से में बरेखो wey रोति है कि विवाह, बैर, We प्रोति समान में सोहतो है.। 
सो राजा अपने समान faat को vel पाता है, जिस से कि सम्बन्ध करे; cet लिये 
किसो को कुछ उत्तर नहों देता। अन्त में लाचार हो कर वर-लोग फिर फिर 
जाते हैं ॥ ६३ ॥| : हे 


चडपाईद्‌ | 


बारह बरिस माँह भइ Tat! राजइ सुना संजोग सयानौ॥ 
सात खंड धडराहर aa से पदुमिनि कह ste निवारू ॥ 
az det संग सखो सह्ेलो।. जो संग करहि रहसि रस Fett ॥ 
सबइ asfa fay संग न सेई। कवल पास जनु बिगसौ कोई ॥ . 
सुआ wa पदुमावति ठाऊँ। महा-पंडित हौरामनि नाऊ॥ 
दई ats पंखिह्दि अस जोतोी। aaa रतन मुख मानिक मोतो ॥ 
कंचन ata Gat अति Bat) Alay मिला aerate सेना ॥ 


aad ४४: सुधाकरु-चन्द्रिका | cy 
avert | 


'रहहिं रक संग दुअऊ पदहिं सासतर बेद। 
बरम्हा सौस डोलावई . सुनत ATA तस भेद ॥ ४४ ॥ 


संजोग = संयोग -- पति-संयोग । सयानो -- बडो । सहेलो -- साथ रहने-वालों । 
नउलि -- नवल -- नई । बिगसो 5- विकशित हुई। कोई -- कुमुदिनो | सुआ --श४एक 
=a | ठाऊँ = sa = स्थान । हौरामनि = हो रा-मणि । सासतर = भास्त्र । ATT = 
agit | भेद - अन्तर 5- फर्क । 
बारहवे वर्ष में जब रानो (पद्मावतों) भई, अर्थात्‌ पद्मावतो को जब बारहवाँ ay 

लगा, तब राजा ( गन्धवें-सेन) ने सुना कि पद्मावतो (पति के) संयोग लायक सयानों 
हुई ॥ इस लिये तिस का ( गन्धवे-सेन का) जो सात खण्ड का धरहरा था, सो पद्मिनो 
* (पद्मावती ) को निवास-स्थान दिया, अर्थात्‌ आज्ञा दिया कि, आज से पौद्मिनो धरहरे 
पर रहे (एकान्त समझ कर धरचरे पर रहने के लिये राजा ने आज्ञा दिया, जिस में 
पर-पुरुष को दृष्टि न पडे), ओर an में साथ रहने-वालो सखियोँ को दिया (जिस में 
पद्मावती! का मन बदला रहे उदास न हो), जो कि संग मे आनन्द (रहसि) और 
रस लिये क्रोड़ा (रस-केलि) करतो हैं ॥ ये सह्ेलियाँ aq नई हैं, ओर पति के ay 
सोई नहों हैं, शर्थात्‌ ea पद्मावती के समान अनूढा हैं । उन सहेलियाँ को ऐसो 
शोभा है, wat कमल के संग कोई खिलो हुईं । (कमल पद्मावतो और कोई सहेलो 
सब हैं )॥ पद्मावतो के स्थान (पास) में एक gem हैं, जो कि महा-पण्डित है ओआर 
जिस का नाम होरा-मएणि Fy देव Aug को ta ज्योति दिया है, कि आँख तो 
रत्न, आर मुख माएिक्य ओर मोतो हैं, अर्थात्‌ मुख का aw माणिक्य (लाल मणि), 
और gat के ऐसा Fu वह कज्चन (स॒वएण) aw (बरन) का wa अ्रति सुन्दर 

(लोना) है, मानें aterm में सोना मिला हे (सोहागे के मिलने से सोने का रू 
. और बढ चढ जाता है)॥ 

दोनों (पद्मावतोौ और होरा-मणि ) एक संग रहते हैं, और शास्त्र, वेद को usa Fy 
उन के पढने को सुनते-हो aw भेद (इदय में ) लग जाता है, अर्थात्‌ इदय में 
उन का पढना ऐसा qa जाता है, कि (प्रेम से fase हो कर) ब्रह्मा fat की डुलाने- 
लगता है, अर्थात्‌ धन्य-वाद-मुद्रा WS करता है ॥४४ ॥ : 


cE पदुमावति | ३ | जनम-खंड | ad GS 


FSUTE | 
uz उनंत पदुमावति बारौ। धुज watt सब att संवारौ॥ 
जग aur तेहि अंग सो बासा। «WaT STE लुब॒धे VE पासा॥ 
बेनी. नाग मलय-गिरि पइठौ। ससि arafe होइ दृइज बइठो ॥ 
भजंहई धनुख साधि सर Fai aaa कुरंगि भूलि aq हेरो॥ 
नासिक कोर कल मुख सेहा । पदुमिनि रूप देखि जग मोहा ॥ 
मानिक अधर दसन जनु हौरा। «fea हलसइ कुर्च कनक जभोरा ॥ 
केहरि लंक Waa गज ETT सुर नर देखि area ys धारे॥ 


दोच्चा | 


जग कोइ दिसिटि न आवई अछरौ aaa अकास। 
जोगि sat सनिआसो तप साधहिं तेहि आस ॥५५४॥ 


sia ean -- ऊंची 55 जवान । धुज -- ध्वजा | धवरी = धवल -- उज्ज्वल। T= 
कलो । कुरंगि-८ हरिनो ८कुरज़ो। कौर 5-शझुक | अधर ८ ओटठ | दसन 5८ दशन 
दाँत। हुलसद 55 हुलास करता F—safaa होता SF) केहरि -केहरो — far 
लंक -- लड्ट -- कटि 55 कमर । गवन 55 गमन "5" गति । जोगि "5 योगो । जतोौ 55 यतो । 
सनिआसो 5८ सत्याशो | आस = आशा = उन्मेद ॥ * | 

पद्मावतो कन्या (att) जवान (Baa) हुई, (ईश्वर ने) उज्ज्वल (wach) ध्वजा-रूप 
सब कंलियोाँ को, अर्थात्‌ पद्मावती के सब ay को, संवारा (सुडोल किया )। यहाँ 

बारो, कन्या और बगौचा, दोनों अर्थ बेठने के लिये (करो) कली का प्रयोग किया है ॥ 
: faa के (पद्मावती के) अक्ृका जो वास (guar) है, सो जंग को Bu दिया, अर्थात्‌ 
ay को सुगन्धि सारे जगत्‌ में फैल गई । दसो कारण चारो ओर (चहुं पास) से 
Rit at कर लुभाय गये॥ नाग-रूप बेनो ( शिर का Ta हुआ सर्पाकार केश ) 
मलयगिरि में Gs गई (मलयगिरि से पद्मावती का सुगन्धित fac समझो)। 
चन्द्रमा TTA का हो कर माथे पर बैठा, अर्थात्‌ माया ऐसा चमकने लगा जैसे द्वितौया का 
चन्द्र RTS धनुष .साध कर शर (वाण) फेरने लगों, अर्थात्‌ HTS धनुष सदृश और 
कटाक्ष शर से हो गये | नयनाँ को शोभा Tet हो गई जानोँ भूल कर, अर्थात्‌ अपने 


१५- ५६ ] सुधाकर-चन्द्रिका | cake ' Go 


साथियों से fags कर, हरिनो ने छेरो है, साथियों" को ढूँढ रहो है॥ हरिनो जब 
साथियों से विक्ुड जाती है, तब चारो ओर आँखें फेर फेर कर देखतो है, उस समय ' 
उस कौ खाभाविक्र vee ओर बडो wie आर भो चञ्चल Ae ash हो जाती हैं, इस 
faa कवि कौ उक्ति है, कि पद्मावती को आँखें अत्यन्त बडो और sae हो गई ॥ कौर 
tal नासिका ओर HAG सा मुख सोहने लगा। पद्मिनों का रूप देख कर a मोह 
गया ॥ WAT ओठ माणिक्य ओआर दाँत होरे हैं “za (arm) में कुच (wa) 
कनक (सुवण) के जम्बोर नौबू से हुलसते हैं, अर्थात्‌ ated हैं ॥ कटि (ae) से 
Beal (सिंह) और गमन ( गति) से गज (हाथो) हार गये, ( ऐसे रूप को देख aT)! 
देवता (सुर) ओर मनुव्य (नर) भूमि में माया धरते F, अर्थात्‌ माया टेकते हैं ॥ 
अर्थात्‌ पद्मावती को. देवी कला समझ आदर से शिर को भ्रमि में टेक कर प्रणाम 
करते हैं ॥ 
(पद्मावतों के रूप के आगे) जग मे कोई दृष्टि नहों आता है, faa पद्मावती की 
: आशा से अप्यराओँ के नयन आकाश में हैं, अर्थात्‌ सदा उन को BiG खुलो रहतो हैं । 
और योगी, यतो, ओर aaa} तप साधते हैं ॥ अप्मराओँ को पलक नहीं भंजतो । 
आँखें सदा खुलो रहतो हैं ae उन को खाभाविक बनावट हैं। तहाँ कवि कौ 
Saar है, कि पद्मावती के रूप-दर्शन से हप्नि नहों etal, इसो लिये werd अपनो 
आँख को आकाश में लगाये रहती हैं, अर्थात्‌ सदा खोले रहतो हें ॥ और योगो 
यतो इत्यादि जो ईश्वर-दशन के लिये तप साधते हैं, तहाँ भो कवि को saer है, 
कि तिस पद्मावतो के दर्शन को आशा से वे लोग तप. साधते हैं Hyun 
चजपाई | 
wa दिवस पदुमावति रानौं। हौरामनि az कहा wart i 
aq हौरामनि कदहदड बुझाई। दिन दिन मदन सतावइ आईं ॥ 
पिता हमार न चालइ Tat! चासहि बोलि सकइ नहिं माता ॥ 
देस देस के बर मोहि आवहिं। पिता हमार न आँखि लगावहिं ॥ 
जोबन मोर Ws जस गंगा। देह देह हम. लागु अनंगा॥ 
' हौरामनि तब कहा बुकाई। बिधि कर लिखा मेटि नहिं जाई ॥ 
अगिआ देड देख फिरि देसा। तोहि लायक ac मिलइ नरेसा॥ 


eS oe पदुमावति | ३ | TAGS | [४६ 
ater | 


av लगि ag फिरि आऊ मन चित धरहु निबारि ॥ 
सुनत रहा काइ दुरजन राजहि कहा विचारि ॥४६॥ 


मदन = काम | सतावद — संन्ताप देता हे। a= चलाता है। मोहि 5 मोह कर। 
way = काम | अगिआ = आज्ञा। निवारि = निवाय = निवारण कर के। दुरजन --दुजन। 

एक दिन चतुर (सयानो) पद्मावती Tat ने होरा-मणि से कहा कि, में बुझा कर - 
(समझा कर ) कहती हूँ, हे होरामणि, तुम सुनो, (मुझे) मदन (काम-देव) आ कर 
fea दिन सताता हैं॥ हमारे पिता (विवाह के विषय में कुछ) बात हो नहों चलाते 
हैं, ara (डर) से मेरो माता (पिता से) कुछ ae नहो Brat (मेरो सुन्दरता 
पर) मोह कर देश देश. के वर आते हैँ, परन्तु हमारे पिता (उन को) आँख नहीं 
ज्गाते, अर्थात्‌ उन्हें तुच्छ, समझ आँख उठा कर देखते नहों विवाह को क्या चर्चा हे ॥ 
मेरा योवन ऐसा हुआ हैं, जेसे aR, अर्थात्‌ ऐसा बढ रहा है जेसे ag, Br हमारे - 
mp ap (दें देह) में काम (sa) लग गया हे ॥ इस पर तब समझा कर 
छरा-मणि ने कहा, कि ब्रह्मा का लिखा मिटाया wey जाता वा मिट नहीों जाता ॥ 
तुम आज्ञा दो तो में देश देश फिर कर देख कि, तेरे लायक नरेश (राजा) वर 
( कहाँ ) मिलता Fi 

जब तक मे फिर कर आता हूँ, तब तक मन ओर चित्त को निवारण कर के WU, 
अर्थात्‌ मन और चित्त को रोक Tae | पद्मावती आर होरा-मणि का यह संवाद कोई 
{AA सुनता रहा, सो उस ने विचार कर (wa उत्तान्त ) राजा से ( गन्धवे-सेन से) HET ॥ 

मन, ग्यारह्वों <fxa है जो कि उभयात्मक है, अर्थात्‌ ज्ञान, कर्म, दोनों में है । 
wen विकल्‍प करना इस का धर्म है। चित्त, आत्मा को चेतन शक्ति में साहाय्य करता 
है। आत्मा के सहायक मन, बुद्धि, चित्त ओर अहक्वार हैं । बहुत से इन में से अहझ्वार 
को छोड देते हैं | कितने लोग मन-हो को. प्रधान मानते = tl 

इस चौपाई में मदन, सतावई, हमार, Bifa लगावहिं, लायक यह ऐसे पद पडे हैं, 
जिन का प्रयोग waa प्रायः कवि ने vel किया है। ओर यहाँ सातवों चौपाई में 
पद्मावती से आज्ञा माँगना लिखा है, Me १९८० वें दोहे में पद्मावतो का aa से 
पूछना यह सब प्राय: असज्ूति खा जान पड़ता है। और जहां होरा-मणि wt नर को छोड 


४६-५७ | सुधाकर-च़न्द्रिका | | ce 
amt दूसरा wae रहता हो न था तहाँ दुजेन का पहुंचना आर इन के बात चौत 
का सुनना ag भो असम्भव प्राय है, इन सब बातोँ से जान पड़ता हैं कि यह चौपाई | 
क्षपक Si बहुत पुस्तकाँ में यह पाई at नहीों जातो ॥४ ६॥ 


चडपाई | 


राजइसुना दिसिटि भइ आना | बुधि जो देइ संग सुआ सयाना॥ 
WI THY ATE SIT! SC Ay चाँद we ऊआ.॥ 
सतुर सुआ के नाऊ बारो। सुनि धार जस WE मंजारो॥ 
तब लगि रानो Fal छपावा। जब लगि sis मजारि न पावा॥ 
पिता कि avg Alas मोरे। कददहु जाइ विनवइ कर जोरे॥ 
पंखि न कोई होइ सुजानू। जानइ भ्रुगुति कि जानु उडानू॥ 
at जो पढइ use बयना। तेहि कित बुधि safe हिआइ न नयना ॥ 


दोहा | 


मानिक मोतो देखि वह feo a गिआन ate | 
ais ewe जानि कइ aa-fe ठोर भरि लेइ ॥ ४५७ ॥ 


आना = अन्य | बुधि - बुद्धि । TIE -- राजाज्ञा | रूर --रूये । सुनाउ = सुनावता 
हैं। ऊआ - उदय BM) सतुर 5 शत्रु | नाऊ-- नापित -- नाई। TT "जो vias 
पत्तल उठाता है। AMG ले कर उंजेला करने-वाला। धाए 5-८ दोडे। ATH = मार्जारौ 
5 बिलेया। आएसु -- आज्ञा | बिनवंइत८८ विनतो करतो हैं। कर ”८"हाथ। जोरेफज- 
मिलाये । पंखो 5 पच्चो । सुजान = सुज्ञ = जान-कार | gia = भुक्ति = भोजन | डडानू 
= जडुयन 55 उडना | बयन 55 वचन । गिआन 5"ज्ञान afw=afsa= अनार | 
दाख RIT = AFT वा मुनक्का | SIT चाँच ॥ 

राजा ( गन्धवे-सेन ) ने सुना कि (पद्मावतों के) ay में जो चतुर atar (gar) हे, 
वह (पद्मावतों at) बुद्धि देता है, अर्थात्‌ सिखाता हैं, इस लिये (पद्मावती कौ) दृष्टि 
दूसरों हो गई, अर्थात्‌ अब उसे पुरुष को इच्छा हुई हे॥ (दस लिये) राजाज्ञा हुई 


(भई) कि ata को मारो, (sath) जहाँ चन्द्र का उदय हुआ है, वहाँ wa at 
2 


cS परदुमावति | ३ ।.जनम-खंड |. [४७ - ५७८ 


खुनाता है, अर्थात्‌ wey set पद्मावतों हे वहाँ (aa) पुरुष को कथा कहता है॥ 
care और बारी AS} तोते के शचु हुए। (राजाज्ञा को) सुन कर (मारने के लिये) 
ऐसे AT (wa) जैसे बिलेया दोडतो Fu जब तक fader आने नहीं पाई, अर्थात्‌ 
जब तक aH बारो al पहुंचे, तब तक wat (पद्मावती) ने ata को छिपा 
लिया ॥ ( नाऊ TT के पहुंचने पर उन से wa हाल सुन कर पद्मावतो ने कहा, कि) 
पिता को अाज्ञा मेरे ara पर है, अर्थात्‌ उन को आज्ञा शिरोधाये हें, (परन्तु aa 
' ज्ञोग) जा कर कहो, कि (पद्मावती) हाथ ois कर बिनतो किया हे, fa पक्तो 
कोई an (जान-कार) नहीं होता, वह भोजन (afm) जानता है, अथवा (कि) 
उडना जानता है॥ तोता जो वचन पढता हैं, at पढाने से (अर्थात्‌ उसे ea पढने 
वा कुछ कहने को शक्ति नहों )। जिस के हृदय में आँख नहों हे, अर्थात्‌ ware 
नहों हे, उसे कहाँ बुद्धि (जो दूसरे को सिखावे)॥ ः 

qe माणिक्य Be मोतों को देख कर हृदय में ज्ञान नहों करता, अर्थात्‌ डसे 
यह ज्ञान नहों होता, कि यह माणिक्य मुक्ता हैं, किन्तु वह (उन माणिक्य मुक्ताओँ 
at) दाडिम Be grat (BET वा मुनक्का) जान कर, उसो समय (तब-हिं) ठोर 
भर लेता हैं, अर्थात्‌ खाने के लिये A में भर लेता है ॥४७॥ 


चडपाई | 


az तो fat उतर अस पावा। बिनवाँ सुअइ् हिआइ डरु खावा॥ 
Tat GE जुग जुग सुख आऊ। ST अब बनोबास कह जाऊ॥ 
मोतिह्ठि जो मलोन Be करा। पुनि से पानि कहाँ निरमरा ॥ 
ठाकुर अंत wee Sife मारा। तेहि सेवक कहँ कहाँ जबारा॥ 
जेहि घर काल मंजारो नाँचा। पंखो are site नहिं बाँचा॥ 
ad तुम्ह राज बहुत सुख देखा। AT Yay दंइ जाइन लेखा॥ 
जो हौछा मन ate सो जेंवा। यह पछिताड way faq सेवा ॥ 


etet | 


मारइ साई निसेगा, डरइ न अपने दोस | 
केला केलि करइ का जो भा aft परोस ॥ ४८ ॥ 





$ 
ys— ye ] “ सुधाकर-चन्द्रिका | gd 


आऊ 55 आयु । बनोबास 55 वनवास | करा 55 कला 55 कान्ति । निरमरा = निर्मल 
ठाकुर = माज्षिक | उबार = उद्धार 55 रक्षा । लेखा -- हिसाब । होंछा 5 दच्छा। Far= 
भोजन किया । निसोगा = निशोक = निश्चय कर के जिसे शोक हो (अभागा ).॥ 
वे (नाऊ बारो) तो ऐसा उत्तर पाये आर फिर गये, (इस के gaa) aa ने 
हृदय में डर खा कर, अर्थात्‌ डर कर (पद्मावतों से) विनय किया ॥ कि हे ua 
: तुन्हारो युगानुयुग सुख से आयु हो, अर्थात्‌ तुम युग युग सुख से जोवो, (४३२५०००० 
इतने वर्ष का एक युग होता है, इसे एक चौकडो भो कहते हैं )। (परन्तु) अब 
(आप कौ आज्ञा हो, तो) में (ea) वनवास के लिये जाऊं ॥ (क्याँकि) मोतो ait 
alfa (कला), अर्थात्‌ आब, जब मलिन हो गई तब वह निर्मल पानो (आब) फिर 
कहाँ, अर्थात्‌ पहले में निःशइः था अब शक्लित होने से, मोतो के आब ऐसा, जो सुख 
निकल गया, ae फिर कहाँ ॥ वनवास में fac Sq देंता हैं, कि मालिक अन्त में, 
अर्थात्‌ अन्तःकरण में (हृदय में), जिस at मारने चाहता है, अर्थात्‌ मारने को इच्छा 
करता हैं, faa San का (फिर ) कहाँ उबार श्र्यात्‌ रक्षा हो। aay fa वह सेवक 
फिर नहों बच सकता॥ फिर वनवास में दूसरा Bq कहता हैं, कि जिस घर में काल के 
रूप बिलेया नाँचतो है, उस घर में पक्षी नाम मात्र प्राण्याँ का जोव नहीं बचता ॥ 
तुन्हारे राज्य में मेंने बहुत सुख देखा। जो पूछो तो (मुझ से) हिसाब (लेखा) 
न दिया जाय ॥ जो मन में इच्छा किया सो भोजन किया, (अन्त में) gel पछतावा 
हैं, कि विना (तुन्हारो) सेवा (खिदमत ) किये चलता हूँ, अर्थात्‌ जाता हूँ ॥ 
जो अपने दोष से, अर्थात्‌ पाप से, नहों डरता, वच्दी अभागा ( दूसरा at) मारंता 
है॥ सो जो बेर asta में हुई, तो केला क्या केलि (क्रौडा) at अर्थात्‌ केलि करने 
से शरोर के नाश होने को सम्भावना है, क्याँकि जहाँ केले ने क्रौड़ा करने के लिये 
अपने पत्ते को इधर उधर फैलाया, तहाँ झट बैर के काँटों में de कर नष्ट हुआ | - 
इसो प्रकार जहाँ में केला-रूप क्रोडा से तुम से ओर कुछ विशेष बात Aa किया, 
कि लुन्हारे पिता बेर द्वारा प्राण को गंवाया ॥ ५६८॥ 


चजपाई | 


रानो उतर se कइ मया। wy fas srg tes fafa कया ॥ 
हौरामनि तुँ परान परेवा। we न wy करत तोहि सेवा ॥ 


<र्‌ पदुमावति | ३ | जनम-खंड | [ ve 


ताहि सेवा बिछरन नहिं es) पौंजर हिआइ घालि कइ राखड ॥ 
SU मानुस तूँ fe fas) धरम पिरौति तहाँ at मारा॥ 
का पिरोति तन aie बिलाईं। से पिरौति fas साथ जो जाई ॥ 
पिरिति भार लेइ हिआइ न सेचू । ओआहि पंथ we ee कि पोचू॥ 
पिरिति पहार भार जो काँधा। तेहि कित छूट are जिड बाँधा ॥ 


दोच्ा | 


' सुआ न रहइ खुरुकि जिउइ॒ अब-हिं काल से IT 
सतुर HET जो AIT कब-हुँ सो बोरइ ATT ॥ ४५८ ॥ 


इति जनम खंड ॥ ३ ॥ 


उतर 5- उत्तर । मया 55 माया "- करुणा । किमि - कैसे । कया 55 काय 5 शरोर । 
परान = प्राण | परेवा 5 पारावत, यहाँ साधारण val) बिक्रन — विक्षुरए 5 विच्छेद — 
जुदाई | आखउ -- आखा करतो B= Veal हूं, आखा एक जालोदार महोन वस्त्र 
वा aq से लगा हुआ एक मेडरे-दार पात्र होता हे, जिस में His aig को रख कर 
चालने से भेदा निकलता है। यह एक प्रकार को चलनो है। पोंजर = ast = पिंजडा | 
घालि 55 डाल कर | मानुस 5 मनुय्य । पंखो पत्ती । पिआरा 5 प्रिय । धरम ८ धर्म । 
पिरौतिज"-प्रोति। तन-”"तनु "८ शरोर | बिलाई”८ विलय होय-नाश हो जाय। 
सोचू -- शोच । पोचू -- पोच - नोच STS, बुरा WETS प्रहार -- पहाड़ । कित 
ga: — ari) खुरुकि — खोटका = खटका = संशय 55 डर।- जिडद् = जोव में। करिया 5८ 
| कर्णो HUTT = पतवार पकडने-वाला HME | बोरइ-बोरता है-डुबा देता है। 
ag नाव ॥ 


(ate के कहने पर) wat ने करुणा कर के उत्तर दिया, कि (हे हौरा-मणि ) 
यदि ata चला जाय तो (fax) शरौर केसे रहे, अर्थात्‌ कं मेरें जोव के समान है, 
तेरे चले जाने से मेरी शरोर नहों रह सकतो।॥ इस बात को अगलो चोपाई से स्पष्ट 
करती है, कि, हे होरा-मणि, ढूं ( मेरा ) प्राण-पक्षो है, तेरो सेवा में धोखा नहों लगा, 
अर्थात्‌ में ने A सेवा में धोखा नहों wary (at) AD सेवा में विकछुडने को | 


re ६७! “ सुधाकर-चन्द्रिका | | te 


नहों चालतो हुँ, अर्थात्‌ तेरो सेवा-रूपो शद्ध vas में विकुडन-रूपो दुष्ट पदाथे ar 
कण चाल कर नहों मिलाया चाहतो हूँ, किन्तु ecaed पिजडे में (तुझे) डाल कर 
रखना चाइतो Fi में मनुय्य हूं, a मेरा प्रिय ah है, ओर (तेरे मेरे में) धर्म कौ 
प्रीति है, तहाँ कौन (तुझे) मार सकता है, अर्थात्‌ पाप aa करने के लिये, यदि 
किसो से दुष्ट प्रोति हो, तो वह अवश्य ईश्वर को अछपा से मारा जाता है, और 
ua प्रोति में तो- यदि कोई मारने के लिये दुष्टता भो करे, तो ईश्वर आप सहायक 
हो बचा लेता हैं ॥ वह प्रोति-हो क्या, जो (WAT से उठो ओर फिर) war में लय 
हो गई। प्रोति वहो है जो जोव के साथ जाय, gala जोवन पर्यन्त कभों न टटे, 
दिन दिन बढतो At ge होतो जाय ॥ Wha का भार ले कर (उठा कर ), Faq 
उठाने पर ऋइृदय में सोच नहों रहता, (चाहे) उसे (प्रौति) पथ में भला हो वा बुरा ॥ 
प्रौति-रूपो vers का भार जो AA पर है, ae कहाँ se) (क्याँकि वह at) Tas 
लगा कर बाँधा हैं, अर्थात्‌ जब sla शरौर से कट कर अलग हो जाय, तब प्रोति 
भो छट सकतो है, क्याँकि दोनाँ साथ aa हें ॥ 

कवि कहता हैं, कि यद्यपि पद्मावतों ने बहुत कुछ Hel परन्तु वह WH नक्ों रहता, 
अर्थात्‌ नहों रहने चाहता, ifs वह (नाऊ-बारोौ-रूप) काल wat आता है, यह 
खटका उस के जो में समाय गया। (और मन में वह शुक सोचता है, कि) जो कर्णंधार 
शत्रु है, वह कभों (अवश्य) नाव को डुबा देता है॥ (यहाँ कर्णधार राजा गन्धवे-सेन, 
और शक MT पद्मावतो प्राणो हैँ जो प्रोति-रूपो नाव पर चढे ST) yc 

कोई संस्छकत-आख्यान-पद से आखा को बना मानते हैँ, तब “आखड” का अअर्य 
“aya =” ऐसा कहते हैं । तुझे सेवा (इस लिये) विकुडने को नहों कहतो हूं। 
अर्थात्‌ जो @ वनवास के faa कहता हैं, उस को में नहों कहतों, ऐसा तोसरो 
चौपाई का अर्थ करतें हैं ॥ 


इति जन्म-खण्ड नाम द्ृतोय-खण्डं समाप्तम्‌ ॥ ३ ॥ 


<8 परदुमावति | 8 | मानसशेदक-खंड | ; [६० 


अथ मानसरोदक-खंड | 8 | 
SS tS 


azuTs | 


za दिवस पूनि fafa आई। मानसरोदक चलो अन्हाई॥ 
पदुमावरति सब सखो बालाई। जनु फुलवारि सबइ aie ars 

कोइ चंपा कोइ FF सहेलो। कोइ सो Aa करना रस-बेलो ॥ 
' कोइ सो गुलाल सुद्रसन राते। कोइ बकडरि बकुचन बिहँसाते ॥ 
काइ सा मउलसिरि पुहुपावती । कोइ जाहो जूहो Baath 
कोई सेनिजरद काइ केसर। कोइ सिंगार-हार नागेसर i 
कोइ Hat सतिबरग चंबेइलो। कोई कदम सुरस रस-बेइलो ॥ 

| दोहा | 


चलौ सबइ मालति संग फूलो कवल कुमोद | 
बेधि रहे गन गंधरब बास परिमलामोद ॥ ६० ॥ 


पूनिउं 55 पूर्णिमा ।। मानसरोदक = मानसर-उदक, उदक -ः पानो। जिस का « पानों 
मानसरोवर, जो कि मेरू पर हैं, उस के ऐसा हो । चंपा | Bz) a= केतकौ। करना 
-- एक प्रकार के नोवू का पुष्प। रस-बेलो 55 रस को लता, गरुलाल -- गुलालो रंग का 
ग़लाब | खुदरसन -- सुदर्शन। राते "लाल । बकउरि --बकावलो। बकुचन ढेर ८ 


teu] : सधाकर-चन्द्रिका | ४ cy 


बहुत | मउलसिरि — मोलसिरो। पुहुपावतो = gaat = फूल से भरो। जाहो। get 
सेवतो | सोनिजरद 5 खोनजदं, जिस का सोने-सा पोला फूल हो। केसर, सिंगार-हार 
= WHIT = पारिजात | नागेसर = नागेश्वर | HHT = एक प्रकार का Jaa | सतिबरग 
=azai—at पत्तियाँ जिस के फूल में हो अर्थात्‌ इजारा। चंबेदलो — saat | 
कदम 5 कदम्ब | सुरस 5 जिस में सुन्दर रस Bi, रखबेइलो -- घनंबेलो | (३५ वेँ 
ate at टोका देखो)॥ 

एक दिन पूर्णिमा तिथि आई, (पूर्णिमा wa समझ कर ) ( पद्मावती ), जिस मानस- 
रोदक को प्रशंसा ३९ वे दोहे में कर आये .हैं, उस में ara करने को wat ॥ 
(ara करने के fea) पद्मावती ने सब सखियाँ को बुलाया। ( सुनते-हो) सब को सब 
चलो आई | (उस समय ऐसो शोभा हुई ), जानो (पद्मावती के निकट) फुलवारो चलो 
आई । (यहाँ सखियाँ का que फुलवारो हैं, उस में wy UF के वस्त्र आभूषण से 
सुशोभित सखियाँ फूल-सो जान पडतो हैं )॥ उस झुण्ड-रूपो फुलवारों में कोई wat 
चंपा, कोई सखो (सहेलो) कुन्द, कोई जो केतकौ है सो, कोई करना, कोई रस कौ 
लता (रस Fat), कोई जो Yara हे सो, कोई लाल (UF) aera, कोई faa 
हुए (faced) बकावलो के ढेर (बकुचन ), कोई फूल से लदो ( पुहुपावतो) ate ह 
fad, कोई net, कोई get, कोई सेवतो, कोई sane, कोई केसर, कोई इरसिंगार, 
कोई नागेश्वर, कोई कूजा, कोई aca, कोई Gaal, कोई axe ace, और कोई 
रस-बेलो (घन-बेदलो = सुंगरा बेला) हैं ॥ 

सब सखो मालतो के संग wel, अर्थात्‌ मालती-रूप पद्मावती के संग way | सब 
सखो tat फूलो हुई हैं, अर्थात्‌ प्रसन्न हैं ॥ जेसे कमल ओर कुमुद (कोई) उन 
फूल-रूपो सखियें.के आमोद परिमल (आनन्द देने-वाला पुण्य-रस, अर्थात्‌ सुगन्ध-द्र॒व्य ) 
के बास (gua) राजा गन्धवे-सेन के गए (नोकर चाकर जो कि रहा के लिये दूर 
दूर हैं) को बेध रहे हैं, भर्थात्‌ उन के अन्तःकरण में प्रविष्ट हो रहे हैं ॥६०॥ 


चऊपाई | 
awa . मानसरोदक गईं। जाइ पालि पर टठाढी भई॥ 


देख सरोवर ceafe aati पदुमावति av aefe सहेलो॥ 
अइ रानो मनु देखु बिचारौ। ofe नइच्दर रहना दिन चारौ॥ 


dé परदुमावति । ४ | सानसरोदक-खंड | [६१ 


जउ afe sife पिता कर राजू । खेंलि लेह जो खेलहु ATI 
पुनि सासुर हम गर्व॑ंनब Hel! कित हम कित यह सरवर पालौ ॥ 
faa आउन पुनि अपने हाथा। faa मिलि कइ खेलब प्रक-साथा ॥ 
सासु ननद बोलिन जिउ लोहो। दारुन ससुर न निसरइ ater 


दोहा | 


fos पिआर सब ऊपर पुनि सो ATE दहु ATE 
दहुँ सुख राखइ कौ दुख दहुँ कस जनम निबाह ॥ ६१॥ 


पालि - प्रान्त- तट । रहसहिं--क्रोडती हैं --खेलतो हैं । नदृहर -- माह्ग्टह | 
gifs =F | सासुर = ANUS | गर्वंनब = जायंगो | ATS = कल। सरवर = सरोवर | 
RSA = आवना | WE=— Bl ननद 5 ननन्‍्दा 55 पति को बह्िन। लोक्ों ८ लंगो। 
दारुन = दारुण = कठिन | ससुर” ant! निसरइ = निकलने 5 निसरने । Fey = 
देगा। faare निर्वाह ॥ 


सब सखियाँ खेलतो हुई मानसरोदक गई, और जा कर at पर ( किनारे पर ) 
खडो हुई ॥ सरोवर को देंख कर केलि (क्रोडा) से रहसतो हैं (खेल कूद करतो 
हैं), आर सब सहेलियाँ पद्मावती से कहतो Fon कि wa (az) Tat, विचार कर 
मन में देख। इस नेहर (बाप के घर) में चार दिन का रहना Fu (इस लिये) जब 
तक पिता का राज्य है, श्र्थात्‌ जब तक हम लोग पिता के अधिकार में हैं, तब तक 
जो आज खेलना हो खेल लो॥ फिर (जब) हम कल सासुर (गश्वएरग्टह, अर्थात्‌ 
पति के घर) Maat, तब कहाँ हम, कहाँ यह सरोवर-तट ॥ कहाँ फिर अपने हाथ 
(यहाँ का) आना, और कहाँ मिल कर एक साथ खेलना है॥ (जब हम सासर जाय॑ंगो, | 
वहाँ) wig MT ननद बोलियोँ से, अर्थात्‌ ap वचनोँ से, जोव लेगो, ओर दारुण 
mame (घर से) निकलने नहों देगा ॥ 


सब से ऊपर प्रिय पति है, सो क्या जानें, वह क्या करे। क्या जानें सुख से aw 
अथवा दुःख से, देखें (क्या जानें) केसे जन्म (UT) निर्वाह होता Su er 


दर सुधाकर-चन्द्रिका | ८9 


चडपाई | 
मिलहि रहसि सब चदहि feria | झुूलि लेहिं सुख at wai 
झूलि लेहु नइहर जब ताई। फिरि afe झूलन दौहो साई ॥ 
पुनि सासुर wz राखिह्ठटि तहाँ। नइहर चाह न पाउबि जहाँ ॥ 
कित यह धूप कहाँ यह छाँहा। रहवि सखी fg मंदिर माँहा ॥ 
गुनि ufafe az लाइहि दोखू। seq उतर पाडबि faa aig | 
सासु ननद fan aye सकोरे। रहबि संकोचि दुअड कर जोरे ॥ 
fad यह रहसि जो आउबि करना। ससुरइ अंत जनम दुख भरना | 
ater | 
faa azet fa आउबि faa सासुर यह खेलि। 
आपु आपु कह होइहो परबि पंखि जस डेलि ॥ ६२ ॥ 


बारो = बालिका = थोडो उमरवालो | भोरो = भुलनो | नद॒हर 55 माह-ग्टह । Ste 
=a) पाउबि -पावंगो। साई -खामो। चाह रद इच्छा। गुंनि -- गुनना कर F= 
समझ विचार के। पूँछिहि -- पूँछेगा। wefe— लगावेगा । दोख "5 दोष। कउनु "- कौन 
-- क्व नु । कित 55 कुतः 55 कस्मात्‌ 5 केसे । मोख 5 मोच्च | कित 55 कियत्‌ । भजहं >भ्र | 
सकोरे = सिकोर्डंगो 55 seam) रहबि 55 रहेंगी । सकोचि "-सद्लोच कर केच-दब 
ata | दुअउ 5 दोनाँ। आउबि -आवेंगो | ससुरइ-सासुर A= ANT के ग्टह में । 
आउबि 55 आवेंगो । wha wit) डेलि -डेलो "बाँख वा wee को झाँपो 
जिस में बच्ठेलिये val at फंसा कर रखते हैं ॥ 

खेल कूद से (रहसि) सब (सखियाँ आपस में ) मिलतो हैं चर festa पर ; 
चढतो हैं, और सब बारो भोरो (ate उमर at भुलनों) ga झूल कर सुख लेतो 
हैं ॥ (ओर आपस में कहतो हैं कि) जब तक aver मे हो, तब तक झूल लो। 
fac erat पति (ससुरे में ) नहों awa देगा॥ फिर (खामो) ले कर wat मे 
तहाँ पर रकक्‍्खेगा, जहाँ पर हम लोग नदहर (जाने) को इच्छा (तक) न करने 
पावेंगो ॥ फिर कहाँ यह (सरोवर के तट कौ ) धूप, कहाँ are) सखो के विना, अर्थात्‌ 


अकेलो, मन्दिर में रहेंगो॥ (कभों कभों) कुछ रूमझ बूझ कर (GAT कुछ हम 
3 


ea Ugatata | 8 | मानसरोदक-खंड | [६२-६ह्‌ 


लोगों से) gear, आर (ay) दोष लगावेगा (कि तुमने यह अनुचित कर्म किया)। 
(उस ast) कौन उत्तर से केसे मोक्ष TAM, अर्थात्‌ उस दोष से निमुक्त हाँगो ॥ 
कितनी वार arg आर ननद (ननन्‍्दा -- पति कौ बहिन) (क्रोध से) भाँह 
सिकोडेंगो, (उस समय asta से (दब at) (उन के आगे ) दोनों हाथ जोडे रहेंगो ॥ 
(fat) कहाँ यह खेल कूद करने WAN, ससुरे में जन्म से अन्त तक, अर्थात्‌ मरण 
gaat दुःख भरना पडेगा ॥ 

. फिर कहाँ नेहर में aa, ओर ससुरे में फिर कहाँ यह खेल (सब किसो at) 
आप आप को होगो, अर्थात्‌ आप आप को पडेगो, हम लोग (मन्दिर के भोतर 
ऐसो ) पडेंगो, जेसे डेलो से wat (जहाँ से निकलना कठिन होगा) ॥ ६२॥ 

SUE | 

सरवर तौर पदुसमिनौ आई। wm छोरि केस मुख लाई॥ 

ससि मुख अंग मलय-गिरि रानौ। नागिनि झाँपि ate अरघानों ॥ 

ओनर Fy wl जग set ससि az ata Vs जनु राँहा ॥ 

छपि गइ दिन-हिं भानु कइ दसा । लेइ fafa aaa चाँद परगसा ॥ 

afa wat दिसिटि ae लावा। मेघ घटा Ae चंद देखावा॥ 

दसन दारविनों कोकिल भाखों। भऊंहई धनुख गगन लेइ राखो॥ 

नयन gaa दुइ केलि करेह्दों। कुच नारंग मधुकर रस Be 
दोच्चा | 


सरवर रूप बिमोह्ा हिआइ हिलेर करेइ। 
Us Fas मकु पावऊ vie मिस wets देइ ॥ ६३॥ 


सरबर - सरोवर |) खोपा = UT | केस केश | अरघानो = AAU = सुगन्ध | 
ओनए = aa | राँहा ८ राहु । ZH दशा — तेज। नखत ८ नक्षत्र । परगसा 5८ प्रकाश 
‘gear, दसन --दशन--दाँत। दाविनो -८दामिनो-- बिजलो। भाखो भाषा । 
weet -- भू - भौरें। खंजन-- eee) नारंग -नारज़ोौ। मधुकर -- भ्रमर | हिलोर — 
इहत्तोरा- तरड्ड । पाउं--पेर | मकु--में ने कहा में कहता हू" जानोँ। faw— 
fay = व्याज = बहाना ti 


¢a—ee | सुधाकर-चन्द्रिका | ge 


पद्मिनो सरोवर के तौर पर आई, जूरे को छोड कर (मलने के लिये), बालाँ को 
qe में लगाया, अर्थात्‌ मुंह at ओर किया। (यह रौति हैं कि जुडे को छोड कर 
wl Sta मलने के लिये केशों को मुँह कौ ओर लटका देतौ हैं )॥ केशों से ढपे मुख 
at शोभा केखो है जानाँ मलयगिरि-रूपो पद्मावतो रानो के शशि-रूप मुख ag को 
नागिनियाँ (सर्पिणोगण ) ने cig ax (तोप कर) (उस का) अआप्राण (सुगन्ध) लिया 
है॥ (वा केश नहीं हैँ ) मेघ झंक ws हैं, जिन से जग (संसार ) में छाया ( अन्धकार ) 
पड गई है, वा जानों राह ने चन्द्र (शशि) का शरण लिया हैं (Us काले केश, 
और मुख चन्द्र हें)। (उन केशों को अंधियारों से) दिन-हो में wa A दशा 
(तेज ) छिप गई, (जानो) चन्द्रमा ast को ले कर रात्रि में प्रकाश किया (काले 
केश fafa, पद्मावतो का मुख चन्द्र आर सच्ेलियाँ के मुख नक्षत्र हें)॥ चकोर ने 
समझा, कि मेघ को घटा में we देख पडता हें, इस लिये we कर fas स्थान में 
अपनो दृष्टि को लगाया (काले केश Fa ओर पद्मावती का मुख चन्द्र हें )॥ उस 
काले केश-रूपो मेघ-घटा में (पद्मावती के) दाँत बिजलो, ओर भाषा (बोलो) 
कोकिल हैँ, ओर भोह-रूपो धनुष ( इन्द्र-धनुष) को ले कर गगन (आकाश ) में रक्बा 
Su नयन-रूपो दो awa क्रोडा करते हैं, ओर कुच-रूपो UTE का रस मधकर 
(भ्रमर ) लेते हें ॥ 

( पद्मावतौ के ) रूप से सरोवर विमोहि (athe) गया। इस लिये cca मे हिलोरा 
करता हैं, श्रर्यात्‌ चञ्चल हो कर इधर उधर दौडता है। तहाँ कवि कौ उप्रेत्षा है, 
कि में कहता हूं, कि सरोवर को ऐसो इच्छा है, कि में (पद्मावतों के) पाँव को करने 
TH | इसो. मिस (व्याज) से लहर को देता हैं, श्रर्यात्‌ wea मारता है ॥ ६४ ॥ । 


चजपाई | 


धरोँ at सब कंचुकि सारो। सरवर ae ul सब बारौ॥ 
पाइ नौर जानऊँ सब बेलो। हुलसहिं करहिं काम कइ केलो॥ 
करिल केस बिसहर बिस भरे। लहरइ लेहिं age मुख धरे॥ 
उठौ Fifa जस ahs दाखा। भई vin Br ax aren: 
नवल बसंत सवारइ करौ।- होइ परगट way रस भरो॥ 


qe ugarafa | 8 | मानसशोदक-खड | [६8 


सरवर नहिं समाइ संसारा। चाँद नहाइ पंदठि लेइ तारा॥ 
धनि सो att ससि तरई ऊई । अब कित दिसिटि aaa अड कूई ॥ 
ater | ह 
चकई बिछरि पुकारई कहा fray हो ate 
wa चाँद fafa सरग पर दिन दोसर जल माँह | ६४ ॥ 


कंचुकि = कझ्मुकी = चोलिया। सारो 5 साडो। बाॉरो बालिका 5 थोड़ो उमर कौ। 
बेलो 5 वज्ञों > लता । करिल "5 करइत 55 काले । कोई कुटिल पाठ we कहते हे, 
avi कुटिल 5- टेढे । बिसहर 55 विषधर 5 सपे। बिस -- विष । कॉँपि "5 नवेन owas) 
zig =alfea | दाखानद्राच्ा। उनंत "उन्नत GN | पेमर- प्रेम ।. are 
. शाखा । नवल्- नूतन -- नया। बसंत -- वसन्त ऋलु। A= कलो। समाइ = sara 
है। ऊई -- उदय हुई । कूई "कोई । चकई- चक्रवाक को स्त्रो। ate—ara) 
सरग = सगे Il 

aq थोडो उमर को (बारो) सखियाँ कच्चुकौ ओर ard को. तोर पर धरों, 
और सरोवर में (ata करने के लिये) Gn (उस as} ऐसो शोभा है) जानें वे. 
सब बेलो-( लता )-रूप AT (जल) को पा कर हुलास करतो हैं (उल्लासित होतौ हैं ), 
और काम At क्रोडा करतो हैं | अर्थात्‌ जिन क्रोडाओँ से काम-देव जगत्‌ को मोह 
लेता है, sat ASST को सखियाँ करतो, हैं ॥ सखियाँ के केश काले, वा कुटिल, 
विष से भरे विषधर (सर्प) हैं । वे मुख में कमल. को vas (धरे) लहर लेते हैं । 
यहाँ कवि का ऐसा भाव है, कि शिर में जो लगे केश हैं, वे जानोँ काले ay हैं, 
जो कि, अपने मुख में सखियाँ के मुख कमल को पकडे हुए हैं ॥ ate के अछुर को 
करिला कहते हैँ । इस लिये यहाँ बहुत लोग ऐसा wa करते हैं, कि केश का जो 
करिला. है, श्र्यात्‌ लट, सो विष से भरे विषधर हैं ॥ विष से भरे के कहने का यह 
aaa है, कि साधारण ay जब काटता है, तब mel को विष चढता हैं। ये ऐसे 
विष से भरे विषधर (aa) हैं, कि जो Ge देखता है, उस के ऊपर देखने-हो से 
विष चढ बेठता है॥ फिर कवि कौ.उत्पेचा है कि सखियाँ कौ शोभा ऐसी है, जेसे 
: दाडिम ओर aa में Fig sat हों, श्रर्थात्‌ नव wea निकल आये होँ, (सखियाँ 
दाडिम, दाख- उन के भाषण नव Ue हैं )। अथवा सखियाँ नहों है, जानो प्रेम को 


€४.- ६५ ] सखुधाकर-चन्द्रिका । VU 


शाखायें उन्नत (Sat) हुई हें ॥ अथवा सखियाँ नहीं हैं, जानो वसन्त ऋलु नई नई 
कलियों at aa है (लगाया हैं), और रस से ad वे कलियाँ प्रगट VT हैं 
अर्थात्‌ प्रगट हुई हैं ॥ सरोवर (आज आनन्द से भरा) संसार में नहों समाता है, 
(क्यॉकि wa वह सरोवर है जहाँ) we mat को ले कर पेठ कर नहाता = | 
पद्मावती चन्द्रमा सखियाँ तारा के समान है ॥ wa वह (सो) नोर (पानो) है, जहाँ 
चन्द्र आर तरेयाँ उदय हुई हैं.। (भला जहाँ चन्द्र आर तारे उदित हैं, तहाँ) अब 
कमल ओर कोई पर कहाँ दृष्टि पडे॥ 

चन्द्रमा आर तारे रात को .उदित होते हैँ, इस लिये रात समझ कर चकई और 
waa fags गये। तब विक्कुड कर चकई पुकारतो हैं, कि हे नाथ (ate) अब केसे 
faa, क्योंकि एक चन्द्र तो रात्रि (निशि) में ख़र्ग पर रहता हैं, और दूसरा (अब) 
दिन को जल के बोच उदय हुआ ॥ ६४॥ VAT चकवे के विषय में ३३ वें दोहे 
'. को .टोका देखो ॥ 


चडपाई | 
लागो केलि करइ ay नोरा। ea लजाइ axe तेहि atc 
पदुमावति कउतुक कह Tet तुम्ह ससि ee तरायन साखो ॥. 
बाद मेलि az खेलि पसारा। हार देइ He खेलत .हारा॥ 
सवरिहि arate गोरिंहि TA) आपनिआपनि लोन्ठ सो जोरो ॥ . 
बचि खेलि खेलहु प्रक साथा। हार न होइ पराए हाथा॥ 
आजु-हि खेलि बहुरि कित होई। खेलि गए कित खेलइ कोई॥ 
ufa सो खेलि @ufe रस पेमा। Teak AT FRAT Bary 
ao ater | 
मुहमद aft परेस ae TE भावईइ AT खेल । 
तेलहि फूलहि संग जड STZ AIS तेल ॥ ६५॥ 
मंझ 5 माँझ 55 मध्य ।/ कउलुक--कौलुक | तरायन -तारा-गण वा डूबने-वालो। 
साखो 5- साचो | बाद 55 झगडा 55 बाजी । मेलि "- लगा कर । पसारा ८ प्रसरण किया 
“फैलाया। हार --मुक्ताहार ”- गले का UT) खावंरि -श्याम वर्ण को --शामलो। 


WR पदुमावति | 8 | मानसरोदक-खंड | [en 


गोरो - गौरो -- गौर वर्ण A) जोरी -- जोडो । बहूरि = फिर । .धनि - धन्य। रडताई 
-- ठकुरई -- मलिकई | - कूसर 5- कुशल । खेम "-"चेम। बारि "जल | परेम- प्रेम । 
a= जो | तउ "तो । फुलाएल 55 फुलेल ॥ 

(सब सखियाँ) नौर के Ae मेँ केलि (Pet) करने SY (उन के AT को 
देख कर ) हंस लजा कर तिस सरोवर के तौर पर (आ कर ) बेठा ॥ (सब सखियाँ ने ) 
पद्मावती को कौतुक के लिये (खेल के लिये) रख छोडों, अर्थात्‌ पद्मावती को अपने 
साथ से अलग रख छोडों। (और पद्मावतों से wen aay) कि हे शशि ( शशि- 
पद्मावती ), लुम्ह तारा-गणोँ कौ वा ड्बने-वालों को, अर्थात्‌ हम लोगों कौ erat 

' हो, अर्थात्‌ गवाह रहो ॥ सखियाँ ने बाजो (बाद) लगा कर खेल को फैलाया, कि 
जो खेलने में हार जाय, वह अपना हार ( मुक्ताहार) दे। (जल 'में खेलने को अब 
तक यह रौति है, कि tah tA बाजो लगा कर खेलते हैँ, कि एक कोई 
अपनो aa wat में फेंकता हैं, उस को लेने के लिये दोनोँ vad है । वह Aa | 

at at, vet यदि उस को पा गया, at किसो कौ हार जोत नहों हुई, 
gaat वार अब दूसरा अपनो gay ia वा वेसो-हो दूसरो चोज़ पानो में फेकेगा, 
और फिर उस के लेने के लिये दोनों .डूबेंगे। जब एक कौ चोज़ दूसरा पावेगा, 
तब दूसरे at ata होगो। aay at तौसरा कोई चौज़ aaa है। उस को 
ढूंढने के लिये दो व्यक्ति आपस में कुछ बाजो लगा कर gad हैं । जो पा गया 
gat at जोत होतो हैं। यदि देवात्‌ दोनों म॑ से किसो के हाथ वह Tia न लगो, 
तो set पानो में नष्ट हो जातो हैं)॥ aad wad से, आर MA MAF से, 
अपनो अपनो जोडो जो है, at ले लिया, अर्थात्‌ अपनो अपनो जोडो मिला लिया ॥ 
(और आपस में कहने लगों कि) एक साथ में बूझ कर, श्रर्थात्‌ समंझ बूझ कर, 
(aq कोई) खेलो (जिस में अपना) हार पराये (दूसरे) के हाथ में न हो॥ 
(और भो aa आपस में कहतो हैं, कि बस) आज-हो तक यह खेल हे, फिर 
कहाँ यह Gal (क्योंकि) खेल के Ma जाने से (गये से), श्र्थात्‌ खेलने कौ 
अवस्था ata जाने से, फिर कहाँ कोई खेलता Fu कवि कहता हैं कि wa 
वह खेल हे जिसे लोग रस ओर प्रेम से खेलते हैं, (क्योंकि खेल में प्रायः दुःख 
उठाना पडता है, इस पर कहावत है, कि) रउताई ओर कुशल क्षेम, अर्थात्‌ मालिक 
बन कर चाहे, कि कुशल ओर Ga रहे, तो असम्भव हें, क्योंकि fae का भला करेगा, 


६५-६६ ] सुधाकर-चन्द्रिका | ९०३ 


ae तो खुश, ओर दूसरा अप्रसन्न रहेगा, जिस के कारण मालिक के कुशल चेम में 
बाधा पडेगा ॥ 
मुहम्मद कवि कहते हें, कि प्रेम के जल में यदि wa (अच्छा मालूम हो) तो 
खेलो (ऐसा Gat, कि) जैसे तेल आर फूल के रूुंग से फुलेल तेल होता है, अर्थात्‌ 
ae तेल आर फूल मिल कर एक और सुगन्धित हो जाते हैं, उसौ प्रकार प्रेम के 
जल में उसो के खेलने को प्रशंसा है, जो सुगन्ध-रूप हो कर ऐसा मिल जाय कि 
फिर पता न लगे, केवल प्रेम-मय हो जाय ॥ ६५॥ । 
चडपाई | 
सखौो wa तेइ खेलि न जाना। wz अचेत मनि-हार गवाँना॥ 
कवल st गहि भइ बिकरारा । का सुँ पुकारड आपन हारा ॥ 
कित खेलइ आइड oie साथा। ह.र गवाँइ wet सइ हाथा॥ 
घर used yaa vie हारू। ATA उतर पाउबि पइसारू॥ 
नयन ay age तस भरे। जानउ मोति गिरहिं. सब ढरे॥ 
afes कहा भोरोी कोकिला। avg पानि जेहि पवन न मिला ॥ 
हार WAT सा अइसइ रोआ। «Vo FUME BE as खोआ॥ 
दोहा | े2 
wit सब fafa Std बूडि बूडि प्रक साथ । 
कोइ Vt मोतों लइ aR घाँघो हाथ ॥ ६६॥ 
तंइ "5 सो "वह । अचेत 5 मूकित 55 अचित्त | मनि-हार = मणि-हार = मुक्तामणि- 
हार। गवाँना "5" गमन किया = चला गया = खो गया। बिकरारा = विकराल = वेकरार 
-- मर्यादा से वाहर "- विकल। का सु --का सरऊँ -- किस से । a हाथा 5८ हाथ a= 
खालो हाथ से । asa—ata—a aq) पाउबि - पार्वेगो। पइ्सारू --पेठ "-घर के 
भौतर प्रवेश करना | भोरो -- भुलनो -- बौ रहो । कोकिला -- को किला के Ta बोलने- 
वालो | पानि--पानोय | हेरि 5८ ढूँढ -- खोज | हेराइ — aa — खोजाय ॥ 
(उन में ) एक wat जो थो, सो खेल को ael जानतो थौ (गलतो से विना 
अपनो जोडो को Sara अपने हार को Ga दिया, जो कि उस के ढूंढने से न faa) 


YB पदुमावति | 8 | मानसरोदक-खंड | [६६-६७ 


ae अचेत हो गई कि मेरा (अब) मणि-हार गया॥ कमल के डार को पकड़ कर 
(afe) विकल हो गई, (ओर अपने मन में कहने लगो, कि) अपने हार के लिये 
किस से पुकार करूँ॥ (अपने मन में पछाताने लगो, कि हा) क्याँ इस साथ में खेलने 
आई, (कि) हार गवाँ कर (खालो) हाथ से (अब) चलो ॥ घर पेठते-हो (गृुरु-जन ) 
इस हार को पूछेंगे, (कि हार क्या हुआ उस घडो) कौन उत्तर से (घर के भोतर ) 
पैठने पाऊंगो (<a दुःख से उस के) सौप-रूपी नयन में aig faa तरह से भर 
गये (भरे), जानेोँ उस सोप में Fiat भर गई Bir (फिर वे माँतो से sia) ax 
ax कर गिरतो हैं, अर्थात्‌ गिरने aay ॥ सखियाँ ने कहा कि हे बौर-हो कोकिला 
( कोकिला-सौ बोलने-वालो ), कौन ऐसा पानो है, जिस में पवन ( हवा) न मिला हो, 
अर्थात्‌ पानो में भो अवश्य पवन मिला रहता है, at डूबने पर भो पवन के आधार से 
बहुत देर तक प्राण रहता हें। सो हार गवाँ कर प्राणे ऐसा-हो रोता हे? अर्थात्‌ 
नहो रोता हैं। यदि (हार) खो गया हो, तो (रोने से क्या फल) | हेरि हेराय लो 
ड्बेने से हम लोग न aca) | 

(इतना AE कर) एक-हो साथ ea ea कर सब मिल कर हेरने लगों । कोई 
हाथ में माँतो ले कर sal (sack ), ओर कोई घाँघो ee ॥ 


चडपादू | 


कहा मानसर चहा सो पाई। पारस-रूप इहाँ लगि आई॥ 
भा निरमर favs WIE परसे। पावा रूप रूप के दरसे ॥ 
मलय-समौर WA तन आई। भा सौतल गइ. तपनि बुझाई ॥ 
न FAT AVA पवन लेइ AAT | पून दसा भइ पाप गवाँवा॥ 
ततखन हार aft .उतराना। पावा afes चंद बिहंसाना॥ 
बिगसौ कुमुद देखि ससि-रेखा। we ae आप जहाँ जो देखा ॥ 
पावा रूप रूप जस चहा। ससि-मुख, सब दरपन हाइ रहा ॥ 
tet | 
नयन जो देखो wae भइ निरमर att सरोर। 
हँसति जो देखो dau  दसन जोति नग हौर ॥ ६७॥ 
इति मानसरोदक-खंड ॥ ४॥ . 


€o] सुघाकर-चन्द्रिका । Qk 


चह्ा 55 चाहा 5- इच्छा feat) पारख 55 पारसपाधाण | निरमर = निर्मल । परसे = 
ai करने से। aaa करने से। समोर -- वायु। सखोतल 55 शोतल 55 ठण्णा | 
तपनि = तपन = ताप = दाइ । बुझाई — बुझ गई । पून 55 GU! दखा 55 दशा 55 समय | 
ततखन ara) कुमुद 5 कोई | ससि-रेखा "5 शशि-रेखा 55 चन्द्रकिरण । ओप 5८ 
कान्ति | दरपन = दर्पण 55 ऐना । दखन = दशन 55 दाँत। जोति - ज्योति 55 कान्ति ॥ 


मानसर (सरोवर ) ने कहा, कि जो इच्छा किया था (चाहा) सो पाया, पारस- 
पाषाण-रूपो ( सखियाँ ) यहाँ तक (इदहाँ लगि ), श्रर्थात्‌ पानो के नोचे तक, (WER ) 
आई । (सच्चे पारस का धर्म है, कि जिसे gt Ga अपना a कर दें, तेसे-हो 
सखियाँ जिसे aa वहों मनोहर सुन्दर हो जाय)॥ (वह सरोवर ) faa सखियाँ के 
पैरों को स्पर्श करने से निर्मल हो गया, ओर उन के रूप का दशेन करने से रूप को 
( भो ) पाया, श्रर्थात्‌ खय आप भो मनोहर रूपवान्‌ हो गया ॥ मलय-चन्दन से मिश्रित 
वायु कौ बास (सुगन्धि) जो (सखियाँ के) तन (तनु -- शरोर ) से आई, (za से ) 
(ae सरोवर ) ठण्णा हो गया, और तपन बुझ गई, त्र्थात्‌ awa feat से पद्मावतो 
और सखियाँ के मिलने को चिन्ता से जो सरोवर के इदय मे ava थो सो qa गई॥ 
( सरोवरः aeat है, कि) नहीों जानता (ars) कि (आज) कौन वायु (पवन) (इस 
सुगन्धि at) ले कर आया, (जिस से a) e-em (पुष्य का काल) प्राप्त हुई, 
और (में ने) पाप को (गवाँबा) नष्ट किया feet au में (सरोवर को प्रेरणा से ) 
हार उतराय (ऊपर उठ) आया, और afeat ने (sa) पाया, (जिस पाने को देख 
at) चाँद (पद्मावतौ, Wifes पहले सखियाँ ने कहा हें कि ‘qu शशि होहु awa 
aay) ने हंस दिया॥ vaa से जो शशि-रेखा, अर्थात्‌ मुख-चन्द्र से fara get, 
उन से कोई wa खिल val (विगसो), और उस शशि-रेखा को जहाँ जहाँ जिस ने 
देखा, तहाँ तहाँ तिस को कान्ति (उत्पन्न) हो गई fae को जिस प्रकार के रूप को 
इच्छा थो, उस ने उस शशि-रेखा से वेसा-हो रूप को पाया, अर्थात्‌ ga को वैसा-हो 
रूप मिल गया। (उस समय) सब कोई उस शशि-मुख (पद्मावतों के मुख-चन्द्र) का 
दर्पण हो रहा है, अर्थात्‌ जेसे दपण में प्रतिबिम्ब पडता हैं, set प्रकार पद्मावतौ के 
मुख-चन्द्र का ea के ay में प्रतिबिम्म पड गया। इस कारण सब कोई va शशि का 
दर्पण हो गया ॥ 

4 


YE पदुमावति | 8 | मानसरोदक-खंड | [es 


कमल ने पद्मावती के आँख को जो देखा, at उस at (कमल को) WaT निर्मल 
हो गई. अर्थात्‌ उज्ज्वल-नेत्र-दशन से वह भो उज्ज्वल हो गया। हंस ने जो पद्मावतो को 
हँसते देखा तो उस कौ शरोर निर्मल हो गई, अर्थात्‌ उज्ज्वल-सुधा-रूप पद्मावतों के 
हाँसो के दर्शन से हंस को शरौर उज्ज्वल हो गई। पद्मावतो के दाँत को ज्योति से 
हौरे नग में ज्योति आ गई हे, अर्थात्‌ पद्मावतोौ के दनन्‍्त-ज्योति का प्रतिबिम्ब पडने से 
OU नग चमकता हैं ॥ ६७॥ 


इति मानसरोदक-खण्डं नाम चतुर्थ-खण्ड समाप्तम्‌ ॥ 8 ॥ 


és] सुधाकर-चन्द्रिका | २०७ 


WT सुआ-खंड ॥ ५ ॥ 





asus | 


यदुमावति ae खेल दुलारी। सुआ afer ae देख मंजारो॥ 
eta चलउ जउ लहि तन पाँखा। fas लेइ vet ताकि बन-ढाँखा ॥ 
जाइ परा बन-खड fas wie) मिले पंखि बहु आदर wey 
आनि धरे ame सब साखा। भुगुति न मेटइ ay afe war 
पाई भ्रुगुति सुक्व मन WH Bel जो दुक्‍्ख बिसरि सब aE ॥ 
अइ गोसाई तूँ अइस विधाता। जावंत जिड सब कर भख-दाता ॥ 
wea ae न पतंग बिसारा। swe तोहि स्वर देहि तूँ चारा ॥ 


दोहा | 


ay लहि सेग बिछोह कर भोजन परा न पेट । 
पुनि बिसरा भा सर्वरना जनु सपने भइ भेंट ॥ ई८॥ 


दुलारों = दुलरुई = अपने माँ बाप को ast MT | पाँखा-- पक्ष । ताकि देख 
कर | बन-ढाँखा 55 बन के ढॉकने-वाले — वन-दक्ष । बन-खंड = वन-खण्ड = वन-विभाग | 
gM - सुख | दुक्‍्ख -- दुःख । विसरि = विस्मृति 55 भ्रूल ATs = गोसाई = गोखामो 
+ देशर । अदृस "5 ऐसा | बिधाता 5 विधान करने-वाला पोषण करने-वाला = पालन 


श्ण्८ पदुमावति | ५ | सुआ-खंड | [és 


करने-वाला । AA = यावन्तः = जितने ) भख = भच्छ । दाता 5 देने-वाला। पाहन — 
पत्थल | VAT = स्मरण HC) चारा = way -- भोजन | सोग 55 ma faate = वियोग॥ 


तिस सरोवर में (तहाँ) दुलारो पद्मावती (तो) Saat है, ओर (यहाँ) मन्दिर मेँ 
wa ने बिलेया को देखा॥ (जो में ) कहने लगा, कि जब तक शरोर (तन तनु) में 
ag (डेने) हैं, तब तक (यहाँ से) va (चल दूँ, तो अच्छा )। (ऐसा शोच aT) वन- 
adit at देख कर, अर्थात्‌ वन-ट्ताँ को ओर दृष्टि कर, जोव ले कर उडा॥ जौव को 
लिये वन-विभाग में जा कर पडा। ( वहाँ पर ) vat सब (उस से ) मिले, और (उस at) 
बहुत आदर किये॥ (पलुआ पक्षो को बनेले पक्षो देख कर मारने लगते हैं, परन्तु 
यहाँ ufaat ar मिलना, MT आदर करना, यह होरा-मणि के गुण का प्रभाव है, 
इस लिये दस वाक्य से कवि ने होरा-मणि कौ आन्तरिक प्रशंसा किया है)॥ aa 
पक्ियाँ ने (जिस शाखा पर होरा-मणि बेठा था, sa) शाखा के आगे (अग्र-भाग सें ) 
( भोजन at) आन कर धरे, कवि कहता हैं, कि (ईश्वर को ओर से ) जब तक ( भोजन ) 
wal है, तब तक भुक्ति (भोजन) नहों मिटतो, अर्थात्‌ प्राणो चाहे जहाँ जाय, परन्तु 
ईश्वर को ओर से उस के लिये जो पहले-हो से भोजन caer हें, वह अवश्य उसे 
मिलता हें, ऐसा नहों कि वह wet मरे ॥ (एएक ने) भोजन को पाया, और उस के 
मन में सुख हुआ। जो कुछ (मार्ग का) दुःख था, सो सब भूल (बिसरि) गया ॥ 
कवि कहता हैं कि, है (az—afa) गोसाई, a ऐसा विधाता (पोषण करने-वाला ) 
है। जितने जोव हें सब को (a) भच्च (sau) देने-वाला है॥ पत्थल में भो ते ने 
कोट (aay) at नहों भुलाया है, aula west में पत्थल के नोचे जो पडे हुये 
ale =, उन को at खबर a लेता है, ऐसा नहों कि wa जा। जहाँ तुझे स्मरण 
करे, तहाँ-हो A चारा (भोजन) देता है ॥ 


वियोग (विकछुडने) का तब तक शोक रहता हैं, जब तक कि पेट में भोजन 
नहों पडा। ( भोजन asa पर ) फिर वह वियोग भूल जाता है, स्मरण-मात्र हो जाता है, 
ओर (ae जो दिन रात कौ Hz) सो ऐसो जान पडतो है, sat सपने में मेंट हुई 
atu कवि का तात्पर्य है, कि पद्मावतो से विकुडने का जो शोक, उसे भोजन करने 
पर होरा-मणि ने भुला दिया, और जो दिन रात कौ Fz, सो सपने को भेंट सो 
हो गई॥ €८॥ 


Zé | सुधाकर-चन्त्रिका | ee 


चडलपाई | 


पदुमावति ae आइ HET) कहेसि मंदिर AE परो मँजारो॥ 
Gal जो उतर देत (हा पूँछा। vis गा पिजर न बोलइ sar 
रानों सुना afe जिड aa sq निसि परो असत दिन we ॥ 
गहनहि गहो चाँद HZ करा। आँसु गगन जनु AeA भरा ॥ 
टूट wife सरवर afe लागे। कवल ge मधुकर sis भागे॥ 
फ्रहि बिधि आँसु नखत होइ चुए। गगन छाँडि सरवर भरि yon 
छिहुरि चुई मोतिन्ह az माला। अब संकेत बाँधा चहुँ पाला ॥, 
दोहा | 


vig यह सुअटा कह बसा खोजहु सखि at बासु । 
SE EL धरतों कौ सरग पवन न पावइ तासु ॥ ६८॥ 


भंडारो = aed = भण्डार में रहने-वालो। मंदिर 55 मन्दिर। अहा चच्था। Sal 
>-खालो | स्तेखि -- रूख --श॒प्क । असत 5- अस्त । गरनहिं ८ ग्रहण में । गहो 5-5 पकड 
गई | करा = कला = तेज । आऑँसु - अश्रु aha ८ प्रान्त — ae = किनारा । छिह्रि — 
HSH छटक कर ”८छतहर BEC कर। सरूकेत 55 सक्केत 5 सक्लकोच। w= Ut 
पाला = किनारा | खुअटा = खुअना = सुगना = Waal = नर एक न Bul । बासु ८८ 
वास = बसने का स्थान। दहु८ क्या जानें। धरतो -- धरिचो -- भूमि। को 5 वा, अथवा। 
सरग = Gi Il 

पद्मावती के यहाँ भण्डारो ने आ कर ae, कि (आप के) मन्दिर a बिलेया 
( मार्जारोी ) (at) पडो ॥ (इस लिये) पूछने से जो mH उत्तर (जवाब) देता था, 
सो उड गया खालो (gar) पिंजडा (पिंजर -- cst) नहों' बोलता, अर्थात्‌ पिंजडा 
खालो हैं, उस में से आवाज ae sat Fu wat ने (इस बात को) सुना 
( सुनते-हो ) ta रूख गया, (ऐसो कान्ति मलिन हो ad), wat दिन अस्त हो 
गया, ओर रात्रि (निशि) Car) पडो ॥ ( रानो का मुख-चन्द्र ऐसा मलिन हो गया, 
जाना) ग्रहण में चन्द्रमा कौ कला (राहु से) पकड गई हो, (Fa हो जाने से 
रात्रि में नक्षत्रों की चमक ओर der बढ जातो है, इस लिये) अन्तरिक्ष में 


ph परदुमावति । ५ । स॒ुआ-खंड | [ ६६ - ७० 


आँसुओं को ऐसो शोभा हैं, wat नक्षत्रों से भरा आकाश (गगन) हैं॥ (आँसओँ को 
धारा से) किनारा (पालि) टूट गया, ओर सरोवर (जल के बढने से) बहने लगा। 
( अश्रु-जल के बाढ से ) (सरोवर के) कमल बूड गये, WAT ( मधुकर ) उड कर भाग 
गये ॥ इस प्रकार से Rie नचत्र हो कर (सरोवर में ) चू पडे, (जानाँ) आकाश को 
छोड कर (सब नचत्र) सरोवर भर में उदय हुए हैं ॥ (पहले कह आये हैं कि 
अश्रु-जल के बाढ़ से सरोवर बच चला, तो सरोवर के बाढ से शहर क्यों नहों बच गया। 
इस पर समाधान करते हैं, कि (पद्मावती के) मोतियाँ को माला छटक छटक कर 
गिरो. (चुई)। इस से अब सक्लेत (WETS) हो गया, और (मोतियाँ ने सरोवर के) 
»चारो किनारोँ को (बाँध दिया)। इस से पानो Set गया, शहर बूडने से बंच गया ॥ 
(सखियाँ से पद्मावती weal है, कि) हे सखि, यह ma उड कर कहाँ बस गया। 
aa लोग उस वास को खोजो। क्या जानें (ae wa) al में है, वा aa में । 
( क्या) तिस (qa) को पवन (हवा) at नहो पाता हैं? अर्थात्‌ बडा उडने-वाला है? 
पवन से at उस को गति अधिक Feu ६८ ॥ 
चडपाई | 
We पास समुझावह्दिं सखो। कहाँ सा अब पाइअ गा पंखो ॥ 
az लहौि पिंजर अहा परेवा। रहा aie कौन्हेसि fafa सेवा ॥ 
ag बंद हुति छूटइ पावा। पुनि फिरि बंद होइ कित आवा ॥ 
वह उडान-फर तहिआइ खाए। जब भा पंखि ure तन पाण॥ 
fiat जेहि a asia तेहि WH) जो जा कर से ता कर AIS | 
दस बाटई जेहि पिंजर माँहा। कइसइ बाँच मजारी पाँहा॥ 
फ्रहि धरती अस aaa लौले। तस uz गाढ बहुरि afe ढौले ॥ 
eter | 
जहाँ न tifa न दिवस ex जहाँ न पवन न पानि। 
तेहि बन होइ सुअटा बसा को रे मिलावइ आनि ॥ ७० ॥ 
पाइअ ८ पारवेंगी । गए -- अगात्‌ 5- चला गया। बाँद बन्द -- केद | सँपि 55 समप्य 
-- समर्पण. कर के। बाटइईँ --बाट -- राह | केतन"- कितने ati लौलेच-खा गई। 
me = कठिन वा गडहा। Sta -- बाहर निकासो ॥ 


७०-७१ | सुधाकर-चन्द्रिका | WW 


(पद्मावती at) चारो ओर (we ora) से सखो (सब) समुझावतो हैं, कि वह 
(at) vat चला गया (गा), अब (हम लोग) कहाँ WaT ॥ जब तक (ae) Tat 
( परेवा 5 पारावत ) पिंजडे में था, तब तक az था, (इसौ लिये) नित्य (fafa) सेवा 
किया ॥ तिस केद से (जो) छूटने पाया, (तो) फिर (gf) लौट कर (फिरि) क्यों 
(faa) az होने आवे॥ उस ने fad दिन (acefa—afeas) उडान-फर को 
खाया (जिस फर के खाने से उडने को शक्ति हो, उसे उडान-फर (— फल्त ) कहते हैं )। 
जिस दिन (जब) val हुआ, ओर तन मे (तन तनु) पक्ताँ (पाँख) को पाया ॥ 
(at) जिस का faster था faa (उस पिंजडे at) साँप कर (ae) चला गया (aT), 
( इस लिये) जो जिस का था, सो fae का हुआ | (सखियाँ को निश्चय हो गया, कि 
उसे बिलेया ने ats खाई, इस लिये aeat हैं, कि जो जिस का था, सो faa का 
हुआ, अर्थात्‌ तेरा पिंजडा तेरे पास रह गया, और ay WH जहाँ से (वन वा GTB) 
आया था, वहाँ चला गया)॥ (सखियाँ wa के मरने का चार पक्का अनुमान करतो 
हैं, कि) जिस पिंजडे (nO) में दश राह हैं (दो कान, दो नाक के पूरे, दो 
आँख, एक गुदा, एक मूत्रेन्रिय, आर गल-नाल के आगे घण्टो के कारण से दो faz, 
इस प्रकार से au fax दश राह हुये), उस में मार्जारो (काल) से (gat प्राण) 
कैसे Fa मरने के अनन्तर फिर वह प्राणो मिल सकता है कि नहीों, इस पर सखियाँ 
कचतो हैं, कि यह vat ऐसे (शुक ऐसे) कितने at लोल गई है (खा गई है), 
और इस का तेसा कठिन पेट है वा पेट-रूपी asa हैं, कि sa में से फिर 
( बहुरि ) नहों (उस प्राणो at) deat, अर्थात्‌ निकाल देतों ॥ 

सखियाँ आर भो मरने को पक्का करतो हैं, कि जिस स्थान में न रात न दिन 
है, अर्थात्‌ जहाँ रात दिन नहों होते, ओर जहाँ न पवन न पानो हैं, तिस (घोर) 
वन मे (यम-पुरो में ) जा कर (होड़), वह सुगना बसा, सो रे पद्मावति उस को 
आन कर (अब) ata मिलावे, अयात्‌ किसो को सामथ्ये नहों कि अब उस को आन 


कर मिलावे ॥ ७० ॥ 
चडपाई | 


सुआइ तहाँ दिन दस कलि काठो । आइ बिआध cat az टाटो ॥ 
UST UT शुई चाँपत आवा। पंखिन्ह देखि हिआइ डर खावा ॥ 


RR ugarafa | ४ | TARE | [ ७१ 


zee faa अचरज अनभला। तरिवर va आवत Es चला॥ 
ofe aq Tea गई हम आऊ। तरिवर waa न देखा काऊ॥ 
ay जो तरिवर चल भल नाहों। आवहु >रहि बन छाँडि पराहों ॥ 
az ay उडे Aye बन ताका। पंडित सुआ भ्रूलि मन थाका ॥ 
साखा देखि राजु जनु पावा। बइठ निचिंत चला वह आवा ॥ 
tet । 
पाँच बान कर खाँचा Wear भरे सो पाँच। 
पाँख भरे तन अरुझा faa arcs fag बाँच ॥ ७१॥ 


कलि5+ कल -- विश्राम, इस का विरोधों कल में fa soa लगाने से विकल। 
काटौ = विताया । विश्वाध - व्याध। ढुका 5 छिपा। टाटौ 5 टड्टी ww 5 पेर 
--पग 55प्रग । भुइँ - भूमि । अचरज-- आश्रये। अनभला --बुरा फल देने-वाला। 
तरिवर = तरूवर 5" बडा ढक्ष । WH BWA! काऊ >क्कापि वा को $पि। पराहों्- 
Wy -- पलायन ACA) ताका-देखा -- तर्क किया। साखा 5 शाखा। राजुर्- 
राज्य । निचिंत 5 fafa) बान-- वाण। खाँचा -- खाँचने के लिये वंश-दण्ड | लासा 5८ 
लसो-दार द्रव पदार्थ जो पराँ मे चफन जाय | बड्डेलिये प्रायः बर के दूध को तेल में 
मार कर Wal बनाते हैं ॥ 

तहाँ (जिस वन को चर्चा ६८ वें दोहे में कर आये हैँ ) एक ने em दिन 
विश्वाम से काटा, अर्थात्‌ बिताया, (तब तक) are (बच्चेलिया ) आ कर zeta कर 
(mma के लिये) ढुका॥ (बह्लेलिये वन मे पद्ियाँ को फंसाने के लिये हरे हरे 
ढच्तां के शाखा पन्नवाँ से एक Tat eet बनाते हैं जो देखने-वालाँ को टत्त-हो समझ 
पंडतो Si इस प्रकार शेर के शिकार में भो लोग मचान में gar के six wa 
लगा कर उस को a ऐसा बना लेते हैं ॥ (वह व्याधा) पेर Ve vet at चाँपते 
हुए आया ( जिस में पेर का शब्द पक्तियाँ के कान में न पडे )। Vat (इस Ge at) 
देंख कर हदय में डर खाये, अर्थात्‌ डर गये॥ आपस में कहने लगे (कि, भाई, ) 
देखो यह बुरा फल देने-वाला आश्चर्य है, कि एक बडा दक्ष चला आता है॥ इस 
वन में रहते हम लोगों को ( इतनो) आयु गई, (परन्तु) कभों बडे au को चलते 
नहों देखा, वा किसो ने बडे ठक्ष को चलते नहों देखा (तरिवर कहने से आश्रय हुआ, 


७१-७२ | छुधाकर-चन्द्रिका | UR 


क्योंकि घास-पात-वाले छोटे दक्ष प्रायः हवा A चलते हें, इस लिये उन में विशेषता 
नहों है)॥ सो आज जो aa. चलता हें (इस से जान पडता है कि) भला नहीं है, 
(सो) आओ इस वन को छोड कर भाग wey (ऐसा आपस में सलाह कर) वे 
(aq gat) तो उडे (ओर ) दूसरे (अउरु --अपर ) वन को देखा, (परन्तु Tai 
हरियारों आर wat में) we कर पण्डित-शक (हौरा-मणि) का मन थक गया, 
अर्थात्‌ sel फूल-फलों में लुभा कर इस का मन रह गया। इस लिये अन्यत्र न जा 
सका ॥ क्याँकि (इस को बहुत काल पर हढचाँ के) शाखाओं को देख कर (इतना 
आनन्द हुआ ), AAT राज्य पा गया, दस लिये बेफिक्र ( निश्चिन्त ) Far रहा, (और) 
वह (व्याधा ) (इस के पास) चला Bari 

(उस बह्ेलिये का) पाँच वाण का खाँचा था, अर्थात्‌ उस खाँचे के fax पर 
पाँच बाण लगे थे, ओर वे पाँचो जो थे at लासा से भरे थे। (उस खाँचे से बह्छे- 
लिये ने जो मारा, तो वह Siar होरा-मणि को) ga से भरो शरोर (तनु) में 
अरुझ गया, फिर (ae होरा-मणि अब ) मारे विना केसे बंचे ॥ ७१ ॥ 


चडपादे | 


बंद भा सुआ करत सुख केलो। चूरि पाँख धरि मेलेसि sats 
तहवाँ पंखि बहुत खरभरहों | AY आपु ae Tea करहों | 
'बिख-दाना कित देइ अंगूरा। जेहि भा मरन sea धर चूरा॥ 
AS न होत चारा कइ आसा। कित चिरि-हार ढुकत लेइ लासा ॥ 
oe बिख-चारदइ सब बुधि att AY भा काल हाथ लेइ लगो॥ 
fe gat माया मन भूला। WE WE FA तन फूला॥ 
यह मन कठिन ats नहिं मारा। जार न देखु देखु पद चारा॥ 


दोहा | 


हम ay बुद्धि गवाँई बिख-चारा अस खाइ | 


तूँ Gazi पंडित eat तूं कित फाँदा आइ ॥ ORI 
365 


UWE पदुमावति | ५ । सुआ-खंड | [ez 


fe 5 बाँद -- कैद | Vit — wat! मेलंसि "डाल दिया। डेलो--झाँपो, जिस 
में बच्ेलिये wat को फंसा कर रख लेते हैं। खरभरहों -- खरभराते हैं। fae 
-- विष। डहन -- उड्डयन - डैना । धर -- धड "5 गले के नोचे का WaT) w= 
चूणे किया। आसा = आशा = sac) चिरि-हार = चटक-हर = चिडियाँ का मारने-वाला 
=asfear) बुधिन् बुद्धि । लगो = लग्गो = लगुड = वंश-दण्ड | WE न wa करता 
है। जार -- जाल। चारा =a! गवाँई -- खो feat) हता 55 आसोत्‌ 5- था। फाँदा 5८८ 
ae मे पडा ॥ 


सुख से क्रोडा (केलि) करते (-हो) शक az हो गया। (बड्ेलिये ने जो पंखे 
लासा से भर गये थे Ve) चूर कर (ga at) was कर (धरि), Fat में डाल 
दिया agi पर बहुत Vel खरभराते हे, अर्थात्‌ हौरा-मणि कौ यह गति देख 
बहुत Vay खरभराने लगे, आर आप आप में (आपस मे ) रोदन करतें है (रोने 
लगे) ॥ (हौरा-मणि कौ यह cits देख पद्ियाँ को वेराग्य ear, इस लिये Ferm कौ 
कथा कहने लगे, कि) (यह ) AFT अर्थात्‌ APL से सुन्दर ga विष का दाना wi 
देता है (क्याँकि इसो के फल के लोभ से gear नहीं होता), जिस (विष के दाने से 
फल के कारण) से (इस होरा-मणि का) मरना हुआ, We Sar और us चूर 
किया गया॥ यदि Wt कौ आशा (sae वा लोभ) न होतो, तो चिडि-हारा क्याँ 
लासा ले कर ढुकता, अर्थात्‌ चारे-हो को आशा से एक स्थान पर पक्षियाँ का रहना 
होता हैं, जिस से फंसाने के लिये बह्ेलियाँ को अवसर मिलता Fu इसो विष चारे ने 
(हौरा-मणि के) सब बुद्धि को ठग लिया, ओर हाथ सें wat ले कर (इस का) 
काल हुआ.॥ ( सो हम लोगों aT) मन झूठा माया में कला हुआ है, (यह ae जानता 
कि अभिमान से) जैसे-हो woe (तनु) फूलतो है, तैसे-हो (ईश्वर के कोप से) 
पंखे चूर होते हैं ॥ (सो) यह मन कठिन हैं मारने से नहों मरता, अर्थात्‌ इसे 
कितना-हू Vat, नहों रुकता, (क्याँकि चारे पर wat हो कर ऐसा gear है, कि) 
जाल, जिस में निश्चय है, कि फंस जायँगे, उसे नहो देखता पर चारे को देखता Fy 


Gat aa कहते हैं, कि हम लोगों नें तो ऐसे विष चारे को खा कर बुद्धि को 
खो (nai) fear 3) (परन्तु) a तो, रे Ka, पण्डित था; ad क्याँ आ कर फंस 
गया, अर्थात्‌ AS मे पडा ॥ ७२ i 


७३ | सुधाकर-चन्द्रिका | २१५ 


azure | 


सुअद कहा CHE अस भूले। टूट fede aw जहि gay 
केला के बन whe बसेरा। परा साथ ae बदइरिन्त केरा॥ 
सुख कुरआआर फरहरो खाना। बिख भा safe fase तुलाना॥ 
are क भोग-बिरिख अस फरा। आड we पंखिन्ह ae घरा॥ 
हाइ निर्चित बइठे तेहि आडा। तब जाना खेाँचा feo गाडा॥ 
सुख निचिंत जोरत धन करना। यह न चिंत आगइ SE मरना ॥ 
भूले हम-हु aa तेहि माँहा। से बिसरा पावा जेहि पाँहा॥ 


ater | 


चरत न खुरुक AS HT तब र चरा सुख ar | 
अब जो फाँद waite तब रोण का होइ॥७३॥ 


गरब-- गवे। बसेरा -- वास-स्थान। बदरिन्द>वेरो लोग वा at aa (वदरो)। 
कुरआर = कुलालय 55 कुल का VE) फरहुरो 5 फरहरो — अनेक प्रकार के फल। 
बविआध - व्याध | तुलाना "5 तुलना किया पहुंचा । बिरिख्८दक्ष । आड रन ओट-- 
आवरण | जोरत -जोडते हैं -"-एकटट्ट्रा करते हैँ। करना 55 करण 55 सुख-साधन- 
सामग्रो | विसरा 55 भ्ल गया विस्मरण हो गया। खुरुक 5 खोटका 55 खटका 5 
tna) गिउ -5ग्रोव 5 गरा ॥ 

सुग्गे ने कहा, कि (जेसे तुम लोग भूले हो माया में ) ऐसे-हो हम भो रले। 
जिस गवं-रूपो रिण्डोल पर झूले थे, ae टूट गया, अर्थात्‌ जिस SA का बडा गर्व था, 
ae टूट गया॥ (सुख को इच्छा से में ने) केला के वन में वसेरा लिया, तहाँ भो 
बैरियाँ का साथ पडा॥ (वैरि से शत्र आर वेर-ढक्ष ये दोनाँ अर्थ को ayia के लिये 
केला का उपादान किया। act पास होने से उस के aiet से केले के aE भड़ हो 
जाते हैं )॥ (सो) सुख से कुल-ग्टह में फरहरियाँ का खाना विष हो गया जब, कि 
व्याधा आ पहुंचा ॥ WH रोता है, कि हा, (ae) भोग-टक्ष ( सुख-साधन-ढक्ष ) are को 
ऐसा (gary फल को) फरा, (जिस का) BIS लगा कर (व्याधे लोग) पक्तियाँ को 


We प्रदुमावति | ५ | स॒ुआ-खंड | [9३-७४ 


aca हैं (पकडते हैं )॥ (er) feat (फर) के आड में निश्चिन्त हो कर हम भो 


SY Sy 


बैठे, (जब बह्चेलिये ने) इदय में Bia को गाड दिया, तब जाना, अर्थात्‌ तब जान 
पडा, कि फंसे॥ (हा, प्राणो ) रुख से fafa हो कर धन ओर सुख-साधन-सामग्रो 
को जोडता है, (परन्तु) यह चिन्ता (चिंत) नहों करता, कि आगे मरना Fu 
(हाय, ) fast (सुख-साधन-सामग्रो ) में गवे से हम भो aa, (इस लिये) जो सुख 
जिस (ईश्वर) के यहाँ से पाया था वहो ईश्वर wa गया, अर्थात्‌ aa से val को 
भुला दिया; sat का यह फल है, कि फंदे में फंसे ॥ 

जब तक wa संशय नहो किया, अरे, तब तक तो सुख से उन फलों को 
(az) चरा (खाया)। अब जो गला Ge में फंसा तब रोने से क्या हो, अर्थात्‌ 
अब sat ईश्वर का ध्यान करना जचित है, जिसे गवे से भुला दिया था, और अब 
रोने से कुछ फल नहों ॥ ७३॥ 


चडपाई | 


सुनि कइ उतर आँसु सब पाँछे। asa पंख awa बुधि Bay 
पंखिन्ह av बुधि होइ उंजिआरो | पढा सुआ faa धरइ Ast ॥ 
faa तौतर बन जौभ Vaal सो faa हकारि aie fre मेला ॥ 
ता दिन ary aps जिड-लेवा। उठे पाँख भा नाउ परेवा॥ 
az बिआधि तिसिना संग खाधू। रूझइ auf न रूझ विआधू॥ 
हमहिं Ba वह मेला चारा। हमहि गरब वह Wes मारा॥ 
हम निचिंत वह IS छपाना। ava बिआधहि दोस अपाना ॥ 
दोहा | 


से। अडगुन faa atfae fas दौजिअ जेहि काज। 
अब कहना fag नाहोँ मसटि wet पंखि-राज ॥७४॥ 


इति सुआ-खंड ॥ ५ ॥ 


agg -- कौन 5 को नु। पंख 5 पक्ष | बुधि-- बुद्धि । ओछे — तुच्छ — हलका | तोतर 
=fafac) जोभ 5 fast) उघेला -- उद्दाटन किया 55 उघारा 55 खोला । हँकारि ८ 


७8 ] सुधाकर-चन्द्रिका | २९७ 


Wet कर A—fea के। गिर -ग्रोवा 5 गला । मेला -- डाला। जिउ-लेवा -- जोव 
लेने-वाला | नाउं नाम | विश्वाधि -- व्याधि 55 रोग। fafa = eu -- लालच | खाधू 
+> खाद्य 55 भकच्च । दोस 55 दोष । अपाना = अपना । अउगुन 55 अवगुण । मसटि "5 मष्ट त5 
मुष्ट - मूसा Saya हुआ। मसटि भलो-चुराये हुये धन के ऐसा भला है, 
अर्थात्‌ हत-धन का जैसा wate होता है, वेखा-हो wate अच्छा है। पंखि-राज ८ 
पक्षि-राज = हो रा-मणि एक ॥ 

( हौरा-मणि के) उत्तर को सुन कर सब पत्तियाँ ने (अपनो अपनो) आँसुओँ को 
पाँछा (stew किया), (और कहने लगे, कि) ऐसे ws बुद्धि-वाले (afsat) के 
(ay में faa ने va बाँध दिया है, अर्थात्‌ बुद्धिमान के ay H os रहना चाहिये, 
जिस से वह विशेष कार्य ले, न कि पक्तियाँ के जो कि उन पक्ताँ से विशेष कार्य लेना 
तो दूर हैं अपना प्राण भो नहो बचा सकते॥ (क्यॉँकि) यदि पक्षियाँ को उज्ज्वल 
(उजिआरो ) बुद्धि हो, तो पढे हुए ya को मार्जारों केसे धरे (पकडे)॥ और 
वन में तोतर क्याँ अपनो जोभ को saa, ओर वह (सो) क्यों हंकार कर के (बोल 
कर 5 feat at) अपने गले A GS को डाले॥ (atat का धम हे, कि प्रातः-काल 
और सन्ध्या को बडे उच्चखर से बोलता J) asia उस को बोलो से पता लगा 
कर फंसा लेते हैं )॥ (पत्नी wa कहते हैं, कि) जिस दिन पक्षों (परेवा) नाम 
पडा, ओआर (शरोर में ) ve उठे, तिसो दिन (हमारे लोगों का) Ma लेने-वाला 
व्याधा हुआ ॥ (हमारे लोगों के) wy में भोजन को car जो है वचीो व्याधि हुई, 
(उस रोग के वेग में ) भोजन ( भुगुति)-हो रूझता है, व्याधा wey awa, (जो, कि 
प्राण लेने-वाला हैं)॥ हम लोगों को लोभ (लालच ) हे, (इस लिये) उस ने चारा को 
डाला (मेला)। हम लोगों को wa हें, (इस लिये) वह मारने चाहता हैं॥ हम 
लोग बेखबर (निश्चिन्त) हैं, वह छिप कर आता है, (इस faa) व्याधे का कौन 
दोष है (सब) अपना दोष है ॥ 

ऐसा ae (सो) अपराध (अवगुण )-हो क्यों किया जाय, जिस के कत्तंव्य (aT = 
art) से अपना प्राण दोजिए (at), हे पक्षि-राज (होरा-मणि), अरब कुछ कहना 
नहों हे, WI AS करना-हो भला हैं॥ ७४ ॥ 


इति शुक-खण्डं नाम परज्वम-खण्ड समाप्तम्‌ ॥ ५ ॥ 


१श८ प्रदुमावति | ६ | राजा-रतन-सेन-जनम-खंड | [ow 


अथ राजा-रतन-सेन-जनम-खंड ॥ ६ ॥ 
@4Stys——_—— 


चडपाई | 


चितर-सेन feast गढ राजा। कइ गढ कोट चितर Hz साजा ॥ 
तेहि कुल रतन-सेन उंजिआरा। धनि जननों जनमा अस बारा॥ 
पंडित गुनि सामुदरिक देखहिं। देखि रूप ay लगन बिसेखहि ॥ 
रतन-सेन बहु aT अउतरा। रतन जोति मनि माँथद बरा॥ 
पदिक-पदारथ लिखो सो जोरों। चाँद Gea जस होइ अजोरो ॥ 
aa मालति ae wat fast) aa ओहि लागि होइ यह जोगो ॥ 
सिंघल-दोप जाइ वह पावइ। fas होइ चितडर az आवइ॥ 
atet | 
भोज भोग जस माना faata साका als 
परखि से। रतन पारखों सबइ लखन लिखि ete OY ॥ 


इति राजा-रतन-सेन-जनम-खंड ॥ ६ ॥ 


चितर-सेन — चित्र-सेन | चितउर 55 चित्रवर । गढ़ -ः गाढ़ दुगे ”- किला ate= 
छोटा किला । चितर "5 चित्र।| रतन-सेन 5- रत्न-सेन | aft -धन्या 5 प्रशंसा-योग्या । 
बारा - बाल --" बालक | सामुदरिक *-सामुद्रिक = अज्जलक्षण से WHITH फल कहने 
का शास्त्र। अडतरा -- अवतार लिया। जोति ज्योति | बरा --बरतो है -प्रज्वलित 
होतो है। पदिक -- पद के योग्य -- स्थान के योग्य -- रत्र। जोरो -- जोडो। BI= 


ov] सुधाकर-चन्द्रिका | AE 


wa) अंजोरो 55 उज्ज्वल । fast = वियोगो । ओआहि लागि 5 उस के faa) भोज र- 
धारा नगरौ का राजा जिसे संस्कृत में ast रुचि थो। बिकरम विक्रम -- उज्जयिनो 
का राजा जिस ने संवत्‌ चलाया हैं। साका -- शक | परखि -- परौच्च् 55 परोच्ा कर के। 
पारखो = ash = FNS करने-वाला। लखन = लक्षण ॥ 

चित्तौर गढ का राजा चित्र-सेन हैं, जिस ने गढ ओर कोट को बना कर (az 
=at के) चित्र के ऐसा as दिया॥ faa कुल में उञज्ज्चल रलह्न-सेन (उत्पन्न हुआ), 
धन्य उस को माता (saat) हैं (जिस के ate में ) ऐसा बालक जन्म लिया ॥ 
(जन्म के समय) पण्डित लोग गुनि कर (शोच कर) सामुद्रिक को देखते हैं, ओर 
( रक्न-सेन के) रूप को देख कर लगन (wy) को विशेषते हैं, अर्थात्‌ लग्न को ठोक 
करते हैं ॥ (aan लोग लम से weat के रूप बताते हैँ, यदि लड़के का रूप 
मिल गया तो समझते हें, कि लम्म ठोक हें)॥ विचार कर के ज्यौतिषो कहते =, 
fa) रल्न-सेन का बहु नग अवतार हुआ, अर्थात्‌ अनेक tal मे जो जो गुण होते 
हैँ, सो सब गुण से भूषित रक्न-सेन ने अवतार fear) (sea शरौर कौ) ज्योति 
(कान्ति) ta है, (ओर) माथे में मणि (भाग्य-मणि) बरतो है॥ रव्न-रूपो जो पदार्थ 
(पद्मावती ) हैं, सो इस को जोडो लिखो हे, अर्थात्‌ इस के कर्म मे लिखा है, कि 
पद्मावती से विवाह हो। (दोनाँ मिल कर tal उज्ज्वल जोड़ो शोभित होगो) जैसे 
चाँद और रूये को उज्ज्वलित जोडो ॥ जेसे मालतो के लिये भ्रमर वियोगो (विरक्त) 
होता है, अर्थात्‌ सब सुगन्ध को छोड उसो में रक्त हो जाता है, तेसे-हो उस के 
( पद्मावती ) लिये यह योगो होगा ॥ सिंहल-दोप में जा कर ge को (पद्मावतो at) 
पावेगा, और (वहाँ पर) सिद्ध हो कर (प्ग्मावती को) ले कर चित्तोर गढ आवेगा ॥ 

जैसे राजा भोज ने भोग को माना हें, aalq सुख-भोग किया हैं, ओर राजा 
विक्रम ने Sar शाका (daq) किया है, (वेसा-हो यह भो सब करेगा)। इस प्रकार 
से पारखो (ज्योतिषों)लोग रतन (रक्न-सेन) aT परोच्ता कर सब लच्॒णोँ को लिख 
दिया ॥ ७५ ॥ 


इति राज-रबन्न-सेन-जन्म-ख एड नाम पष्ठ-खण्डं समाप्तम्‌ ॥ ६॥ 


ESS ७००७ EOSESEESeeESeeS ee 


दर पदुमावति | © | बनिजारा-खंड | [७६ 


अथ बनिजारा-खंड ॥ 9 ॥ 





चडपाई | 


चितडर गढ कर प़्क बनिजारा। सिंघल-दोप चला बदइपारा॥ 
बाम्हन ea pa नसट भिखारों। सो पुनि चला चलत बइपारों ॥ 
रिनि are कर लौन्हेंस aati मकु ae गए होइ fae बाढो ॥ 
मारग कठिन बहुत दुख WH! नाँघि समुदर दोप ओहि ws ॥ 
देखि हाट fag रूझु न ओआरा। सबइ बहुत किछ देखु न थोरा॥ 
uz सुठि ऊच बनिज ae केरा। wat ay निधनों मुख हेरा ॥ 
लाख करोरिन्ह बसतु बिकाहों | wears केरि न कोइ ओनाहों ॥ 


atest | 


सब-हो ais faateat अड घर als FEIT । 
बाम्हन तहवाँ लेइ का गाँठि साँठि सुठि थोर ॥ ७६ ॥ 


बनिजारा = afua = वणिज = बनिया । बदपारा व्यापार | बान्हन ब्राह्मण । हत 
= हता - आसौत्‌ — था। aus - नष्ट - श्रधम = नौच । भिखारी = भिचुक । axa = 
ana |. ftfa=—su=—ast) aet—afe! “नाँघि-लश्गयित्रा 5 लाँचध कर | 
समुदर - समुद्र WITH ओर -- वार 5 किनारा । सुठि 5 सुष्ठ 5 अति-उत्तम | बनिज 
-- वाणिज्य । निधनो = निधेनो | हेरा -- हेरता है 55 देखता Fi लाख -- लक्ष। करोरिन्ह 


७६-७७ ] सुधाकरु-चन्द्रिका । WL 


—atfea = करोडाँ | बसतु -- वस्तु -- चौज | सहसन्ह -- Gee = हजाणाँ। Srarey — 
झुकते = | बिसाहना 55 सामग्रो = विसाधन = अपने अपने काम को चौज। बहोर = फेरा ॥ 


चित्तौर we का एक बनिया व्यापार के लिये झिंदल-दोप को very (वहाँ) 
एक अधम भिखारो ब्राह्मण था, वह at ( पुनि ८5 पुनः) व्यापारो को चलते (देख az) 
( सिंहल-दोौप को) चला ॥ किसो के यहाँ से ऋण are लिया, ओर (मन में करने 
लगा, कि) क्या जानें, तहाँ पर (सिंहल-द्वोप में) जाने से (गये) कुछ बढतो (दड्धि) 
हो॥ कठिन मार्ग में (जाते), (उसे) बहुत दुःख हुआ, (अन्त में वह ) समुद्रों को 
wig कर, उस (घिंहल )-द्ोप में गया ॥ हाट को देख कर उसे कुछ ओर (किनारा ) 
नहों रूझता, अर्थात्‌ यह नहों समझ पडता, कि इस हाट का कहाँ तक हट है। 
सभो (चोज) बहुत (ढेर के ढेर) हैं, कुछ (भो चोज ae) थोडो ash देखता 
हैं॥ निश्चय कर के (पद "अपि) ast का वाणिज्य (व्यापार) अति ऊंचा है, धनो 
(at चौजों को) पाता हैं, आर निधेनो (खडा लोगाँ का) मुख देखता है॥ लाखोँ 
और करोडों को वस्त्र विकतो हैं, ee को (ay पर) कोई झुंकता-हो नहीं ॥ 

सब किसो ने अपने अपने काम को agai को लिया, और (अपने अपने ) घर का 
au किया, अर्थात्‌ अपने अपने घर कौ ओर लोटे। ast पर (भिखारीो) ब्राह्मण 
क्या ले, (क्यॉँकि) गाँठ में साँठि (द्रव्य) अति थोडो थौ, अर्थात्‌ गठरों में धन बहुत 
थोडा था ॥ (atfe=—atea), साँठि के लिये ३८ at दोहा देखो ॥ ७६ ॥ 


SUT । 


BCE ठाढ AS RET आवा। बनिज न मिला रहा पछितावा ॥ 
लाभ जानि ae प्रह्ि हाटा। at wails wee Afe art 
का मई ata सिखाओन सिखों। apy मरइ मौचु हति fat ॥ 
अपने चलत सो ae FATT) लाभ न देख मूर भइ erat | 
का मईं बाआ जनम ओहि A । खाइ WAT घर-हू कइ पूँजो॥ 
afe बेवहरिआ कर बेवहारू। का लेइ दब ay छेकिह्दि are ॥ 
घर कइसइ पइठव AX Bal कउनु उतर देवड fae vay 
6 


WR प्रदुमावति | ७ | बनिजारा-खंड | [es 


दोहा | 


साथि चला aa बिचला wy बिच समुद पहार | 
आस निरासा ey फिर तूँ विधि देहि अधार ॥ ७७ ॥ 


qs = झर-हो = eer हुआ 55 विना फल art पछितावा 5 पश्चात्ताप। सिखाआन 
= सिखावन = शिक्षा । हति 55 थो। कु-बानो 5 कुत्मित वाणिज्य -- खोटो बनिआई। मूर 5८ 
मूल-धन | बाआ -बोया। we aA aT पूँजो 55 पुत्ञ ( मूल-धन aT) — मूल- 
धन | बंवहरिआ = व्यवहारों = व्यवहार करने-वाला — महाजन | बंवहारू — व्यवहार | 
छेकिहि -- aa — रोकेगा । बारू--वार >द्वार। कुँछे ८खालों। साथि-साथों। 
सत -- सत्य । बिचला -- विचल गया 5"-टल गया । समुद - समुद्र | पहार 55 प्रहार 5८ 
ges) आख "आशा । निरासात-निराशा। बिधिन् ब्रह्मा। अधार 55 आधार 5८ 
अवलम्ब ॥ 

(५ वो चौपाई में जनम के स्थान में जरम पाठ भी है। उस का भो ae जनम 
है। पश्चिमोत्तर-प्रदेश में छोटो जातियाँ में अब तक “जरम” प्रचलित है। कवि प्रायः 
aaa जनम प्रयोग करता है, इस लिये हम ने जनम पाठ Taal हें)॥ (ब्राह्मण 
पकताता है, कि हाय, ) में झरे-हो ast हूँ are को यहाँ आया। (हाय, ) वाणिज्य 
(ag) न मिला (केवल ) पछतावा रह गया॥ इस हाट में लाभ जान कर आया, 
(at) मूर mat कर तिसो राह में (जिधर से आया था gat राह में) चला॥ क्या 
मे मरने-हौ को शिक्षा सिखो थो, (क्या) ata (मोचु) feat थो (जो) मरने को 
( यहाँ) आया ॥ अपने चलते अर्थात्‌ सामथ्य रहते (में ने) सो खोटो बनिआई कम को 
किया, (जहाँ ) लाभ को (तो) नहीं देखता हूँ (परन्तु) at कौ हानि (लुक्सान) 
हुई (यह अवश्य) देंखता हू, (देख क्रिया का दोनाँ ओर waa है)॥ क्या में उस 
जन्म में ua कर (कर्म-वोज को) बोया था, (जिस का फल न देखने में आया ), 
(aa कर बोज बोने से aa नहों उत्पन्न होते इस लिये फल होना असम्भव है), 
(जो) घर को at at खा कर चला॥ जिस व्यवरहरिया का ब्यत्रह्मर है, अर्थात्‌ 
जिस महाजन से लेन देन है, वह यदि द्वार sam (रोकेगा), तो क्या ले कर 
(3%) देंगे ॥ खालो हाथ (ee) घर कैसे User, faa ( मद्दाजन) लोगों से पूंकने पर 
कौन उत्तर देऊंगा | 


७७ -- ७८ | सुधाकर-चन्द्रिका | रैर३ 


(हाय, मेरा ) साथो चला, ओर सत्य भो टला, अर्थात्‌ जो नियम कर के wa 
लिया था, लाभ न होने से, वह भो बिगडा। ओर (मेरे और घर के) Da समुद्र 
ओर पहाड हो गये । (हाय, में अब) आशा से नेराश्य हो कर फिरता हूँ, (सो) हे 
ब्रह्मा, A (कुछ ) आधार (अवछम्ब ) दे ॥ ७७ ॥ 


चजपाई | 


aa-fe बिआध सुआ लेइ आवा। कंचन बरन अनूप सोहावा॥ 
बेंचइ लाग हाटि az ओआहो। ata रतन मानिक जेहि Set ॥ 
सुअ को UR पतंग मदारे। चलन देख आछइ मन मारे॥ 
बाम्हन आइ सुआ AT पूँछा। ee गुनवंत कि निरगुन छँछा॥ 
AE परवते जो गुन तोहि पाँहा । गुन न छपाइअ हिरदइ माँहा ॥ 
हम qe जाति बराम्हन दोऊ। जाति-हि जाति पूछ सब कोऊ ॥ 
पंडित ey तो सुनावहु agi faq पूँछे पाइअ नहिं भेटू ॥ 


Stet | 


SU बाम्हन अउ पंडित AE आपन गुन ATE | 
पढे के आगे जो पढइ ga लाभ तेहि होइ ॥ ७८ ॥ 


बिद्याध ८" व्याध । सुआ 5"-झुक। कंचन 55 कच्चन "5 सुवणं । aa— w= Ty! 
अनूप 55 अनुपम | चह्ाटि-- हाट में । पतंग = way = फतिज्ञग 5 कौट | मदारे = मदार 
का (मदार एक दक्ष होता है, जिस का फूल महादेव को चढता TI) इसे daa मेँ 
अके, भाषा में आक भो, कच्दते हैं ae ओषधि में भो बडे काम का है)। आछद +- 
अच्छो तरह से। दहुल"दों में से एक -देखें"क्या WA! परबवतें "5 पावंतौय 
yaa का 55 पहाडो | ATA = ब्राह्मण | भेदू -- भेद ₹ पता | दून - दूना 55 fea 

(ब्राह्मण ताप करता-हो था) तिसौ समय (तब-हो) व्याध mH को .ले कर आया, 
(faa का) सुवर्ण सा aw अनुपम शोभित था ॥ (व्याध उस हाट में ) उस (एक) को 
(ate) ले कर बेंचने लगा, जिस (हाट) में wa आर माणिक्याँ (मानिक) का 


मोल होता हैं, अर्थात्‌ जहाँ अनेक ta बिक रहे हैं ॥ (जिस हाट में “लाख करो- 


WB प्रदुमावति | 9 | बनिजाशा-खंड | [ ७८- ७6 


fix बसतु बिकाहों” यह ७६ वें दोहे में कह आये हें, तहाँ) मदार के we 
(सदृश) ४एक को कौन (को) पूँछता है। (मदार का ale हरित झ॒क-हो के सदृश 
होता है। मदार का कौट कहने का यह तात्पये है, कि जहाँ मदार-होौ को TTS 
. महादेव को छोड, ओर कोई नहीं daar, तहाँ उस के ale को ala va) 
(ae झुक) अच्छी तरह मन को मारे, अर्थात्‌ चुप चाप (अपने ) चलने को देखता हैं, 
(fa देखें कहाँ पर चलना होता है)॥ (वह भिखारो) ब्राह्मण आ कर एएक से Gar 
(अपने मन में ate कर, कि) देखें यह guar (gaia) हैं, अथवा (कि) 
खालो (Sar) निगण (निरग्रन -गुण से रहित ) है ॥ (dar, कि) हे पहाडो (एक), 
जो तेरे पास gw हो, (उसे) कहो, हृदय मे gu को न छिपाइये (wif) हम 
aa दोनाँ जाति में ब्राह्मण हैं। (प्रसिद्ध हैं, कि पक्षियाँ में शक ब्राह्मण है, इसे 
लिये उस के जूठे फल को लोग खा लेते हैं )। सब किसो में (सब ata) (यह 
रोति है, कि) जाति-हो को जाति पूँछतो है, (शास्त्र भे a} लिखा है कि “खबर्ग 
परमा प्रोति:”)॥ (at यदि) पण्डित हो, तो बेद को सुनावो, (क्यॉँकि) विना पूछ 
gat (Az) नहों पाया जाता, (कि कोन क्या जानता हैे)॥ 

( भिखारो ब्राह्मण कहता है, कि में भो) ब्राह्मण ओर पण्डित हू, सो (मेरे 
सामने ) अपना गुण कहो। (क्याँकि) पढे हुए (पण्डित) के आगे जो usar =, faa 
(afe) gat लाभ होता है, (एक अपना पढा हुआ पाठ शुद्ध हो जाता हे, Zar 
qe पण्डित वैसा-हो उपयोगो दूसरा नया पाठ अपनो पाए्डित्य दिखलाने के लिये 
बता देता है। थाँ दूना लाभ होता हैं)॥ ७८ ॥ 

चजऊपाई | 
तब qa मोहिं अहा हो देवा। जब पिंजर हुति छूट परेवा॥ 
अब YA ATT जो बंद जजमाना । घालि मंजूसा AZ आना॥ 
पंडित होइ सो हाट न चढा। Wes बिकान afe गा पढा॥ 
दुइ मारग देख प्रहि हाटा। दइड चलावइ ee afe बाटा ॥ 
रोअत TA WI मुख राता। तन भा पिअर Hey का बाता ॥ 
राते साव॑ कंठ दुइ गोवा। तह दुइ फाँद STS सुठि MAT ॥ 
अब eu कंठ फाँद गिउ चौन्हा ce गिउ फाँद चाह का कौन्दा ॥ 


छ& | सुधाकरु-चन्द्रिका | ९२५ 


Stet | 


ufe qfa देखा बहुत मई OEE आगे डरु ATE 
धुंध जगत सब जानि कइ Ble रहा बुधि Wiz ll ५७८ ॥ 


गुन 5 गुण । अहा "5 आसोत््‌ ८" था । हो देंवा > हे देव। पिंजर ८5 पञ्षर | हुति 5-८ 
- से। छूट = छूटा BM! AIT — कौन 5-क्क नु। बँद -- बाँद = AS | जजमाना — यजमान | 
घालि-- डाल कर। मंजूसा AQ — रन्दूक --डेलो। आना अन्य। बिकानर- 
बिकाना | A= WI = गया | पढा 5 पाठ पढा हुआ । मारग 5८मार्ग -- राह। wy 
- देव ईश्वर । दह्ल८वक्या जानें = देखें-- दोनों में से । बाटा -- वाट 55 राह। रकत 5८ 
रक्त = रुधिर। राता = R= लाल। तन 5 तनु -- TAT faat= पौत 5 पोलो TA 
-- रक्त 5" लाल । सावँ 55 श्याम -- काला | कंठ 55 कण्ठ "- कण्ठा 5 गले को धारो। गोवा 
न ग्रीवा - गला | सुठि 5८ सुप्ठ 5 अच्छो तरह --अति। गिछ ग्रोवा ”- गला। चौन्हा्- 
पहचाना | धुंध -- Ya = Bat | बुधि - बुद्धि | खोद = खो a= Mat कर ॥ 


(wa Heat है, कि) हे (ब्राह्मण) देव, तब मेरे में गुण था, जब पिंजडे से कूटा 
हुआ (पर-दार ) पक्षी (परेवा "८पारावत = afte) था ॥ अब जो (ae) यजमान बन्द 
(az) है, (उस में) कौन गुण है (जो) दूसरा (आना-- अन्य) AAG (डेलो) में 
डाल कर बच रहा हे॥ (ब्राह्मण को बड़ा समझ कर Sa बनाया, और अपने को 
उस का यजमान बनाया। इसरो बात से शपनो बुद्धि और विद्या का परिचय दे 
दिया)॥ (सो) जो पण्डित होता हैं वह (सो) हाट में (बिकने के लिये) aey 
azar, (में तो अब) बिकने चाहता हूँ, (इस लिये) पढा हुआ we गया ॥ (में ) 
इस हाट में दो बाट (ATI =a) देखता हूँ, (एक पूर्व को ओर दूसरो पश्चिम को 
ait), (देखें) ईश्वर दोनोँ में से किस बाट में चलाता Fn रोते (रोते) ( 23) 
रक्त से मुख रक्त हो गया, WIT (तनु) Tat हो गई, (सो अब) क्या बात कहूँ॥ 
At गले (ग्रोवा) में लाल और काले दो ae हैं, avi पर जो A we हैं तिन से 
अत्यन्त (सुठि) प्राण (sta) के लिये डरता Su (नर Gat के गले में जवानों पर 
लाल काले दो AW Gea हैं, जिन से गले में दो we बन जाते हैं । उस पर UH 
at उत्पेज्षा है, कि set दोनोँ we से डरता हूँ, कि ये जोव न ले लें, अर्थात्‌ cay कौ 
सुन्दरता से लोग मोहित हैँ, इस लिये व्याध हमे फंसाते हैँ )॥ (mH कहता है, कि) 


we पदुमावति | © | बनिजारा-खंड | [७६ —<e 


अब (Waa पर) गले के कण्ठे-रूपों we को भें ने पहचाना, देखें (आगे) गले के 
Ge (ats) क्या किया चाहते हैं ॥ 

में ने बहुत (कुछ) ws ga कर देखा, कि आगे ast (सो) (प्राण जाने कौ) 
डर हैं। (इस लिये) सब जगत्‌ अन्धकार जान कर, बुद्धि खो कर, (पढा) भूल 
रहा Ell ७८ ॥ 


चजपाई | 


सुनि बाम्हन बिनवा चिरि-हारू। ae पंखिन्तठ कह मया न ATE ॥ 
faa t निठुर fas बधसि परावा। इतिआ at न तोहि डरु आवा ॥ 
कहसि पंखि-खाधुक मानावा। निठुर तेइ जो पर-मंस खावा॥ 
आवहि रोइ जाहि कइ रोना। तब-हुँन तजहि भोग सुख सेना ॥ 
az जानहि तन होइहि नारू। पोखहि माँस awe are 
जऊ न होत अस WHE खाधू। faa fee कह धरत बिआधू॥ 
जो रे बिआध पंखिन्ह fafa धरई। से Fea मन लाभ न करई॥ 


दोहा | 


बाम्हन सुआ बंसाहा सुनि मति ae गरंथ | 
मिला आइ साथिन्ह ae भा चितडर के पंथ ॥ ८० ॥ 


चिरि-हारू = चटक-हर = BT | मया = माया ate = दया । निदुर 5 निष्ठर ८८ 
कठोर | हतिआ = हत्या = पाप | खाधुक = खाद्यक 5 भक्षण = भोजन | मानावा = मानव 
-- मनुय्य (खावा का qa मिलाने के लिये मानावा किया हैं)। पर-मंस = पर-मांस 5८ 
gat कौ aia) आवहि--अआता है। रोइ-रो at) जाह्चि--जाता है। aafe— 
त्याग करता है।- सोना --सयन | जानहि जानता Si नारू-नाश। पोखहितर-ः 
पुष्णासि = पोषता है -- पालता हैं। बंसाहा -- खरोदा | गरंथ 5” ग्रन्थ ॥ 

(ma को बातें) सुन कर ब्राह्मण ने व्याधे से विनय किया, (कि) पक्तियाँ के 
ऊपर दया कर मार मत (न)॥ रे निष्ठर (ara), क्यों दूसरे ( परावा ) को बध 
करता है (कोई परेवा का wae परावा को कहते हैं तब “अरे निष्ठुर ary, क्यों 


८०-८१ ] सुधाकर-चन्द्रिका | बे 


wat को ay करता हें” यह अर्थ करना)। तुझे हत्या (पाप) का डर नहीों आता ॥ 
कहता है, कि पक्षों wae (मानव) का भोजन है, (सो में तो तिसे मनुय्य नहीं, 
किन्तु ) frat (कठोर - कर ) (समझता हू), जो कि पराये (दूसरे) को मांस खाता 
है ॥ (रे ara, faya समझ, कि a) रो कर आता है (जन्म लेता है), ओर रो-हो 
कर के जाता है (मरता हैं), तब at भोग ओर सुख से सोना यह asl तजता॥ और 
जानता है, कि शरौर (तन तनु) नाश होगो, तब भो पराये को मांस से ( अपनों) 
मांस को पोसता हैं (पालता है )॥ (ब्राह्मण कहता हैं, कि सत्य 3,) यदि ऐसा (अस) 
पर-मांस-भोजन न होता, तो व्याधा क्याँ पक्षियाँ को धरता (पकडता)॥ रे (मन), 
जो व्याधा नित्य (निति) पक्तियाँ को धरता हैं (पकडता है), ae (सो) बेचते मन में 
लोभ नहों करता, अर्थात्‌ उस के मन में दया नहों sal, कि ऐसे मनोहर vat को 
qi बँचता हूँ, सम्भव हैं, कि खरोदने-वाला इसे मार कर खा जाय ॥ 

(अन्त मं) ब्राह्मण ने (झुक at) मति (बुद्धि) से वेद के ग्रन्थाँ को अर्थात्‌ Az 
पाठ को सुन कर WH को खरोदा। ओर आ कर साथियाँ को मिला, ओर चित्तोर 
गढ के wy (राह) में हुआ, अर्थात्‌ चित्तौर गढ को राह पकडो ॥ ८० ॥ 


asus | 


तब लगि चितर-सेन fag साजा। रतन-सेंन feast भा राजा॥ 
आइ बात ate आगे watt राजा बनिज ap सिंघलो॥ 
हहि गज-मेंति भरो सब सोपो। अउरु बसतु बहु सिंघल-दौपो॥ 
बाम्हन एक FAT लेइ AAT! कंचन बरन अनूप सोहावा॥ 
Wa MT As FX काँठा। Wa डहन लिखा सब पाठा॥ 
AI Fz नयन सोहावन राता। राते ठोर अमौ-रस बाता॥ 
मसतक टोका ary wan. कबि बिआस पंडित asta i 


दोच्चा | 


बोलि अरथ ai बोलई सुनत ala wz डोल। 
राज-मंदिर ae चाहिअआ अस वह सुआ अमोल ॥ ८१ ॥ 


bs प्रदुमावति | ७ | बनिजारा-खंड | [८१ - पर 


चितर-सेन - चित्र-सेन | खिउ -"शिव। बनिज ८ वर्णिज ८ वंनिया। हरक्तित्हें। 
गज-मेँति = गज-मुक्ता। राते -- a= लाल। सावें = श्याम। कंठ ः कण्ठ "- गला। काँठा 
_- कण्ठा 5 गले को Wa) डहना "-डैना। पाठा पट्टा - डेने आर पौठ का sits, 
अमो-रस = अम्दत-रस | मस्तक 5 मस्तक । टोका 5 तिलक । काँध 5 स्कन्ध ८ कन्धा । 
जनेऊ -- यज्ञोपवोौत । बिआस 5 व्यास -- पुराणों के कर्त्ता। सहदेऊ — सहदेव -- युधिष्टिर 
के सब से छोटे भाई। बोलित"-बोलो। अरथ 5 अ्थे। सखोस ८ शोषे। पट ”-अपिर- 
निश्चय कर के। डोल -- डोलता है -- हिलता है। अमोल -- अमूल्य ॥ 

(जब तक ब्राह्मण बनिजारे के साथ सिंहल-दोप को जाय ओर वहाँ UA को 
खरोद कर ले wa), तब तक (aa लगि) राजा चित्र-सेन शिव (लोक) को तयारौ 
किया (साजा), अर्थात्‌ शरौर छोड | को गया, ओर ta-Ba चित्तोर (गढ) का 
राजा sary faa के (ate) आगे आ कर यह बात चलो, अर्थात्‌ wT ने यह 
बात wet, कि हे राजन्‌ (राजा), fies के बनिये आये हैं ॥ (उन के पास) 
गज-मुक्ता सो मोतियाँ से भरो सब सोपो (शक्ति) हें, ओर बहुत सरिंहल-दौप को 
वस्तु हैं ॥ एक ब्राह्मण एक शुक को ले आया हैं जिस का सुवर्ण (qa) सा व 
(aca) अनुपम (अनूप) शोभित Fu कण्ठ (गले) में लाल और काले दो कण्ठ हैं । 
3a ओर पढ़े सब लाल at से लिखे हैं अर्थात्‌ चित्रित हैं ॥ और दोनों रक्त नयन, 
रक्त अधर (ठोर) शोभित हैं, आर बात (sat) श्रम्ठत-रस हैं, अर्थात्‌ बातोँ से 
अम्दत-रस टपकता है ॥ मस्तक में टोका (तिलक ), Ae aa में (तोन धारो जानो) 
जनेऊ हे, (उस के wea से ओर बाते से जान पडता हें, कि) ae के ऐसा कवि 
और सहदेव के ऐसा feed Su (भारत में प्रसिद्ध हें, कि सहदेव बडे पष्डित थे, 
और भारत ओर ९१८ पुराणों के कर्त्ता व्यास जगग्मसिद्ध कवि हैं ॥) 

(ae शुक) अर्थ से बोलो बोलता हैं, अर्थात्‌ उस al बोलो aay नहों Stats 
(उस को बोलो) सुनते-हो (प्रेम से age होने से) निश्चय कर के शोश हिलने लगता 
है। ऐसा वह अमूल्य शक हैं, इस लिये उसे राज-मन्दिर में (रखना) चाहिये॥ ८९१ ॥ 


aya | 


भई TH जन दउराए। Tea सुआ afm sz आए ॥ 
बिपर असोसि बिनति अउधारा। सुआ जोउ नहिं ace निरारा ॥ 


=z | सुधाकर-चन्द्रिका | We 


uz यह पेट uss विसुआसों। जेइ सब a तपा सनिआसौ ॥ 
डासन सेज जहाँ जेहि ary ae परि रहइ लाइ fry बाहो ॥ 
आँध रहइ जो देख न नयना। गँग रहइ मुख आउ न बयना ॥ 
बहिर (el जो खवन न सुना। VET यह पेट न रह निरगुना ॥ 
az az फेरा निति बहु erat artis बार फिरइ न सँतोखो ॥ 


दोच्चा | 


सो aife लेइ मंगावई लावइ भूख पिआस | 
HS न होत अस बइरो AE ATS AT आस ॥ ८२ ॥ 


रजाए़सु 5 राजाज्ञा । जन 5 मनुय्य द८ नोकर-चाकर | दजराए --दौडाये गये। 
बिपर ८ विप्र -- ब्राह्मण । अशोसि ८- आशिषा कर "-आशोर्वाद कर। बिनति ८ विनय | 
अ्रडधारा = अवधारणा किया 5 आरम्भ किया । निरारा = निरालय 5-5 घर से बाहर = 
अलग et | विसुआसो -- विश्वाशो = विश्व (dare) को खानें-वाला। a = aa = 
नवाय frat = sal fear) aga aval | सनिआसो -सत्यासो (३० at दोहा 
देखो )। डासन -- दर्भासन -- बिक्कोना। सेज 5 शय्या | भुइं -- भ्रमि । परि ८ पड कर । 
लाइ--लगा ati शिउ ८ ग्रौवा -- गला। बाहों = are = बाहु। आँध = अन्ध = अन्धो । 
गूँग = aa >> मसूक । बयना 55 वचन | बहिर 5 बधिर 55 बहिरा | खवन ८ अवण 5८ कण 
=ara | निरगुना 5 निगेण -- बे gu ar) दोखो -- दोषो = दोष से भरा। बारहि बार 
>-वारंवार = फिर फिर, वा द्वार द्वार 5 दरवाजे दरवाजे। रंतोखौ = सन्तोषो = सन्तोष से 
भरा | AHS कर | AMAT -- मंगवाता है। लावइ+- लगाता है। wa—_qyat— 
gat) । पिआस -- पिपासा -- थास । बदरौ -वैरौ ८ शच्रु | आस 55 आशा = saz ॥ 

राजा को आज्ञा हुई, नोकर-चाकर (जन) दोडाये गये, (बे लोग) Ww (बेगि) 
ब्राह्मण और Wa को ले आये ॥ ब्राह्मण ने आशोर्वाद कर विनय को आरम्भ किया, 
fa (हे राजन), Wawa (जोव) को अलग न करता ॥ परन्तु यह पेट eat को 
खाने-वाला हुआ हे। जिस ने सब aval ओर सज्मासियाँ को (अपनों ओर) झुँकाया 
Sy जहाँ पर जिस को बिकछोना ओर wart नहों होतो। (तहाँ पर ae) गले मेँ 


ae लगा कर, अर्थात्‌ बाह कौ गल-तकिया लगा कर, wf में पड रहता है, अर्थात्‌ 
WW 


tS पदुमावति | 9 | बनिजारा-खंड | [sR-—s3 


उसो से निर्वाह कर लेता हैं, परन्तु wa निर्वाह नहों होता ॥ जो आँख नहों Saat 
वह wa teal हैं, अर्थात्‌ aaa का गुण देखना हैं, उस qu के न रहने पर at 
आँख अन्धी teat है। जिस सुख में वचन नहों आता, अर्थात्‌ जो मुख नहों बोलता, 
वह TT रहता Fi तात्पये यह, कि मुख का TU बोलना जो हे, उस के न रहने 
पर at ait मुख रहता है॥ (इसो प्रकार) जो कान AR सुनता, वह बधिर रहता 
है, अर्थात्‌ सुनना गुण न रहते भो बहिरा कान रहता है। परन्तु (Tar नहों होता, 
कि) fava te रहे, अर्थात्‌ जैसे Gea, बोलना, सुनना जो गुण हैं उन के विना 
भो आँख, मुख, कण रहते हैं, ओर प्राणो का जोवन Al बना रहता है, vat प्रकार 
ऐसा नहों होता, कि भोजन करना जो पेट का गुण हे, उस के विना पेट रहे, और 
प्राणो का जोवन बना रहे॥ नित्य फेरा कर कर (इधर उधर घूम कर) यह अत्यन्त 
(बहु) दोषो (दोष से भरा) वारंवार वा द्वार द्वार फिरता है, (परन्तु) सन्तोषो 
नहो होता ॥ : 

( राजन), at (ae) पेट मुझे (अपने संग मे ) ले कर ( भिकछा) मंगाता हैं, आर 
भूख प्यास लगाता हैं। यदि ऐसा वेरो (पेट) न होता, तो किसो को किसो को 
आशा teat? अर्थात्‌ यदि पेट न होता at किसो at किसो at आशा (sae) 
न रहतो, waa et कर सब कोई विहार करता, Tey के भरने के लिये लोग दूसरे 
को आशा करते हैं ॥ ८२ ॥ 


चडपाई | 


gaz असोस दौन्ह as साजू। ss परतापु अखंडित राजू ॥ 
भागवंत विधि as AVANT! जहाँ भाग तह रूप जोहारा॥ 
कोइ AE पास आस कइ गवना। जो निरास fees आसन मवना ॥ 
कोइ faq पूँछे बोलि जो बोला। होइ बोलि माँटो के मोला॥ 
पढि गुनि जानि बेद मति भेऊ। WS बात कहइई सहदेऊ॥ 
गुनो न कोई आपु सराहा। जो सो बिकाइ कहा पइ चाहा ॥ 
जउ लहि qa परगट नहिं होई। तड लहि मरम न जानइ कोई ॥ 


<3 | सुधाकर-चन्द्रिका | १३१ 


दोहा | 


चतुर-बेद ey पंडित हौरा-मनि afe ary 
पदुमावति ay मईं रवंड सेव acy तेहि asics | 


परतापु -- प्रताप। अखंडित — Waheed = पूणे -- अखण्ड । राजू -- राज्य । भागवंत — 
भाग्यवान्‌ = AAA: | बड -- वर = बडा | AVANT = अवतार दिया। भाग - भाग्य । 
HSI = जोव-हार देता हैं--दण्डवत करता है (४८ at दोहा देखो )--गुलाम 
होता हें - दास होता है। पास पाश्व "निकट | गवंना "-गमन करता है -यात्रा 
करता है। निरास = नैराश्य -- बे-परवाह। डिढ -- दृढ -- मजबूत = पक्का। मवन--मौन 
“चुप । बोलि 55 बोलो — बच्न । माँटो -- र्टवत्‌ 5 मद्टठो। मोला 55 मूल्य। मति -- सब्मति। 
भेऊ ८ भेद | सहदेऊ -- सहदेव (८९१ at दोहा देखो) । सराहा -- सराहता है (श्लाघा 
करना = सराहना ) | पद -"अपि -- निश्चय कर के। परगट 55 प्रगट -- प्रकट । मरम 5८ 
मम = मुप्त-भेद | चलुर-वेद 5 चारो वेद | खंड = tas = रमण करता = | सेव -- सेवा 
=Z¥a | ठाऊ 5 स्थान ॥ 

(qa ने अवसर को देंख कर विचारा, कि अब अपनो विद्या प्रगट करू faa से 
राजा मोहित ही कर मुझे ले, यह शोच कर) शक ने आशोवांद दिया, कि आप का 
बडा साज (तयारो हाथो ate इत्यादि कौ), बडा प्रताप और अखण्ड-राज्य (sat 
भर पूर्ण राज्य) हो॥ (आप को) ब्रह्मा (विधि) ने बडा भाग्यवान्‌ उत्पन्न किया, 
(अउतारा ), (इस faa) जहाँ भाग्य Teal हें तहाँ रूप भो (आ कर ) दण्डवत करता 
है, अर्थात्‌ दास होता है, तात्पये यह, कि जैसो आप को भाग्य है, वेसा-हो ब्रह्मा ने 
रूप भो दिया है॥ (सो, हे राजन), कोई किसो के पास आशा कर के जाता है, 
और जो बे-परवाह (निरास) हैं, वह (अपने) आसन-हो पर ata हो कर es (पक्का 
>- अचल ) रहता Su (हे राजन), विना Ge कोई जो बोलो बोलता है, ae बोलो 
मद्गो के मोल को होतो है, अर्थात्‌ उस का अनादर हो जाता हे॥ पढ, ga और 
az के सम्मति का भेद जान कर सहदेव पूंछने से बात कहता है, अर्थात्‌ सकल-विद्या- 
निधान सहदेव भो विना पूँछे अनादर के भय से नहों बात करते थे॥ (आप यह 
मन में न wie, कि यह तुच्छ है; आप-हो से अपने विषय में कह रहा हैं, में भो 
जानता हूँ, कि) कोई get अपने को आप नहीं सराहता, (परन्तु) जो बिकाता है, 


UR परदुमावति | © | बनिजारा-खंड | [८३-८४ 


ae अवश्य (पद "-"अपि ) अपना गुण कहने चाहता हे ॥ (atin) जब तक गुण aE 
प्रगट होता, तब तक कोई (feat का) AA नहों जानता ॥ 

(सो) में चारो वेद का पण्डित हूं, हौरा-मणि मेरा नाम है। में पद्मावतो से 
रमण (क्रौडा) करता हूँ, आर fast स्थान में ( पद्मावती को) सेवा करता Si ८३॥ 


चडपाई | 


रतन-सेन हौरा-मनि चौन्हा। लाख ca बाम्हन कह ATi 
बिपर असिस देइ als पयाना। सुआ सो राज-मंदिर Ae आना ॥ 
बरनज कहा सुआ कइ भाखा। धनि सो ay होरा-मनि राखा | 
जो बोलइ राजा मुख MAT! way मोति हिआ हार परोआ ॥ 
जर्ड बोलइ सब मानिक eat) नाहिं a मवन बाँधि रह गूँगा ॥ 
मनहं मारि मुख अंब्रित मेला। गुरु BE आपु alse जग चेला ॥ 
Gea चाँद कइ कथा जो कहा। पेम क कहनि wre चित गहा ॥ 


Stet | 


जो जो सुनइ धुनइ सिर राजा पिरिति अगाहि। 
Wa गुनवंत नहों भल (सुअटा) बाउर करिहइ काहि॥ ८४॥ 


इति बनिजारा-खंड ॥ 9 ॥ 


टका = SE -- पाँच ate का छठवाँ भाग 55 पुराना रुपया | पयान 5८ प्रयाण -- याता । 
आना 55 आनोत हुआ "-लिआया गया। कहा 5 कथम्‌ ८ क्या ८ केसे । भाखा 55 भाषा 
“बोलो । धनि "- धनन्‍्य। नाउं"-"नाम। जोआ -जोहा-जोह a—TE देख aT! 
win 5 प्रोत किया है--पहिराया है। मउन-"-मौन--चुप। बाँधि”बाँध कर । 
aft "मार कर । अंब्रित-- अम्टत | सुरुज -- रूये। चाँद 55 चन्द्र । पेम--प्रेम। कहदनि 
=a 55 कहानो । गदह्ा vas fear पिरिति ८प्रोति ८ प्रेम । अगाहि ८ wre 
- अपार | गुनवंत = YU = YU: | बाउर = aa = बौरहा = पगला | after 
>करेगा। atfe = किसो को ॥ 


<e ] सुधाकर-चन्द्रिका | URZ 


राजा रह्न-सेन ने होरा-मणि को पहचाना, (ater) (कि यह कोई विचित्र जोव 
है)। (इस लिये) ब्राह्मण को लाख रुपया दिया (शक का दाम)॥ ब्राह्मण ने 
आशोर्वाद दे कर यात्रा किया, आर wa जो था सो राज-मन्दिर में लिआया 
गया ॥ कवि कहता है, कि wa के भाषा का केसे वर्णन करू, धन्य वह (पुरुष) है, 
जिस ने होरा-मणि यह नाम Ta है॥ राजा के मुख का रुख देख कर, जो बोलता 
है, सो wat हदय-रूपो हार में मोतियाँ को पिरोता हैं (पिरोश्रा ८ प्रोत करता है 
-- पिरोता 2) यदि बोलता हैं, तो सब माणिका ओर मूंगा, ai afar और 
मूंगा के सदृश, नहों तो मौन बाँध कर चुप (गंगा) रहता है॥ मानों मार कर 
मुख में अम्दत डाल देता हैं, (मेला) अर्थात्‌ feat किसो विरह-वाक्य से तो 
सुनने-वालां को मार डालता हैं, फिर मार कर दूमरो अम्दत-मय वाक्य से मानों 
मुख में wea डाल देता हैं। (दस प्रकार से) आप गुरु हो कर, जगत को चेला कर 
लिया (als) | Ga We चन्द्र को जो कथा है, उस को (लोगों से) कहा, (अर्थात्‌ 
रूये कोन है, केसे तेजो-मय हुआ, ओर चन्द्र कौन हैं, केसे अम्हत-मय हुआ, दोनों का 
समागम केसे होता है, इत्यादि कथा को सुनाया) ओर प्रेम कौ कहानियों को लगा 
कर, अर्थात्‌ सुना कर, (सब के चित्त को) पकड लिया ॥ 

जो जो (उस को मनो-हर भाषा) सुनता है, (प्रेम से fase हो) fax धुनता 
हैं, (इस पर) राजा at प्रोति अपार Wat जातो है। (आपस में लोग कहते हैं, 
कि) ऐसा (शुक) भला (अच्छा) नहों, ( यह अपनो प्रेम-कहानो से) किसो को पागल 
करेगा, अर्थात्‌ इस को कहानो सुन प्रेम से कोई घर बार छोड बौरहा बनेगा ॥ ८४ ॥ 


इति वणिज-खण्डं नाम सप्तम-खण्डं ATH | ७ ॥ 


२३४ पदुंमावति |S | नागमतो-छआ-संवाद-खंड | [पप्पू 


अथ नागमतो-सुआ-संवाद-खंड ॥ ८ ॥ 
ke 


चडपाई | 


fea दस पाँच तहाँ जो ATI राजा कतहु AWE गर॥ 
नाग-मतोौ रुपवंती wat! सब रनिवास wz परधानो॥ 
az सिंगार कर दरपन wet! दरसन देखि गरब fas ater ॥ 
Saad FA पह आइ सो नारो Aes कसडउठो अडपन-वारों ॥ 
भलहि सुआ AI प्यारे नाहा। मोरहि रूप काई जग माँहा ॥ 
सुआ बानि कसि ae कस सेना । सिंघल-दौप ait कस लोाना॥ 
avg fefafe aid रुपमनौ। eg es लेनि कि वेइ पदुमनो ॥ 
दोहा | 


ag न कहसि सत सुअटा तोहि राजा कइ आन | 
Sz कोई प्रहि जगत मंह मोरहिि रूप समान॥८५॥ 


कतहुं -- कुच-हि 55 कहो । Bet -- अच्ेर में 5 आखेट में । नाग-मतौ 5-८ 
नाग (सर्प) कौ. ta जिस को मति (बुद्धि) हो । रुपवंतो "5 रूपवतो 5८ 
सुन्दरो । रनिवास -- राज्ञो-वास "5 रानियाँ के रहने का BA) पाट ८ az 
पोढो = सिंहासन | परधानो = प्रधाना । सिंगार = श्टज्ञार । कर = हाथ । दरपन = दपेण 
-- आईना । दरसन -- दर्शन "5 प्रतिविम्म । गरब 5” गरवें। हँसत 5८ हंसतो हुई। a= 





८३-८६ ] सुधाकर-चन्द्रिका | UR 


वह । नारो = wl 5- नाग-मतो | जब एक पद हे, तब सानारो = @varfeay = सोना- 
रिन । कसडटो 55 कषवटो 5-5 खोना aaa को काले पत्थल को बटिया। अडउपन-वारो 
-- ओपने-वारो = खोने के aw को दिखाने-वारो "सोने के आब को दिखाने-वालो । 
भलहि = भला = अच्छा = सुन्दर । नाहा -- नाथ = erat | बानित८वर्णे। afa—aa 
कर | कस 5 कैसा | सोना 55 aw) लोना -- लवण -- सुन्दर । कउनु-- कौन -८क्क a) 
दिसिटि = दृष्टि। रुप-मनो 55 रूप-मणि | सत 55 सत्य | आन = आज्ञा = शपथ = करुस ॥ 

तहाँ पर en पाँच दिन जो (रहते) हुये, (इसी में ) राजा कहो mez मेँ 
गये ॥ (इतने में ) रूप-पतो नाग-मतो (राजा कौ) रानो जो कि सब रनिवास ओर 
we में प्रधान थो, श्टज़्र कर हाथ में दपेण लिया, (saa) (अपने) दशन 
( प्रतिविम्ब) को देख कर sla में aa किया, (कि मेरे समान कोई नहों)॥ वह 
(at) नारो वा वह सोनारिन हँसतो हुई, WH के पास आ कर, (WHAT) ओपने- 
att aatet को दिया, अर्थात्‌ रूप-स्त्रण को aia करने को कहा ॥ कि हे भले 
wa जार खामो (are) के art, जग मे मेरे रूप का कोई Fu हे ४एक, ( रूप- 
रूपो सोने के) वर्ण को wa कर कह, कि केसा सोना हैं, ओर तेरा सिंहल-दौप 
कैसा सुन्दर (लोना) Su At (तोरो) रूप-मणि (पद्मावती) कौन दृष्टि को है, 
अर्थात्‌ उस का दशशन केसा हैं, दोनाँ में से (कह), कि में Bed हूँ, अथवा वह 
(act) पश्चिनों ( पद्मावतों) ॥ 

= ma (gaat), तुझे राजा को शपथ है, जो सत्य न ae) (बताव) इस जगत 
में मेरे रूप के समान कोई है ॥ ८५ ॥ 

azure | 

waft रूप पदुमावति केरा। eet सुआ wat qe हेरा॥ 
जेहहि सरवर ae हंस न आवा। बकुलोौ afe जल हंस कहावा॥ 
ei ate अस जगत अनूपा। wR wa az आगरि रूपा॥ 
कइ मन गरब ASA TTR! चाँद घटा AY लागेड राह ॥ 
लेन बिलेन तहाँ को कहा। Sat सेइ aa जेहि चहा॥ 
का पूँछह सिंघल az att! दिनहि न gs fafa अंधिआरो॥ 


Gey सुगंध सा fare aE काया। जहाँ माँध का बरनड पाया॥ 


WE परदुमावति | ८ | नागमतौ-सुआ-संवाद-खंड | [sé 
दोहा | 


Tet सो सेनइ साँधई भरो सो STE भाग। 
सुनत रूखि भइ रानौ हिआइ लान अस लाग ce ॥ 


waft = स्मरण कर के | हेरा - देखा । सरवर 55 सरो-वर । बकुलो 55 वक aT AT | 
दई = देव Sat । अनूपा = अनुपम | आगरि = y= श्रेष्ठ) छाजा = सोहा = शो भित 
हुआ । चाँद -- चन्द्र । लोन 5८ सुन्दर । बिलोन 5- विना नमक के 5 विना Bacar के | 
पूजइ = yar 55 बराबरी करतो | अंधिआरो = अन्धका रिणौ = अधेरो । पुहुप 5८ पुष्य । 
aig — मस्तक | पाया 55 पद | सेाँधई -- सुगन्ध द्रव्य । रूखि -5 रूखो = <a । लोन 55 नोन ॥ 

wa ने पद्मावतो के रूप को स्मरण कर हँस दिया, और रानो (नाग-मतौ) के 
मुख को ओर देखने लगा (हेरा )॥ (और कहने लगा, कि) (जिस सरो-वर से हंस 
नहों आता, faa के जल में बकुलो हंस कहातो हे, ( कहावत है, कि जहाँ कोई रूख 
नहों तहाँ रॉड-हो रूख) ॥ ईश्वर ने ऐसा अनुपम जगत बनाया है (कोन), ( जिस में) 
एक से एक Be रूप हैं ॥ मन में गवे कर के किसो का अच्छा Fel होता (छाजा )। 
देखो, रूप का गवे करने से) चन्द्रमा घट गया, अर्थात्‌ क्षण होने लगा, Be 
(उस के VS) राहु (देत्य) लगा ॥ अपने रूप पर चन्द्रमा का गवे करना यह कथा 
प्रसिद्ध पुराणों में vel पाई जातो | कद्ाचित्‌ किसो पारणोग्रन्थ में हो, अथवा कवि 
कौ केवल saa Btn (हे रानो, Ta दशा में ) तहाँ पर कौन (किस at) रझुन्दर 
( लोन ) वा असुन्दर कहे (at, भे तो asl समझता हूँ, कि) जिसे (कानन्‍्त 5८ कन्त ) 
पति चाहे, वहो सुन्दरो (लोनो) Su सिंहल को स्त्रियाँ (नारियाँ) को क्या पूँछतो 
हो, (इतनो-हो बात समझ लो, कि) अधेरो रात दिन को वराबरो नहों aval, 
अर्थात्‌ सिंहल को स्त्रियाँ दिन के समान उज्ज्वल हैं, आर यहाँ कौ areal wis के 
समान काली हैं ॥ सो (हे रानौ), fae (झिंहल को नारियाँ) कौ काया ( काय+- 
Tat) में पुष्प का qua है, (इस लिये लोग देवो समझ कर उन के पेर में माँया 
saa हैँ सो जिस tt में सब का) ata हे, अर्थात्‌ ater लगा हैं, उस Ut का 
क्या वर्णन करू ॥ 

वे स्त्रियाँ (at) सुगन्ध-द्रय-मिलित सुवण से गढो हैं । ओर वे (सो) रूप और 
भाग्य (भाग) से भरो हैं (saat) सुनते-हो Tat (नाग-मतो) रूखो हो गई, 


ee Ee cere rr ele 


e¢—<o ] उुधाकर-चन्द्रिका | रे 


(जल गई), इस से wa को बात wea में नोन सो लग गई, अर्थात्‌ wa को बात 
सुन कर RAM ढरछराने लगा, जेसे जले पर ata छिडक दिया जाय ॥ ce ॥ 


GUTS | 


WS यह सुआ मंदिर मंह अहई | ALS होइ राजा as Aes) 
सुनि राजा पुनि ez विद्वागो । छाँडर राज चलइ होइ जोगो॥ 
fag राखे नहिं होत अंगूर। सबद न Re विरह तमचूरू ॥ 
uz धामिनों af हकारो। ओहि avai fea रिस न सभारो ॥ 
देखु सुआ यह ET AST | WHT न ता कर जा कर पाला॥ 
मुख कह आन पेट बस आना। तेहि अडगुन दस हाटि बिकाना ॥ 
पंखि न राखिअ होइ FAIS TE ae मारु जहाँ नहिं ara 
दोहा | 


ate दिन कह ey निति डरड रइनि छपावउ at 
az we दौन्द कल WE मो ae होइ मजूर ॥ ८७॥ 


अचहई -- है। होइ --चहोतिन"-हि+इति-- निश्चय कर A= न हो। बिओगो -- 
वियोगो। जोगो ""योगो। बिख विष 5८ जहर । अंगूरू = WRT | सबद = शब्द 5 
आवाज | fate = fate = वियोग | तमचूरू = तास्रचूड = मुर्गा । धाइ -- धाई = धात्रौ 5 
बचपन में दूध पिलाने-वालो। धामिनों --धाविनो = दौडने-वालो (जो नागिन तेज 
दोडतो है, उसे भो लोग आज कल भाषा में धाविनों का avin धामिनो वा 
धामिनि कहते हैं )। बेगि 5 शोप्र। हँकारो 55 पुकारा । स्पा -- समरपण किया | fra 
=e 55 क्रोध। संभारो = सम्भार faa) मंद-चाल 5 मन्द-चाल -- बुरा चाल। पाला 
>-पालित -"पोषित | आन ८ अन्य । अडगुन "5 अवगुण । कु-भाखो -- कु-भाषो -- wa 
भाषा कहने-वाला | साखो = areal = गवाह | निति — नित्य । रइनि 5 रजनो - राति | 
SH 8A! A= मयूर Val, सप॑ का शत्रु ८ मोरेला Ax ॥ 

( रानो अपने मन में सोचने लगो, कि) यदि यह शक मन्दिर में रहे, और 


कभों निश्चय कर के (इस सिंहल के स्त्रियाँ को सुन्दरता को) राजा से कहे far 
i8 


Ise पदुमावति | ८ | नागमति-सुद्या-संबाद-खंड | [sox 


राजा ga कर वियोगो (fara) हो कर, राज्य (राज) को छोड कर योगो हो 
(सिंहल-दोप at) चले ॥ (क्याँकि) विष के रखने से (विष-हो होता है) अड्डर नहों 
Stati (at) विरह-रूपो मुर्गा शब्द न दे, अर्थात्‌ अपनो आवाज से राजा को जगा न 
दें, कि क्या अधेरो रात-रूपो नागमतो के रूप मे मोहा हें; उठ, भोर हुआ, fea 
(पद्मावती ) at शोभा देख॥ (ऐसा सोच कर) Ma दोडने-वालो (urfaat— 
धाविनो ) जो wk थो, उसे पुकारा, (ate दोडने-वालो धाई के पुकारने का यह 
तात्यय हैं, कि झट पट काम पूरा हो जाय, कोई देखने न पावे)। और eas रोष 
को संभार न wat, उस (शुक) को (इस के हाथ ) Siar ॥ (और कहा, fa) देख यह 
शक FW चाल का है, जिस का (पद्मावती का) यह पाला हैं, तिस का at नहों 
हुआ (वहाँ से उड़ कर चल feat) मुख से दूसरो (अन्य) बात कहता है, पेट में 
दूसरी बात बसतो हैं, तिसौ अवगुण से दश हाट में विका Su (सो) ऐसे कु-भाषों 
ust को नहों रखना चाहिए, इसे ले कर तहाँ मार (डाल) जहाँ (कोई) गवाह 
(art) न मिले॥ 

जिस दिन को (पति वियोग को) में नित्य डरतो हूँ, रूये (cea) को 
रात्रि (अपने काले रूप) में faut =, अर्थात्‌ छिपाये =) (उस ae को) ले 
कर (यह mwa) मेरे लिये Hat et कर कमल (पद्मावती) at दिया चाहता 
Su (नागमतो अपने को नागिनो बनाया, इस लिये झुक को, wy समझ, wat 
aeat है)॥ ८७॥ : 


चडपाई | 


धाइ सुआ Te ane गई। समुझि गिआन feas afa भई ॥ 
सुआ सो राजा कर बिसरामौ। aft न जाइ wee जेहि सामो ॥ 
यह पंडित खंडित ux रागू। aa ताहि जेहि रूझ न आगू॥ 
जो तिआई के काज न जाना। UTE Wie पाछे पछिताना॥ 
नागमतो नागिनि-बुधि ताऊ। सुआ मजूर होइ नहिं काऊ॥ 
जो न कंत कइ BAS AleT) कडनु भरोस नारि कइ बाँहा॥ 
ag यह खोज होइ fafa आई। तुरइ रोग हरि ares जाई॥ 


sc] सुधाकर-चन्द्रिका | Ve. 
Stet | 


दुइ सो छपाए ना gufe oa हतिआ va पापु। 
अंत-हु करचौि बिनास पुनि सइ साखौ देइ आपु ॥ ८८ ॥ 


धाइ -- धाई 5 धातौ। fraa=s बिसरामो ८ विश्वामो = विश्राम देंने-वाला। 
सामो = erat -- मालिक | खंडित = खण्डित — रहित = दूर = विभक्त -- अलग। राग 
राग "5 आपस को डाह। दोस दोष | आग आगे। fasts = स्त्रियाँ। काज -- ara 
ताऊ --ताह्न — fae को । मजूर -- मयूर। काऊ-क्वापि--कर्भों। कंत-कान्त्- पति। 
आफ़सुन्‍- आज्ञा । भरोस-भराशात पूर्णाशा ८ विश्वास । बाँहा ८" बाहु। मकु से ने 
कहा ८ क्या जाने | तुरइ--लवरो --घोडा | हरि --वानर -- बन्दर । हतिआ 5-८ हत्या — 
ब्रह्मचत्यादि महापाप | पापु -- पाप साधारण | अंत-हु "5" अन्त में। बिनास ८ विनाश। 
सट््‌ -- से । साखो 55 साक्षी ॥ 

धाई WH को ले कर मारने गई, (राह में ) समुझ कर ज्ञान हुआ ओर बुद्धि 
(afa) हुई॥ (कि), wa जो है, सो राजा को विश्राम (आराम?) देने-वाला हैं, 
(इस लिये) जिसे खामो चाहता हें, ae मारा नहों जाता ॥ यह WAH पण्खित हैं, 
ओर राग (द्वेष) से दूर हैं, अर्थात्‌ निष्पक्षपात सत्य कहने-वाला है, (सो) जिस को 
आगे न aa तिसो का दोष जानना चाहिए ॥ जो feat के काय को ael जानता 
(कि क्षण चण में बदला करता हैं), उसे धोखा (खाना) पडता है, और पोछे से 
पछताना पडता Sy (सो) नागमतो जो है, तिस को बुद्धि नागिनि सो है, (जिसे 
भले बुरे का कुछ पहचान Fel रहता। काट कर सब का प्राण Gat है), (se जो 
यह डर है, कि यह ma मेरे लिये मयूर है, सो) कभों शक मयूर नहीं होता ॥ 
जो अपने पति-हो (जो etait लोक के लिये स्त्रो को प्रधान पूज्य हैं) को आज्ञा में 
नहों रहतो, tat नारो के aE का कौन भरोसा हैं, अर्थात्‌ कुछ भरोसा नहीं ॥ 
(at) क्या जानें रात्रि में (राजा के आने पर) इस का (शुक का) खोज हो, और 
(ऐसा न हो, कि) घोडे का रोग बन्दर के माथे जाय। (कहावत प्रसिद्ध हैं, कि 
BAUME में बन्दर के रहने से घोडाँ को बौमारो नहों होतो; यदि बोमारो आई 
भो, ते ae बन्दर के fax जातो है, अर्थात्‌ घोडे कौ बला बन्दर ले लेता है, ओर 
उस रोग (बला) से बन्दर-हो मर जाता है, घोडे अच्छे रहते हैं xa} प्रकार 





Uwe प्रदुमावति । 5 | नागसित-सुआ-संबाद-खंड | [ss-<e 


sizfaat कौ बला लाल चिडिया के fac जातौ हैं)। श्रर्थात्‌ रानो का अपराध 
रानो के नट जाने से मेरे ऊपर आवे ॥ 

सो एक हत्या और एक पाप ये दोनों छिपाये से नहों छिपते। (चाहे कुछ काल तक 
छिपे रह), परन्तु फिर अन्त में आप-हो से areal दे कर विनाश करते हैं, अर्थात्‌ पाप 


केले nu 


अकेले में भो किया जाय, at भी आप-हो गवाह हो कर प्रगट हो जाता हैं ॥८८॥ 
चडपाई | 


Ta सुआ ws मति साजा। ws खोज fafa avs राजा ॥ 
रानो उतर मान as set पंडित सुआ मंजारों seer 
az oust सिंघल पदुमिनौ। उतर dhe ge at नागिनौं ॥ 
ae जस दिन qe fafa अधिआरो । जहाँ बसंत ade को ara ॥ 
का तार yee रइनि कर राऊ। उलू न जान दिवस कर भाऊ ॥ 
का वह पंखि कोटि ae गोटठों। अस बडि बोलि जौभ कह छोटी ॥ 
रुहिर THE जो जो AE बाता। भोजन faq भोजन मुख राता ॥ 


दोहा | 


माँथद नहिं बदइसारिअ सुठि रूआ av लेन। 
कान Zz जेहि आभरन का लंइ करब सो ATA ८८ ॥ 


साजा 55 सजा 5- बनाया -- किया । माल 55 अभिमान | करोल 5-5 एक काला a 
aa मे बहुत होता हैं, awe ऋतु में भो पत्ते इस में नहों होते, भर्हरि ने aH 
लिखा है कि “ad नेव यदा करोल-विटपे दोषो वसनन्‍्तस्य faa”! पुरुख -- पुरुष । 
रदनि = रजनो = राजि। राऊ--राजा। जलू -- उलूक = WHE = कुचकुचवा | भाऊ 5- 
भाव। पंखि-- पच्चो । कोटि मंह”-कोट में 5 किले में ot कोई कोटि से करोर 
कहते हैं सो ग्रन्य-कार का अर्थ नहो जान पडता, क्योंकि ग्रन्थ-कार करोर के अर्थ में 
ats का प्रयोग करते हेँं। et दोहे कौ ६ वो चौपाई देखो। गोटो 5 खेलने के 
लिये काठ वा पत्थल के रंग-दार छोटे छोटे SHS) जोभ "5 जिह्ला । रुच्दिर "5 रुधिर, 


८&-€०] सुधाकरु-चन्द्रिका | UBL 


जेंसे वधिर से बहिर । राता5- रक्त -- लाल। बद्सारिअ -- बैठाइये। afs— BE | कान = 
AT | आभरन = आभरण = गहना | सोन = t= सोना | 

धाई ने tat मति साज (कर) wa को caer, अर्थात्‌ रख छोडा। रात्रि में 
(जब ) राजा आया (शुक का) खोज हुआ ॥ रानो ने मान (अभिमान) से उत्तर 
दिया, कि पणष्डित wa at बिलेया ने ले लिया ॥ (शक के मरने का ताप राजा को 
न हो, इस लिये ga को निनन्‍दा करने लगो, कि) में ने सिंहल के पद्मिनौ को dar, 
(कि वह aat हें)। (इस पर उस ने) उत्तर दिया, कि तुम नागिनो (se के आगे) 
कौन हो, अर्थात्‌ कुछ नहों हो ॥ वह ऐसो है जेसे दिन ओर तुम अंधेरी रात हो । 
जहाँ aaa ऋतु हें, वहाँ करोल को बारो (ata) at कौन गणना Fy रात्रि 
( कालो नागमतो) का राजा तेरा पुरुष (ख्ामो, राजा रक्न-सेन) क्या हैं, अर्थात्‌ कुछ 
नहों। Se (saa) दिन का भाव ( प्रभाव) नहों जानता (क्याँकि वह राचि-चर है )॥ 
(at) कोट में गोटों-सा जो vet, वह क्या हे, अर्थात्‌ कुछ भो आदर योग्य नहीं है। 
(जो दुष्ट) छोटो जोभ से ऐसो ast बोलो कहता हैं॥ जो जो (ae) बात कहता है 
सो (जानोँ उस के मुख से) रुधिर चूता Si और (उस का) मुख भोजन करने, वा 
भोजन न करने, पर लाल-हो रहता है, अर्थात्‌ प्रेम से खिलादइय वा न खिलाइये, 
सवेदा क्रोध से लाल ga किये रहता है ॥ 

(at) afe wa (चाहे) wat भाँति सुन्दर (a) हो, तो (भो) उसे माथे पर 
नहों बेठाना चाहिए। (क्याँकि) उस सोना-हो को ले कर क्या ata, जिस के गहने से 
कान टूट जाय, अर्थात्‌ यद्यपि देखने में wa मनो-हर है, तथापि उस कौ बोलो से 
aca विदोएं हो जाता है। इस लिये ऐसे एक का न रहना-हो उत्तम है॥ ८८ ॥ 


चडपाई। 


राजइ सुनि fasta aa माना। जइस fess बिकरम पछिताना ॥ 
वह होरा-मनि पंडित रूआ। जो बोलइ मुख Afra चुआ॥ 
पंडित दुख-खंडित निरदोखा। पंडित ga परइ नहिं dar 
पंडित aft जौभ मुख atti पंडित बात ave न निबुधो॥ 
पंडित सु-मति देइ पथ लावा। जो कु-पंथ तेहि पंडित न भावा ॥ 


९४२ पदुमावति | ८ | नागमति-सुआ-संबाद-खंड | [ee 


पंडित wa बदन सरेखा। जो हतिआर रुहिर से देखा ॥ 
को परान घट आनहु aati at चलि Ee सुआ संग सतो ॥ 


दोच्चा | 


जनि जानहु कइ अडगुन मंदिर Wz सुख-राज | 
aq मंटि aa कर का कर भा न BATA leo ॥ 


fasta = fata) बिकरम 5 विक्रम | अंब्रित - अम्दत। दुख-खंडित — दुःख-खण्डित 
-- दुःख को खण्डित करने-वाला -- दुःख को दूर करने-वाला | निरदोखा = निर्देषि 5 
विना दोष at! हुतेच्से । रूधो 5 शद्ध। निवूधो ८ faite - बे-बुद्धि। राते ८ 
लाल -- ललित 55 रकत। बदन -- वदन 55 Ya! सरेखा ८ ओष्ठ 5 wat) हतिआरा 5८ 
हत्यारा। रुच्दिर --रुधिर । परान"5प्राण । घट ”-शरोर | आनहु "ले आवो। मतो 
-- नागमती । सतो 5"- भस्म । अडगुन "5" अवगुण | मंदिर 55 मन्दिर । राज राज्य । 
आफ़्सु- आज्ञा। मेंटि = मिटा कर। कंत = कान्त = पति = खामो। अकाज 55 BHT ॥ 

राजा (रानो से यह बात) ga कर तेसा-हो वियोग माना, अर्थात्‌ aur face 
से व्याकुल हुआ, जेसा कि राजा विक्रम (वियोग से) पकतताया ॥ ( कहावत है, कि 
राजा विक्रम के पास एक हौरा-मर्णि तोता था। उस ने एक fea राजा-रानो को 
एकान्त में बेठा देख, निवेदन किया, कि बन से आये बहुत दिन हो गये, आज्ञा हो 
तो कुछ दिन के लिये वन-विहाार कर आऊँ, और आप लोगों के लिये अमर-फल ले 
आऊं, जिस के खाने से मनुय्य न TE हो आर न AT इस बात पर प्रसन्न हो राजा- 
रानो ने उसे छोड fear) कुछ दिनों तक वन में विहार कर साथियों से मिल | 
अपने WET एक अमर-फल को ले कर लौटा, और राजा-रानो को प्रणाम कर 
फल को दिया। राजा-रानो ने विचारा, कि इस एक फल से तो एक-हो aaa युवा 
और अमर होगा, इसे लिये मालो को बुला कर, इसे साँपना चाहिए, faa में वह 
इस के बोज से va तयार करे। निदान मालो ने बडे aq से ats at कर दत्त 
तयार किया | जब छच में फल लगे तब राजा ने आज्ञा दिया, कि इस में से जो फल 
पक कर टपके उसे रानो को देना। देवात्‌ एक रात को एक फल टपका, उस के 
सुगन्ध से मोहित हो, एक महा विष-धर सप ने उसे अच्छो तरह से चाटा, जिस 


रू० ] सुधाकर-चन्द्रिका | ९४३ 


कारण aE फल विष-मय हो गया। प्रातःकाल मालो ने उसे Dis खच्छ कर रानो को 
डेवढो पर भेज fear) wat ने नया फल समझ, उसे कुत्ते को खिलाया | कुत्ता खाते-हो 
मर गया। इस पर रानो को बडा क्रोध हुआ, और यह समझ कर, कि दुष्ट तोते ने 
हम लोगो के लिये विष लाया हैं, ata को मरवा डाला, ओर यह सब sar 
राजा से भो कह सुनाया। पोछे से एक fea बूढे मालो से उस कौ बुढिया स्त्रो 
किसों कारण नाखुश हो, विचारों, कि चलो oat विष-फल को खा कर मर जायें, 
ae सोच sat उक्त में से एक फल को ate कर खा गई। खाते-हो ae जवान हो 
गई । बूढा मालो भो, उसे ded ढूँढते, say za के नोचे आया, ओर उस को यह 
गति देख चकित हो, पूँछने लगा। उस से सब aaa सुन उस ने भो एक फल को 
खाया ओर तुरन्त जवान हो गया। जब वह डालो ले कर राजा के सन्मुख गया राजा 
ने उस के जवान होने का कारण Gar तो जान पडा, कि होरा-मणि at के फल के 
प्रभाव से, ये दोनों जवान हो गये, इस UT राजा को बडा ताप हुआ, कि हाय, Tat 
ने विना समझे ऐसे तोते को मरवा डाला ॥ (राजा मन मेँ विचार करता है, fa) 
ae होरा-मणि wa पण्डित हैं, जो कुछ बोलता हैं, (जानों ) मुख से aaa wat है ॥ 
पण्डित दुःख से दूर ओर निर्दोष रहता है, पण्डित से धोखा wey पडता है, अर्थात्‌ 
पण्डित किसो से धोखा नहों खाता॥ पण्डित को fast मुख में (सदा) we, अर्थात्‌ 
पवित्र, रहतो है, पण्डित निबुद्धि अर्थात्‌ विना बुद्धि कौ बात नहीं कहता ॥ पण्डित 
gata (सुन्दर मति) दे कर oy में (gue में) लगाता हे, जो gay (SD 
राह) हे, ae faa पण्डित को नहों भाता (सोहता )॥ पण्डित का मुख (बदन ) ललित 
और श्रेष्ठ होता है। जो हत्यारा है ae (सो) रुधिर देखा जाता है, अर्थात्‌ उस का 
सुख रुधिर सा देख पडता Si (यह सब सोच कर राजा ने कहा, कि) हे नागमतो 
(aat), या (को) तो शरोर (घट) में प्राण को ले आवो, अर्थात्‌ मेरी शरोर ga 
के विना बे-प्राण को हो रहो है, खो या तो झुक को ले आ कर मेरो war मेँ 
प्राण दो। या तो (कौ) चल कर शुक के ay में सतो हो, अर्थात्‌ झुक के साथ 
aa at wa हो जाव ॥ 

कवि कहता हैं, कि यह मत (जनि) जानो, कि अवगुण कर के मन्दिर में सुख 
QT राज्य होता है। अपने खामो को आज्ञा मिटा कर किस का gars नहों होता, 
अर्थात्‌ सब का अकाज होता है ॥ ० ० ॥ 


९४४ पदुमावति | ८ | नागमंति-सुञ्या-संबाद-खंड | [ex 
चडपाई | 


चाँद asa ufa उजिअरि set) भा fas रोस गहन अस TET ॥ 
परम सोहाग निबाहि न at) भा दोहाग सेवा जब हारो॥ 
प्रतनिक दोस बिरचि fas रूठा। जो fas आपन कहदइ सो क्कूठा ॥ 
अइसइ गरब न भूलइ कोई। जेहि डर बहुत पिआरो सोई॥ 
Tat आइ धाइ के पासा। सुआ yar सेवरि az आसा 0 
परा पिरिति कंचन ae सोसा। बिथरि न मिलइ सावं पइ दौसा ॥ 
कहाँ Bart पास जेंहि me) देइ साहाग करइ FH ठाऊं ॥ 


Stet | 


az fos पिरिति भरोसइ _गरब ales faa Ais । 
afe fra EE परहेलो was नागरि नाह ॥ ८१॥ 


चाँद -- चन्द्र । जदस -- जेसो । धनि--धन्या "- नागमतो । उंजिअरि 5- उज्ज्वलित | 
अचहो "- थो । पिउ 5-८ प्रिय 55 पति 5 रज्न-सेन । रोस 55 रोष 55 क्रोध । गहन 5 ग्रहण । 
mat = wast गई। परम = अत्यन्त। साहाग = सोभाग्य 5- पति-सुख। निबाहि = faates 
पारी = wat) दाहाग = दोर्भाग्य = दुःख | Safes = इतना = एतावान्‌। दोख 55 दोष । 
facfa= रच कर R= ATC के। रूठा "5 रूष्ट हुआ । गरब--गव । पिआरो 55 पारौ 5 
प्रिया । भुआ 55 war = सेमर के फल को रूई। सेवँरि ८ सेमर 55 शाल्मलि। faa 
Rf कंचन -- कञझ्न - सुवण। सोसा "-सोसक । बविथरि - विस्थल हो कर "भ्रष्ट 
हो कर--वियुर BCH Fe कर अलग हो कर चारो ओर से विदौएं हो कर | 
arg = श्याम = काला । दौसा -- दोखा 5 देखा जाता Si सानार = खणकार | साहाग 
-- सौभाग्य वा सोहागा जो सोने at why गला देता और विशेष कान्तिमान कर 
देता है। ठाऊं-" स्थान । रिसरोस -क्रोध। Wet = परहेलित हुई --अवद्ेलित 
हुई -- अनादूत SX — आदर से रहित हुई । नागरि ८ हे नागरो = चतुरो WE! are 
= नाथ = eat = पति | यहाँ परहेला = अवहेला = अनादर ॥ 

भामिनो-विलास के प्रास्ताविक-विलास में लिखा है कि “समुपागतवति देवादवहेलां 
कुटज मधुकरे BVM: | मकरन्दलुन्दिलानामर विन्दानामयं AAA: ll” गोतिः ॥ 


EX —E2 | सुधाकर-चन्द्रिका | १४४ 


नागमतो Sat चाँद aa जो उज्ज्वलित थो, (sa उज्ज्वल चन्द्र में ) (जब) 
पति का रोस हुआ, (तब) ग्रहण के Tal पकड गईं, अर्थात्‌ पति के aw होने से, जो 
मुख-चन्द्र उज्ज्वलित था, ae ऐसा मलिन हो गया, जेसा ग्रहण में चन्द्र राह के पकडने 
से मलिन हो जाता हैं॥ (नागमतो) परम सौभाग्य को न निवाह wal, wat पति 
को प्रसन्न न कर सको | जब सेवा से चूक गई (हारौ) तब दौर्भाग्य (उत्पन्न) हुआ ॥ 
(अपने मन में कहने लगो कि), इतना-हो दोष के करने से पति रूठ गया, (सो) 
जो पति को अपना कहता है, सो झूठा है ॥ (कवि कहता है, कि जेसे aa में नागमती 
wet) ऐसे-हो गये में कोई न भूले faa को (पति का) डर हें, वहो (सो-६) 
(पति at) बहुत प्यारों Sat Fu (ऐसा सोच ar) रानो धाई के पास, Bar के 
wat (सदृश) शक को आशा से आई॥ (ओर कहने लगो, कि) प्रोति-रूपी aga 
(gat) में (पति-रोस-रूपो ) सोसा पड गया। (at सुवण) फट कर (विथरि) नहीं 
मिलता है, (सोसे को) श्यामता, अर्थात्‌ कालो दाग, अवश्य (पद --अपि-- निश्चय ) 
देखो mat = अर्थात्‌ देख पडतो Fu (सो, हे सखि,) Mare कहाँ हैं, जिस के पास 
(में ) ars, (और ae) सोभाग्य वा सोहागा दे कर (फटे प्रौति-रूपी सोने को) एक 
स्थान में करे ॥ 

में पति को प्रोति के भरोसे जो में aa किया। (fast से जो ew पर रिस 
किया ), तिखो fra से बे-आदर को हुई हू, (क्योंकि), हे नागरि (aad) धाई, 
पति (are) रूस गया है ॥ ८ १॥ 


चडपाई | 


उतर धाइ तब ete रिसाईं। fra आपु-हि बुधि अउरहि खाई॥ 
मई जो कहा रिस करहु न बाला। को न ay फ्रहि रिस कर घाला ॥ 
तूँ fa भरी न देखेंसि आगू। रिस मंह का कह ws सोहागू ॥ 
faca बिरोध रिस-हि vz Fd fra मारइ तेहि मार न कोई ॥ 
जेहि fra तेहि रस जोगि नजाई। faq रस हरदि होइ पिअराई॥ 
afe ag रिसमरिअइ रस जोजइ। सो रस तजि fra कोह न कौजइ॥ 


aa साह्ग न पाइअ साधा। पावइ ale जो ओआहि चित बाँधा ॥ 
9 


UE पदुमावति | ८ | नागमरति-सुग्मा-संवाद-खंड | [eR 


Stet | 
Tez जो पिउ के आज़्सु AT away होइ la 
सोइ चाँद अस निरमर जरम न होइ मलौन ॥ €२ ॥ 


उतर = उत्तर । धाद 55 धाई 5 धात्रो । रिसाई 5८ क्रोध कर 55 रोष कर । आपु-हि ८ 
अपनो-हो | बुधि--बुद्धि। अउरहि - अपरहि = gat at) खाई--खाता है। बाला 
= बालिका = कन्या = बेटो । कर 55 हाथ । घाला = नाश | STI = सोभाग्य । fara 
= विरस = फो का-पन | विरोध वेर-भाव। os = अपि = निश्चय | जोगि 55 योग कर के 
= नियम कर a. faq=faa | हरदि ८ हरिदट्रा । पिअराई 55 पोला पन । मसरिअद ८८ 
मर जाइये। जोजइ-"-जो जाइय । कोह उू" क्रोध । साधा ८ अद्भा । बरतइ -ब्रत करे। 
खोन = चौए -- ca) । निरमर = fade । जरम = जन्म । मलोन = मलिन = मैला ॥ 

तब wit ने fea कर के उत्तर दिया, (कि) fre से अपनो-हो बुद्धि Arti को 
खाती है, अर्थात्‌ fra से अपनो बुद्धि, चाण्डाल-खरूपा हो कर, और निरपराधियोँ को 
खाने लगतो Fu AA जो कहा, कि बेटो (बाला) fra न करो, (क्याँकि) दस 
fra} हाथ (कर) से कौन (को) नाश (घाला) को नहीँ प्राप्त हुआ (गण़ऊ) ॥ 
( परन्तु aa मानो, ओर ) fre से भरो आगे नहीं देखो, (कि क्या होने-वाला है)। 
(सो सुन तो सहो) रिस में किस को सोभाग्य हुआ हैं, अर्थात्‌ भला हुआ हैं॥ 
निश्चय (समझो ) रिस-हो से विरस और विरोध होता है। (जो) रिस को मारता हैं, 
अर्थात्‌ रोकता है, तिसे कोई नहों मारता॥ जिसे रिस है, तिस के यहाँ नियम से, 
रस नहों जाता। ओर जहाँ Teel नहों हे, अर्थात्‌ नौरस हैं, तहाँ रस के विना 
aay के BA पिञराई Sat हे, अर्थात्‌ नौरस होने से उस का चेहरा Baar हरदौ के 
शेसा Var रहता है fae fea को कर (पोला होते होते) मर जाइये, आर जिस 
रस से जो asa उस (सो) रस को त्याग कर (तजि), fra ओर क्रोध (ate) न 
कीजिये । (जो क्रोध wae के भोतर-हौ रहता है, wre नहीं होता, डसे रोष वा 
fea कहते हैं, वहो प्रगट होने से क्रोध कहाता है)॥ ated (कंत) का सोभाग्य, 
अर्थात्‌ पति-सोख्य, ( केवल ) श्रद्धा, अर्थात्‌ इच्छा से नहों पाया जाता | (उस सुख at) 
aet (सोई) पाता हैं, जो (अपने ) चित्त ( —faa) को उस में (ओहि), शत्रर्थात्‌ उस _ 
पति में, बाँध देता हैं ॥ 


&२-€८३ ] सुधाकर-चन्द्रिका | ९४७३ 


जो पति कौ आज्ञा में रहे, और (उस के प्रसन्न के लिये) Qu हो कर ब्रत करे। 
सो (wt) चन्द्र के ऐसा निर्मल हो, ओर जन्म भर मलिन न Tee 


चजउपाई | 


जुआ-हारि wept मन Tat! सुआ se राजा कह sat | 
मानु wat ET गरब न AIST) कंत तुम्हार ATA मई ate | 
सेवा करइ जो बरह-उ मासा। safaa अडगुन are बिनासा ॥ 
aS qe देइ नाइ az गोवा। छाँडह नहिं faq मारे जोवा | 
मिलत-हि Fe aq wey निरारे। तुम्हसउ अहहि अदेस पिआरे | 
मईं जाना Ge मो-हों माँहा। देख ताकि त सब हिअ माँहा ॥ 
का रानौ का चेरो कोई। जा कह मया करह भल सोई ॥ 
| tet | ‘ 
qe ay कोइ न stat हारे बररुचि भोज । 
पहिलहि आपु जो खोअई करइ तुम्हारा खोज ॥ ८३ ॥ 


इति नागमतो-सुआ-संवाद-खंड ॥ ८॥ 


जुआ = FM = द्यूत Al = मानो | मतौ = मति — बुद्धि । गुरव = गवे = अभिमान | 
कंत -- कान्त "पति । मरम -मर्म "भेद | बरंह-उ--बारहो। vafaa -- दतना = 
एतावान्‌ | Baga = अवगुण । बिनासा = विनाश | aR — नवाँ कर — झुँका कर । गौवा 
> ग्रौवा-" गला | निरारे"-निरालय = अलग = दूर | अंदेख — ata -- संशय 55 डर | 
पिश्नारे - हे प्रिय । ताकि तक कर, वा आँख उठा कर | त--तो.- तदा। F= 
चेटिका = Bist | मया = माया = दया = कृपा । बररूुचि 55 वररूचि 55 विक्रम के नवरत्नों 
में से एक tae पण्डित, जिस ने प्राकृत का व्याकरण बनाया है। बहुत से लोग 
mea व्याकरण के कर्त्ता को दूसरा वररुचि कहते हैँ, ओर इस का दूसरा नाम 
कात्यायन कहते हैं॥ भोज -- धारा के राजा प्रश्चिद्ट संकृतानुरागो ॥ 

(अन्त मे धाई ने wa को दिया। wa के पाने पर) रानो ने मन में जुआ- 
. हार समझो, अर्थात्‌ जैसे जुआ को हारों चोज fae Bt फेर से मिल mas, उसो 


Ys पदुमावति | ८ | नागमर्ति-सुआ-संवाद-खंड | [es 


जुआ-हार के समान wa का मिलना रानो ने समझा। जुआरीो लोग हाथों में जब 
चाहते हैं" तब कौडो को छिपा लेते हैं फिर me कर देते हैं। सो आन कर 
(arat) राजा को wa दे दिया। (और कहने लगो, कि) म॒ति को, अर्थात्‌ इस 
मेरे कहने को, मानो। में ने गवे नहों किया था। ( faq), हे ara, में ने Geer 
aa लिया, तर्थात्‌ तुमारा भेद लिया, (कि qa मुझे कसा चाहते हो)॥ (सो समझ 
लिया, कि) बारहो मास जो (लुन्हारो) सेवा करे, (उस का भो) इतने-हो saga 
पर (तुम) विनाश कर डालते हो, (इस में संशय नहीं )॥ यदि तुन्दें झुँका कर ( नाइ ) 
(अपनो ) गला भो दे दे, (तो भौ) विना जो मारे न छोडो ॥ (at तुम) मिलते-हो 
में जानाँ अलगं हो, अर्थात्‌ यद्यपि प्रतिदिन आप से समागम होता हैं, तथापि आप 
ऐसे निर्मेद्दो हो, जानाँ कभो को भेंट मुलाकात नहों । सो, हे प्यारे, तुम से (qa) 
डर है, (कि कभो किस के प्रेम में फंस कर मुझ से दूर न हो जाव)॥ में ने जाना 
था कि तुम मेरे-हो में हो, अर्थात्‌ मुझे छोड अन्य से कुछ भो wa asl रखते 
हो, wey ah कर के, वा आँख उठा कर, देखतो हू, तो (तुम) सब के इदय में 
हो ॥ (सो) क्या रानो, क्या कोई चेरो, जिस के ऊपर (तुम) Bar (दया ) करो, वच्ो 
(mE) wat 3, अर्थात्‌ रूप का गबे करना व्यथे है, जिस को तुम चाहो get amt 
रूपवतो ओर सोौभाग्णवतो = ॥ ँ 

(at) तुम से कोई नहों जोता, वररुचि ऐसे विद्वान, आर भोज ऐसे योगि-राज 
(जिस को बनाई सांख्य-रूच पर दत्ति हैं) भो तुम से हार aa) जो कोई पहले 
(समाधि लगा कर वा आप के नाम को TS TS AT) : अपने at ata, अर्थात्‌ इस 
संसार से विरक्त हो जाय तब, वह तुन्दारा खोज करे (तो Wa तो पावे)॥ यहाँ 
पति at Wag मानने से पर-ब्रह्म के पक्ष में भो दोहा समेत सब चोपाइयाँ aa 
जातो हैं ॥ ८ ३ ॥ 


इति नागमतौ-शुक-संवाद-खण्ड-नामाष्टम-खण्डं समाप्तम्‌॥ ८ ॥ 


é8 ] । सुधाकर-चन्द्रिका | UWE 


AT राजा-सुआ-संवाद-खंड ॥ € ॥ 
SS hee eS 


चजलपाई | 


राजइ कहा AA कह रूआ। faq सत कस जस सेवरि qari 
होइ मुख रात सत्त कह बाता। जहाँ AN AS धरम संघाता | 
बाँधो सिसिटि sez aa केरो। लछिमी आहि aa कद a 
सत्त जहाँ साहस सिधि पावा। अड सत-बादोौ yee कहावा॥ 
सत कह सतो VATE सरा। आगि लाइ चहुँ दिसि aa जरा ॥ 
दुइ जग तरा AAT राखा। अउरु पिआर दइहि सत-भाखा॥ 
से। aa ais जो धरम बिनासा। का मति fens ales सत-नासा | 
Stet | 
qe aaa अउ पंडित अ-सत न भाखह AIT | 

सत्त कददहु GEA AS दहुँ का कर अनिआउ ॥ €४ ॥ 
सत्त -- सत्य । सत5- सत्य । सेवँरि --सेमर 55 शाल्मलो | भूआ -सेमर के फल को 
ei) रात - रक्त "ललित | घरम "धर्म । संघाता 55 संघात -- समूह । fafafe— 
ef: लक्षिमो>लक्ष्मो। आहि--है। F=Ffear—aiet सिधित-सिद्धि | 
सत-बादौ = सत्य-वा = सत्य बोलने-वाला'। पुरुख -- पुरुष | सतो - जो स्त्रो म्टत-पति के 
साथ भस्म होने wat है। सरा८”"शर८"-चिता। पिआर प्यार ८प्रिय efe= 
ईश्वर at= देव को | भाखा 55 भाषा | बिनासा 55 विनाश किया |) सत-नासा = सत्य-नाश 


we पदुमावति | € | राजा-सुआ-संवाद-खंड | [६४-८४ 


. करने-वालो। सयान = BST = चतुर = माननौय | अ-सत 55 अ-सत्य । BIS = कभौ = 
कापि। दर्िह - दोनों में से। अनआउ = अन्याय ॥ 

राजा ने कहा, कि, हे WH, सत्य AT) (क्यांकि) ar aa के | केसा हैं? Fe 
सेमर का wt (जो कि ga देने से उड़ जाता हैं)॥ (क्योंकि) सत्य कौ वार्त्ता 
(कहने) से मुख ललित होता है, अर्थात्‌ रहता हैं। ओर जहाँ पर सत्य है तहाँ 
Ua का समूह रहता है (क्योंकि meat में भो लिखा हैं, कि सत्यान्नास्ति परो धर्म: )॥ 
सत्य--हो ) कौ बाँधो रूृष्टि है, सत्य--हो) को चेरो wat Fu जहाँ पर सत्य है, 
तहाँ साहस से (सहसा से) (भो) fate पाई जातो है, अर्थात्‌ प्रश्तिद्ध है, कि 
साहस से काये को सिद्धि नहों होती, परन्तु जहाँ सत्य है, तहाँ साहस करने से भो 
कार्य की सिद्धि होतो है। ओर जहाँ सत्य है, वह पुरुष सत्य-वादों कह्ाता है ॥ सत्य- 
( सत्य-लोक-)-छो के लिये सतो चिता (सरा) को रचतो है (रूँवारदइ), और wash 
से, अर्थात्‌ विवाह के समय जो पति से सप्त-पदौ के समय कहा है, कि आप के दुःख 
रुख दोनोँ में साथ रहूँँगो, इस वचन को सत्य करने-हो के लिये चारो दिशा मेँ 
आग (अग्नि) को लगा कर जलतो हे॥ जिस ने सत्य को Taal, ae दोनाँ जग को, 
अर्थात्‌ इस लोक ओर परलोक को, तर गया (पार हो गया), ओर ईश्वर को 
(ate) भो सत्य-भाषा ae हैं॥ ऐसे सत्य को जो wa का विनाश करता है, 
ast (सो) छोडता है| (सो, हे शक, ) क्या तुम ने हृदय में सत्य-नाश करने-वालो 
afa को किया, अर्थात खेद को वात है, कि व्यर्थ तुम ने “ डलू न जान दिवस कर 
भाऊ” (८८ at ster) दत्यादि वाक्य से मेरो निन्‍दा कौ ॥ 
. (सो) तुम सयाने ओर पण्डित हो | तुम कभो अ-सत्य नहों कहते हो (भावह्ु)। 
तुम मुझ से सत्य कहो, कि (नाग-मतो और तुम इन) दोनों में से किस का 
अन्याय है, अर्थात्‌ सच मुच तुम ने मेरो निन्‍दा को, वा नाग-मतो ने अपने मन से 
बात बना कर मुझ से ae दिया हैं ॥८४॥ 


| | SUT | 
ana कह्त राजा fas जाऊ। . पइ मुख अ-सत न AIST काऊ ॥ 
eu aa az निसरा फ्रहि wi सिंघल-दौप राज घर Ea 
पदुमावति राजा कइ बारौ। पदुम-गंध ससि बिधि अउतारी ॥ 


&५ | सुधाकर-चन्द्रिका | १४९ 


ससि-मुख अंग मलय-गिरि रानो। कनक सुगंध दुआदस बानो॥ 
efe पदुमिनि जो सिंघल माँहा। सुगंध सुरूप सो dfs कइ छाँहा ॥ 
हौरा-मनि es तेहि क परेवा। काँठा फूट करत तेहि सेवा॥ 
A ups मानुस कइ भाखा। नाहि a पंखि मूठि भर पाँखा॥ 
दोहा | 
az लहि जिअड राति दिन waft acy ओहि arg | 
मुख Ua तन हरिअर ge जगत पइ जाडं॥८५॥ 


सत्त सत्य । जिउ -"जोव । अ-सत -- अ-सत्य | निसरा 5 निःसरण किया, निकला | 
पर्तें5- पत्तन में- देश में। हते =F पदुमावति -- पद्मावती । बारौ = बालिका = कन्या | 
पदुम = पद्म - कमल । गंध — गन्ध — Gray -- खुशबू -- महक। ससि -- शशि — TAT 
बिधि 55 विधि 5 ब्रह्मा । अउतारो 5-5 अवतार feat) मलय-गिरि = मलयाचल = मलय- 
पहाड जहाँ पर मलय चन्दन होता हैं। दुआदस 55 द्वादश | बानौ -- वर्ण । पदुमिनि 5८ 
पद्मिनो । छाँहा "छाया 5-८ प्रतिविग्ब । परेवा 55 पारावत 55 पत्तों । काँठा ८ कण्ठा | 
मानुस = मनुय्य । पंखि 5 पक्षी । पाँखा 5 पक्ष ay लहि "-जब तक। रातिच््ररात्रि। 
waft स्मरण कर के। राता--रक्त --ललित | हरिअर -- हरित a= हरा। दुहूँर- 
दोनाँ | पद = अपि = निश्चय = अवश्य ॥ 

(ua ने कहा, कि), है राजा, सत्य कहते (चाहे) जौ (चला) जाय, परन्तु 
(aq) (में ) कभों अ-सत्य नहों कहता ॥ स्त्य-हो को ले कर (में ) इस देश में 
(qa) निकला हूँ, अर्थात्‌ निकल कर आया हुँ, (नहों तो) सरिंहल-दोप में राजा के 
घर में (हम) थ॥ (मेरा gam सुनिये), (सिंहल-दोप) के राजा को पद्मावतो 
कन्या हैं। (उस को ऐसो शोभा हे, wat) ब्रह्मा ने कमल के Qua सहित शशि 
(चन्द्र) का अवतार दिया है॥ उस wat का मुख तो wear (uf) आर aE 
मलयाचल हें, (उम्र का वे Bar हे, wat) सुगन्ध सहित द्ादश aw अर्थात्‌ 
दादशादित्य के ऐसा प्रज्वलित वर्ण (उत्तम सुवण) gan (HAH) हो॥ सिंहल में 
ओर जो पद्मिनो (feat) हें, सो (सब) सुगन्ध ओर सुरूप में तिस (पद्मावतो) 
कौ छाया (प्रतिविम्ब) हैं ॥ faa पद्मावती का (में ) हौरा-मणि vat =. तिसो 
को सेवा करते (मेरा) कण्ठा Get अर्थात्‌ जवान हुआ ॥ ( सुग्ग जब जवान होते हैं 


WR पदुमावति | € | राजा-सुद्या-संवाद-खंड | €५-८€६ ] 


तब उन के गले में लाल-कालों एक wo जिसे कण्ठा कहते हैँ निकलतो है। उसो 
को लोग कहते हैं कि कण्डा Fer) और aq को भाषा पाया, ae at qa 
(qfe) भर पंख रखने-वाला gat हूँ (मेरे में क्या विशेषता) ॥ 

(at) जब तक जोता हू, Sal (पद्मावतो ) का नाम स्मरण कर के मरता &, अर्थात्‌ 
उस के उपकार को भुला कर BAW नहों बना चाहता, किन्तु अपनो agar से 
उस के sunt को स्मरण कर मरता हूँ, कि हा में ने उस का कुछ उपकार न 
किया, (और इसो सत्यता के कारण, कि में उस के उपकार को मानता हू)। दोनों 
जगत्‌ मेँ, अर्थात्‌ इस लोक और परलोक में, जहाँ जाऊँ अवश्य मेरा मुख ललित 
और शरोर (तन- तनु) इरित रहेगो (क्योंकि मे सत्य-वादो हू, झूठे का मुँह काला 
MT शरोर पोलो हो जातो है) uc 

चडपाई | 
Safa जो कवल बखाना। सुनि राजा होइ wat Yara ॥ 
आगे आउ पंखि उजिआरे। कहे सो दौप पनिग के मारे ॥ 
रहा जा कनक सुबासिक ठाऊं। कस न हो हौरा-मनि नाऊ॥ 
को राजा कस दौप gin जेहि र॑ सुनत मन भणज़्ड पतंगू॥ 
सुनि सो समुद चखु भफ्न किलकिला । क्वलहि Wey wat होइ मिला ॥ 
ae ॒ सुगंध धनि “कस निरमरौ। दहुँ अलि संग कि अब-हो करो i 
SAY AE जो पदुमिनि लेनो। घर घर सब के fe जस Hat 
दोहा | 
सबइ बखान तहाँ कर AEA सो मो aT ATT | 
wey quae देखा सुनत उठा तस Weed 


हौरा-मनि = हो रा-मणि | aaa = कमल । भवंर 55 BAT! पंखि -- पच्षो । Sfamz 
-- उज्ज्वल | दौप "5 दौया वा aly पनिग -- पन्नग "- सप "5 नाग। मारे "मार fear 
कनक = Baw | सुवासिक 55 सुगन्धवान "- गमकदार । ठाऊं- स्थान | पतंग 5८ पतड्ढ 5८ 
फतिड्डग = कौट, जो दौप को देख कर उस के यहाँ दोड कर जाता है, आर उस को ज्वाला से 
भस्म हो कर प्राण देता Fi समुद समुद्र | चखु -- चक्तु: - नेत्र । किलकिला = सातवाँ 


€ंई-€७ | सुधाकर-चन्द्रिका | (WR 


समुद्र, जिस का ava रक्र-सेन को यात्रा मेँ कवि ने wa किया हैं कि “पुनि 
किलकिला समुद ae आए ”। धनि्-धन्या ”-प्मावती । कस केसों। निरमरोौर्- 
निर्मला | cea जाने--दोनों में से। अलि -भ्रमर | करो 5" कलौो 55 कलिका | 
पदुमिनि 55 पद्मिनो । लोनो = gett = लवण से युक्त । बखान -- वन | आउ = आवो। 
WIS = चाह = इच्छा ॥ 

होरा-मणि ने जो कमल (पद्मवतों) का बखान किया, (तो उस बखान को) सुन 
कर, राजा Bat हो कर (उस कमल A) wa गया ॥ (लगा कहने, कि) हे 
उज्ज्वल vat, आग ar, जिस दोप को (ते ने) wer, उस ने (सो) (at) सर्प को 
(पत्नग को) मार दिया। (यहाँ दोफ-पद में ay हैं, अर्थात्‌ ay से aa को 
ले कर राजा कहता है, कि ata अपनो प्रज्वलित शिखा से छोटे छोटे कौटो को 
मारता है, परन्तु इस दोप (दोये) ने तो wan, जो में, तिसो को मार दिया । 
वा पन्नग, जो नाग-मतो, तिस को मार दिया, क्योंकि में डसे अब त्याग कर कमल 
( पद्मावती ) सें भूल गया ॥ (at) जो a कनक (सुवण) गमक-दार (सुवासिक ) 
स्थान में, अर्थात्‌ सिंहल-दोप में, रहा, (तब) केसे न तेरा नाम होरा-मणि हो, 
अर्थात्‌ ऐसे सुन्दर स्थान में रहने-हो से, aa होरा-मरणि ऐसा सुन्दर नाम पाया ॥ 
(सो कह, कि वहाँ का) कौन राजा है, ओर वह दौप केसा say (उत्तुज्ज-- ऊंचा) 
है, जिस (दौप--दौये) को सुनते-हो, रे (शक), मेरा मन फतिंगा हो गया ॥ 
(और जिस को) सुन कर मेरे नेत्र किलकिला समुद्र हो गये, अर्थात्‌ जेसे लहरों से 
किलकिला समुद्र व्याकुल रहता है, तेसे-हो उस के दशेन के vay में नेत्र व्याकुल 
हो रहे हैं ॥ (सो) कह, कि वह सुगन्ध से भरो yar (पद्मावतो) कैसो निर्मल है, 
wat (अलि) के ay है, वा way कलिका (amet) है, अर्थात्‌ विवाह हो गया है, 
वा कुआँरो है ॥ और तहाँ जो सुन्दर पद्मिनो हैं, ओर सब के घर घर जेसे aq 
(stat) होते हैं (उन का a aaa) कह ॥ 

तहाँ का मुझ से सब बखान कहता आव । में उस दौप को देखा चाहता हूं । 


(तिस दौप का नाम) सुनते तेसो-हो (देखने को) we (इच्छा) उठो है ॥ ८ ६॥ 
चडपाई | 


का राजा ES away तारू। सिंघल-दौप आहि कबिलारू॥ 


जे गा तहाँ Yay ati गइ जुग बौति न बहुरा कोई॥ 
20 


२४४ पदुमावति | € | राजा-स॒ुआ-संवाद-खंड | [es 


घर घर पदुमिनि छतिस-ड जाती। सदा बसंत दिवस अड Tat ॥ 
जेहि जेहि बरन फूल फूलवारी। तेहि तेहि acta सु-गंध सो नारौ ॥ 
गंधरब-सेन तहाँ. बड wat) wales ate इंदर बिधि साजा ॥ 
से। पदुमावति ता aft ati ay सब दौप are उजिआरो॥ 
ae खंड के बर जो ओनाहों। गरबहि राजा बोलइ नाहो॥ 


दोच्चा | 


THT wt wa देखो चाँद छपइ तेहि धूप । 
अइसइ सबइ जाहि छपि पदुमावति के रूप॥ €७॥ 


आहि्- 2 कबिलास््‌ ८ कैलास | जुगत-युग। बहुरा-फिरा afaeg— 
amet) रातो८-रात्ि | बरनत-वर्ण--रज्ञ । फूल-फुल्न-- पुष्प । फुलवारो्- 
पुष्प-वाटिका | गँधरब 55 गन्धंवे । अकरिन्ह = अपश्मरा-गण | इंदर = इन्द्र AT 5-बालिका = 
कन्या । दौप5द्ौप वा दौया | उंजिआरो उज्ज्वल । w= wt! Bare = 
झुंकते हैं । गरब गर्व । उद्मत--उदय होते। asl चाँद चन्द्र। y= 
धाम "5 तेज। पदुमावति = पद्मावतो ॥ 

(stm कहता है, कि) हे राजा, तिस (सिंहल-दोप) का क्या ata करूँ । 
( यहो समझो, कि) सिंहल-दोप Fara हैं॥ जो (कोई) वहाँ गया, कि वह (सोई) 
भुलाया। युग ata गया (परन्तु वहाँ से फिर) कोई न लौटा बहुरा॥ (कवि के मत से 
युग स्त्रो-लिज्ज हैं, इस लिये ae का प्रयोग किया है| संहिता-कारोँ के मतसे ४ ह३२९२०००० 
सौर वर्ष का एक युग होता है, ओर ज्यौतिष-वेदाज़ के मतानुसार एक युग पाँच सौर 
वर्ष का होता हे। Get बात ४ वें AS को टोका में भो Su ( वहाँ) घर घर euler 
जाति पद्चिनो SF (चार प्रकार को wt etal हैं, हस्तिनो, wigs, चित्रिणो Ax 
ufgat । इन में पद्मिनो सब से उत्तम ओर मनोहर होतो F । इसो ग्रन्य मे जहाँ 
wea चेतन ने बादशाह से पद्मावती का वर्णन किया हैं, तहाँ सब का लक्षण लिखा 
है। aft सिंहल-दोप छोड ओर waa कहो नहो उत्पन्न etal ब्राह्मण 
दर्श-विध, ag-ais, और पश्च-द्राविड | पच्च-गौड में सारखत ९ । कान्यकुज ९।गौड ₹। 
मेंथिल ४ । उत्कल ५॥ पश्न-द्राविंड में, कार्णाट्रक ९ | द्राविड २ | गुंजेर ३। महाराष््र 8 । 


go-és | सुधाकर-चन्द्रिका | = अ323 


awe ६॥ १॥ क्षत्रिय । रूय-वंशो, चन्द्र-वंशो, इत्यादि mst समय के। aa, 
बघेला, चन्दला, चौहान, पमार, GHIA, गहरवार, विसेन, इत्यादि आजकल के॥ २॥ वैश्य । 
अगर-वाला TAS ॥ ३ ॥ MAT ४ ॥ कलवार॥ ४५ ॥ बनिया॥ ६ ॥ कायस्थ॥ ७ ॥ पटवा 
(पट-हारा) ॥ ८ ॥ ATT ॥ ८॥ ठठेर॥ १० ॥ HATH AAU गूजर ॥ ९२९॥ तमोलो, ATE ॥२३॥ 
THEA UWB ATH UW लोहार ॥९६॥ भाट॥१७॥ तेलो॥९८॥ मालो॥९२८॥ 
TATU २९॥ छोपो॥ २९॥ नट॥ २२९॥ डोम ॥ २३॥ ढोल "-कोल, भिन्न॥२४॥ हेला र- 
हलालखोर = सहनाई बजानेवाला॥ २४५॥ धोबो॥ २६॥ चमार॥२७॥ कोहार॥२८॥ 
HFA ॥ २० ॥ AUC ॥३०॥ कहार, WaT, गाँड, Aig ॥३९॥ Ware, Faz, waz, 
uaa, बच्ेलिया agi नोनिया ॥३३॥ भर, wat, दुसाध ॥३४॥ खटिक॥ ३५॥ 
गडेरिया॥ ३६॥ इस प्रान्त में Sse जाति प्रधान हैं। देश विशेष में कुछ इन्हीं मे हेर फर 
है)॥ और सदा (सर्वदा ) दिन और रात वसनन्‍्त ऋतु (ऋतु-राज) रहता है॥ Fae 
में जिस जिस am के फूल होते हैं, तिसो तिसौ वे कौ सु-गन्ध से भरों वहाँ नारियाँ 
= | तहाँ का प्रधान (बड--वर ) राजा गन्धवे-सेन हें, ब्रह्मा fafa) ने (उसे) 
अप्सराओँ (अप्मरा सदृश युवतियाँ) के Me इन्द्र (ऐसा) सजा (शोभित किया) हैं ॥ 
तिसो (राजा) को कन्या ae (सो) पद्मावतो है, ओर ae (कन्या) सब DD (सब 
दौये-खो और युवतियाँ) मे उज्ज्वलित Fu (विवाह के लिये) चारो (es) ओर 
(खण्ड ) के जो वर (वहाँ) झुंकते हैं (ओनाहों)। राजा (गन्धवे-सेन) गवे से (उन 
से) बोलता नहों, अयात्‌ अपने समान न देख उन्हें AH समझता हे ॥ 

जैसे qa उदय होता हो (वेसो-हो पद्मावती को afer) देखो है, अर्थात्‌ देख 
पडतो है । (जैसे ) तिस रूये के तेज (धूप) से ae छिप जाता हैं, ऐसे-हो पद्मावती 
के रूप के आगे सब छिप जाते हें, अर्थात्‌ उस कौ कान्ति के आगे सब कौ atin 
फोको पड जातो है ॥८ ७॥ 


चडपाई | 


afa रबि नाउ रतन भा राता। पंडित फेरि इच्दइ aE बाता॥ 
तुई ata मूरति वह कहो। चित ae लागि चितर होइ रहौ ॥ 
aq होइ GRA आइ मन बसो। सब घट पूरि हिआइ परगसो॥ 
अब eT सुरुज चाँद वह छाया। जल faq मौन रकत faq काया || 


WE परदुमावति | € | राजा-सुआ-संवाद-खंड | [ex 


faftfa करा भा पेम अकूरू। sy ससि सरग मिलड होइ रूरू ॥ 
सहस-उ करा रूप मन wa) जह जह दिसिटि aaa जनु फूला I 
तहाँ wat fas कवला wat भइ ससि राहु aft रिनि-बंधी ॥ 


etEt | 


तौनि लेक wee we सबइ परइ मोहि रूझि। 
ta aif fag ase न (लेना) जे देख मन बुझि eel 


नाउ = नाम। रतन - रह्न ( रब्न-सेन )। राता = रक्त। बाता 5 वार््ता। AST -- बया = 
ते ने। सु-रंग = सु-रज् 5 सुन्दर-व् । मूरति 55 सूत्ति । चित "-चित्त | चितर 5८ चित्र । 
सुरुज 55 रूये uft=— पूर्ण हो कर wat 5 प्रकाशित हुई । रकत 5 रक्त । काया ८ 
काय -- शरौर । किरिनि-- किरण । करा "कला | प्रेमत्प्रेम | अकूरू ८ अछूर ८ 
Rar) ससि 55 शशो। सरग 55 स्वगे। @e— रूय। सहस-उ 55 सहस्त-उ। करा = कर ८८ 
किरण | दिसिटित्दृष्टि | कवल 55 कमल । भवंर ८भ्रमर । गंधौ -गन्ध से भरा | 
रिनि ८"- ऋण | Fe} =a गया | see = चोदह = चलुदंश | खेंड -- खण्ड (yA) | 


(पिछले दोहे में होरा-मणि ने जो पद्मावती के awa में कहा, कि “waa ar 
जस देखो, ” इस) रवि के (पद्मावती के) नाम को सुन कर रक्न-सेन रक्त हो गया, 
अर्थात्‌ जेसे रूये के प्रकाश से रूये-कान्त मणि अश्नि-मय हो रक्त हो जातो है, sat 
प्रकार यहाँ पद्मावती रवि के नाम-हो सुनने से यह ta (रत्न-सेन) लाल हो गया। 
(जानाँ उस रवि का तेज इस के शरोर में Gs गया, ओर लगा कहने, कि ) रे पण्डित, 
(क्षेरा-मणि ), फिर ae} बात कह, अर्थात्‌ पद्मावती का वर्णन कर ॥ (क्याँकि) ते ने 
जो उस ate मूत्ति को कहा, अर्थात्‌ जो उस सु-रड्ढ मूत्ति का वर्णन किया, वह चित्त 
में लग कर, अर्थात्‌ we कर, चित्र (तसबोर ) हो रहो है ॥ जानोँ (वह मूत्ति) रूये 
हो कर (मेरे) मन में बस गई, ओर सब घट (शरौर) में पूर्ण हो कर, अर्थात्‌ 
भर कर, इदय में प्रकाशित (विकसित) हुई॥ अब में aa उस चन्द्र (पद्मावती) की 
काया (प्रतिविम्ब) हूं, श्रर्यात्‌ ज्यौतिष-शास्त्र से तो यह सिद्ध है, कि रवि के प्रतिविम्ब 
से चन्द्रमा में कान्ति आतो है, परन्तु यहाँ उलटा हो गया, weed पद्मावतो-हीो 
के प्रतिविम्ब से अब रक्न-सेन रूये कान्तिमान्‌ हो सकता है, ( नहों तो, अब मेरी BH 


és] सुधाकर-चन्द्रिका | Ws 


दशा हैं, 38) जल के विना मोन (aq), वा रक्त के विना wae (काय)॥ (ae 
रूपो पद्मावतो को मूत्ति जो हृदय में विकसित हुई, उस के) किरण के कला (प्रभाव) 
से (इदय में) प्रेम का agy उत्पन्न हुआ, (सो) यदि खर्ग में भो वह शशो 
( पद्मावतों ) हो, at भो aa हो कर (उस से ) fare ॥ प्रेम से राजा fase हो गया, 
इसो से अपने ओर पद्मावतो में अभेद समझ, कभों पद्मावती को रूये, कभों चन्द्र 
कहता हैं। सहखों किरण-वाला, अर्थात्‌ eter जो (पद्मावती का) रूप, उस में 
(Ai) मन wa गया, (इस लिये) जहाँ जहाँ दृष्टि करता हूँ, तहाँ जानाँ कमल-हो 
फूला हैं, अर्थात्‌ जहाँ दृष्टि करता हू, तहाँ पद्मावती कमल-हौ देख पडतो है, अर्थात्‌ 
कौट wy को दशा हो गई हे॥ wy पर-दार एक प्रसिद्ध कौट हैं, जिसे भाषा में 
बिलनो कहते हैं va का खभाव हैं, कि किसो विजातोय कृमि को ले ar कर अपने 
घर में रख देता हैं। रखने के समय उस को एक SE मार देता हैं। उस कौ Azar 
से उस कोट को बडा भय हो जाता है, ओर दिन रात रूज़-हो के ध्यान a मग्न हो 
जाता हैं, कि फिर आ कर SHA मारे। सो WE के ध्यान में ay ced रहते कुछ 
feat में वह He रूज़-खरूप हो जाता हे। वेदान्तो लोगाँ का सिद्धान्त है, कि 
जिस प्रकार we के एकाग्र ध्यान से कोट ब्टज्ग-खरूप हो जाता है, vat प्रकार as 
जोव ब्रह्म के एकाग्र ध्यान से ब्रह्म-मय हो जाता हैं। (at) जहाँ पर सु-गन्ध से भरा 
कमल (पद्मावती) है, तहाँ जोव भ्रमर हो गया, (ओर) चन्द्रमा (amt) ue के 
ऋण से ay गया, अर्थात्‌ चन्द्र-रूूपो पद्मावतो मेरे प्रेम-रूपो राहु से बंध गई, अब 
यह प्रेम अवसर पाने पर अवश्य पद्मावतों शशो को पकडेगा ॥ कवि के मत से शशों 
स्त्रो-लिज़' है, इस लिये we का प्रयोग किया है (५९ वाँ दोहा Seti) पुराणों 
में कथा है, कि देवासुर संग्राम मे जब भगवान्‌ ने मोहिनो eq को धारण किया, 
तब देव Wat दोनों ने रूप से मोहित हों, यह कह कर संग्राम समाप्त किया, कि 
अम्दत-का घट इस GRO को Vial, यह हम लोगों में wea को बाँट देगी । इस 
बात को जब सब ने Slat किया, तब मोहिनो ने एक vig में देव दूसरों में 
राक्षणाँ को बैठा कर Sai में aaa ओर राक्षसाँ में qu at बाँट दिया | उस समय 
छल us देव-पह्लि में aa आर चन्द्र के बोच जा बेठा। ज्यो-हो अम्हत-पान किया 
त्यो-हों रूये ओर चन्द्र ने विष्ण से कहा, कि यह देत्य है, छल से यहाँ बेठ गया है। 
इस पर मोहिनो-रूप विष्ण ने ag हो Gert चक्र से इस के fat को काट डाला, 


We प्रदुमावति | € | राजा-सुआ-संवाद-खंड | [ex-ee 


परन्तु अम्दत के प्रभाव से रुण्ड, ओर |e, दोनाँ जोते-हो रह wa) ऐसो दुदंशा मेँ 
राहु को देख कर ब्रह्मा ने इसे वर-दान दिया, कि तुम wa में aa ओर चन्द्र को 
ara कर लिया करोगे, आर उस समय जो लोग दान पुण्य हवन इत्यादि करेंगे सब 
के भोक्ता तुम होगे। इस प्रकार ब्रह्मा के वर-दान से रूये ओर चन्द्र दोनाँ TE 
के ऋण से बंधे हैं, अर्थात्‌ जेसे ऋण देने-वाला ऋणे को vas लेता है, और वह 
बेचारा कुछ नहों बोलता, उसो प्रकार, वर-दान के प्रभाव से, यह राह रूये We 
चन्द्रमा को VAS लेता हें, और ये बेचारे wat ऐसे कुछ नहो बोलते ॥ 

( रत्न-सेन कहता है, कि पद्मावती को मूर्ति रूये जो कि मेरे हृदय में पेठ गई 
है, इस से) तोन लोक ओर Vest yaa (खण्ड) सब मुझे (इस घडो) GA UST 
हैं । (सो) जो में मन में ga (समझ) कर देखता हुं, तो प्रेम छोड (जगत में) 
और कुछ (भो) सुन्दर ae Fcc 

चौपाई | 
ta सुनत मन भूल न राजा। कठिन पेम सिर देइ तो छाजा॥ 
पेम Wie जड़ WE न छूटा। MS ste बहु फाँद न टूटा॥ 
गिरिगिट छंद धरइ दुख तेता। खन खन रात पौत खन सेता॥ 
जानि पुछारि जा भा बन-बासौ। रोव Tra परे फाँद नग-वासौ॥ 
पाँखन्ठ फिरि फिरि परा सो arg! डंडे न सकइ अरुझद भइ TE ॥ 
aps मुफ्ड अह-निसि चिललाई। ओहि रोस ame धरि खाई॥ 
पाँडक सुआ as ae चौन्हा। जेहि गिउ परा चाहि fas aati 
दोच्ा | 
तोतर गिड जा फाँद Os) निति-हि पुकारइ दोख। 
सो faa हंकारि wie fas (मेलइ) कित मारे होइ मोख ॥€«८॥ 


प्रेम - प्रेम । छाजा -- छाजता Fata Fi फाँद्-फन्‍्दा । fafefe— 
गिर्गिटान। छंद 5 छन्द 5 रचना = UF UF का रूप। तेता "5 तितना 55 तावान्‌। खन 5 
कण । रात T= लाल | पोल -पौला । सेता श्वेत 5 सफेद । जानित-जान कर । 
पुछारि = पिच्छालि  मयूर = मोरैला = मोर । Tra = रोम। नग-वासौ = नाग-पाशौ = 
नाग-पाश का | Where = aT | भट्ट — हो कर | बाँद = AT | मुण्ऊ « मोरेले के बोलो का 


८८ ] सुधाकश-चन्द्रिका | que 


अनुकरण | अह-निसि 55 aefan = दिन-रात | चिललाई = famat हैं। रोस 55 रोष 5८ 
क्रोध | नागन्ह = सपा को । visa = पाण्डक = पेंडुकी । fas = ग्रौवा 55 गला | चाहि 5८ 
इच्छा कर केच-चाह से। aat= तित्तिरप्षो fafa-fe ८ नित्य-हि — नित्य-हौ । 
दोख 5 दोष 55 पाप । कित "5" क्याँ । मोख "5 मोक्ष ॥ 

(wa ने कहा, कि) राजा प्रेम को सुनते-हो मन में न wet | प्रेम कठिन होता 
हैं| इस के faa fat दे दे तब (तो) (यह प्रम) छाजता हे (सोहता हें), अर्थात्‌ 
विना fat दिये प्रेम को शोभा नहों ॥ प्रेम के wee में यदि पडा, तो (फिर वह) 
नहीं छटता | बहुताँ ने जो दे दिया (परन्तु प्रेम का) Beer नहों टूटा, अर्थात जौ 
के ay-ey गया ॥ जितना गिरिगिट ae को धरता है, अर्थात्‌ रूप को बदलता है, 
तितना (इस प्रेम मार्ग सें ) दुःख है । (इस में पड कर प्राणो) क्षण क्षण में लाल, 
ear, ओर क्षण में श्वेत होता रहता Sy प्रेम-हौ को जान कर, मयर जो है, सो 
वन-वासो हुआ, अर्थात्‌ we से fara हुआ, (ओर इस के) रोम रोम में नग-वामो 
(नाग-पाश ) के we पडे ॥ वहो (सो) नग-वासो wt yA घूम कर (फिरि 
फिरि) (इस के) Gat में पडा, (इसो कारण ae) उड नहों सकता, We Fz हो 
कर, अरुझा रहता हैं, अर्थात्‌ फँसा रहता है (मयूर के रोओं ओर vat के ऊपर 
जो चित्र-कारो है, सो नाग-पाश we के ऐधो जान पडतो हे) ॥ (फँंसने-हो से 
दुःखो हो कर) FIT Hos (मरा, मरा) ऐसा चिज्ञाता हैं, आर उसो da से, 
(कि नाग-पाश Fae A मे wars), नागाँ को धर कर (पकड कर) wat Sy 
Geant आर Wa के कण्ठ में भो वहो (oe at) fee है, (सो) जिस के गले में 
( फन्‍्दा ) पडा, वह चाह से (अपना) जो देता हैं ॥ 

तोतर के गले A जो weer हैं, (gat लिये) (ae) नित्य-हो (अपने ) दोष को 
पुकारता हैं। (ऐसा न होता, तो) वह (सो) क्याँ पुकार कर (हंकारि) गले में 
फन्‍्दे को डालता (HAT), ओर क्या मारने से मोक्ष होता है, अर्थात्‌ wey होता ॥ 

हाँ कवि कौ उत्रेच्ता हे, कि तोतर के गले में जो कण्ठ-रूपो wer है, उसी से 
दुःखो हो कर, तोतर बोलता हैं, जिस को बोलो सुन, ae उसे फन्‍्दे में फंसा लेते 
और मार डालते हें, तब, जो के जाने पर भो, उस के गले का wer नहीं 
टटता, इस लिये ऊपर जो we आये fa “जौड ce बहु फाँद न टटा” यह 
बहुत ठोक हो ॥८८॥ 


३६० प्रदुमावति | € | राजा-सुआ-संवाद-खंड | [reo 


चडऊपाई | 


राजइ ate af ag साँसा। अइस बोलि जनि बोल निरासा ॥ 
भलेहि ta ex कठिन दुह्देल। FE जग तरा पेम Fz Barth 
WAT दुख जो WA मधु राखा। WHA ATA BET ST चाखा॥ 
at afe ata ta पंथ लावा। से पिरिथुमि ae are क आवा ॥ 
अब मई ta फाँद सिर मेला। wie न ठेलु TE कइ चेला॥ 
पेम-बार से कहइ जो देखा। जेइ न देख का जान बिसेखा॥ 
तब लगि दुख पिरितम नहिं भेंट । मिला तो ae जनम दुख AZT ॥ 


SST | 


जस अनूप gz देखो नख-सिख बरन fame 
ह्ड मोषह्दि आस मिलइ aE AT मेरवइ करतार MN eo 


इति राजा-सुआ-संवाद-खंड ॥ € ॥ 


ऊभि 5 ऊब कर 5 उद्दिग्न हो कर | साँसा 55 श्वास । निरासा = निराशा 55 आशा से 
रहित | भलंहि -- भले से । पेम--प्रेम | दुह्ेला 5८ दुर्हला -- दुष्ट-खेल -- दुःख से भरा। 
मधु = शहद | गंजन = ASA = मान-ध्यंस = अपमान। मरन = मरण। Wer = सहता है। 
चाखा 55 चाषा 5 w= arg fea) सौस -शोषे ८शिर || पंथ -पन्या ८ राह । 
पिरिथुमिं = fet > भूमि । मेला --डाला। पाउँ-पैर । ठेलु = टाल = हटाव | 
राखु 5- रख | कद 55 कर के। चेला 55 faa) बार 5 द्वार। बिसेखा 55 fang, पिरितम 
= aa 5 प्रियतम 55 सब॒ से प्यारा। नख-नह । सिख -- शिखा 5" चोटो । ava— 
व्यय 55 वर्णन at) सिंगार 55 WT) | आख 5८ आशा 5 उस्मेद । जझंँ -- यदि | मेरवद 
= मिलावे | करतार = कर्त्तार: = ब्रह्मा ॥ 

(ma के कहने पर) राजा ने ऊब कर (घबडा कर) श्वास लिया, (और कहने 
लगा, कि) at निराश बोलो मत (जनि) बोल ॥ भले से दुःख से भरा (gear) 
प्रेम कठिन है, (परन्तु) उस प्रेम से जिस ने खेला वह Stat जग को तर जाता हैं, 


86-9] ] PADOMAWATI. l7 


9. Iac swnata sukhi gai rani Is bhau 


unha kat K koi baranai paya, 9. K ripanha bhaga. 
rant K sunata rosa bhai K lona janu laga. 

87. l, las K madila Is kabahi ke hoi. 2. U K raja taba hoi U calai kai jog K calai 
bhai jog 3, Is rakhaw U akura K substitutes for this line marai abahi déi bikhi mmz | 
jau lagi naht baja tamacuri || The 2nd half line reads as follows in the other MSS. 

Tas U sabada na déi biraha tamacura 

Ib sédura dei rahat tamaciru 

Ic sabada hui biraha tana curu 

Id sabada déi na hoi tamaciri. 
4. Ia dha jo damini Ic satipa (6 risa Is ohi satipa jia risanha bhart U sua dinha lai risa 
5. dékhw dhai suaté mada® Ie dékhahw yaha sofa mada? Id dékhahw sota hai mada° Is 
dékhu yaha sua hai mada K dékhati sua kéra mada? Laced bhaew na ta kaha Ia K péta kaha 
7. K ahai ku-bhakhi U 76 kara mara K lé ehi marahu deu mai sakhi. 8. Ia ta dina 
kaha Ia chapawai. 9. K léi calai so kawala pahd Ia U hai mayura, K hota mayira. 

88. l. K mdrana gai lad upajé gydna les hiai daru bha?, 2 Ia jehi sami. 3. U 
jehi soca na, 4 Ia jai tiwai kai marama na Ib jo tiriya kara kaja Id (6 trwae Is ja 
twwami kai U jo tiwat kai K [6 tiwdna kai Ila parai dosa. Is K pachatané, 5, K nagini 
sama taht | ......kaha@ || Ia U sua maynra K sua majari hoi. 6. 
kat taha. 7. Ia kati makw khdja hoe risa ai. U makwu 85 khdja ho ini suha@ Ia turai dokha 
U turt dokha K turai ka réga kapi matha bisa, 8. 9. Tacs 
U binasa lai Id binasa dai K bindsa waha U sau sakhi. 

89. l. Ia khoja jaba dew. 3. Ia N mai puchd Ia dinha té kya pa® K tai ka pa” 4. 
Jac U wai jasa K tu raini adhidri Ia kartla ké Is K karila ka U karila kubar?. 5. K 
uruanha pijai dewasa ka bhat. 6, U koti maha khatd | ati bada bola jibha kara chota|| K 
ati bada, jzbha kara, 7. K rudhira cuai K asa hatidra laai mukha ratd, 8. Ia jaw suata 
suthi lona Ic sua sé (606 Is sua bada 76906 U jo suthi suata lona K suthihi sua jat lona. 9. 


We have followed the majority 


and. 


Is nari 6 na@ha K nari 


P and Is eka hatia aw papu. 


N kana tuta jehi pahirat Ia kaha karaba s6 K ké karabai 86 sona. 

90, १, Ia jasa hiradat bikarama Is K pachatand. 2. Is du hirdmani Is jai bélai 
tai ambrita, 4. Ic K jzha mukha, Is kahai nirabidhi Ia U K bata na kahai birtdhie 5. 
Ia tehi pddita cadhawa K tehi padita dekhawa. 6, Ia hatiara rudhira jai dékha Ids U 
ruhira pat dékhé K rudhira asa dékha. 7. Ia ghata rakhahw mati Is gae parana K kai 
prandma dnahu nagamadti Id swat saga U nahi to hohw bégi saga 846 K kai hoihau tehi karana 

8. Ia madila karahw sukha Ia K mandila hd U kai mandila sukha. 
9l. १4, Is dhani ujari ahi U dhani niramala rahi K jaisa ujiarit rahi Ia gahana gé 
gaht N gaht?, 2. U préma suhdga K parama sohagi Is K 36७6 jitihdrt U séwa citahari, jaba 
hari is quite plain in all P, The readings of the first half are as follows— 


jit. 





Ta 


4, Ice na bhuld ko. 
sakhi na tana maha swasa, 
Is tehi dukha hau U yaha 
runs as follows :— 


Id aisa garaba jani bhitlai kor. 
6, U bichura na milai K bichwri na milai syama asa disa 9. 


etanika dokha lagi ४7७ ratha | 
etanika dusa biraji piwrutha | 
etanika 6656 8 rf .........५--- | 
etanika (686 8076८४,, , ,.. ७. | 





etana ki 6686 Dir uct ,....,, «५७ | 

etanika dOKhG di AC? ,,, .., ... | 

5. In Ib the second half is tasa mukha 
auguna paraheli K nahi janaé paraté jaba, The last half 
Ia ngn rasa bahu naka || 

Ib as in text 

Ie nagar rusa ki naha || 

Id nika (? néga) rusa kt naha || 

Is nerdga १686 kia naha || 

U nithwra rosa kai naha || 

K nithura résa kia naha || 


i8 PADUMAWATI. [92-96 


92. , U dpuhi rasa aurahi K hatha apuhi. 3. U dékhisa K dékhahe Iads K ka 
kara bhaeu. 5, Ia ja kaha risa rasa jogi Ib rasa kai na jai Is rasa jogai na jar U rasa cakhi 
na jai K jahd risa rasa jogai na jai. 6. In the different MSS. the Ist half runs as follows— 

Ia K jahawé risa mé@rai rasa pijat 
Ibed as in text 
Is risahi jo mariai au rasa jijat 
U séwa chadi birasa jiu dijat 
Ia U K risa kabahit na kijai Is 56 rasa tajia na risa na kijai, 7. cds sohaga ki paia U 
sohdgani K soi jo piu mana badhd. 8. K baratai tana khina Ic has chine for khina. 9 
lac K soi dékhw cada asa niramala U canda dékhisa nisi niramala. 

93. . K samujhi jiu rani Is K sud linha Ics K raja paha ani. U raja pahi ani. 2. 
Ta K nagamati mat garaba jo kinha Icd manamati mat garaba na kinha@ Is ndgamat? hie 
garaba jo kinhé U manamati mai garabha (sic) jo kinha. Is K kanta tohara. 3. — K etanika 
aiguna kiehu nirasa. 4. K jau tohi dati [a chaddahu tahi na marahu jiwad K ché@dahu nahi 
tuha ta kava jiwa. 5. U milatahi maha tuma ahau nindré K janu ajahu ninaré Iads tumha 
sat ahau K tuha té hai adésa. 6. Iatumhahahu mohi maha Is tumha mana mohi paha 
U tumhé hd mohi pahé K tuha méhi caha, The second half is as follows in the various MSS. 

Ta dékha& taki tu saba jaga paha || 
Ib as in text व 
Ie dékhat taki tiha 3696 paha || 

Ids dékhaw taki tu hahu saba paha || 
ए dékha bajhi to hahw saba maha || 
K dékhe& biajhi basahw saba maha || 

K2 dékhex taki ta hahw saba paha || 

K8 dékhai taki ta haw saba maha || 

8. U kau na jita. 9. Ia U K apuhi khai kat. K karat tohara. 

94, . Id has for second half, sati na kahasi mathahi muri chid. U bind satia jyat 
sémara bhia. K bind satta jas sémara bhiia. 2. U hahu mukha rati kahahu sati bata K ho 
mukha rata sata kahahu bata. 3. Tas sisti jo sattahi kér2 U badhi dristi sattaht kért K 
badhi sristi sabai sata kért. 5. U K agi lai kai cahu disi jéra 6. Is K au pidra daiyahi 
sata® U piara dai sata’, 7, Is sé sata chadi U s6 sata chadi jo Is 0४६6 mati hina satta jet 
nasa U ké mati-hina kinha sati nasa K ka mati-hina kinha tapa-nas@. The word ys may 
be read either hiat or hina. We have adopted the former on the authority of the usually 
correct Id which has eet hiai. 9. U kahahu hama agé K dah ka kiehu durau. 


95. 2. Is hat ehi sata nisara lai pathé, U mai sati lai nikasa tehi mdté K mai lai 


sata nisareu ohi mdté, All P have distinctly paté ws to which Ib gives a gloss i‘tibar, 
trust. 3. Ia paduwma-gandha sé dai sdwart Id sasi dat sdwar? Is paduma-gandha sd bidhi 
autari U padama sugandha dai autart K padwma-gandha tehi daa sdwart, 4. Is om. this 
verse and inserts before 3. 
padumawati kara kiew bakhani | naégamati risa mana mahi dni || 
U also omits this line, and inserts a new line after 7, see below. K has malai-gira ghrani 
5. Id ahahi jo padumini sigghala Is U kantha phita K kantha khuleu karata tinha séwa 
Ta nahi ta kaha mathi K nahi tau ka mutht Here U inserts 
kato jibha kard dasa thaw | tajau na aba padwmawati nai || 
8. Is sumira& marati to ohi lai na@& (sic). K marat& to uhai lai naz. 9. Is ins, kinhé 
after hariara Ia duhi jaga jasa lai jau Id duhw jagata kai ja& Is U jagata lai jaa K dunuku 
juga lé jaw. 
96. l. Ia K hir@mani jaba kawala. 2. K paiichi. The second half line is very 
corrupt, The following are the readings— 
. Ia kahé jo dipa pataga ké maré || 
Tb kahu so dipa jaha pana naga baré || 
Ie kahé so dipa paykhi ké baré || 
Id kahu 86 dipa p n k(g) baré || 








96-00] PADUMAWATI. i9 


Is kahé so dipa paniga ké maré || 

U kahé so dipa phaniga ké maré || 

K kahé jo dipa phaniga ké maré || 
8. Tas UK subdsita Is ahd jo kanaka, 4. Ja kasa raja kasa désa utaygi Ic kd raja asa dipa 
5. Ja suni samunda Id cakhu bhae kokilé U suni samundra cakha bha kila? K suni samuda 
cakhu bha kilaktlé K katla jo milai bhatira bhai sili. 6. Ic N niramdlé Ia bhai ali saga ké 
ajahw kart Is U K bha@ali saga Io N kala. 7. UK awkahwtahé padumini loni Iad U K ghara 
ghara sabahi ho. 8. Is sahai bakhéna bhaw jasa. 9. Ia dipa waha dékha& Is jaw ré dipa 
waha dékha& K jdnahi dipa waha dékheu U utha muhi cau K suni upajaé mana cau. 

97. l. Ia K rajé mat baranaz. 2. Ia U bhuland Ia biti na palata koi To bahurew Is 
bahuro K juga tini na. 3. U ghara ghara nari padumini jati U basanta hai dina rat. 5, 
Ib taha kara raja. U gandhrapa-séna U maha idara jasu saja K maha déi jasa saja. 7. Ta 
baré onaht. Is 6०४०७ khada kéra barékhi onahi K baré ohi @wahi. U substitutes for this line 

soraha sahasa padwmini rani | 86 saba siyghala-dipa bakhani || 
Ia K have second half utara na pawahi phiri phiri jahi K phéri sidhawahi || Ie raja garaba 
ke bolat. 9. Ia aisat chapi saba rani. 

98. l. U suni yaha bata ratana. 3. U janw hwai adi stira mana bast K janu hoi suraja 
hiat paragasa | saba ghata puri a mana basé || 4. Usee below. K aba mai cad suraja 
waha cha@ya. 5. Ia priti ka abha(?) péma Ib girata kirini bha K kirini kala bhaw péema 
K saraga cadhaw bhai sara. 6. Ia kala for karé Is K kaila taha phila. 7. K aba kaiila 
jiu vbhatrad gandhi K jasa sasi. U has for the last four lines 

tu pandita tasa barani bala | janu kui lagi campa ki mala || 
sunata-ht 86 padumawati nama | hirdai ai péma raga jama || 
raté naina wahi raga bhalé | dékhaht jai phila jasw philé || 
naina bhaé darasana ké bhakhé | dharaté saraga samahi na dukhé || 
8. Ia K caudaha bhuana. 9, Id U om, 7676, thus saving the metre. Iad Uk dékha. 

99. l. Ib mana bhila na (sic) Ie mana bhula raja. Id U K préma 480 ए déi na chaja 
Td dei tohi chaja. 2. acd U jo para na U phéda maha pa? K chitai......tutai U giragata 
chaha (?) para dukh jété K girigita chad parai Ia khina hoi rata U khana rata khana piara 
séta K khinu khinu rata pita au séta. 4. Is pwni puchdri jat 006 bana K jo bhaw bana? Ia 
romaht roma phada Ie ra0 76 phada parai naga® Id 76 76 phada parai naga? Is réa roa pare 
phada naga? U réana phada para naga? K roma roma pare phada naga’. 5. Ia panchinha 
phiri phiri para jo phadu Is pakhanha U panchinha phira phira para K saba panchinha gia 
para jo phadu. 6. Ib muet muet kara chi cilat U muyaw muyaw niswu dinw cilalahi | tehi 
rosana nagini dhai khahi K tehi rdsanha naganha dhai kha. 9. Ja K om. mélai, which 
improves the metre. Iacs kita ma@rai U hoi mara kabi mokha K hoi méra kaba mokha, 

00. l. Icd zbhi mana s@ Is abhi bhari sa? K ubhai bhari sa@ Id K béla nahi bédlu 
Is jani bolu K bola ni bolu. 2. Ie pahilahit pema N bhaleha péma Is péma jet khéla U 
duhu jaga tara péma jé. 3. Ia dukha ké maddhw péma mada rakhd. Ic dukha bhitara so 
pema-madhu Ids dukha bhitara so péma-mada rakha U bhitara dukkha péma-mada K dukha 
bhitara péma-mada, The readings of the second half verse are as follows— 

Ia ganjana marana cahai (6 cakha || 

Ib kaficana barana sahai 86 cakhe || 

Ie kaicana barana bhaé jo cakha || 

Id ganjana marana sahai jo cakha || 

WAWanpataiies Uosincileansetaase 2०४ SO) yer ५०० ५४०० 

EK raja taji mirana (sic ? marana) rahai so cakha, 
4, Ia kahe kd awa Ic kahe ké Id kahe kaha Is prithim? maha kahe ko U sow autara bhut 
hahé awa K so prithimi maha kahé @wa. 5. Id péma pantha sira Is K péma paya’ sira U 
aba hat péma pantha sira, Iacd U paina, 6, Is jet na बह U K jo na dékhi ka jani 
sarékha. 7. Is K tau lagi Ia milatahi kona janama dukha Ie milataht gaew Id jo bhéta jara 
maha dukha. Is mild to 96 jarama U K bhéta dukkha janama ka méta. 8. U K anipa ta 
barant (K barand). U nakha sikha jaisa sigara, 9. Ia milana kai K hiai hiai rasa parai. 





we CANAL 96 ssvceesse 


20 PADUMAWATI. [l0l-07 


i0l. 2. U prathamahi kaha kasturi. K aura j6 sésa. 3. U léhi wraghani, K 
bisahara murt léhi 86 ghrant. 4. Ib chdra chara jo mara. 5. Ia kutila késa bisahara naga 
karé. 7. UK ghughurari. U sakara péma, K sakati péma. 8. All copies except Ia and 
U insert raja, which spoils the metre. K paré sésa giu kasu, 9. Astd-u, §c. This passage 
is very corrupt. P have ४5» ०. Ts asta-u kitv?, U K asta-w kurz. 

The following are the full readings of this line :— 


Ta asta-w kuli naga wé | bhae késaht ki bada || 
Ibe asta-u kult naga urkanyé (?) | bhaé késa kt bada ॥ 
Id ” of) urk(g)hani | = ॥ 
Is asta-w kar? naga saba aurangé | bhai késanha ké badal| 
Us asta-w kwrt wragané | bhae késanha ké badi|| 
K asta-u kurt ndga oragaena = | bhae késenha ké pasa\| 


It will be observed that in this line again, except in Ia and U there are a number of 
extra syllables. 

02. l. sédura aja-hu. 2.Ib pantha gagana maha. 4, Ia stra kirana. Is K majha 
surasari dékhi, Ta jamuna majha janu surasari. 5. Iad khadai rékha ruhira, 6. U dharé gaja 
mott. 8. Ia UK cadha suhaga. 9. séwa& karahi nakhata au tarai. The metre here is 
corrupt again. The above is the readings of all P,andIs K. U has séwa@ karat su taraé 
The latter half of the verse is also corrupt. The following are the readings :—= 

Iad gagana cadhi jasa gaga || 
Ibes wé gagana Bess. “ll 
U gagana cadhi s6 maga (? gaga)|| 
K gagana cadhé nisi gaga || 

03. 2. ए (6 kirana dipaé. 4. Ib punt gahana girasa. 5. Ibs duija pasa. U has 
for last half of line, bédhé 86 jo tilaka waha dithé. 6. atara, U K antara, Py. Is has 
astra. 8. cakrabana, so all copies. Ic duhwu jaga maraka (? ga) na&, U mara rakatana nat 
K dui jaga jitané tehi jau (sic). 9. All copies insert ra@j@ K sua-hi bhaew pachatau 
K2 mai eka pared kuthaz. KS ma ko bha eka thad. 

04, l. Is héru lagu bikha, K ja@ sa& phéru maru cakhu band. 2. Is U K hanai 
dhanuka. 6. Ia K 69७ bédha jaga. 

05. 3. Ia jdnahu ulathaht hi mitha laga, Iced cahahi ulatha gagana, 4.U jhakdrahi 
bahai. 6. Iabd bhatha cakara ké. 7. Ibe. samida hidola. 

06. l. Ia U dvaidnz. K bana dhanukha dui ani. 3, Ia U warahi para, The 
second half is as follows :— 

Ia ja kaha chiti mara bikha badhél| 
Ibds as in text 
Ic a sat héra mara bikha badhé || 
U = ja kaha chuti lai A ॥ 
K ” ” lagu ” ॥ 
4. 6 ko na mara, so all copies, except K which has bénanha ko ké nahi mara. U has. 
banani 86 ko ko Sc. U sigaré for sagara-w. 5. U nakhata jo disahi ghdéné K nakhata disaht 
ati ghdné. Ia has saba jahi for jasa jahi. Iads té saba. 6, Ic bahu rakhi, Id phiri r@ K 
kai rakhi. Is dharate bédhi janu saba rakht. Is sakha@ thakha (? thadha) déhi saba sakhi. U 
sakha sakha déi saba. K sakha sakht déi ०0७ sakht. 7. Iab Urémaréma. 8. Ib U bana 
jasa. Isbanasaba. For upani, Is has dpaha, U dpahai, K dpaha. All P give 45602 3 which 
may be read as dpahd, or asin the text. Ibe bédhi rahé tana dhaykha, Khas dhakha. 9 
The following are the various readings. That of Ibds U has been adopted. 
Ia sduja tana saba réma hai | parchiht tana saba paykha || 
Ico saujahi tana jitardwd =| paykhiht tana jita paykha || 
K _ sravahi paséwa réwa rowa | paykhinha tana bha pakha || 

07. 2. Ia has second half bésara saraka sukara hoi ia, U hvai ua, K bhai aa. 8. Ia 
sud so hiramani bha laja. Ib sua so hiramani mana laja. U sua ju pita raha mana laja. K piara 
bhaé mana, 4, padwari, 80 most MSS. Ib has téwari with pawart as a y, ), on the, 





= hee 


i07-l]] PADUMAWATI. 2) 


margin. It also gives a gloss, translating téwdr?, by téz. U has pannarz. A printed 
edition has banawar?. 5, Ib has pasé@ for asa. 7. U naina khajana dui kéli. U dahé 
waha rasa pawai kow nahi. K dahtt waha rahasa kawala ké nahi. K has for the last doha 
dékhi adhara-rasa (a@)sraminha | bhaiu nasika kira 
pauna basa pahiicawai | asana (or asa na) chadala tiral| 
408. 2. Ics phila parai jo. Ja jita jita kaha bata. 3. Ic hire kinha. Is U livé. K 
hira lai bidaruma para dhara. Ic bihasata hasata jagata wji?, K bihasata taisé hoi. 4. 
Ta au majitha. 5. Id K asa wat. V aisé ami adhara bhari. Is abahi achita. K ahai 
achita. 6. The following are the readings of the first half :— 


Ia mukha tabdra raga dharahi rasa | 
Ib mukha tabéla raga adharaht rasa | 
Iced mukha tabdla raga dharahi rasa | 
Is mukha tabéla rasa dharahi vasa | 
U mukha  tabéla adhara raga rasa | 
K = mukha taméla rasa dharinha rasa 


8. K adhara amia bhari rakha sabha jaga, &. 9. Iacd kd kahit. K ka kara. 
09. Ib. dasana joga. K. naga sydma gabhira. 2. This differs in all MSS. Thus :— 


Ia janw bhadd nisi daémini dist| camaka uthai janu bhyn batis? 
ibd® 4; Ae kaha ,, rll Pr » tasa bani ,, 
Ic »  damini bhadé nisu dist | दर 3 >» Ohwn ,, 
Is »,  bhadak nist damini dist| camaki uthita sibhini (sic) ,, 
छा + | हे ap cpl 4 uthat tasa badana ,, 


3. Is hira jotiso, U K hira dipai so. 4. U bahutani joti dékhi kai bhd?. Some MSS. 
place this line seventh. 6, sobhdona. SolIb.Iac U sobhdiana. Id @gslgaw. Is sobhawé 
K sobhdwaté. 7. Tas auru ko dja. 8, With regard to this line the MSS. are practically 


unanimous. We have 
Ia bihasata hasata dasana jo camakeu  pahana uthew jharakki | 


Ibs rr fi », बढ camakat uthai को (Is jharayki). 
Ic ” ” 33 ” ” ” utheu 33 

Id 5) i TON oa 3 uthai jarakki | 

U 3 dasana jo camakai pahana uthai jharaki | 

K 5) hasata badana tasa camakai pahana uthai jharaki | 


Of these U is the only one which will scan. 9. tarakki. So all, exc. Is darayki, U taraki, 
and K karaki, 
il0. ३3, Ib rasandé khéla jo kahit, U rasané mukha jo kahai. K rasand sunai. 2, Ta 
harai sarasa (or sarisa). Id héai nisa cataka 60 ko’. Is so stra U K haré sura. Is binu 
basanta waha bainu na, U bina bdsurt bainani mila. K bind basanta waha baina na. 
3. Is cataka kokila sari na karahé. U kokila cataki kahai so nahi. K catrika kokila 
varata jo ahi. Is boli for bayana. 4. Is péma-madhu U mathi jhami kai déla. K ghurumi 
kai. Iads rigajuga. 7. Is aratha bajhi. U amara su bharatha piygala gité| UK aratha 
coja. 8, The following are the various readings :— 
Ia bhawasati byakarana sata pingala patha purana 


| 
Ib 99 7) saba ” 39 » | 
kb ” 99 sama yy ” » | 
Id ” ” saras? 5, ” 39 | 
Is » “A sata sata saz padhai,, | 
| 


ए bdbhdawasatta byakarna saba sastara baca ,, 
K bhawasati au byakarana _piygala koka purana | 
9. The verse ends as follows :—Ia janu lagata sara jana. Ibe tasa janu lagahi bana. Id 
jasa rakhahi bisa bana, Is sajananha lagai bana. U janu lagai bikha bent. K janu lawai 


rasa bana. 
lll. 2, payga-rasa. So clearly Iab. Ic and Id omit the diacritical dots and have 


wy SY, Is payka-asa, U pakajasa. K payka-rasa, Is kyats yaha su’, U ké asa su,. 


22 PADUMAWATI. [lll-l7 


K kai asa suraga khirauda. 3. 3७, 8० allP. IsK jo. U jé dékha@ sd tila. 4. K agni- 
bina. 5. N lakhadui. Sold. 6. Is sé tila kdla....., aba waha kala kala. Ic abawahe 
kala jagata kahd bhaew. K sitala lageu bhéti na gaew | au waha gala kala sama bhaeu.| 
7. Is tehi tana rata. UK sabatana. 8. Iacd gaganakieu. 9. Ia has last half tehi tila 
gai jo chadi. K tilahi uthai tila badai nahi chodaitha(?) chadi. है 
l2, 2. Is jhamakahi .. janu kaudhéra kinha duha. U jhalakat. K jhamakai. — 

4. U tehi khutila dipaka dwai baré, K ta para khutila dipa dui baré. Is dui dhua duav 
khaita waist piari (sic). U dwai dhruwa tahd dna baitharé. K duau khiita dui disa sawaré. 


5. K pahiré khutile. Kacapaci has puzzled the copiests. Ib has gaja-mét?. Ic has 
without a single dot. Id has aidys®. Ta and N areclear. 6. Iakhana khana cira jabaht 
kara gdhad. Is K khana khana jabahi cira séra géha. 8. Ia srawana-sipa asa. Is srawana 
dipa hiya dou (sie). Uk srawana dipahi asa. 9. Is gdhané. U gahinai. 

3. l.kaja kai visi. SolIabes U. Ibhas disi. K ras? ...... sasit. Ibkaica tara maku 
lageu sist. Ic as Ib exc. janu for maku. Is kanaka tara janu lageu. 2. Is kidérai pheri. 
The printed editions all give RS but the cerebralised € is not borne out by any MSS. © 
Soin कुँदेरद in the next set of cawpais. 2. Ia UK hari. 4. Id jahéna for janu. Is 
kayka for baga. K baka turayga. 6. Ias ghutata pika. 7. Ia dhani git dinha 2 dha tai 
bhaw. Ic dhani git dinheu bidhi, Id dai ohi. Is dhanza giu dinhé bikha bhaz. K dhana 
bidha n@ dinha giu bhaw. Iad ki kaha. 8. Iacds mukutzhala. U mél@ sdhai giu. The 
word mala is in all copies but spoils the बाद, U corrects the metre by omitting 
abharana. 

il4. I. Ia danda bhuja bani ka°. K kundi bane. 2. Ic khabha. Ids K gabha. 
4. Iad K rakata for ruhira. U au aguri naga. K au dgurinha naga kanaka Ggrthi. Ia ati 
léni. K séha gati. 7. The first half runs as follows. 

Ta khana jiu बेला khanahi lei jai | 
Ib jdnahu gatt saturana dekhara | 


Ic 33 >» perana © ” | 

Id 7 » pahirat y) | The word pahirat is corrected to 
bédana or bédina, 

Is ban% gati pairi dailai | 

U jannhu gati paturi dikharai | 

K x » achari dekharai | 


All printed copies have bédina or bérena, which they translate by fawdaif. 9. Is béjha tha. 
U thad that saba bidhi bhaé. K thawahi that bédha bhai ubhai sasa léhi (6 nitia. 
Il5. l. Is kazcana lahi ...... janw cahi. Ie uthai hoi cadi. K uthai kuca cadi. 
2. Ia kundana kanaka bhalé janu. UK kundana kanaka béla janu. Is ambrita ratana 
mauna dai mudé, UK ratana dei ma. 
4. Ia jabana basa léhi rasa 0०96 | cahahi 86 nahi(?) hia? maha laga|| 
Ib » pani léht nahi ,, | cahahi hulasi hulasi hia  laga|| 


led 3, bana’, 3. | =) aA hiai lei laga\| 
Is ” baga ,, ” हक | ” » » hatha laga|| 
U ” turat 99 99 339 | 99 99 ” 33 39 ॥ 
Is 4° (0aga eee » | 4, wlatht akasaht laga| 


6. Idchuikd pau. 7. Ia nahicakh@. K binucakhé. 9. Ia K pawa. Ids pareu. 

6. U pela patra janahii 86 lawd | kwpkuma candana barana. K péta patra asa janahié 
lawa, &e.,as U. 2. N sukumari......adhari. 6. Is naginha kai. Ia candana kihakitha. 
Id candana khani basa lai. Is basa gau. U basa-rasa. 6. Kalindari so all MSS. Ib gai 
ka. Id paraga. 406 nadbhi kunda so. Is nabhi kundara bica bandrasi. 8. All MSS. have 
plainly sira karawata tana karasi lai lai, except that U and K omit lai lai. 9. Ta has for 
second half, bahutaka mué nirasa, 

]7. 4. bairini, The MSS. all differas follows. In Wy¥, Ib yb, Ted ७५२२, 
Is पेरिनि, ए aca, K Raat. Printed editions have Wet U janahu cali apa’. 3° 








]7-2l] PADUMAWATI. 23 


Ts lahari léta janahw pithi cddha..... kdcuki mddha. U lahiré déi pithi para cddhi | cira 
ohara kacuki madhi, 4. Ib pithi kinhi. Tb and K have bhwaygama, Icds and U have 
dinhi instead of kinh?. 5, The following are the readings :— 

Ia kar? kiswna cadhé ohi mathé | taba so chita aba chita na nathé|| 

Ib kisuna karé cadhé ohi 20 24 ॥ 700 7 0 oy) SLATE AA oon), «lll 

Ie kusatana(?)cadha na@tha waha ,, | 3, 3 , ३, 9 » » (Il 

Id kirisuna ke kara cadha _,, 0५ 02 #% 5) Spat tetas आहत ll 


Is kisna kara cadhé ohi pee है. 25 ce a कक rey oat ee || 
U krasna cadha kali ké mathé| taba sd chita achiti na nathél| 
K kisna@ so cadhé 7) पर 97... | tabasochutaaba chuta ,, ,, | 


7. K 56 dékhai jehi mathé bhagz. 9. Ia auru sighasana yaha sakai. Is 56 pawai jinha 
dithi. 
i8. The first line differs greatly in the various MSS. as follows. 
Taes lanka puhwmi asa ahi na kaha | kéhari kahati na ohi sari tahu, || 


Ib china lanka ” ” ” ” | ” ” bhi ty) 99 ” ॥ 
Id laykauwpama ,» 5, 4, 5 | ” 93 yo 99 ॥ 
एप. kahat layka sari pija na kéhara | lanka bhriyga kai janahu léhara|| 
K 53 oh » » » शोक |. ,,  singha janahw lehar? ॥ 


We have followed the majority. 2. basd Soall P. Is K have छ४४७.. Ib has marginal 
gloss ‘bhawara.’ U makes this line fourth, and has ward caha lanka so khint | tehw caha 
barana jaga jhini|. 8. Here again the MSS. greatly differ. We have 


Ta parihasi piara tehi risa | léhi dayka logahit kaha disa\| 
Ib rs déht piara ,, 2656 | lié daka loganha kaha disal| 
Ic »  ptarabhaé ,, 0486 | léhi dhayka ,, i salt 
Ld sr,; » 9. 9 bés@ | 4, dayka logaht kaha disa|| 
Is 4, ari bhai bana-basd | lihé lanka naganha kaha disal| 
U »  piara bhat té nasa | lié dayka manusa kd dasa|| 


K paripari piart bhai tehi basa | linhé dayka manukha kaha dasa|| 
We have followed, Ic and Id which give the best sense. 4. Id kanaka tar. U duhi bica 
taisé rahi. K muri gaé. 5. Ibd baga for tagz. Ibs U K have gati for kita. 7. U bajat 
sabai. K ragahi sabai. 

9. . Is nabhi kédara ma®. U K kundala ma’. 5. tiwai,so Ibs. Ia nawala. Ic 
osx or cars, Id tana waha, U nabhi. K nib?, 6. Iad asa for daha. Is has an 
altogether different line, viz :— 

madana bhadara romavali gaz | janw darapana kai muthi sobhiz.|| 

20. . Ia U K kahat for baranawz. U jaygha for layka. 2. Ia jagha. Iad 
khambha. N have gabh for khabha. 3. U K bhami for puhumi. Ia has rahahi pahwmi para 
pata nahi. So Krahat bhimi. 4. Ic pagu parai. Is paga para jaha. 6. Is jara@ cada. 
U K biju for biew. Is U K camakdra for jhanakard. 8. aK jaisa stgdra. U tasa kachw 
barana na janau, nakhasikha jaisa sigara, 9. Ia jo nara, Ickehijoga. Id jojoga, U K 
tehi nara. 

॥29. U murajhat. K murujh@. P ave all quite plain. 3. Is lé bisa.” 4, UK 
khana khana. 5. U khanahi acéta diba. Iacs have nisarai. Kom.this ine, 7. Is pema- 
awasthad. K kathina biraha. The second half runs as follows. 

Ta n@ nija jiw na marana kara stha(?)|| 
Ib nd jehi jiu na dasat awastha ॥ 
Ie bajahi ,, 4, dasat 5 ॥ 
Id कक ३7७. jaz na sahai a ॥ 
Is jamahu jiw na sakai bewastha ॥ 
U na nija jiwat = dasd awastha ॥ 
K na nija jiwa na marana awasthé || 
K2 bha fiya (79४ na hoi bewastha ॥ 
K3 na nija marana na jiana newasa || 
8. Ic jinha nihara nahi linha, K2 janu naiharanha linha jiu, K8 janu lohara linha kari. 


24 PADUMAWATI. [22-25 


322, l. K raja rau. 4. Ia lachimana. Ibe lakhimana. Ics U K lakhana. Is 
mohai apachdra. U méha hai pdra, K mohi kai piéra. Tas U K na sé rama. Id nahi so. 
6. -Ia binai karahi cétahw gadha-pdti 
Ib As in text. 
36. binai karahi jita ga°. 
Id binau karahé cétai ga®. 
Is cf »  cétahu ,, 
UK binai ,, ee 
K2 K8  binai karaht cétahu ga® | 
8. Ibdasardga. K8 dasa théka. 9. Ib dnahu saba tehi réga. 
i23. Tas K soi kai ja. 2. Ia jagata a@wa jasa balaka. U ai jagata jasa ba | 
utha so roi gyana saba khoa|| K ७४6६ roi tasa gydna jo khod|| 3. N have jaha@ and kaha. 
3. The following are the readings. 


Ta K kat apakara marana kara kinha | sakati jagai jiw hari linha , 


IbU ,, upakara ” ” 75० ep hakari,, ,, Seal 
Te ह 39 93 93 kaw 3) | ” jagar 93 33 33 ॥ 
Id ” 97 » kara ” | » » 93 ” ” ॥ 
Is » wpacara 5» 76७ 7 | 7020४ avi kar ,, |I 


K8 = kei upakdra marana ka kinha | kehi re jagai jiu hari linha|| 
KS sakati hakari jiu hari linha | ké wpakara marana kahi dinha|| 
6. Is U have to prana, instead of padna. 7. The latter half is as follows :— 
Ia ghatana nika lé jiu na satha || 
Ib kathina ntka pai,, ,, 4, |t 
Ie ghatata béga lé jiwana satha || 
Id » nikapaijiuna ,, |i 
Is ghatana nika pai jiu niswathal| 
U ghatana nika jiwana pai satha| 
K omits the whole line. Z 
K2 ghatai na nikarai pai jiu satha|| 


K3 ghatata nika pai jiwana satha\| 
3 


8. ahuthasoallN, Ia has @4!, Ib Gs}, Io ta}, Tq cmos. 
24, l, The second half rans as follows :— 
Ta jujhi kala so kat na chaja ॥ 
Ib ka@lahu tat kachw उब्याएं na chaja || 


Ic kala sna ké » a ee 
Id ,,  saté kai 700 - || 
Is %,, séti kai yeas ॥ 
Di ere 7 Ok ai ep ॥| 
हि 9.०४ aac |, 


Ke ,, ” » jujha ,, +» ॥ 

पर 5. 80. jujha kinha nahi chaja\| 
2. Ia has taja na kishuna jata go°. Is jata na kisuna na jata go. Id has an altogether 
different line which has been partly defaced. So far as we can make it out it rnns,— 


॥ Las a8 SY oF mw tem | ७३० cst oe 8539 ०१४ 
4, Ib punt jo. Id U punisuthi. 5. ahutha, so all copies, exc. Id which has 5.9, and 
Ib which has हैं 9}. 7, Ib pau dharé, 
25, l, Iad suai kahémo sax sunu raja | 
Ib rf) हा sunu cétahw | 
Ies K?,, 4, mana samajhahu ,, | 
KS, » mana bajhahu raja | 
UK as in text. 





१००] सुधाकर-चन्द्रिका | “VE 


अर्थात्‌ दोनाँ जग से निस्तार पाता है, wag में लोन हो जाता Fu दुःख के 
भोतर (Wat = अभ्यन्तर ) जो प्रेम-मधु Taal हैं, उस को वहो waar हैं जो aA 
ओर मरने को Beat हे, अर्थात्‌ अपमान ओर मरण से जो न डरे, az प्रेम-मधु को 
waa ॥ प्रेम-पथ मे जिस ने (अपने ) We को नहों लगाया, वह काहे को प्रथिवों मेँ 
आया, अर्थात्‌ प्रेम के विना veal में आना qT है ॥ -( at, हे शुक,) में ने तो अब 
(अपने ) शिर में प्रेम-फंदें को डाला। (at a मेरे) पर को (उस प्रेम-साग से) न 
टाल (हटाव)। (मुझे) Ver कर के रख, अर्थात्‌ a qe हो, ओर मुझे चेला बना 
कर प्रेम-मार्ग में चलने का उपदेश दे, उस से निराश मत कर ॥ (तुझे इस लिये 
गुरु बनाता हूं, कि) प्रेम-दार को वहोौ (सो) HE सकता हे, अर्थात्‌ बता सकता हैं, 
जिस ने कि उसे देखा-हो। ओर जिस ने (उस द्वार at) नहों देखा, वह क्या जाने 
कि उस में क्या विशेष (qu) है। (प्रेम-दवार में) तभों तक दुःख हे, जब तक कि 
प्रियतम से भेंट न हो, (ओर जब प्रियतम मिल गया,) तो (फिर) जन्म भर का 
- दुःख मिट जाता है ॥ 

(at, हे wa, पद्मावती को) जैसा अनुपम a ने देखा हैं, (तेसा-हो) aa से 
शिखा तक (जूस के) RTT का वर्णन कर । मुझे (पद्मावतो के) मिलने को इच्छा हे, 
यदि ant ( ब्रह्मा) मिलाबवे (at) ॥ १५०० ॥ 


इति राज-शुक-संवाद-खण्ड-नाम 
नवम-खण्डं समाप्तम्‌ ॥ € ॥ 


33. 


RR प्रदुमावति | १० | नखसिख-खंड | [१०१ 


अथ नखसिख-खंड ॥ १० ॥ 
SS 
Bue | 


का fame ओहि acvay राजा। ओहि क सिंगार ओहो पइ छाजा ॥ 
प्रथम-हि सौस कसतुरो केसा। बलि Tafa को ave नरेंसा॥« 
भवँर केस वह मालति cat) बिसहर लरहि लेहिं अरघानो॥ 
ant aft झारु जो बारा। सरग पतार होइ अंधिआरा॥ 
aaa कुटिल केस नग arti wets भरे aan बिसारें॥ 
aa जानु मलय-गिरि बासा। ata we लेाटहिं चह पासा॥ 
घुंघुर-वार अलकई feat) warty ta wefe fy परो॥ 
दोहा | 


अस फंद-वारि RA वइ (राजा) परा सौस fay ais 
असटठ-उ कूरो नाग सब उरझ केस के ATU Lg 


सिंगार -- श्ज्ञार । केसा-- केश =a) बासुकि "5 वासुकि-- नागाँ का राजा। 
बिसहर = विषभर 55 विष से भरे | वा बिसहर = बेसंभार = बेखबर = मस्त at बिसहर 
-- विषधर । अरघानों "--आप्राण | af अरघानो 5 आप्राण लेते हैँ -- रूंघते हैं = 
gray लेते हैं | बेनो 5 वेणो = चोटी । a= स्व॒गे । पतार 5 पाताल । अधिआरा 5८ 
अन्धकार। HAG — कौमल। नग 5 नाग = सरप। वा नग = aaa) भुअंग = भुजज्ज = सर्प 


१०१] सुधाकर-चन्द्रिका | ER 


av 


बिसारे + विस्मरण कर fei—ya fea, वा बिसारे--बदसारे -बैठाये हैं । 
मलय-गिरि = मलयाचल | बासा = वास 5 सुगन्ध। घंघुर-वार -- घुघुरू के ऐसे गोल 
गोल। w= अलक का बह्वचन 6 we! बिख्-विष। संकरइं-+-श्टल्ल्‍डाला - 
eas पेम-प्रेम॥ फंद-वारि फंदे से भरे । असट-उ -- आठो। ad ”कुलौ-- 
कुल के | बाँद --बंदौ =e ॥ 

(हौरा-मणि qa कहता है, कि) हे राजा (रज्न-सेन), उस के (पद्मावतो के) 
WHIT का (में ) क्या वर्णन करूँ। उस का WHT उसो पर छाजता है, अर्थात्‌ उस के 
Az का WHT By के ऊपर ऐसा सोचता है, कि ae देखे-हो बन आता है, कोई उस का 
वर्णन कर पार नहों पा सकता ॥ प्रधान कवि लोग देवता के वर्णन में नख-वर्णन से 
आरम्भ कर केश-वर्णन कर समाप्त करते हैँ ओर मनुय्य-वर्णन में केश से आरम्भ कर 
नख-वर्णन तक वर्णन कर समाप्त करते हैं। पद्मावती मानुषो व्यक्ति है इस लिये 
कवि ने केश से वर्णन करना आरम्भ किया, जेसा कि ओ-चर्ष ने नेषध के सातवें सर्ग में 
दमयन्तो के केश-चहो से वर्णन va किया ओर अन्त में स्पष्ट लिखा कि 

इृति स चिकुरादारभ्येतां नखावधि वर्णयन्‌ 
हरिणरमणोनेत्रां चित्राख्रधौ तरदन्तरः। 
हदयभरणोदेलानन्द: सखोट॒तभोमजा- 
नयनविषयोभावे waa दधार धराधिप: ॥ 

लोक-रोति भो है, कि अनुरागो अनुराग से भरा अपने प्रेमो के देखने के लिये 
प्रथम ऊपर-हो को ओर दृष्टि करता है, जिस से पहले केश-हो का दशन होता हैं, 
ओर उपासक भक्त अद्धा से भरा अपने sure देवता के प्रणाम के लिये पहले उस के 
चरण-हो को ओर दृष्टि करता है, जिस से पहले-हो नख-दशन होता हैे। 

पहले-हो BUG से काले ओर सुगन्धित जो केश हें, उन पर वासुकि सर्प बलि 
हो जाता है। (फिर ), हे राजा (नरेसा -- नरेश ), और (दूसरा) कौन है (जिस को 
उपमा दो जाय )। अर्थात्‌ वासकि अपने को ame समझ (कि हाय में तो केवल 
काला-हो हूँ ये केश quay से भरे अतिशय काले मुझ से at बढ कर हैं ) मूछित हो, 
इन केशों को अपना पूज्य समझ इन पर अपने को बलि करता है। कस्य (ब्रह्म: ) Su: 
(a+ fm: --) केश, ऐसा विद्यद करने से ये ब्रह्मा Fim खामी हुए, अर्थात्‌ साचात्‌ भगवान्‌ 
विष्णु हुए, फिर इन पर वासुकि का बलि होना कुछ अनुचित नहों। यदि ater को 


१६४ पदुमावति | १० | नखसिख-खंड | [rex 


सम्बोधन न मानो at, “जिन केशों पर वासुकि बलि हो जाता है तो और (अन्य -- अपर ) 
नरेश क्या हैं, अर्थात्‌ जो ea प्राणो मात्र का वरो है ae जिन केशों को शोभा से 
मोहित हो बलि हो जाता है, तो उस शोभा को देख कर ओर नरेशों को क्या गिनतो 
=) वे लोग तो पहले-हौ बलि हो waa,’ यह अर्थान्तर कर सकते हो ॥ रानो 
( पद्मावती ) (ara से भरो wat) मालतो हे ओर ( घूघर-वारे ) केश (जानों qa 
SU) wat हैं। वे विष-धर wat (एक के ऊपर एक सुगन्ध लेने के लिये जाना) 
लड रहे हैं, आर (उस मालतो के) सुगन्ध को ले रहे हैं ॥ (पद्मावती ) यदि (—st) 
sat ("-चोटो) को छोड कर बालों को झारने लगतो हैं, (तो वे ऐसे काले A 
लंबे बाल हैं, कि उन को कालिमा से) qa से पाताल तक अंधेरा हो जाता हैं॥ 
यदि पद्मावतो at vafa मानो तो “वह यदि परस्पर कम से बंधो हुई वस्तु-बेनो को 
छोड कर, अर्थात्‌ अलग अलग कर, जिस समय ati को, अर्थात्‌ रब्यादि Va art को, 
झाड 2a है, अर्थात्‌ वार-द्योतक रूर्याद को जब चरण at Sal है, at खर्ग से 
पाताल तक अन्धकार हो जाता हे,” यह अर्थान्तर कर सकते St) Beye में 
लिखा हे, कि जब प्रकृति में रूर्यादि सब पदाये लोन हो जाते हैं तब वच्चे प्राहृतिक 
लय कहाता है जिस में अन्धकार-मात्र सर्वत्र व्याप्त रहता हैं॥ वे कोमल और कुटिल 
(3 टेढे) केश (जानाँ) नग (aaa) पर By (--कारे) F, वा (नग कारे) काले 
नाग =, (जिन को शोभा से ) लहर से भरे aa को भुला देते F, अर्थात्‌ जिन at 
शोभा के आगे साधारण BUT कौ शोभा भूल जातो Fu यदि ‘Fart’ का aus 
“बिसारे ” मानो तो “वे कोमल ओर कुटिल केश (ऐसे जान पड़ते है जानो) 
काले URIS पर लहर से भरे aig Fara गये है?॥ (यहाँ शिरः-प्ृष्टभाग काला 
पर्वत आर उस पर कालो लंबो We Vy समझो )॥ जानोँ वे केश-सपे मलयाचल के 
वास से fag हो गये हैं, (इस लिये) foc पर w चारो ओर लोट रहे है 
(वास से अर्थात्‌ gra से fag हो कर aaa जाने मे असमथ हें |) (qua से 
भरो पद्मावती को मलयाचल समझो)॥ वे घृघर-वारो we विष से act, अर्थात्‌ 
विष से बुझाई, प्रेम को wager हैं, (जो कि दर्शकों के) गले में पडना चाहती हैं ॥ 
ऐसे फंदे-वारे केश (उस के) शिर पर पडे हैं (जो कि दरश्काँ के) गले के फंदे 
>) आटो कुल के जो नाग है वे सब (आपस सें ) उरझ कर (जस केश के) केदों 
हो गये । अर्थात्‌ कई एक सपे जो आपस में अरुझ कर As रहते हैं । वहाँ पर कवि को 


oly 


१५०१५-९१०२ | सुधाकर-चन्द्रिका । WY 


saat %, कि वे अयोग्य, पद्मावती के केश को समता करने को जो इच्छा faa इसो 
अपराध से वे आपस में अरुझ-रूपो qua से बंधवा कर ag किये गये॥ 
मनु दत्यादिकाँ के मत से यद्यपि नाग ओआर सपे में ae है तथापि भाषा मेँ 
इन का wae हे (मनु-सरूटति के १ अध्याय का १७ at ata “यक्तरक्त/पिशाचांय 
गर्ख््वापप्रसो5सुरान्‌ | नागान्‌ सर्पान सुपणोंश्व॒ पिह्णां च za गणान्‌?)॥ 
sega नाग के ये हैं-वासुकि १। तक्षक २। कुलक ३। कर्केटक ४ । 
पद्म ४ | WAYS ६ । ARTY ७ | धनज्ञय ८ ॥ 
agian तक्षकं चेव कुल RASH तथा । 
Ga च शद्धाचूडं च महापद्म घनज्ञयम्‌ ॥ 
पूजयेइ्न्धमाल्याद्रेर्नागानष्टो प्रयक्नतः | 
(वास्तुरत्नावलो ए., ८७) ॥१०१॥ 


चडउपाई | 


बरनउ माँग ala उपराहों। सेंदुर अब-हिं चढा जेहि नाही॥ 
faq सेंदुर अस जान feat) उंजिअर पंथ रइनि मंह किआ ॥ 
कंचन-रेख. Rast कसो। जनु घन Ae दार्विनि परगसो | 
aaa fara जनु गगन बिसेखों। saat aig सरसुतो zat 
wise धार eet Hq WU! करवत Ge Bat पर धरा॥ 
afe पर aft att जो मोतौ। जवुना माँझ गाँग कइ सेती॥ 
करवत तपा ate होइ चूरू। मकु सो रुहिर लेइ ez Hse) 
दोचा | 
HAR दुआदस aha होइ We सोहाग वह माँग | 
सेवा करहि नखत AY (तरई) BW गगन HA ATT |W १०२ ॥ 
SHUTS = FIC सेंदुर = Forge feat = दौप = दौया। रइनि = रजनो +- रात | 
कसउटो = कष-वटो 5 सोना कसने के लिये काले पत्थर at बटिया। atfafa— दामिनो 
5 सौदामिनो 5 विजलो । परगसो्-प्रकाश ski सुरुज-रूर्य । जबुँना-- यमुना 
aati सरसुतो -- सरखतो | खाँडडइ -खाँडा 55 खण्डक -- तलवार । रूहिर 5-रुघिर । 


Lee प्रदुमावति | १० | नखसिख-खंड | [१०२ 


करवत = ALIA = आरा | बेनो = वेणो = चोटी, वा यमुना सरखतो का VFA 5८ प्रयाग | 
गाँग = गज्नाग | Mat -- खोत = धारा | AMAT! चूरू -चूणं। ARH wT जानें॥ 
दुआदस — द्वादश = दादशादित्य। afa— aw | साहाग = सौभाग्य वा aterm, जिस से 
सोने में आर अधिक चमक आ जातो हैं॥ 

इस प्रान्त मे feat पहले मुखाभिमुख शिरो-भाग के ani को अलग कर नासिकाग्र 
और भू-मध्यगत रेखा से उन का समान दो भाग कर एक भाग को दहिनो AX 
दूसरे को बाई ओर ae संवार कर ले जातो हैं, और उन को तोसो के ara से 
चिक्कन कर शिर में चिपका देतो हैँ sey को पटिया कहते हैं। दोनोँ पटियाँ के 
बोचो ate जो एक fac के ऊपर चमकोलो धारो सो शिरःप्ष्टाववव चमकता देख 
पडता हैं उसे माँग कहते हें । विवाह के समय पति अपने हाथ से अपनो vat के 
माँग में सेंदुर भरता है, sal दिन से सधवा सवंदा saat माँग को Het से भरो 
रखतो हैं। जब तक कन्या का विवाह नहों होता तब तक माँग खालो teat = 
कभो aa शोभा के लिये कुछ केश और लाल Ste को एक Del बना कर उस पर 
रख देतो हैं | राजा बाबुओँ के घर लाल डोरे के स्थान में मोतियाँ को लड रहतो 
हैं। पटियाँ के केशावयव जो शिर के NS लटकते रहते हैं उन को TS कर एक 
एक बेनो बना लो जातो है और fat के पिछले भागों के केशों को a vast ax 
एक बेनो तयार को जातो हैं। फिर wt लोग इन तोनों बेनियाँ को पोछे को ओर 
एकट्टाँ कर रंग fata के तार मिला कर उन से जूरा बनातो हैं | जूरा खसक न 
जाय इस लिये उसे काले-हो ऊन वा aa के डोरे से कस कर बाँध देतो हैं sa 
प्रकार इस प्रान्त मे पति-संयुक्ता wt चिब्ेणे अर्थात्‌ तौन वेणे से अपने शिर at 
संवारतो हैं, आर पति-वियुक्ता पति-वियोग-दुःख से सब केशा को एकट्टाँ कर एक Bt 
aut बना शिर में लपेट लेतो है। इस प्रान्त में यह रोति चिर काल से प्रचलित 
हैं । पति-वियुक्ता सोता के awa में महर्षि-वाल्मोकि ने भो लिखा है, कि “ एक-वेणे- 
घरा fiat afa चिन्ता-परायणा!” (सु, का. ६५ a का १४ at Btn देखो) | 
जिस fea qt विधवा होतो हैं sal दिन अपने माँग का सेंदर धो कर निकाल 
डालतो हैं ओर फिर माँग में सेंदुर नहों डालतों। सेंदुर और sh के न रहने से 
विधवा का aaa यह लौकिक रौति है। सधवा होने में Sex का प्राधान्य किसी 
हमारे वेदिक कर्म में नहों मिलता। 


yer] | सुधाकर-चन्द्रिका | १६७ 


सोस के ऊपर जो माँग है उस का ata करता हूँ, (पद्मावती के कुआँरो होने 
से) जिस पर अभों Bet नहों चढा हे॥ विना सेंदुर कौ (ae माँग) Tat (चमकती?) 
है जानाँ दोया, (वा वह माँग ऐसो जान पडतो हैं मानाँ किसो ने) रजनो में 
अर्थात्‌ अंधेरी रात में saat राह (gat) को हे अर्थात्‌ बनाई है। (दोनों 
कालो पटिया wach रात हैं उस में चमकतो माँग को धारो उंजेलो राह है) ॥ 
(अथवा उस माँग को ऐसो शोभा है जानाँ) कसोटो पर कसो gate हो । 
(दोनाँ पटिया मिल कर mat कस्रोटो है उस पर सोने सो चमकतो माँग को धारो 
HY हुए सोने को रेखा सो झलकतो है )। (वा उस माँग को ऐसो शोभा है) Tai 
aq (घन) में बिजलो प्रकाश हुई हो। (कालो पटिया मेघ और माँग कौ wa 
विद्युक्रता है)॥ (वा माँग नहों है नोले) आकाश में एक विशिष्ट रूये-किरण है। 
(पटिया नौला आकाश ओर माँग al चमकतो धारो एक विशेष रूर्य-किरण है )। 
(अथवा माँग नहों हे जाने) यमुना के मध्य मे सरखतो acl देखो है, अर्थात्‌ देख 
पडतो है। (पटिया यमुना और कुछ लालिमा faa चमकतो माँग को wa 
सरखतो नदो है)॥ (अथवा fat के चम के ललाई को आभा से कुछ weal लिये 
चमकतो माँग को धारो ऐसो शोभित है) जाने रुधिर से भरो तलवार को धार है। 
(अथवा माँग को धारो जानाँ) आरा है जिसे ले कर (किसो ने) बेनो के ऊपर 
घर दिया हो। [काले केश-कूपों से स्थान स्थान पर faa हो जाने से वह माँग को 
धारो आरा (करपच "-करवत) सो जान पडतो हे ]॥ faa माँग पर जो मोती 
पूर कर धरो है अर्थात्‌ मोतों कौ ae taal है, (उस को ऐसो शोभा है जानो) 
aga के मध्य में agt को stat आ गई हो । (पटिया यमुना आर माँग पर 
मोतो-लड wet की स्रोत हे)॥ इस प्रकार यमुना ओर aE का aga बेनो (शिर 
को diet) पर होने से पद्मावतो को बेनो साज्ञात्‌ बेनो (--प्रयाग) हुई, जहाँ शरोर 
चिरवाने के लिये माँग-रूपो आरा (करवत) भौ मौजूद है। प्रसिद्ध कथा है कि 
दूसरे wae मनो-वाज्च्छित-फल पाने के लिये बहुत से लोग अपनो शरोर को 
आरा से चिरवा डालते थे इस के लिये वहाँ गड्भग-यमरुना के सड्रम पर एक आरा at 
THAT रहा YT | WERE बादशाह ने इस कु-रौति के दूर करने के लिये उस आरा को 
ताडवा डाला॥ इस पर कवि कौ SH है, कि बहुत से तपस्नो (तपा) जो aa 
हो कर, अर्थात्‌ अपनो शरोर at fea भिन्न कर, आरे को लिये, अर्थात्‌ पकडे, 


wr पदुमावति | १० | नखसिख-खंड | [१५६९-४३ 


(at जान पडता हैं, कि ca मनोरथ से वे लोग wt से woe at चिरवा कर 
प्राण दिये कि) क्या जानें वह (--सो ) पद्मावतो (मेरा-हो) रुधिर ले कर (अपनों 
माँग में ) Seq को दे, अर्थात्‌ उन तपसख्ियाँ का यहो मनोरथ है, कि पद्मावतो के 
साथ विवाह हो जाना यह तो अत्यन्त दुघेट हे, परन्तु यदि मेरे woe के रक्त-सेंदुर से 
भो वह अपनो माँग भरे तो भो में अपने को भाग्यवान्‌ समझूंगा। aval ett जब 
प्रयाग में आरे से अपनो wor चिरवाते थे, उस समय उस कौतुक को देखने के 
लिय बहुत से लोग एकट्टाँ होते थे, आर उन को महानुभाव समझ कर GA के शरोर के 
रक्त का अपने अपने a में तिलक करते थ, ओर ag लोग अपना अहिवात अचल 
होने के लिये val रक्त से अपनो अपनो माँग टोकतो at) इस लिये कवि को 
उक्ति बद्धत-हो aafa हैं॥ 
वह माँग द्वादशादित्यवणे-सुवर्ण हो कर सोभाग्य (साहाग) चाहतो है, अर्थात्‌ 

सुन्दर पति weal है, जिस से उस को ओर भो कान्ति बढे जेसा aterm पाने से 
gat और at कान्तिमान्‌ हो जाता है। और डस माँग को सब नचत्र सेवा करतो 
हैं, अर्थात्‌ माँग पर मोती को लड नक्षच सो हो कर उस माँग को सेवा करतो हैं। 
(उस समय उस मोतो-लड कौ tat शोभा है) Fa आकाश में ast अर्थात्‌ 
मन्दाकिनो हो। आकाश में जो दक्षिणोत्तर सडक सो नक्षत्र-माला देख पडतो 
जिसे ग्राम्य-जन set कहते है उसे saa A आकाश-गड़य वा मन्दाकिनो कहते 
*। (यहाँ पटिया नौलाकाश और माँग पर मोतोी-लड आकाश-गड्भग है)॥ 

गाने में कुछ सुर ओर aaa विशेष लालित्य केरने के लिये waa लोग 
(az) इतना अधिक मिला लिये हैं जो परम्परा से अब मूल-मिलित है। छन्दो-भड़ के 
भय से हम ने उसे ate के भोतर रख दिया है। इस प्रकार जहाँ मूल-ग्रन्थ A जो 
aie के भोतर शब्द देखो उसे समझो कि क्षेपक है जेसा कि ८४, ८८, ce, 
१०१, ROR १९३, ११४, MT १९६ दोहे में है ॥ vex 


ally 


Aly) 


BUTE || 


aes लिलाट दुइज az जोतो। gente जोति कहाँ जग ओआतो॥ 
सहस-किरान जे gas दिपाए। देखि लिलाट सोऊ छूपि siz} 
का aft बरनक feos मयंक्ृ। चाँद कलंकौ वह निकलंकू ॥ 


१०३] सुधाकर-चन्द्रिका | Yee 


ओहि चाँदहि yfa राहु गरासा। वह faq राहु सदा परगासा ॥ 

तेहि लिलाट पर तिलक बईठा। दुइज पाट जानउ ध्रुव डौठा॥ 

HAR WE जनु AST राजा। सबइ सिंगार अतर लेइ ars ॥ 

ओहि आगइ fat Tez न कोऊक। दह का कह अस जुरा संजोऊ ॥ 
दोहा | 

खरग धनुख WA WA AB जग-मारन तेहि ay 

सुनि कइ परा मुरुछि कइ (राजा) मो कह AT कु-टाड॥ १०३ ॥ 

लिलाट 55 ललाट 55 मस्तक । दुइज --द्वितोया का चन्द्र। जोतो -ज्योति:। ओतो 
= उतनो 55 तावतो | सहस-किरान = सहस्त-किरण | सुरुज "5 ea दिपाए -दिपता हैं 
- प्रजज्लित होता हे। सरि -सादृश्य 5 समता। बरनक - वर्णक = वर्णन -- वर्णना | 
म्यंकू = मयंक = म्टगाझ्व 5 चन्द्र । चाँद 55 चन्द्र । निकलंकू 55 निध्कलझ 5- विना कलझ। 
गरासा = TH करता Si परगासा "5 परकाशित होता है प्रकाशित होता है। तिलक 
>-टौका। पाटपट्ट "-पौढा | धुब॒ ""भुव aaa, जो कि आकाश मेँ सर्वदा एक 
स्थान पर अचल रहता हे ओर ae नाडो-मण्डल का wits हे। डोठा - दृष्टि 
पडता हैं -- देख पडता है | अतर -- अस्त्र । थिर -- स्थिर। अस -- ऐसा 5 एतादृश । जुरा 5८ 
जुटा 55 युक्त हुआ 55 एकट्टाँ हुआ । संजोऊ -- संयोग | खरग 55 खज्जू 5" तलवार | धनुख 5- 
BAT | चक -- चक्र -- चक्राकार शस्त्र । बान = वाण | जग-मारन = जगन्मारण = जगत्‌ का 
मारने-वाला | नाउं-- नाम । कु-ठाउं = कु-स्थान — कुत्सित-स्थान = ममे-स्थान, जहाँ पर 
घाव लगने से प्राण बचना कठिन हो जाता है ॥ 

(पद्मावती के) ware को द्वितौया के चन्द्र को ज्योति कह, श्रर्थात्‌ कवि संशय में 
पड कर कहता हें, कि were को दवितोया के चन्द्र-सदृश as तो परन्तु उस द्वितौया के 
चन्द्र में gaat (ललाट के ऐसो ) ज्योति कहाँ Su (क्याँकि) सहख किरण-वाला जो 
रूये (आकाश में ) दिपता हैं, (ae at सायं काल में अस्त के aera) ललाट को 
देख कर (उस के तेज से लज्जित हो at) छिप जाता है, अर्थात्‌ Ge feat लेता है॥ 
(कवि सोच कर फिर कहता है, कि) में वर्णन करने में चन्द्र से (उस ललाट को) 
समता क्या दिया, अर्थात्‌ wi दिया, (aaifa) चाँद तो कलक्नौ अर्थात्‌ कालो दागोँ से 


भरा है, ओर ae ललाट at विना Hee के ज्योतिपझान्‌ है॥ ओर फिर उस चन्द्र को तो 
22 


yor परदुमावति । १५० | नखसिख-खंड | [१०३ 


राहु गरास लेता है, sala खा जाता हैं, (इस से वह मलिन हो जाता है) ओआर 
ae ललाट-रूपो we at विना ws के सदा प्रकाशित रहता है। दितौया के चन्द्र को 
Sa 2A आकृति होतो है sat के सदृश ललाटाह॒ति समझ कर कवि ने पहले 
दितीया के चन्द्र को उपमा दिया। फिर उस में awe सो चमक न पा कर Ge को 
हटाया ओर ललाट-कान्ति को उपमा मन-हो में पूणं-चन्द्र से दे कर फिर अनुचित 
समझ प्रकाश में “का सरि बरनक fed aan’ इत्यादि वाक्याँ से que at 
भो तुच्छ seta तिख ललाट के ऊपर जो तिलक बेठा है, अर्थात्‌ Aar दिया 
हुआ है, (उस की ऐसो शोभा हे) जाने fRatar के चन्द्र-रूपो पाट (सिंहासन) पर 
ya (बैठा ) देख पडता है। पुराणाँ में कथा हैं, कि एक दिन ya के पिता उत्तानपाद 
ya को गोद में लिये बैठे थे। cat समय वहाँ पर ya को Staal माँ अपने लडके 
को लिये आई और भ्रुव को गोद में से ढकेल बाहर कर अपने लडके को उत्तानपाद के 
गोद में Far दिया, आर अनेक we वचनोँ से ya ar अनादर किया। इस पर ya 
ग्लानि से घर छोड वन में जा कर कठिन तपस्या करने लगे, जिस पर भगवान्‌ ने 
प्रसक्ष हो कर उन को सब से ऊँचा ओर अचल स्थान दिया। aet ya अकाश में 
अपने अचल स्थान पर सदा देख पडता हैं, आर उसो के चारो ओर सदा सब ग्रह 
और तारा-गण घूमते दिखाई पड़ते हैं। Fy करने से ज्यौतिषियाँ ने सिद्ध कर 
दिया है, कि आज कल जिसे लोग आकाश में ya कहते है वह अचल स्थान पर 
स्थिर नहों है, किन्तु नाडो-मण्डल के sala Fe के चारो ओर १" २८' दुज्याचापांश- 
au में gar करता Si इसो पर कमल्ताकर ने कहा है कि “ भुवतारां fect ग्रन्थ 
मन्यन्ते ते कुबुद्धयः। wa ag विवादोषपि wat मूढत्वमेव feu (तक्नविवेक के 
मध्यमाधिकार का ७८ at BA देखो )॥ यहाँ चमकता हुआ दुदज के चन्द्र सा ट्ढा 
ललाट Te और उस पर का उज्ज्वल तिलक ध्रुव है॥ (अथवा ललाट ओर तिलक को 
wa शोभा हे) wat सोने के सिंहासन पर (कोई) राजा Far हे, (ware सोने का 
सिंहासन ओर तिलक राजा हैं), (ओर वह राजा, पद्मावतो के) सब श्टज्ञार-रूपो 
sai को ले कर सज्जित है, अर्थात्‌ wea को Fae है। मन्त्न-प्रयोग से जो चलाये 
जाते हैं ओर जिन को शक्ति aay नष्ट नहों होतो उन्हें we कहते हैं ॥ उस ya के 
आग कोई स्थिर नहों रहता, अर्थात्‌ जेसे ya अपनो शक्ति से आप अचल हो सब 
तारा-गणाँ को अपने चारो ओर घुमाया करता है, Gat प्रकार ae तिलक-रूपो 


१०३-१०४] स॒ुधाकर-चन्द्रिका | ९७२ 


राजा भव ने सब दशेकाँ के मन को vege कर भ्रान्त कर दिया है। (सो) देखें 
किस के लिये ऐसा संयोग एकड्ठाँ हुआ है, अर्थात्‌ देखें कौन ऐसा भाग्यवान्‌ है, जो 
ऐसे प्रव-राज से संयोग, अर्थात्‌ Bs} रूप से समागम कर एकत्र स्थित श्यज्ञार-रूपो 
Rat at लौला देखे ॥ 

way (नासिका का अग्र), धनुष (भोहें), चक्र (आखोँ कौ पुतलियाँ), और ara 
( कटाक्ष), तिख तिलक-रूपो राजा के पास हैं (ca लिये उस राजा का) नाम 
जग-मारन हें, अर्थात्‌ वह राजा जगत्‌ के प्राणोौ मात्र को मारने-वाला हैं। इतना 
सुनते-हो (राजा रक्व-सेन) afea हो कर गिर पडा (और कहने लगा, कि हाय 
ये सब अस्त्र) मुझ को कु-ठाव में भये, अर्थात्‌ मुझ को aa स्थान इदय में लग गये 
(at अब stat कठिन =) १०३ ॥ 


asus | 


भउंहइ साव VAG HA ताना। जा ay हेर मारु बिख बाना ॥ 
ओहो धनुख ओहि usefe yer az हतिआर काल अस गढा ॥ 
Set धनुख किसुन ve अहा। Bret धनुख was कर गहा ॥ 
Set धनुख Wala संघारा। ओहो waa कंसासुर मारा॥ 
ओहो धनुख बेधा SA WHI मारा Bret सहस्सर-बाह् i 
ओहो धनुख AT ता VE चौन्हा। धानुक AY बोझ जग कोन्‍न्दा॥ 
Sife uvefe सरि कोइ न जोता। अछरई छपी छपो गोपौता॥ 


दोहा | 


UIE धनुख धन धानुक दोसर सरि न कराइ। 
गगन धनुख जो WNIT लाजइ AT छपि ATE ॥ १०४ ॥ 


wees Hie -- भू । सावें -- श्याम । बिख -- विष । हतिआर -- हत्यारा । किसुन >- 
कृष्ण । अहा 5८ आसोत्‌ "था । राघडउ 5 राघव -- राम-चन्द्र । गद्दा 55ग्रहण किया। 
राआन 55 रावण । संघारा --संहार किया। राह - रोहृ 55 रोहद्ितक 55 एक प्रकार का 
AQ) सहस्सर-बाह् = सहसखत-बाहु । धानुक 5 धानुष्क 55 धन्वो ८ धनुष चलाने-वाला | 


YOR पदुमावति | १० | नखसिख-खंड | [१०४ 


बोझ — बोझा = भार | WETS = अप्मरायं। गोपोता = गोपायिता = सु-र छ्षिता = देवो ॥ 
घन = धन्या -- पद्मावती | दोसर = दूसरा | जग्गवद् -- उगता है -उद्मन होता है। 
लाजदइ >लज्जा से ॥ 

Hig जानाँ (निशाना मारने के लिये) काला (श्याम) धनुष ताना गया हें, 
( इस faa) जिस को ओर (पद्मावतो) देखतो हैं (उसे ) विष का वाण (कटाक्ष-रूप ) 
aval है। देखने-हो से जो लोग मोहन-रूप से मोहित हो afaa हो जाते हैं, 
वहाँ पर कवि कौ sae हैं, कि पद्मावतो ने माँह-रूपो काले धनुष को तान कर 
नेच-कटाक्ष-रूप विष-वाण से मार दिया हे, इसो से वह मूछित हो गया है ga 
Hig के ऊपर asl धनुष (काला जिस का वर्णन ऊपर को wins में कर आये हैं ) 
चढा हुआ हें, (सो नहो जानता, कि) किस ने (दस ) काल के ऐसे हत्यारे (धनुष) 
को बनाया (गढा) है॥ (पद्मावती का भाँह-रूप जो way हैं) ast धनुष कृष्ण के 
पास था, राम-चन्द्र ने भो val धनुष को अपने हाथ (कर) मे ग्रहण किया था, 
अर्थात्‌ लिया था। अर्थात्‌ पद्मावतो को aie राम जार कृष्ण का शाज्ुधनु है ॥ 
(इस लिये) उसो भाँह-रूपो धनुष से (राम ने) रावण का sere किया, (और 
कृष्ण ने) sat धनुष से कंस असुर को मारा॥ Sal धनुष से (अजुन ने) aq को 
बेधा था, उसो धनुष से (परएए-राम ने) सहस्न-बाह़ को मारा था॥ राम और SU 
भगवान्‌ के दशावतार में एक एक अवतार जगगसिद्ध हैं। राम ओर हष्ण के विरोधो 
रावण और कंस At रामायण ओर भागवत से जगत्‌ में बहुत-हो प्रसिद्ध हैं। भारत 
में कथा है, कि द्रौपदी के पिता राजा द्वुपद ने कराह़े में खौलते हुए at के ऊपर 
एक पारे को मछलौ टँगवा कर पण ठाना, कि जो वोर a में इस मछलो को 
केवल Wall देख कर बाण से मछलो को मार दे sat से द्रोपदो का विवाह 
किया जायगा। युधिष्टिर के भाई अजुन ने पणानुसार मत्य का बेध कर द्रौपदो को 
विवाहा । पुराणोँ में कथा है, कि राजा सहसख्-बाहु को कन्या रेणका से जमदगझि- 
मुनि का विवाह हुआ जिस से परछु-राम का जन्म हुआ, जो कि दशावतार में एक 
अवतार हैं | बडे होने पर aera किसो दूसरे वन में तपस्या के लिये गये आर 
इसो अवसर में अपनो कन्या देखने के लिये दल बल समेत सहस्त-बाहु पहुच | TAT 
को अरप्यथवासों एक साधारण AA मनुय्य समझ अपमान करने को बुद्धि से सहख्तन-बाहु 
ने अपने दामाद जमदगभि से कहा, कि मेरे दल में जितने mat हैं सब का यथोचित 


१०४ | सुधाकरु-चन्द्रिका | YOR 


भोजनादि से सत्कार att! sacfy ने मन्त्न-प्रयोग से खर्ग से काम-घेनु को बुलाय 
सब का यथेच्छ सत्कार कर feat इस पर सहस्तन-बाहु ने जमदश् से कहा, fa TH 
गाय राजाओँ को चाहिए तुम इसे मुझे दे दो। मुनि ने बहुत समझाया, कि राजा 
यह ait को रहने-वालो गाय केवल मन्त्न-प्रयोग से कुछ काल के लिये यहाँ पर ar 
गई है, यह यहाँ भूमि पर नहों रह सकतो। निदान गाय न पाने पर राजा ने 
क्रोध से जमदग्ि को मार stat) रेणका पति-वियोग से व्याकुल हो विलपतो 
पुत्र के पास सब दत्तान्त सुनाने को WS) माता को पति-वियोगालुर देख परएए-राम ने 
Wea बाहुआँ को WT से काट अपने नाना को मार डाला, Ae es प्रतिज्ञा किया 
कि हम val में जितने क्षत्रिय हे feat को न छोडेंग सब को ara, ep में 
क्षत्रियाँ का fails करेंगे॥ कवि कहता है, कि में ने Aer (पहचाना) है, 
कि vel (राम, कृष्ण, अजन ओर परश-राम का) धनुष तिस के (ता) पास (पहं) 
हैं, (at faa धनुष से पद्मावती ) आप धानुष्क अर्थात्‌ ASO हो कर जग (के प्राणो ) 
को बोझ कर लिया, अर्थात्‌ जगत्‌ के प्राणियाँ को aug आर कटाक्ष-वाण से 
मार कर उन प्राणियोँ का बोझा, शअर्थात्‌ ढेर कर दिया॥ उस माँह को समता में 
कोई aay stat, अर्थात्‌ किसे at dis पद्मावती के dis को बराबरी aay को, 
(zat से सरमा कर) wad (खगे में जा कर) छिप गई ओर सु-रछिता देवो 
(afeett के भोतर अचला हो कर) छिपो ॥ 

उस ua पद्मावतो धानुष्क के भाँह-रूपो धनुष को समता दूसरा (कोई धनुष) 
नहों करता है; (इसे से राजा इन्द्र का) आकाश में जो धनुष (away कभों पद्मावतोौ 
के भरू-ध् को समता करने के लिये) saat हें, वह (उस aT के सामने अपने को 
लुच्छ समझ फिर) war से छिप जाता हैं। यहाँ कवि कौ saa 3, fa उस 
इन्द्र-धनुष में Us के tal कहाँ कालिमा इसो लिये अपने को अधम समझ ae 
भो छिप जाता हैे। इस प्रकार vet पर के सब राम-कृष्णादि के धनुष BT खगे का 
इन्‍्द्रधनुष सब पद्मावतों के yay से हार गये, ca लिये we fag हो गया, कि 
भ्रू-धनुष अनुपम है। यदि पद्मावतौ को प्रहृति-रूपा चिच्छक्ति मानो, तो जब उस के 
एक भ्रू-कुटौ-विज्लास से जगत्‌ at उत्पत्ति आर लय होता रहता 3, तहाँ भला उस 
aug कौ समता कौन कर सकता है| इस लिये इस अर्थान्तर से भो कवि को उक्ति 
बहुत हो सुन्युक्ति से भरो हैं॥ १०४ ॥ 


YOR पदुमावति | १० | नखसिख-खंड | [roan 
चजपाई | 


aga aa afr पूज न कोऊ। मान समुद BA उलथहिं ASH ॥ 
wa aaa atfe अलि भवाँ। gate माति चहहिं अपसवाँ ॥ 
उठहि तुरंग लेहिं नहिं बागा। may उलथि गगन कह लागा ॥ 
पवन safe देइ हिलारा। सरग WE YT WE बहोरा॥ 
जग डोलइ डोलत नयनाँहा। उलटि अडार चाह पल माँहा ॥ 
safe फिराहि गगन गहि बोरा। wa az AVE भवर के जोरा ॥ 
समुंद feat करहिं जनु झूले। खंजन लरहिं मिरिग बन भूले ॥ 


etet | 


सु-भर समुद अस नयन दुदइ_ मानिक भरे तरंग। 
आवहि तौर फिरावहौँ काल भवर तेहि संग ॥ १०५ ॥ 


बाँक 55 वक्र 5" कठिन 5" कुटिल वा 2S) मान "”-अभिमान | समुद समुद्र | वा 
मान-स्मुँद = मान-समुद्र्‌ = संमानयोग्य-समुद्र 5 कौ र-सागर । उलयहिं — उलटते हैं । 
राते -- रक्त" लाल | भलि-- भ्रमर 5 भाँरा । भवाँ-भाँरो -- भ्रमण । माति5"८मत्त 
हो atl अपसवाँ 5-5 अपसरण -- भागना | लुरंग = ATF 5 तुरग ८" घोडा । ATA = 
वागुर वा वल्गा -- लगाम में wat डोर, जिस से चाहे जिधर घोड़ा फिर सकता है। 
सरग- खर्ग । भुद 5 भूमि । बहोरा = अ्वचदरति — अवहरण करते हैँ --फिर ले आते 
हैं | अडार = अडलक 55 जो डालो में न समाय -ढेर का ढेर। ATS  ग्टहोला 55 ग्रहण 
कर के--पकड के। बोरा - बोरते हैं --डुबाते हैं। भवर 55 भ्रमर 55 आवत्ते। जोरा 5८ 
जोड़ा - युग्म, वा T= जोडे हुए -- मिलाये हुए। हिलोर 55 हिल-लोल 5 हिलने से 
चञ्बल । खंजन 55 aaa val, wea में जिस के प्रथम sia से संहिताकारों ने 
शुभाशुभ फल कहा हें। मिरिग 55 म्टग 55 हरिए ॥ सु-भर 55 शुभ 55 उज्ज्वल । मानिक 
-- माणिक्य | काल -- काला, वा सब का प्राण लेने-वाला | भवर = भ्रमर, वा भार 5८ 
आवत्तं, जो az, नदो वा समुद्रां A Wal चक्कर खाता है ॥ 


२०१] सुधाकरु-चन्द्रिका | ९७४ 


नयन ऐसे बाँके हें जिन को बराबरी में कोई नहीं पूरा पड़ता (पूजता), 
(क्याँकि आगे कवि ने ce समुद्र बनाया हैं, ओआर समुद्र तो अनन्वय हैं, cat पर 
कवि ने जो यह कहा हैं, कि इन को बराबरोौ में कोई नहों हैं यह ठोक है। 
अनन्वयालझ्वार का उदाहरण कुवलयानन्द में भो लिखा हैं, कि “सागर: सागरोपमः ? ), 
ऐसे (नोचे से ऊपर और ऊपर से नौचे ये AR उलटते हैं (GI) मान से अर्थात्‌ 
अभिमान से समुद्र वा चोर-सागर (डलटता पलटता हो )॥ ( उस नयन-सममुद्र में ) लाल 
( रक्त 5 राते ) कमल पर भ्रमर भ्रमण करते हैं, अर्थात्‌ सु-गन्ध से मोहित हो BAA 
fara हैं । (कुछ लालो लिये कोए लाल-कमल, ओर उस पर gaat कालो पुतलियाँ 
भावरी भरते wat ऐसो हैं )। (वे भ्रमर सु-गन्ध से) aT हो कर घूम रहे हैं 
अर्थात्‌ घुमरों खाते हैं (ओर ) भागना चाहते है (परन्तु सु-गन्ध के नशे से विवश हैं)॥ 
( कालों gaat समेत atu जिस ast ऊपर को ओर उठते हें, उस घडो ऐसा जान 
पडता हें) wat ae उठते हैं जो कि बाग को नहों लेते हैं, अर्थात्‌ मोरने से 
नहों मुरते हैं, आर उलट कर आकाश में लगते हैँ । (यहाँ कालो पुतलो समेत 
श्वेत-रक्तकोआ उच्चे:अवा घोडा है, जो कि क्षौर-सागर से निकाला गया हैं, और we 
देश-रत्न में एक ta हें )॥ ( वे नयन-समुद्र ऐसे चच्चल हैँ जानेाँ) पवन झकोरते हैं 
(जिस से समुद्र) featur देता हे, अर्थात्‌ जल नोचे से ऊपर ओर ऊपर से नोचे को 
ओर जाता आता है। ( इस लिये वह समुद्र एक बेर जल को ) BAIA लगा कर (लाइ) 
fac vat में लगा कर फेरता हैं, अर्थात्‌ जल को नोचे ऊपर aa रहा हैं॥ कवि 
कौ saat =, fa जब पद्मावतो के नयन-समुद्र ऊपर कौ ओर उठते S तो दशकों के 
जौवन (जल) Gi को चले जाते हैं, आर जब नोचे को फिरते हैं at साथ-हो साथ 
जोवन at नोचे veal पर, अर्थात्‌ दर्काँ के शरोर में, आ जाते हैं ॥ aaa के डोलते- 
हो जग डोलने लगता हैं, अर्थात्‌ जगत के प्राणे-मात्र wee हो जाते हैँ, कि हाय 
अब इस नयन-समुद्र को बाढ से केसे प्राण बचें। क्याँकि समुद्र कौ als से तो जगत 
का लय-हो हो जाता है, Hel आधार-हो नहों रहता जहाँ कि प्राणे विश्राम ले। 
(at वे नयन-समुद्र ) एक पल मे अडार अर्थात्‌ प्राणियाँ के ढेर का ढेर उलटा चाहते 
हैँ, अर्थात्‌ प्रलय किया चाहते Fu (उस नयन-समुद्र में) ऐसे भाह-रूपो wit के 
जोडे हैं, अर्थात्‌ आवत्ते के एक जोडे हैं, कि जब वे फिरने लगते हैं, अर्थात्‌ घूमने 
लगते हैं, तब आकाश को भो ae कर बोर देते हैं (sar देते हैं)॥ (चिक्कक्ति 


९७६ पदुमावति । १० | नखसिख-खंड | [yew 


पद्मावती के भृू-कुटो-विलास से ब्रह्माण्ड का लय वा प्रादुर्भाव हुआ-हो करता हे, इस 
में कोई चित्र नहों हे)॥ बहुताँ के मत से “कंइ जोरा” यह पाठ है। तब “उस 
समुद्र में ऐसे भाह-रूपो wat को किस ने जोडा हैं, अर्थात्‌ लगाया हैं, कि जब घूमते , 
हैं, तब आकाश को पकड कर बोर देते हे,” यह अर्थ करना चाहिए ॥ (जिस समय 
वे नयन TUT GUT) झलने लगते हें, अर्थात्‌ waa हो जाते हैं, (Stat नासिका को 
ओर चल चल कर कान को ओर फिर जाते हैं, उस समय Tay शोभा हे) जानों 
समुद्र हिलोर करते हैं, वा asa (आपस से ) asa हैँ, वा वन में भले an 
(इधर उधर fara) हैं ॥ [ दोनाँ नयन-समुद्रां का नासिेका कौ ओर वार वार आना 
हिलोर करना हें वा नयन-खज्ञनाँ का वार वार afer को ओर आना age से 
लडना हैं, अथवा नयन-म्हगोँ का वार वार नासिका कौ ओर आ आ कर कानन को ओर 
फिर जाना, STAT उन wat aI भटकना हे। GRA के गले को कालिमा नेत्र को 
कालिमा से मिलतो है, इस लिये नेत्र को उपमा wea से दो जातो है। किसो का 
मत हे, कि aaa बडा WHE होता हे, इस लिये चाज्जज्य-धम ले कर कवि लोग दस 
कौ gua aa से देते हैं, ओर aaa aa बडे आर चच्चल होते हैँ, इस लिये 
aga और wea ले कर aa को उपमा नेत्र से दो जातो है। जब SRA 
लडने लगते है तब क्रोधावेश से गले को कालिमा वा चच्चलता ओर बढ जातो है, 
ओर जब म्हग भूल जातें हैं, श्र्थात्‌ अपने साथियाँ से fags जाते हैँ, तब साथियाँ से 
मिलने की चाह से उन के साभाविक विपुल और wee नेच और a विपुल (बड़े) 
और wa हो जाते हैं । इस लिये कवि का ‘aaa atte मिरिग बन wa’ यह 
कहना बहुत-हो रोचक हैं] ॥ 

इस प्रकार से दोनाँ नयन शभ्र-समुद्र, अर्थात्‌ चोर-सागर हैं, जिन में माणिक्ा 
और ate भरे हैं ( नेत्र में लाल-डोरे माणिक्य ओआर चाझल्य acy हैं )। fae (समुद्र ) 
Bay काल से वा काले ऐसे (भाँह-रूपो) wat (आवत्तं) [ जो कि जो लोग 
उस समुद्र के तोर (तट) ] आते हैं उन को फिराने लगते हैं, अर्थात्‌ जो कोई काल 
का मारा उस नयन-समुद्रों को लहर लेने के लिये ate (पास) आया, कि भाँह-रूपो 
watt को कुटिलता से चक्कर खाने लगा, फिर उस को सामथ्ये नहों कि उस चक्कर के 
फेर से फिर कर अपने को संभाले और अपने घर वार को सुधि ले। Gal में पड़ा 
प्राणान्त-पर्यन्तत सडा करता है। भ्रान्त ओर Bla हो कर stat खाता fact करता 


१०४१-१० | सुधाकर-चन्द्रिका | Yo 


है। प्रहति-रूपा पद्मावतो को प्ररणा से भो जो जगत्ममुद्र के तौर पर पहुंचा वह 
काल-भ्रमर ( काल-चक्र ) के चक्कर में पड कर नाना प्रकार को योनि में फिरा करता 
हैं, विना भगवदनुग्रह से उस चक्कर से ga का उद्धार पाना TAS है॥ १०४ ॥ 


चडलपाई | 


went का aay इसि aati anit बान जानु ee अनो॥ 
जुरौ राम राजन कइ सइना। ate समुंद भर दुइ नइना॥ 
वारहि पार बनाउरि am) जा सड हेर लाग बिख-बाँधे ॥ 
SE बानहि अस को को न मारा। वेधि रहा सगर-उ संसारा॥ 
गगन नखत जस जाहि न गने। Fz सब बान Bret Fea ॥ 
धरतो ata वेधि सब राखे। साखा ae ओहो सब aa | 
ta ta ama तन ठाढे। रूतहि रूत बेध अस गाढें ॥ 


दोच्चा | 


बरुनि बान अस उपनो «AT रन बन-ढंख । 
सउजहिं तन सब रोवाँ पंखिह्ठिं तन सब पंख ॥ १०६ ॥ 


बरुणो = वारंणी = आँख में धूल इत्यादि को वारण करने-वालो -- नोचे ऊपर के 
gaat को रोमावलो | अनो = अनोक = सेना । जुरो 55 जुटी ८ युक्त हुई - एकट्टों हुई। 
राओन 55 रावण । सना -- सेना । समुंद समुद्र | नइना "-नयन | वार "5 faut ae 
हो उस ओर का तट | agit 55 वाणावलि -- वाणाँ को पहड्डि | सगर-उ = सकल-अपि 
“सब। जस -- ओजस -- चमकोले | ea eas किये गये । धरतो = धरित्रो 55 vat । 
साखा = शाखा = sat को डार। HTS = शाखो = sa! Ta Ta 5 रोम रोम। मानुस 5८ 
मानुष = मनुय्य | सतत -- सत्र, यहाँ नापने के लिये एक मान | चार रूत को एक पदन 
और चार asa का एक aa और चोबोस aa a एक इमारतो गज होता हैं। तस्त्‌ 
एक Ty से कुछ बडा होता हैं। बारह Ga में प्रायः ace इच्च होते हैँ ॥ उपनो ८ 
उत्पन्न BK) रन 55 रण = संग्राम । बन-ढंख -- बन के ढाँकने-वाले अर्थात्‌ Jas । सडज 5८ 


naa = शिका र, यहां साधारण चौपाये पशु । पंखि -"- पच्चो । तन -- तनु । पंख८ पक्त ॥ 
98 


Vet प्रदुमावति | १० | नखसिख-खंड | [rod 


(ह्ौरा-मणि कहता हैं, कि) बरुनो का क्या ata करूँ, अर्थात्‌ वर्णन avy कर 
सकता | वह tat (इमि"-द्व) बनो है, जानो Stat सेनाओँ ने बाणों को साध रक्‍्वा 
है, (ऊपर कौ पलक-ओर एक सेना ओर नोचे पलक को ओर दूसरो सेना हैं, आर 
एक एक ufs में खडे दोनाँ ओर बरौनो के बार Ba हुए बाणोँ के समान हैं) ॥ 
(एक ओर ) राम (ओर दूसरो ओर ) रावण को सेना (HAT) जुटो है। और दोनों 
नयन (उन सेनाओँ के) बीच में समुद्र हुए हें ॥ [ऊपर को पलक पर राम-सेना 
हैं जो कि समुद्र उतर am (कटि) al ओर आने चाहतो है, आर निचलो पलक 
पर रावण-सेना है। इस में आश्रय यहो है, कि रावण को ate gata ( पद्मावतो को 
सुन्दर ग्रोवा ), Fa. और अड्गद (बाहु का भूषण ) मिल गये हैं । ऐसो कल्पना से यहाँ 
कविता में बहुत-हौ रोचकता प्राप्त होतो है ।] (उस समुद्र के) वार पार (aa के 
योड्रा-गण ) बाण-पढ्कियाँ को ard हुए हैं, विष से बंधो (विष-बाँधे), अर्थात्‌ विष-मय, 
वे बाण-पड्लि जिस को ओर हेरतो हैं (देखतो हैं), उसे-हो लग जातो हैं, अर्थात्‌ 
यह ऐसो विलक्षण बाण-पड्कि है, कि इस के aaa जो गया, देखते-हो उस के ae में 
लग जातो है, ओर दशेक बेचारा इस को विष-वेदना से age हो, कुल-मर्यादा को 
att, MALT मोर करता Gat को ओर कर AUT मरोर मरा जाता है, ओर वह बाण- 
ufs ai कि at अपने स्थान पर अचल खडो दरश्शक-लोला देख देख लहराया करतो 
है ॥ ऐसे कौन कौन हैं, जो जो कि उन are? से न मारे गये Bi, अर्थात्‌ संसार मेँ 
ऐसा कोई हई नहीं हे जिसे वह बाण ने लगा हो, (इस लिये) वह बाण समग्र संसार 
को Fy रहा है॥ आकाश में चमकोले तारे जो fat नहो जाते, अर्थात्‌ wag हैं, 


aw 


वे सब उसो बाण (बरौनो-बाण) से ea गये हें (जिस से आज तक वे आकाश में 
जहाँ के ai मुर्दा से अचल पडे हें, बरौनो-बाण के भय से घरतो पर नहीं आते, 
यह कवि कौ Saar =) वे बाण धरतो मे सब को बेध waa हैं । ( vat में ) 
aati में जितनो werd ast हैँ, उन्हें शाखा न समझो, वे खब बरोनो-बाण के 
रूपान्तर हैं ॥ मनुय्य के तन ("-तनु ) में रोएँ रोएं (निश्चय समझो, कि वे-हो बरोनो- 
बाण) खडे हैं, ये बरोनो-बाण ऐसे कठिन (ae) है, कि ( मनुग्ध-तनु को रोम-व्याज 
से) रूत रत पर बेध डाले हें, अर्थात्‌ छिद्र कर डाले हैं ॥ 

इस प्रकार से यह बरोनों बाण ऐसो उत्पन्न हुई हे, जो कि रण (अर्थात्‌ रण में 


योद्धाओँ को) और बन के sat al बेध डाला। WA के तन में जितने रोम हैं, 


१०६-१०७ ] सुधाकर-चन्द्रिका । VO". 


ओर पक्षियाँ के शरोर मे जितने पक्त हें, वे सब निश्चय समझो, fa बरोनो बाण-हो 
Soi इस प्रकार कवि ने “बेधि रहा सगर-उ संसारा” इस वाक्य का समथेन किया | 
वरुणस्य-दर्यं, वारुणो (अर्यात्‌ जल-देवता) का avin यदि बरुनो को मानो, तो उस 
जल-देवता-हो के प्रसाद से आकाश के नक्षत्र, fas भारत के ज्योतिषो जल-मय कहते 
हैं, aa कौ डारें, पशु और age के रोएँ Ae offs के पछ सब जोवन-खरूप जल- 
देवता-हो के अन॒ुग्रह से स-रक्षित हें, र सब मे उसो जल-देवता का अंश वत्तमान 


है, इस प्रकार यह अर्थान्तर भो यहाँ कर सकते हो ॥ १०६ ॥ 
चडपाई | 


नासिक खरग देउ afe जोगू। खरग खोन वह बदन संजोगू॥ 
नासिक देखि लजानंड रूआ। झक आइ Fat होइ ऊआ॥ 
सुआ जो पिअर हिरा-मनि लाजा। AVE WIT का ATAT राजा॥ 
सुआ सो नाक कठोर पवारौ। वह कोवंल तिल पुहुप aaa ॥ 
पुहुप सु-गंध करहिं सब आसा। मकु हिरिकाइ लेइ हम aa 
अधर दसन us नासिक Wat दारिउ देखि सुआ मन लोभा ॥ 
waa दुहँ दिसि केलि quel: दहु वह रस को पाड को नाहो॥ 


दोहा | 


देखि अमौ-रस sete wT नासिका कौर | 
पवन Wa पहुंचावई असरम aig न तौर ॥ १०७ ॥ 


नासिक = नासिका = नाक । खरग = खज्ज 55 तलवार | जोग्‌ योग्य । खोन "- च्ौण 
-- पतलो | बदन 55 वदन 5 मुख । संजोगू = संयोग | रूआ 5 शुक 55 सुग्गा । खूक 55 शुक्र 
ग्रह जो असुरों का गुरु हैं (२१वें AB को टोका देखो)। बेसर — विसर = विशिष्ट 
सर (मोतियाँ को as) = मोतियाँ से बना नाक का एक आभूषण | ऊआ = उदय हुआ। 
frat 55 पौत 55 पौला । wate से। पंवारौ 55 प्रवरो ८ प्रवर-गोचर ae कह 
कर स्ठुति करने-वाला पॉरिया। कोल -- कोमल >म्हदु। पुहुप- पुष्य। संवारी-॑- 
सम्माजित हुई = बनाई गई। आखा 5 आशा 5 sae) हिरिकाइ--नगौच कर -- लगा 


९८० पदुमावति | १० | नखसिख-खंड | शत 


कर = हिरुक्‌। बासा वास 55 सु-गन्ध, वा वास "5 वसावे वास दे। अधर 5 Als) 
दसन 55 दशन 55 दाँत। पद 5-उपरि 5- ऊपर ) सोभा 55 शो भित है । दारिउं ८८ दाडिम ८ 
अनार | Ae! -- करते हैं वा Hea हैँ, अर्थात्‌ Hela हैं ॥ अमों-रस -- अम्ठत- 
रस । कौर 5- झुक | असरम = आश्रम = स्थान | तौर 5 तट ॥ 

uy की धार Sat पतलो होतो है, vat तरह पतलो नाक होने से नाक कौ 
Sua BE से दौ जातो है। इसो प्रकार झुक के Ste ऐसो नाखोलो होने से नासिका 
कौ डपमा aH से भो दो जातो है॥ (होरा-मणि कहता है, कि) नासिका-खजड्ज किस 
के योग्य है जिसे देऊँ, अर्थात्‌ जिस के ven कहूँ, (क्यॉँकि) ae az से भो पतलो 
मुख से संयोग किये है, अर्थात्‌ मुख से मिलो है (सो खज्न तो हाथ से मिला रहता 
है, आर यह wy से भो पतलो मुख से मिलो हुई हे, इस लिये खज् इस को समता 
को नहीं प्राप्त कर सकता, यह कवि का अभिप्राय है)॥ नासिका को देख कर शुक 
लज्जित हो गया, (इसो से वन-ढक्षाँ के कोटर में छिप कर रहने war). (arfear 
को शोभा देखने के लिये) ma भो आ कर बेसर-खरूप हो कर उदय हुआ। कवि 
को saat हैं, कि पद्मावती के नाक में जो Seq कौ asl मुक्ता ust हे, वह मुक्ता 
नहों है, जानाँ नासिका को शोभा देखने के faa शुक्र मुक्ता का रूप हो कर उदय 
हुआ हें)॥ (में ) होरा-मणि झुक जो हु, सो भो (नासिका की समता-योग्य न होने 
से) लज्जा से पोला हो गया हूँ, (सो) हे राजा (रत्न-सेन), (अब) दूसरे ( अउरु) 
भाव का क्या वर्णन करूँ, अर्थात्‌ जिस को समता में न कर सका, और इस Ga से 
पौला पड गया तो में उस को प्रशंसा करने में असमर्थ sy सो (में ) wa तो (उस 
नासिका को स्तुति करने-वाला) पॉरिया (उस) नाक से कठोर हूँ, (at कठोर कौ 
समता अयोग्य है, क्याँकि) ae (नासिका ) कोमल ओर तिल-रूपो पुष्प से (और a) 
att हें, अर्थात्‌ नासिकाग्र पर जो काला तिल तिल-पुष्प सदृश है, उस से वह 
कोमल नासिका ओर at शोभित है, इस faa उस को बराबरो कठोर Wa कैसे कर 
सकता हैं॥ सब पुष्य ओर सु-गन्ध (द्रव्य अंतर फुलेल इत्यादि) यहों आशा करते हैं, 
कि क्या जानें (हम लोगों को Tal भाग्य हैं, कि पद्मावती saat नासिका में हम 
लोगाँ at) लगा कर हम लोगोँ को वास ले वा हम को ले कर ओर हिरिका कर हम 
at at (उस नाक-स्थान में ) वास (निवास) दे॥ ओठ ओर etait के ऊपर नासिका 
(Bat) सोहतो है, (जाने) अनार को देख कर WH का मन TAT गया है, (लाल ste 


१५०७-१०८] सुधाकर-चन्द्रिका | UR 


और श्वेत दन्त TAT मिल कर अनार दाने से झलकते हैं, उस पर नासिका लुब्ध-शक 
सो जान पडतो हैं )॥ waa अर्थात्‌ आँखें (नासिका के दोनाँ ओर उस दाडिम के लिये 
अनेक) केलि करतो हैं, (परन्तु उस के रस को नहों पा aaa), (सो कवि कहता 
है, कि) देखें उस दाडिम रस को कौन पाता है कौन नहीों। यदि रलयो: सावर्ष्यात्‌ 
केलि को aft समझो at ‘aaa es दिसि aft कराहो” इस का “दोनों दिशा at 
aad (उस at के रस पाने के faa) कराहतो हें,” यह अर्थान्तर हो सकता है ॥ 
Mat के अम्टत-रस को देख कर, कोर नासिका हो गया, अर्थात्‌ नासिका न 
समझो किन्तु उस अधराम्ठत के पान के लिये wat wa आ कर SEU हैं। (वार 
वार ) वायु जो (उस अधराम्टत को) वास (उस नासिका-शुक के पास) पहुंचाता है, 
(इसो लोभ से वह नासिका-रूपो शक) आश्रम के तट को asl छोडता। अर्थात्‌ उस 
वास से मोहित हो उस अम्दत-पान को लालसा से एक-हो स्थान A अचल बेठा हुआ 
हैं। पद्मावतो के ग्वासोच्छास-द्वारा उस WTA को वास वार वार नासिका मे पहु- 
चतौ-हो रहतो है, इस पर कवि को saat =, fa gat वास से way हो वह नासिका- 
रूपो झुक उस अम्ठत को ताक में घात लगाये अचल एक स्थान पर बेठा हुआ हे ॥ 
अधर में अम्टत-रस हे इस के कहने से संच्षेप-रूप मे ओठाँ का भो aa हो गया। 
विशेष वर्णन के लिये कवि ने आगे at stork आरम्भ को ॥ १०७॥ 
प चडपाई | 
But सुरंग अमौरस at, faa सुरंग लाजि बन ary 
फूल दुपहरो way राता। फुल झरहिं जो जो कह बाता ॥ 
होरा लेहिं सुबिदरुम धारा। बिहसत जगत होइ उँजिआरा॥ 
Uz मजोंठ Was रंग लागे। कुसुम रंग far रहइ न आगे | 
अस कइ अधर Sat भरि राखे। ATE अछत न ATE UTA ॥ 
मुख तंबोल रंग ढारहि wa afe मुख जोग सो अंब्रित बसा ॥ 
राता जगत देखि रंग-रातौो। रुहिर भरे आहूहिं बिहँसातो॥ 
दोहा | 
अमो अधर अस राजा सब जग आस करेइ। 
afe कह कर्वेल बिगासा को मधुकर रस लेइ ॥ १०८॥ 


UX पदुमावति | १० | नखसिख-खंड | [१०८ 


सु-रंग = OUR = सुन्दर-रज्ञ -- FST वा सुरंग = BUF --सुरा-अज्ञ 5 मदिरा 
का ae, अर्थात्‌ मदिरा का अंश । वा BCH = BF — सुर-अज्ज — देवता का अंश । 
fia = विम्ब-फल — कुंदरू -- डुलडुल, जिसे qaqa बहुत खाते हैं, और जो पकने पर 
गहिरा लाल wits सा हो जाता है। दुपहरो 5 दोपहर के समय फूलने-वाला पुष्य- 
विशेष | राता रक्त -- अनु-रक्त । बाता ८-वार्ता "बात। होरा ८ हौर -८वज्ञ। | 
बिदरुम = सु-विद्रुम = सुन्दर मूंगा | मजोंठ —aals के फल का रंग, जो कि बहुत 
लाल होता है। पान पणे-- ताखूल | कुसुम ८ बरे का फू जो रक्न-पोत होता है, 
ओर जिस Fw को बसन्तो TE कहते हैं । थिर स्थिर । अछुत — विना छुआ - 
पवित्र । काह्न ः a fe— कोई । तंबोल -- ताखूल -- पान T= रस | अंब्रित = अम्ठत । 
रंग-राती = रज्र-रक्ता 5" रंग से रँंगो। रुक्तिर -रुघिर। आहृहिं 5-८ खच्छ -- अच्छो 
तरह से ॥ बिगासा ”- विकशित हुआ | मधुकर = भ्रमर 55 कमल का रस लेने-वाला ॥ 

सुन्दर वर्ण वा कुछ मदिरा का अंश लिये अथवा देवांश के सदृश अधघर अम्हत- 
रस से भरे हैं । (उन के wel को शोभा देख कर निश्चय समझो, कि) aar से 
(लाजि) सु-रड्ढ विम्ब वन में जा कर फरे हैं, अर्थात्‌ वेखो अम्हत-रस-भरो अधर कौ 
लालो अपने फल में न देख कर-हो वह बन में छिप कर फरता हैं, ae कवि at 
saat Sy अधर को उपमा परम्परा से लोग विम्ब-फल से देते चले आये हें, cat 
लिये daa में सुन्दर लालित्य-अधर-वालौ बाला को विम्बोष्टो कहते हैं । कर्भों कभों 
कवि लोग अधर कौ उपमा बन्धुजोव-पुष्प (उडहुल-पुष्प) से at देते हैं, जैसा कि 
ओ-ह् ने नेषध के १८वें a मे दिया हैं कि — 

‘aig पत्युरधरं छशोदरो बन्धृजोवमिव खरज्नसज्जतम्‌ | 
मझ्जुलेनेयनकज्जलेनिजे: संवरोलुमशकत्‌ fad न सा ॥! 

(उन अधरों को Ba} शोभा है), जानाँ लाल लाल दुपहरो के फूल हैं । (दुपहरो 
za के फूल गहिरे लाल wa होते हैं, और wel तरह खिल जाने पर आप से 
आप झड पड़ते हैं ; इस पर कवि कौ ofa हैं, कि पद्मावतो ) जो जो बात कहती है 
(वह mat उस ZIRT sa) फूल झरते हैं। (अथवा बात कहने में जो अधरों के 
बौच में दाँत झलक पडते हैं, उन को ऐसे शोभा हे जाना) होरा सुन्दर-विद्रुम कौ 
धारा (घार - नदौ) को लेते हैँ, अर्थात्‌ जानोँ सुन्दर-विद्रुम को नदो में Vi को 
afe ast चमकतो हो। हाँखो कौ उपमा कवि लोग ग्रेत वर्ण से देते हैं, इस Bq 


you | सुधाकर-चन्द्रिका | Vrs 


कवि at ofa है, fa want के विहँसते (दन्त-ज्योति के प्रकाश से) जगत्‌ में 
उंजेला हो जाता है॥ पानोँ HUE लगने से (उन अधरों को लालो में ओर गहिरा- 
पन आने से वह लालो) ants (को wet) हो ak) (इस लिये उस लालो के) 
आगे कुसुम-रड्ढ' स्थिर नहों रहता है, अर्थात्‌ ser हुआ फोका समझ पडता हैं॥ इस 
प्रकार से, अर्थात्‌ ऐसे aq से उन अधरों में अम्ठत भर waa हैँ, (कि) आज तक वह 
aga है, ओर किसो ने (उस के arg at) vey waar है, अर्थात्‌ auth के भौतर वह 
अम्ठत-रस बंद है, इस लिये जब तक अधर में क्षत न हो, तब तक उस का मिलना 
कठिन है। ईश्वर को बडो-हो कृपा जिस भाग्यवान्‌ पर हो, वह अधर-ज्ञषत कर के उस 
का पान कर खकता Su (fat काल तक अम्ठत-रस के रहने से बिगड जाने को 
Ing न हो, इस पर कवि को विशषोक्ति है, कि) मुख के पान उस रस में रंग 
ढारते रहते =, (जिस से उस अम्दत-रस में विशेष quay ओर रंगत WA tem है, 
फिर बिगडने को क्या बात हैं) सो (देखें) ae बसा (स्थित वा वासा हुआ) waa किस 
के मुख-योग्य है, अर्थात्‌ कौन ऐसा है जो अपने मुख से उस अधर-मध्यस्थित aaa 
को Wau (उस) रंग-रातो (पद्मावतौ) को देख कर, (उस मेँ ) सब जगत्‌ रक्त हो 
गया, अर्थात्‌ पद्मावतों के रूप से मोहित हो, जगत्‌ के सब प्राणियाँ कौ दशा चन्द-चकोर 
सो हो गईं। (जिस समय ) अच्छौ तरह से (पद्मावती) विहँसतो है (उस समय 
विहंसने के श्रम से कुछ ओर विशष लाल हो जाने से gut ऐसे जान asa है, जानो) 
रुधिर से भरे है ॥ 

wa कहता हैं, कि, हे राजा (रज्न-सेन), ऐसा (aa) वह अधराम्दत हैं, कि 
जगत्‌ के सब (प्राणो) (उस के मिलने कौ) आशा करते हैं, अर्थात्‌ सब को oA 
लालसा हैं, fa ae अधराम्दत मुझ मिले। (सो नहों कह सकता, fa) किस के 
लिये वह (ललित-अधर-रूपो ) कमल विकशित हुआ है, अर्थात्‌ खिला है, आर कौन 
(ऐसा) है जो wat हो कर (उस अभ्रधर-कमल का) रस लेता Fu योग-यग्रन्थों 
में लिखा हे, कि जब atm सिद्ध हो जाता है, तब वह agra को पाता है 
( सो$म्टतमश्नुते ), इस लिये कवि का अभिप्राय है, कि विना सिद्ध हुए उस अम्ठत-रस 
के स्वादु को कोई नहों पा सकता। Bi तो ws चेतन सभो को इच्छा बनो teat है, 
कि ब्रह्माम्टत-पान से अमर हो जाऊं, परन्तु ae आशा म्ठग-हष्णा-सो व्यय हे, केवल 
अनरथे-हो कारक हैं ॥१०८॥ 


१८४ परदुमावति | १० | नलखसिख-खंड | [roe 


चडपाई | 


दसन चडक asd sq होरा। ay बिच बिच रंग ara गंभौरा ॥ 
aq भादड fafa दाविनि दौसो। चमकि उठइ aa बनो बतोसो ॥ 
वह सो जोति Stet उपराहो। Stu देहि सो तेहि परिछाहों॥ 
जेहि दिन दसन-जोति निरमई। agaz जोति जोति वह भई॥ 
रबि ससि नखत दिपहि तेहि stat) रतन vee मानिक मोतोौ॥ 
ae जह बिहसि सोभाओान हँसौ। तह तह छिटकि जोति परगसौ॥ 
दाविनि wafa न सरिवरि पूजा। पुनि ओहि जोति होइ को दूजा ॥ 


Stet | 


(बिहंसत) Saad दसन तस चमकइ Wea उठइ aie | 
दारि aft जो न कइ सका wes हिआ ata ॥ १०८ ॥ 


दसन = दशन 55 दाँत | चडक 55 चलुःकोण -- Tala Der वा पिसान से पूरा हुआ 
चौकोन क्षेत्र जिस के ऊपर लोग मड्गल-कार्य में बेठते है । रंग -- रड्ढ । साव॑ -- श्याम 
Salat)  गँभोरा ८ गम्भीर 55 गहिरा। भादड 5 भाद्रपद 55 भादो aa fafe= 
fafa 5 राचौ। दार्विनि -दामिनौ-- विद्युक्ता। दौसो - दृष्टि पडो । देहि देह -र- 
TO) परिकछाहों 5 परिच्छाया। जोति ज्योति। निरमई ८ निर्मित हुई ८ बनाई 
गई। रबि 5८ रवि 5८ रूये। ससि 5८ शशो - चन्द्र । नखत 55 नक्षत् feufe—ae होते 
है -- प्रज्वलित है -- चमकते है | रतन - रज्न। पदार॒थ -- पदार्थ। मानिक "- माणिका | 
मोतो = मुक्ता । जह जह --यत्र यत्र -- जहाँ जहाँ। साभाओन — ख-भावेन = सहज-हो | 
ae तहं 5 तच्र तत्र -- तहाँ तहाँ | छिटकि "5 छटक कर 5 उच्छलित हो at) परगसो्- 
परकाशित हुई 5 प्रकाशित हुई। सरिवरि्- बराबरो मे -सादृश्य-पर। T= पूरा 
पडा दूजा --द्वितौय -- दूसरा WAT = चमकता है। पाहन = पाषाण = पत्थल । 
उठद = उठता हैे-"- त्तिष्ठते। झरक्कि"- झलक । दारिउं-"-दाडिम। सरि - सादृश्य 55 
साम्य । हिआ ८ इदय 55 fear) तरक्ति  तडक कर ॥ 


¢eay 7? ४ . सुधाकर-चन्द्रिका | ey 


दाँत (ऐेसे जान पडते हैं) जानाँ चौक के ऊपर होरा as हैं (मस-गुर चौक 
ओर उज्ज्वल चमकोले दाँत होरा से हैं )। ओर (उन दाँताँ के) बौच बोच (शोभा 
के fea मिस्मो के लगाने से) गहिरा श्याम ce हो गया Fy जैसे कालो wei को 
रात में बिजलो देख पडतो है, तेसा-हो (पद्मावती के हँस देने से) aa हुई बतोसो 
(aatat दाँताँ को as) चमक उठतो Su यहाँ जनु -- यथा -- जेसे, ऐसा समझना 
चाहिए। बहुताँ का मत हैं, कि aur ओर तथा का नित्य संबन्ध रहने से ‘oe 
wes fafa afafa दौसो” ऐसा पाठ चाहिए। “बनो'” से ae aaa है, कि 
मिस्मों के लगाने से BH बतोखो बनो हुई है, जेसे भादाँ को रात में बिजलौ। 
(दाँताँ at सन्धि सन्धि में बेठो हुई मिस्मो कालो भादोाँ को रात है, ओर उस में 
चमकते हुए श्वेत दाँत बिजलो से हैं )॥ ae (दाँतो कौ) ज्योति जो है सरो होरा के 
ऊपर है, अर्थात्‌ होरा कौ चमक से बढ कर है। Sta को war मेँ तिस (ज्योति) 
को परछाहो है, अर्थात्‌ cut के प्रतिविम्ब पड जाने-हो से होरा में कान्ति आ गई 
है, जिस से वह चमकता हें,- ऐसा कवि का आशय हे॥ जिस दिन (पद्मावती को) 
दन्त-कान्ति बनाई गई, (उसो दिन से) वह ज्योति awa मे ज्योति भई हैं, अर्थात्‌ 
sat दनन्‍्त-ज्योति के प्रतिविम्ब से sat दिन से बहुत पदाथा में ज्योति आ गई है ॥ 
( प्रशति-रूपा पद्मावतौ-हो को ज्योति से जगत्‌ में सब ज्योतिर्मय हें, इस लिये 
पद्मावती को प्रकृति मानने से आगे को चौपाइयाँ प्रकृति-पक्ष में a लग जातो =) । 
तिसो ( दनन्‍्त-)ज्योति से रवि, चन्द्र, आर aaa दिप रहे हैं । जितने रत्न पदाये माणिक्य, 
qa (इत्यादि) हैं, उन में Was ज्योति है, अर्थात्‌ sat दनन्‍्त-कान्ति के प्रतिविम्ब- 
हो से सब tal में चमक है, जिस से वे दिपते रहते हैं ॥ जहाँ जहाँ (पद्मावती ने) 
विहंस कर के (विहास्य -- विशेष रूप से हंस at), अर्थात्‌ मुख खोल कर सहज खभाव- 
हो से हंस दिया, तहाँ तहाँ ae (दनन्‍्त-)ज्योति छटक छटक कर WAS हो गई ॥ 
यहाँ ‘faefa’ के स्थान मे “बिगसि” यदि हो तो बहुत-हो उत्तम। तब “पद्मावतो 
ने विकशित हो कर, श्र्थात्‌ मुख खोल कर जहाँ जहाँ खभाव-हो से हँस दिया! 
tat स्पष्ट we उत्पन्न हो जाता हें॥ (जिस दनन्‍्त-कान्ति को) बराबरो में बिजलो at, 
चमक न पूरो पडो, (भला) फिर ( पुनि 55 पुनः) उस ज्योति के ऐसा दूसरा कौन हो, 
अर्थात्‌ उस ज्योति के सदृश वचीो ज्योति है, दूसरा ऐसा कोई नहों जो ज्योति में इस 


ज्योति को बराबरो कर सके ॥ 
24 


ee पदुमावति | १० | नखसिख-खंड | [ Kok Saks 


हंसते में तिस तरह से cia चमक उठता है, जेसे wea (होरा-पाषाण ), अर्थात्‌ 
qq, झलक उठे। (उन लाल मस-गुर मिले उज्ज्वल दाँतों को) बराबरो दाडिम जो 
(अनार ) न कर सका (इसो ग्लानि ओर aay से) asa कर (उस दाडिम का) 
हृदय फट गया। अनार जब पकते हैं, तब खभाव-हो से फट जाते हैं। तहाँ कवि कौ 
उत्प्रेता है, कि जान पडता है, कि दाडिम पद्मावतो के दाँतों के समान अपने को न देख 
कर, रात दिन चिन्ता करते करते, आकुल हो गया, ओर उसो चिन्ताप्नि-ज्वाला से 
उस का इदय विदौएणे हो गया हे। किसो कवि ने arg को प्रशंसा में भो Aer है, कि 
fear श्थामा जम्बू स्फुटितइदयं दाडिमफलं 
सदा धत्ते We हृदय अभिमानेन पनसः | 
कठोरे Heap ce रुजा वारि जठरे 
समुड्भेते we जगति फलराजे प्रभवति ॥ 
इस प्रकार कवि को उक्ति अतिशय sama है ॥ ९०८ ॥ 


चडपाई | 
TAM HET जो कह रस-बाता। अंब्रित बयन सुनत मन Tari 
हरइ सो सुर चातक कोकिला। बौन बंसि az बयन न मिला॥ 
चातक कोकिल रहहि जो नाहो । सुनि az aaa लाजि छपि जाहो ॥ 
भरे Way बोलइ बोला। सुनइ सो माति afa AZ डोला ॥ 
चतुर बेद मति सब ओहि पाँहा । रिंग जजु साव अधरबन माँहा॥ 
PR प्रक बोल अरथ चडउ-गुना। इंदर मोहि बरम्हा सिर धुना॥ 
अमर fare भारथ ay गौता। अरथ जो जेहि पंडित afe जोता ॥ 
दोहा | 
भावसतौ व्याकरन aa fine पाठ पुरान। 
बेद भेद सउ बात aE Aa जनु लागहिं बान ॥ ११० ॥ 
रसना = जिक्ला = जोभ | रस-बाता "5 रस-बार्त्ता 5" रस को ara! अंब्रित "5 अम्ठत । 
बयन 55 वचन -- बोलो | राता5- रक्त हो जाता है "-लग जाता है। हर "5 हरति 5 
हरतो Sl सुर "-खर "5 वाणे। चातक 5 एक पक